विज्ञापन
विज्ञापन

सूरत-ए-हालः प्रदेश की प्रति व्यक्ति आय राष्ट्रीय औसत के आधे से भी कम

महेंद्र तिवारी, लखनऊ Updated Mon, 18 Nov 2019 02:43 AM IST
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर - फोटो : YouTube
ख़बर सुनें
एक समय था जब प्रदेश की प्रति व्यक्ति आय राष्ट्रीय औसत के आसपास हुआ करती थी। लेकिन, जैसे-जैसे समय बीता प्रदेश की चुनौतियां बढ़ती गईं। आज हालात ये हैं कि प्रदेश की प्रति व्यक्ति आय राष्ट्रीय औसत के आधे से भी कम पर अटकी हुई है।
विज्ञापन
प्रदेश सरकार ने हाल में 15 वें वित्त आयोग के सामने प्रदेश की चुनौतियों की तस्वीर पेश की। इसमें यह कड़वी सच्चाई सामने आई है। आंकड़ों के मुताबिक आजादी के बाद 1950-51 में प्रदेश की प्रति व्यक्ति आय राष्ट्रीय औसत के लगभग बराबर थी। प्रचलित भावों पर प्रदेश की प्रति व्यक्ति आय जहां 259 रुपये थी, राष्ट्रीय स्तर पर यह 267 रुपये थी। केवल तीन प्रतिशत का अंतर था। 

लेकिन इसके बाद हर दशक में यह अंतर बढ़ता गया। 2018-19 में यह अंतर 49.1 प्रतिशत पहुंच गया है। इन समस्याओं के पीछे प्रदेश की कठिन परिस्थितियां व लंबे अर्से तक  फोकस सेक्टर तय कर काम न होना मुख्य वजह मानी जा रही है। बड़ी संख्या में बेरोजगारी भी इसकी बड़ी वजह है।

शासन के एक वरिष्ठ अधिकारी बताते हैं कि प्रदेश सरकार ने इन चुनौतियों से पार पाने के लिए ही अगले पांच वर्षों में 10 खरब डालर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य किया है। इसके लिए फोकस सेक्टर तय कर अलग-अलग काम शुरू किए गए हैं। 

मसलन, किसानों की आय दोगुना करने के लिए कई कदम उठाए गए हैं तो हर गरीब को आवास, बिजली और पानी पहुंचाने केसाथ इन्फ्रास्ट्रक्चर विकास और औद्योगीकरण के प्रयास शामिल हैं। आयोग से शुरू किए गए प्रयासों को पूरी रफ्तार से जारी रखने के लिए चुनौतियों को ध्यान में रखकर प्रदेश की सहायता बढ़ाने की मांग रखी गई है।

  प्रति व्यक्ति आय रुपये में (प्रचलित दरों पर)
वर्ष                     यूपी                राष्ट्रीय     अंतर (प्रतिशत में)
1950-51        259                267                3
1960-61        252                306                18
1970-71        486                633                23
1980-81        1278            1630                21
1990-91        3590             4983                28
2000-01        9828             16688            41.1
2010-11        26698            54051            50.06
2018-19        64330            126406            49.1

प्रदेश की मुख्य चुनौतियां 
- ग्रामीण क्षेत्र में अधिकतम जनसंख्या
- करीब 65 प्रतिशत लोगों की कृषि पर निर्भरता
- प्रदेश में छोटी-छोटी जोतें
- खनिजों संपदाओं की कमी
- भूमिगत जल स्तर का निम्न होना
- प्रदेश का बुंदेलखंड क्षेत्र सूखा और बंजर ग्रस्त
- पूर्वांचल में बाढ़ की अधिकता
- मानव विकास सूचकांक में नीचे
- जनसंख्या घनत्व अधिक होना
विज्ञापन
आगे पढ़ें

सुधार की ठोस पहल न होने से बने ये हालात: प्रो. मनोज

विज्ञापन

Recommended

प्रथम श्रेणी के दुग्ध उत्पादों के लिए प्रतिबद्ध है धौलपुर फ्रेश
Dholpur Fresh

प्रथम श्रेणी के दुग्ध उत्पादों के लिए प्रतिबद्ध है धौलपुर फ्रेश

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Lucknow

यूपी: मिड-डे मील निजी हाथों में देगी योगी सरकार, जारी किया जाएगा ग्लोबल टेंडर

बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री सतीश द्विवेदी ने कहा कि सरकार परिषदीय स्कूलों में मिड-डे मील की व्यवस्था निजी हाथों में सौंपने जा रही है। इसके लिए ग्लोबल टेंडर जारी किया जाएगा।

13 दिसंबर 2019

विज्ञापन

'मरदानी 2' पब्लिक रिव्यू: जनता से जानें कैसी है 'मरदानी 2'

रानी मुखर्जी की फिल्म 'मरदानी 2' रिलीज हो गई है। फिल्म को देखने के बाद जनता का क्या कहना है देखिए रिपोर्ट

13 दिसंबर 2019

Related

आज का मुद्दा
View more polls
Safalta

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us