आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   tahir faraz famous nazm bahut khoobsurat ho tum lyrics
ताहिर फ़राज़ की इस नज़्म के एक-एक लफ़्ज प्रेम और सादगी में डूबे हुए हैं....

इरशाद

ताहिर फ़राज़ की इस नज़्म का एक-एक लफ़्ज प्रेम और सादगी में डूबा हुआ है....

अमर उजाला, काव्य डेस्क, नई दिल्ली

6751 Views
बहुत ख़ूब-सूरत हो तुम, बहुत ख़ूब-सूरत हो तुम 
कभी मैं जो कह दूँ मोहब्बत है तुम से 
तो मुझ को ख़ुदा रा ग़लत मत समझना 
कि मेरी ज़रूरत हो तुम
बहुत ख़ूब-सूरत हो तुम 

हैं फूलों की डाली पे बाँहें तुम्हारी 
हैं ख़ामोश जादू निगाहें तुम्हारी 
जो काँटे हूँ सब अपने दामन में रख लूँ 
सजाऊँ मैं कलियों से राहें तुम्हारी 
नज़र से ज़माने की ख़ुद को बचाना 
किसी और से देखो दिल मत लगाना 
कि मेरी अमानत हो तुम 
बहुत ख़ूब-सूरत हो तुम...  आगे पढ़ें

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!