श्रुति सेठ का खुला पत्र-प्रधानमंत्री जी, सेल्फी से बदलाव नहीं आता

टीम डिजिटल/अमर उजाला, दिल्ली Updated Sat, 04 Jul 2015 01:11 PM IST
विज्ञापन
open letter to primeminister from shruti seth

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
मैं ये पूरे राष्ट्र के नाम लिख रही हूं क्योंकि किसी एक व्यक्ति को सवा अरब लोगों की सोच बदलने के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता बदलाव तभी आ सकता है जब व्यक्तिगत स्तर पर जागरुकता आए।
विज्ञापन


28 जून की सुबह मैंने #SelfiWithDaughter अभियान, जिसे प्रधानमंत्री का आशीर्वाद प्राप्त हुआ था, पर अपनी राय जाहिर करने की गलती की थी।

ज्यादातर लोगों को ये मुहिम और कन्या भ्रूण हत्या के खिलाफ जागरुकता का अच्छा तरीका लगा लेकिन मुझे ये विचार नहीं भाया। ये ध्यान रखें कि मेरी अपनी 11 महीने की बेटी है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

'मेरे खिलाफ नफरत भरे ट्वीट की सूनामी आ गई'

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X