विज्ञापन
विज्ञापन
कब तक मिलेगी सरकारी नौकरी, जानें अपनी जन्म कुंडली से
Kundali

कब तक मिलेगी सरकारी नौकरी, जानें अपनी जन्म कुंडली से

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

लुधियाना की नाम्या जोशी को मिलेगा प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार, सत्या नडेला भी कर चुके हैं तारीफ

लुधियाना के सतपाल मित्तल स्कूल की आठवीं कक्षा की छात्रा नाम्या जोशी को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार 2021 के लिए चुना गया है। यह अवार्ड उन्हें इनोवेशन कैटेगरी में दिया गया है। सोमवार को नाम्या जोशी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात भी की। इस मौके पर डीसी वरिंदर शर्मा, पिता कुनाल जोशी और मां मोनिका जोशी भी मौजूद थीं। बता दें कि माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला भी गुरुग्राम में आयोजित एक समारोह में नाम्या की तारीफ कर चुके हैं। 

नाम्या ने बताया कि वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से उनकी बात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से नहीं हो पाई लेकिन उन्हें लाइव देखकर वह बेहद खुश हैं। जब पुरस्कार देने के लिए बुलाया जाएगा तो मैं प्रधानमंत्री से यह पूछूंगी कि उनकी प्रेरणा का स्त्रोत कौन है। नाम्या ने बताया कि उनकी मां मोनिका जोशी ने उन्हें प्रेरित किया।

उनकी माता स्कूल में आईटी हेड हैं। पिता कुणाल जोशी भी आईटी कारोबारी हैं। आईटी के संबंध में उसे सब जानकारियां घर से मिलती रही हैं। जब वह पांचवीं कक्षा में थी तो उसने देखा कि कई छात्र किताबों से पढ़ाई करने में दिलचस्पी नहीं लेते हैं। तभी उसके मन में यह विचार आया कि क्यों ना कुछ ऐसे गेम या विजुअल तैयार किए जाएं जिससे सभी छात्र पढ़ाई कर सकें। 

सबसे पहले पांचवीं कक्षा में उसने इतिहास के एक चैप्टर का माइनक्राफ्ट पर गेम तैयार किया था। अब तक वह सौ से ज्यादा माइनक्राफ्ट पर गेम तैयार कर चुकी हैं। इसके साथ ही अब तक एक हजार छात्र व अध्यापकों को इस संबंध में ट्रेनिंग दे चुकी हैं। यही नहीं यूट्यूब पर लगभग 150 लाइव प्रोग्राम भी कर चुकी हैं। सतपाल मित्तल स्कूल काउसिंल चेयरमैन राकेश भारती मित्तल ने नाम्या जोशी को बधाई दी। 
 
... और पढ़ें
लुधियाना की नाम्या जोशी को मिलेगा प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार। लुधियाना की नाम्या जोशी को मिलेगा प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार।

ट्रैक्टर परेड : रसद और जरूरी सामान संग हजारों किसान शंभू बॉर्डर से दिल्ली रवाना

कृषि कानूनों के विरोध में ट्रैक्टर परेड में शामिल होने सोमवार को शंभू बॉर्डर से हजारों किसान झंडों से सजे वाहन संग दिल्ली रवाना हुए। नाभा के गांव बागड़िया के किसान जगदीप सिंह, लुधियाना के गांव मोही के गुरप्रीत सिंह, खन्ना के बलजीत सिंह ने कहा कि हर गांव से 10 से 25 ट्रैक्टर-ट्राली दिल्ली जा रही हैं। इसमें बड़ी संख्या में महिलाएं, बच्चे, बुजुर्ग और युवा शामिल हैं। 

किसानों ने कहा कि वह अपने साथ खाने-पीने का सामान, रहने-सोने के लिए कंबल व चादरें, गैस सिलिंडर, दवाएं और अन्य सामान साथ लेकर चल रहे हैं। जहां पर भी उन्हें रोका जाएगा, वहीं पर ही वह डेरा डाल देंगे। इसके अलावा बड़ी संख्या में युवा बाइकों पर झंडे बांधकर दिल्ली जा रहे हैं। 

शंभू बॉर्डर से पहले लगाया लंगर
एसजीपीसी की तरफ से गांव मदनपुर चलहेड़ी मेन रोड पर लंगर का आयोजन किया गया। लंगर प्रमुख दलजीत सिंह फतेहगढ़ साहिब ने बताया कि 25 दिन से लंगर लगाया गया है, जो 24 घंटे चलता रहता है। तीन दिनों से करीब 10 हजार संगत रोजाना लंगर ग्रहण कर रही है। दूर दराज से आने वाले किसानों के लिए रहने और आराम करने का प्रबंध भी किया गया है। 

पंजाब-हरियाणा सीमा पर सुरक्षा के कड़े प्रबंध
दिल्ली की तरफ पंजाब भर से हजारों की संख्या में जा रहे ट्रैक्टर व अन्य वाहनों को देखते हुए पंजाब-हरियाणा सीमा पर पुलिस ने चौकसी बढ़ा दी है। परेड में जा रहे लोगों से शांति और संयम बरतने की अपील की जा रही है। दिल्ली की तरफ जा रहे किसी भी वाहन चालक को बेवजह नहीं रोका जा रहा है। 
... और पढ़ें

शताब्दी स्मारक कार्यक्रम में नहीं पहुंचे नवजोत सिंह सिद्धू, ट्वीट कर केंद्र सरकार को घेरा

शताब्दी स्मारक कार्यक्रम का न्योता मिलने के बाद भी पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू सोमवार को कार्यक्रम में नहीं पहुंचे। हालांकि कार्यक्रम में अमृतसर शहर के सभी विधायक जिसमें डॉ. राजकुमार, सुनील दत्ती व इंदरबीर सिंह बुलारिया शामिल रहे। इससे जाहिर है कि उनकी मुख्यमंत्री के साथ दूरिया बरकरार हैं।

सिद्धू कई दिन से पटियाला स्थित अपने पैतृक घर में ठहरे हैं और वहीं से किसान आंदोलन के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कटघरे में खड़ा कर रहे हैं। सिद्धू ने सोमवार को ट्वीट किया कि किसान अपने दायरे को छोड़कर अब देश में सड़कों पर आ रहे राजनीतिक बदलाव का इंजन बन गया है।

‘सम्मान नहीं, बुजुर्गों की शहादत को मिले मान्यता’  
जलियांवाला बाग में शहीद हुए तारा चंद कपूर के पोते बिमल कपूर को इस बात का रंज है कि 102 बीत जाने के बाद भी उनके दादा को शहीद का दर्जा नहीं मिला है। पंजाब सरकार ने उन्हें सम्मानित करने के लिए बुलाया था लेकिन उनके परिवार को सम्मान नहीं उनके दादा की शहादत को मान्यता मिलने की दरकार है। 

एक अन्य शहीद अमी चंद के पड़पोते रजिंदर शर्मा ने कहा कि सरकार शहीदों के परिवारों को सरकारी नौकरी दे। गुरदासपुर से पहुंचे सतवंत सिंह ने कहा कि उनके दादा शहीद हुए थे। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शहीदों की याद में गावों में स्मारक स्थापित करने की घोषणा की है। यह अच्छा कदम है। इस घोषणा को जल्द अमलीजामा पहनाना होगा। 
... और पढ़ें

सिंघु बॉर्डर पहुंचे कांग्रेस सांसद रवनीत बिट्टू का कड़ा विरोध, वापस लौटना पड़ा, बोले- किसानों के साथ हैं और रहेंगे

सिंघु बार्डर पर रविवार दोपहर लगभग तीन बजे पहुंचे लुधियाना से कांग्रेस सांसद रवनीत बिट्टू को कड़ा विरोध का सामना करना पड़ा। आरोप है कि  भीड़ में शामिल लोगों ने उनसे धक्कामुक्की की। बताया जा रहा है कि इस दौरान सांसद बिट्टू के साथ सुरक्षाकर्मी नहीं थे। उनके साथ सिर्फ सांसद गुरजीत सिंह औजला और विधायक कुलवीर जीरा समेत कुछ समर्थक मौजूद रहे।

ये सभी किसी तरह सुरक्षा घेरा बनाकर उन्हें वहां से लेकर निकले। इस दौरान वहां मौजूद लोगों ने बिट्टू के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इसके बाद वह दोबारा दिल्ली पहुंचकर जंतर-मंतर पर धरने में शामिल हो गए। 
 
सांसद बिट्टू के अनुसार रविवार को सिंघु बार्डर के पास गुरु तेग बहादुर मेमोरियल के जन संसद समारोह में शिरकत करने का उन्हें निमंत्रण मिला था। पार्टी की तरफ से उन्हें जिम्मेदारी दी गई थी कि वह कृषि कानूनों के खिलाफ वहां पर अपना पक्ष रखें। लगभग तीन बजे जैसे ही वह अपनी कार से उतरकर समारोह स्थल की तरफ जाने लगे तो उनका विरोध शुरू हो गया। 
... और पढ़ें

चंडीगढ़ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष बीबी बहल का निधन, अमेरिका में ली आखिरी सांस

रवनीत सिंह बिट्टू।

राम दान : अमृतसर की श्री दुर्ग्याणा तीर्थ कमेटी ने राम मंदिर के लिए दिया एक करोड़ का दान

पंजाब के अमृतसर की श्री दुर्ग्याणा तीर्थ प्रबंधक कमेटी ने अयोध्या में बन रहे श्री राम मंदिर के लिए एक करोड़ एक हजार एक सौ रुपये की राशि दान की है। श्री राम मंदिर तीर्थ क्षेत्र निधि संग्रह समिति के सदस्यों को इस राशि का चेक सौंपा गया। 

श्री दुर्ग्याणा तीर्थ प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष रमेश शर्मा और महामंत्री अरुण खन्ना ने पंजाब के मंत्री ओम प्रकाश सोनी और पूर्व मंत्री लक्ष्मी कांता चावला की मौजूदगी में समिति के सदस्य रामेश्वर दास, कंवल कपूर, प्रवीन और प्रदीप को भेंट किया।


इस अवसर पर कैबिनट मंत्री ओम प्रकाश सोनी ने सभी धर्म प्रेमियों से आह्वान किया कि वे अपने-अपने सामर्थ्य के अनुसार भगवान श्री राम के अयोध्या में बन रहे भव्य मंदिर के लिए दान दें। उन्होंने कहा कि 15 जनवरी से श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र निधि संग्रह अभियान शुरू कर दिया गया है।

धन एकत्र करने का यह अभियान 27 फरवरी तक पूरे देश भर में चलेगा, जिसके तहत श्री राम मंदिर तीर्थ क्षेत्र निधि संग्रह समिति के सदस्य हर घर व हर वर्ग के लोगों से संम्पर्क कर उनसे मंदिर निर्माण के लिए यथा-सम्भव दान राशि एकत्रित करे रहे हैं।

इस अवसर पर विधायक डॉ. राज कुमार वेरका ने भी कमेटी सदस्यों को राममंदिर के लिए चेक सौंपा। हालांकि उन्होंने चेक की राशि बताने से इंकार कर दिया। इस दौरान पूर्व मंत्री डॉ. बलदेव राज चावला, डॉ. राम चावला, राज वधवा, रमेश शर्मा, डॉ. राकेश कुमार, प्यारे लाल सेठ, सुदर्शन वधवा, संजीव खन्ना, विजय खन्ना, हर्ष खन्ना, राज वधवा, हरीश तनेजा, यशपाल शौरी, डॉ. मित्रपाल, विधु पुरी, विहिप के संगठन मंत्री महिदर पाल, कंवल कपूर, प्रदीप सिंह, अशोक कपूर, गुलशन कोहली, सुधीर श्रीधर व कमेटी के सदस्य मौजूद थे। 
... और पढ़ें

पठानकोट : आरपीएफ और जीआरपी ने कैंट रेलवे स्टेशन पर चलाया चेकिंग अभियान

निर्माण मजदूरों की बेटियों की शगुन राशि में 20 हजार का इजाफा, अब दिए जाएंगे 51 हजार रुपये

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने प्रदेश में निर्माण मजदूरों की बेटियों के विवाह के अवसर पर दी जाने वाली शगुन की राशि पहली अप्रैल 2021 से 31000 रुपये से बढ़ाकर 51000 रुपये करने का एलान किया है। साथ ही कोविड टेस्ट पॉजिटिव पाए जाने वाले निर्माण कामगार या उनके पारिवारिक सदस्यों को 1500 रुपये की वित्तीय सहायता देने की भी मंजूरी दी गई है।

यह फैसला मुख्यमंत्री की अध्यक्षता मेें भवन एवं अन्य निर्माण कामगारों (बीओसीडब्ल्यू) कल्याण बोर्ड की शुक्रवार शाम को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये हुई मीटिंग में लिया गया। इसके साथ ही, शगुन स्कीम का लाभ लेने की प्रक्रिया को आसान बनाते हुए मुख्यमंत्री ने मौजूदा शर्त में किसी भी धार्मिक संस्था गुरुद्वारा, मंदिर और चर्च की तरफ से जारी किए गए विवाह सर्टिफिकेट को स्वीकार करने की मंजूरी दे दी।
 
इस स्कीम के तहत 50 प्रतिशत राशि एडवांस में हासिल की जा सकेगी, जबकि शेष राशि नए नियमों के तहत संबंधित अथॉरिटी की तरफ से जारी विवाह सर्टिफिकेट जमा करवाने के बाद जारी की जाएगी। भवन एवं अन्य निर्माण कामगार कल्याण बोर्ड के साथ रजिस्टर्ड बेटियां इस स्कीम के लिए पात्र होंगी।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X