पांचों राज्यों के चुनावी नतीजे बदल देंगे संसद के शीतकालीन सत्र का मिजाज

शशिधर पाठक, नई दिल्ली Updated Fri, 07 Dec 2018 09:55 PM IST
विज्ञापन
Result of assembly elections in five state will change the scenario of winter session of Parliament

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
एग्जिट पोल के नतीजे ने कांग्रेस में उम्मीद के साथ उत्साह को भर दिया है। वहीं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने अपनी प्रेस वार्ता में पांच राज्यों के चुनाव पर कोई बात नहीं की। शहनवाज हुसैन, सांबित पात्रा समेत अन्य नेताओं को राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मप्र में 11 दिसंबर को मतगणना के बाद पक्ष में नतीजे आने का पूरा भरोसा है। 
विज्ञापन

एक्जिट पोल के नतीजों ने पांच राज्यों में कांग्रेस और भाजपा के पक्ष में मिला जुला नतीजा दिया है। माना जा रहा है कि 11 दिसंबर को दोपहर दो बजे तक पांच राज्यों के चुनाव नतीजे की तस्वीर साफ हो जाएगी और इसका नतीजा चाहे जो भी आए, लेकिन इसका असर संसद के शीतकालीन सत्र पर पड़ना तय है।
केंद्र सरकार के अधिकारी भी संसद के शीतकालीन सत्र को लेकर काफी संवेदनशील है। कानून मंत्रालय के कानूनी मामलों के सचिव आलोक श्रीवास्तव भी संसद के शीतकालीन सत्र को लेकर तैयारी कर रहे हैं। मंत्रालय के सूत्र बताते हैं कि इसके बाबत श्रीवास्तव काफी समय दे रहे हैं और अधिकारियों से चर्चा भी कर रहे हैं।
गृहमंत्रालय के एक अधिकारी का कहना है कि यह वर्तमान सरकार का आखिरी सत्र है। इसके बाद सरकार चुनाव की तैयारियों में चली जाएगी। इसलिए पांच राज्यों के चुनाव नतीजे काफी अहम हैं। सूत्र का मानना है कि इस सत्र के दौरान प्रमुख राजनीतिक दल संसद को सुचारु रूप से चलाने की जिम्मेदारी के साथ-साथ राजनीतिक मुद्दों पर ज्यादा ध्यान देंगे।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

कृषि और किसान

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us