विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

नेशनल

सोमवार, 6 अप्रैल 2020

कोरोना: सबसे बड़े आर्थिक संकट के दौर में भारत, विशेषज्ञों की मदद ले सरकार

भारतीय रिजर्व बैंक ( RBI ) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने देश में कोरोना वायरस के कारण उपस्थित चुनौतियों के मद्देनजर कहा है कि भारत आर्थिक लिहाज से आजादी के बाद के सबसे आपातकालीन दौर में है। 

सरकार को इससे निकलने के लिए विपक्षी दलों समेत विशेषज्ञों की मदद लेनी चाहिए। राजन ने ‘हालिया समय में संभवत: भारत की सबसे बड़ी चुनौती’ शीर्षक से एक ब्लॉग पोस्ट में यह टिप्पणी की। 

उन्होंने कहा कि, ‘‘यह आर्थिक लिहाज से संभवत: आजादी के बाद की सबसे बड़ी आपात स्थिति है। ‘2008-09 के वैश्विक वित्तीय संकट के दौरान मांग में भारी कमी आई थी, लेकिन तब हमारे कामगार काम पर जा रहे थे, हमारी कंपनियां सालों की ठोस वृद्धि के कारण मजबूत थीं, हमारी वित्तीय प्रणाली बेहतर स्थिति में थी और सरकार के वित्तीय संसाधन भी अच्छे हालात में थे। अभी जब हम कोरोना वायरस महामारी से जूझ रहे हैं, इनमें से कुछ भी सही नहीं हैं।’’ 

भविष्य के लिए ठोस बुनियाद तैयार कर सकता है भारत
हालांकि उन्होंने कहा कि यदि उचित तरीके तथा प्राथमिकता के साथ काम किया जाए तो भारत के पास ताकत के इतने स्रोत हैं कि वह महामारी से न सिर्फ उबर सकता है बल्कि भविष्य के लिए ठोस बुनियाद भी तैयार कर सकता है। राजन ने कहा कि सारे काम प्रधानमंत्री कार्यालय से नियंत्रित होने से ज्यादा फायदा नहीं होगा क्योंकि वहां लागों पर पहले से काम का बोझ ज्यादा है। 

अनुभवी लोगों से मदद ले सकती है सरकार
उन्होंने कहा, ‘‘अभी बहुत कुछ करने की जरूरत है। सरकार को उन लोगों को बुलाना चाहिए जिनके पास साबित अनुभव और क्षमता है। भारत में ऐसे कई लोग हैं जो सरकार को इससे उबरने में मदद कर सकते हैं। सरकार राजनीतिक विभाजन की रेखा को लांघ कर विपक्ष से भी मदद ले सकती है, जिसके पास पिछले वैश्विक वित्तीय संकट से देश को निकालने का अनुभव है।’’ 

आगे राजन ने कहा कि कोविड-19 के प्रकोप से निकलने के लिए हमारी त्वरित प्राथमिकता व्यापक जांच, एक-दूसरे से दूरी तथा कठोर क्वारंटीन के जरिए संक्रमण के प्रसार की रोकथाम होनी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘21 दिनों का लॉकडाउन (बंद) पहला कदम है। इससे हमें बेहतर तैयारी करने का समय मिला है। सरकार हमारे साहसी चिकित्सा कर्मियों के सहारे लड़ रही है और जनता, निजी क्षेत्र, रक्षा क्षेत्र, सेवानिवृत्त लोगों समेत हर संभव संसाधन का इस्तेमाल करने की तैयारी में है। हालांकि सरकार को गति कई गुणा तेज करने की जरूरत है।’’ 

लंबे समय तक लॉकडाउन नहीं सह सकते
राजन ने कहा कि हम लंबे समय तक लॉकडाउन नहीं सह सकते हैं। ऐसे में हमें इस बात पर विचार करना होगा कि किस तरह से संक्रमण को सीमित रखते हुए आर्थिक गतिविधियों को पुन: शुरू करें। उन्होंने कहा, ‘‘भारत को अब इस बारे में भी योजना तैयार करने की जरूरत है कि लॉकडाउन के बाद भी वायरस पर काबू नहीं पाया जा सका तब क्या किया जाएगा।’’
... और पढ़ें

तीन हफ्ते से परिवार से दूर सलमान, भतीजे के साथ आधी रात वीडियो शेयर कर बोले- 'डर गया हूं'

लॉकडाउन के बीच निकाह करने पहुंचा दूल्हा, जम्मू-कश्मीर में चर्चा का विषय रही ये शादी

कोरोना के खिलाफ पूरे देश में लॉकडाउन चल रहा है। इस दौरान जिन परिवारों में शादियां होनी थीं, अधिकांश स्थगित कर दी गईं हैं। दूसरी ओर जहां शादियां स्थगित नहीं की गईं, वहां दूल्हे को इससे जुड़ी रस्में न्यूनतम लोगों के साथ संपन्न करनी पड़ीं।

ऐसा ही एक मामला रविवार को जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ में सामने आया। यहां पूही गांव निवासी काशिफ रविवार सुबह मात्र एक रिश्तेदार को लेकर निकाह करने किचलू मोहल्ला पहुंचे। वहां पहले से ही निकाह की तैयारी की गई थी। निकाह के बाद बलगीस अपने शौहर के साथ विदा हो गई।

निकाह के दौरान परिवार के सदस्य भी सामाजिक दूरी का ख्याल रख कर बैठे हुए थे। दुल्हन के पहुंचने पर निकाह पढ़ा गया। निकाह और खाने के बाद दूल्हा, दुल्हन को साथ लेकर घर चला गया। दिन भर पूरे किश्तवाड़ में यह शादी चर्चा का विषय रही और सभी सामाजिक दूरी को लेकर किए गए प्रयास की प्रशंसा भी करते रहे।
... और पढ़ें

#LockdownChallenge: इंटरनेट पर ट्रेंडिंग हैं ये आठ चैलेंज, आपने कितने किए?

कोरोना वायरस से निपटने के लिए हिंदुस्तान समेत दुनिया के कई देशों में लॉकडाउन के हालात हैं। विश्व की लगभग एक चौथाई जनसंख्या अपने घरों में बंद है। ऑफिस, दुकान, कारखाने सभी जगह ताला टंगा हुआ है। न कोई घर के भीतर आ सकता है औ न ही कोई बाहर जा सकता है। इन हालातों में लोगों की रचनात्मकता निखरकर सामने आ रही है। Instagram, TikTok, Facebook और सोशल मीडिया के दूसरे प्लेटफॉर्म्स पर अब तरह-तरह के चैलेंज आ रहे हैं, जिन्हें लोग न सिर्फ खुद पूरा कर रहे हैं बल्कि अपने दोस्तों, रिश्तेदारों और पड़ोसियों को भी करने कह रहे हैं। कोई कॉफी बना रहा है तो कई कसरत कर रहा है। महिलाओं ने तो साड़ी चैलेंज से पूरा सोशल मीडिया भर रखा है।आइए एक नजर डालते हैं, लॉकडाइन के दौरान जारी ऐसे ही कुछ सोशल मीडिया चैलेंजेस पर... ... और पढ़ें
लॉकडाउन चैलेंजेस लॉकडाउन चैलेंजेस

जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में आतंकियों संग मुठभेड़ में शहीद हुए उत्तराखंड के दो जवान

जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में आतंकियों से हुई मुठभेड़ में आज उत्तराखंड के दो जवान शहीद हो गए। एक जवान पौड़ी का है और दूसरा जवान रुद्रप्रयाग जिले का है।

रुद्रप्रयाग जनपद का तिनसोली गांव निवासी जवान देवेंद्र सिंह जम्मू-कश्मीर में आतंकियों संग हुई मुठभेड़ में शहीद हो गया। शहीद का पार्थिव शरीर अंतिम संस्कार के लिए गांव लाया जा रहा है।

दूसरा शहीद जवान अमित अण्थवाल पौड़ी जिले के कल्जीखाल ब्लॉक के कोला गांव का है। शहीद जवान दो बहनों का इकलौता भाई है। जवान की मां का नाम भगवती देवी और पिता का नाम नागेंद्र प्रसाद है। शहीद की जुलाई 2019 में सगाई हुई थी। अक्टूबर 2020 में शादी तय हुई थी।
... और पढ़ें

लॉकडाउन में 90 प्रतिशत घटे हत्या-दुष्कर्म जैसे मामले, अपराध रोकने में जुटी पुलिस

कोरोना वायरस के खौफ की वजह से देशभर में जारी लॉकडाउन के कारण दिल्ली सहित 10 राज्यों की राजधानियों में हत्या-दुष्कर्म जैसे अपराधों की दर में 90 प्रतिशत तक की कमी आई है। सड़क पर होने वाले अपराध, सेंधमारी, वाहन चोरी जैसे हर अपराध घटे हैं। इसकी एक वजह सड़क पर तैनात भारी पुलिसबल है।

इसके अलावा सड़क दुर्घटनाओं में भी 95 प्रतिशत तक की कमी आई है। 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के बाद से तीन अप्रैल तक इन दो हफ्तों में नए तरह के मामले दर्ज हुए हैं उनमें पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट, मास्क और सैनिटाइजर की जमाखोरी, लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करना, विदेश से आने की जानकारी छिपाना और फर्जी खबरें फैलाने वाले के खिलाफ की गई कार्रवाई शामिल है।

जयपुर में रोजाना औसतन 75 मामले दर्ज होते हैं लेकिन पिछले दो हफ्तों में केवल 132 मामले ही दर्ज हुए हैं। यहां रोजाना केवल 9.4 केस दर्ज किए गए हैं। जिसमें ज्यादातर लॉकडाउन का उल्लंघन करने से संबंधित हैं। अमूमन हर राज्य की राजधानी में इसी तरह की स्थिति बनी हुई है।

दिल्ली में सबसे ज्यादा वाहन चोरी के मामले दर्ज हुए हैं। इसपर दिल्ली पुलिस के एसीपी अनिल मित्तल का कहना है कि घर में चोरी और वाहन चोरी जैसे मामले ऑनलाइन दर्ज कराने की सुविधा है।

छत्तीसगढ़ में धारा 144 के उल्लंघन के अलावा विदेश से आने की जानकारी छिपाने, फर्जी न्यूज, गोपनीय जानकारी साझा करने और कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर किराएदार को घर से निकालने के मामले दर्ज किए गए हैं। वहीं अहमदाबाद में ऐसा पहली बार हुआ है जब पुलिस ने निषेधाज्ञा उल्लंघन के मामले में 960 मामले दर्ज करके 2960 आरोपियों को गिरफ्तार किया है।
... और पढ़ें

6 अप्रैल कोरोना अपडेट: जानिए चंद मिनटों में कोरोना वायरस से जुड़ी हर खबर

अपराध रोकने की कोशिश कर रही है पुलिस (फाइल फोटो)

जम्मू-कश्मीरः कोरोना के खिलाफ जंग में गांव वालों ने बना दी सेना, दिन-रात पहरा दे रहे हैं युवा

कोरोना वायरस पर रोकथाम लगाने में जुटे सरकारी अमले के साथ आम लोग भी युद्धस्तर पर जुट गए हैं। शहर से सटे नगरोटा ब्लॉक की खानपुर पंचायत में नायब सरपंच समेत 31 युवाओं की टीम बनाई गई है। इस टीम को कोरोना सेना नाम दिया है। 31 जवानों की यह सेना पंचायत की खानपुर और सिथनी बस्तियों के प्रवेश द्वार पर पहरा दे रही है। बाकायदा कंटीले तार लगा दिए गए हैं। पंचायत की 10 हजार की आबादी को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए युवाओं की सेना दिन रात डटी हुई है।
 
खानपुर पंचायत के नायब सरपंच मोहम्मद अमीन ने बताया कि पंचायत में दस हजार की आबादी है। यहां कोरोना संक्रमण फैला तो उसे रोकना मुश्किल हो जाएगा। देर करने से बेहतर लगा कि पहले से ही रोकथाम के हर मुमकिन कदम उठा लिए जाएं।

पिछले 16 दिन से पंचायत की कोरोना सेना दिन-रात पहरेदारी कर रही है। पंचायत क्षेत्र में किसी भी अज्ञात के प्रवेश पर रोक है। यहां से बाहर जाने पर भी पूरी तरह से पाबंदी है। बहुत जरूरी काम होने पर सरपंच, नायब सरपंच और अन्य पंचों के साथ संपर्क करने के लिए कहा गया है। मोहम्मद अमीन ने बताया कि इस व्यवस्था को चलाने में गांव वाले भी पूरा सहयोग कर रहे हैं। दूसरी पंचायतें भी अपने स्तर पर अपने क्षेत्र का कोरोना संक्रमण से इस तरह बचाव कर सकती हैं।

पुलिस ने मुहैया करवाए कंटीले तार
नायब सरपंच ने कहा कि जैसे ही जम्मू में कोरोना संक्रमित व्यक्ति का पता चला था तो उन्होंने पुलिस से बात करके गांव को सील करने के लिए तार की मांग की। इसके बाद पुलिस ने पंचायत की ‘कोरोना सेना’ को कंटीले तार मुहैया करवा दिए। इन तारों से पंचायत के सभी प्रवेश द्वार बंद कर दिए गए। पंचायत के युवाओं ने तारबंदी का काम किया। पुलिस व प्रशासन की ओर से पंचायत को मास्क व अन्य जरूरी सामान भी मुहैया करवाया गया है।
... और पढ़ें

जानिए घर पर मास्क बनाने की आसान विधि, सिर्फ इन बातों का रखना है खास ख्याल

कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण से बचने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने लोगों को मास्क पहनने की सलाह दी है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने मास्क को लेकर एडवाइजरी भी जारी की है। सरकार ने इस एडवाइजरी में कहा है कि लोग घर में तैयार मास्क भी पहन सकते हैं। लॉकडाउन के बीच लोग जरूरतों की खरीदारी करने बाहर निकलते हैं। ऐसे में मास्क पहनने से बड़े पैमाने पर लोगों को संक्रमण से बचाया जा सकता है। 

विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक यदि 80 प्रतिशत आबादी मास्क का उपयोग करे तो वायरस का आउट ब्रेक रोका जा सकता है। मास्क का उपयोग ऐसे स्थानों पर जरूर किया जाना चाहिए जहां जनसंख्या का घनत्व ज्यादा होता है।

... और पढ़ें

9Pm9Minute: रणवीर-दीपिका से लेकर हार्दिक-नताशा ने किया पीएम मोदी की मुहिम का समर्थन, साथ में दीया जलाकर दिया एकता का संदेश

अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन