विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सावन माह में कराएं बाबा बैद्यनाथ का रुद्राभिषेक , होगी मनवांछित फल की प्राप्ति
SAWAN Special

सावन माह में कराएं बाबा बैद्यनाथ का रुद्राभिषेक , होगी मनवांछित फल की प्राप्ति

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

कानून व्यवस्था पर राज्यपाल को ज्ञापन देने जा रहे कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कार्यकर्ताओं सहित गिरफ्तार

यूपी में कानून व्यवस्था के मुद्दे पर प्रदेश की राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने जा रहे कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू व पार्टी कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

कांग्रेस कार्यकर्ता ज्ञापन देने के लिए पार्टी कार्यालय से बाहर निकले ही थे कि पुलिस ने उन्हें रोक लिया। इस पर कांग्रेसी नारेबाजी करने लगे। पुलिसकर्मियों ने उन्हें समझाने की कोशिश की पर वो नहीं माने जिस पर पुलिस उन्हें गिरफ्तार कर ईको गार्डेन लेकर चली गई।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि प्रदेश की कानून व्यवस्था बदहाल है और सवाल उठाने पर सरकार विपक्ष का दमन कर रही है और गिरफ्तारी करा देती है लेकिन कांग्रेस अपनी आवाज उठाती रहेगी।

बता दें कि लल्लू के नेतृत्व में कांग्रेस लगातार भाजपा पर हमलावर है और जमकर प्रदर्शन कर रही है। एक तरफ जहां कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ट्विटर पर प्रदेश की योगी सरकार पर निशाना साधती हैं तो लल्लू के नेतृत्व में पार्टी कार्यकर्ता सड़कों पर उतर रहे हैं।
... और पढ़ें
प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू। प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू।

विवादित ढांचा विध्वंस मामले में महंत नृत्यगोपाल दास व चंपत राय ने दर्ज करवाया बयान

अयोध्या के विवादित ढांचा विध्वंस मामले में बयान दर्ज करवाने के लिए मंगलवार को श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास और ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय सीबीआई कोर्ट पहुंचे।

बयान दर्ज करने के बाद बाहर आते वक्त उन्होंने मीडिया से बात नहीं की। हालांकि, कोर्ट में दिए गए अपने बयान में उन्होंने यह कहा कि उन्हें जानबूझकर राजनीतिक कारणों से फंसाया गया है।

महंत नृत्यगोपाल दास अस्वस्थ हैं इसलिए उन्हें व्हील चेयर पर कोर्ट लाया गया। उनके हाथ में पट्टी बंधी थी।

बता दें कि लखनऊ की विशेष सीबीआई कोर्ट में अयोध्या के विवादित ढांचा विध्वंस मामले में आरोपियों के बयान दर्ज किए जा रहे हैं।
... और पढ़ें

यूपी में नई इलेक्ट्रॉनिक विनिर्माण नीति 2020 लाने की तैयारी पूरी, चार लाख लोगों को रोजगार देने की योजना

उत्तर प्रदेश सरकार ने नई परिस्थितियों में नए अवसर पर ध्यान केंद्रित करते हुए नई इलेक्ट्रॉनिक विनिर्माण नीति 2020 लाने की तैयारी पूरी कर ली है। इसमें अगले 5 वर्ष में 40 हजार करोड़ रुपये निवेश और 4 लाख लोगों को रोजगार के देने की योजना है।

प्रदेश सरकार ने कोविड-19 महामारी से चीन से अपने निवेश हटाकर दूसरे देशों में निवेश को तैयार कंपनियों को आकर्षित करने व श्रमिकों के पलायन को ध्यान में रखते हुए नई नीति तैयार की है। यह नीति शासनादेश जारी होने की तिथि से 5 वर्षों के लिए होगी।

नौ राज्यों की इलेक्ट्रॉनिक विनिर्माण नीतियों का अध्ययन कर नई नीति का मसौदा तैयार किया गया है। अब इसे कैबिनेट की मंजूरी दिलाने की तैयारी है। प्रस्तावित नीति में 24 घंटे, सातों दिन फैक्टरी संचालन और तीनों पालियों में महिलाओं को रोजगार देने का प्रस्ताव है।

राज्य के कर्मचारियों को अवसर देने पर इकाइयों को उनके ईपीएफ, ईएसआई व प्रशिक्षण लागत की प्रतिपूर्ति का प्रस्ताव किया गया है। नई नीति के क्रियान्वयन पर 5 वर्ष में निवेश के लक्ष्य का 10 प्रतिशत यानी लगभग 4000 करोड़ रुपये वित्तीय भार आने का अनुमान है।
... और पढ़ें

Kanpur Encounter: अफसरों के रुख पर योगी का पारा चढ़ा, बैठक में सीएम को जवाब नहीं दे पाए अफसर

फाइल फोटो
कानपुर मामले में उच्च पुलिस अफसरों की भूमिका को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खासे नाराज हैं। उनके निर्देश पर पूरे प्रकरण पर उच्च स्तर से नजर रखी जा रही है। माना जा रहा है की मुख्यमंत्री जल्द कुछ अफसरों पर कार्रवाई के निर्देश दे सकते हैं।  मुख्यमंत्री की नाराजगी दो दिन पहले हुई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में ही सामने आ गई थी।

सूत्रों का कहना है कि इस मीटिंग में कानपुर के एडीजी ने निवर्तमान एसएसपी की तारीफ करते हुए उनके कार्य की सराहना की। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि जिले में थानेदारों की पोस्टिंग तो वही कर गए थे, नए एसएसपी को चार्ज संभाले अभी कुछ ही समय हुआ है।

सूत्र बताते हैं कि सीएम ने यह भी पूछ लिया था कि एडीजी और आईजी क्या कर रहे थे, उनकी भी तो जिम्मेदारी बनती है। सूत्रों के मुताबिक सीएम के इस रुख पर सन्नाटा छा गया था। इसके बाद कानपुर कांड में शहीद हुए सीओ का एसएसपी को लिखा पत्र व उनके द्वारा मातहतों की शिकायत को लेकर एसएसपी को किए गए फोन का ऑडियो भी लीक हो गया। अब इन दोनों साक्ष्यों के सामने आने के बाद मामले ने नया मोड़ ले लिया है।

सूत्र बताते हैं कि ये सभी बातें मुख्यमंत्री के संज्ञान में लाई गई हैं और उनके इशारे पर पूरे मामले में पुलिस के उच्च अधिकारियों की भूमिका का आकलन किया जा रहा है। जानकारों के अनुसार जल्द ही कुछ अफसर मुख्यमंत्री की नाराजगी का शिकार हो सकते हैं।
... और पढ़ें

लखनऊः हवालात में चोरी के आरोपी की मौत के मामले में रिटायर्ड डीआईजी का नौकर गिरफ्तार

लखनऊ के गोमतीनगर विस्तार थाने की हवालात में चोरी के आरोपी उमेश की मौत के मामले में पुलिस ने रिटायर्ड डीआईजी उमाशंकर जायसवाल के नौकर राजकुमार को सोमवार शाम गिरफ्तार कर लिया। राजकुमार के खिलाफ उमेश के भाई रामलाल ने एफआईआर दर्ज कराई थी।

मामले की विवेचना कर रहे विभूतिखंड इंस्पेक्टर श्याम बाबू शुक्ला ने बताया कि जांच में रामलाल के भाई अमित और मोहित की भूमिका भी सामने आई है। पुलिस जल्द दोनों को गिरफ्तार कर सकती है। इसके अलावा रामलाल की तरफ से दर्ज मुकदमे में एससी-एसटी एक्ट भी शामिल कर लिया गया है।

विवेचक ने बताया कि राजकुमार को कैंट के सदर बाजार से पकड़ा गया। उसने पूछताछ में उमेश के साथ मारपीट की बात कुबूल की है। मारपीट में रिटायर्ड डीआईजी शामिल थे या नहीं? यह पूछने पर वह इधर-उधर बरगलाता रहा। पुलिस रिटायर्ड डीआईजी उमाशंकर जायसवाल की भूमिका की भी जांच कर रही है।

जल्द उनसे पूछताछ की जा सकती है। विवेचक ने बताया कि राजकुमार के अलावा उसके दोनों भाई मोहित और अमित ने भी उमेश को पीटा था। तीनों मिलकर करीब तीन घंटे तक उमेश को बंधक बनाकर पीटते रहे थे। राजकुमार से सूचना पाकर आधी रात मौके पर पहुंचे रिटायर्ड डीआईजी ने भी उसकी पिटाई की थी। बाद में उमेश को गोमतीनगर विस्तार थाना की पुलिस के सुपुर्द किया गया जहां हवालात में उसकी संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। 
... और पढ़ें

80 साल के बुजुर्ग ने की सारी हदें पार, पोती से की छेड़खानी, केस दर्ज

लखनऊ के आशियाना थाना क्षेत्र में रहने वाले 80 वर्षीय बुजुर्ग पर नाबालिग पोती से छेड़छाड़ करने का आरोप लगा है। पीड़िता की तहरीर पर पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। पीड़िता की मां ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए महिला आयोग तक गुहार लगाई। इसके बाद ही पुलिस ने कार्रवाई शुरू की।

आशियाना थाना क्षेत्र स्थित सेक्टर के में रहने वाली महिला के मुताबिक, वह रेलवे में कार्यरत हैं। अपनी एक बालिग व एक 11 वर्षीय नाबालिग बेटी और 80 वर्षीय बुजुर्ग ससुर संग रहती है। पति की मौत हो चुकी है। ससुर शराब के आदी हैं। नशे की हालत में उसको व उसकी बेटियों को आए दिन परेशान करते हैं।

शारीरिक व मानसिक उत्पीड़न करते हैं जिसकी शिकायत उन्होंने 25 मई को स्थानीय थाने में पुलिस से की थी। लेकिन पुलिस ने तहरीर लेकर वापस भेज दिया था। उसके बाद ससुर की हरकतों से परेशान होकर दोबारा स्थानीय आशियाना पुलिस से लिखित शिकायत की लेकिन पुलिस टरकाती रही।

वहीं 30 जून को उसके ससुर ने हद पार कर दी। उसकी नाबालिग बच्ची से छेड़छाड़ करने लगे। इसकी जानकारी होने पर पुलिस से शिकायत की लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। इसके बाद महिला आयोग समेत पुलिस के आलाधिकारियों से की लिखित शिकायत की। अधिकारियों के आदेश पर पुलिस ने ससुर के खिलाफ  केस दर्ज कर लिया है। प्रभारी निरीक्षक संजय राय के मुताबिक, केस दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद आरोपों की पुष्टि होने पर आरोपी के खिलाफ  कार्रवाई होगी।
... और पढ़ें

कश्मीर से दबोचे गए जिहादी को रिमांड पर लेगी एटीएस

यूपी एटीएस जिहादी इनामुल के एक और साथी शकील को कश्मीर से गिरफ्तार कर ट्रांजिट रिमांड पर लखनऊ लेकर आई है। उसे मंगलवार को अदालत में पेश कर पूछताछ के लिए रिमांड पर लेगी। इससे पहले एटीएस इनामुल को बरेली और उसके एक साथी सलमान को कश्मीर से गिरफ्तार कर चुकी है। दोनों से पूछताछ में कई अहम जानकारियां मिली थीं।

एटीएस को इनके कई अन्य साथियों के बारे में जानकारी हुई थी, जिनकी जांच एजेंसी तस्दीक कर रही थी। एटीएस के सूत्रों का कहना है कि गिरफ्तारी के समय हुई पूछताछ में शकील ने भी कई जानकारियां दी है। उसके मोबाइल फोन से भी इस बात की पुष्टि हुई है कि वह जिहाद की मुहिम आगे बढ़ाने में सक्रिय भूमिका निभा रहा था।

इसके लिए वह वह लगातार इनामुल के संपर्क में था। दिल्ली में इन लोगों की जो मीटिंग होने वाली थी, उसमें शकील शामिल होने वाला था और वह कई अन्य युवकों को भी इसके लिए प्रेरित कर रहा था। एटीएस को उम्मीद है कि शकील से पूछताछ में और भी कई तथ्य सामने आएंगे।  
 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us