विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

यूपी में 128 संक्रमित, 24 घंटे में 10 बढ़े, तब्लीगी जमात के 429 की रिपोर्ट आएगी आज

प्रदेश में 24 घंटे में कोरोना पॉजिटिव में दस नए केस समाने आए हैं।

3 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रयागराज

शुक्रवार, 3 अप्रैल 2020

लॉक डाउन में फंसे पीसीएस मेंस अभ्यर्थियों के आवेदन

लॉक डाउन में फंसे पीसीएस मेंस अभ्यर्थियों के आवेदन 0 आवेदन की तिथि तो बढ़ाई, पर डाक सेवाएं ठप होने से दिक्कत 0 20 अप्रैल से प्रस्तावित मुख्य परीक्षा के आयोजन पर मंडरा रहा संकट प्रयागराज। उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) ने पीसीएस मेंस-2019 के अभ्यर्थियों के आवेदन की हार्ड कॉपी जमा करने की अंतिम तिथि 22 मार्च से बढ़ाकर 19 अप्रैल कर दी लेकिन लॉक डाउन के कारण आवेदन फंसे हुए हैं।

ना तो डाक के माध्यम से आवेदन भेजे जा पा रहे हैं और ना ही अभ्यर्थी व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होकर आयोग के काउंटर पर आवेदन जमा कर पा रहे हैं, जबकि 20 अप्रैल से पीसीएस मेंस की परीक्षा प्रस्तावित है। हालाँकि अब मुख्य परीक्षा के टलने के पूरे आसार नजर आ रहे हैं। पीसीएस 2019 की प्रारंभिक परीक्षा पिछले साल 15 दिसंबर को 19 जिलों के 1666 केंद्रों में आयोजित की गई थी।
... और पढ़ें

अंतर्जनपदीय स्थानांतरण के लिए शिक्षकों का बढ़ा इंतजार

परिषदीय विद्यालयों में के परिषदीय विद्यालयों में कार्यरत अध्यापकों के अंतर्जनदीय स्थानांतरण, पारस्परिक अंतर्जनपदीय स्थानांतरण फंस गया है। कोरोना के चलते पहले प्रदेश सरकार ने शिक्षकों के अंतर्जनपदीय स्थानांतरण पर रोक लगा दी गई थी, अब इस प्रक्रिया रोक के बाद लंबे समय से अंतर्जनपदीय स्थानांतरण की मांग कर रहे शिक्षकों का इंतजार बढ़ गया है।

सचिव बेसिक शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश रूबी सिंह के 31 मार्च को सेवानिवृत्त होने के बाद अब अंतर्जनपदीय स्थानांतरण की प्रक्रिया फंस सकती है। सचिव बेसिक शिक्षा परिषद की ओर से अंतर्जनपदीय स्थानांतरण के लिए अंतिम रूप से आवेदन प्रक्रिया 24 से 28 फरवरी के बीच पूरा किया गया।
... और पढ़ें

कोरोना संबंधित हर पोस्ट की निगरानी, हर ट्वीट पर नजर

कोरोना के संबंध में लगातार की जा रही टिप्पणियों को लेकर पुलिस ने सोशल मीडिया पर कड़ी नजर रखनी शुरू कर दी है। अफसरों के निर्देश पर फेसबुक, ट्विटर पर किए जाने वाले हर पोस्ट और ट्वीट की निगरानी शुरू कर दी गई है। उधर एडीजी जोन ने निर्देश जारी कर दिए हैं कि किसी भी आपत्तिजनक या अनर्गल टिप्पणी के मामले में पुलिस तुरंत मुकदमा दर्ज कर संबंधित के खिलाफ कार्रवाई करे।

पुलिस अफसरों का कहना है कि लगातार देखने में आ रहा है कि कोरोना के संबंध में सोशल मीडिया पर अनर्गल अर्थ 3 टिप्पणियां की जा रही हैं। इससे लोगों में भ्रम की स्थिति तो पैदा होती ही है। साथ ही पुलिस के लिए भी प्रतिकूल स्थितियां बनती हैं। इसी को देखते हुए जिला पुलिस के साइबर सेल के साथ ही सोशल मीडिया सेल को भी अलर्ट कर दिया गया है।

निर्देशित किया गया है कि कोरोना और लॉक डाउन को लेकर सोशल मीडिया के विभिन्न माध्यमों पर लिखी जाने वाली बातों पर कड़ी नजर रखें। किसी यूज़र की ओर से कोई भी आपत्तिजनक ट्विटर पोस्ट किए जाने पर उचित माध्यम से ऐसा ना करने के लिए कहें। इसके बाद भी वह नहीं मानता है और लगातार इस तरह की पोस्ट करता है तो उच्चाधिकारियों को सूचित करें। स्थानीय थाने के पुलिस ऐसे लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई करेगी।

एडीजी जोन प्रेम प्रकाश ने बताया कि इस संबंध में दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। जो प्रयागराज के लिए नहीं बल्कि जोन के सभी जनपदों के लिए हैं। सोशल मीडिया पर कोरोना या लाकडाउन को लेकर किसी भी तरह की भ्रामक या असत्य सूचना फैलाई जाती है तो संबंधित के खिलाफ विधिक कार्रवाई की जाएगी। गौरतलब है कि सोशल मीडिया पर भ्रामक सूचना फैलाए जाने के आरोप में ही ईवीवी छात्र संघ की पूर्व अध्यक्ष रिचा सिंह समेत चार लोगों के खिलाफ 2 दिन पहले कर्नलगंज थाने में आईटी एक्ट समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया था।
... और पढ़ें

लॉकडाउन में घरों से देवी मंदिरों तक नवरात्र अनुष्ठानों की पूर्णाहुति

कोरोना महामारी के खौफ से लॉक डाउन के बीच बृहस्पतिवार को वासंतिक नवरात्र की महानवमी को घरों से लेकर शक्तिपीठों तक भगवती दुर्गा के स्वरूपों की सविधि आराधना के साथ ही अनुष्ठानों की पूर्णाहुति की गई। लॉक डाउन के पालन की वजह से श्रद्धालु इस महापर्व पर घरों से नहीं निकले। पुजारियों ने मंदिरों में मां के नौवें स्वरूप सिद्धिदात्री का शृंगार किया और इसके बाद हवन कुंड में पूर्णाहुति की। इसी तरह घर-घर में नवरात्रि के नौ दिवसीय अनुष्ठानों की पूर्णाहुति की गई और मां से सर्वमंगल की कामना की गई।


यह पहला मौका था जब देवी मंदिरों की राहों पर लंबी कतारों की जगह सन्नाटा छाया रहा। श्रद्धालुओं ने घरों में ही वैदिक मंत्रोच्चार के बीच आहुतियां डालीं। नवरात्र व्रत रखने वालों ने नौ दिवसीय व्रत के आखिरी दिन मां सिद्धिदात्री से घर-परिवार, समाज से लेकर पूरे राष्ट्र के मंगल और कल्याण की मां के सामने अरजी लगाई। मीरापुर में मां ललिता देवी के मंदिर में पुजारी शिवमूरत मिश्र के आचार्यत्व में शतचंडी महायज्ञ की पूर्णाहुति हुई। इसी तरह महाशक्तिपीठ मां कल्याणी देवी मंदिर में भी पुजारी सुशील पाठक एवं श्यामजी पाठक की देखरेख में मां दुर्गा ने नौवें स्वरूप सिद्धिदात्री का शृंगार किया गया।
  • फोन-वीडियो कॉल के जरिए वासंतिक नवरात्रि पर ऑनलाइन पूजा
  • पुरोहितों ने वीडियो कालिंग के जरिए किया मंत्रोच्चार, घर बैठे भक्तों ने डाली आहुतियां
लॉकडाउन के बीच महानवमी पर वासंतिक नवरात्रि के नौ दिवसीय अनुष्ठान की कई जगह ऑन लाइन पूर्णाहुति की गई। घर बैठे यजमानों ने पुरोहितों से संपर्क किया और वीडियो कॉलिंग के अलावा पोन पर ऑनलाइन पूजा,आरती की। ऑनलाइन मंत्रोच्चार के ासथ आहुतियां भी डाली गईं। पुरोहित ऑनलाइन मंत्र बोलते रहे और घरों में हवन कुंडों पर बैठे लोग परिवार के सदस्यों के साथ आहुति देते रहे।

सनातनधर्मी परिवारों में पहली बार नवरात्रि की महानवमी पर ऑन लाइन पूजा की होड़ मची रही। सुबह से ही यजमान वीडियोकॉल और फोन कॉल पर बैठ गए। मीरापुर स्थित मां ललिता देवी मंदिर में नौै दिवसीय शतचंडी यज्ञ का संकल्प लेकर बैठे शहर के जाने माने बिल्डर संजीव अग्रवाल ने घर बैठे ऑनलाइन पूर्णाहुति की। मंदिर समिति के अध्यक्ष हरिमोहन वर्मा ने बताया कि पुजारी शिवमूरत मिश्र के आचार्यत्व में वैदिक ब्राह्मणों ने मोबाइल फोन पर वीडियो कॉल के जरिए पूजा विधान कराने के बाद मंत्रोच्चार के साथ पूर्णहुति कराई।


इसी तरह मीरापुर के ही पं ओम नारायण भी सुबह से ही ऑनलाइन पूजा कराने में व्यस्त रहे। उन्होंने फोन पर ही मंत्रोच्चार कर दुर्गासप्तशती, नवचंडी और शतचंडी पाठ की पूर्णाहुति कराई। उन्होंने बताया कि यजमान नवरात्रि के पहले दिन ही अच्छत,पुष्प के साथ संकल्प लेकर घरों पर पाठ कर रहे थे। इसी तरह जार्जटाउन, टैगोर टाउन के आवा अशोकनगर में भी लोगों ने ऑनलाइन पूजा की।

ऑनलाइन 250 लोगों की कुंडली देखी 
लॉक डाउन के बीच ज्योतिषाचार्य पं ब्रजेंद्र मिश्र ने पिछले 24 घंटे के दौरान देश भर के 250 से अधिक लोगों की ऑनलाइन कुंडली देखी। साथ फल विचार भी व्यक्त किया। उन्होंने बताया कि नासिक, नागपुर, इंदौर, दिल्ली, गाजियाबाद, जयपुर, पटना समेत कई इलाकों से लोगों ने रात एक बजे तक फोन पर कुंडली के फलित की जानकारी ली।
... और पढ़ें
लाकडाउन के दौरान रामनवमी पर जानसेनगंज स्थिम राममंदिर में पूजा करता पुजारी। लाकडाउन के दौरान रामनवमी पर जानसेनगंज स्थिम राममंदिर में पूजा करता पुजारी।

इंडोशियाई नागरिक  करेली के मेहबूबा गेस्ट हाउस शिफ्ट

  • स्थानीय लोगों के विरोध के बाद जार्जटाउन स्थित कमला भवन से हटाए गए, अमर उजाला ने उठाया था मुद्दा
जार्जटाउन के कमला भवन गेस्ट हाउस में क्वारंटीन किए गए सात इंडोनेशियाई नागरिक समेत सभी 37 लोगों को करेली के मेहबूबा गेस्ट हाउस में शिफ्ट कर दिया गया है। स्थानीय लोगों की आपत्ति के बाद प्रशासन ने बृहस्पतिवार को यह कार्रवाई की। विदेशी नागरिकों को हटाने जाने के बाद कमला भवन तथा आसपास के इलाके को सैनिटाइज भी कराया गया।


शाहगंज थाना अंतर्गत स्थित मुसाफिर खाना से मंगलवार को विदेशी नागरिकों समेत 37 लोगों को पकड़ा गया था। इंडोनेशियाई नागरिक समेत कुल नौ लोग दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज में हुए जमात में भी शामिल हुए थे। ऐसे में इन्हें कमला भवन में रखे जाने से आसपास के लोगों में भय तथा नाराजगी थी। गेस्ट हाउस से सटे संगम व्यू अपार्टमेंट के लोगों ने बुधवार को इसकी शिकायत डीएम तथा एडीएम सिटी से भी की। साथ ही इन्हें कहीं और शिफ्ट करने की मांग की थी।


सोसाइटी के अध्यक्ष किरन सिंह, बालेश्वर चतुर्वेदी आदि का कहना था कि यहां घनी आबादी है। इसके अलावा गेस्ट हाउस की बाउंड्री भी खुली है। इससे संक्रमण फैलने का खतरा है। लोगों की इस चिंता को अमर उजाला के बृहस्पतिवार के अंक में उठाया गया। इसके बाद प्रशासन की टीम सुबह वहां पहुंच गई। प्रशासन तथा स्वास्थ्य विभाग के टीम की निगरानी में सभी लोगों को पांच एंबुलेंस से करेली के मेहबूबा गेस्ट लाकर क्वारंटीन किया गया। इन्हें शिफ्ट करने के बाद नगर निगम की टीम ने कमला भवन तथा आसपास के क्षेत्र को सैनिटाइज किया। इसके अलावा संगम व्यू के लोगों ने भी पूरे अपार्टमेंट को सैनिटाइज किया। यह प्रक्रिया शाम तक होती रही।
... और पढ़ें

प्रयागराज, सूबेदारगंज समेत एनसीआर के दस स्टेशनों पर रहेंगे आइसोलेशन कोच

  • जंक्शन के प्लेटफार्म-6 एवं सूबेदारगंज के प्लेटफार्म-4 को किया गया चिह्नित 
कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए रेलवे द्वारा बनाए जा रहे आइसोलेशन कोच तैयार होने के बाद कहां रखे जाएंगे, उसका निर्धारण कर लिया गया है। उत्तर मध्य रेलवे के दस प्रमुख रेलवे स्टेशनों के अलग-अलग प्लेटफार्म पर इन कोचों को रखा जाएगा। इन दस स्टेशनों में प्रयागराज जंक्शन और सूबेदारगंज रेलवे स्टेशन भी शामिल है।


रेलवे बोर्ड के निर्देश पर उत्तर मध्य रेलवे द्वारा कुल 290 आइसोलेशन कोच तैयार किए जाने हैं। इसमें से 30 कोच प्रयागराज स्थित रेलवे के कोचिंग डिपो में तैयार किए जा रहे हैं। शेष अन्य कोच का निर्माण कानपुर, आगरा एवं झांसी में चल रहा है। इन कोचों के लिए एनसीआर के दस स्टेशनों के विभिन्न प्लेटफार्म तय किए गए हैं।


एनसीआर के सीपीआरओ अजीत कुमार सिंह ने बताया कि प्रयागराज जंक्शन के प्लेटफार्म नंबर छह, सूबेदारगंज के प्लेटफार्म नंबर चार, कानपुर सेंट्रल के प्लेटफार्म नंबर नौ, टूंडला के प्लेटफार्म नंबर पांच, अलीगढ़ में प्लेटफार्म नंबर सात, आगरा कैंट में प्लेटफार्म नंबर छह, आगरा फोर्ट में प्लेटफार्म नंबर पांच, मथुरा जंक्शन में प्लेटफार्म नंबर सात, झांसी में प्लेटफार्म नंबर छह एवं ग्वालियर के प्लेटफार्म नंबर चार पर इन आइसोलेशन कोच को खड़ा किया जाएगा।
... और पढ़ें

पान मसाले पर प्रतिबंध , फिर भी प्रयागरोज में धड़ल्ले से हो रही सप्लाई

गरीबों को राशन वितरण शुरू, सामाजिक दूरी बनाना चुनौती

pan masala
  •  भीड़ हटाने के लिए करना पड़ा बल प्रयोग, सुबह छह के बजाय कई जगहों पर 10 बजे के बाद खुली दुकानें
  • सर्वर डाउन रहने की भी शिकायत, रुका रहा वितरण, सैनिटाइज-साबुन की व्यवस्था भी नहीं 
अंत्योदय कार्डधारकों तथा मजदूरों को मुफ्त राशन का वितरण बुधवार को शुरू हुआ। दावों के विपरीत कोटे की कई दुकानों पर सर्वर डाउन रहने की शिकायत रही तो सामाजिक दूरी बनाए रखने के प्रावधान की खुलकर धज्जियां भी उड़ीं। सदर बाजार में एक केंद्र पर तो भीड़ नियंत्रण के लिए पुलिस को बल प्रयोग तक करना पड़ा। इतना ही नहीं वितरण सुबह छह बजे से ही शुरू हो जाना था, लेकिन कई दुकानें अफसरों से शिकायत पर 10 बजे के बाद खुलीं।


कार्डधारकों का सुबह से ही दुकानों पर पहुंचने का क्रम शुरू हो गया था। इसके विपरीत रसूलाबाद, कटरा समेत ज्यादातर बाजारों में दुकानें नहीं खुलीं। केंद्रों पर मौजूद सिविल डिफेंस के लोगों ने एसडीएम, तहसीलदार आदि अफसरों से इसकी शिकायत की, तब दुकानें खोली गईं। सदर बाजार में दुकान नहीं खुलने पर लोगों ने कंट्रोल रूम में शिकायत की। इसके बाद आननफानन में कोटेदार ने दुकान खोली। जार्जटाउन डीसीएफ  पर काफी भीड़ थी। पूछने पर कोटेदार ने बताया कि वितरण बंद कर दिया गया है। मशीन में स्टाक शून्य दिखा रहा है।



सर्वर डाउन रहने की शिकायत पूरे जिले में कई दुकानों पर रही। ई-पॉश मशीन में प्रक्रिया पूरी करने के बाद 30 सेकेंड में राशन वितरण की अनुमति मिल जानी चाहिए, लेकिन सर्वर डाउन रहने से इसमें समय लग रहा था। इसकी वजह से राशन वितरण में बाधा आई और कई जगहों पर लोगों को वापस कर दिया गया। 


राशन वितरण के दौरान सबसे बड़ी चुनौती सोशल डिस्टेंसिंग को बनाए रखने की रही। खासतौर पर, शहरी क्षेत्र में ज्यादातर दुकानें घनी बस्तियों में हैं। ऐसे में कई दुकानों पर भीड़ रही। पुलिस तथा सिविल डिफेंस के सदस्यों ने कार्डधारकों के बीच दूरी बनाने की कोशिश की, लेकिन कई जगहों पर पर्याप्त जगह भी नहीं थी। इसके अलावा कई दुकानों पर साबुन तथा सैनिटाइजर की व्यवस्था नहीं थी। ऐसे में बिना हाथ धुले ही ई-पॉश मशीन के इस्तेमाल की शिकायत हुई। शिकायत पर या निरीक्षण के लिए पहुंचे अफसरों ने साबुन, पानी तथा सैनिटाइजर की व्यवस्था कराई। 

दुकानों के निरीक्षण में लगा अमला
राशन वितरण को लेकर प्रशासन काफी गंभीर है। इसका अनुमान इससे ही लगाया जा सकता है कि पूरा प्रशासनिक अमला इस काम में जुटा रहा। खाद्य आपूर्ति विभाग के अलावा सभी एसडीएम, तहसीलदार, नायब तहसीलदार, बीडीओ तथा अन्य स्टाफ निरीक्षण में लगा रहा। इनके अलावा हर केंद्र पर पुलिस तथा सिविल डिफेंस के सदस्यों की ड्यूटी लगाई गई थी। रविशंकर द्विवेदी, सुधीर सक्सेना, एलके अहेरवार, प्रमोद भारतीया, महेंद्र सक्सेना, डॉ.रमा सिंह, राजीव भनोट, प्रशांत, सुमित, रविनेश आदि तैनात रहे।



यूनिट से कम राशन देने की शिकायत
कई दुकानों पर यूनिट से कम राशन दिए जाने की भी शिकायत रही। इसे लेकर लोगों ने कालाबाजारी का आरोप लगा। कटरा की सीमा पाल का कहना था कि उन्हें तीन के बजाय दो यूनिट का ही राशन दिया जा रहा था। जीरो रोड के इरशाद उल्ला ने भी कई लोगों को एक यूनिट कम राशन दिए जाने की शिकायत की। उन्होंने एडीएम नागरिक आपूर्ति से इसकी शिकायत की। इससे अलग कई जगहों पर आधार कार्ड लिंक नहीं होने की वजह से भी लोगों को कम राशन मिला। बेली की माया के परिवार में छह लोग हैं। सभी का नाम भी कार्ड में दर्ज है लेकिन राशन पांच का ही मिला। एक सदस्य का आधार कार्ड लिंक नहीं था। इस तरह की शिकायत कई अन्य लोगों की भी रही।

15 से 20 हजार मजदूरों का बनेगा राशन कार्ड
सरकार ने लॉकडाउन की वजह से बेरोजगार हुए मजदूरों एवं गरीबों को मुफ्त राशन देने की घोषणा की है, लेकिन राशन उन्हें ही मिलेगा जिनका पहले से कार्ड बना हो। साथ ही श्रम एवं विकास विभाग में पंजीकरण हो या मनरेगा के सक्रिय सदस्य हों। इसके विपरीत हजारों मजदूर ऐसे हैं, जो इन विभागों में पंजीकृत तो हैं, लेकिन राशन कार्ड नहीं बना है। ऐसे लाभार्थियों की सूची तैयार की जा रही है। उनके नए सिरे से राशन कार्ड बनाए जाएंगे। पहले चरण में 15 से 20 हजार मजदूरों को लाभ मिलने की बात कही जा रही है।

कंट्रोल रूम पर मंडलायुक्त ने देखी अव्यवस्था
मंडलायुक्त आर.रमेश कुमार ने बुधवार को फतेहपुर का दौरा किया तथा कोरोना वायरस से बचाव की तैयारियों का जायजा लिया। इससे पहले रास्ते में उन्होंने प्रयागराज में राशन वितरण का भी निरीक्षण किया। इस दौरान उनके साथ आईजी केपी सिंह भी मौजूद रहे। सुलेमसराय के एक कंट्रोल रूम पर उन्होंने खुद अव्यवस्था देखी। दुकान पर काफी भीड़ लगी थी। अचानक मंडलायुक्त और आईजी के पहुंचने से वहां हड़कंप मच गया। बताया गया कि सर्वर ही काम नहीं कर रहा है। इसकी वजह से राशन वितरण नहीं हो पा रहा। अफसरों ने जल्द व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश के साथ कार्रवाई की चेतावनी दी।
... और पढ़ें

तब्लीगी जमात के सात इंडोनेशियाई मौलाना और मुसाफिरखाना के व्यवस्थापक समेत 10 लोगों पर मुकदमा

कोरोना के चलते 30 अप्रैल के बाद लगेगी केंद्रीय विद्यालयों की फीस

कोरोना वायरस के नाश के लिए हनुमत निकेतन में नवचंडी यज्ञ

पुलिस से हुई चूक, स्थानीय खुफिया एजेंसी पर भी सवाल

शाहगंज में विदेशी नागरिकों के छिपकर रहने की घटना सामने आने के बाद प्रशासन के साथ ही पुलिस अफसर भी सकते में हैं। दरअसल इस घटना के पीछे कहीं न कहीं पुलिस की चूक भी एक बड़ी वजह है। इसके साथ ही स्थानीय खुफिया एजेंसी पर भी सवाल खड़े हो गए हैं। जानकारों का कहना है कि ऐसा न होता तो पिछले 9 दिनों से विदेशी नागरिकों के शहर में रहने की सूचना पुलिस तक पहले ही जरूर पहुंच गई होती। 

देश में कोरोना संक्रमण से संबंधित मामले मार्च की शुरुआत में ही सामने आने लगे थे। इसके बाद प्रधानमंत्री ने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू की अपील की तो यह तय हो गया था कि मामला गंभीर स्थिति ले चुका है। पुलिस प्रशासन ने भी जनता कर्फ्यू  को सफल बनाने में अपनी पूरी ताकत झोंक दी थी। जिला पुलिस ने भी इसके लिए व्यापक प्रबंध किए थे। सुबह छह बजे से ही जिले के सभी थाना क्षेत्रों में पुलिस फोर्स गश्त पर लगा दी गई थी, जो घूम-घूम कर लोगों को कोरोना संकट से बचने के लिए जनता कर्फ्यू को सफल बनाने की अपील करती नजर आई थी।
... और पढ़ें

NizamuddinCoronaVirusCase: प्रयागराज के मऊआइमा की थाने वाली मस्जिद से धार्मिक जलसे के लिए भेजी गई थी जमात

दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके के मरकज में धार्मिक जलसे में गए 11 लोगों को जांच के लिए रोके जाने के बाद यहां परिजनों में कोहराम मच गया है। इनमें नौ लोग मऊआइमा और तीन प्रतापगढ़ के मांधाता ब्लाक स्थित रामपुर बंतरी और गदाईपुर गांवों के निवासी हैं। कुछ लोग चार महीने से घर से निकले हैं तो कोई दो महीने से।

ये लोग मऊ आइमा की थानेवाली मस्जिद से जमात के साथ चार महीने के लिए पंजाब के जालंधर में आयोजित जलसे में हिस्सा लेने के लिए गए थे, लेकिन निजामुद्दीन कब और कैसे आ गए, इसे लेकर घरवाले भी परेशान हैं। फिलहाल ये सभी लोग जांच के लिए अभी दिल्ली में ही रोक लिए गए हैं। प्रशासन को उनके यहां आने का इंतजार है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us