विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सावन के सोमवार पर कराएं शिव का सहस्राचन, मिलेगी समस्त आकस्मिक परेशानियों से मुक्ति
SAWAN Special

सावन के सोमवार पर कराएं शिव का सहस्राचन, मिलेगी समस्त आकस्मिक परेशानियों से मुक्ति

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

Coronavirus: हिमाचल में 11 और पॉजिटिव मरीज, जानें किस जिले में कितने मामले

हिमाचल प्रदेश में सोमवार को कोरोना वायरस के 11 और मामले आए हैं। हमीरपुर जिले में नोएडा से लौटा बड़सर का 29 वर्षीय युवक कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। यह डुंगरी में संस्थागत क्वारंटीन था। दिल्ली से लौटा बड़सर का 53 वर्षीय व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। यह दियोटसिद्ध में संस्थागत क्वारंटीन था। हमीरपुर जिले में भी आज 11 मरीज स्वस्थ हो गए हैं।  उधर, कांगड़ा जिले में भी दो पॉजिटिव केस आए हैं। मुजफ्फरनगर  से लौटा नूरपुर वर्तमान में होम क्वारंटीन व्यक्ति पॉजिटिव निकला है। संक्रमित को जोनल अस्पताल धर्मशाला शिफ्ट किया जा रहा है। वहीं, मुंबई से लौटा जयसिंहपुर की महिला भी कोरोना पॉजिटिव निकली है। महिला को कोविड केयर सेंटर डाढ भेजा जा रहा है। वहीं मंडी जिले में भी दो कोरोना पॉजिटिव केस आए हैं। मंडी जिले के सुंदरनगर का रोपा निवासी युवक कोरोना पॉजिटिव निकला है।

वह 29 जून को आबू धाबी से आया था। उसे सुंदरनगर शहर के एक होटल में क्वारंटीन किया गया था। सोमवार को आई रिपोर्ट में वह  पॉजिटिव पाया गया है। रविवार शाम को आई रिपोर्ट में वह निगेटिव निकला था। सोमवार को रिपोर्ट में पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई है। कांगड़ा जिले में सोमवार को 11 और कोरोना मरीज स्वस्थ हो गए हैं। इन्हें अब सात दिन के होम आईसोलेशन में रहना होगा।  वहीं, सोलन में कोरोना के तीन नए मामले आए हैं। तीनों संक्रमित मरीज अर्की उपमंडल के हैं। इनमें से एक मामला डुमैहर के पपलोटा में पूर्व में संक्रमित आए सेना के जवान का बेटा है। स्वास्थ्य विभाग ने रेंडम आधार पर बेटे का सैंपल लिया था जो पॉजिटिव आया है। जबकि दो अन्य मामले बाहरी राज्यों से लौटे लोगों के हैं।

जिन्हें आईपीएच विश्राम गृह अर्की में क्वारंटीन किया गया था। ऊना जिले के महतपुर के 45 वर्षीय व्यक्ति की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है।  कोरोना पॉजिटिव पाया गया व्यक्ति ऊना उपमंडल तहत एसबीआई मैहतपुर शाखा में कार्यरत है। इसमें फ्लू के लक्षणों के चलते सैंपल लिया गया था। संक्रमित को कोविड केयर सेंटर खड्ड शिफ्ट किया जा रहा है। वहीं बिलासपुर के घुमारवीं में भी दिल्ली से लौटे व्यक्ति की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। इसके साथ ही राज्य में कोरोना संक्रमितों का कुल आंकड़ा 1076 पहुंच गया है। राज्य में 776 कोरोना मरीज ठीक हो गए हैं। 306 सक्रिय मामले हैं। अब तक नौ की मौत हो चुकी है। 13 मरीज प्रदेश से बाहर चले गए हैं। 

 
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

हिमाचल: पिकअप गहरी खाई में गिरी, सगे भाइयों समेत तीन की मौत

हिमाचल के सिरमौर जिले में सोलन-यशवंतनगर-सोलन सड़क पर हुए एक सड़क हादसे में दो सगे भाइयों सहित तीन लोगों की मौत हो गई। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिए हैं। राजगढ़ पुलिस ने मामला दर्ज कर हादसे के कारणों की छानबीन शुरू कर दी है। जानकारी के अनुसार सोमवार दोपहर बाद सोलन से चौपाल की ओर जा रही पिकअप (एचपी 63-1999) श्लैच पुल के समीप 150 मीटर गहरे गड्ढे में जा गिरी। हादसे की सूचना मिलते ही स्थानीय लोग मौके पर पहुंचे। साथ ही फटी पटेल पुलिस चौकी को भी संपर्क किया। 

हादसे में चालक राकेश (32) और उसके भाई राजेश (38) पुत्र चेतराम निवासी बझाशला तहसील ठियोग, जिला शिमला और इसी के साथ लगते सौंथल गांव के रहने वाले हरिवल्लभ शर्मा (40) पुत्र बद्रीनाथ शर्मा की मौके पर मौत हो गई। पुलिस ने स्थानीय लोगों के सहयोग से काफी मशक्कत के बाद शवों को क्षतिग्रस्त वाहन से निकाला और सिविल अस्पताल राजगढ़ पहुंचाया। तीनों लोग सोलन मंडी में नगदी फसल में बेचने के बाद घर लौट रहे थे।

दोपहर बाद करीब सवा एक बजे पिकअप श्लैच के समीप पहुंची तो चालक अचानक संतुलन खो बैठा और वाहन साथ लगते गहरे खड्ड में जा गिरा। पुलिस के साथ स्थानीय लोगों ने शवों को गहरी खाई से निकाला। उधर, डीएसपी राजगढ़ भीष्म सिंह ठाकुर ने बताया कि शवों को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया गया है। पुलिस हादसे के कारणों की जांच कर रही है। एसडीएम राजगढ़ नरेश वर्मा ने प्रशासन की ओर से मृतक के परिवारों को 15-15 हजार रुपये की फौरी राहत प्रदान की है। 
... और पढ़ें

बजौरा चेक पोस्ट से लौटाए पंजाब-हरियाणा के 19 सैलानी, कोविड-19 की रिपोर्ट के बिना घूमने पहुंचे थे

राज्य सरकार ने शर्तों के साथ सैलानियों के सैर सपाटे के लिए प्रदेश के द्वार खोल दिए हैं। लेकिन हिमाचल के पड़ोसी राज्यों के सैलानी शर्तों को पूरा किए बिना ही पहुंच रहे हैं। सोमवार को स्वारघाट होकर कुल्लू की सीमा पर पहुंचे पंजाब, हरियाणा व चंडीगढ़ के 19 सैलानियों को लौटा दिया गया। बजौरा चेक पोस्ट पर पहुंचे इन लोगों के पास कोविड-19 की कोई भी रिपोर्ट नहीं थी। 

पुलिस ने हरियाणा के 10, पंजाब और मोहली से आए नौ पर्यटकों को वापस भेजा है। बिना कोरोना जांच रिपोर्ट ये लोग स्वारघाट से कुल्लू कैसे पहुंच गए, इस पर भी सवाल खड़े हो गए हैं। बिलासपुर और जिला मंडी से होकर कुल्लू पहुंचे इन लोगों को कहीं भी चेक नहीं किया गया। पुलिस अधीक्षक कुल्लू गौरव सिंह ने कहा कि जो पर्यटक प्रदेेश सरकार द्वारा जारी शर्तों को पूरा नहीं करेगा, उसे प्रवेश नहीं दिया जाएगा। जिला के भीतर पुलिस ने 11 चेक पोस्ट स्थापित किए हैं।
... और पढ़ें

लोकसभा की तर्ज पर तय किया जाएगा हिमाचल विस का सत्र: भारद्वाज

शिक्षा, विधि एवं संसदीय कार्य मंत्री सुरेश भारद्वाज ने सोमवार को बताया कि कोरोना महामारी के कारण लोकसभा और राज्यसभा की तर्ज पर ही हिमाचल विधानसभा सत्र तय किया जाएगा। साथ ही जो भी संवैधानिक आवश्यकता होगी उसे पूरा किया जाएगा। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार की ओर से देश के लिए 20 लाख करोड़ रुपए का आर्थिक पैकेज हर वर्ग के लिए हितकारी है।

इससे पेंशन धारकों तथा महिलाओं को उनके खातों में सीधा पैसा जमा किया जा रहा है। इसी प्रकार से हिमाचल सरकार द्वारा मजदूरों को दो हजार रुपये की किस्त भी सीधे बैंक खातों में जमा की जा रही है। उन्होंने कहा कि अनलॉक की स्थिति में हमें सभी जरूरी मानकों एवं सलाहों को अपनाना अपने जीवन का अनिवार्य अंग बनाना है। भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में जाने से बचें, आवश्यकता हो तभी घर से निकले और दो मीटर की दूरी बनाएं रखें।
... और पढ़ें

Weather Update: दो दिन पूरे प्रदेश में भारी बारिश और अंधड़ का येलो अलर्ट

शिक्षा, विधि एवं संसदीय कार्य मंत्री सुरेश भारद्वाज
राजधानी शिमला में सोमवार दोपहर बाद बादल झमाझम बरसे। प्रदेश के अन्य क्षेत्रों में मौसम मिलाजुला बना रहा। धूप खिलने के साथ हल्के बादल भी छाए रहे। मंगलवार को भी प्रदेश के कई क्षेत्रों में बारिश होने के आसार हैं। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने नौ और दस जुलाई को पूरे प्रदेश में भारी बारिश और अंधड़ का येलो अलर्ट जारी किया है। 12 जुलाई तक प्रदेश में मौसम खराब रहने का पूर्वानुमान है। सोमवार को शिमला में दोपहर तक मौसम साफ रहा। दोपहर बाद करीब चार बजे शहर में बादल बरसे। शाम के समय शहर में दोबारा मौसम साफ हो गया। अन्य जिलों में मौसम साफ रहा।

सोमवार को ऊना में अधिकतम तापमान 36.7, बिलासपुर में 35.5, हमीरपुर में 35.2, सुंदरनगर में 32.7, भुंतर में 32.4, चंबा में 32.2, कांगड़ा में 32.5, धर्मशाला में 31.6, सोलन में 30.5, नाहन में 29.5, कल्पा में 24.6, शिमला में 24.3, केलांग में 22.6 और डलहौजी में 20.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। उधर, रविवार रात को ऊना में न्यूनतम तापमान 23.8, हमीरपुर में 22.8, बिलासपुर में 22.5, कांगड़ा में 21.4, मंडी में 19.8, शिमला में 16.2, कल्पा में 12.1, मनाली में 12.0 और केलांग में 9.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
... और पढ़ें

85 के हुए धर्मगुरु दलाईलामा, बोले- 110 साल तक जीऊंगा

पिछले 61 वर्षों से भारत में निर्वासन का जीवन जी रहे तिब्बती धर्मगुरु दलाईलामा सोमवार को 85 बसंत के हो गए। भारत में रहकर तिब्बत की स्वायत्तता की उम्मीद लगाकर संघर्षपूर्ण जीवन जीने वाले दलाईलामा का जन्मदिन पूरी दुनिया में कोरोना महामारी की वजह से साधारण तरीके से मनाया गया।  दलाईलामा के मैकलोडगंज स्थित महल में पहली बार कोई भी भव्य समारोह आयोजित नहीं किया गया।  दलाईलामा ने अपना पूरा दिन रोजाना की तरह बिताया। उन्होंने कहा कि वे 110 साल तक जीएंगे। 

उन्होंने अपने महल में व्हाट्सएप, फेसबुक, और ई-मेल पर कई हस्तियों के बधाई संदेश सुने। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज बुश, अमेरिका की स्पीकर नैंसी पेलोसी, मोदी सरकार के केंद्रीय मंत्री किरण रिजिजू, भारत में अमेरिका के राजदूत केनीथ ईयान जस्टर, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव, हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार, केंद्र सरकार में पूर्व विदेश सचिव निरुपमा राव सहित दुनिया भर की कई हस्तियों ने दलाईलामा को जन्मदिन की बधाई दी।

मैकलोडगंज स्थित निर्वासित तिब्बत सरकार के मुख्यालय में प्रधानमंत्री डॉ. लोबसंग सांग्ये सहित तिब्बती संसद ने केक काटकर साधारण रूप से धर्मगुरु का जन्मदिन मनाया। सभी ने दलाईलामा की लंबी आयु की प्रार्थना की। सोशल मीडिया पर दलाईलामा को हजारों बधाई संदेश भेजे गए। सोशल मीडिया में कई लोगों ने अपनी डीपी और स्टेटस धर्मगुरु को बनाया। उधर, दुनिया भर से लाखों बधाई संदेश मिलने के बाद दलाईलामा ने भी अनुयायियों के लिए भावुक संदेश दिया।

अपने जनसंदेश में कहा कि कोरोना के कारण प्रतिबंधों की वजह से मेरा जन्मदिन मनाने को बड़े समारोह आयोजित करना संभव नहीं है। इसकी जरूरत भी नहीं है। अगर अनुयायी जन्मदिन मनाना ही चाहते हैं तो वे एक हजार बार मणि मंत्र (ओम मणिपद्ये हूं) का जाप करें। लोग मेरा जन्मदिन मनाने को फिजूलखर्ची न करें। दलाईलामा ने अपने संदेश में कहा कि आर्यावलोकितेश्वर मेरे देव हैं और मैं उनका संदेशवाहक हूं।

मेरे अनेक जन्मों में आर्यावलोकितेश्वर से संबंध है। जब हम भारत में निर्वासन में आए थे तो मैकलोडगंज में उनकी की प्रतिमा पश्चिमी तिब्बत से यहां लाई गई थी। उन्होंने मेरे साथ रहना पसंद किया इसलिए मैं उनके कार्यवाहक के रूप में काम करना हूं। प्रतिमा को देखकर कभी कभी तो मुझे लगता है कि वे मुझ पर मुस्कुराते हैं। मेरे अनुयायी मेरे जन्मदिन पर आर्यावलोकितेश्वर का देव की तरह और मेरा एक भिक्षु के रूप में ध्यान करें।
... और पढ़ें

सावन माह शुरू, बिजली महादेव के नहीं हो सकेंगे दर्शन, कोरोना के कारण अभी तक नहीं खुले कपाट

कुल्लू जिले में सोमवार से सावन का महीना शुरू हो गया है। कोरोना के कारण सावन महीने में हर साल की तरह इस बार मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ नहीं होगी। वैश्विक महामारी कोरोना के इस दौर में जिले के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल बिजली महादेव के द्वार भक्तों के लिए अभी नहीं खुलेंगे। सावन महीने में देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं को फिलहाल बिजली महादेव के शिवलिंग के दर्शन के लिए इंतजार करना होगा।

मंदिर प्रबंधन को प्रदेश सरकार की ओर से जारी होने वाले दिशा-निर्देशों का इंतजार है। सरकार की ओर से जारी निर्देशों के बाद ही मंदिर कमेटी की ओर से आगामी निर्णय लिया जाएगा। गौर रहे कि चारों ओर से पहाड़ियों के बीचोंबीच इस मनोरम स्थल में बिजली महादेव विराजमान रहते हैं। मान्यता है कि यहां पर लोगों की मनोकामना पूरी होती है। यहां पर वैसे सालभर श्रद्धालुओं के आने का सिलसिला जारी रहता है।

अकेले सावन महीने में ही यहां पर करीब दो लाख से अधिक श्रद्धालु दर्शन करते हैं। मंदिर में कई संस्थाओं की ओर से भंडारे का भी आयोजन किया जाता है। उधर, इस संबंध में बिजली महादेव के कारदार अमरनाथ नेगी ने कहा कि मंदिर अभी बंद है। मंदिर खोलने को लेकर सरकार की ओर से अभी निर्देश प्राप्त नहीं हुए हैं। निर्देश मिलने पर उसका पालन किया जाएगा।
... और पढ़ें

एक लाख करोड़ के निवेश को धरातल पर उतारने की कवायद, सीएम ने अधिकारियों के साथ की बैठक

हिमाचल में एक लाख करोड़ रुपये के निवेश को धरातल पर उतारने की कवायद शुरू हो गई है। सोमवार को मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने उद्योग विभाग की समीक्षा बैठक में अधिकारियों को निवेशकों से निरंतर संपर्क बनाने के निर्देश दिए। सीएम ने कहा कि एकल खिड़की पोर्टल के माध्यम से 6100 करोड़ रुपये निवेश के 193 परियोजना प्रस्ताव मंजूर किए गए हैं। 

सीएम ने अधिकारियों को विद्युत वाहनों, विद्युत और इलेक्ट्रॉनिक्स, आईटी हार्डवेयर आदि के लिए कार्य योजना तैयार करने का सुझाव भी दिया। उन्होंने कहा कि व्यापार में सुगमता सुनिश्चित करने के लिए विशेष बल दिया जाना चाहिए। सभी प्रक्रियाओं, नियमों और अधिनियमों को सरल बनाया गया है। धारा-118 के अंतर्गत स्वीकृतियों को भी सरल और ऑनलाइन किया गया है।

उद्योगपतियों से संबधित 11 विभागों की लगभग 37 सेवाओं को ऑनलाइन किया गया है जिससे उन्हें कार्यालयों के चक्कर काटने की आवश्यकता नहीं होगी।
सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उपक्रम सुविधा और संचालन 2019 के अंतर्गत ऑनलाइन स्वयं प्रमाणन को क्रियाशील बनाया गया है। बल्क ड्रग पार्क शुरू करने का मामला प्रभावशाली तरीके से केंद्र सरकार से उठाया है। ऊना के टाहलीवाल में सामान्य इंजीनियरिंग क्लस्टर को मंजूरी दी गई है, जिसमें मिनी टूल कक्ष, आधुनिक उपकरणों, परीक्षण प्रयोगशाला और प्रशिक्षण केंद्र की सुविधा होगी। 

मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना की धीमी रफ्तार से जयराम चिंतित 
सीएम जयराम ने कहा कि मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना के अंतर्गत 140 करोड़ रुपये के निवेश के साथ प्रदेश में 728 इकाइयां स्थापित की गई हैं। योजना की धीमी रफ्तार पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि इस योजना का प्रभावी कार्यान्वयन सुनिश्चित करने के लिए अधिकारियों की एक टीम नामित की जानी चाहिए, जिससे अधिकतम युवा इससे लाभान्वित हो सकें। 
... और पढ़ें

पुराने दिनों की तरह सैलानी निहार सकते हैं हिमाचल की वादियां, ये हैं प्रवेश करने के नियम

हिमाचल में सोमवार से बिना ई-पास लोग प्रवेश कर सकेंगे। सैलानियों के लिए भी प्रदेश की सीमाएं सोमवार से खोल दी गई हैं। शुक्रवार शाम को राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने बाहरी राज्यों से हिमाचल में आने वाले सैलानियों को 48 घंटे पहले पंजीकरण करवाने और 72 घंटे पहले की निगेटिव करोना रिपोर्ट के आधार पर प्रवेश देने का फैसला लिया है। शुक्रवार शाम या शनिवार को पंजीकरण करवाने वाले सैलानियों के 48 घंटे सोमवार को पूरे हो जाएंगे।

ऐसे में संभावित है कि सोमवार से प्रदेश में सैलानियों की आवाजाही शुरू हो सकती है। हिमाचल आने वाले सैलानियों की जांच के लिए सभी बॉर्डर एरिया पर संबंधित जिला प्रशासन के अधिकारियों की जिम्मेवारी सुनिश्चित की गई है। ये अधिकारी बाहरी राज्यों से आने वाले सैलानियों के दस्तावेजों को जांचेंगे। दस्तावेज सही पाए जाने के बाद ही सैलानियों को प्रदेश में प्रवेश दिया जाएगा। आईसीएमआर से पंजीकृत लैब से कोरोना की जांच में निगेटिव आने वालों को ही सरकार प्रदेश में आने की मंजूरी देगी। ई पास पोर्टल पर सैलानियों का पंजीकरण होने के बाद पर्यटन विभाग के अधिकारी प्रदेश में इनकी लगातार मॉनीटरिंग भी करेंगे। 
 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us