विज्ञापन
विज्ञापन
मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020
Astrology Services

मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

चंडीगढ़: मनीमाजरा में मिलीं मां और बेटा-बेटी की गला कटी लाशें, इलाके में फैली सनसनी

मनीमाजरा में महिला और बेटा-बेटी की निर्मम हत्या, तीनों का गला काटा, इलाके में सनसनी

23 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

पटियाला

गुरूवार, 23 जनवरी 2020

पांच आईएएस अधिकारियों का तबादला, तरनतारन, पट्टी के एसडीएम समेत आठ पीसीएस भी बदले

पंजाब सरकार ने शनिवार को तत्काल प्रभाव से पांच आईएएस और आठ पीसीएस अधिकारियों के तबादला व नियुक्ति आदेश जारी किए हैं। इस आदेश के अनुसार, आईएएस अधिकारियों में- प्रिंटिंग एंड स्टेशनरी सचिव वीरेंद्र कुमार मीणा जो फ्रीडम फाइटर्स विभाग के सचिव का अतिरिक्त कार्यभार भी संभाल रहे हैं, उनको मौजूदा दोनों जिम्मेदारियों के साथ ही पंजाब राज्य मानवाधिकार आयोग के सचिव का अतिरिक्त कार्यभार सौंपा गया है। 

इसी तरह पंजाब ब्यूरो आफ इनवेस्टमेंट प्रमोशन के चीफ कार्यकारी अधिकारी रजत अग्रवाल जो पंजाब इनफोटेक के प्रबंध निदेशक का अतिरिक्त जिम्मा भी संभाल रहे हैं, उनको मौजूदा दोनों जिम्मेदारियों के साथ पनकॉम के प्रबंध निदेशक पद का अतिरिक्त कार्यभार सौंपा गया है। ट्रांसपोर्ट विभाग के स्पेशल सेक्रेटरी गुरिंदर पाल सिंह सहोता को बदलकर एडिशनल स्टेट ट्रांसपोर्ट कमिश्नर-कम-हेड लीड एजेंसी रोड सेफ्टी लगाया गया है। 

तकनीकी शिक्षा व औद्योगिक प्रशिक्षण के निदेशक विमल कुमार सेतिया को उनके मौजूदा कार्यभार के साथ स्पेशल सेक्रेटरी तकनीकी शिक्षा व औद्योगिक प्रशिक्षण का अतिरिक्त जिम्मा दिया गया है। इन्वेस्ट पंजाब के एडिशनल सीईओ विनीत कुमार जो पंजाब स्माल स्केल इंडस्ट्रीज एंड एक्सपोर्ट कारपोरेशन के एडिशनल मैनेजिंग डायरेक्टर का अतिरिक्त कार्यभार संभाल रहे थे, को बदलकर एडिशनल सेक्रेटरी पर्सोनल नियुक्त करते हुए मैनेजिंग डायरेक्टर पंजाब स्टेट इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कारपोरेशन का अतिरिक्त कार्यभार सौंपा गया है।

पीसीएस अधिकारियों में, अर्बन लोकल बाडी लुधियाना के डिप्टी डायरेक्टर अमित बाम्बी को उनके मौजूदा कार्यभार के साथ इंप्रूवमेंट ट्रस्ट लुधियाना में लैंड एक्यूजीशन कलेक्टर का अतिरिक्त जिम्मा सौंपा गया है। पट्टी के एसडीएम अमित को एसडीएम होशियारपुर लगाया गया, जबकि तरनतारन के एसडीएम सुररिंदर सिंह को बदलकर एडिशनल डिप्टी कमिश्नर (जनरल) तरनतारन नियुक्त किया गया है। 

इनके अलावा नियुक्ति के लिए उपलब्ध पीसीएस अधिकारी नरिंदर सिंह धालीवाल को एसडीएम पट्टी नियुक्त किया गया है। असिस्टेंट कमिश्नर (ग्रीवांसेज) अमृतसर अलका कालिया को उनके मौजूदा कार्यभार के साथ कार्यकारी मजिस्ट्रेट अमृतसर का जिम्मा भी सौंपा गया है। 

नवांशहर में असिस्टेंट कमिश्नर (जनरल) रजनेश अरोड़ा को एसडीएम तरनतारन लगाया गया है, जबकि गुरुहरसहाय के एसडीएम कुलदीप बावा को एसडीएम डेरा बस्सी नियुक्त किया गया है। पीडब्ल्यूडी बीएंडआर पटियाला में डिप्टी डायरेक्टर (प्रशासन) करमजीत सिंह को उनके मौजूदा कार्यभार के साथ डिप्टी डायरेक्टर (प्रशासन) वाटर सप्लाई एंड सेनिटेशन (मुख्यालय) पटियाला का अतिरिक्त जिम्मा दिया गया है।
... और पढ़ें

मांगों को लेकर डटे रहे बेरोजगार सेहत वर्कर

मांगों को लेकर बारादरी बाग के सामने चल रहा बेरोजगार मल्टीपपर्स हेल्थ वर्करों का धरना 14वें दिन भी जारी रहा। वर्करों ने कैप्टन सरकार खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस मौके पर सरकारी अस्पतालों में खाली पड़े मल्टीपपर्स हेल्थ वर्करों के पद रेगुलर आधार पर भरने समेत और कई मांगें उठाई गईं। यूनियन नेता तरलोचन नागरा ने कहा कि सेहत मंत्री बलवीर सिंह सिद्धू साथ 10 दिसंबर को चंडीगढ़ में हुई मीटिंग में जल्द खाली पदों का विज्ञापन जारी करने का भरोसा दिया गया था। इसके बाद भी कुछ नहीं हुआ। सरकारी टाल मटोल से तंग आए बेरोजगारों ने बारादरी बाग के सामने दोबारा पक्का मोरचा लगा दिया है। मांगें पूरी होने के बाद ही धरना खत्म किया जाएगा। ... और पढ़ें

सैलरी न मिलने से गुस्साए पीयू मुलाजिमों ने धरना दिया

सैलरी न मिलने से गुस्साए पंजाबी यूनिवर्सिटी के नान टीचिंग कर्मचारियों ने शुक्रवार को रजिस्ट्रार दफ्तर के सामने धरना दिया और नारेबाजी की।
इस मौके पर नॉन टीचिंग संघ की चुनी कार्यकारिणी के प्रधान पुष्पिंदर सिंह बराड़ ने कहा कि यूनिवर्सिटी प्रशासन की ओर से नॉन टीचिंग कर्मचारियों के साथ अन्याय किया जा रहा है। पिछले महीने यूनिवर्सिटी प्रशासन ने नॉन टीचिंग मुलाजिमों से वादा किया था कि मुलाजिमों की सैलरी महीने के पहले चार दिनों में दे दी जाएगी लेकिन इस महीने लोहड़ी का त्योहार होने के बावजूद मुलाजिमों की सैलरी नहीं दी गईं। यूनिवर्सिटी प्रशासन को चाहिए कि सारे मुलाजिमों चाहे रेगुलर हो या फिर एडहाक, वर्कचार्ज और डेलीवेज हों, सभी की सैलरी किए वादे मुताबिक समय पर दी जाए। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर मुलाजिमों को जल्द सैलरी न मिलीं, तो आंदोलन तेज किया जाएगा। मुलाजिमों में बढ़ते रोष को देखकर बाद दोपहर तीन बजे तक रेगुलर मुलाजिमों की सैलरियां खातों में डाल दी गई थीं, लेकिन एडहॉक, वर्कचार्ज और डेलीवेज मुलाजिमों को सैलरी नहीं मिली थीं। जिस कारण मुलाजिमों का धरना जारी था।
... और पढ़ें

दिल्ली में क्यों टूटा शिअद-भाजपा गठबंधन, असली 'जड़' वो शर्त, जो एक ने रखी दूजे ने नकारी

दिल्ली में अकाली दल और भाजपा गठबंधन क्यों टूट गया, इसकी असली वजह सामने आ गई है, जो एक शर्त थी जिसे एक ने रखा और दूजे ने नकारा। अकाली दल बेशक नागरिकता संशोधन बिल का हवाला देकर भारतीय जनता पार्टी के साथ मिलकर दिल्ली में चुनाव न लड़ने का दावा कर रहा हो, लेकिन अंदर की बात कुछ और ही है।

भारतीय जनता पार्टी ने दिल्ली में अकाली दल को इस शर्त पर चार सीट देने का ऑफर किया था कि वह तकड़ी नहीं, बल्कि कमल के चुनाव चिन्ह पर लड़ेंगे। तीन बार हुई मीटिंग में भी जब भाजपा ने अकाली दल की एक नहीं सुनी तो शिअद प्रधान सुखबीर बादल ने साफ कर दिया कि उनके उम्मीदवार तकड़ी चुनाव चिन्ह पर ही चुनाव लड़ेंगे, वरना पार्टी खत्म हो जाएगी।

भाजपा के न मानने पर अकाली दल व भाजपा का रिश्ता दिल्ली में टूट गया।
... और पढ़ें
शिअद-भाजपा गठबंधन शिअद-भाजपा गठबंधन

दिल्ली में शिअद-भाजपा में दरार से सुखबीर बादल का सपना 'मिशन 2022' खतरे में, टूट सकता है

दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी के साथ समझौता टूटना शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर बादल के 'मिशन 2022' के सपने पर एक बड़ा राजनीतिक प्रहार है।

सांसद सुखदेव सिंह ढींढसा व उनके बेटे विधायक परमिंदर सिंह ढींढसा के शिअद (बादल) की राजनीतिक बस से उतरने के बाद प्रदेश की सिख सियासत में आए नए सियासी भूचाल के थपेड़ों को सुखबीर बादल अभी झेल ही रहे थे कि दिल्ली चुनाव में भाजपा ने उनके साथ कोई भी समझौता न करने के स्पष्ट संकेत दे दिए।

ऐसे में इसका प्रभाव 2022 चुनाव पर पड़ सकता है। भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने दिल्ली विधानसभा चुनाव में अकाली दल के साथ समझौता न करने का फैसला पंजाब में सिख राजनीति के बदल रहे समीकरणों का अध्ययन करने के बाद ही लिया है।
... और पढ़ें

पीयू ने नेशनल युवक मेले में सिल्वर मेडल जीता

पंजाबी यूनिवर्सिटी के 9 स्टूडेंट्स ने भारत सरकार की ओर लखनऊ में आयोजित 23वें ओपन नेशनल युवक मेले में सिल्वर मेडल अपने नाम किया। इसमें 25 से ज्यादा राज्यों ने भाग लिया था, जिसमें यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स हरप्रीत कौर, जसमीत कौर, अमानत चावरिया, सोहेल गोरिया, अमनदीप सिंह, आदिल खान, धर्मप्रीत सिंह, अनमोल सिंह ने ग्रुप लोकगीत, क्लासिकल डांस में अर्शदीप कौर ने सिल्वर मेडल जीता। इस आयोजन में पीयू स्टूडेंट्स ने ग्रुप लोकगीत, क्लासिकल डांस कत्थक, हारमोनियम और तबला वादन में अपने हुनर का जादू बिखेरा था। वीसी डा. बीएस घुम्मन ने कहा कि नेशनल फेस्टिवल में पंजाब के ग्रुप लोकगीत का जीतना दर्शाता है पंजाबी सभ्याचार हर इंसान को बांध लेता है। पूरी दुनिया में पंजाबी गीत संगीत और सभ्याचार का ही बोलबाला है। ... और पढ़ें

आरएसएस का पंजाब भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अश्वनी शर्मा को खास मशविरा- सबको साथ लेकर चलो

अश्वनी शर्मा को दोबारा पंजाब भाजपा प्रदेश प्रधान बनाने में आरएसएस के तीन महारथियों का आशीर्वाद रहा, जिसे पार्टी हाईकमान टाल नहीं पाया। आरएसएस के तीनों दिग्गजों ने अश्वनी शर्मा को पास बैठाकर सलाह भी दी कि है कि पंजाब में अकेले चलो की राजनीति को खत्म कर सबको साथ लेकर चलो की राजनीति को दोबारा से लेकर आना है, क्योंकि पार्टी में गुटबाजी से हालात काफी खराब हैं और वर्कर अवसाद में हैं।

दरअसल, अश्वनी शर्मा को 2010 में पंजाब के प्रधान बने थे तो पंजाब में शिरोमणि अकाली दल भाजपा की सत्ता थी। किसी को यकीन नहीं था कि 2012 में गठबंधन पंजाब में दोबारा सरकार रिपीट कर सकता है क्योंकि पंजाब का राजनीतिक इतिहास इस बात का साक्षी है कि पंजाब में लगातार दो बार किसी पार्टी की सरकार नहीं बनी। अश्वनी शर्मा ने वर्करों के बीच जाकर उनकी दिल की भड़ास को निकाला और सरकार विरोधी बातों को सुनकर सूबे में एंटी इनकंबेंसी को काफी हद तक खत्म किया और नतीजन भाजपा को को 23 में से 12 सीट हासिल हुई।

अश्वनी शर्मा खुद भी चुनाव लड़कर विधायक बन गए। इसके बाद भाजपा में जबरदस्त गुटबाजी का आगाज हुआ और पार्टी का वोट बैंक पंजाब में लगातार गिरता गया। पीएम मोदी की लोकप्रियता को भी पंजाब की भाजपा भुना नहीं पाई। पार्टी में पूर्व केंद्रीय मंत्री विजय सांपला- मनोरंजन कालिया का गुट, तीक्ष्ण सूद और केंद्रीय राज्यमंत्री सोमप्रकाश का गुट, श्वेत मलिक-राकेश राठौर का गुट बन गया।
... और पढ़ें

दिल्ली चुनावः एक मंच पर आए बादल परिवार विरोधी, ढींढसा बोले- हमारे संपर्क में हैं कई पूर्व मंत्री

अश्वनी शर्मा
शिरोमणि अकाली दल से बगावत का झंडा बुलंद करने वाले सुखदेव सिंह ढींढसा अब दिल्ली विधानसभा चुनाव में बादलों को चुनौती दे सकते हैं। ढींढसा ग्रुप दिल्ली विधानसभा चुनाव में शिरोमणि अकाली दल के उम्मीदवार का विरोध कर सकता है।

पूर्व वित्त मंत्री परमिंदर ढींढसा ने कहा कि दिल्ली विधानसभा चुनाव के बारे में अभी कुछ भी स्पष्ट नहीं है। अकाली दल की तस्वीर भी साफ नहीं है कि भाजपा के साथ मिलकर लड़ेंगे या अकेले। दिल्ली चुनाव के बारे में कोई भी फैसला परमजीत सिंह सरना और मनजीत सिंह जीके लेंगे। दिल्ली के सिख जो भी चाहेंगे, वह करेंगे।

हम तो इसी बात की लड़ाई लड़ रहे हैं कि फैसले सर्व-सम्मति से हों। अकाली दल 2015 में चार सीटों पर चुनाव लड़ा था। इनमें दो अपने सिंबल पर और दो भाजपा के चुनाव निशान पर लड़ा था। इस बार वह छह सीटों पर दावा जता रहा है।

पंथ और पंजाब हितैषी कई पूर्व मंत्री हमारे संपर्क में
र्व वित्त मंत्री परमिंदर सिंह ढींढसा ने दावा किया कि पंथ और पंजाब हितैषी कई पूर्व मंत्री, वर्तमान और पूर्व विधायक सांसद सुखदेव सिंह ढींढसा के संपर्क में हैं।
... और पढ़ें

राजपुरा का नायब तहसीलदार 10 लाख रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार

विजिलेंस ब्यूरो मोहाली की टीम ने वीरवार देर शाम राजपुरा के नायब तहसीलदार को जमीन तकसीम करने के मामले में 10 लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया। आरोपी से दो लाख रुपये की नगदी व दो चेक चार-चार लाख रुपये के बरामद किए। जबकि नायब तहसीलदार के दो साथियों नायब तहसीलदार बनूड़ व राजपुरा के पटवारी को इस रिश्वत मामले में शामिल होने के लिए नोटिस भेज दिए हैं। ब्यूरो ने आरोपी तहसीलदार को अदालत में पेश किया, जहां पर दोनों पक्षों को सुनने के बाद जज ने उसे तीन दिन के लिए रिमांड पर भेजने के आदेश दे दिए।
जानकारी के अनुसार शिकायतकर्ता परगट सिंह निवासी जिला तरनतारन के गांव जवंदा कला ने बनूड़ के गांव खिजरगढ़ के हरदीप सिंह से उसी के गांव खिजरगढ व अजीजपुर में पड़ती 21 कनाल जमीन 2019 में एक करोड़ से ज्यादा की राशि देकर खरीदी थी। उस समय बनूड़ में नायब तहसीलदार हरनेक सिंह तैनात थे जो अब राजपुरा में नायब तहसीलदार के पद पर तैनात हैं। शिकायतकर्ता के अनुसार उस समय का तहसीलदार हरनेक सिंह जमीन के इंतकाल दर्ज करने के लिए भी रुकावट पैदा करता रहा था, अब जब उक्त जमीन का बंटवारा करने का मामला आया तो मौजूदा नायब तहसीलदार रूपिंदर सिंह मणकू के पास हरनेक सिंह पहुंचा और बंटवारा करने का हल करवाने के लिये रूपिंदर सिंह ने राजपुरा के नायब तहसीलदार हरनेक सिंह से मिलने के लिए कहा। जब शिकायतकर्ता उनके पास पहुंचा तो उसने शिकायतकर्ता से कथित तौर पर दस लाख रुपये की मांग की। जब सब कुछ तय हो गया तो शिकायतकर्ता उक्त तय राशि देने के लिये तय शर्त के मुताबिक एक होटल में पहुंच गया जहां पर विजिलेंस ब्यूरो की टीम ने आरोपी को दो लाख रुपये की नगदी व चार-चार लाख रुपये के दो चेक बरामद कर नायब तहसीलदार को हिरासत में ले लिया।
विजिलेंस ब्यूरो मोहाली के एसएसपी आर के बख्शी ने बताया कि राजपुरा के नायब तहसीलदार हरनेक सिंह का अदालत से तीन दिन का पुलिस रिमांड मिला है जबकि उनके साथी बनूड़ के नायब तहसीलदार रुपिंदर सिंह मणकू व राजपुरा के पटवारी को जांच में शामिल होने के लिए नोटिस भेजा है।
... और पढ़ें

कैप्टन सरकार के खिलाफ भड़के मुलाजिम, अर्थी फूंक रैली

पंजाब यूटी मुलाजिम और पेंशनर संघर्ष कमेटी के आह्वान पर वीरवार को अपनी मांगों को लेकर सरकार के अड़ियल रवैये से गुस्साए विभिन्न सरकारी व अर्ध सरकारी विभागों के मुलाजिमों ने अर्थी फूंक रैली की। इस दौरान पहले कर्मचारी निर्माण भवन मिनी सचिवालय में इकट्ठा हुए। जहां लोक निर्माण विभाग के स्थानीय अधिकारियों खिलाफ प्रदर्शन किया गया। यहां से अर्थी कंधों पर उठाकर और काले झंडों के साथ प्रदर्शन किया और मार्च करते हुए डीसी दफ्तर के मुख्य गेट चौक में जोरदार नारेबाजी की। जिस करके आवाजाही भी लंबे समय तक प्रभावित रही।
इस मौके पर मुलाजिम नेताओं दर्शन सिंह लुबाना, बलजिंदर सिंह, दर्शन सिंह बेलूमाजरा ने कहा कि कैप्टन सरकार की ओर से पिछले तीन सालों दौरान मुलाजिमों साथ उनकी पेंडिंग मांगों को लेकर लगातार टाल मटोल की जा रही है। बैठकें करके मांगों के निपटारे के भरोसे दिए गए, लेकिन हुआ कुछ नहीं। इस मौके पर सरकार से विभिन्न सरकारी व अर्ध सरकारी विभागों में काम कर रहे टैंपोरेरी, एडहाक, वर्कचार्ज, कांट्रैक्ट और आउट सोर्स कर्मचारियों को रेगुलर करने, पंजाब के छठे वेतन आयोग को लागू करने की मांग की गई। चेतावनी दी गई कि अगर मुलाजिमों की मांगें जल्द न मानी गईं, तो आंदोलन और तेज किया जाएगा। इस मौके पर रैली में मुलाजिम नेता जगमोहन नौलखा, रतन सिंह, गुरदर्शन सिंह, छज्जू राम, राम किशन आदि मौजूद रहे।
वनपाल और वन मंडल दफ्तरों के आगे कीं रोष रैलियां
पटियाला। जंगलात, जंगली जीव और जंगलात निगम कर्मचारियों की ओर से वीरवार को वनपाल और वन मंडल दफ्तरों के आगे रोष रैलियां की गईं। इस मौके पर वर्दियां देने समेत रुकी तनख्वाह जारी करने की मांग की गई। जंगलात कर्मी प्रदर्शन करते हुए डीसी दफ्तर पहुंचे, जहां मुलाजिमों की ओर से सांझी अर्थी फूंक रैली की गई। इस मौके मुलाजिम नेताओं कुलविंदर सिंह कालवा, तरलोचन माड़ू आदि ने कहा कि मुलाजिमों को अगस्त, सितंबर, अक्तूबर, नवंबर और दिसंबर की तनख्वाहें अब तक नहीं मिली हैं। जिस कारण उनके लिए अपने परिवारों का गुजारा करना तक मुश्किल हो रहा है। साथ ही वरिष्ठता सूची जारी करने, पदोन्नितयां करने, जंगलात निगम में वरिष्ठता जारी करके कर्मचारी, जो दिहाड़ीदार, कांट्रैक्ट व आउटसोर्स पर लंबे समय से काम कर रहे हैं, उनको रेगुलर करने समेत छतबीड़ चिड़िया घर में कर्मचारियों को रेगुलर करने, सारे जंगलात कर्मचारियों को रिस्क अलाउंस देने, तनख्वाहें समय पर जारी करने की मांग की गई।
... और पढ़ें

शीत लहर की चपेट में उत्तर भारत, हरियाणा में भारी ओलावृष्टि, पंजाब में आंधी-बारिश की चेतावनी

हरियाणा, दिल्ली, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड समेत पूरा उत्तर भारत शीत लहर की चपेट में है। पहाड़ों पर बर्फबारी के साथ ही दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान समेत हरियाणा के कई इलाकों में गुरुवार को हुई बारिश ने लोगों की मुश्किलें बढ़ा दी है। इधर, सोनीपत के गोहाना क्षेत्र के दर्जनभर गांवों में ओलावृष्टि से फसलें तबाह हो गईं। मौसम केंद्र चंडीगढ़ ने हरियाणा में 20 जनवरी तक घने कोहरे छाने की चेतावनी जारी करते हुए 17 और 18 जनवरी को भी छिटपुटबारिश की संभावना जताई है।  
 
हरियाणा में आठ किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चली बर्फीली हवाओं ने शाम तक ठंड इस कदर बढ़ा दी कि कोल्ड डे जैसी स्थितियां फिर सामने आ गईं। शीत लहर के चलते हिसार और रोहतक में दिन का तापमान सामान्य से आठ डिग्री नीचे पहुंच गया। पश्चिमी विक्षोभ के चलते हरियाणा के कुछ हिस्सों में दोपहर बाद हुई बारिश जहां फसलों को संजीवनी दे गई। वहीं गोहाना क्षेत्र के गांवों में दोपहर बाद सात-आठ मिनट में डेढ़ से दो इंच तक ओलावृष्टि हुई।

इससे सब्जियां व सरसों की फसलें बुरी तरह प्रभावित हुईं। खेतों और सड़कों पर पहाड़ों की बर्फबारी का नजारा दिखाई दिया। लोगों का कहना था कि उन्होंने अपने जीवन में कभी ऐसी ओलावृष्टि नहीं देखी है। इसके अलावा सोनीपत में 2 एमएम तो गोहाना में 3 एमएम बारिश भी हुई। कृषि विभाग के उपनिदेशक डा. अनिल सहरावत का कहना है कि ओलावृष्टि से हुए नुकसान का आकलन किया जाएगा। 
... और पढ़ें

दूध के 1092 सैंपलों की जांच में 548 में मिला पानी

डेयरी विभाग की ओर से दूध की जांच के लिए जिले में 39 कैंप लगाए गए हैं। इनमें 1091 दूध के सैंपलों की जांच की गई। इस दौरान 544 सैंपल तय मानकों अनुसार और 548 सैंपलों में पानी की मात्रा पाई गई है।
विभाग के डिप्टी डायरेक्टर अशोक रौणी ने बताया कि प्रदेश सरकार की ओर से राज्य के लोगों को खाने-पीने की स्तरीय चीजें मुहैया कराने के लिए शुरू किए गए मिशन तंदरुस्त पंजाब अभियान के दूध की गुणवत्ता की जांच के लिए कैंप लगाए जा रहे हैं। किसी भी व्यक्ति को अपने घर में आते दूध की गुणवत्ता पर शक है तो वह डेयरी विभाग के पास मुफ्त में दूध की जांच करवा सकता है। उन्होंने बताया कि बुधवार को अर्बन इस्टेट फेज तीन में दूध की जांच का कैंप लगाया गया। इसमें 105 सैंपलों की जांच की गई। इनमें से 35 सैंपल तय मानक अनुसार व 70 सैंपलों में पानी की मात्रा 10 से 45 प्रतिशत तक पाई गई है। सैंपलों की यूरिया, स्टार्च, सोडा, शूगर, न्यूटर लाइजर केमिकलों की जांच भी साथ ही की गई लेकिन किसी भी सैंपल में कोई हानिकारक केमिकल नहीं पाया गया। रौणी ने बताया कि दूध के जांच के कैंप जिले के विभिन्न शहरों में लगाए जाते हैं। इस दौरान लोगों को दूध की गुणवत्ता संबंधी विस्तार के साथ जानकारी भी दी जाती है।
... और पढ़ें

कड़ाके की ठंड में श्री मुक्तसर साहिब में उमड़ा आस्था का सैलाब, देखें- मेला माघी की खूबसूरत तस्वीरें

अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us