आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   The farmers- Wo Krishak hain

मेरे अल्फाज़

वो कृषक है

Leena Jha

3 कविताएं

124 Views
वो कृषक है

आक से तपती धरा को सींच अपने स्वेद कण से
तुख्म तोषित कर हरे है क्षुधा जो जन जन समग्र के
दिव्य दिवस की दामिनी या शुभ्र चांदनी छटा
हाथ उनके फावड़ा और माथे पर गमछा छजा
वो कृषक है

इन्द्र कुपित हो जाए तो पाताल से गंगा निकाले
या अविरल वृष्टि लिपट कोपलों की गात बांधे
स्वयं भी जुट जाए जो हल में पशु का संबल बन के
लुट जाए जो तिल तिल कभी दास कभी सौगात बनके
वो कृषक है

ना हिय अवसाद, आह्लाद कोई अंत: करण
बस दुआ में अनवरत, लहलहाते खेत सोनल
धिक्कार उस समाज को जहां महिराज ही श्रीहीन
फिर भी निरंतर सित संजोए बांचते स्वर्णिम धरोहर
वो कृषक है

कृशकाय, कर्म ही वसन, कातर क्रंदन, अक्षुण्ण मन
ये कैसा विरोधाभास, हलधर? भूमिपुत्र, कर शंखनाद
इस संसृती के संपोषक, संतति ऋणी, तुम ही प्रबाल
हो जाओ स्वरारूढ़ आज; जो हक़ लड़े स्वाभिमान से
वो कृषक है।

*आक - सूर्य
*तुख्म- बीज
*संसृति- संसार
*संतति - संतान
*प्रबाल - कोरल, मजबूत

- लीना झा, मुंबई, महाराष्ट्र

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!