विकास और राष्ट्रवाद पर भाजपा से बड़ी लकीर खींच रहे हैं अरविंद केजरीवाल 

अमित शर्मा, नई दिल्ली Updated Sun, 16 Feb 2020 03:19 PM IST
विज्ञापन
शपथ ग्रहण करते हुए अरविंद केजरीवाल
शपथ ग्रहण करते हुए अरविंद केजरीवाल - फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
आरएसएस-भाजपा की राजनीति हिंदुत्व और कट्टर राष्ट्रवाद पर आधारित रही है। इसी कारण से मुसलमानों के साथ-साथ समाज के कई अन्य वर्ग इससे जुड़ने में असहजता महसूस करते रहे हैं। लेकिन अरविंद केजरीवाल ने राष्ट्रवाद और हिंदुत्व की राजनीति को एक ऐसा नया मोड़ दिया है जहां उनके हनुमान चालीसा का पाठ करने के बाद भी मुसलमान उनसे जुड़ने में असहजता महसूस नहीं कर रहा है। क्या दिल्ली विधानसभा चुनाव में दिखा यह सांकेतिक बदलाव भविष्य में भारत की राजनीति को एक नई दिशा दिखाने वाला है? और क्या अरविंद केजरीवाल भगवा परिवार के लिए भविष्य में बड़ी चुनौती पेश कर पाएंगे? आज मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद अपने भाषण में केजरीवाल ने विकास और राष्ट्रवाद पर भाजपा से बड़ी लकीर खींचने की कोशिश की ।
विज्ञापन

 

अरविंद केजरीवाल ने रविवार को दिल्ली के रामलीला मैदान में तीसरी बार मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। इस शपथ ग्रहण समारोह के बाद दिए अपने भाषण में उन्होंने अपने को दिल्ली के लोगों का अच्छा बेटा श्रवण कुमार बताया। उनके समर्थक बजरंग बली की फोटो और गदा लिए उनका समर्थन कर रहे थे। रामलीला मैदान में तिरंगे लहरा रहे थे और भारत माता की जय के साथ-साथ हनुमानजी की जयकारे भी लग रहे थे। इन समर्थकों के बीच मुसलमान भी भारी संख्या में थे और उनके दमकते चेहरे बता रहे थे कि अरविंद केजरीवाल की जीत में उन्हें अपनी जीत भी दिखाई दे रही थी। भाजपा के जय श्री राम पर सकुचाने वाले मुसलमान समाज को रामलीला मैदान में हनुमान जी के जयकारे से कोई परेशानी महसूस होती नहीं दिख रही थी।
 

अरविंद केजरीवाल ने अपने संबोधन में अपनी जीत को विकासवादी राजनीति की जीत बताया है। यानी उनकी राजनीति में शिक्षा-स्वास्थ्य सबसे अहम रहने वाला है। हालांकि, व्यक्तिगत जिंदगी में कोई हनुमानजी को याद करे या मस्जिद में नमाज पढ़ने जाए, इससे किसी को कोई परेशानी नहीं है। यही कारण है कि उनके विकासवादी राष्ट्रवाद में हिंदू भी अपनी जगह खोज पा रहे हैं और मुसलमान भी। अगर  केजरीवाल की राजनीति का यह एजेंडा अगर दिल्ली की सीमाएं लांघने में सफल रहता है तो इस बाढ़ में कई स्थापित राजनीतिक परिभाषाएं बदल सकती हैं। इसका संकेत शपथ ग्रहण समारोह में लगे उन पोस्टरों में दिख सकता है जिनमें अरविंद केजरीवाल को आज का सीएम और भविष्य का पीएम बताया गया है। 

 

आम आदमी पार्टी के मालवीय नगर से विधायक सोमनाथ भारती ने अमर उजाला से कहा कि दिल्ली में अरविंद केजरीवाल की विकासवादी राजनीति की सफलता से पूरे देश की उनसे उम्मीदें बढ़ गई हैं। वे देश को निराश नहीं करेंगे, वे आगे बढ़ेंगे और सांप्रदायिक नफरत की राजनीति को बढ़ाने वालों को करारी मात देंगे। इस सवाल पर कि क्या आम आदमी पार्टी बीजेपी-आरएसएस की राजनीति को टक्कर दे पाएगी।आप विधायक ने कहा कि दिल्ली चुनाव में बीजेपी की पूरी ताकत मैदान पर उतर गई थी। लेकिन लोकतंत्र में फैसला बाहुबल से नहीं, जनमत के बल से होता है। उन्हें पूरी उम्मीद है कि वे पूरे देश में भाजपा की सोच को कड़ी टक्कर दे पाएंगे।
 

जामा मस्जिद से अरविंद केजरीवाल के शपथ ग्रहण में हिस्सा लेने आए इमरान (40 वर्ष) ने कहा कि इसी हिंदू समाज के बीच पल-बढ़कर वे इतने बड़े हुए और कभी उन्हें सामाजिक भेदभाव का एहसास नहीं हुआ। जो लोग इस सोच को चोट पहुंचाना चाह रहे थे, जनता ने उन्हें बता दिया है कि लोगों को क्या चाहिए। उन्होंने कहा कि हिंदू-मुस्लिम को एक-दूसरे के धर्म से नहीं, बांटने वाली सोच से खतरा है। अरविंद केजरीवाल हमेशा विकास की बात करते हैं। अगर वे अपने पूज्य देवता के दर्शन करने जाते हैं तो इससे किसी दूसरे समुदाय के व्यक्ति को कोई परेशानी क्यों होनी चाहिए?
 

चांदनी चौक में कपड़ों के बड़े व्यापारी खालिद अहमद का कहना है कि लोगों को रोजी-रोटी पहले चाहिए। पेट भरने के बाद ही लोगों को धर्म की बात याद आती है। पिछली सरकार के कारण उनके चांदनी चौक के व्यापारियों को भारी नुकसान हुआ। यही कारण है कि हर समुदाय के लोगों ने भाजपा के खिलाफ मतदान किया। उन्हें भी लगता है कि अगर उनके बच्चे को सही शिक्षा और स्वास्थ्य मिलता है तो उन्हें किसी भी सरकार से कोई परेशानी नहीं है, लेकिन लोग अपने कामकाज की कमी छिपाने के लिए धर्म का सहारा लेते हैं जो देश की राजनीति के लिए बड़ा खतरा है। व्यापारी खालिद को उम्मीद है कि केजरीवाल की विकासवादी छवि सांप्रदायिक ताकतों को माकूल जवाब दे सकेगी। 

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us