विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Shimla

अस्पताल

30 मार्च 2020

Shimla

एमसी

30 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

किसी परिचय के मोहताज नहीं लोक गायक जगदीश

हिमाचली लोक कलाकारों में जगदीश शर्मा किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। बंजार के छोटे से गांव के जगदीश युवाओं के बीच खास जगह बना चुके हैं।

16 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

शिमला

मंगलवार, 31 मार्च 2020

ड्यूटी से घर लौट रहे लोनिवि बेलदार की खाई में गिरकर मौत

हिमाचल के चंबा जिले के सुल्तानपुर में ड्यूटी के बाद घर लौट रहे लोक निर्माण विभाग के बेलदार की ठैडू़ नामक जगह पर पांव फिसलने से खाई में गिरकर मौत हो गई। घटना रविवार देर शाम की है। मृतक की पहचान अछरू, पुत्र बिजो निवासी लुखनाड़ी डाकघर मैहला के रूप में हुई है। 

बताया जा रहा है कि कर्फ्यू की वजह से गांव के रास्ते में अछरू के अलावा अन्य कोई भी आवाजाही नहीं कर रहा था। इसके चलते घटना का किसी को भी पता नहीं चला। अछरू रात को घर नहीं पहुंचे तो परिजनों ने तलाश शुरू कर दी लेकिन कुछ पता नहीं चला।

सोमवार सुबह गांव के व्यक्ति ने अछरू को खाई में पड़ा देखा। सूचना मिलते ही परिजन व ग्रामीण अछरू को चंबा मेडिकल कॉलेज ले गए लेकिन उनकी मौत हो चुकी थी।

पुलिस ने चंबा मेडिकल कॉलेज में पोस्टमार्टम करवाने के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है। पुलिस अधीक्षक डॉक्टर मोनिका ने बताया कि पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। 
... और पढ़ें

कोरोना से लड़ने को प्रधानाचार्य संघ देगा एक दिन का वेतन, एसजेवीएन देगा पांच करोड़

हिमाचल मुख्याध्यापक और प्रधानाचार्य संघ ने भी एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में देने का फैसला लिया है। संघ के प्रदेश अध्यक्ष विजय गौतम और महासचिव ध्रुव पटियाल ने बताया कि संघ ने कोविड 19 जैसे महामारी से निपटने के लिए सरकार को वित्तीय सहयोग देने का फैसला लिया है। उन्होंने बताया कि प्रदेश कार्यकारिणी व जिला इकाइयों से चर्चा के बाद यह फैसला लिया गया है। उन्होंने सरकार को आश्वस्त करते हुए कहा कि इस संकट की घड़ी में उन्हें जो भी काम सौंपा जाएगा, उसका पूरी निष्ठा से पालन किया जाएगा।

 पांच करोड़ देगा एसजेवीएन
वहीं, एसजेवीएन पीएम केयरस फंड में पांच करोड़ की राशि देगा। एसजेवीएन के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नंदलाल शर्मा ने बताया कि एक जिम्मेदार कारपोरेट निकाय के रूप में और कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई की गंभीरता को समझते हुए यह फैसला लिया है। प्रधानमंत्री ने प्राइम मिनिस्टर सिटीजन असिस्टेंट एंड रिलीफ इन इमरजेंसी सिचुएशन फंड (पीएम केयरस फंड) नामक चैरिटेबल ट्रस्ट स्थापित किया है। इस फंड का उपयोग एक राष्ट्रीय फंड के रूप में संकट की स्थिति में कोविड-19 महामारी जैसी आपात स्थितियों से निपटने तथा प्रभावितों को राहत पहुंचाने के लिए किया जाएगा।
 
कोविड-19 के फैलाव के खिलाफ लड़ाई में अस्पतालों की ओर से वेंटिलेटर खरीदने में मदद देने, फेस मॉस्क, ग्लब्स जैसे व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण वितरित करने, अपने परियोजना अस्पतालों में क्वारंटाइन यूनिटें लगाने, जरूरतमंदों को भोजन तथा जरूरी सामान वितरित करने जैसे कार्यों के रूप में एसजेवीएन करीब 3 करोड़ की पहले ही प्रतिबद्धता कर चुका है। एसजेवीएन के कर्मचारियों ने भी वेतन में से 32 लाख का अंशदान दिया है।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस: अफवाह फैलाने पर एडीपीओ पर एफआईआर

कोरोना वायरस के चलते देश में लॉकडाउन और कर्फ्यू के दौरान बाहरी राज्यों से हिमाचल सीमा में दाखिल हो रहे लोगों के बारे में अफवाह फैलाई तो खैर नहीं। पुलिस ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त एक्शन ले रही है। बताया जा रहा है कि किसी ने जिले के बैरियर से लोगों की ओर से अवैध रूप से वाहन ले जाने की सूचना सोशल मीडिया पर डाली थी। पुलिस ने सोशल मीडिया में झूठी अफवाह फैलाने के आरोप में एडीपीओ पर डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट के तहत केस दर्ज किया है। जानकारी के अनुसार सोमवार को पुलिस ने ऐसे ही एक मामले में साथ लगते गांव भटोली निवासी रमन सहोड़ के खिलाफ 188 आईपीसी के तहत मामला दर्ज किया है।

रमन सहोड़ एडीपीओ (सहायक जिला शारीरिक शिक्षा अधिकारी) हैं। एसपी डॉ. के गोकुलचंद्रन ने बताया कि उक्त व्यक्ति ने रात को सोशल मीडिया में अफवाह फैलाई कि लोग कर्फ्यू के दौरान पुलिस नाके भटोली तथा बास में वाहनों से आ जा रहे हैं। पुलिस ने छानबीन के दौरान उक्त बात को गलत पाया। लिहाजा, लोगों को गुमराह करने तथा अफवाह फैलाने के चलते उक्त अधिकारी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। एसपी ने कहा कि सोशल मीडिया पर किसी भी तरह की अफवाह फैलाने वाली अगर कोई जानकारी शेयर करता पाया गया तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

हिमाचल: घर से ही सेवानिवृत हो जाएंगे सरकारी कर्मी, पीएफ निकालने की शर्तों में ढील

31 मार्च 2020 को हिमाचल सरकार के कई अधिकारी व कर्मचारी घर पर बैठे ही सेवानिवृत हो जाएंगे। प्रदेश सरकार ने कर्फ्यू व लॉकडाउन के चलते अब 31 मार्च को सेवानिवृत हो रहे कर्मचारियों को चार्ज छोड़ने या किसी अन्य अफसर को देने के लिए कार्यालय न आने के आदेश जारी कर दिए हैं। सरकार ने कहा है कि जिस अधिकारी-कर्मचारी की इस लॉकडाउन के दौरान सेवा विस्तार या पुनर्नियुक्ति के आदेश जारी नहीं हुए हैं वह 31 मार्च को सेवानिवृत हो जाएंगे। उनकी सेवानिवृति की प्रक्रिया लॉकडाउन खत्म होने के बाद अलग से आदेश जारी कर पूरी की जाएगी। 

ईपीएफ से निकाल सकेंगे 75 प्रतिशत रकम
 वहीं, कर्मचारी भविष्य निधि सगंठन (ईपीएफओ) ने कोरोना वायरस को महामारी घोषित होने पर पीएफ राशि निकालने की शर्तों में ढील व छूट दी है। सरकार की ओर से घोषित महामारी अथवा विश्वव्यापी बीमारी से प्रभावित क्षेत्र की किसी स्थापना या फैक्टरी में कार्यरत भविष्य निधि योजना के किसी भी सदस्य से आवेदन प्राप्त होने पर ऐसे सदस्य के भविष्य निधि खाते से उसके तीन माह के मूल वेतन और महंगाई भत्ते या उसके खाते में जमा राशि के 75 प्रतिशत तक के नॉन रिफंडेबल अग्रिम, जो भी राशि कम है की निकासी कर सकते हैं। इसकी अधिसूचना सरकार ने 28 मार्च 2020 को कर दी है।  इसकी पुष्टि क्षेत्रीय भविष्य निधि आयुक्त सुदर्शन कुमार ने की है।

तहसीलदारों, नायब तहसीलदारों को एक माह का सेवाविस्तार
सरकार ने करोना वायरस के खतरों को देखते हुए तहसीलदारों और नायब तहसीलदारों को एक माह का सेवावस्तार दिया है, जो 31 मार्च, 2020 को रिटायर हो रहे हैं। प्रदेश के राजस्व विभाग के प्रधान सचिव ओंकार शर्मा ने सोमवार को आदेश भी जारी कर दिए हैं। ये तहसीलदार और नायब तहसीलदार प्रदेश से विभिन्न हिस्सों में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। इन आदेशों में कहा गया है कि कोरोना को देखते हुए इनकी 30 अप्रैल तक सेवाएं जारी रहेंगी। 
... और पढ़ें
हिमाचल सरकार हिमाचल सरकार

हिमाचल को कोरोना वायरस मुक्त बनाने के लिए इस दिन से शुरू होगा बड़ा अभियान

हिमाचल सरकार हिमाचल को कोरोना मुक्त बनाने के लिए अब बड़ा अभियान शुरू करने जा रही है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि एक अप्रैल से एक्टिव केस फाइंडिंग अभियान के तहत स्वास्थ्य विभाग की टीमें घर-घर जाकर लोगों को कोविङ-19 के लक्षणों की जानकारी देंगी। इस अभियान के तहत दो-दो लोगों की टीमें हर व्यक्ति के स्वास्थ्य के बारे में भी जानकारी लेंगी और गूगल फार्म से विभाग के साथ साझा करेंगी।

इसके लिए आशा वर्करों की मदद ली जाएगी। यह अभियान प्रतिदिन सुबह 9 से शाम के 4 बजे तक चलेगा। मुख्यमंत्री ने सोमवार को प्रदेश के उपायुक्तों और पुलिस अधीक्षकों के साथ वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से बातचीत करते हुए निर्देश दिए कि कोविड-19 वायरस संक्रमण के दृष्टिगत कुछ होटलों, गेस्ट हाउस और धर्मशालाओं को चिह्नित किया जाए, जहां लोगों को बेहतर सुविधाओं के साथ क्वारंटीन किया जा सके। 

वहीं, अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य आरडी धीमान ने कहा कि 60 साल से अधिक आयु के व्यक्तियों से अनुरोध किया गया है कि वे घर पर ही रहें व घर में आगंतुकों को मिलने से बचें। ऐसे व्यक्ति अपनी दैनिक निर्धारित दवाइयां नियमित रूप से लें। अस्पताल आने से बचें और फोन पर ही डॉक्टर से सलाह लें।
212 लोगों की कोविड-19 को लेकर जांच की
कोरोना के चलते प्रदेश में अब तक 3085 में से 937 लोगों ने 28 दिन की जरूरी निगरानी अवधि को पूरा कर लिया है। अब तक प्रदेश में 212 लोगों की कोविड-19 को लेकर जांच की जा चुकी है। यह जानकारी अतिरिक्त मुख्य सचिव आरडी धीमान ने दी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 10 लोगों के टांडा में कोविड-19 के प्रति नमूने लिए गए। सभी की जांच रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई है। शिमला में लिए गए तीन लोगों के नमूनों की रिपोट भी नेगेटिव आई है।
... और पढ़ें

कोरोना से निपटने के लिए केंद्र और राज्य सरकार के प्रयास सराहनीय: वीरभद्र

पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने अर्की में ब्लीचिंग पाउडर के छिड़काव और कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए अपनी विधायक निधि से छह लाख की राशि प्रदान की है। यह राशि उन्होंने अपने विधानसभा क्षेत्र में इस महामारी से निपटने और सुरक्षा उपायों को दिए हैं। महामारी से निपटने के लिए केंद्र और राज्य सरकार के उठाए गए कदमों को उचित ठहराते हुए कहा है कि लोगों को सरकार के सभी दिशा निर्देश का पालन करना चाहिए।  वीरभद्र सिंह ने कहा है कि देश मे इस आपदा के समय कांग्रेस पार्टी भी सरकार के साथ खड़ी है। यह समय धैर्य से रहने का है। उन्हें अपनी सुरक्षा के प्रति जागरूक रहते हुए असहाय और जरूरतमंद लोगों की सहायता के लिए भी एकजुट होकर आगे आना है। यह एक वायरस है जो एक दूसरे के संपर्क में आने से फैलता है इसलिए सभी को अपने अपने घरों में सुरक्षित रहना है। सिंह ने इस प्रदेश में अन्य राज्यों की अपेक्षा संभावित कोरोना के मामले बहुत कम है। प्रदेश सरकार से कहा है कि उन्हें सभी जरूरतमंद लोगों की पूरी देखरेख करते हुए सुनिश्चित बनाना है कि कोई भी मजदूर या श्रमिक कर्फ्यू के दौरान कही भी भूखा प्यासा न रहे। उन्होंने अर्की के उपमंडल अधिकारी से इस क्षेत्र में किसी भी समस्या के लिए उनसे तुरंत संपर्क करने को कहा है। 


शिक्षा मंत्री ने की एक दिन का वेतन देने की अपील
वहीं, शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने शिक्षा विभाग के सभी कर्मचारियों, अधिकारियों व अध्यापकों से मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की ओर से आरंभ किए गए कोविड-19 फंड में एक दिन का वेतन देने की अपील की है। उन्होंने कहा कि शिक्षा विभाग के तहत हिमाचल प्रदेश कॉलेज शिक्षक यूनियन व शिक्षक महासंघ द्वारा इस संबंध में पहल की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि प्रदेश का प्रत्येक वर्ग सामर्थ्य अनुरूप अपना-अपना सहयोग इस संकट की घड़ी में अवश्य प्रदान करें। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचाव का सटीक उपाय परस्पर दूरी बनाएं रखना है, जिसे अनिवार्य रूप से सभी अपनाएं। घरों में रह कर अपने आप को सेल्फ क्वारंटीन कर इससे बचा जा सकता है। उन्होंने कहा कि इस संबंध में सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों में हम परोक्ष रूप से अपना सहयोग प्रदान कर इस भंयकर विश्वव्यापी बिमारी का मिलकर सामना करने में अपना सहयोग प्रदान करें।
 
... और पढ़ें

हिमाचल में आवश्यक और गैर आवश्यक वस्तुओं के परिवहन की अनुमति: जयराम

हिमाचल प्रदेश में आवश्यक और गैर आवश्यक वस्तुओं सभी के परिवहन की अनुमति होगी। यह जानकारी देते हुए सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि सरकार कोविड-19 वायरस के कारण किए गए लॉकडाउन के दौरान लोगों को हरसंभव सहायता पहुंचा रही है। सीएम ने कहा कि भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार राज्य आपदा प्रतिक्रिया कोष के तहत जारी किए गए धन का उपयोग अब लॉकडाउन में फंसे लोगों के लिए भोजन के प्रावधान के लिए किया जा सकता है, जो पहले आपदा संबंधी गतिविधियों के लिए ही इस्तेमाल किया जाता था।  उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन को भी इससे संबंधित निर्देश जारी किए गए हैं। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन लॉकडाउन के कारण फंसे हुए लोगों की मदद कर रहा है और यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि उनके लिए भोजन और रहने की उचित व्यवस्था की जाए। इसी तरह चंडीगढ़ या दिल्ली में रह रहे छात्र और वहां कार्य करने वाले लोग, जो लॉकडाउन के कारण फिलहाल घर वापस नहीं आ सकते, उनके लिए हिमाचल भवन चंडीगढ़ और दिल्ली में व्यवस्था कर दी गई है।

15 फरवरी के बाद 6,943 मजदूर आए
सीएम ने कहा कि लॉकडाउन के कारण फंसे हुए प्रवासी मजदूरों के लिए आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए जिलेवार समेकित रिपोर्ट तैयार की गई है। उन्होंने कहा कि 15 फरवरी 2020 के बाद हिमाचल प्रदेश के विभिन्न गांवों में कुल 6,943 मजदूर आए, लेकिन किसी में भी कोविड-19 के संक्रमण के लक्षण नहीं पाए गए। उन्होंने कहा कि 9,629 प्रवासी मजदूरों को मुफ्त राशन वितरित किया गया है। 1,735 प्रवासी मजदूरों के लिए विभिन्न पंचायतों की ओर से ठहरने की व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान लोगों की आवाजाही कम करने के लिए उन्हें, राशन और चिकित्सा सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं। उन्होंने लोगों को घर में ही रहने में मदद करने के लिए स्वयंसेवकों के माध्यम से होम डिलीवरी की शुरुआत कर दी गई है।
... और पढ़ें

अफवाहों पर एचआरटीसी प्रबंधन ने कहा- कर्फ्यू में नहीं चलेंगी बसें

सीएम जयराम ठाकुर- फाइल फोटो
प्रदेश में लगाए गए कर्फ्यू के दौरान एचआरटीसी की किसी भी बस का संचालन नहीं होगा। सोशल मीडिया पर प्रसारित हो रही फेक न्यूज को लेकर एचआरटीसी प्रबंधन ने साफ किया है कि जब तक कर्फ्यू चल रहा है तब तक बसें चलाने का प्रश्न ही नहीं उठता। प्रदेश सरकार के आदेशों पर ही एचआरटीसी अब बसों का संचालन शुरू करेगा।

सोशल मीडिया पर एचआरटीसी बसें चलने की फेक न्यूज को लेकर हिमाचल प्रदेश साइबर पुलिस स्टेशन शिमला ने भी अपने फेसबुक पेज पर स्पष्टीकरण दिया है। एचआरटीसी के मंडलीय प्रबंधक ट्रैफिक पंकज सिंघल ने बताया कि कर्फ्यू के दौरान बसें संचालित चलाने का सवाल ही नहीं उठता।

शरारती तत्वों ने यह फेक न्यूज सोशल मीडिया पर प्रसारित की है। प्रदेश सरकार के आदेशों पर ही बसों का संचालन शुरू किया जाएगा। कर्फ्यू के दौरान एचआरटीसी बसें चलने की फेक न्यूज सोशल मीडिया पर प्रसारित करने वालों के खिलाफ पुलिस में एफआईआर दर्ज करने की भी तैयारी है।
... और पढ़ें

चंबा जिले में फोन पर बारह घंटे परामर्श देंगे अब डॉक्टर

कर्फ्यू के दौरान लोग मामूली बीमारी के उपचार को मेडिकल कॉलेज न आएं, इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने दस डॉक्टरों के नाम व मोबाइल नंबरों की सूची जारी की है। ये लोगों को मोबाइल फोन पर उनकी बीमारी के लिए दवा बताएंगे। मरीजों को ऐसी दवा बताई जाएगी, जिसे मरीज डॉक्टर की पर्ची के बिना भी केमिस्ट की दुकान से खरीद सकेंगे।

अगर किसी को दवाई लेने के लिए डॉक्टर की पर्ची की आवश्यकता पड़ी तो ऐसे मरीज को व्हाट्सऐप पर डॉक्टर की पर्ची जारी की जाएगी। लोग सुबह 10 से रात के 10 बजे तक किसी भी समय डॉक्टरों से मोबाइल पर चिकित्सीय परामर्श ले सकते हैं। 

मोबाइल पर डॉक्टर सेवा के साथ स्वास्थ्य विभाग जिले की 21 पीएचसी में टेली मेडिसिन सेवा भी शुरू कर रहा है। मरीज ऑनलाइन डॉक्टर से परामर्श ले सकते हैं। पांगी और भरमौर के टेली मेडिसिन सेंटर में विशेषज्ञ पहले से मरीजों को परामर्श दे रहे हैं। विभाग ऐसे स्वास्थ्य केंद्रों का चयन कर रहा है, जहां कंप्यूटर व इंटरनेट सुविधा है। ऐसे स्वास्थ्य केंद्रों का चयन करने के बाद टेली मेडिसिन सुविधा शुरू की जाएगी।

यह व्यवस्था इसलिए लागू की जा रही है कि अस्पताल व शहर में बिना वजह लोगों की भीड़ एकत्रित न हो सके। भीड़ होने से संक्रमण का खतरा ज्यादा बढ़ जाता है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. राजेश गुलेरी ने बताया कि लोगों को मोबाइल पर परामर्श सुविधा देने के लिए दस डॉक्टरों की सूची जारी की है। ये दस डॉक्टर सुबह दस से रात दस बजे तक मोबाइल पर लोगों को स्वास्थ्य परामर्श देंगे।
... और पढ़ें

गुजरात से एंटी हेलनेट, पड़ोसी राज्य से मंगवाए 20 हजार मधुमक्खियों के डिब्बे

हिमाचल सरकार सेब पेड़ों में परागण को पड़ोसी राज्यों से मधुमक्खियों के डिब्बे मंगवाने के साथ गुजरात से एंटी हेलनेट का प्रबंध कर रही है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में खुले बाजार और उचित मूल्य की दुकानों में चावल, गेहूं, आटा, दालों, तेल और चीनी जैसी आवश्यक खाद्य वस्तुओं का पर्याप्त भंडारण है। वह सोमवार को शिमला में कोविड-19 वायरस के संक्रमण के कारण प्रदेश में लगाए गए कर्फ्यू के दौरान आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति के लिए किए जा रहे प्रबंधों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।

उन्होंने अधिकारियों को मध्यप्रदेश और तेलंगाना सहित अन्य राज्यों से दालों की आपूर्ति का प्रबंध करने के निर्देश दिए। कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से आग्रह किया है कि प्रदेश के लिए आवश्यक खाद्य सामग्री लेकर आने वाले ट्रकों के चालकों की सुविधा को राष्ट्रीय उच्च मार्गों पर कुछ ढाबे खोलने की अनुमति दी जाए। अधिकारी थोक और परचून विक्रेताओं के साथ राज्य नागरिक आपूर्ति निगम के भंडारों में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति प्रभावी तरीके से सुनिश्चित करें।

बागवानी विभाग को निर्देश दिए कि बागवानों और किसानों तक कीटनाशकों, फफूंदनाशकों की सुचारु आपूर्ति करने को कहा। सभी प्रकार की पौध संरक्षण सामग्री किसानों के घरों के समीप उपलब्ध करवाई जाए। कहा कि पड़ोसी राज्यों से मधुमक्खियों के लगभग 20 हजार बक्से मंगवाए जा रहे हैं। गुजरात से 25 लाख वर्ग मीटर एंटी हेलनेट की मांग भी की गई है। 
... और पढ़ें

शिमला में इन परिस्थितियों में ही बनेंगे कर्फ्यू पास, जिले के अंदर और बाहर जाने पर पूरी तरह रोक

कोरोना वायरस खौफ के चलते जिला प्रशासन ने शिमला जिले के अंदर एवं जिले के बाहर आने-जाने पर पूर्ण पाबंदी लगा दी है। उपायुक्त अमित कश्यप ने बताया कि सामाजिक दूरी को बनाए रखने के नियम का कढ़ाई से पालन करने के दृष्टिगत जिला में आपातकाल स्थिति में ही आवागमन के लिए कर्फ्यू पास जारी किए जाएंगे। 

 डीसी ने बताया कि परिवार में हादसे, मृत्यु, आपातकालीन गंभीर चिकित्सा समस्या के अलावा रोगी के डिस्चार्ज होने या गंभीर रोगी को अस्पताल पहुंचाने या आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति की कड़ी में शामिल व्यक्तियों के पास ही बनाएं जाएंगे।

इसके लिए आवेदक covidepass.hp.gov.in पर आवेदन कर सकते हैं, इसकी स्वीकृति एवं अस्वीकृति की सूचना शीघ्र एसएमएस के माध्यम से आवेदक को दे दी जाएगी। जिला में लोगों को कर्फ्यू के दौरान आने वाली किसी भी समस्या के समाधान के लिए जिला के केंद्रीय नियंत्रण कक्ष 1077 पर संपर्क करें। इसके माध्यम से समस्याओं का समाधान किया जाएगा।
... और पढ़ें

हिमाचल: चाय वाले की चाकू से गोदकर हत्या, क्षेत्र में सनसनी

हिमाचल के सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में जलशक्ति विभाग कार्यालय के पास तेजधार हथियार से कई वार कर चाय और बीड़ी-सिगरेट बेचने वाले की निर्मम हत्या कर दी गई। कर्फ्यू के बीच इस वारदात से पूरे क्षेत्र में सनसनी फैल गई है। पुलिस को नशेड़ियों और नशे का अवैध कारोबार करने वालों पर हत्या का शक है। मृतक की पहचान बिहार के सुधीर (50) के रूप में हुई है। बताया जा रहा है कि सोमवार सुबह जल शक्ति विभाग के चौकीदार राजेंद्र सिंह ने सुधीर को देखा।

उन्होंने विभाग के जेई रणदीप के माध्यम से पुलिस को सूचित किया। डीएसपी सोमदत्त व एसएचओ संजय शर्मा टीम सहित मौके पर पहुंचे। मृतक के शरीर पर तेजधार हथियार (चाकू) के करीब आधा दर्जन वार के निशान थे। डीएसपी सोमदत्त ने बताया कि पुलिस हत्या का मामला दर्ज कर जांच में जुटी है। शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम करवाया जा रहा है। पुलिस हर पहलू पर गंभीरता से तफ्तीश कर रही है।
... और पढ़ें

सब्जी मंडी जाने के लिए सुंदर पंसारी चौक तक लगीं लाइनें

शिमला। सोमवार को कर्फ्यू में ढील के दौरान लोअर बाजार में भारी भीड़ उमड़ी। सुबह 10:00 से 1:00 बजे तक कर्फ्यू में ढील के दौरान भारी संख्या में लोग खरीदारी के लिए लोअर बाजार पहुंचे।
सब्जियां खरीदने के लिए भारी संख्या में लोगों के पहुंचने के बाद पुलिस थाना सदर की टीम ने लोगों को सब्जी मंडी के एंट्री प्वाइंट पर कंट्रोल करने के लिए कतारें लगवाईं। सब्जी मंडी एंट्री से लेकर लोगों की लंबी कतार सुंदर पंसारी चौक तक पहुंच गईं। सब्जी मंडी के भीतर सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए सदर थाना की पुलिस टीम ने दुकानों के बाहर टेंपरेरी बैरिकेडिंग करवाई। लगातार पुलिस के जवान माइक पर लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए उद्घोषणा भी करते रहे।
सोमवार को सब्जी मंडी में मशरूम 10 रुपये प्रति पैकेट बिका।
लोअर बाजार की केमिस्ट शॉप पर भी सोमवार को दवाइयां खरीदने के लिए लोगों की लंबी कतारें लगी रहीं। सोमवार को कर्फ्यू में छूट के दौरान उपनगरों से भी लोग सब्जी खरीदने लोअर बाजार सब्जी मंडी पहुंचे। लोगों ने बताया कि उपनगरों में सब्जी विक्रेता मनमानी कीमतों पर सब्जियां बेच रहे हैं, इसलिए उन्हें यहां आना पड़ा।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us