विज्ञापन
विज्ञापन
योग्य संतान प्राप्ति हेतु इस महाशिवरात्रि बाबा बैद्यनाथ का घर बैठे कराएं रुद्राभिषेक
Astrology

योग्य संतान प्राप्ति हेतु इस महाशिवरात्रि बाबा बैद्यनाथ का घर बैठे कराएं रुद्राभिषेक

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

टीके की दोनों खुराक लेने व एंटी बॉडी के बाद भी स्वास्थ्य कर्मी कोरोना संक्रमित, डॉक्टर भी हैरान

कोरोना टीकाकरण अभियान के बीच मध्य प्रदेश के धार से चौंकाने वाली खबर आई है। यहां की एक महिला स्वास्थ्य कर्मी टीके की दोनों खुराक लेने के बाद भी कोरोना संक्रमित पाई गईं। शरीर में एंटी बॉडी का स्तर भी अच्छा पाया गया है, इसके बाद भी संक्रमित होना डॉक्टरों को भी चिंता में डाल रहा है। 

मिली जानकारी के अनुसार धार की 30 वर्षीय महिला स्वास्थ्य कर्मी कोरोना पॉजिटिव आई हैं। उन्होंने 17 जनवरी को कोरोना वैक्सीन का पहला व 22 फरवरी को दूसरा डोज लगवाया था। 26 फरवरी को अस्वस्थ होने पर जांच कराई तो कोरोना की पुष्टि हुई, हालांकि उनकी अन्य स्वास्थ्य रिपोर्ट सामान्य है। 

कहीं वायरस का दूसरा स्ट्रेन तो नहीं? 
महिला स्वास्थ्य कर्मी द्वारा टीके के दोनों डोज लगवाने व शरीर में एंटी बॉडी का स्तर भी अच्छा होने के बाद भी कोरोना संक्रमित पाए जाने को लेकर धार के चिकित्सकों ने भी हैरानी जताई है।  पैथालॉजिस्ट डॉ. अनिल वर्मा ने कहा कि यह अनूठा मामला है। किसी व्यक्ति में कोरोना संक्रमण और एंटीबॉडी दोनों मिलना आश्चर्यजनक है। डॉ. वर्मा ने आशंका जताई कि यह कोरोना वायरस का दूसरा स्ट्रेन तो नहीं है। महिला स्वास्थ्य कर्मी के सैंपल की आगे जांच करा रहे हैं। 
... और पढ़ें

कोरोना की मार से आहत जनता को 'शिव' राहत, बजट में न कोई नया कर, न बढ़ेगी किसी की दर

जज को जन्मदिन की 'बधाई' देने वाले वकील को हुई जेल, ई-मेल पर भेजा था 'फोटो' और 'संदेश'

मध्यप्रदेश के रतलाम में एक वकील नौ फरवरी से जेल में बंद है और उस पर आरोप है कि 28 जनवरी को कथित तौर पर प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट (जेएमएफसी) को देर रात 1.11 बजे ई-मेल के जरिए जन्मदिन की बधाई दी और इसके बाद स्पीड पोस्ट भी किया। 

आरोपी वकील पर आईटी एक्ट समेत कई मामले दर्ज किए गए हैं। पुलिस की ओर से दर्ज की गई शिकायत के मुताबिक, आरोपी विजय सिंह यादव (37 साल) ने न्यायिक मजिस्ट्रेट की इजाजत के बिना उनकी फेसबुक से एक फोटो डाउनलोड की और जन्मदिन की बधाई के तौर पर उन्हें ई-मेल कर दी। इतना ही नहीं इस ई-मेल में आरोपी वकील ने एक अभद्र संदेश भी लिखा था। 

स्टेशन रोड पुलिस स्टेशन में आरोपी वकील के खिलाफ आठ फरवरी को एफआईआर दर्ज की गई है। रतलाम जिला कोर्ट के सिस्टम अधिकारी महेंद्र सिंह चौहान ने पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज कराई। आरोपी वकील के खिलाफ धोखाधड़ी, जालसाजी और प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के उद्देश्य से जालसाजी और आईटी एक्ट की धाराओं के तहत मामले दर्ज किए गए हैं। 
 
पुलिस में दर्ज शिकायत में बताया गया है कि यादव ने महिला न्यायिक मजिस्ट्रेट को स्पीड पोस्ट के जरिए जन्मदिन की बधाई भेजी थीं। यादव के भाई जय ने बताया कि उसके भाई विजय सिंह यादव चार बच्चों का पिता है और उसे उसके घर से गिरफ्तार किया गया है। 

जय ने बताया कि यादव खुद अपना केस लड़ रहा है। गिरफ्तारी के चार दिन बाद 13 फरवरी को निचली अदालत ने विजय सिंह यादव की जमानत याचिका खारिज कर दी। इसके बाद आरोपी वकील के घरवालों ने मध्यप्रदेश हाईकोर्ट की इंदौर बेंच का दरवाजा खटखटाया। तीन मार्च को विजय सिंह यादव की जमानत पर सुनवाई होनी है। 

जमानत याचिका में, विजय सिंह यादव ने खुद से मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के सामने जेएमएफसी के खिलाफ एक अलग निजी शिकायत दर्ज की है। वकील ने शिकायत में दावा किया है कि उसने सामाजिक कार्यकर्ता और जय कुल देवी सेवा समिति के अध्यक्ष के तौर पर जन्मदिन की बधाई दी थी और इसलिए उसने गूगल से फोटो डाउनलोड की थी और क्रिएटिव डिजाइनर के तौर पर उसका इस्तेमाल किया था। 

... और पढ़ें

मध्यप्रदेश : इंदौर और भोपाल में फिर छाया कोरोना का प्रकोप, सीएम बोले- आठ मार्च से लग सकता है नाइट कर्फ्यू

देश में एक बार फिर कोरोना के बढ़ते मामले दस्तक दे रहे हैं। महाराष्ट्र में पिछले एक हफ्ते में 50,000 से ज्यादा मामले सामने आए हैं, तो वहीं मध्यप्रदेश के इंदौर और भोपाल में भी संक्रमितों का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। इंदौर में तो कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन ने प्रवेश कर लिया है और यहां छह लोगों ने कोरोना का नया स्ट्रेन पाया गया है। 

पिछले महीने नई दिल्ली जांच के लिए भेजे गए छह मरीजों में यूनाइटेड किंगडम वाले कोरोना स्ट्रेन की मौजूदगी पाई गई है। लेकिन इसमें हैरान करने वाली बात यह है कि ये छह लोग कभी विदेश गए ही नहीं, तो ऐसे में सवाल पैदा होता है कि आखिर इन लोगों में कोरोना का नया स्ट्रेन मिला कैसे? 

आठ मार्च से नाइट कर्फ्यू संभव
भोपाल में कोरोना की समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इंदौर और भोपाल में कोरोना के मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है। अगर अगले तीन दिनों तक कोरोना के दैनिक मामलों में गिरावट नहीं देखी गई तो आठ मार्च से दोनों शहरों में नाइट कर्फ्यू लागू कर दिया जाएगा। 

इंदौर में पिछले तीन दिन में 491 और भोपाल में 278 संक्रमित मामले सामने आए। जबलपुर, बैतुल, छिंदवाड़ा, उज्जैन और महाराष्ट्र से लगे जिलों में कोविड-19 के मामलों में बढ़त देखी जा रही है। महाराष्ट्र से आने वाले यात्रियों के लिए अब कोरोना निगेटिव की रिपोर्ट साथ लाना अनिवार्य कर दिया गया है। इसकी जवाबदेही बस ऑपरेटरों की होगी। 

बिना मास्क के लोगों पर होगी कार्रवाई
बता दें कि देश में कोरोना के 16,000 से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं, वहां अकेले महाराष्ट्र में शुक्रवार को 10,216 नए मामले सामने आए। दिल्ली में डेढ़ महीने बाद 312 संक्रमित मामले मिले हैं। मुख्यमंत्री ने बैठक में कहा कि जो दुकानदार या ग्राहक, बिना मास्क के दिखा तो उस पर कार्रवाई की जाएगी। 

बता दें कि कोरोना के नए स्ट्रेन को बी.1.1.7 के नाम से भी जाना जाता है। दुनिया में कोरोना के इस नए स्ट्रेन के कई म्यूटेशन भी देखे गए हैं। एमजीएम मेडिकल कॉलेज इंदौर के डीन डॉक्टर संजय दीक्षित का कहना है कि कोरोना का ये नया स्ट्रेन फैलता तेजी से है लेकिन इससे मृत्युदर ज्यादा नहीं है। 
... और पढ़ें
कोरोना वायरस (प्रतीकात्मक तस्वीर) कोरोना वायरस (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मध्यप्रदेशः राज्य में बेटियों की आबरू खतरे में, विधानसभा में गृहमंत्री ने रखी चौंकाने वाली रिपोर्ट

मध्यप्रदेश में बेटियों की आबरू खतरे में है, इस बात की पुष्टि विधानसभा में राज्य के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने खुद की है। इस रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश में हर दिन औसतन 15 बच्चियों या महिलाओं के साथ दुष्कर्म की घटनाएं हुईं हैं। साथ ही एक दिन में औसतन 16 बच्चियों के अपहरण किए गए। 1 अप्रैल 2020 से 12 फरवरी 2021 तक यानी 318 दिन में दुष्कर्म व अपहरण के कुल 10002 मामले पुलिस ने दर्ज किए हैं।

विधायक सोहनलाल वाल्मीकि के सवाल के जवाब में गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि इस अवधि में पूरे प्रदेश में महिलाओं व बालिकाओं के साथ दुष्कर्म के 4833 मामले दर्ज किए गए। इस दौरान 5085 बच्चियों व 84 महिलाओं के अपहरण के मामले भी सामने आए हैं। इन मामलों में कुल 6767 आरोपियों को जेल भेजा गया है।
... और पढ़ें

इंदौर में ब्रिटिश वैरिएंट : छह मरीजों में पाया गया नया स्ट्रेन, विदेश गए बगैर हुए संक्रमित

मध्य प्रदेश के इंदौर में छह लोगों में कोरोना का ब्रिटिश वैरिएंट मिलने से हड़कंप मच गया है। इन लोगों के विदेश जाने की भी कोई जानकारी नहीं है। इसके बावजूद ये कैसे यूके वैरिएंट की चपेट में आए, डॉक्टरों के लिए यह हैरान करने वाले मामला है। शहर में बढ़ते मरीजों को देखते हुए नाइट कर्फ्यू  लगाए जाने के आसार हैं। 

अचानक हार्ट अटैक से होने लगी मौतें, इसलिए दिल्ली भेजे थे सैंपल
इंदौर के नोडल कोविड अधिकारी अमित मालाकार के अनुसार पिछले माह 106 सैंपल जांच के लिए दिल्ली भेजे गए थे। इनमें से छह में कोरोना के ब्रिटेन में मिले नए वायरस की पुष्टि हुई है। ये मरीज 10 से 15 फरवरी के बीच कोरोना संक्रमित हुए थे। इंदौर से 100 से ज्यादा सैंपल जांच के लिए इसलिए दिल्ली भेजे गए थे, क्योंकि 27 मरीजों की मौत अचानक हार्ट अटैक से हुई थी। अन्य सैंपल एसिम्टोमैटिक और कोरोना के कमजोर लक्षण वाले मरीजों के थे। 

पहले दो लोगों में मिला था यूके स्ट्रेन
इंदौर के दो लोगों में पहले भी यूके स्ट्र्रेन मिलने की पुष्टि हुई थी, हालांकि ये दोनों विदेश से लौटे थे। नए मामले चूंकि विदेश यात्रा से नहीं जुड़े हैं, इसलिए हैरान करने वाले हैं। जो छह लोग यूके  स्ट्रेन से संक्रमित मिले हैं, उनमें बच्चे व अधेड़ उम्र के लोग हैं। 

इन इलाकों के हैं छहों संक्रमित
यूके स्ट्रेन से पीड़ित मिले छह मरीजों में एक राजेंद्र नगर का, तीन तेजाजी नगर क्षेत्र के, एक  पलासिया का तथा एक प्रेम नगर क्षेत्र का है। छहों पुरुष है। इनका घरों में इलाज चल रहा है। 

तेजी से फैलता है यूके स्ट्रेन
इंदौर में यूके स्ट्रेन मिलना चिंताजनक है, क्योंकि यह तेजी से फैलता है। इसलिए इससे बचाव के उपाय करना जरूरी होंगे। इंदौर के संभागायुक्त डॉ. पवन शर्मा ने कहा कि अब रोको-टोको अभियान काे ज्यादा ताकत से लागू किया जाएगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी इस पर सख्ती बरतने के निर्देश दिए हैं। 

लग सकता है नाइट कर्फ्यू 
अधिकारियों का कहना है कि शहर के हालात पर अगले कुछ दिन नजर रखी जाएगी। यदि संक्रमण बढ़ा तो नाइट कर्फ्यू लगाने पर विचार किया जाएगा। 
... और पढ़ें

ग्वालियर में अनूठी लूट : कारोबारी की पत्नी के पैर छूकर लुटेरा बोला- आप मां जैसी हैं पर माफ करना मेरी बहन की शादी है...

मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर में लूट की अनूठी वारदात सामने आई है। एक होजियरी कारोबारी के घर में घुसे लुटेरे ने उनकी पत्नी के पैर छुए और बोला- आप मेरी मां जैसी है, लेकिन माफ करना मेरी बहन की शादी है। इसके बाद लुटेरे ने टॉय गन व चाकू के दम पर कारोबारी की पत्नी व नौकरानी को बंधक बनाया और उनके हाथ-पैर बांधकर करीब चार लाख का माल ले उड़ा। 


डिलिवरी बॉय बनकर आया, पहले लूटा बाद में छूए पैर
लूट की यह अनूठी घटना ग्वालियर की समाधिया कॉलोनी के कृष्णा एनक्लेव दिलीप कुकरेजा के घर में हुई। लुटेरा डिलिवरी बॉय बनकर उनके घर में घुसा। उसने कुकरेजा की पत्नी वंदना को खिलौना पिस्तौल अड़ाई और हाथ-पैर बांधकर मुंह पर टेप लगा दिया। इसी तरह उसने नौकरानी सुनीता को चाकू दिखाकर धमकाया। लूटपाट करने के बाद बदमाश ने कारोबारी की पत्नी के पैर छूए। 

महाराज बाड़ा पर है दुकान
कारोबारी कुकरेजा की ग्वालियर के प्रसिद्ध महाराज बाड़ा पर होजियरी की दुकान है। गुरुवार सुबह दिलीप कुकरेजा और बेटा उमेश दुकान पर निकल गए थे। घर पर पत्नी वंदना और नौकरानी सुनीता थे। शाम करीब चार बजे एक युवक डिलिवरी बॉय बनकर आया। उसने आते ही वंदना पर पिस्तौल तान दी। इस पर दोनों के बीच झूमाझटकी हुई। इसी बीच लुटेरे की पिस्तौल गिरी तो टूट गई। इसके बाद उसने चाकू निकाल लिया। वंदना को काबू में करने के बाद उसने उनके हाथ-पैर बांध दिए। इसके बाद घर में से चार लाख रुपये का सामान ले उड़ा।  ग्वालियर के एएसपी सतेंद्र सिंह तोमर के अनुसार आसपास के इलाके के सीसीटीवी फुटेज देख कर बदमाश की तलाश की जा रही है। लूट के सामान में दो लाख पचास रुपये नकद, आभूषण व अन्य सामग्री है। 
... और पढ़ें

अपने जन्मदिन पर शिवराज सिंह चौहान ने लगाए पौधे, प्रधानमंत्री मोदी ने दी बधाई

सांकेतिक तस्वीर
आज मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का जन्मदिन है और इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनको जन्मदिन की बधाई दी। प्रधानमंत्री मोदी ने राज्य को विकास की ‘नई ऊंचाइयों’ पर ले जाने के लिए उनकी प्रशंसा की। इसके अलावा अपने 62वें जन्मदिन पर शिवराज सिंह चौहान पौधे लगा रहे हैं।

शिवराज सिंह चौहान ने अपनी पत्नी के साथ अपने आवास पर पौधे लगाए। पौधे लगाने के दौरान शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि अपने सामाजिक अभियान को जारी रखने के लिए वो हर दिन एक पौधा लगाएंगे। शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मेरी लोगों से अपील है कि वो पर्यावरण को बचाने के लिए ज्यादा से ज्यादा पौधे लगाएं। 



बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया कि भाजपा के ऊर्जावान नेता और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को जन्मदिन की अशेष शुभकामनाएं। उन्होंने अपने नेतृत्व में राज्य को विकास की नई ऊंचाइयां दी हैं। मैं उनके सुखी, स्वस्थ और दीर्घायु जीवन की कामना करता हूं।



शिवराज सिंह चौहान 2005 से मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं, लेकिन वर्ष 2018 के राज्य विधानसभा चुनाव में भाजपा की हार के बाद वह 15 महीने सत्ता से दूर रहे। हालांकि कांग्रेस विधायकों के दलबदल के बाद वह फिर से मुख्यमंत्री बने और बाद में कांग्रेस विधायकों के इस्तीफे के कारण खाली सीट पर हुए उपचुनाव में उनकी पार्टी ने जीत दर्ज की।
... और पढ़ें

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोविड-19 टीके का लगवाया पहला डोज

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बृहस्पतिवार को एक सरकारी अस्पताल में कोविड-19 टीके के पहले डोज का इंजेक्शन लगवाया।

प्रदेश के जनसंपर्क विभाग के अधिकारी ने बताया कि चौहान को सरकार द्वारा संचालित हमीदिया अस्पताल में कोविशील्ड के पहले डोज का इंजेक्शन लगाया गया।

उन्होंने बताया कि टीकाकरण के दिशानिर्देशों के तहत टीका लगने के बाद चौहान आधे घंटे के निर्धारित समय तक अस्पताल में ही रहे। चौहान के साथ उनकी पत्नी साधना सिंह भी थीं।

मुख्यमंत्री के पिछले साल 25 जुलाई को कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी। उन्होंने भोपाल के निजी अस्पताल में कुछ दिन भर्ती रहकर अपना उपचार कराया था।

स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि मध्यप्रदेश में बुधवार तक कुल 9,29,353 लोगों को टीका लगाया जा चुका है।
... और पढ़ें

इंदौर में करोड़पति भिखारी : एक लत ने पहुंचा दिया ऐसे हालात में, परिजनों ने घर वापसी के लिए रखी यह शर्त

शराब की लत बर्बादी की कगार पर पहुंचा देती है। मध्य प्रदेश के इंदौर का ऐसा मामला सामने आया है, जिसे पढ़-सुनकर आप भी हैरान रह जाएंगे। केंद्र की दीनबंधु पुनर्वास योजना के तहत इंदौर में भिखारियों का पुनर्वास किया जा रहा है। इसी दौरान एक एनजीओ की टीम को किला मैदान के समीप देवी मंदिर के बाहर एक बुजुर्ग भीख मिले। जब उनके बारे में पड़ताल की गई तो पता चला कि वह तो करोड़पति हैं, लेकिन शराब की लत के कारण इस हाल में हैं। उनके  परिजन उनकी घर वापसी के लिए तैयार हैं, लेकिन इसके लिए उनकी शर्त मानना होगी। 

इन बुजुर्ग भिखारी का नाम है रमेश यादव। वह बीते दो साल से भीख मांगकर पेट भर रहे हैं। उनका मुकाम इंदौर वायर फैक्टरी के समीप कालका माता का मंदिर हुआ करता था। एनजीओ-आदिनाथ वेलफेयर एंड एजुकेशन सोसायटी की टीम ने अब उन्हें पंजाब अरोड़वंशीय धर्मशाला में आयोजित शिविर में रखा है। संस्था की प्रमुख रूपाली जैन ने बताया कि रमेश यादव ने शादी नहीं की है, लेकिन उनके भाई-भतीजे हैं। 

कमरे में चार लाख का इंटीरियर
एनजीओ की टीम जब उनके परिजनों के घर पहुंची तो पता चला कि यादव के नाम पर एक बंगला है। एक भूखंड भी है। उनके कमरे में चार लाख रुपये का तो इंटीरियर डेकोरेशन किया हुआ था। एसी से लेकर अन्य सभी सुख-सुविधा की वस्तुएं थीं। परिजनों ने कहा कि आप इनकी शराब की लत छुड़वा दीजिए हम इन्हें केवल साथ रखेंगे बल्कि पूरा खयाल भी रखेंगे। इसके बाद एनजीओ की टीम ने यादव की काउंसिलिंग की। वह घर पर रहकर काम करने व शराब छोड़ने को तैयार हो गए हैं। 

छूट रही है लत, सेहत भी सुधर रही
एनजीओ के अनुसार भिक्षुक पुनर्वास योजना के तहत शिविर में रहते हुए यादव की सेहत सुधर रही है। पहले वे शिविर में भी कार्यकर्ताओं से शराब मांगते थे, लेकिन अब नहीं मांगते। इस शिविर में अब तक 100 से ज्यादा लोगों को लाया गया है। ये लोग भिक्षावृत्ति करते हैं या बेसहारा सड़कों पर रहते हैं। 

फर्राटेदार अंग्रेजी बोलते हैं कुछ भिक्षुक
रूपाली जैन ने बताया कि हमें ऐसे भिक्षुक भी मिले हैं जो संपन्न घरों के हैं, लेकिन गलत आदतों के कारण उन्हें ठुकरा दिया गया है। उन्होंने बताया कि कुछ भिक्षुक तो फर्राटेदार अंग्रेजी भी बोलते हैं। पुनर्वास के लिए लाए गए 90 फीसदी लोग नशे के आदी हैं। ये लोग कई तरह के नशा करते रहे हैं। शिविर में वह धीरे-धीरे नशे की लत से बाहर निकल रहे हैं। 
... और पढ़ें

देश का सबसे स्वच्छ शहर इंदौर, ‘नगरपालिका प्रदर्शन सूचकांक’ में भी अव्वल

देश के ‘नगरपालिका प्रदर्शन सूचकांक 2020’ में इंदौर ने 10 लाख से अधिक आबादी वाले शहरों की श्रेणी में शीर्ष स्थान हासिल किया है। इंदौर नगर निगम (आईएमसी) की एक आला अधिकारी ने इस कामयाबी का श्रेय बुनियादी ढांचा परियोजनाओं और नागरिक सेवाओं पर विशेष ध्यान दिए जाने को दिया। 

इंदौर नगर निगम आयुक्त प्रतिभा पाल ने बृहस्पतिवार को बताया कि नगरपालिका प्रदर्शन सूचकांक में इंदौर के शीर्ष स्थान हासिल करने से हमारा हौसला बढ़ा है और हम बेहतर काम के लिए प्रेरित हुए हैं। हम बुनियादी ढांचा क्षेत्र की कई अहम परियोजनाएं पर विशेष ध्यान दे रहे हैं। स्थानीय नागरिकों को अलग-अलग सेवाओं की सुविधाजनक आपूर्ति की दिशा में भी हमने अच्छा काम किया है। नगरपालिका प्रदर्शन सूचकांक की स्पर्धा में हमें इन कारकों का फायदा मिला।

दूसरे नंबर पर सूरत और तीसरे पर भोपाल
आवास और शहरी मामलों के केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने देशभर का नगरपालिका प्रदर्शन सूचकांक 2020 बृहस्पतिवार को घोषित किया। इसकी अंतिम रैंकिंग में इंदौर ने 10 लाख से अधिक आबादी की श्रेणी में देशभर में शीर्ष स्थान हासिल किया। इस श्रेणी में दूसरा स्थान सूरत और तीसरा स्थान भोपाल ने हासिल किया।

पांचवीं बार सबसे स्वच्छ शहर के लिए झोंकी ताकत
ये नतीजे ऐसे समय घोषित किए गए हैं, जब लगातार चार बार देश के सबसे साफ शहर का खिताब अपने नाम कर चुका इंदौर वर्ष 2021 के आसन्न स्वच्छता सर्वेक्षण में जीत के इस सिलसिले को कायम रखने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रहा है।

केंद्र सरकार के वर्ष 2017, 2018, 2019 और 2020 के स्वच्छता सर्वेक्षणों के दौरान इन्दौर देश भर में अव्वल रहा था। मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी कहे जाने वाले इस शहर की मौजूदा आबादी 30 लाख से ज्यादा आंकी जाती है।
... और पढ़ें

अद्भुत इंदौर : जो नाला करता था बीमार, अब वहीं हो रहा उपचार, मन रही सालगिरह

मध्यप्रदेश का इंदौर शहर स्वच्छता के मामले में पूरे देश में चर्चित है। यहां के नाले कभी गंदे पानी और बदबू से बजबजाते थे, लेकिन अब शहरी निकाय के सफाई अभियान से इनकी सूरत  बदल गई है। इन नालों में अब शादी की सालगिरह से लेकर क्रिकेट मैचों तथा स्वास्थ्य शिविरों तक का आयोजन हो रहा है। इन अनूठे आयोजनों के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं।

जिस जगह होते थे बीमार, वहीं हो रहा उपचार
इंदौर नगर निगम (आईएमसी) के एक अधिकारी ने बताया कि "स्वच्छ नाला अभियान" के तहत हो रहे इन आयोजनों की कड़ी में चंदन नगर के सूखे नाले में बृहस्पतिवार को नि:शुल्क स्वास्थ्य शिविर लगाया गया, जिसमें क्षेत्रीय नागरिकों की सेहत जांची गई। इस शिविर के बैनर पर नारा लिखा था- "जिस जगह होते थे बीमार, उसी जगह हो रहा उपचार।"

अधिकारी ने बताया कि शहर के अलग-अलग स्वच्छ व सूखे नालों में हाल के दिनों में शादी की सालगिरह और क्रिकेट मैचों के आयोजन भी हो चुके हैं। आईएमसी के अतिरिक्त आयुक्त संदीप सोनी ने बताया, "ऐसे आयोजनों के पीछे हमारा मकसद यह दिखाना है कि नालों की सफाई के अभियान में स्थानीय नागरिक न केवल सीधे तौर पर सहभागी हैं, बल्कि वे इस मुहिम पर गर्व भी महसूस करते हैं।"

तीन साल में साफ किए 25 छोटे-बड़े नाले
इंदौर नगर निगम ने शहर की सरस्वती और कान्ह नदियों के मार्ग में पड़ने वाले करीब 25 छोटे-बड़े नालों को पिछले तीन साल के दौरान साफ किया है। इसके लिए नालों में घरों तथा औद्योगिक इकाइयों से निकलने वाले गंदे पानी की आवक रोकी गई है और इनके किनारे बसे क्षेत्रों में ‘सीवरेज लाइन’ को दुरुस्त किया गया है।

सोनी ने कहा कि लोग आमतौर पर सोचते हैं कि नाला तो गंदा ही होता है और ऐसे में इसे साफ रखने की भला क्या जरूरत है? हम स्थानीय स्तर पर इस धारणा को बदलने में काफी हद तक कामयाब रहे हैं। उन्होंने बताया कि आईएमसी का लक्ष्य है कि शहर के सभी नाले घरों तथा औद्योगिक इकाइयों से निकलने वाले गंदे जल से होने वाले प्रदूषण से पूरे साल मुक्त रहें और इनमें केवल बरसाती पानी बहे।

चौका लगा चुका, स्वच्छता के पंच की तैयारी
गौरतलब है कि केंद्र सरकार के वर्ष 2017, 2018, 2019 और 2020 के स्वच्छता सर्वेक्षणों में इंदौर देश भर में अव्वल रहा है। वर्ष 2021 के सर्वेक्षण में जीत के इस सिलसिले को कायम रखने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रहे आईएमसी ने "इंदौर लगाएगा स्वच्छता का पंच" का नारा दिया है।
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश: आज से भोपाल-हबीबगंज स्टेशन पर मिलेगा 50 रुपये का प्लेटफॉर्म टिकट

भोपाल-हबीबगंज स्टेशन पर गुरुवार से प्लेटफॉर्म टिकट 50 रुपये में मिलेगा। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए रेल मंडल प्रशासन ने 18 मार्च 2020 को प्लेटफॉर्म टिकट की राशि को 10 रुपये से बढ़ाकर 50 रुपये कर दिया था। हालांकि 22 मार्च से ट्रेनों का संचालन बंद होने के साथ ही प्लेटफॉर्म टिकट की बिक्री भी बंद हो गई थी। भोपाल और हबीबगंज सहित रेल मंडल में 90 स्टेशन आते हैं। सभी स्टेशनों पर एक साथ प्लेटफॉर्म टिकट की बिक्री शुरू कर दी जाएगी।

मुंबई के सीएसटी, एलटीटी स्टेशनों पर पहले ही हो चुकी है शुरुआत
मध्य रेलवे ने मुंबई के सीएसटी, एलटीटी सहित विभिन्न स्टेशनों पर मंगलवार से प्लेटफॉर्म टिकट देने की शुरुआत की थी। यहां इसकी राशि प्रति यात्री 50 रुपये वसूली जा रही है। मुंबई के बाद माना जा रहा था कि भोपल और हबीबगंज सहित रेल मंडल के स्टेशनों पर भी प्लेटफॉर्म टिकट शुरू कर दिया जाएगा। इसके बाद अधिकारियों ने बुधवार को इसकी घोषणा कर दी।

पिछले साल 22 मार्च से ट्रेन बंद होने से बंद है प्लेटफॉर्म टिकट
भोपाल और हबीबगंज रेलवे स्टेशन सहित रेल मंडल के सभी स्टेशनों पर गुरुवार से 50 रुपये का प्लेटफॉर्म टिकट मिलेगा। रेलवे ने कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। कोरोना से पहले प्रति यात्री प्लेटफॉर्म टिकट के लिए 10 रुपये वसूले जाते थे। वरिष्ठ डीसीएम विजय प्रकाश का कहना है कि प्लेटफॉर्म पर यात्रियों की संख्या न बढ़े इसके लिए प्लेटफॉर्म टिकट की कीमत बढ़ाई गई है। वहीं इटारसी, विदिशा, होशंगाबाद, हरदा, संत हिरदाराम नगर, गंजबासौदा, बीना, अशोक नगर, गुना और शिवपुरी स्टेशनों पर यह चार्ज प्रति टिकट 20 रुपये वसूला जाएगा। इसके अलावा बाकी बचे हुए स्टेशनों पर एक टिकट की कीमत 10 रुपये ही होगी।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X