बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

मंकीगेट विवादः हरभजन-साइमंड्स की भिड़ंत, बकनर के गलत निर्णय, पोंटिंग ने 12 साल बाद बताया खराब

Rohit Ojha Rohit Ojha
Updated Wed, 18 Mar 2020 01:41 PM IST
विज्ञापन
हरभजन-साइमंड्स
हरभजन-साइमंड्स - फोटो : सोशल मीडिया

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
ऑस्ट्रेलिया के सफलतम कप्तानों में से एक रहे रिकी पोंटिंग ने अपनी कप्तानी के दौरान का सबसे खराब पल का खुलासा किया है। पोंटिंग ने माना है कि मंकीगेट उनकी कप्तानी कार्यकाल का सबसे खराब समय रहा। मंकीगेट ने ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट की जमकर किरकिरी कराई थी। ये वो प्रकरण था जब हरभजन सिंह एंड्रयू साइमंड्स से भिड़ गए थे। इस विवाद के बाद साइमंड्स ने आरोप लगाया था कि हरभजन ने उन्हें बंदर कहा था। यह मामला इतना बढ़ा कि टीम इंडिया दौरे के बहिष्कार के बारे में सोचने लगी थी।
विज्ञापन


सचिन तेंदुलकर ने अपनी आत्मकथा 'प्लेइंग इट माय वे'  में इसका जिक्र किया है। उन्होंने लिखा कि इस प्रकरण को बेवजह तूल दिया गया। यदि तत्कालीन ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग और मैच रैफरी माइक प्रॉक्टर चाहते तो यह मामला इतना बढ़-चढ़कर सामने नहीं आता। बात जनवरी 2008 की है। ऑस्ट्रेलिया में सुबह नौ-से दस के बजे के बीच खेल शुरू होता है, लेकिन भारत के समयानुसार सुबह के चार बजे के लगभग।


सीरीज का दूसरा टेस्ट था, पहला टेस्ट मेलबर्न में खेला गया था, जिसे भारतीय टीम गंवा चुकी थी। सचिन, द्रविड़, वीवीएस जैसे सुरमाओं से सजी भारतीय टीम दूसरे टेस्ट में वापसी करने के लिए बेकरार थी। खेल शुरू हुआ, ऑस्ट्रेलियाई टीम ने टॉस जीता, बल्लेबाजी चुनी और पहली पारी में 463 रन बनाए। जवाब में भारतीय टीम ने पहली पारी में 532 रन बना दिए। वीवीएस और सचिन ने शतक जड़ा। आठवें विकेट के लिए सचिन और हरभजन के बीच 129 रन की साझेदारी हुई। भज्जी ने अर्धशतक बनाया और इसी पार्टनरशिप के दौरान शुरू हुई मंकी गेट प्रकरण की कहानी।

तेंदुलकर ने अपनी किताब में लिखा है, भज्जी जब 50 रन बना चुके थे तब इस मामले की शुरुआत हुई। भज्जी मुझे कई बार कह चुके थे कि एंड्रयू साइमंड्स उन्हें उत्तेजित करने की कोशिश कर रहे हैं। मैंने उन्हें कहा था कि इन बातों पर ध्यान नहीं देकर बल्लेबाजी पर फोकस करें। सचिन के समझाने के बाद हरभजन एक फिर से अपने काम में लग गए। जाहिर है ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी क्रिकेट के साथ स्लेजिंग में भी तब अव्वल ही माने जाते थे और दबाव में संयम बनाए रखना कहां आसान होता है। वो भी हरभजन जैसे गरम खून वाले खिलाड़ी से। 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें क्रिकेट समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। क्रिकेट जगत की अन्य खबरें जैसे क्रिकेट मैच लाइव स्कोरकार्ड, टीम और प्लेयर्स की आईसीसी रैंकिंग आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us