विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020
Astrology Services

विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

मध्य प्रदेश

सोमवार, 17 फरवरी 2020

मध्यप्रदेश: युवती के साथ मस्ती कर रहे थाना प्रभारी पर अपहरण और दुष्कर्म का मामला दर्ज

मध्यप्रदेश के धार जिले के गंधवानी थाना प्रभारी नरेंद्र सूर्यवंशी पर पत्नी के साथ मारपीट और एक अन्य युवती से अवैध संबंध का आरोप लगा है। इस मामले में नरेंद्र सूर्यवंशी के खिलाफ अपहरण और दुष्कर्म का मामला दर्ज किया गया है।

बताया जा रहा है कि थाना प्रभारी के एक युवती से अवैध संबंध थे जिसका पत्नी ने विरोध किया था। इसके बाद एसडीपीओ ने तत्काल कार्रवाई करते हुए नरेंद्र को जिला पुलिस लाइन भेज दिया था। इसके बाद नरेंद्र के खिलाफ अपहरण और दुष्कर्म का मामला दर्ज किया गया है।
 


जानकारी के मुताबिक नरेंद्र सूर्यवंशी किसी युवती के साथ मस्ती कर रहे थे, सूचना मिलने पर उनकी पत्नी गंधवानी स्थित शासकीय निवास पर जाकर हंगामा करने लगी। इसी दौरान थाना प्रभारी और उनकी पत्नी के बीच जमकर मारपीट हुई। दोनों के बीच मारपीट के बाद वहां भीड़ इकट्ठा हो गई। इस मामले की किसी ने पुलिस को सूचना दी, तब जाकर मामला शांत हुआ।

गंधवानी थाना प्रभारी नरेन्द्र सूर्यवंशी का परिवार इंदौर में रहता है। किसी ने इंदौर में रही रही उनकी पत्नी को सूचना दी कि थाना प्रभारी के गंधवानी के शासकीय निवास पर पिछले दो तीन दिनों से एक युवती रह रही है। इसके बाद सूर्यवंशी की पत्नी अपने बेटे के साथ गंधवानी पहुंच गई, वहां पहुंचने पर शासकीय निवास का दरवाजा अंदर से बंद मिला। इसके बाद उन्होंने हंगामा कर दिया। हंगामे की वजह से वहां भीड़ जुट गई। इसी दौरान किसी ने पुलिस को सूचना दे दी और पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मामला शांत करवाया। इसके बाद पुलिस घर से अंदर से युवती के निकालकर मनावर ले गई। 

मनावर एसडीओपी करण सिंह रावत का कहना है कि थाना प्रभारी की पत्नी को सूचना मिली थी कि नरेन्द्र सूर्यवंशी ने किसी युवती से शादी कर ली और वह उसी के साथ रह रहे हैं। इसके बाद थाना प्रभारी की पत्नी ने धार पहुंचकर हंगामा किया। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए थाना प्रभारी को लाइन अटैच कर दिया है।

... और पढ़ें

विजयवर्गीय की केजरीवाल से मांग- स्कूलों-मदरसों में जरूरी हो हनुमान चालीसा का पाठ

मंगलवार को प्रचंड बहुमत के साथ दिल्ली की सत्ता में वापस लौटे अरविंद केजरीवाल ने जीत के बाद हनुमानजी को धन्यवाद दिया। जिसके बाद उनके इस बयान पर राजनीति भी शुरू हो गई। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट कर अरविंद केजरीवाल से मांग करते हुए कहा कि अब दिल्ली में मदरसों सहित सभी स्कूलों में हनुमान चालीसा का पाठ जरूरी होना चाहिए।

उन्होंने लिखा कि अरविंद केजरीवाल को जीत की बधाई! निश्चित ही जो हनुमानजी की शरण में आता है उसे आशीर्वाद मिलता है। अब समय आ गया है कि हनुमान चालीसा का पाठ दिल्ली के सभी विद्यालयों, मदरसो सहित सभी शैक्षणिक संस्थानों में भी जरूरी हो।  विजयवर्गीय ने सवाल किया कि बजरंगबली की कृपा से अब 'दिल्लीवासी' बच्चे क्यों वंचित रहे?

बता दें कि चुनाव में प्रचंड जीत हासिल करने के बाद केजरीवाल ने कहा कि आज भगवान हनुमान का दिन है जिन्होंने दिल्ली के लोगों को आशीर्वाद दिया है। हम प्रार्थना करते हैं कि हनुमान जी हमें सही रास्ता दिखाते रहें ताकि हम अगले पांच वर्षों तक लोगों की सेवा करते रहें। 
 
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश: उज्जैन में सहकारी अधिकारी के घर लोकायुक्त का छापा, 15 लाख रुपये समेत कई दस्तावेज बरामद

सिंधिया के 'सड़क पर उतरेंगे' बयान के पीछे प्रियंका की राज्यसभा सीट! पढ़ें इनसाइड स्टोरी

मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच जारी शीतयुद्ध में अब 10 जनपथ का भी प्रवेश हो चुका है। इस साल मध्यप्रदेश के कोटे से खाली हो रही राज्यसभा की दो सीटों पर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के अलावा प्रियंका गांधी के नाम की चर्चा तेज है। माना जा रहा है कि सिंधिया की जगह पर पार्टी प्रियंका गांधी को राज्यसभा भेज सकती है।

अपने इस दांव से सीएम कमलनाथ ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को न केवल मात दी है बल्कि उनके राज्यसभा जाने के अरमानों पर भी पानी फेर दिया है। कमलनाथ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद पर भी अपने खास की नियुक्ति के लिए लगातार दिल्ली का दौरा कर रहे हैं।

सरकार के खिलाफ पीछे हटने को राजी नहीं सिंधिया
वहीं, सिंधिया घोषणापत्र के बहाने कमलनाथ सरकार पर लगातार हमला कर रहे हैं। उन्होंने सोमवार को ग्वालियर में कहा कि मैं जनता का सेवक हूं, जनता के मुद्दों के लिए लड़ना मेरा धर्म है। हमें सब्र रखना है और अगर जिन मुद्दों को हमने अपने वचनपत्र में रखा है उनको हमें पूरा करना ही होगा। अगर नहीं होगा तो हमें सड़क पर उतरना होगा। 

मंत्री इमरती बोलीं- सिंधिया सड़कों पर उतरे तो उनके साथ पूरे हिंदुस्तान की कांग्रेस उतरेगी
सिंधिया खेमे की मंत्री इमरती देवी ने समर्थन करते हुए कहा कि वचन-पत्र में वादे अकेले सिंधिया ने नहीं, राहुल गांधी, दिग्विजय सिंह, कमलनाथ और हम सबने किए हैं। सिंधिया सड़कों पर उतरे तो उनके साथ पूरे हिंदुस्तान की कांग्रेस उतरेगी। हालांकि बाद में उन्होंने खुद को संभालते हुए कहा कि हम वचनपत्र के काम पूरे कर रहे हैं और सड़क पर उतरने की जरूरत नहीं है।

कमलनाथ बोले- सिंधिया को सड़कों पर उतरना है तो उतरें
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सिंधिया के बयान पर कहा कि ‘उतरना है तो वो उतरें।’ कमलनाथ ने एक दिन पहले भी सिंधिया के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि वचन-पत्र में जो वादे किए गए हैं वे पांच साल के लिए है, न कि पांच महीने के लिए। 

मध्यप्रदेश कांग्रेस में गुटबाजी हावी
मध्यप्रदेश कांग्रेस में मुख्यत तीन गुट सक्रिय हैं जिसमें एक गुट का नेतृत्व  मुख्यमंत्री कमलनाथ करते हैं, जबकि दूसरे का ज्योतिरादित्य सिंधिया। तीसरे गुट का नेतृत्व पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह करते हैं। राज्य में अंदरुनी खींचतान इस कदर हावी है कि तीनों गुट एक दूसरे के खुले तौर पर भी विरोध करते दिख जाते हैं।

प्रियंका के बहाने कमलनाथ ने सिंधिया को दी मात!
मध्यप्रदेश से राज्यसभा के लिए खाली हो रही दो सीटों को लेकर जारी खींचतान के बीच एक सीट पर दिग्विजय सिंह की ताजपोशी तय मानी जा रही है। लोकसभा चुनाव हार चुके ज्योतिरादित्य भी मुख्यमंत्री पद न मिलने के बाद राज्यसभा के जरिए अपनी राजनीति को आगे बढ़ाने की कोशिश में लगे थे। लेकिन, कमलनाथ ने प्रियंका गांधी की राज्यसभा के लिए दावेदारी जताकर सिंधिया को घेरने का फुलप्रूफ प्लान तैयार कर रखा है।

दिग्विजय का जलवा बरकरार
कमलनाथ और सिंधिया गुट में आपसी खींचतान का सीधा फायदा पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को मिल रहा है। भोपाल से लोकसभा चुनाव हारने के बाद भी उनका राज्यसभा में जाना तय माना जा रहा है। दिग्विजय खुलकर मुख्यमंत्री कमलनाथ के समर्थन में हैं जिसका फायदा उन्हें भोपाल से लेकर दिल्ली तक मिल रहा है।

कांग्रेसप्रदेश अध्यक्ष पद को लेकर भी विवाद
कमलनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद से ही यह कयास लगाए जा रहे थे कि वे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष का पद छोड़ देंगे और सीएम के पद पर नंबर दो के दावेदार सिंधिया की ताजपोशी हो जाएगी। इसके अलावा सिंधिया गुट के विधायकों और नेताओं को सरकार-संगठन में बड़ा पद मिलने के आसार जताए जा रहे थे। लेकिन, कमलनाथ ने ऐसा होने नहीं दिया।

10 जनपथ नहीं दे पा रहा कोई समाधान
केंद्रीय नेतृत्व भी कमलनाथ और सिंधिया के बीच जारी खींचतान को खत्म नहीं कर सका है। जब भी राज्य में गुटबाजी तेज होती है तब सीएम कमलनाथ और सिंधिया को दिल्ली बुलाकर समझाया जाता है। हालांकि कुछ दिन बाद पार्टी में फिर कलह शुरू हो जाती है। 

 
... और पढ़ें
सीएम कमलनाथ, प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया सीएम कमलनाथ, प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया

नई दिल्ली-हबीबगंज शताब्दी को बीना में मिलेगा नया हाल्ट, तीन स्टॉपेजों को किया गया खत्म

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से मध्यप्रदेश के हबीबगंज के बीच चलने वाली शताब्दी एक्सप्रेस के लिए एक नए हाल्ट की सुविधा दी गई है। इस महीने के आखिर तक शताब्दी एक्सप्रेस को बीना में हाल्ट की व्यवस्था की जाएगी। हालांकि, रेलवे ने इसके लिए ललितपुर, मुरैना और धौलपुर के स्टॉपेज बंद करने की घोषणा की है। रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस महीने होने वाली टाइम-टेबल कमेटी की मीटिंग में इस तरह के बदलाव किए जाएंगे। 

उन्होंने बताया कि रेलवे द्वारा यह कदम इसलिए उठाया गया है क्योंकि ललितपुर, मुरैना और धौलपुर के लिए के लिए बिक्री की जाने वाली टिकटों की संख्या में लगातार गिरावट हो रही थी, जिसके बाद मंत्रालय ने यह कदम उठाया है। वहीं, लोगों की मांग को देखते हुए रेलवे ने बीना में हाल्ट की सुविधा देने की मांग की है। 

बीना में हाल्ट की स्थापना होने के बाद इस रूट पर शताब्दी से यात्रा करने वाले यात्रियों के समय में बचत होगी। ट्रेन के तीन स्टॉपेज कम होने से ट्रेन की रफ्तार भी बढ़ जाएगी और करीब 20 से 25 मिनट पहले नई दिल्ली पहुंचने लगेगी। 
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश: रीवा में फटा गैस सिलिंडर, दो बच्चों सहित पति-पत्नी की झुलसकर मौत

मध्यप्रदेश के रीवा शहर के कोतवाली थाना क्षेत्र के तरहटी मोहल्ले में एक घर में अचानक आग लगने से वहां सो रहे एक ही परिवार के चार सदस्यों की मौत हो गई।

सिटी कोतवाली थाना के उप निरीक्षक नीरज द्विवेदी ने बताया कि मृतकों की पहचान रहीश खटीक (45), उसकी पत्नी गुड़िया खटीक (40), उनकी बेटी सेजल (13) और बेटा साहिल (11) के रूप में की गई है। उन्होंने कहा कि घर में रखे घरेलू गैस सिलेंडर में रविवार-सोमवार की मध्य रात्रि करीब ढाई बजे विस्फोट हुआ और आग लग गई। धमाके की आवाज सुनते ही आसपास के लोग वहां पहुंचे।

द्विवेदी ने बताया कि स्थानीय लोगों ने पुलिस को सूचना दी, जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने फायरब्रिगेड की मदद से आग पर काबू पाया। उन्होंने कहा कि दरवाजा अंदर से बंद था जिसे तोड़ा गया। लेकिन तब तक चारों व्यक्तियों की मौत हो चुकी थी। द्विवेदी ने बताया कि आग कैसे लगी, इसकी अब तक जानकारी नहीं है।

उन्होंने कहा कि मृतकों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल पहुंचाया गया है। पुलिस मामले की विस्तृत जांच में जुटी है।
... और पढ़ें

मतभेदों को सुलझाने के लिए कमलनाथ और सिंधिया कर सकते हैं इस हफ्ते मुलाकात

कांग्रेस महासचिव तथा पार्टी की मध्य प्रदेश इकाई के प्रभारी दीपक बावरिया ने कहा कि दोनों नेता सत्ता में आने से पहले मध्य प्रदेश की जनता से पार्टी द्वारा किए गए वादों को पूरा करने के तौर-तरीकों पर काम करने के लिए मुलाकात करेंगे।

बावरिया ने बताया कि कमलनाथ एवं ज्योतिरादित्य सिंधिया इस हफ्ते मुलाकात करेंगे और लंबित मुद्दों पर काम करेंगे तथा मध्य प्रदेश के विभिन्न वर्गों के लोगों की चिंताओं और मांगों का समाधान खोजेंगे । 

दोनों नेताओं के बीच किसी प्रकार के मतभेद की खबरों को दरकिनार करते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी के सभी नेता जन कल्याण के लिए काम कर रहे हैं और मध्य प्रदेश में सुशासन उपलब्ध करा रहे हैं । 

इससे पहले कमलनाथ ने अपने तेवर सख्त करते हुए सिंधिया के बयान पर जवाब दिया था। जब उनसे जनता से किए गए वादे पूरे नहीं किए जाने पर सिंधिया के सड़क पर उतर आने से जुड़ा सवाल किया गया तो उन्होंने जवाब दिया- तो उतर जाएं।
... और पढ़ें

शिवराज सिंह पहुंचे छिंदवाड़ा के सौसर, विवादित स्थल पर की पूजा

ज्योतिरादित्य सिंधिया-कमलनाथ (फाइल फोटो)
मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता शिवराज सिंह चौहान शनिवार को छिंदवाड़ा के सौसर पहुंचे। उन्होंने उस स्थान पर पूजा की जहां पर राज्य सरकार ने छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा को हटा दिया था।
 

मामला क्या है?

दरअसल छिंदवाड़ा के मोहगांव तिराहे पर लगी शिवाजी महाराज की प्रतिमा को जेसीबी मशीन से हटवा दिया गया था। विवाद यही से शुरू हुआ। यहां शिवसेना समेत हिंदूवादी संगठनों के कार्यकर्ताओं ने रास्ते को जाम कर दिया था। नगरपालिका प्रशासन को ज्ञापन सौंपा गया जिसके बाद अब नगरपालिका की ओर से शिवाजी की मूर्ति के लिए नई जगह तलाशी जा रही है।
 
... और पढ़ें

सिंधिया के सड़क पर उतरने की चेतावनी पर कमलनाथ का जवाब- तो उतर जाएं

मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया गुट के बीच तकरार तेज हो गई है। सिंधिया ने शिक्षकों के समर्थन में अपनी सरकार के खिलाफ सड़क पर उतरने का एलान किया था जिसके बाद मुख्यमंत्री ने भी सिंधिया पर निशाना साधा। इसे लेकर शनिवार को मध्य प्रदेश कांग्रेस समन्वय समिति की बैठक बुलाई। इसमें मुख्यमंत्री कमलनाथ और पार्टी नेताओं ज्योतिरादित्य सिंधिया, दिग्विजय सिंह, दीपक बाबरिया, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी प्रभारी, मीनाक्षी नटराजन और जीतू पटवारी ने हिस्सा लिया। बैठक के बाद सिंधिया ने कहा कि यह एक कारगर बैठक थी और हम भविष्य में सकारात्मक तौर पर कार्य करते रहेंगे।
 

वहीं, कमलनाथ ने अपने तेवर सख्त करते हुए सिंधिया को सीधा जवाब दिया है। जब उनसे जनता से किए गए वादे पूरे नहीं किए जाने पर सिंधिया के सड़क पर उतर आने से जुड़ा सवाल किया गया तो उन्होंने जवाब दिया- तो उतर जाएं।
 

वहीं, वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि वादे पांच साल में पूरे किए जाने हैं। हमने कई वादे पूरे भी किए हैं। बाकियों पर काम चल रहा है। सिंधिया जी किसी के खिलाफ नहीं हैं।  कमलनाथ जी की अगुवाई में कांग्रेस पार्टी एकजुट है। 
 

सोनिया तक पहुंची कमलनाथ-सिंधिया की लड़ाई

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शुक्रवार शाम को दिल्ली में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने सिंधिया की तरफ से राज्य सरकार पर किए गए हमले को लेकर अपनी नाराजगी जाहिर की। सोनिया से मुलाकात के बाद कमलनाथ ने कहा कि मैंने पार्टी अध्यक्ष को बताया है कि सरकार घोषणापत्र के वादों को पूरा करने के लिए कितनी सक्षम है। मुख्यमंत्री ने बताया कि उनकी पंचायत चुनाव और नगर पालिका चुनाव की तैयारियों और संगठन के मुद्दों को लेकर बातचीत हुई। वहीं सिंधिया के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा कि वचन पत्र पांच साल के लिए होता है, पांच महीने के लिए नहीं।

सोनिया गांधी चुनेंगी नया प्रदेश अध्यक्ष : कमलनाथ 

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने यह भी कहा कि पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी जल्द ही नया प्रदेश अध्यक्ष चुनेंगी। वर्तमान में कमलनाथ ही प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष हैं। 
उन्होंने कहा, 'संगठन में किसी तरह का बदलाव और मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की नियुक्ति हमारी नेता सोनिया गांधी ही करेंगी।'

सरकार के खिलाफ सड़क पर उतरने पर नहीं हिचकिचाउंगा: सिंधिया

मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ के गांव में अतिथि अध्यापकों को संबोधित करते हुए सिंधिया ने कहा था कि यदि सरकार पार्टी के घोषणापत्र को लागू नहीं करती है तो वह अपनी सरकार के खिलाफ सड़क पर उतरने पर नहीं हिचकिचाएंगे। उन्होंने कहा था, अतिथि शिक्षकों से मैं कहना चाहता हूं कि मैंने आपकी मांग चुनाव से पहले भी सुनी थी। मैंने आपकी आवाज उठाई और आपको विश्वास दिलाना चाहता हूं कि आपकी जो मांग सरकार के जिस घोषणापत्र में अंकित है वो हमारे लिए हमारा ग्रंथ है।’

आपकी तलवार और ढाल बनूंगा: ज्योतिरादित्य सिंधिया

पूर्व कांग्रेस सांसद ने अतिथि शिक्षकों को संयम रखने की सलाह दी थी। उन्हेोंने कहा था, यदि घोषणापत्र की एक-एक चीज पूरी नहीं हुई तो आप सड़क पर खुद को अकेले मत समझिएगा। सड़क पर आपके साथ ज्योतिरादित्य सिंधिया भी उतरेगा। अभी सरकार बनी है, एक साल हुआ है।
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश: मंत्री बोले- तीर्थयात्रा सरकार का काम नहीं, भाजपा ने कमलनाथ से मांगा जवाब

मध्यप्रदेश सरकार मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना के तहत राज्य सरकार गरीब बुजुर्गों को तीर्थयात्रा कराती है। इसे लेकर कांग्रेस नेता और प्रदेश के सहकारिता, संसदीय मामले और सामान्य प्रशासन मंत्री गोबिंद सिंह का कहना है कि इस योजना को खत्म कर देना चाहिए क्योंकि तीर्थयात्रा का आयोजन करना सरकार का काम नहीं है।

सिंह ने कहा, 'तीर्थयात्रा का आयोजन करना सरकार का काम नहीं है। हालांकि सरकार ने इसपर अभी कोई फैसला नहीं लिया है लेकिन यह मेरी निजी राय है। भक्तों को सुविधाएं देना, उनकी मदद करना ठीक है लेकिन सरकारी धन पर तीर्थयात्राओं का आयोजन मेरे अनुसार सही नहीं है। तीर्थयात्रा लोगों द्वारा स्वयं अर्जित धन पर की जानी चाहिए।'

राज्य के मंत्री का यह बयान ऐसे समय पर आया है जब सरकार ने 15 फरवरी को वैष्णो देवी, काशी, द्वारका और रामेश्वरम में प्रस्तावित धार्मिक यात्रा से कुछ दिन पहले कम से कम 4000 वृद्धों के लिए पांच राज्य की प्रायोजित तीर्थयात्रियों को रद्द कर दिया है। सिंह का कहना है कि इस फंड का राज्य में शिक्षा, स्वास्थ्य और अन्य क्षेत्रों में बेहतर इस्तेमाल हो सकता है।

वहीं दूसरी तरफ भाजपा नेता और विधायक विश्वास सारंग ने कांग्रेस नेता के इस बयान की कड़े शब्दों में निंदा की है। उन्होंने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ को इस मामले पर अपनी पार्टी और सरकार का रुख साफ करने के लिए कहा है।

सारंग ने कहा, 'यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण बयान है। एक तरफ कांग्रेस सरकार आईफा अवॉर्ड्स आयोजित करने के बड़े-बड़े दावे करती है और उसके मंत्री कहते हैं कि धार्मिक यात्राओं को बंद कर देना चाहिए। भाजपा सरकार ने गरीब लोगों को देश में तीर्थ स्थलों की यात्रा कराने के लिए यह योजना शुरू की थी।'

भाजपा विधायक ने आगे कहा, 'सबसे बेकार बात यह है कि उन्होंने लोगों की भावनाओं का मजाक बनाया है। कमलनाथ को आगे आकर स्पष्ट करना चाहिए कि यह मंत्री की निजी राय है या ये सरकार या कांग्रेस पार्टी का बयान है।'
... और पढ़ें

भाजपा ने कई राज्यों के बदले अध्यक्ष, विष्णु दत्त शर्मा को दी मध्यप्रदेश की कमान

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राकेश सिंह के स्थान पर विष्णु दत्त शर्मा को मध्यप्रदेश भाजपा का अध्यक्ष नियुक्त किया है। शर्मा खजुराहो से भाजपा सांसद हैं। वह वर्तमान में वे भाजपा के प्रदेश महामंत्री हैं। इसके अलावा भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने दल बहादुर चौहान को सिक्किम राज्य अध्यक्ष और के सुरेंद्रन को केरल भाजपा अध्यक्ष नियुक्त किया है।
 
 

कौन हैं विष्णु दत्त शर्मा

शर्मा मूलरूप से मध्यप्रदेश के मुरैना जिले के रहने वाले हैं। उन्हें वीडी शर्मा के नाम से भी जाना जाता है। वह 32 वर्षों से लगातार सक्रिय राजनीति का हिस्सा हैं। भाजपा में वह कई पद संभाल चुके हैं। वह 2013 में भाजपा में शामिल हुए थे। वह वर्तमान में मध्यप्रदेश भाजपा के महामंत्री हैं। वह 1986 से ही विद्यार्थी परिषद् में सक्रिय हैं। 1993-94 में उन्हें मध्य भारत का प्रदेश संगठन मंत्री बनाया गया था। 2007-2014 के बीच उन्होंने मध्यक्षेत्र (मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़) के क्षेत्रीय संगठन मंत्री का कार्यभार संभाला था। 2007-09 में उन्होंने राष्ट्रीय महामंत्री की जिम्मेदारी संभाली थी।

ग्वालियर से किया है एमएससी

शर्मा की शिक्षा की बात करें तो उन्होंने 1985-86 में मध्यप्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल, भोपाल से हायर सेकेंडरी की पढ़ाई की है। इसके बाद 1989-91 में ग्वालियर के कृषि महाविद्यालय से एग्रीकल्चर में बीएससी की डिग्री प्राप्त की है। उनके पास ग्वालियर के कृषि महाविद्यालय से एग्रीकल्चर और एग्रोनामी में एमएससी की डिग्री भी है।
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश: हाईकोर्ट ने नाबालिग दुष्कर्म पीड़िता को दी गर्भपात की अनुमति

मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने नाबालिग दुष्कर्म पीड़िता को गर्भपात कराने की इजाजत दे दी। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि 19 सप्ताह और छह दिन का गर्भ गिराना गर्भपात के कानूनी दायरे में आता है। जबलपुर के नेताजी सुभाष चंद्र बोस अस्पताल एवं मेडिकल कॉलेज के तीन डॉक्टरों की एक टीम द्वारा पीड़िता की चिकित्सीय जांच की रिपोर्ट आने के बाद अदालत ने यह निर्देश दिया है।

न्यायमूर्ति सुबोध अभ्यंकर की एकल पीठ ने कहा कि पीड़िता महज 12 साल की है और नाबालिग है इसलिए वह यौन संबंध के लिए सहमति देने की स्थिति में नहीं थी। गर्भपात को इस रूप में मानना चाहिए कि यह गर्भ बलात्कार की वजह से था।

याचिकाकर्ता के वकील बीएस ठाकुर ने कहा कि कोर्ट ने आदेश दिया है कि भ्रूण के डीएनए की जांच के लिए इसे फॉरेंसिक लैब में भेजा जाए। पीड़िता की मां ने गर्भपात को लेकर याचिका दायर की थी। लड़की के गर्भवती होने का खुलासा उस समय हुआ था जब उसने पेट में दर्द की शिकायत की थी और उसके घरवाले उसे डॉक्टर के पास ले गए थे।

... और पढ़ें

भाजपा को ईवीएम की मदद न मिले तो वह किसी चुनाव में जीत हासिल नहीं कर सकती : दिग्विजय

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने गुरुवार को कहा कि भाजपा हर बात में हिंदू-मुसलमान का भेद कर देती है इसलिए दिल्ली विधानसभा चुनाव में लोगों ने उसके खिलाफ नाराजगी प्रकट की है और कांग्रेस का पूरा वोट भी भाजपा को हराने में लग गया। इसके साथ ही उन्होंने दावा किया कि अगर भाजपा को इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) की मदद न मिले तो वह किसी चुनाव में जीत हासिल नहीं कर सकती है।

सिंह ने यहां संवाददाताओं से बात करते हुए एक सवाल के उत्तर में कहा, ‘इनके (भाजपा के) द्वारा चलाया गया जो नागरिकता अभियान है। हर चीज को वो हिंदू-मुसलमान कर देते हैं। उसके खिलाफ लोगों ने नाराजगी प्रकट की है और पूरा कांग्रेस का वोट भी भाजपा को हराने में लग गया।’ हाल ही में कुछ प्रदेशों में भाजपा की पराजय के सवाल पर सिंह ने कहा, अगर ईवीएम की मदद इनको न मिले तो कोई चुनाव नहीं जीत रहे ये लोग।

केंद्र सरकार द्वारा रसोई गैस के सिलेंडर के दाम बढ़ाए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा, ‘पहले तो सब्सिडी खत्म कर दी फिर लोगों से कहा कि तुम भी सब्सिडी वापस कर दो। अब जब गैस के भाव अंतरराष्ट्रीय क्षेत्र में घट रहे हैं तो इन्होंने बढ़ा दिए। केवल अपना घाटा पूरा करने के लिए उपभोक्ताओं पर इन्होंने ये भार डाल दिया और यही (प्रधानमंत्री) नरेंद्र मोदी जी जब कांग्रेस सरकार थी, थोड़ा-सा बढ़ जाता था तो दुनिया भर की अनर्गल बातें करते थे। (केंद्रीय मंत्री) स्मृति ईरानी धरने पर बैठ जाती थीं।’ उन्होंने आगे सवाल किया कि अब कहां है ये लोग।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन