आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   Sawan 2020: Agyeya poem raat sawan ki koyal bhi boli
रात सावन की कोयल भी बोली: अज्ञेय

इरशाद

रात सावन की कोयल भी बोली: अज्ञेय

अमर उजाला, काव्य डेस्क, नई दिल्ली

183 Views
रात सावन की
कोयल भी बोली
पपीहा भी बोला
मैं ने नहीं सुनी
तुम्हारी कोयल की पुकार
तुम ने पहचानी क्या
मेरे पपीहे की गुहार?
रात सावन की
मन भावन की
पिय आवन की
कुहू-कुहू
मैं कहाँ-तुम कहाँ-पी कहाँ !
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!