आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   Qateel shifai nazm roshani doob gai chand ne muh dhap liya
क़तील शिफ़ाई की नज़्म: रौशनी डूब गई चाँद ने मुँह ढाँप लिया

इरशाद

क़तील शिफ़ाई की नज़्म: रौशनी डूब गई चाँद ने मुँह ढाँप लिया

अमर उजाला, काव्य डेस्क, नई दिल्ली

765 Views
रौशनी डूब गई चाँद ने मुँह ढाँप लिया 
अब कोई राह दिखाई नहीं देती मुझ को 
मेरे एहसास में कोहराम मचा है लेकिन 
कोई आवाज़ सुनाई नहीं देती मुझ को 

रात के हाथ ने किरनों का गला घूँट दिया 
जैसे हो जाए ज़मीं-बोस शिवाला कोई 
ये घटा-टोप अँधेरा ये घना सन्नाटा 
अब कोई गीत है बाक़ी न उजाला कोई आगे पढ़ें

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!