मेरे प्यार के उपमान सारे मैले हो गए

                
                                                             
                            मेरे प्यार के उपमान सारे मैले हो गए
                                                                     
                            
हर अक्षर की अभिलाषाओं के अभिमान
सारे खोखले हो गए

लेकिन तुम अपने हृदय में प्यार के ही गीत सजाना
मेरे लिए न सही अपने प्रियतम के लिए चले आना

प्यार के पनघट पर वो तुम्हारी राह तकेगा
इसीलिए अपने होठों पर उसका नाम रटे आना

राधिका का रूप धरे अपना श्रृंगार करे आना
अपने अधरों से उसके अधरों की प्यास बुझाते जाना

जाते जाते उसको अपना घनश्याम बनाते जाना
राधा उसकी बन बन कर आते जाते रहना

सदा छांव बनना उसके जीवन की, धूप कभी मत लगने देना
स्वयं भी कभी न भटकना और न उसे कभी भटकने देना

अपनी सागर सी बाहों में लेकर उसको
प्यार के गीत गाते जाना
स्वयं धरा बन जाना,
उसको अपना आकाश बनाते जाना

हरिकेश यादव
काशी हिंदू विश्वविद्यालय


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
1 year ago
Comments
X