विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
इस काल भैरव जयंती पर कालभैरव मंदिर (दिल्ली) में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात : 19-नवंबर-2019
Astrology Services

इस काल भैरव जयंती पर कालभैरव मंदिर (दिल्ली) में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात : 19-नवंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

राजस्थान

सोमवार, 18 नवंबर 2019

राजस्थान के मुख्यमंत्री ने घूंघट प्रथा के खिलाफ खोला मोर्चा, बोले-जमाना गया घूंघट का 

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश में घूंघट प्रथा के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। गहलोत ने मंगलवार को कहा कि घूंघट का जमाना अब चला गया है। 

अशोक गहलोत ने जयपुर में एक कार्यक्रम में कहा, 'गांव में आज भी घूंघट है, एक महिला को घूंघट में कैद करने का एक समाज को क्या अधिकार है? जब तक घूंघट रहेगा तब तक महिलाएं आगे नहीं बढ़ पाएंगी। जमाना गया अब घूंघट का।'


मुख्यमंत्री महिला अधिकारों के लिए काम कर रहे एक संगठन के कार्यक्रम में हिस्सा लेने आए थे। वहां उन्होंने बिना घूंघट की महिलाओं की ओर इशारा करते हुए कहा कि ग्रामीण इलाकों में अब भी घूंघट करती हैं। सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि हिम्मत और हौसले के साथ आपको आगे बढ़ना पड़ेगा। सरकार आपके साथ खड़ी होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि वक्त बदल चुका है। महिलाएं पढ़-लिखकर हर क्षेत्र में सफलता हासिल कर रही हैं। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का उदाहरण हमारे सामने है।

बाल विवाह के खिलाफ भी बोले :  

मुख्यमंत्री गहलोत ने बाल विवाह के खिलाफ भी अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि बाल विवाह से सिर्फ जिंदगी बर्बाद होती है। उन्होंने बताया कि जनसुनवाई के दौरान एक बच्ची शिकायत लेकर आई कि उसका बाल विवाह किया जा रहा है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि बच्ची का बाल विवाह नहीं होना चाहिए और अगर वह पढना चाहे तो सरकार पूरी मदद करेगी।
... और पढ़ें

भारतीय सेना के दो जवान जासूसी के संदेह में इंटेलिजेंस यूनिट की हिरासत में 

राजस्थान के सिराही में सड़क हादसे में पांच लोगों की मौत, नौ घायल

राजस्थान : निकाय चुनाव के लिए 71.53 फीसदी मतदाताओं ने की वोटिंग

राजस्थान के 49 नगर निकायों में शनिवार को हुए चुनाव में 71.53 प्रतिशत मतदाताओं ने वोटिंग की। राज्य निर्वाचन आयोग के आयुक्त पीएस मेहरा ने बताया कि सभी निकायों में मतदान शांतिपूर्ण रहा। सबसे ज्यादा मतदान अजमेर जिले की नसीराबाद नगरपालिका में 91.57 प्रतिशत दर्ज हुआ, जबकि सबसे कम उदयपुर नगर निगम में 57.84 प्रतिशत मतदान हुआ।

उन्होंने बताया कि निकायों में सुबह से ही मतदान केंद्रों पर मतदाताओं की खासी भीड़ रही। श्रीगंगानगर में बारिश के बावजूद मतदाताओं की लंबी लाइनें देखी गईं।

2014 में हुए 46 नगर निकायों में से जयपुर, जोधपुर और कोटा में चुनाव स्थगित किए जाने के कारण 43 नगर निकाय और छह नवगठित नगर पालिकाओं सहित 49 निकायों में आम चुनाव करवाए गए हैं। 
 

... और पढ़ें
ईवीएम ईवीएम

राजस्थान: सांभर झील में 10 हजार पक्षियों की मौत, सीएम ने दिए रेस्क्यू सेंटर खोलने के निर्देश

राजस्थान की खारे पानी की सबसे बड़ी झील सांभर में देशी-विदेशी पक्षियों की मौत का सिलसिला जारी है। अबतक करीब 10 हजार पक्षियों की मौत हो चुकी है। स्थिति इस खतरनाक स्तर पर पहुंच चुकी है कि बीते तीन दिनों से जेसीबी से गड्ढा खोदकर पक्षियों को जमीन में दफनाया जा रहा है। वहीं, कई मर चुके पक्षी कीचड़ से सड़ने लगे है। माना जा रहा है कि इस वजह से दूसरे पक्षियों की सेहत भी बिगड़ सकती हैं। 

हालात को देखते हुए बीकानेर अपेक्स सेंटर फॉर एनीमल डिजीज के प्रोफेसर ऐके कटारिया भी शुक्रवार सुबह सांभर पहुंचे। उनका अनुमान है कि पक्षियों के पंखों में लकवा के लक्षण भी मौत की वजह हो सकते है। इसकी वजह एविए बोटुलिज्म हो सकता है। 

इससे पहले, यहां गुरुवार को चीफ वाइल्ड वार्डन समेत कई बडे़ अफसर और एक्सपर्ट मौके पर पहुंचे। उन्होंने 4800 पक्षियों के मरने की बात कही। मौके पर पहुंचे पक्षी विषेषज्ञ के मुताबिक यह संख्या 10 हजार है।

वायरल इन्फेक्शन से हुईं मौतें: सरकार
पक्षियों की हो रही मौत के मामलों को देखते हुए बुधवार को उच्च न्यायालय ने स्वतःसंज्ञान लेते हुए राजस्थान सरकार से जवाब मांगा था। जिसके बाद गुरुवार को सरकार की तरफ से जवाब पेश किया गया। सरकार ने अपने जवाब में कहा कि प्रवासी पक्षियों की मौत वायरल और बैक्टीरियल इंफेक्शन समेत अन्य कारणों से हो रही है। साथ ही लंबी यात्रा के दौरान पर्याप्त भोजन नहीं मिलना, प्रदूषण और कमजोरी को भी पक्षियों की मौत की वजह बताई गई है।  

मुख्यमंत्री ने आदेश- एक और रेस्क्यू सेंटर खोलें
पक्षियों की हो रही मौतों को देखते हुए सूबे के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस मामले में गुरुवार रात समीक्षा बैठक की। उन्होंने मौत के कारणों की जांच कर प्रभावी कदम उठाने के आदेश दिए। साथ ही उन्होंने कहा कि पक्षियों को बचाने के लिए एक और रेस्क्यू सेंटर खोलें। मृत पक्षियों का वैज्ञानिक तरीके से निस्तारण करें, ताकि संक्रमण न फैले। 
... और पढ़ें

बीएसएफ जवान ने शादी में 11 लाख का दहेज ठुकराया, लोगों की आंखों में आ गए आंसू

राजस्थान में बीएसएफ जवान द्वारा शादी में 11 लाख का दहेज ठुकराने की खबर सामने आई है।  जयपुर में बीएसएफ के एक कॉन्स्टेबल ने 11 लाख रुपये लेने से इनकार करते हुए आशीर्वाद के तौर पर 11 रुपये और एक नारियल लिया। ये खबर सामने आने के बाद लोग जमकर बीएसएफ जवान की तारीफ कर रहे हैं। 

जयपुर के अम्बा बारी इलाके में बीएसएफ जवान जितेन्द्र सिंह को शादी के दौरान लड़की के पिता ने 11 लाख रुपये की नकदी ऑफर की जिसे स्वीकार करने से दूल्हे ने इनकार कर दिया। दूल्हे के इनकार से वधू पक्ष के लोग घबरा गए। उन्हें लगा कि दूल्हा शादी के इंतजामों से नाराज होकर मना कर रहा है। 

जब दूल्हे ने दहेज नहीं लेने की बात की तो सब की आंखों में आंसू आ गए। लड़की के पिता गोविंद सिंह शेखावत ने कहा, मैं पहले तो थोड़ा घबरा गया और सोचा कि दूल्हा या फिर बाराती किसी बात से नाराज हो गए हैं। मुझे ऐसा भी लगा कि कहीं वह और भी अधिक पैसों की मांग तो नहीं कर रहे हैं।

बाद में मुझे अहसास हुआ कि दूल्हा और उसके परिजन दहेज प्रथा के खिलाफ हैं। उधर दूल्हे ने कहा कि जिस दिन मुझे पता चला कि मेरी होने वाली पत्नी ने एलएलबी और एलएलएम किया हुआ है और साथ में पीएचडी भी कर रही है, उसी समय मैंने सोच लिया कि वह मेरे और मेरे परिवार के योग्य है। मैंने तभी दहेज नहीं लेने का फैसला कर लिया था। 
... और पढ़ें

बाप ने बेटी को सात लाख रुपये में बेचा, पुलिस को इस हाल में मिली नाबालिग

राजस्थान के बाड़मेर जिले में एक शख्स ने अपनी 13 वर्षीय बेटी को सात लाख रुपये में बेच दिया। पुलिस ने सोमवार को हैदराबाद से नाबालिग को बरामद किया है। साथ ही पुलिस ने लड़की के पिता समेत उसका अपहरण करने के मामले में दो अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया है।

पुलिस ने बताया कि मामले में गिरफ्तार किए गए आरोपियों को जेल भेज दिया गया है। बाड़मेर के पुलिस अधीक्षक शरद चौधरी ने बताया कि हमने मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार करने के साथ लड़की को बरामद कर लिया है। पुलिस मंगलवार को उसे बाड़मेर ले आई और उसकी मां के सुपुर्द कर दिया है। 15 नवंबर को उच्च न्यायालय में पेशी होगी।

सिवाना थाने के एसएचओ दाउद खान ने कहा कि लड़की चार महीने की गर्भवती है। उन्होंने बताया कि 30 जून को एक व्यक्ति ने अपनी भतीजी के लापता होने पर अपहरण और जबरन वसूली का मामला दर्ज कराया था।

पुलिस के अनुसार, दर्ज शिकायत में चाचा ने कहा कि 22 जून को उसके भाई और लड़की पिता ने बताया था कि उसने अपनी बेटी की शादी एक प्रतिष्ठित परिवार में तय कर दी है। इसके बाद लड़की का पिता अपनी बेटी को दूल्हे के परिवार से मिलवाने की बात कहकर सिवाना ले गया था।

लेकिन जब वह वापस लौटा तो भतीजी उसके साथ नहीं थी। उसने सबको यही बताया कि वह बेटी को उसके मामा के घर छोड़ आया है। इसके बाद जब 26 जून को परिजनों ने लड़की को मामा के घर खोजा तो वह नहीं मिली। 

इस पर लड़की के पिता ने सभी से कहा कि कुछ लोगों ने बेटी का अपहरण कर लिया है, इसके बाद परिवार ने पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराई थी।

पुलिस ने मामले की जांच के दौरान एक बिचौलिए गोपा राम माली की पहचान की थी। साथ ही लड़की के पिता और एक अन्य आरोपी सांवला राम दासपा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था।

हालांकि पुलिस लड़की को बरामद नहीं कर पाई थी। तब लड़की के चाचा ने राजस्थान उच्च न्यायालय में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की थी। जहां मामले की अगली सुनवाई 15 नवंबर को होनी है।
... और पढ़ें

CBSE Board 2020: बोर्ड ने जारी की नई मार्किंग स्कीम, पास होने के लिए ये जरूरी

प्रतीकात्मक तस्वीर
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE - Central Board Secondary Education) शैक्षणिक सत्र 2020 में होने वाली बोर्ड परीक्षाओं के लिए नई मार्किंग स्कीम जारी की है। इसमें बोर्ड ने बताया है कि कक्षा 10वीं और 12वीं में पास होने के लिए छात्रों को किस विषय की किन परीक्षाओं में कितने अंक लाना जरूरी है।

इसके लिए बोर्ड ने एक सर्कुलर जारी किया है, जिसमें बताया गया है कि अधिकांश विषयों में दो से तीन असेसमेंट के क्षेत्र होते हैं- थ्योरी, प्रैक्टिकल, प्रोजेक्ट/इंटरनल असेसमेंट। इन सभी में सबसे ज्यादा अंक थ्योरी परीक्षा के लिए होते हैं।

इसके लिए बोर्ड ने हर विषय में किस परीक्षा में पास होने के लिए कितने अंक जरूरी हैं, इसका ब्लूप्रिंट भी जारी किया है। इसकी लिंक आपको इस खबर में आगे दी जा रही है।
... और पढ़ें

राजस्थान: बीकानेर में हुआ भीषण हादसा, जीप और बस की टक्कर में सात की मौत

राजस्थान के बीकानेर में तड़के एक दर्दनाक हादसा हुआ, यहां के देशनोक क्षेत्र में एक मिनी बस और जीप में टक्कर हो गई। यह टक्कर इतनी भीषण थी कि सात लोगों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई और लगभग पांच लोग घायल हो गए। 

जानकारी के अनुसार हादसे में मारे गए सात लोगों में से चार महिलाएं और तीन पुरुष शामिल हैं। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और जांच शुरू की। बीकानेर पुलिस के अनुसार हादसे में मारे गए लोगों के शव मुर्दाघर में उनकी शिनाख्त के लिए रखा गया है। 

वहीं, घायलों को बीकानेर के पीबीएम अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उनका इलाज चल रहा है। जानकारी के अनुसार कुछ घायलों की हालत अब भी गंभीर बनी हुई है। 

पुलिस के अनुसार पलाना गांव के पास यह हादसा उस समय हुआ जब एक मिनी बस सामने से आ रही जीप से जा टकराई। देशनोक के थाना प्रभारी अनूप सिंह ने बताया कि हादसे में मारे गए लोग जीप में ही सवार थे। जीप सवार लोग चुरू जिले के एक गांव के रहने वाले हैं और तीर्थ यात्रा पर बीकानेर जा रहे थे। 

देशनोक में भीषण सड़क हादसे की सूचना के बाद जिला कलेक्टर कुमार पाल गौतम पीबीएम अस्पताल पहुंचे। उन्होंने यहां घायलों से की मुलाकात करने के बाद हादसे को दुखद बताया।  
... और पढ़ें

महाराष्ट्र में सरकार गठन की कवायद तेज, यहां पर्यटकस्थल की यात्रा कर रहे कांग्रेस विधायक

महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर चल रही तमाम कवायद तेज हो गई हैं। शिवसेना दूसरी बड़ी पार्टी होने के नाते सरकार बनाने का न्योता मिलने के बाद संख्याबल जुटाने के लिए एनसीपी-कांग्रेस की ओर देख रही है। वहीं एनसीपी ने कहा है कि वह समर्थन देने को तैयार है। इस सबके बीच प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के विधायक इस सियासी संकट की चिंता से दूर पर्यटकस्थल की यात्रा का आनंद ले रहे हैं।

बता दें कि शुक्रवार को कांग्रेस ने अपने 44 विधायकों में से 40 को महाराष्ट्र के सियासी संकट के बीच से निकालकर राजस्थान रवाना कर दिया था। यहां वे जोधपुर में दर्शनीय स्थलों की यात्रा के बाद रविवार को जयपुर पहुंचे, पुष्कर सच्चा और अजमेर में एक दरगाह पर जाएंगे।

विधायकों के जयपुर के आमेर किले में जाने के साथ रविवार को भी उनकी दर्शनीय स्थलों की यात्रा जारी रही। मल्लिकार्जुन खड़गे, अशोक चव्हाण, अविनाश पांडे, विभिन्न वरिष्ठ नेताओं के साथ इन विधायकों के समूह पर पूरी नजर बनाए हुए हैं।

खड़गे ने महाराष्ट्र के गतिरोध पर चर्चा करने के लिए रविवार को जयपुर में उनसे मुलाकात की। बता दें कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में भाजपा को 105 और शिवसेना को 56 सीटें मिली हैं।
... और पढ़ें

राजस्थान: जयपुर में सोमवार तक निलंबित रहेगी इंटरनेट सेवा, पूरी तरह शांत रहा प्रदेश

सुप्रीम कोर्ट द्वारा अयोध्या के मामले में शनिवार को दिये गये फैसले को देखते हुए जयपुर में सोमवार तक इंटरनेट सेवा निलंबित कर दी गई है। पूरे राज्य में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किये गये हैं। राज्य में शनिवार को किसी प्रकार की अप्रिय घटना की सूचना नहीं मिली और स्थिति पूरी तरह शांतिपूर्ण और नियंत्रण में रही। ऐहतियात के तौर पर शनिवार को भी कई जिलों में इंटरनेट सेवाओं को बंद किया गया था और निषेधाज्ञा लागू की गई थी।

पुलिस महानिदेशक (कानून और व्यवस्था) एम एल लाठर ने बताया कि आज कोई अप्रिय घटना घटित नहीं हुई और स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में रही। संवेदनशील इलाकों में वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को तैनात किया गया था और राज्य के अधिकतर क्षेत्रों में मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को बंद किया गया था।

पुलिस दलों को सोशल मीडिया पोस्ट पर भी कड़ी नजर रखने को कहा गया था और सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट डालने पर बीकानेर और जयपुर में एक-एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया। वहीं चूरू में एक व्यक्ति को हिरासत में लिया गया। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की और पुलिस के उच्चाधिकारियों से यहां फीडबैक लिया।



 
... और पढ़ें

'प्रेम त्रिकोण' में पिसा छह साल का बेटा, सास-बहू के इंतकाम की आग में दो परिवार खाक

राजस्थान के भरतपुर में जयपुर-आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित पॉश कॉलोनी सूर्या सिटी में गुरुवार शाम चार बजे हैरान करने वाली वारदात घटी। डॉक्टर दंपती के प्रेम त्रिकोण में एक छह साल के मासूम की जान चली गई और दो परिवार उजड़ गए। खास बात यह है कि वारदात को बहू ने अपनी सास के साथ मिलकर अंजाम दिया।

यह है मामला
पुलिस के मुताबिक, गुरुवार को पॉश कॉलोनी सूर्या सिटी में डॉ. सीमा गुप्ता ने अपनी सास सुलेखा के साथ मिलकर दिल दहला देने वाली इस घटना को अंजाम दिया। सीमा ने अपने पति डॉ. सुदीप की कथित प्रेमिका दीपा गुर्जर को सबक सिखाने के लिए स्प्रिट से उसके घर में आग लगा दी।

इसके बाद दरवाजे की कुंडी बाहर से बंद कर दी। इस दौरान दीपा का छह साल का बेटा शौर्य भी उसके साथ था। आग से उठे धुएं में दम घुटने से दोनों की मौत हो गई। वहीं मामले में पुलिस ने डॉ. सीमा, उसकी सास और डॉ. सुदीप तीनों को गिरफ्तार कर लिया है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
विज्ञापन