श्रीरामचरित मानस: चोरी हुई एक, मिलीं 1600 दुर्लभ पांडुलिपियां

Ruchir Shuklaरु‌चिर शुक्ला Updated Tue, 22 Dec 2015 08:06 AM IST
विज्ञापन
stolen one but received 1600 rare manuscripts.

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
चार साल पहले तुलसीघाट स्थित प्राचीन तुलसी मंदिर से आज ही के दिन श्रीरामचरित मानस की तुलसीकृत पांडुलिपि चोरी हुई थी।
विज्ञापन

करीब चार सौ साल पुरानी इस दुर्लभ पांडुलिपि को पुलिस ने सात महीने बाद बरामद कर इस प्रकरण का पटाक्षेप कर दिया लेकिन इससे दुर्लभ पांडुलिपियों के संग्रह की एक नई शुरुआत हुई। जो आज पांडुलिपियों के बड़े खजाने के रूप में तब्दील हो चुकी है।
चार सालों में देश भर से 1600 पांडुलिपियां संग्रहीत की जा चुकी हैं। इन्हें तुलसी मंदिर में कड़ी सुरक्षा निगरानी में रखा गया है। इन्हें रखने के लिए पासवर्ड से खुलने वाली विशेष तरह की बुलेटप्रूफ आलमारी बनवाई गई है। चौबीसों घंटे निगरानी के लिए दस सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। ये सभी पांडुलिपियां जल्द ऑनलाइन की जाएंगी।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

बुलेटप्रूफ आलमारी में रखी गई हैं दुर्लभ पांडुलिपियां

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X