आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   top nazm of ata turab in kavya
अता तुराब

इरशाद

कब कहाँ क्या मेरे दिलदार उठा लाएँगे: अता तुराब

अमर उजाला काव्य डेस्क, नई दिल्ली

489 Views
कब कहाँ क्या मेरे दिलदार उठा लाएँगे
वस्ल में भी दिल-ए-बे-ज़ार उठा लाएँगे

चाहिए क्या तुम्हें तोहफ़े में बता दो वर्ना
हम तो बाज़ार के बाज़ार उठा लाएँगे आगे पढ़ें

ख़ाना-ब-दोशों को...

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!