विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

अमर उजाला फाउंडेशनः जारी है जरूरतमंदों की मदद, बस्ती-बस्ती जाकर पहुंचाया भोजन

250 जरूरतमंदों के घर पहुंचाया भोजन, अमर उजाला फाउंडेशन ने समाजसेवी संस्था सेवा के जरिए पहुंचाई मदद

30 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

आगरा

मंगलवार, 31 मार्च 2020

कोरोना से जंग में भागीदार बन रहे जिला जेल के बंदी, पुलिसकर्मियों के लिए बना रहे मास्क

कोरोना वायरस के कारण बाजार में मास्क की कालाबाजारी हो रही है। आगरा में तो मास्क आसानी से उपलब्ध नहीं हो रहे हैं। इस कारण पुलिसकर्मियों के लिए मास्क की व्यवस्था जिला और केंद्रीय कारागार से की जा रही है। 

जिला जेल में पांच रुपये में एक मास्क बनाया जा रहा है। इसे जेल के ही महिला और पुरुष बंदी बना रहे हैं। बंदियों के बने मास्क ही पुलिसकर्मियों के काम आ रहे हैं। अब तक नौ हजार मास्क का वितरण किया जा चुका है। 

लॉकडाउन के दौरान पुलिसकर्मी सड़क पर जगह-जगह ड्यूटी कर रहे हैं। बाहर से आने वाले लोगों को गंतव्य तक पहुंचवाने का काम कर रहे हैं। ऐसे में उन्हें भी वायरस के संक्रमण का खतरा है। पुलिसकर्मियों को संक्रमण से बचाने के लिए मास्क के साथ ही साबुन और सैनिटाइजर का भी वितरण किया गया है।
... और पढ़ें

लॉकडाउन: आगरा में कोरोना से बचाव की क्या है व्यवस्था, कल मुख्यमंत्री योगी करेंगे समीक्षा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को आगरा आ रहे हैं। वो यहां कोरोना वायरस से बचाव के लिए की गई व्यवस्थाओं की समीक्षा करेंगे। हालांकि अभी मुख्यमंत्री के मिनट-टू-मिनट कार्यक्रम की जानकारी नहीं मिली है, लेकिन प्रशासन ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। 

लॉकडाउन के बाद हजारों लोग दिल्ली, राजस्थान और हरियाणा से अपने गांव लौट रहे हैं। ये लोग आगरा से गुजर रहे हैं। ऐसे में इन लोगों के लिए यहां क्या व्यवस्था है, लॉकडाउन में किस तरह पालन हो रहा है, इसका जायजा मुख्यमंत्री लेंगे। 

माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री योगी सर्किट हाउस या खेरिया एयरपोर्ट पर भाजपा पदाधिकारियों के साथ भी बैठक कर सकते हैं। जिसमें एक बूथ के भाजपा अध्यक्ष को 10 गरीबों को भोजन कराने की जिम्मेदारी भी दी जा सकती है।
... और पढ़ें

रुपये निकालने को बैंकों में उमड़ी भीड़

मैनपुरी। खाते से रुपये निकालने के लिए सोमवार को बैंकों में ग्राहकों की भीड़ उमड़ी। ग्राहकों ने पहले तो सामाजिक दूरी का पालन नहीं किया, बाद में पुलिसकर्मियों ने उनको लाइन में एक मीटर की दूरी पर खड़ा कराया।
सोमवार को खातों से रुपये निकालने के लिए लोग बैंकों में सुबह से ही पहुंच गए। जल्दी रुपये निकालने के चक्कर में लोग लाइनों में लग गए। सामाजिक दूरी का पालन नहीं करके लोग एक दूसरे से सटकर ही खड़े हो गए। सामाजिक दूरी का पालन नहीं होने पर बैंकों में पहुंचे पुलिसकर्मियों ने लोगों को लाइन में एक मीटर की दूरी पर खड़ा कराया।
शहर के अधिकांश एटीएम भी खाली हो गए हैं। लोग खाते से रुपये निकालने के लिए एक से दूसरे एटीएम के चक्कर काट रहे हैं। एटीएम में रुपया नहीं होने के कारण लोग बैंकों का ही सहारा ले रहे हैं। बैंक में भी एक बार में दो लोगों को ही प्रवेश दिया गया। दोपहर बाद तक बैंकों के बाहर खाते से रुपये निकालने के लिए लोगों की भीड़ लगी रही। स्टेट बैंक के बाहर लाइन में लगे अनिल कुमार दुबे ने बताया उनके पास अब घर का खर्चा चलाने के लिए रुपये नहीं बचे हैं। घर का खर्चा चलाने के लिए वह रुपये निकालने आए हैं। इलाहाबाद बैंक के बाहर लाइन में लगे राघवेंद्र सिंह ने बताया महीने का अंत हो रहा है। दवा और खर्चा चलाने को रुपये की जरूरत है। एटीएम में रुपया नहीं होने के कारण बैँक में लाइन में लगे हैं।
सभी बैंकों को निर्देश दिए गए हैं कि वह एटीएम में नियमित कैश लोड करते रहें। बैंक में सुरक्षा की इंतजाम करें और ग्राहकों को एक मीटर की दूरी पर खड़ा कराएं। सभी शासन और प्रशासन के नियमों का पालन करें।
जोगिंद्र पाल, अग्रणी जिला प्रबंधक बैंक ऑफ इंडिया।
... और पढ़ें

#LadengeCoronaSe: आगरा की युवती का कोरोना आया नेगेटिव, एसएन के इलाज से हुई स्वस्थ्य

जिला अस्पताल का आइसोलेशन वार्ड जिला अस्पताल का आइसोलेशन वार्ड

जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड से भागे कोरोना टेस्ट को आए तीन संदिग्ध, मची खलबली

आगरा जिला अस्पताल में कोरोना वायरस के नमूने लेने के बाद भर्ती किए गए तीन लोग रविवार रात वार्ड से गायब हो गए। सोमवार सुबह वार्ड ब्याय को जब इसका पता लगा तो पुलिस पहुंच गई। हालांकि ये तीनों सोमवार शाम तक वापस आ गए।

पुलिस पूछताछ में बताया कि उन्हें घर की याद आ रही थी। इसलिए चले गए थे। ये तीनों ही कांटेक्ट सर्विलांस टीम के माध्यम से जिला अस्पताल में नमूने के लिए भर्ती किए थे। इन्हें 29 मार्च को जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया था। 

आगरा के जिला अस्पताल में नमूने लेने के बाद रविवार को ताजंगज क्षेत्र के दो और सदर क्षेत्र के एक युवक सहित नौ लोग भर्ती किए गए थे। ये तीनों उसी रात में ड्यूटी स्टाफ और बाहर सुरक्षा में तैनात होमगार्ड को चकमा देकर भाग गए।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस व लॉकडाउन के बीच मनाई यमुना छठ, भक्तों ने की महामारी से बचने की कामना

आगरा लॉकडाउन

पहलः स्कूल खुलने से पहले विद्यार्थियों से नहीं मांगेंगे फीस, शिक्षकों को मिलेगा वेतन

एसोसिएशन ऑफ प्रोग्रेसिव स्कूल ऑफ आगरा (अप्सा) ने तय किया है कि स्कूल खुलने से पहले छात्र-छात्राओं से फीस नहीं मांगी जाएगी। अध्यक्ष डॉ. सुशील कुमार गुप्ता ने बताया कि संगठन के सभी सदस्य स्कूलों ने लॉकडाउन को देखते हुए यह निर्णय लिया है। फीस अप्रैल से ली जानी है या फिर जब से स्कूल खुलेंगे उस अवधि से, इस पर बाद में निर्णय लिया जाएगा।

नहीं रोका जाएगा वेतन
डॉ. गुप्ता ने बताया कि मार्च माह में किसी भी शिक्षक और शिक्षणेत्तर कर्मचारी का वेतन नहीं रोका जाएगा। अप्रैल का वेतन भी शिक्षकों को दिया जाएगा, भले ही वह 75 से 80 फीसदी तक ही हो। शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को पूरा वेतन दिया जाएगा।

नप्सा भी जल्द लेगी निर्णय
नेशनल प्रोग्रेसिव स्कूल एसोसिएशन (नप्सा) के अध्यक्ष संजय तोमर ने बताया कि एक-दो दिन में पदाधिकारियों और सदस्यों के साथ ऑनलाइन चर्चा कर फीस के साथ स्टाफ के वेतन भुगतान व अन्य गतिविधियों पर निर्णय लिया जाएगा। 

फरवरी का भी नहीं मिला वेतन
मारुति एस्टेट के पास स्थित एक स्कूल की शिक्षिका ने बताया कि उनके विद्यालय में शिक्षकों को फरवरी माह का वेतन नहीं मिला है। शिक्षकों को आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है।

गौरतलब है कि सूबे में स्कूलों की अभी छुट्टी चल रही है। 14 अप्रैल तक लॉकडाउन जारी है। स्कूल का नया सत्र एक अप्रैल से शुरू होता है। ऐसे में अप्सा का ये निर्णय शिक्षकों और अभिभावकों के लिए राहत भरा है।
... और पढ़ें

मथुरा जेल में ही रहेंगे अवैध बांग्लादेशी नागरिक, कोरोना वायरस के चलते नहीं मिलेगी 'रिहाई'

कोरोना वायरस के कारण शासन के निर्देश के अनुसार अभी जेल से करीब 112 बंदियों को और रिहा किया जाएगा। कुल 280 बंदियों को रिहा किया जाना तय हुआ था लेकिन 40 बांग्लादेशियों को कोरोना वायरस के कारण ही रिहा नहीं किया जा रहा है, जबकि 23 बंदियों को दो दिन पूर्व जेल से रिहा किया जा चुका है।

सोमवार को संबंधित न्यायाधीश जेल पहुंचे और पहले से तय सूची के आधार पर बंदियों को रिहा करने की कार्रवाई की। सनद रहे कि ऐसे बंदियों की सूची बनाई गई है जो कि सात वर्ष या फिर उससे कम वर्ष की सजा के अपराध में जेल में बंद हैं।

जेल अधिकारियों ने करीब 280 बंदियों की सूची बनाई थी। इनमें से 35 ऐसे बांग्लादेशी थे जिनको छोड़ा जाना था वहीं पांच बांग्लादेशी ऐसे थे जिनकी सजा भी पूरी हो चुकी थी। लेकिन कोरोना के चलते उन्हें उनके देश भेजना संभव नहीं था।
 
... और पढ़ें

अमर उजाला फाउंडेशनः जारी है जरूरतमंदों की मदद, बस्ती-बस्ती जाकर पहुंचाया भोजन

लॉकडाउन में अमर उजाला फाउंडेशन ने समाजसेवी संस्थाओं के जरिए जरूरतमंदों को भोजन मुहैया कराने का सिलसिला सोमवार को भी जारी रखा। इस दौरान नगला पत्थर घोड़ा और आवास विकास सेक्टर 12 डी की मलिन बस्तियों में 250 घरों में भोजन के पैकेट वितरित किए गए। इन्हें पाकर लोगों ने कहा, शुक्रिया अमर उजाला, जो मुसीबत के समय में मदद की।

रविवार को अमर उजाला कार्यालय के पास ही एक हजार मजदूरों को भोजन के पैकेट दिए गए थे। ये लोग अपने घरों को जा रहे थे। इनके लिए चाय-पानी का इंतजाम भी किया गया था। सोमवार को बस्ती-बस्ती जाकर भोजन मुहैया कराया गया।

इन्होंने की मदद
सेवा आगरा संस्था के अध्यक्ष मुरारी लाल गुप्ता, संस्थापक सुमन गोयल, उपाध्यक्ष श्याम गुप्ता, महासचिव हरिओम गोयल, कोषाध्यक्ष प्रतीक बंसल मौजूद रहे। मुरारीलाल गोयल और सुमन गोयल ने कहा कि सेवा का यह सिलसिला अनवरत जारी रहेगा।
 
... और पढ़ें

लॉकडाउन का फायदा उठाने में जुटा 'माफियातंत्र', यूरिया से मिलावटी शराब बनाते तीन पकड़े

लॉकडाउन में शराब माफिया सक्रिय हो गए है। पुलिस ने ऐसे लोगों पर शिकंजा कसा है। अगर ये मिलावटी शराब लोग पीते तो जान जोखिम में पड़ सकती थी। पुलिस ने बड़ी मात्रा में शराब बनाने का सामान भी बरामद किया है।

आगरा के थाना फतेहाबाद क्षेत्र में पुलिस ने शनिवार की रात एक घर से देसी शराब में यूरिया मिलाकर अंग्रेजी शराब बनाते तीन लोगों को पकड़ा जबकि एक युवक भाग निकला। मौके से खाली तथा भरी बोतलें, ढक्कन आदि सामान भी मिला है। 

पुलिस के मुताबिक क्षेत्र के ग्राम हुसैनपुरा में एक मकान में देसी शराब में यूरिया मिलाकर अंग्रेजी शराब बनाने की सूचना मिली थी। इस पर दबिश दी गई। छापे के दौरान पुलिस को 74 भरे, 59 खाली बीतलें, 224 ढक्कन, 560 ग्राम यूरिया, 3 पाउच इनो मिला। 

पकड़े गए आरोपियों में जितेंद्र, शेर सिंह पुत्रगण भगवान सिंह निवासी हुसैनपुरा, वीरेंद्र पुत्र मुन्नालाल निवासी शमसाबाद हैं। जबकि मलखान निवासी काकरपुरा भाग निकला।
 
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं
Test

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us