विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020
Astrology Services

विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

यमुना सूखी नजर ना आए इसलिए ट्रंप के दौरे से पहले छोड़ा गया 950 क्यूसेक पानी

ताजमहल का दीदार करने आ रहे अमेरिकी राष्ट्रपति यमुना किनारे की ओर पहुंचे तो यमुना सूखी नजर न आए, इसलिए सिंचाई विभाग ने यमुना नदी में 950 क्यूसेक पानी छोड़ा है।

19 फरवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

अम्बेडकरनगर

बुधवार, 19 फरवरी 2020

रेल समपार व मानवरहित क्रासिंग बंद होने की प्रक्रिया शुरू

कटेहरी। रेल लाइन दोहरीकरण कार्य में तेजी सुनिश्चित करने तथा दुर्घटनाओं को रोकने के लिए उत्तर रेलवे ने अकबरपुर व गोशाइगंज तथा अकबरपुर व टांडा के बीच कुल 12 समपार को पूरी तरह बंद किए जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। इसके लिए जिला प्रशासन को पत्र भेजकर जरूरी रिपोर्ट उपलब्ध कराने को कहा गया है।
गौरतलब है कि अकबरपुर से लेकर गोशाईगंज तथा अकबरपुर व टांडा के बीच लगभग एक दर्जन समपार हैं। इन जगहों से होकर प्रतिदिन हजारों ग्रामीण रेल लाइन पार करते हैं। क्रॉसिंग न होने तथा गेटमैन का इंतजाम न होने के चलते हादसे की आशंका बनी रहती है। हादसों को कम करने के लिए ही रेलवे न सिर्फ ऐसे स्थानों पर अधिकृत क्रॉसिंग का प्रबंध कर रहा है वरन ऐसे समपार को समाप्त करने पर भी काम कर रहा है।
इस बीच जफराबाद से लेकर अकबरपुर होते हुए बाराबंकी तक के रेल लाइन को दोहरीकरण किए जाने का कार्य मंजूर हो चुका है। यह काम प्रगति पर भी है। इन्हीं सबके बीच अब गोशाईगंज से अकबरपुर तथा टांडा से अकबरपुर के बीच स्थित 12 समपार को बंद किए जाने की प्रक्रिया शुरू हुई है। इस बारे में उत्तर रेलवे की तरफ से प्रशासन को पत्र भी भेजा गया है। पत्र में रेलवे क्रॉसिंग को लेकर जरूरी रिपोर्ट उपलब्ध कराने की अपेक्षा प्रकट की गई है तथा क्रॉसिंग बंद करने की दशा में सहयोग भी मांगा गया है।
इस बीच रेलवे समपार को बंद किए जाने का विरोध भी शुरू हो गया है। मखदूमनगर में रेलवे क्रॉसिंग को बंद किए जाने का विरोध जताते हुए पूर्व विधायक जयशंकर पांडेय तथा सपा नेता आशीष पांडेय दीपू ने आंदोलन की चेतावनी दी है। कहा है कि डीएम से मिलकर ज्ञापन सौंपा जाएगा।
... और पढ़ें

कैसे हो मनोरंजन, टूटे पड़े हैं झूले तो सूखी है झील

अंबेडकरनगर। जिला मुख्यालय स्थित राजकीय उद्यान पार्क की बदहाली को लेकर बेफिक्री पसरी है। न तो उद्यान विभाग व और न ही प्रशासन समेत जनप्रतिनिधियों को यह फिक्र है कि बच्चों के मनोरंजन के लिए बने एक मात्र राजकीय पार्क में लगाए गए ज्यादातर झूले क्षतिग्रस्त हो गए हैं। पार्क में बोटिंग के लिए बनायी गई झील लगभग पांच वर्ष से सूखी पड़ी है।
उसमें फिर से नाव चलाने के लिए पानी तथा नई नाव के प्रबंध की सुध किसी को नहीं है। पार्क में आकर्षक लाइटिंग से लेकर मनोरंजन के अन्य साधनों में वृद्धि करने की जरूरत भी लंबे समय से कोई महसूस नहीं कर पाया है। नतीजतन प्रतिदिन यहां पहुंचने वाले बच्चों को निराश होकर ही लौटना पड़ता है।
गौरतलब है कि लगभग डेढ़ दशक पहले जिला मुख्यालय पर एक मात्र राजकीय पार्क की स्थापना तत्कालीन बसपा सरकार में मुख्यमंत्री मायावती ने करायी थी। पार्क की सौगात मिलने पर नागरिकों ने भारी खुशी का इजहार किया। पार्क में बच्चों के लिए झूले का प्रबंध हुआ। कुछ समय बाद एनटीपीसी के सहयोग से न सिर्फ फव्वारा लगा वरन प्रशासन ने तमसा नदी के किनारे पार्क होने का लाभ दिलाने के लिए झील का निर्माण भी कराया।
एनटीपीसी के सहयोग से नाव का प्रबंध हुआ। इसके बाद झील में बच्चों को बोटिंग की सुविधा भी मिलने लगी। पार्क का लाभ न सिर्फ अकबरपुर नगर व आसपास बल्कि टांडा, जलालपुर व बसखारी आदि क्षेत्रों के बच्चों ने भी उठाना शुरू कर दिया। कुछ वर्षों तक सबकुछ ठीक ठाक चला।
बाद में डीएम विवेक ने यहां बच्चों की ट्रेन चलाने से लेकर पार्क की सुविधाओं में बढ़ोतरी आदि का प्रस्ताव तैयार कराया लेकिन उनके स्थानांतरण के साथ ही यह सबकुछ अधर में पड़ गया। उद्यान विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों की लापरवाही से बाद में पार्क लगातार बदहाल होने लगा।
नतीजतन पार्क में बच्चों के मनोरंजन के लिए लगे ज्यादातर झूले पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए हैं। इन्हें दुरुस्त कराने की सुध उद्यान विभाग को नहीं है। प्रशासनिक अधिकारी भी इस तरफ कोई ध्यान अब तक नहीं दे पाए हैं। नागरिकों ने कई जनप्रतिनिधियों के सामने भी बदहाली की यह समस्या उठाई लेकिन कोई नतीजा नहीं मिला।
पार्क में बनी झील भी लगभग पांच वर्ष से सूखी पड़ी है। बोटिंग के लिए मंगाई गई दोनों नावें जर्जर हो गई हैं। बोटिंग के नाम पर अब सिर्फ सूखी हुई झील ही यहां बच्चों व महिलाओं आदि को देखने को मिलती है। पार्क में आकर्षक लाइटिंग समेत रेस्टोरेंट की सुविधा दिए जाने की मांग भी अनसुनी ही बनी हुई है। इन सबके चलते पार्क आने वाले बच्चों को निराश होकर ही लौटना पड़ रहा है।
जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र ने बताया कि पार्क में जो भी कमियां हैं, सभी दुरुस्त करायी जाएंगी। सुविधाओं में बढ़ोतरी कराई जाएगी। जो भी जरूरी इंतजाम संभव होंगे, वे सभी जल्द से जल्द कराए जाएंगे।
... और पढ़ें

सात नए अस्पतालों में अब होगा प्रधानमंत्री आरोग्य योजना में इलाज

अंबेडकरनगर। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना से जुड़े डेढ़ लाख से अधिक पात्र परिवारों के लिए खुशखबरी है। छह नए सरकारी तथा एक नए निजी अस्पताल में भी अब योजना के तहत पात्र निशुल्क इलाज करा सकेंगे। इसके लिए शासन ने हरी झंडी दे दी है।
अब तक पांच सरकारी व दो निजी अस्पतालों को ही इस योजना के तहत मरीजों का उपचार करने की सुविधा दी गई थी। लंबे समय से अस्पतालों की संख्या बढ़ाए जाने की मांग की जा रही थी ताकि अधिकाधिक मरीजों को इसका लाभ मिल सके। अब इस नए निर्णय से पात्रों को अधिक राहत मिलने की उम्मीद जताई जा रही है।
प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना का लाभ अधिक से अधिक पात्रों को मिल सके, इसके लिए शासन लगातार ठोस कदम उठा रहा है। योजना के तहत परिवार के पांच सदस्यों को पांच लाख रुपये की राशि तक के इलाज की सुविधा देने के लिए बीते दिनों जिले के पांच सरकारी व दो निजी अस्पतालों को अनुमति दी गई।
इनमें राजकीय मेडिकल कॉलेज, जिला अस्पताल, सीएचसी बसखारी, जलालपुर व टांडा के अलावा दो निजी अस्पताल कनक ट्रॉमा अस्पताल अकबरपुर व रामा अस्पताल अकबरपुर शामिल किए गए। दोनों निजी अस्पतालों ने योजना के तहत उपचार शुरू किया लेकिन पूरा भुगतान न मिल पाने से इलाज से किनारा करना शुरू कर दिया। ऐसे में पांच संबंधित सरकारी अस्पतालों में ही मरीजों को इलाज की सुविधा मिल पा रही है।
योजना के तहत और अधिक अस्पतालों को संबद्ध किए जाने की मांग लगातार मरीजों व तीमारदारों द्वारा की जा रही थी। ऐसा इसलिए ताकि बिना ज्यादा भागदौड़ के नजदीकी अस्पतालों में ही इलाज की सुविधा मिल सके।
इस बीच योजना का अधिक से अधिक पात्रों को लाभ मिल सके, इसके लिए शासन ने सात नए अस्पतालों में योजना का संचालन करने की घोषणा की। इसमें छह सरकारी व एक निजी अस्पताल शामिल हैं। जिला कार्यक्रम समन्वयक डॉ. मुकुल त्रिपाठी ने बताया कि मरीजों को योजना के तहत इलाज के लिए इधर-उधर न भटकना पड़े, इसके लिए अब इसका लाभ सीएचसी जहांगीरगंज, पीएचसी रामनगर, सीएचसी कटेहरी, सीएचसी भीटी, संयुक्त सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अकबरपुर व सीएचसी नगपुर के साथ ही एक निजी अस्पताल साकेत मेडिकल सेंटर अकबरपुर में भी मरीज उठा सकेंगे।
योजना का संचालन सुचारु रूप से हो सके, इसके लिए चयनित सरकारी अस्पतालों में आईटी किट के लिए जरूरी राशि भी उपलब्ध करा दी गई है। बताया कि योजना के सुचारु संचालन के लिए आयुष्मान मित्र को ट्रेनिंग दिए जाने का कार्य भी पूर्ण कर लिया गया है। शीघ्र ही नए चयनित अस्पतालों में योजना का संचालन प्रारंभ कर दिया जाएगा।
आयुष्मान भारत के जिला नोडल अधिकारी आशुतोष सिंह ने बताया कि प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत छह सरकारी व एक निजी अस्पताल का चयन किया गया है। सभी औपचारिकताएं पूरी कर संबंधित अस्पतालों को योजना के संचालन की अनुमति भी प्रदान कर दी गई है। शीघ्र ही संबंधित अस्पतालों में योजना का संचालन प्रारंभ हो जाएगा।
... और पढ़ें

3931 विद्यार्थियों ने छोड़ी हाईस्कूल परीक्षा

अंबेडकरनगर। यूपी बोर्ड परीक्षा के पहले ही दिन हाईस्कूल का एक परीक्षार्थी नकल करते पकड़ा गया। बाद में उसे बी कॉपी दी गई। नकल रोकने के लिए एक तरफ जहां पांच जोनल व 22 सेक्टर मजिस्ट्रेट लगातार परीक्षा केंद्रों का जायजा लेते रहे, वहीं सात सचल दलों ने परीक्षा केंद्रों पर पहुंचकर जायजा लिया।
नकल रोकने के लिए बरती गई सख्ती का ही नतीजा रहा कि प्रथम पाली में हाईस्कूल के तीन हजार 931 परीक्षार्थियों ने परीक्षा छोड़ दी। हाईस्कूल की परीक्षा में 44 हजार 672 परीक्षार्थियों को शामिल होना था, लेकिन 40 हजार 741 परीक्षार्थी ही जिले के विभिन्न क्षेत्रों में बनाए गए 117 परीक्षा केंद्रों पर पहुंचे।
यूपी बोर्ड परीक्षा में नकल रोकने के लिए बरती जा रही सख्ती का पहले दिन ही साफ असर देखने को मिला। प्रथम पाली में तीन हजार 931 परीक्षार्थियों ने हाईस्कूल की परीक्षा छोड़ दी। बताते चलें कि हाईस्कूल की परीक्षा में 44 हजार 672 परीक्षार्थी पंजीकृत थे। मंगलवार को जिले के विभिन्न क्षेत्रों के 117 परीक्षा केंद्रों पर जब हिंदी की परीक्षा शुरू हुई, तो 40 हजार 741 परीक्षार्थी ही संबंधित परीक्षा केंद्र पर पहुंच सके।
तीन हजार 931 परीक्षार्थियों ने परीक्षा से किनारा किया। वैसे तो परीक्षा सुबह आठ बजे से प्रारंभ होनी थी, लेकिन इससे लगभग एक घंटा पहले ही परीक्षार्थियों का संबंधित परीक्षा केंद्र पर पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया। किसी प्रकार की नकल सामग्री परीक्षा कक्ष तक न ले जाई जा सके, इसके लिए मुख्य गेट पर ही आंतरिक सचल दल के सदस्यों ने सघन चेकिंग की। मोबाइल फोन, डिजिटल घड़ी आदि गेट पर ही रखवा लिया गया।
मगर सख्ती के बावजूद अकबरपुर नगर के तमसा मार्ग स्थित डॉ. अशोक स्मारक इंटर कॉलेज में एक परीक्षार्थी पर्ची परीक्षा कक्ष तक ले जाने में सफल रहा। डॉ. अशोक स्मारक इंटर कॉलेज के केंद्र व्यवस्थापक अनिल कुमार त्रिपाठी ने बताया कि परीक्षा शांतिपूर्ण माहौल में चल रही थी। इसी बीच कक्ष निरीक्षक सूरज यादव व सत्यप्रकाश दुबे ने रामदेव जनता इंटर कॉलेज के एक परीक्षार्थी को पर्ची से नकल करते पकड़ लिया।
जांच में उसके पास से कई पर्चियां मिलीं। इस पर उसे तत्काल बी-कॉपी दे दी गई। साथ ही पूरे मामले की जानकारी जिम्मेदार अधिकारियों को दी गई। बताया कि परीक्षा नकलविहीन संपन्न कराने के लिए सभी जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं।
परीक्षा को सकुशल व शांतिपूर्ण ढंग से निपटाने के लिए सुरक्षा के भी कड़े प्रबंध किये गए थे। प्रत्येक परीक्षा केंद्र के मुख्य गेट पर पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई थी, जो अभिभावकों को परीक्षा केंद्र से दो सौ मीटर की सीमा से दूर रखे थे। किसी को भी परीक्षा केंद्र के अंदर जाने की अनुमति नहीं थी।
नकल रोकने के लिए दो सुपर जोनल मजिस्ट्रेट, पांच जोनल मजिस्ट्रेट व 22 सेक्टर मजिस्ट्रेट के साथ ही सचल दल लगातार परीक्षा केंद्रों का जायजा लेते रहे। उधर द्वितीय पाली में इंटरमीडिएट की हिंदी विषय की परीक्षा के लिए 34 हजार 912 परीक्षार्थी पंजीकृत थे।
डीआईओएस विनोद सिंह ने बताया कि जिले के सभी 117 परीक्षा केंद्रों पर मंगलवार को दोनों पालियों में शांतिपूर्ण ढंग से परीक्षा संपन्न हुई। प्रथम पाली में हाईस्कूल का एक परीक्षार्थी नकल करते पकड़ा गया, जिसे दूसरी कापी दी गई। परीक्षा को नकलविहीन निपटाने के लिए सभी जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं।
... और पढ़ें

42 हजार लोगों को छत मिलने की आस

अंबेडकरनगर। प्रदेश सरकार के बजट में जिले के लिए अलग से तो किसी प्रकार की नई परियोजना की घोषणा नहीं की गई, लेकिन जनपदवासियों में एक नई उम्मीद जगी है। विभिन्न अव्यवस्थाओं से जूझ रहे सरकारी अस्पतालों में सुधार के लिए बजट में विशेष व्यवस्था किए जाने से मरीजों व तीमारदारों में बेहतर इलाज की उम्मीद जगी है।
शिक्षा क्षेत्र में जहां सुधार की उम्मीद है, वहीं पक्के आवास में रहने का सपना संजोए पात्रों को भी उम्मीद है कि उन्हें शीघ्र ही पक्के आवास का तोहफा मिल सकेगा। करीब 42 हजार जरूरतमंदों को पक्का आवास मिलने की उम्मीद है। किसानों के लिए विशेष बजट रखे जाने से उम्मीद बंधी है कि खेती में आने वाली समस्याएं दूर होंगी। बेरोजगारों को रोजगार से जोड़ने के लिए बजट में विशेष स्थान दिए जाने से युवाओं में भी नई उम्मीद जगी है।
जनपदवासियों को उम्मीद थी कि मंगलवार को आने वाले प्रदेश सरकार के बजट में जिले को कुछ नई परियोजनाओं का तोहफा मिलेगा। मगर ऐसा कुछ भी नहीं हुआ, जिससे उन्हें तगड़ा झटका लगा। हालांकि बजट में शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि, रोजगार आदि को विशेष स्थान दिए जाने का जनपदवासियों ने बढ़-चढ़कर स्वागत किया है। उम्मीद की जा रही है कि जो बजट आया है, उसका सीधा लाभ जनपदवासियों को भी मिलेगा, जिससे विभिन्न समस्याएं दूर हो सकेंगी। बजट को लेकर ‘अमर उजाला’ ने विभिन्न वर्ग के लोगों से बातचीत की। पेश है रिपोर्ट
अकबरपुर के मंगेश कुमार ने कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं की बेहतरी के लिए बजट में जो विशेष स्थान दिया गया है, वह सराहनीय है। जिला अस्पताल से लेकर सीएचसी व पीएचसी विभिन्न समस्याओं से जूझ रहे हैं। बजट में इन पर ध्यान दिए जाने से इसमें सुधार होने की संभावना है।
औलियापुर के धीरज पांडेय ने कहा कि जिला अस्पताल को उच्चीकृत कर राजकीय मेडिकल कॉलेज का दर्जा दिए जाने व सीएचसी का विस्तारीकरण कर उसे 100 बेड का बनाया जाना एक अच्छा कदम है। इससे मरीजों को बेहतर इलाज की सुविधा मिल सकेगी।
उधर, सीएमओ डॉ. अशोक कुमार ने कहा कि जिला अस्पताल व सीएचसी के उच्चीकृत किए जाने से लगभग 20 लाख की आबादी को लाभ मिलेगा। विशेषकर ग्रामीण क्षेत्र के मरीजों को बेहतर इलाज के लिए जिला अस्पताल या फिर दूसरे जनपद के अस्पताल जाने से राहत मिलेगी।
किसान विभिन्न समस्याओं से जूझ रहे हैं। बजट में कृषि को बढ़ावा देने के लिए विशेष ध्यान दिया गया है। इससे किसानों को व्यापक लाभ मिलेगा। बजट से उम्मीद लगाए अरिया बाजार के शैलेश मिश्र ने कहा कि खाद, बीज, सिंचाई को लेकर किसानों की समस्याएं दूर हो सकेंगी। बीज व उर्वरक की उपलब्धता सुचारु करने को लेकर बजट में विशेष प्रावधान किया गया है, जिसका 10 लाख से अधिक किसानों को सीधा लाभ मिलेगा।
शिबलीपुर के रामप्रकाश ने कहा कि कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए बजट में विशेष जगह दिया जाना किसानों के लिए बेहतर साबित होगा। उप कृषि निदेशक रामदत्त बागला ने कहा कि बजट में कृषि क्षेत्र के लिए जो विशेष स्थान दिया गया है, उससे 10 लाख से अधिक किसानों को सीधा लाभ मिलेगा।
प्रदेश सरकार ने युवाओं को रोजगार के साधन उपलब्ध कराने को लेकर बजट में जो प्रावधान किया है, उसका युवाओं ने बढ़-चढ़कर स्वागत किया है। ताजपुर के इंद्रजीत वर्मा ने कहा कि युवा हब की स्थापना किया जाना अत्यंत सराहनीय कदम है। इससे अधिक से अधिक युवाओं को रोजगार के साधन उपलब्ध होने की संभावना है।
बरियावन के पीर मोहम्मद खान ने बजट का स्वागत करते हुए कहा कि युवाओं में बेरोजगारी तेजी से बढ़ रही है। बजट में युवाओं को अधिक से अधिक रोजगार मिल सके, इसके लिए जो प्रावधान किया गया है, वह सराहनीय है। बजट से उम्मीद है कि युवाओं को अधिक से अधिक रोजगार मिल सकेगा।
सोनगांव निवासी राकेश कुमार ने कहा कि पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए बजट में विशेष स्थान दिया जाना सराहनीय कदम है। इससे पशुपालन व्यवसाय को बढ़ावा मिलेगा। न सिर्फ पशुपालन को बढ़ावा मिलेगा, बल्कि अधिक से अधिक युवाओं को रोजगार भी मिलेगा।
बरियावन के मुकेश मोदनवाल ने कहा कि पशुपालन के साथ ही मत्स्य पालन को भी बढ़ावा दिया जाना सराहनीय है। इससे इन दोनों व्यवसायों को बढ़ावा मिलेगा। कहा कि इन दोनों व्यवसाय से जुड़े लोगों को समय-समय पर विशेष प्रशिक्षण भी दिया जाना चाहिए, जिससे उनका व्यवसाय तेजी से आगे बढ़ सके।
निराश्रित महिलाओं के उत्थान के लिए बजट में जो विशेष व्यवस्था की गई है, उसका ऐसी महिलाओं को विशेष लाभ मिलेगा। बजट में महिलाओं पर विशेष ध्यान दिए जाने का स्वागत करते हुए सूरापुर की रंजना वर्मा ने कहा कि महिला उत्थान के लिए प्रदेश सरकार ने जो कदम उठाया है, वह सराहनीय है। बजट में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर भी ठोस कदम उठाया जाना चाहिए था।
डीडीओ वीरेंद्र कुमार सिंह ने कहा कि बजट में आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को पक्के आवास में रहने का सपना पूरा करने के लिए विशेष स्थान दिया गया है। आवासीय योजनाओं का जिले के पात्रों को व्यापक लाभ मिल भी रहा है। बजट में इसे लेकर जो विशेष ध्यान दिया गया है, उससे लगभग 42 हजार नए पात्रों को योजना का लाभ मिलेगा। ज्ञानेंद्र सिंह व आत्माराम पटेल ने कहा कि बजट में पक्के आवास के लिए भारी भरकम बजट का प्रावधान होने से उम्मीद है कि इसका अधिक से अधिक लोगों को लाभ मिलेगा।
... और पढ़ें

पीएम किसान सम्मान निधि से वंचित किसान करें आवेदन

अंबेडकरनगर। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ पाने से वंचित किसान अविलंब आवेदन कर सकते हैं। किसान सम्मान निधि योजना की वेबसाइट पर किसान अपने आवेदन की स्थिति को अविलंब जांच लें। यदि वेबसाइट पर उनकी स्थिति अस्वीकृत दिख रही है तो वे तत्काल जरूरी सुधार सुनिश्चित कराएं। यदि स्वयं ऐसा कर पाने में अक्षम हैं तो वे तहसील या राजकीय बीज भंडार केंद्र पर पहुंचकर अपने आवेदन में त्रुटि सुधार करा सकते हैं। इससे उन्हें आगामी दिनों में आने वाली अगली किस्तों का लाभ मिल सकेगा। यह जानकारी उपकृषि निदेशक आरडी बागला ने दी।
उन्होंने बताया कि केंद्र व प्रदेश सरकार जिले के सभी पात्र किसानों को किसान सम्मान निधि योजना का लाभ दिलाने के लिए गंभीर हैं। ऐसे में जरूरी है कि जिन किसानों को अब तक योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है, वह पीएम किसान सम्मान निधि योजना की वेबसाइट पर अपने आवेदन की स्थिति जांच लें। यदि किसी त्रुटिवश आवेदन अस्वीकृत दिखा रहा है तो स्वयं इसमें सुधार सुनिश्चित कराएं। यदि ऐसा संभव नहीं हो पा रहा है तो किसान आधार कार्ड, बैंक पासबुक की छाया प्रति व वेबसाइट से अपने आवेदन का स्टेटस का प्रिंट लेकर अविलंब अपने तहसील कार्यालय या ब्लॉकों पर संचालित राजकीय बीज भंडार केंद्र से संपर्क करें।
वरिष्ठ लिपिक आनंद पांडेय ने बताया कि संबंधित कार्यालयों में किसानों की पूरी मदद सुनिश्चित करने के लिए कर्मचारी मौजूद हैं। योजना का लाभ शत-प्रतिशत पात्र किसानों को मिल सके इसके लिए सभी आवश्यक प्रयास सुनिश्चित किए जा रहे हैं। कहा कि किसानों की मदद के लिए ग्राम पंचायत जनप्रतिनिधियों से भी सहयोग का आह्वान किया गया है। ग्राम प्रधान व बीडीसी किसानों के आवेदन कराने में मदद करें।
... और पढ़ें

बाइक की टक्कर से युवक की जान गई

अंबेडकरनगर। पुत्री को हाईस्कूल की परीक्षा देने के लिए खेमापुर छोड़कर बाइक से रिश्तेदारी में जा रहे युवक की अटवाई नहर के पास एक अन्य बाइक से जोरदार टक्कर हो गई। सिर में गंभीर चोट लगने से उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। उधर अन्य सड़क हादसों में छह लोग घायल हो गए। सभी को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां एक युवक की मौत हो गई।
जिला अस्पताल से मिली जानकारी के अनुसार अहिरौली थाना अंतर्गत यरकी गांव निवासी अशोक (35) पुत्र संचित मंगलवार सुबह अपनी पुत्री को हाईस्कूल की परीक्षा दिलाने के लिए खेमापुर गया था। वहां पुत्री को परीक्षा केंद्र पर छोड़कर वह अटवाई स्थित रिश्तेदारी में बाइक से जाने लगा। अशोक जब अटवाई नहर के निकट पहुंचा, तो सामने से आ रही बाइक से उसकी जोरदार टक्कर हो गई। इससे वह सड़क पर गिर पड़ा और उसके सिर में गंभीर चोटें आईं। स्थानीय लोगों ने अशोक को एक निजी अस्पताल पहुंचाया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। वहीं, इस हादसे में दूसरी बाइक पर सवार युवक बाल-बाल बच गया।
भीटी के रिउना निवासी पवन (30) पुत्र दलसिंगार अपनी 60 वर्षीय मां चंद्रावती को बाइक से लेकर भीटी जा रहा था। दरसपुर के निकट पिकअप की टक्कर से दोनों घायल हो गए। टांडा के चिंतौरा निवासी विकास (16) पुत्र रामजीत सोमवार देर शाम बाइक से टांडा से घर जाते समय ट्रैक्टर-ट्रॉली की टक्कर लगने से घायल हो गया।
टांडा कोतवाली अंतर्गत भोजपुर गांव निवासी संतोष (20) पुत्र सर्वजीत सोमवार देर शाम गांव के निकट बाइक की टक्कर से घायल हो गया। हंसवर थाना अंतर्गत रामपुर बेनीपुर निवासी सुमित्रा (50) पत्नी सुरेंद्र व गुलाबी (48) पत्नी रामचंदर मंगलवार सुबह घर के निकट सड़क पार करने के दौरान बाइक की टक्कर लगने से घायल हो गईं। सभी को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां देर शाम संतोष की मौत हो गई। अस्पताल से मिली जानकारी के अनुसार बाइक सवार घायलों ने हेलमेट नहीं लगा रखा था।
... और पढ़ें

दिनदहाड़े अध्यापिका का मोबाइल छीनकर भागे उचक्के

राजेसुल्तानपुर। प्राथमिक विद्यालय में तैनात सहायक अध्यापिका की मोबाइल उचक्कों ने छीन लिया। गुहार पर जब तक आसपास के लोग मौके पर पहुंचते तब तक उचक्के फरार हो चुके थे। सूचना पर पहुंचे डायल 112 की टीम ने घटना स्थल का जायजा लिया। अध्यापिका ने थाने में तहरीर देकर केस दर्ज करने की मांग की है।
जानकारी के अनुसार, आजमगढ़ जनपद के महाराजगंज थाना क्षेत्र अन्तर्गत करमुहा डींगरपुर निवासी आद्या यादव राजेसुल्तानपुर थाना क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय मालपुर माधवपुर में सहायक अध्यापिका के तौर पर कार्यरत हैं। अध्यापिका के अनुसार सोमवार सुबह वह करीब पौने नौ बजे विद्यालय पहुंची। वह विद्यालय में प्रार्थना की तैयारी करा रही थीं। इसी बीच उनके पति का फोन आ गया।
उन्होंने जैसे ही मोबाइल हाथ में लिया इसी बीच हेलमेट लगाए बाइक सवार दो उचक्के स्कूल परिसर में पहुंच गए और उनके हाथ से मोबाइल छीन लिया। जब तक वह कुछ समझ पातीं तब तक दोनों फरार हो गए। उन्होंने घटना की जानकारी डायल 112 की टीम को दिया। कुछ देर पहुंचे पुलिस कर्मियों ने घटना की जानकारी ली। बाद में अध्यापिका थाने पहुंच घटना की तहरीर देकर केस दर्ज करने की मांग की। थाना प्रभारी रामलखन पटेल ने बताया कि तहरीर मिली है। छानबीन की जा रही है।
... और पढ़ें

सामान्य एक्सरे शुरू, डिजिटल एक्सरे का अब भी इंतजार

अंबेडकरनगर। जिला अस्पताल आने वाले मरीजों को सोमवार को कुछ राहत मिली। लंबे समय बाद प्लेट उपलब्ध होने पर सामान्य एक्स-रे तो शुरू हो गया पर डिजिटल एक्स-रे अब भी शुरू नहीं हो सका। नतीजतन डिजिटल एक्स-रे के लिए आने वाले मरीजों का भी सामान्य एक्स-रे ही हुआ। इसके अलावा एंटी रैबीज व इफ्लोसिस इंजेक्शन भी जिला अस्पताल में उपलब्ध नहीं हो पाए जिससे इसके लिए आने वाले मरीज मायूस लौटे।
बीते एक पखवारे से अधिक समय से एक्स-रे के लिए जिला अस्पताल का चक्कर लगाने वाले मरीजों के लिए सोमवार का दिन कुछ राहत भरा रहा। लंबे इंतजार के बाद सोमवार को प्लेट उपलब्ध हुई, तो सामान्य एक्स-रे होना शुरू हो गया। हालांकि डिजिटल एक्स-रे का काम सोमवार को भी प्लेट के अभाव में शुरू नहीं हो पाया। नतीजा यह रहा कि डिजिटल एक्स-रे के लिए आए मरीजों का भी सामान्य एक्स-रे से काम चलाया गया। बेवाना से आए रामउजागिर ने बताया, अपनी बहन के पैर का डिजिटल एक्स-रे कराने के लिए पिछले तीन दिन से अस्पताल का चक्कर लगा रहा है। सोमवार को डिजिटल एक्स-रे की आस छोड़ कर सामान्य एक्स-रे करवा कर काम चलाया। सोमवार को 50 से अधिक लोगों का एक्स-रे हुआ।
उधर, सोमवार को भी जिला अस्पताल में एंटी रैबीज व इफ्लोसिक इंजेक्शन नहीं उपलब्ध हो सका। इससे इसके लिए आने वाले मरीजों को मायूस होकर लौटना पड़ा। जलालपुर से आए मोहम्मद शफीक, शहजादपुर के राहुल व कटेहरी के संतराम ने बताया, जिला अस्पताल में सस्ते व अच्छे इलाज के लिए आने वाले मरीजों को तगड़ा झटका लग रहा है। लगभग एक माह से एंटी रैबीज इंजेक्शन उपलब्ध नहीं है।
सोमवार को सामान्य एक्स-रे का कार्य शुरू हो गया। जल्द ही डिजिटल एक्स-रे भी शुरू हो जाएगा। एंटी रैबीज व इफ्लोसिस इंजेक्शन के लिए निदेशालय को पत्र भेजा गया है। उम्मीद है कि दो-तीन दिन में उपलब्ध हो जाएगा।
- डॉ. एसपी गौतम, सीएमएस
... और पढ़ें

डीएम ने लिया यूपी बोर्ड परीक्षा की तैयारियों का जायजा

अंबेडकरनगर। मंगलवार से शुरू हो रही यूपी बोर्ड परीक्षा की तैयारियों की हकीकत को जानने के लिए मंगलवार को डीएम राकेश कुमार मिश्र ने डीआईओएस कार्यालय में बनाए गए कंट्रोल रूम का जायजा लिया। साथ ही विभिन्न बिंदुओं पर जानकारी प्राप्त की। इस कंट्रोल रूम से जनपद के सभी विद्यालयों पर नजर रखी जाएगी।
यूपी बोर्ड परीक्षा मंगलवार से शुरू हो रही है। परीक्षा को नकल विहीन व सकुशल संपन्न कराने के लिए जिला प्रशासन सभी व्यवस्थाओं पर अपनी पैनी नजर बनाए हुआ है। इसी क्रम में सोमवार को डीएम राकेश कुमार मिश्र ने डीआईओएस कार्यालय में बनाए गए कंट्रोल रूम का जायजा लिया। वहां उन्होंने परीक्षा से जुड़ी तैयारियों का विवरण प्राप्त किया। कंट्रोल रूम से जनपद के सभी विद्यालयों पर नजर बनाए रखने के लिए कंट्रोल रूम में कुल 10 कंप्यूटर लगे मिले।
इसके माध्यम से विद्यालयों में हो रही परीक्षा की एक एक गतिविधि पर नजर रखी जाएगी। डीएम ने डीआईओएस कार्यालय के कर्मचारियों से ईमानदारी पूर्वक अपने कार्यों को संपादित करने का निर्देश दिया। कहा कि यदि किसी केंद्र पर किसी प्रकार की कोई संवेदनशीलता की स्थिति उत्पन्न होती है तो सेक्टर/जोनल मजिस्टे्रटों को तत्काल सूचित करेंगे। डीआईओएस को निर्देशित किया कि सभी केंद्रों पर लगे सीसीटीवी कैमरे व वाइस रिकॉर्डर क्रियाशील होने चाहिए। इसमें यदि कोई लापरवाही सामने आई तो कार्रवाई तय की जाएगी।
... और पढ़ें

117 परीक्षा केंद्रों पर आज से शुरू होगी यूपी बोर्ड परीक्षा

अंबेडकरनगर। जिले के विभिन्न क्षेत्रों में स्थापित 117 परीक्षा केंद्रों पर मंगलवार 18 फरवरी से 79 हजार से अधिक परीक्षार्थी परीक्षा देंगे। हाईस्कूल के 44 हजार 449 परीक्षार्थी प्रथम पाली में हिंदी व इंटरमीडिएट के 34 हजार 912 परीक्षार्थी भी द्वितीय पाली में हिंदी की परीक्षा देंगे। इस दौरान नकल पर अंकुश लगाने के लिए डीआईओएस कार्यालय में बने कंट्रोल रूम से ऑनलाइन निगरानी रखी जाएगी। इसके अलावा दो सुपर जोनल मजिस्ट्रेट, 5 जोनल मजिस्ट्रेट व 22 सेक्टर मजिस्ट्रेट के साथ ही 7 सचल दल भी परीक्षा को सकुशल व शांतिपूर्ण ढंग से निपटाने के लिए लगातार परीक्षा केंद्रों का जायजा लेंगे। उधर, परीक्षा को सकुशल निपटाने के लिए एक दिन पहले ही सभी जरूरी तैयारियां संबंधित परीक्षा केंद्रों पर पूर्ण कर लेने का दावा किया गया।
यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा मंगलवार 18 फरवरी से प्रारंभ हो रही है। शासन के दिशा निर्देश के अनुसार परीक्षा को सकुशल व नकलविहीन करवाने के लिए प्रशासन ने जरूरी तैयारियां एक दिन पहले ही पूरी कर ली हैं। मंगलवार को पहले दिन प्रथम पाली में जहां हाईस्कूल के परीक्षार्थी हिंदी की, तो द्वितीय पाली में इंटरमीडिएट के परीक्षार्थी भी हिंदी की परीक्षा देंगे। डीआईओएस कार्यालय के राजेश कुमार ने बताया कि जिले के 117 परीक्षा केंद्रों पर कुल 79 हजार 361 परीक्षार्थी पंजीकृत हैं। इसमें हाईस्कूल के 44 हजार 449, जबकि इंटरमीडिएट के 34 हजार 912 परीक्षार्थी शामिल हैं।
पूरी परीक्षा प्रक्रिया पर ऑनलाइन नजर रखने के लिए डीआईओएस कार्यालय में कंट्रोल रूम की स्थापना की गई है।, जहां से सभी परीक्षा केंद्रों पर लगे सीसीटीवी कैमरे को जोड़ दिया गया है। इससे नकल पर अंकुश पाने में मदद मिलेगी। डीआईओएस कार्यालय के अनुसार इसके अलावा एडीएम पंकज वर्मा व सीडीओ अनूप कुमार श्रीवास्तव को सुपर जोनल मजिस्ट्रेट बनाया गया है। 5 जोनल मजिस्ट्रेट व 22 सेक्टर मजिस्ट्रेट लगातार परीक्षा केंद्रों का जायजा लेगे। डीआईओएस कार्यालय के अनुसार प्रथम पाली की परीक्षा सुबह 8 से सवा 11 बजे तक, जबकि दूसरी पाली की परीक्षा अपराह्न 2 से सवा 5 बजे तक होगी।
परीक्षा में नकल पर अंकुश पाने के लिए परीक्षार्थियों को दो बार जांच प्रक्रिया से गुजरना पड़ेगा। डीआईओएस के अनुसार परीक्षा केंद्र के मुख्य गेट पर आंतरिक सचल दल के सदस्य परीक्षार्थियों की जांच करेंगे। यदि कोई जूता पहनकर जाता है, तो उसे उतरवाया जाएगा। इसके अलावा मोबाइल व डिजिटल घड़ी परीक्षा केंद्र के अंदर नहीं ले जाने दिया जाएगा। इसके बाद परीक्षा कक्ष में पहुंचे परीक्षार्थियों की भी यदि आवश्यकता पड़ी, तो जांच की जाएगी।
परीक्षा को सकुशल व शांतिपूर्ण ढंग से निपटाने के लिए पुलिस प्रशासन ने भी तैयारियां पूर्ण कर ली हैं। एएसपी अवनीश कुमार मिश्र ने बताया कि परीक्षा केंद्र के मुख्य गेट पर पुलिस कर्मियों की तैनाती की गई है। अभिभावकों को परीक्षा केंद्र से 200 मीटर सीमा से बाहर रखा जाएगा। 200 मीटर सीमा में किसी को भी प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। यदि किसी ने परीक्षा में गड़बड़ी करने का प्रयास किया, तो उससे सख्ती से निपटा जाएगा।
यूपी बोर्ड परीक्षा 18 फरवरी मंगलवार से प्रारंभ हो रही है। इसे नकल विहीन व शांतिपूर्ण ढंग से निपटाने को लेकर सभी प्रकार की तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं। प्रत्येक परीक्षा केंद्र पर शौचालय, पेयजल, प्रकाश आदि की समुचित व्यवस्था पूरी कर ली गई।
- विनोद सिंह, डीआईओएस
... और पढ़ें

छलनी है शहर की हर सड़क

अंबेडकरनगर। शासन की साफ मंशा और निर्देश हैं कि सड़कें चकाचक हों। लोग सड़कों पर निकलें तो उन्हें किसी तरह की दिक्कत न हो। इसी मकसद से सड़कों को गड्ढामुक्त करने के लिए सरकार ने हिदायत भी दे रखी है। विडंबना यह है कि इसके बावजूद अकबरपुर शहर में छलनी हो चुकी तमाम सड़कों की सुध पीडब्ल्यूडी के अफसरों को नहीं है। इसका खामियाजा हर दिन करीब एक लाख आबादी व बाहरी यात्रियों को भुगतना पड़ रहा है ।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की प्राथमिकता भले ही सड़कों को गड्ढा मुक्त बनाने की है, लेकिन उनके तमाम निर्देशों के बावजूद जिले के लोक निर्माण विभाग को इसकी कोई सुध नहीं है। जिला मुख्यालय से दूर ग्रामीण क्षेत्रों में जहां तमाम प्रमुख मार्ग गड्ढों में तब्दील हैं, वहीं जिला मुख्यालय वाले अकबरपुर नगर में सड़कों की बदहाली तक दूर करने की परवाह पीडब्लूडी अधिकारियों को नहीं है। ऐसे समय में जब सड़कों में गड्ढा पाए जाने पर सरकार ने कड़ी कार्रवाई की चेतावनी तक दे रखी है। तब भी जिला मुख्यालय तक की सड़कों के गड्ढे दूर करने को लेकर लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों का रवैया लापरवाह बना हुआ है। प्रतिदिन स्थानीय नागरिकों व बाहरी यात्रियों को मिलाकर लगभग एक लाख व्यक्ति सड़कों में बने गड्ढों से जूझ रहे हैं, लेकिन अधिकारियों की बेफिक्री जस की तस बनी है।
अकबरपुर नगर में पुराने तहसील तिराहे से लेकर फौव्वारा तिराहा होते हुए नई सड़क, दोस्तपुर चौराहा, पहितीपुर चौराहा तथा आसपास के मार्ग हद दर्जे तक गड्ढे में तब्दील हो चुके हैं। दोस्तपुर मार्ग पर नगर सीमा के भीतर तक मार्गों की हालत अत्यन्त खस्ताहाल है। कदम कदम पर गड्ढे इस तरह उत्पन्न हो गए हैं कि प्रतिदिन स्थानीय नागरिकों व यात्रियों को मुश्किल हो रही है। इसके बावजूद लोक निर्माण विभाग मौन साधे हुए है।
अकबरपुर नगर में रेलवे क्रासिंग जौहरडीह से होकर तक्षशिला रूटस विद्यालय होते हुए बसखारी मुख्य मार्ग पर निकलने वाला मार्ग सर्वाधिक बदहाली का शिकार है। रेलवे स्टेशन के पीछे से होते हुए क्रासिंग तक तथा जौहरडीह से बसखारी मार्ग तक का पूरा क्षेत्र इस तरह गड्ढायुक्त हो गया है कि वाहनों का सुचारू ढंग से चलना संभव नहीं हो पाता। बड़े बड़े गढ्ढों के चलते अक्सर यहां हादसे भी होते रहते हैं। नगर के मुख्य मार्ग पर जाम लगने के दौरान यह वैकल्पिक मार्ग भी गड्ढों आदि के चलते जाम का सबब बन जाता है। क्योंकि गड्ढों से बचने के लिए वाहनों को आड़ा तिरछा कर निकालने के प्रयास में जाम की स्थिति उत्पन्न हो जाती है।
अकबरपुर नगर का पहितीपुर मार्ग आवागमन में स्थानीय नागरिकों व अन्य यात्रियों को काफी तकलीफ दे रहा है। पहितीपुर मार्ग के दोनों तरफ कृष्णानगर व इंद्रलोक कालोनी समेत कई नई कालोनियां बसी हुई हैं। इसके साथ ही तमाम प्रतिष्ठान व विद्यालय इसी मार्ग पर हैं। भिखारीपुर के निकट नेशनल हाइवे इस मार्ग को जोड़ता है। नेशनल हाइवे तक पहुंचने से पहले कसेरुआ से लेकर अकबरपुर में पहितीपुर चौराहे तक इतने ज्यादा गड्ढे बन गए हैं कि उनसे होकर गुजरते हुए यात्री व स्थानीय नागरिक प्रशासन को प्रतिदिन कोसते दिखते हैं। कई बार अधिकारियों का ध्यान आकृष्ट कराने के बावजूद मार्ग की बदहाली जस की तस है।
नगर में ओवरब्रिज के निकट बस स्टेशन से लेकर पटेलनगर तिराहे तक के मार्ग में भी जगह जगह गड्ढों का सामना यात्रियों को करना पड़ रहा। पटेल नगर तिराहे से टांडा मार्ग पर कटरिया याकूबपुर के निकट तक पूरा मार्ग तथा पटेलनगर तिराहे से रमाबाई डिग्री कॉलेज मोड़ तक का मार्ग भी गड्ढों में तब्दील है। यह तीनों मार्ग वीआईपी मार्ग के तौर पर जाना जाता है। इसके बावजूद इन मार्गों की बदहाली दूर करने की तरफ प्रशासन का ध्यान नहीं जा पा रहा। लोक निर्माण विभाग सड़कों को गड्ढा मुक्त करने के नाम पर मौन साधे है।
अकबरपुर नगर के रेलवे स्टेशन मार्ग की हालत भी अत्यन्त बदतर है। प्रतिदिन रेलवे स्टेशन जाने व आने वाले यात्रियों समेत इर्द गिर्द के क्षेत्र में रहने वाले नागरिकों को गड्ढों के चलते व्यापक मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। लंबे समय से नगर पालिका प्रशासन तथा लोक निर्माण विभाग दोनों को इस बारे में अवगत कराया गया, लेकिन गड्ढों को दूर करने की तरफ जिम्मेदारों का ध्यान नहीं जा पा रहा।
नगर के सभी मार्ग दुरुस्त कराए जाएंगे। मार्गों की हालत खराब होने की जानकारी है। एक-दो दिन में ही मार्गों को दुरुस्त कराने का काम शुरू करा दिया जाएगा।
शंकर्षण लाल, अधिशाषी अभियंता लोक निर्माण विभाग
... और पढ़ें

जन आरोग्य मेले में 4794 मरीजों का हुआ स्वास्थ्य परीक्षण

अंबेडकरनगर। जिले के 32 सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों पर जन आरोग्य मेले का आयोजन हुआ। इसमें चिकित्सकों की टीम ने विभिन्न बीमारियों से पीड़ित 4 हजार 794 मरीजों के स्वास्थ्य का परीक्षण करने के साथ ही उन्हें दवा व परामर्श दिया। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों व चिकित्सकों ने आम नागरिकों से इस निशुल्क स्वास्थ्य जांच मेले का लाभ उठाने की अपील की। कहा कि सरकार के इस प्रयास से गरीबों तक स्वास्थ्य सेवाएं तेजी से पहुंच रही हैं। ऐसे में सभी नागरिकों को इसका लाभ उठाना चाहिए।
अकबरपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर जन आरोग्य मेले का शुुभारंभ राजकीय एलोपैथिक मेडिकल कॉलेज सद्दरपुर के प्राचार्य डॉ. पीके सिंह ने किया। बाद में सीएमओ डॉ. अशोक कुमार भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने सरकार द्वारा चलायी जा रही इस महत्वपूर्ण योजना के बारे में विस्तार से जानकारी दी। कहा कि आम नागरिकों को स्वास्थ्य मेले में पहुंचकर अपने स्वास्थ्य की निशुल्क जांच करानी चाहिए। आवश्यकतानुसार चिकित्सक उन्हें दवा व परामर्श देंगे। मेले में डॉ. हेमंत कुमार, डॉ. नवनिधि मिश्र, डॉ. सुभाष, स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी एनसी राम आदि मौजूद रहे।
आलापुर प्रतिनिधि के अनुसार प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर रविवार को स्वास्थ्य मेले का आयोजन हुआ। भाजपा जिला उपाध्यक्ष दशरथ यादव ने मेले का शुभारंभ किया। उन्होंने सरकार के इस प्रयास की सराहना की। कहा कि इससे गरीबों तक आसानी से सरकार की स्वास्थ्य सेवाएं पहुंच रही हैं। आम नागरिकों को सरकार की इस योजना का लाभ उठाना चाहिए।
उन्होंने कहा कि गरीबों के लिए यह योजना वरदान साबित हो रही है। जल्द ही सरकार के दिशा-निर्देश पर मेले में आयुष्मान योजना के कार्ड बनाने की भी सुविधा मिलेगी। इस दौरान प्रभारी डॉ. मुन्नीलाल निगम, डॉ. सुनील मौर्य, डॉ. एमपी मौर्य, बीपीएम विनोद कुमार, फार्मासिस्ट अरविंद, चंद्रिका, वबिता देवी व सूर्यमोहन आदि मौजूद रहे।
जलालपुर प्रतिनिधि के अनुसार नवीन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बड़ेपुर, धवरुआ, मालीपुर, कासिमपुर कर्बला एवं महिला अस्पताल में जन आरोग्य मेले का आयोजन हुआ। मरीजों की जांच के साथ ही चिकित्सकों ने आम नागरिकों को कई महत्वपूर्ण सुझाव भी दिए। सीएचसी अधीक्षक डॉ. जावेद आलम, स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी अनिल त्रिपाठी व सीडीपीओ बलराम सिंह ने विभिन्न स्वास्थ्य केंद्रों का निरीक्षण किया।
सीएमओ डॉ. अशोक कुमार ने बताया कि रविवार को अलग-अलग स्वास्थ्य केंद्रों से आयी रिपोर्ट के अनुसार 32 केंद्रों पर आयोजित स्वास्थ्य मेले में 4 हजार 794 मरीजों की जांच हुई। इसमें सांस के 466, एनीमिया के 174, रक्तचाप के 281, गर्भवती 158, चर्मरोग के 502, ब्लड शुगर के 295, गैस्ट्रो के 846 व अन्य विभिन्न बीमारियों से परेशान 2769 मरीजों की जांच हुई।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us