विज्ञापन
विज्ञापन
मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020
Astrology Services

मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

नेशनल

सोमवार, 20 जनवरी 2020

अब अंतरिक्ष में जाने वाले लौट आएंगे सलामत, आने वाला है क्रू ड्रैगन

My Jio में आया UPI का सपोर्ट, गूगल पे और फोनपे से होगा मुकाबला

रिलायंस जियो ने जियो मार्ट लॉन्च करने के बाद अब यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI) में एंट्री ले ली है। खबर है कि रिलायंस जियो ने माय जियो एप मे यूपीआई पेमेंट का सपोर्ट दे दिया है, हालांकि यह फीचर फिलहाल कुछ ही यूजर्स को मिल रहा है।

entrackr की रिपोर्ट के मुताबिक माय जियो एप में वर्चुअल पेमेंट एड्रेस (VPA) का और यूपीआई आईडी जोड़ने का विकल्प मिल रहा है। इससे पहले भी एक रिपोर्ट आई थी जिसमें कहा गया है कि रिलायंस जियो यूपीआई पेमेंट के लिए एक्किस बैंक, आईसीआईसीआई और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से बात कर रही है।

ट्विटर पर एक यूजर ने माय जियो एप के यूपीआई पेमेंट फीचर का स्क्रीनशॉट भी शेयर किया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि माय जियो एप यूजर्स के यूपीआई आईडी भी मांग रहा है। इसके बाद यूजर्स को मोबाइल नंबर, डेबिड कार्ड नंबर और बैंक अकाउंट देना पड़ रहा है। साइनइन करने के बाद माय जियो एप भी अन्य यूपीआई पेमेंट एप जैसे गूगल पे और फोनेप की तरह नजर आ रहा है। हालांकि जियो ने इसकी आधिकारिक पुष्टि अभी नहीं की है।


pic-entrackr
गौरतलब है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने तीसरी तिमाही के नतीजे घोषित कर दिए हैं। कंपनी ने बताया कि 2019-20 की तीसरी तिमाही में का कंसोलिडेटिड शुद्ध लाभ 11,640 करोड़ रहा है जो कि कि पिछले साल के मुकाबले 13.5 फीसदी अधिक है। वहीं तीसरी तिमाही में जियो को भी बंपर फायदा हुआ है। 

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने अपने नतीजे में बताया कि 31 दिसंबर तक जियो के ग्राहकों की संख्या 37 करोड़ के आंकड़े को पार चुकी है। पिछले 12 महीनों में जियो ने 13 करोड़ 57 लाख ग्राहक जोड़े हैं, जबकि एक करोड़ 48 लाख नए ग्राहक पिछली तिमाही में जुड़े हैं। 

... और पढ़ें

सोनीपत में दिनदहाड़े घर में घुसकर युवक को मारी गोली, पीजीआई रेफर

बजट 2020: रेलवे, रक्षा समेत इन चार सेक्टर पर होना चाहिए सरकार का फोकस

विकास दर के पांच फीसदी पहुंचने से अर्थव्यवस्था में जो सुस्ती छाई है, उसका असर रेलवे, रक्षा, फॉर्मा और विनिर्माण पर भी पड़ा है। सरकार को इस बार के बजट में मांग और आपूर्ति को बढ़ाना होगा, जिसके लिए ये चार सेक्टर अपनी अहम भूमिका निभा सकते हैं। कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग कंपनी के सीनियर वाइस प्रेसीडेंट-रिसर्च, डॉ. रवि सिंह ने कहा कि इन सेक्टरों को कर में रियायत देकर के सरकार ऐसा कर सकती है। 

रेलवे को मिले इंफ्रा में प्रमुख हिस्सेदारी

रवि सिंह ने कहा कि 2019 में सरकार ने रेल यात्रियों की सुविधाओं में बढ़ोतरी करने के लिए वंदे भारत और तेजस जैसी कई नई ट्रेनों का तोहफा दिया, ताकि रेल यात्री भी अच्छी सुविधाओं के साथ आरामदायक सफर कर सकें। हालांकि अभी भी रेलवे को अपना इंफ्रास्ट्रक्चर मजबूत करने के लिए काफी काम करने की जरूरत है। धीमी गति की पैसेंजर ट्रेनों को हटाकर के फास्ट मेमू ट्रेन चलाना इस परियोजना का प्रमुख हिस्सा है। वित्त मंत्री द्वारा घोषित 102 लाख करोड़ रुपये के इंफ्रा फंड में रेलवे को भी शामिल करना होगा। वहीं संरक्षा और ट्रेनों के रूट पर विद्युतीकरण और पटरियों को बदलने से भी गाड़ियों का परिचालन समय कम होगा, जिसका फायदा लंबे समय में अर्थव्यवस्था को मिलेगा। 

फॉर्मा सेक्टर में कम हो आयात शुल्क

रवि सिंह ने कहा कि फॉर्मा इंडस्ट्री लंबे समय से डॉक्टरों द्वारा इलाज के लिए प्रयोग में लाई जा रही मशीनरी पर आयात शुल्क को कम करने की मांग कर रही है। इसके अलावा विदेश से आयतित होने वाले लेंस पर भी शुल्क को कम करने की मांग हो रही है। फॉर्मा सेक्टर को उम्मीद है कि सरकार उनकी मांग को इस बार के बजट में पूरा करेगी। इसके अलावा सरकार आरएंडडी के लिए मंगाए जाने वाली वस्तुओं के लिए कस्टम ड्यूटी को पूरी तरह से खत्म करने की मांग कर रही है। इससे दवाइयों की कीमतों में कमी हो सकती है, जिसका फायदा सभी को मिलेगा। 

विनिर्माण को सरकार से मिले मदद

विनिर्माण के लिए सरकार को अपनी तरफ से वित्तीय मदद देने की घोषणा करनी चाहिए। इससे सरकार की अफोर्डेबल हाउसिंग और रियल एस्टेट सेक्टर को मजबूती मिलेगी। अगर सरकार वित्तीय मदद देती है तो इससे स्टील और सीमेंट की मांग भी बढ़ेगी। इसके अलावा अक्षय उर्जा को बढ़ावा देने के लिए टैक्स में कमी करनी चाहिए, ताकि उसको भी फायदा मिल सके। 

रक्षा क्षेत्र में लगे आयात शुल्क

रक्षा क्षेत्र में सैन्य उत्पादन में लगी कंपनियों को उम्मीद है कि रक्षा मंत्रालय या फिर सेनाओं द्वारा विदेश से उत्पाद मंगाने पर आयात शुल्क में मिली छूट को खत्म किया जाएगा। इससे घरेलू कंपनियों को काफी बल मिलेगा, क्योंकि अभी भारतीय कंपनियां अपने विदेशी समकक्ष के आगे कहीं भी नहीं ठहरती हैं। ऐसे में वो अपने उत्पाद रक्षा मंत्रालय या फिर सेनाओं को नहीं बेच पाते हैं। इन कंपनियों को विदेश से कच्चा माल आयात करने पर, कंपोनेंट और पार्ट्स पर भी शुल्क में माफी की उम्मीद है। 
... और पढ़ें

जोक्स: लड़के ने कह दी ऐसी बात, लड़की के पिता ने की जोरदार धुनाई

जिस तरह अच्छी हवा, अच्छा खानपान किसी भी इंसान के सेहतमंद रहने के लिए जरूरी होता है, उसी प्रकार आपकी हंसी भी आपको स्वस्थ रखने में अहम भूमिका निभाती है। अगर आप सुबह-शाम हंसने की आदत डाल लें तो कोई भी बीमारी, चाहे मानसिक हो या शारीरिक आपके पास भी नहीं आएगी। इसीलिए हम आपके लिए कुछ ऐसे मजेदार चुटकुले लेकर आए हैं, जिन्हें पढ़ने के बाद आप हंसते-हंसते लोटपोट हो जाएंगे। तो चलिए शुरू करते हैं हंसने-हंसाने का ये सिलसिला... 

-----------------------------------------  

एक बाबा ज्ञान दे रहे थे...

अगर आपकी पत्नी बेहद शांत स्वभाव की है...
.
तो...
.
यह चिंता का विषय है...
.
क्योंकि...
.
उच्च क्वालिटी की रिवॉल्वर में ही 
साइलेंसर लगा होता है...!!!
... और पढ़ें

Jio का मिनट हो गया है खत्म तो कराएं ये 6 रिचार्ज, शुरुआती कीमत 10 रुपये

Jokes

Bank Strike 2020: लगातार तीन दिनों तक बंद रहेंगे सभी बैंक, तुरंत निपटा लें सारा कामकाज

अगर आप बैंक के कामकाज निपटाने के बारे में सोच रहे हैं तो अलर्ट हो जाइए। ऐसा इसलिए क्योंकि लगातार तीन दिनों तक देश में बैंक बंद रहने वाले हैं। आगामी 31 जनवरी से बैंक यूनियनों ने दो दिन की हड़ताल की घोषणा की है। यानी 31 जनवरी और एक फरवरी 2020 को हड़ताल के चलते बैंक बंद रहेंगे। वहीं दो फरवरी को रविवार है, इसलिए उस दिन भी आप बैंक का कोई कामकाज नहीं कर पाएंगे। 

इतना ही नहीं, यूनियन ने मार्च के महीने में तीन दिन और एक अप्रैल से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का एलान किया है। 

इतने दिन रह सकती है हड़ताल

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन (यूएफबीयू) ने कहा है कि 31 जनवरी और एक फरवरी को बैंकों में हड़ताल रहेगी। वहीं मार्च में 11,12,13 तारीख को भी हड़ताल रहेगी। बैंक यूनियन ने एक अप्रैल से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की भी घोषणा की है। 

इस वजह से होगी हड़ताल

दिल्ली प्रदेश बैंक कर्मचारी संगठन के महासचिव अश्वनी राणा ने बताया कि इंडियन बैंक एसोसिएशन ने वेतन में 12.5 फीसदी वृद्धि करने का प्रस्ताव दिया है, जो कि मंजूर नहीं है। इसलिए देश भर के सभी सरकारी बैंकों में कार्यरत कर्मचारी हड़ताल रहेंगे। इससे बैंकिंग सेवाओं पर असर पड़ सकता है। 

बैंक यूनियन की यह है मांग

  • बैंक यूनियनों की मांग है कि वेतन में कम से कम 20 फीसदी की वृद्धि की जाए। 
  • बैंकों में पांच दिन का कार्यदिवस हो। 
  • बेसिक पे में स्पेशल भत्ते का विलय हो। 
  • एनपीएस को खत्म किया जाए। 
  • पेंशन का अपडेशन हो। 
  • परिवार को मिलने वाली पेंशन में सुधार।
  • स्टाफ वेलफेयर फंड का परिचालन लाभ के आधार पर बांटना। 
  • रिटायर होने पर मिलने वाले लाभ को आयकर से बाहर करना। 
  • शाखाओं में कार्यों के घंटे और लंच समय का सही से बटवारा।
  • अधिकारियों के लिए बैंक में कार्य के घंटे का नियमतिकरण।
  • कांट्रैक्ट और बिजनेस कॉरेस्पॉन्डेंट के लिए समान वेतन।
... और पढ़ें

पानी में डूबती दिखीं प्रीति जिंटा, कुत्ते ने ऐसे बचाई जान, अभिनेत्री ने ट्विटर पर बताई दास्तां

सुहागरात को ही पति ने दे दिया तलाक, पढ़िए मजेदार जोक्स

जिस तरह अच्छी हवा, अच्छा खानपान किसी भी इंसान के सेहतमंद रहने के लिए जरूरी होता है, उसी प्रकार आपकी हंसी भी आपको स्वस्थ रखने में अहम भूमिका निभाती है। अगर आप सुबह-शाम हंसने की आदत डाल लें तो कोई भी बीमारी, चाहे मानसिक हो या शारीरिक आपके पास भी नहीं आएगी। इसीलिए हम आपके लिए कुछ ऐसे मजेदार चुटकुले लेकर आए हैं, जिन्हें पढ़ने के बाद आप हंसते-हंसते लोटपोट हो जाएंगे। तो चलिए शुरू करते हैं हंसने-हंसाने का ये सिलसिला... 

-----------------------------------------   

मैंने दरवाजा खोला तो...

उसकी आंखों में आंसू, चेहरे पर हंसी थी...

और दिल में बेबसी थी...

पगली ने पहले नहीं बताया कि 
दरवाजे में उसकी ऊंगली फंसी थी...!!!
... और पढ़ें

व्हाट्सएप पर बुक कर मंगाई कॉलगर्ल निकली पत्नी, दोनों का आमना-सामना हुआ तो फिर...

अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन