विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

पंजाब

रविवार, 5 अप्रैल 2020

पद्मश्री खालसा के अंतिम संस्कार में डाली थी रुकावट, अब वेरका नगर में शबद कीर्तन नहीं करेंगे रागी

पंथ प्रसिद्ध रागी सिंह निर्मल सिंह खालसा के अंतिम संस्कार का विरोध करने के कारण सिखों की आलोचना झेल रहे वेरका निवासियों के सामने धार्मिक संकट खड़ा हो गया है। शिरोमणि रागी संस्था अमृतसर के अध्यक्ष भाई ओंकार सिंह ने वेरका नगर में किसी भी धार्मिक व अन्य मौकों के कार्यक्रमों में शबद कीर्तन करने का बायकाट करने की घोषणा कर दी है।

वहीं श्री हरमंदिर साहिब के साथ जुड़ी शिरोमणि रागी सभा के रागी भाई कुलदीप सिंह ने कोरोना वायरस से वातावरण ठीक होने के बाद उस स्थान पर गुरुबाणी कीर्तन कर रागी निर्मल सिंह खालसा को श्रद्धांजलि भेंट करने की घोषणा की जहां उनका अंतिम संस्कार किया गया है।

भाई ओंकार सिंह ने कहा कि जिस प्रकार वेरका निवासियों ने भाई खालसा के अंतिम संस्कार के लिए श्मशान घाट के दरवाजे बंद कर लिए उससे रागी सिंह के दिलों को गहरी चोट पहुंची है। वेरका निवासियों का कृत्य सिख धर्म के विरुद्ध है। श्री हरमंदिर साहिब के हजूरी रागी के साथ इस प्रकार के दुर्व्यवहार से दुनिया भर के रागी सिंहों में रोष है। ओंकार सिंह ने कहा कि वेरका के पार्षद मास्टर हरपाल सिंह वेरका और नवदीप सिंह हुंदल ने जिस मानसकिता का परिचय दिया है, उससे कई सवाल खड़े हो गए हैं।

रागी सिंह सभी के सांझे हैं। बिना किसी भेदभाव सभी के घरों में कीर्तन कर उनके परिवार की चढ़ती कला की अरदास की जाती है। वेरका निवासियों की इस मानसिकता के कारण शिरोमणि रागी संस्था को भरे मन से यह निर्णय करने पर मजबूर होना पड़ रहा है कि रागी सिंह वेरका नगर के किसी भी समागम में गुरुबाणी कीर्तन नहीं करेंगे। यह निर्णय श्री हरमंदिर साहिब के साथ जुड़े सभी रागी सिंहों ने सर्वसम्मति से किया है।

वेरका निवासियों ने खालसा की यादगार के लिए दो करोड़ की भूमि दी दान
भाई निर्मल सिंह खालसा के अंतिम संस्कार के लिए श्मशान घाट के दरवाजे बंद कर विरोध करने वाले वेरका निवासियों ने अपनी गलती का अहसास करते हुए वेरका नगर की पंचायत जमीन का नौ कनाल दो मरले का हिस्सा भाई खालसा के नाम कर दिया है। हरपाल सिंह वेरका ने कहा कि दान की गई जमीन की कीमत दो करोड़ रुपये है।

इस जमीन पर भाई खालसा के नाम पर एक संगीत अकादमी या म्यूजियम की स्थापना की जा सकती है। प्रशासन या कोई निजी संस्था इस जमीन पर भाई निर्मल सिंह खालसा के नाम पर कोई यादगार भी बना सकती है। भाई निर्मल सिंह के नाम पर स्थापित की जाने वाली किसी भी संस्था में उन्होंने वेरका के बच्चों को तरजीह देने की बात भी की।
... और पढ़ें

पंजाब में किसानों के घर जाकर फसल खरीदने की तैयारी, 22936 करोड़ रुपये सीसीएल मंजूर

कोरोना संकट का मुकाबला करने में व्यस्त पंजाब सरकार इस बार रबी खरीद सीजन के दौरान मंडियों में भीड़भाड़ की स्थिति रोकने को गांवों में जाकर गेहूं खरीदने की तैयारी कर रही है। इनमें उन गांवों को प्राथमिकता दी जाएगी जो मंडियों से 1-2 किमी की दूरी पर स्थित हैं। 

मुख्यमंत्री शुक्रवार को राज्य के कृषि एवं खाद्य विभागों के अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये हालात की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने गांवों में किसानों तक पहुंच बनाकर गेहूं की खरीद करने का तरीका ढूंढने को कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि वह मुख्य सचिव के गेहूं घरों से खरीदकर लाने के प्रस्ताव को स्वीकार करने को तैयार हैं। अगर वह इस संबंध में व्यापक रूप में काम करें। 

मुख्य सचिव ने दिया यह सुझाव
मुख्य सचिव ने सुझाव दिया कि राज्य में 50 प्रतिशत के करीब गांव मंडियों के साथ लगते हैं और वहां के किसानों को मंडी में जाने के लिए तय अवधि के लिए थोड़ी संख्या में कर्फ्यू पास जारी किये जा सकते हैं। मंडियों से दूर गांवों में उन्होंने खरीद के लिए मुलाजिमों को भेजने का सुझाव दिया। उन्होंने यह भी कहा कि आढ़ती जो मौजूदा समय में मंडियों में फसल का प्रबंध कर रहे हैं, को इन गांवों में इस काम का जिम्मा सौंपा जाए।

मंत्रिमंडल की बैठक में होगी खरीद प्रबंधों की समीक्षा
सीएम ने खरीद केंद्रों की संख्या बढ़ाने के साथ-साथ खरीद की अवधि में भी विस्तार के आदेश दिए ताकि यह निश्चित किया जा सके कि मंडियों में किसानों की भीड़ एकत्रित न हो। उन्होंने कहा कि शनिवार को मंत्रिमंडल की मीटिंग के दौरान इन प्रबंधों की फिर से समीक्षा की जाएगी। 
... और पढ़ें

कोरोना और कर्फ्यूः प्रवासियों का पलायन रोकने में पंजाब के डेरे निभा रहे अहम भूमिका, बांट रहे खाना

प्रवासी मजदूरों का पलायन रोकने और गरीबों तक भोजन पहुंचाने में प्रदेश के धार्मिक डेरे सबसे अहम भूमिका निभा रहे हैं। इसमें डेरा राधा स्वामी की तरफ से सबसे अहम योगदान दिया जा रहा है। उनके डेरों में जहां प्रवासी मजदूरों के रहने का विशेष तौर पर प्रबंध किया जा चुका है वहीं उनके लिए लंगर भी तैयार किया जा रहा है। इस समय अकेले राधा स्वामी डेरा श्रद्धालुओं की तरफ से हर रोज एक लाख फूड पैकेट तैयार किए जा रहे हैं। इन्हें प्रशासन की मदद से लोगों तक पहुंचाया जा रहा है।

इसमें रोचक बात है कि खाना तैयार करने के लिए सारा अनाज डेरे की तरफ से लगाया जा रहा है। इसमें सरकारी या किसी अन्य व्यक्ति से मदद नहीं ली जा रही है। अब तक इन डेरों में पांच सौ ज्यादा प्रवासी पहुंच भी चुके हैं। कोरोना फैलने के बाद सरकार ने सभी फैक्ट्रियों को बंद कर दिया है। इस समय राज्य में 15 अप्रैल तक लॉकडाउन के साथ कर्फ्यू भी लगा है। ऐसे में इन फैक्ट्रियों में काम करने वाले मजदूरों के लिए खाने पीने का संकट पैदा हो गया था। कुछ मजदूरों ने पैदल ही अपने घरों को पलायन करने की कवायद शुरू कर दी थी।

इस कवायद को रोकने के लिए जिला प्रशासन ने क्वारंटीन सेंटर तैयार किए, ताकि उन्हें वहीं रोका जा सके। लुधियाना में राधा स्वामी सत्संग डेरा ब्यास के लगभग 12 डेरे हैं। इन सभी में रहने की सुविधा दे दी गई है। इन 12 डेरों में डेरा प्रबंधकों की तरफ से 18 हजार लोगों के ठहरने की व्यवस्था कर दी गई है।

दिव्य ज्योति और निरंकारी मिशन भी जुटा सेवा में
कोरोना के चलते आम लोगों को मुसीबत की इस घड़ी में दिव्य ज्योति और निरंकारी मिशन भी सेवा में जुट चुका है। निरंकारी मिशन के लुधियाना शहर में चार डेरे हैं। इन सभी डेरों में 2600 लोगों के रहने की व्यवस्था की गई है। यहां आने वाले लोगों के लिए खाने-पीने की व्यवस्था भी डेरे की तरफ से की जा रही है। इसी तरह दिव्य ज्योति के हरनामपुरा आश्रम में चार सौ लोगों के ठहरने और खाने की व्यवस्था हो चुकी है। प्रशासन की तरफ से कैनाल रोड पर आसा राम बापू के आश्रम में एक हजार लोगों के ठहरने की व्यवस्था की गई है।
... और पढ़ें

कोरोना से जंग: कैप्टन अमरिंदर सिंह बोले- विदेश यात्रा की सूचना न देने वालों के जब्त होंगे पासपोर्ट

पंजाब में कोविड-19 संकट के चलते मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अहम फैसला लेते हुए विदेश यात्रा के बारे जानकारी नहीं देने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के आदेश दिए। इसके तहत उन्होंने ऐसे लोगों के पासपोर्ट जब्त करने के आदेश दिए हैं। 

पंजाब में कोरोना के चलते कर्फ्यू और लॉकडाउन की मौजूदा स्थिति की समीक्षा के लिए बुलाई कैबिनेट की पहली बैठक में सीएम ने कहा कि विदेश यात्राओं का खुलासा करने के मामले में कोई समझौता नहीं किया जाएगा और ऐसे व्यक्ति जिन्होंने पुलिस और सेहत विभाग से यात्रा के बारे में तथ्य छिपाए हैं, उनसे सख्ती से निपटा जाएगा। उन्होंने चेतावनी दी कि ऐसे लोगों के पासपोर्ट जब्त कर लिए जाएंगे।

कैबिनेट ने स्वास्थ्य विभाग के सेवामुक्त होने वाले मुलाजिमों का तीन माह का सेवाकाल बढ़ाए जाने के फैसले को भी मंजूरी दे दी। सेहत विभाग इन दिनों कोरोना के खिलाफ जंग में फ्रंटलाइन पर डटा है। यह प्रस्ताव मुख्य सचिव करण अवतार सिंह द्वारा पेश किया गया था। सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि इस प्रस्ताव को विस्तृत मंजूरी के लिए बाद में मुख्यमंत्री को सौंप दिया जाएगा। 

इसके साथ ही, कैबिनेट ने कोविड-19 के खिलाफ जंग में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले वर्गों को विशेष तौर पर आभार व्यक्त करने के लिए तीन प्रस्ताव पारित किए। इनमें सरकारी कर्मचारी जिन्होंने अपने वेतन का एक हिस्सा दान दिया है, सभी एनजीओ और धार्मिक संगठन जिन्होंने लोगों को प्रेरित कर सामाजिक दूरी बनाने में योगदान दिया और राहत कार्य किए। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार पुलिस, स्वास्थ्य, सैनिटेशन, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का तहेदिल से धन्यवाद करती है।
... और पढ़ें
कैप्टन अमरिंदर सिंह (फाइल फोटो) कैप्टन अमरिंदर सिंह (फाइल फोटो)

कोरोना वायरस: पंजाब सरकार का निर्णय- इलाज से मना करने वाले निजी अस्पतालों के लाइसेंस होंगे रद्द

कुछ निजी अस्पतालों द्वारा अपनी सेवाएं बंद करने को गंभीरता से लेते हुए पंजाब मंत्रिमंडल ने ऐसे अस्पतालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की चेतावनी दी है। सीएम ने सुझाव दिया कि स्वास्थ्य विभाग को कोविड-19 से पीड़ित मरीजों का इलाज करने से इनकार करने वाले अस्पतालों के लाइसेंस रद्द कर देने चाहिए। 

उन्होंने इस तरह की कार्रवाई को कायराना बताते हुए कहा कि ऐसे नाजुक समय में वह छिपकर नहीं बच सकते। मुख्यमंत्री ने सूबे में कोरोना के चलते कर्फ्यू और लॉकडाउन की मौजूदा स्थिति की समीक्षा के लिए कैबिनेट की बैठक बुलाई थी। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई मीटिंग के दौरान फैसला किया गया कि कोविड-19 के मरीजों के इलाज प्रबंधों में धीरे-धीरे विस्तार किया जाना चाहिए ताकि गेहूं की कटाई और खरीद, राज्य और देश में बढ़ रहे रुझान के साथ-साथ सामुदायिक फैलाव (स्टेज-3) की आशंकाओं और महामारी के कारण मरीजों की संख्या बढ़ने पर निपटा जा सके। 

इससे पहले स्वास्थ्य विभाग ने कैबिनेट को बताया कि एक बार जब तेजी के साथ जांच करने वाली किटें और केंद्र सरकार के अंतिम दिशा-निर्देश आ गए तो राज्य में तेजी से जांच शुरू कर दी जाएगी ताकि पॉजिटिव मामलों की पहचान की जा सके। सभी प्रभावित स्थानों पर लक्षणों और गैर-लक्षणों के मामलों की तेजी से जांच की जाएगी जबकि गैर-प्रभावित स्थानों पर लक्षणों वाले मामलों की जांच भी इसी तरह ही की जाएगी। विभाग द्वारा प्रभावित स्थानों पर सामुदायिक जांच शुरू की जा चुकी है।
... और पढ़ें

कोरोना से ठीक होकर लौटे युवक का अनुभव- डटकर करें मुकाबला...संदिग्धों को अस्पताल पहुंचाओ, तभी जीतेंगे

कोरोना महामारी से जंग संदिग्ध लोगों को घर से निकालकर अस्पताल पहुंचाने से जीती जा सकती है। साफ-सफाई और सामाजिक दूरी का पूरी तरह से ध्यान रखना होगा। आसपास विदेश से आए जो लोग छिपकर बैठ हैं, उनकी जानकारी प्रशासन को देना जरूरी है। 

इसमें समाज के सभी जिम्मेदार लोगों के साथ गांवों के सरपंचों और लोगों को अहम भूमिका निभानी होगी। उन्हें बाहरी लोगों को रोकने के लिए डंडे लेकर गांव के प्रवेश द्वार पर खड़े होने की उतनी जरूरत नहीं है, जितनी कि विदेश से आए एनआरआई या यात्रियों की जानकारी प्रशासन को देने की है। क्योंकि ऐसे लोगों के अस्पताल ले जाने के बाद कोरोना टेस्ट होंगे, तभी इस महामारी को रोका जा सकता है। लोगों को इस बारे में एकजुट करना होगा। 

यह बात सेक्टर-69 निवासी युवक ने बताई है, जो कि कोरोना से 14 दिन की लड़ाई लड़कर अब स्वस्थ होकर अपने घर लौटे हैं। वह जिले के पहले व्यक्ति हैं, जो कि कोरोना को हराकर घर पहुंचे हैं, हालांकि उनकी पत्नी अभी अस्पताल में है। उन्हें उम्मीद है कि वह भी जल्दी ही स्वस्थ होकर घर पहुंचेगी। उन्होंने बताया कि अपने देश में तो यह बीमारी अभी बेसिक स्टेज से गुजर रही है।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस: मौत से दस मिनट पहले बोले थे भाई निर्मल सिंह खालसा, इलाज न हुआ तो खुदकुशी कर लूंगा

श्री हरमंदिर साहिब के पूर्व रागी भाई निर्मल सिंह खालसा ने अपनी मौत के दस मिनट पहले अपने बेटे अमतेश्वर सिंह को फोन कर श्री गुरु नानक देव जी अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में मरीजों के इलाज के प्रबंधों की पोल खोल दी थी। निर्मल सिंह को अहसास हो गया था कि आइसोलेशन वार्ड में डॉक्टर इलाज में लापरवाही कर रहे हैं। वे इस कदर हताश हो गए थे कि उन्होंने अपने बेटे को इलाज न मिलने पर खुदकुशी करने की बात तक कह दी थी। हालांकि मेडिकल शिक्षा मंत्री ओमप्रकाश सोनी ने इस मामले में कहा कि ऐसी कोई समस्या है ही नहीं।

जानकारी के अनुसार, फोन पर निर्मल सिंह ने अपने बेटे से कहा था कि मैं अब कुछ मिनटों का मेहमान हूं। जिस वॉर्ड में मुझे रखा गया है, वहां बुरा हाल है। सफाई व्यवस्था तक ठीक नहीं है। भाई खालसा ने रोते-रोते कहा था कि मुझे यहां दाखिल हुए चार घंटे हो गए लेकिन डॉक्टर ने उपचार शुरू नहीं किया।

दवाई भी नहीं दे रहे। निर्मल सिंह ने अपने पिता से भी बात की। वह डरे हुए थे। पिता ने उन्हें फोन पर ढांढस बंधाते हुए कहा कि तुम ठीक हो जाओगे। वाहेगुरु बोलो। इस दौरान उनकी पत्नी भी खालसा को खुदकुशी जैसी बात न कहने का आग्रह कर रही है। निर्मल सिंह ने पूछा था कि परिवार के लोगों को मिलने क्यों नहीं देते। बेटे ने कहा था कि आप जल्दी ठीक हो जाएंगे, इसके बाद हम आपसे मिलेंगे। 
... और पढ़ें

चंडीगढ़ और पंजाब में फंसे 150 अमेरिकी नागरिक, विशेष विमान से लौटेंगे अपने वतन

पद्मश्री निर्मल सिंह खालसा।
चंडीगढ़ और पंजाब किसी काम से आए करीब 150 अमेरिकी नागरिकों को जल्द ही विशेष विमान से वापस भेजा जाएगा। यह फ्लाइट चंडीगढ़ से दिल्ली जाएगी और फिर दिल्ली से अमेरिका को उड़ान भरेगी। ये सभी नागरिक देश में लॉकडाउन और कर्फ्यू के चलते यहां फंस गए हैं और अपने देश वापस नहीं जा सके। 

एयर इंडिया के मैनेजर एमआर जिंदल ने बताया कि अमेरिकी नागरिकों को वापस भेजने के लिए विशेष फ्लाइट नई दिल्ली से चंडीगढ़ आएगी। चंडीगढ़ के इंटनरेशनल एयरपोर्ट से इन यात्रियों की रवानगी सात अप्रैल की शाम साढ़े 7 बजे होगी। यूएस के नागरिकों को दूतावास लाया जाएगा। इसके बाद विमान रवाना होगा। फंसे सभी अमेरिकी नागरिक किसी काम के सिलसिले में चंडीगढ़ और पंजाब आए थे और सभी अमेरिकी दूतावास के संपर्क में हैं।

यह भी बताया जा रहा है कि नई दिल्ली से 162 सीटर एक स्पेशल चार्टर प्लेन यहां आएगा। इसमें करीब 150 अमेरिकी नागरिकों को ले जाया जाएगा। एयरपोर्ट पर ही सभी यात्रियों की स्क्रीनिंग की जाएगी। बता दें कि इससे पहले भी एक विशेष विमान से भूटान के छात्रों को यहां से भेजा जा चुका है। 
... और पढ़ें

आतंकी दविंदर सिंह भुल्लर को 42 दिन की पैरोल, घर में रहने के साथ रहेंगी कई और बंदिशें

दिल्ली बम धमाकों के मामले में सजा काट रहे आतंकी प्रोफेसर दविंदर सिंह भुल्लर को पेरोल पर रिहा कर दिया गया है। शनिवार को अमृतसर केंद्रीय जेल से रिहा किए 59 कैदियों में भुल्लर भी शामिल था। भुल्लर को 42 दिन की पेरोल दी गई है।

कड़ी सुरक्षा के बीच भुल्लर को उसके रंजीत एवेन्यू स्थित निवास भेजा गया। पेरोल के दौरान भुल्लर को किसी भी व्यक्ति से मिलने की इजाजत नहीं होगी। न ही वह घर से बाहर जा सकेगा।

इमरजेंसी में घर से बाहर जाने से पहले उसे नजदीक के थाने को सूचित करना होगा। थाने की मंजूरी मिलने पर ही वह घर से बाहर निकल सकेगा। बता दें कि भुल्लर को दिल्ली बम धमाकों में फांसी की सजा हुई थी। सिख संगठनों व एसजीपीसी के प्रयासों के बाद केंद्रीय ग्रह मंत्रालय ने भुल्लर की फांसी को उम्रकैद में बदल दिया था।

कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने से घबराई पंजाब सरकार ने प्रदेश की अलग-अलग जेलों से छह हजार कैदियों को पेरोल पर रिहा करने का निर्णय किया है। अमृतसर केंद्रीय जेल से अब तक 529 कैदियों को पेरोल पर रिहा किया जा चुका है।
... और पढ़ें

पीयू की शानदार पहल: कोरोना के चलते दिमाग में है कोई प्रश्न तो इन नंबरों पर मनोविज्ञानी से लें परामर्श

कोरोना के चलते लोगों के दिमाग में तमाम सवाल आ रहे हैं। इसके चलते लोगों पर नकारात्मक प्रभाव न पड़े, इसी को ध्यान में रखते हुए पंजाब विश्वविद्यालय के मनोविज्ञान विभाग ने हेल्प डेस्क बनाई है जो फोन के जरिये परामर्श देंगे। मनोविज्ञानी नंबरों पर मौजूद रहेंगे। पूरे विश्व में कोरोना का प्रकोप है। मौजूदा हालात में दिनभर कोरोना को लेकर ही चर्चा हो रही है। इससे तमाम लोगों के दिमाग पर भी नकारात्मक असर पड़ रहा है। 

बच्चों को भी इससे परेशानी हो सकती है। साथ ही कुछ हुई भी हैं। स्कूलों की ओर से भी इसके लिए गाइडलाइन जारी की जा रही है। पीयू ने एक अच्छी पहल की है। मनोविज्ञान विभाग ने इसके लिए हेल्प डेस्क तैयार की है। टेलीफोनिक परामर्श इसके जरिये दिया जाएगा। 

इन नंबरों पर फोन कर लें परामर्श 
  • सुबह दस से शाम चार बजे तक : 9501434061
  • सुबह 11 से शाम पांच बजे तक :  7973446894 
  • सुबह 11 से दोपहर एक बजे तक : 9814211641 
  • शाम चार बजे से रात सात बजे तक :  8567060000 
पहल को पीयू के शिक्षकों ने सराहा
विभाग की यह पहल पीयू के शिक्षकों को पता लगी तो उन्होंने इसे सराहा है। साथ ही अन्य तरीके भी परामर्श के निकालने के लिए कहा है। इस समय दिमाग का स्वस्थ रहना बहुत जरूरी है। साथ ही सकारात्मक सोच भी आवश्यकता है।
... और पढ़ें

Coronavirus in Punjab: पंजाब में कोरोना पीड़ितों की संख्या पहुंची 66, एक ही दिन नौ नए मामले आने से हड़कंप

पंजाब में कोरोना वायरस से पीड़ितों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। शनिवार को कोरोना पॉजिटिव नौ और मामले सामने आने के बाद राज्य में इस घातक वायरस की चपेट में आने वालों की संख्या बढ़कर 66 हो गई है। इनमें से अब तक 5 लोगों की मौत भी हो चुकी है जबकि सुखद खबर यह भी है कि राज्य में अब तक तीन मरीज इलाज के बाद स्वस्थ होकर अपने घर लौट गए हैं।

शनिवार को सामने आए नए मामलों में से तीन अमृतसर, तीन मोहाली और एक-एक जालंधर पठानकोट व फरीदकोट से हैं। सेहत विभाग द्वारा जारी सूचना के अनुसार, राज्य में अब तक सामने आए 1824 संदिग्ध मरीजों के सैंपलों की जांच की जा चुकी है, जिनमें से 1520 लोगों की जांच रिपोर्ट निगेटिव पाई गई है। फिलहाल 239 लोगों की जांच रिपोर्ट का इंतजार है। राज्य में अब तक पॉजिटिव लोगों में से 2 की हालत गंभीर और 2 अन्य की हालत अति गंभीर बताई गई है।

सेहत विभाग के अनुसार, राज्य में अब तक कोरोना पीड़ितों के सबसे अधिक मामले नवांशहर में 19 और 14 पीड़ितों की संख्या के साथ दूसरे नंबर पर मोहाली है। हालांकि मोहाली के दो मरीज स्वस्थ्य होकर घर लौट गए हैं। होशियारपुर के सात मरीजों में से एक व्यक्ति स्वस्थ हुआ है।

अन्य जिलों में मरीजों का आकंड़ा

जिला            पीड़ितों की संख्या
अमृतसर            8 
लुधियाना में       6
मानसा में          3 
पटियाला           1 
रोपड़                 1
फरीदकोट          1
 पठानकोट         1
 
... और पढ़ें

20 साल में पहली बार अप्रैल का पहला सप्ताह रहा ठंडा, कल रात से फिर बारिश के आसार

कोरोना संकट के बीच 20 साल में पहली बार अप्रैल का पहला सप्ताह अपेक्षाकृत ठंडा है। बीते चार दिनों में अधिकतम तापमान सामान्य से 3 से 5 डिग्री तक कम रहा और 30 डिग्री से अधिक नहीं हुआ, जबकि सामान्य रूप से अप्रैल के पहले हफ्ते में तापमान 32 से 34 डिग्री सेल्सियस के बीच होता है। 

एचएयू के कृषि मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार हिसार में एक अप्रैल को तापमान 28 डिग्री, दो अप्रैल को 29 डिग्री, तीन अप्रैल को 29.4 डिग्री और चार अप्रैल को 29.2 डिग्री सेल्सियस रहा। न्यूनतम तापमान भी इस बार सामान्य से कम है, जो 14 डिग्री से अधिक होना चाहिए, लेकिन अप्रैल के चार दिनों में 3 अप्रैल को 13.9 डिग्री तक ही गया है। चार अप्रैल यानी शनिवार को यह 11.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

ये हैं कारण
एचएयू के कृषि मौसम विज्ञान विभाग के अध्यक्ष डॉ. मदन लाल खीचड़ के अनुसार मार्च में पांच पश्चिमी विक्षोभ आए थे। इनसे वातावरण में बनी नमी के कारण मार्च का तापमान भी अपेक्षाकृत कम रहा। 31 मार्च को भी एक पश्चिमी विक्षोभ आया, जिसके असर के कारण अप्रैल में भी तापमान अपेक्षाकृत कम है। छह अप्रैल की रात को फिर मौसम में परिवर्तन आएगा, जिससे तापमान कुछ दिनों तक सामान्य से कम रहने की संभावना है। 

2001 में अप्रैल के पहले दो दिन 30 डिग्री से कम रहा था तापमान 
इससे पहले 2001 में एक अप्रैल को अधिकतम तापमान 29.4 डिग्री सेल्सियस और दो अप्रैल को 29.3 डिग्री सेल्सियस रहा। तीन अप्रैल को तापमान 30 डिग्री से आगे बढ़ा था। वर्ष 2005 में सिर्फ एक अप्रैल को 29.9 डिग्री सेल्सियस रहा। उसके बाद तापमान लगातार बढ़ा। 

कल रात फिर बदलेगा मौसम 
चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कृषि मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार छह अप्रैल तक मौसम खुश्क रहने व बीच-बीच में हल्के बादल और दिन के तापमान में बढ़ोतरी की संभावना है। इस दौरान रात का तापमान भी सामान्य से कम रहेगा। इसके बाद छह अप्रैल की रात को मौसम में परिवर्तन होगा। इससे 7 और 8 अप्रैल को पश्चिमी विक्षोभ के आंशिक प्रभाव के कारण प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में बादलवाही और कहीं-कहीं हवाओं व गरज-चमक के साथ बूंदाबांदी या हल्की बारिश की संभावना है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन