विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020
Astrology Services

विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

जानें कौन हैं श्री रामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास

राम मंदिर आंदोलन के अहम किरदार रहे अयोध्या के श्री रामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास को राम मंदिर निर्माण के लिए बनाए गए 'श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र' ट्रस्ट का अध्यक्ष बनाया गया है। जानें, उनके बारे में:

19 फरवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

बांदा

बुधवार, 19 फरवरी 2020

बोलेरो की टक्कर से बाइक सवार मामा और भांजी की मौत

बांदा। पुत्र को लेने स्कूल जाते समय तेज रफ्तार बोलेरो की टक्कर से बाइक सवार युवक और उसकी मासूम भांजी की मौत हो गई। गंभीर रूप से घायल भांजे का कानपुर में इलाज चल रहा है। मृतक पेशे से किसान और दूध विक्रेता था।
शहर के शुकुलकुआं निवासी जितेंद्र यादव (30) पुत्र जयकरण सोमवार को दोपहर बाइक से अपने पुत्र को लेने प्राइवेट स्कूल जा रहा था। उसके साथ बाइक पर 9 वर्षीय भांजी महक और 7 वर्षीय भांजा मयंक भी थे। शहर के बाहर कताई मिल के पास तेज रफ्तार बोलेरो ने बाइक को टक्कर मार दी।
जितेंद्र की मौके पर ही मौत हो गई। दोनों बच्चे गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्हें जिला अस्पताल से कानपुर रेफर कर दिया गया। वहां देर शाम भांजी महक की भी मौत हो गई। बोलेरो चालक वाहन लेकर भाग निकला। पिता ने बताया कि जितेंद्र के दो पुत्र व एक पुत्री हैं। वह दूध बेचता था। तीन बीघा खेती भी है। घायल बच्चे अपने पिता जयकरण के साथ कानपुर से रविवार को यहां आए थे।
एक अन्य घटना में बिसंडा थाना क्षेत्र के मरौली गांव के भुराने पुरवा निवासी वीरेंद्र (30) पुत्र जगमोहन अपने भांजे पुष्पेंद्र (19) पुत्र हरिश्चंद्र (थनैल) के साथ रविवार की रात बांदा आ रहा था। अमवां गांव के पास बाइक से गिरकर दोनों घायल हो गए। उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
... और पढ़ें

फाइलेरिया की दवा खाकर छह बीमार

फबांदा। फाइलेरिया की दवा खिलाए जाने के अभियान के पहले ही दिन शहर की कांशीराम कालोनी (हरदौली) में कई लोगों की हालत बिगड़ गई। इनमें महिला और बच्चे शामिल हैं। उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। महिला की तबियत ज्यादा गंभीर है। मुख्य चिकित्साधिकारी ने कहा है कि किसी भी मरीज को कोई खतरा नहीं है।
सोमवार को अभियान के पहले दिन स्वास्थ्य विभाग द्वारा गठित राष्ट्रीय फाइलेरिया कार्यक्रम की टीम ने कालोनी में जाकर दोपहर को कालोनीवासियों को फाइलेरिया की दवा खिलाई। इसे खाने के बाद असलान अहमद (11), काशिफ (8), सिद्दीका (5), चुनुबादी (37), शांति (40) और सोनू (36) की हालत बिगड़ गई। घबराए परिजन और कालोनी के अन्य लोग उन्हें ई-रिक्शा से जिला अस्पताल लाए।
खबर पाकर सीएमओ डा.संतोष कुमार भी पहुंच गए। उन्होंने इन सभी को देखा और उन्हें दवाएं दिलाईं। यहां उन्होंने मीडिया को बताया कि घर-घर जाकर एलबेंडाजॉल और डीसी दवा खिलाई जा रही है। इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है। उन्होंने खुद देखा है।
बच्चों को पेट के कीड़े खत्म करने के लिए एलबेंडाजॉल खिलाई गई है। इसमें हल्की सी पेट में जलन की बात बताई गई है। सीएमओ ने कहा कि संभवत: खाली पेट दवा खाने से ऐसा हुआ हो। उन्होंने कहा कि सभी मरीज नार्मल हैं। घबराने की बात नहीं है।
... और पढ़ें

हिंदू युवा वाहिनी उपाध्यक्ष का स्वागत

बांदा। हिंदू युवा वाहिनी के प्रदेश उपाध्यक्ष और राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त राजेश्वर सिंह के सोमवार को यहां आगमन पर कार्यकर्ताओं ने गर्मजोशी से उनका स्वागत किया। शहर की सीमा पर भूरागढ़ गांव के पास उनकी अगुवानी के बाद उनका काफिला शहर में दाखिल हुआ और नवाब टैंक स्थित डाक बंगले पहुंचा।
यहां हिंदू युवा वाहिनी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की। गोशालाओं और अन्ना पशुओं को लेकर चर्चा हुई। विजय उपाध्याय, राजेश गिरि, अनुराग चंदेरिया, नरेंद्र सोनी, राकेश सिंह राठौर, मैथलीशरण अवस्थी, चुन्नीलाल गुप्ता, राकेश द्विवेदी, संतशरण दादू, रोहित साहू, दीपू सेंगर, नरेंद्र सिंह, सत्यम तिवारी, सौरभ गुप्ता सहित भाजपा नगर अध्यक्ष राकेश गुप्ता आदि उपस्थित रहे।
... और पढ़ें

अनोखी मुहिम: बांदा में वर-वधू सहित बरातियों को दिया गया पौधों का तोहफा

बांदा जिले में विभिन्न अवसरों और धार्मिक अनुष्ठानों में चल रहे पेड़ प्रसाद अभियान के तहत शहर के एक वैवाहिक समारोह में डीएम हीरा लाल ने वर-वधू सहित दोनों पक्षों के लोगों को पौधों का तोहफा दिया।

कहा कि इसे घर में संरक्षित करें और शुद्ध आक्सीजन हासिल करें। इंदिरा नगर में सुरेश कुमार गुप्ता की पुत्री ज्योति गुप्ता का विवाह था। कन्या पक्ष की सहमति पर डीएम हीरालाल अफसरों के साथ विवाहोत्सव में शामिल हुए। वर-वधू को बधाई के साथ पौध भेंट किए।

उनके अलावा अन्य लोगों को गमले सहित 151 पौध सौंपे। कहा कि जीवन का अस्तित्व पेड़-पौधों बिना संभव नहीं है। जिस आक्सीजन से हमें जीवन मिल रहा है वह इन्हीं पेड़ों से मिलती है। इस अवसर पर डीएफओ संजय अग्रवाल, सदर तहसीलदार अवधेश कुमार निगम, रिटायर्ड सीडीओ हीरालाल, प्रशंसा गुप्ता, रिटायर्ड रेंजर जुनैद अहमद और मैग्जीन एडीटर गुरुशरन धनजन आदि उपस्थित रहे।
... और पढ़ें
वर-वधू को पौध का तोहफा देते डीएम हीरालाल वर-वधू को पौध का तोहफा देते डीएम हीरालाल

पहले ही दिन धड़ाम हुई परीक्षा केंद्रों की लाइव व्यवस्था

यूपी बोर्ड परीक्षा मंगलवार को आधी-अधूरी तैयारियों के बीच शुरू हो गईं। पहली बार परीक्षार्थियों की ऑनलाइन निगरानी में कनेक्टीविटी रोड़ा बनी। बीएसएनएल सहित अन्य कंपनी के नेटवर्क धड़ाम होने से तमाम परीक्षा केंद्र लाइव नहीं जुड़ सके। कक्ष निरीक्षक बनाए गए बेसिक शिक्षा विभाग के कई शिक्षक नदारद रहे।
कुछ परीक्षा केंद्रों में रोशनी की पर्याप्त व्यवस्था नहीं थी। पहली पाली हाईस्कूल हिंदी प्रश्नपत्र की परीक्षा थी। इसमें पंजीकृत 24,725 में 1556 परीक्षार्थियों ने परीक्षा छोड़ दी। उधर, पैलानी में आंतरिक सचल दल ने एक छात्रा को नकल करते पकड़ लिया।
प्रथम पाली में प्रारंभिक हिंदी व दूसरी पाली में इंटर सामान्य हिंदी प्रश्नपत्र की परीक्षा थी। परीक्षा शुरू होने के 15 मिनट पहले परीक्षार्थियों को प्रवेश दिया गया। मुख्य गेट में ही परीक्षार्थियों की तलाशी हुई।
मंडल कारागार सहित 61 परीक्षा केंद्रों में नकल रोकने को गठित पांच उड़न दस्तों और आठ सेक्टर मजिस्ट्रेटों की खास नजर संवेदनशील परीक्षा केंद्रों में रही। जीआईसी, पैलानी में आंतरिक सचल दल ने एक संस्थागत छात्रा को नकल करते पकड़ लिया। शासन द्वारा नियुक्त पर्यवेक्षक राजशेखर ने भी कई परीक्षा केंद्रों का जायजा लिया।
जीआईसी, आर्य कन्या इंटर कालेज, जीजीआईसी, बांदा आदि परीक्षा केंद्रों में रोशनी की पर्याप्त व्यवस्था नहीं थी। चंदवारा, बघेलाबारी, खप्टिहाकलां, भभुआ आदि परीक्षा केंद्रों में परीक्षार्थियों को सड़क से सेंटर तक ले जाने के लिए विद्यालय की ओर से ई-रिक्शा व टेंपों की व्यवस्था की गई थी। मुख्य सड़क से परीक्षा केंद्रों की दूरी करीब एक किलोमीटर है।
उधर, परीक्षा की शुरुआत में ही इंटरनेट धड़ाम हो जाने से करीब 30 मिनट तक परीक्षार्थियों की ऑनलाइन लाइव निगरानी नहीं हो सकी। बाद में कंट्रोल रूम के इंजीनियरों ने दुरुस्त कर इंटरनेट से कनेक्ट किया।
बोर्ड परीक्षा में हाईस्कूल के 16 व इंटर के 15 दिव्यांग भी शामिल हुए। आदर्श बजरंग इंटर कालेज में इनके लिए अलग से कक्ष की व्यवस्था की गई। स्पर्श राजकीय दृष्टिबाधित स्कूल महोखर के वरिष्ठ प्रवक्ता व परीक्षा नियंत्रक जितेंद्र कुमार ने बताया कि सभी दिव्यांगों को सहायक (श्रुतलेखक) की मुहैया कराया गया है।
कई परीक्षा केंद्रों में निरीक्षकों ने बिना परिचयपत्र ड्यूटी की। डीआईओएस विनोद कुमार के मुताबिक 44 हजार से अधिक बोर्ड परीक्षार्थियों के लिए करीब तीन हजार निरीक्षकों के परिचयपत्र जारी किए जाने थे। इनमें आधे से ज्यादा निरीक्षक बेसिक शिक्षा विभाग के हैं। केंद्र व्यवस्थापकों की लापरवाही पर कार्रवाई होगी।
... और पढ़ें

समस्याओं के निस्तारण में लापरवाही पर होगी कार्रवाई

जिला स्तरीय संपूर्ण समाधान दिवस में जिलाधिकारी हीरा लाल ने सभी विभागीय अधिकारियों को फरियादियों का सम्मान करने और उनकी समस्याओं का निस्तारण प्राथमिकता से करने के निर्देश दिए।
सदर तहसील में जिलाधिकारी व सभी विभागों के जिला स्तरीय अधिकारियों की मौजूदगी में 103 फरियादियों ने शिकायतें दर्ज कराईं। 11 शिकायतों का मौके पर निस्तारण कर दिया गया। बाकी संबंधित विभागों को सौंप दिए गए।
डीएम ने निस्तारण में लापरवाही करने पर कठोर कार्रवाई की चेतावनी दी। अधिकांश शिकायतें बिजली, पानी, जलभराव और छात्रवृत्ति व जमीनी विवाद से संबंधित थे।
एसपी सिद्धार्थ शंकर मीणा ने पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए कि शिकायतों का समय से निस्तारण करें। सीडीओ हरिश्चंद्र वर्मा, पीडी आरपी मिश्रा, सीएमओ डा. संतोष कुमार, प्रभागीय वनाधिकारी संजय अग्रवाल, उप निदेशक कृषि एके सिंह, जिला पंचायत राज अधिकारी संजय यादव, तहसीलदार अवधेश निगम आदि मौजूद रहे।
उधर, अतर्रा तहसील में समाधान दिवस पर एसडीएम ने शिकायते सुनी और निस्तारण के निर्देश दिए। क्षेत्राधिकारी राजीव प्रताप सिंह, थाना प्रभारी रामेंद्र तिवारी, विजय सिंह समेत सभी विभागों के अधिकारी मौजूद रहे। नरैनी तहसील दिवस में एसडीएम वंदिता श्रीवास्तव ने शिकायते सुनी। 46 शिकायते में एक का मौके पर निस्तारण किया गया।
... और पढ़ें

घर के बरामदे में युवक का मिला खून से लथपथ शव

संदिग्ध परिस्थितियों में घर के बरामदे में युवक का शव खून से लथपथ मिला। उसके सीने में गोली लगी थी और पास में ही तमंचा पड़ा था। परिजन और पुलिस दोनों ही इसे आत्महत्या बता रहे हैं। मृतक पुणे स्थित एक होटल में मैनेजर था।
घटना बदौसा थाना क्षेत्र के उतरवां गांव की है। यहां मूलचंद्र तिवारी का पुत्र नीरज तिवारी (23) सोमवार की रात घर के बरामदे में चारपाई पर सोया था। मंगलवार को सुबह चाय देने पहुंची मां मालती तिवारी ने नीरज का शव खून से लथपथ जमीन पर पड़ा देखा। परिजनों की सूचना पर पहुंची थाना पुलिस ने घटनास्थल की जांच की।
चारपाई पर पड़ा 315 बोर तमंचा पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया। मृतक के भाई धीरज तिवारी ने बताया कि नीरज बड़ा था। पुणे स्थित एक होटल में मैनेजर था। 15 अगस्त को यहां आया था। फिर वापस काम पर नहीं गया, हालांकि परिजन आत्महत्या का कारण नहीं बता सके। पिता पेशे से किसान हैं।
क्षेत्राधिकारी रोहित यादव ने पुलिस फोर्स के साथ घटनास्थल का निरीक्षण किया। प्रधान शंकर प्रसाद भी मौजूद रहे। बदौसा थाना प्रभारी नरेश प्रजापति ने बताया कि मृतक के पिता ने किसी भी रंजिश से इनकार किया है।
मूलचंद्र द्वारा दी गई तहरीर में आत्महत्या बताया गया है। मानसिक रूप से परेशानी का भी जिक्र किया है। फिर भी घटना की हर बिंदु से जांच की जा रही है। डॉग स्क्वायड और फोरेंसिक टीम ने भी जांच की। नीरज अविवाहित था।
... और पढ़ें

ससुराल में युवती की फांसी से मौत, हत्या का आरोप

नीरज तिवारी (फाइल फोटो)
शादी के सात माह बाद संदिग्ध परिस्थितियों में युवती का शव ससुराल में फंदे पर लटका मिला। ससुरालीजन आत्महत्या बता रहे हैं। मायके वाले हत्या का आरोप लगा रहे हैं। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है।
मरका थाना क्षेत्र के पन्नाह गांव में आमना खातून (21) पत्नी सलमान खां का शव सोमवार को शाम कमरे में रस्सी के फंदे पर लटका मिला। परिजनों की सूचना पर पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराया है। पति का कहना है कि आमना उस पर शक करती थी। इसी तनाव के चलते उसने आत्महत्या कर ली।
मृतका के चाचा शहीद खां (शिव, बिसंडा) ने बताया कि आमना की शादी 2019 में सात जुलाई को हुई थी। पति दो लाख रुपये की और मांग कर रहा था। आरोप लगाया कि रुपये देने से मना करने पर ससुरालीजन उसे प्रताड़ित करते थे। यह भी कहा कि गांव की एक युवती से पति के नाजायज रिश्ते हैं। आमना इसका विरोध करती थी।
पांच दिन पूर्व भी इसी बात को लेकर दोनों के बीच विवाद हुआ था। आरोप लगाया कि पति ने उसकी हत्या कर आत्महत्या का रूप देने के लिए शव फंदे पर टांग दिया। थाना निरीक्षक जाकिर हुसैन ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में स्थिति स्पष्ट हो जाएगी। मायके वालों से कोई तहरीर नहीं मिली है।
... और पढ़ें

आवास योजना में लाभार्थी से पैसा मांगा तो होगी बर्खास्तगी

प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) वित्तीय वर्ष 2019-20 की प्रगति की समीक्षा बैठक डूडा कार्यालय में हुई। परियोजना अधिकारी (पीओ) ने योजना की धीमी प्रगति पर नाराजगी जाहिर की। लाभार्थी से पैसा मांगने पर बर्खास्तगी की चेतावनी दी।
परियोजना अधिकारी नरेंद्र कुमार गंगवार ने कहा कि आरईपीएल संस्था को वित्तीय वर्ष में 5658 आवासों के निर्माण का लक्ष्य निर्धारित किया गया, लेकिन अब तक मात्र 2505 आवासों का निर्माण पूरा हुआ।
3,153 आवास निर्माण शेष हैं। हाईटेक संस्था को वित्तीय वर्ष में 3000 आवासों के निर्माण का लक्ष्य दिया गया था। 804 आवासों का निर्माण पूरा किया गया। 2196 आवासों का निर्माण होना है। दोनों की प्रगति बेहद धीमी है।
संस्था द्वारा आवासों के निर्माण में खास रुचि न लिए जाने पर जेई को चेतावनी दी। कहा कि यदि लक्ष्य जल्द पूरा न हुआ तो बर्खास्तगी की कार्रवाई की जाएगी। 31 मार्च 2020 तक आवासों का निर्माण शत-प्रतिशत पूरा करने के निर्देश दिए।
परियोजना अधिकारी ने यह भी निर्देश दिए कि किसी भी लाभार्थी से पैसा मांगने की कोई शिकायत मिली तो बर्खास्तगी की कार्रवाई की जाएगी। सीएलटीसी अर्जुन सिंह, आरईपीएल के डीसी नीतीश सिंह, हाईटेक के डीसी अशोक यादव, शारदा प्रसाद आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

बांदा: चारपाई के नीचे खून से लथपथ बेटे का शव देख चीख पड़ी मां, हत्या की आशंका

अन्ना मवेशियों ने सफाचट की सैकड़ों बीघा की फसल

कस्बा सहित आसपास के एक दर्जन गांवों में रात में अन्ना मवेशियों ने खेतों में धावा बोलकर सैकड़ों बीघा फसल सफाचट कर दी। इससे किसान आक्रोशित हैं।
रोष जताया कि गांवों को अन्ना मुक्त करने का ढिंढोरा पीट रहे अफसर सुध नहीं ले रहे। 17 गांवों व 24 मजरों में कहीं भी स्थायी व अस्थायी गोशाला नहीं है।
प्रदेश सरकार अन्ना मवेशियों से निजात के लिए तमाम योजनाएं चला रही है। करोड़ों रुपये पानी की तरह बहाया जा रहा है। फिर भी इस पर अंकुश नहीं लग पा रहा है।
नरैनी तहसील क्षेत्र में कस्बा सहित बाबूपुर, महाराजपुर, रगौली, नहरी, बिल्हरका, निढुवा, बडै़छा, मानपुर, अकेलवा आदि गांवों में अन्ना मवेशियों से संकट गहरा गया है। यहां दर्जनों मवेशियों के झुंड घूम रहे हैं और खेतों में धावा बोलकर फसलों को सफाचट कर रहे हैं। उनके पैरों तले रौंदने से भी फसलें बर्बाद हो रही हैं।
किसान रामेश्वर, कल्लू, भोला, अमर, सिद्धा, राकेश, जमुना, बिल्लू, कल्लन आदि ने बताया कि रात-दिन निगरानी के बाद भी अन्ना मवेशियों से फसलों को नहीं बचा पा रहे हैं। रात में मवेशी जिस खेत में घुस जाते हैं, वहां तहस-नहस कर देते हैं।
रोष जताया कि अस्थायी व स्थायी गोशाला न होने से इन पर रोक नहीं लग पा रही। कई बार अधिकारियों को इस समस्या से अवगत कराया गया, लेकिन किसी ने तवज्जो नहीं दी। नतीजतन अन्ना मवेशियों की धमाचौकड़ी से किसान अपनी फसलों से हाथ धो रहे हैं। किसानों ने ग्राम पंचायत स्तर पर गोशाला बनवाने की मांग की है।
... और पढ़ें

1121 फाइलेरिया रोगी, एमडीए अभियान शुरू

बांदा। फाइलेरिया से बचाव के लिए एमडीए अभियान के लिए चिह्नित प्रदेश के 31 जिलों में शामिल बांदा जिले में भी सोमवार से फाइलेरिया की दवा खिलाने का अभियान शुरू हो गया। यह 29 फरवरी तक चलेगा। जिले में फाइलेरिया की गिरफ्त में 1121 रोगी हैं। मुख्य चिकित्साधिकारी ने पैरा मेडिकल कालेज एंड नर्सिंग स्कूल में खुद गोली खाकर एमडीए अभियान की शुरुआत की।
उन्होंने बताया कि लिमफैटिक फाइलेरियासिस के संक्रमण से बचाव के लिए मॉस ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एमडीए) अभियान चलाया जा रहा है। इसमें बुंदेलखंड के बांदा, जालौन, हमीरपुर, चित्रकूट, महोबा जिले भी शामिल हैं। हर व्यक्ति को यह दवा लेनी है। सिर्फ दो साल से कम उम्र के बच्चे या गर्भवती महिलाएं अथवा गंभीर बीमारी से पीड़ित लोगों को यह दवा नहीं दी जाएंगी।
कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डॉ. आरएन प्रसाद ने बताया कि इस अभियान में दी जा रही दवाइयां विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) से अनुशंसित हैं। आयु के आधार पर डोज निर्धारित है। कहा कि इन प्रभावित क्षेत्र में रह रहे सभी लोगों को फाइलेरिया का खतरा है, इसलिए दवा खानी जरूरी है।
इस अवसर पर अपर सीएमओ डॉ. बीपी वर्मा, डिप्टी सीएमओ डा.एनके सिन्हा, कुष्ठ अधिकारी डॉ. एसपी द्विवेदी, मलेरिया अधिकारी पूजा अहिरवार, सहायक मलेरिया अधिकारी लालसाहब सिंह, भावना शर्मा सहित पैरा मेडिकल कालेज की डॉ. जरीना खान, डब्ल्यूएचओ को डॉ. संतोष गुप्ता, डीपीएम कुशल यादव, यूनिसेफ फुजैल अहमद सिद्दीकी, पीसीआई के अनूप दुबे इत्यादि उपस्थित रहे।
607 लिंफोएडिमा और 514 हाइड्रोसील के मरीज
बांदा। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के मुताबिक जिले में फाइलेरिया के 1121 रोगी हैं। इनमें 607 लिंफोएडिमा के और 514 हाइड्रोसील के मरीज शामिल हैं। सीएमओ के मुताबिक फाइलेरिया से शरीर के अंगों में असामान्य सूजन आ जाती है। पैरों में सूजन (लिंफोएडिमा) और हाइड्रोसील (अंडकोष की थैली में सूजन) से काम करने की क्षमता में भी असर पड़ता है।
... और पढ़ें

चंद पैसे बचाने को वाहन में लगा रहे ‘बम’

बांदा। चंद पैसे बचाने के लिए वाहन मालिक अपनी और दूसरों की जान से खिलवाड़ कर रहे हैं। वाहनों में गैस किट का सिलिंडर रूपी ‘बम’ लगा रहे हैं। उन्नाव में गैस किट वाहले वाहन में हादसे में एक साथ सात लोगों की जिंदा जलकर हुई मौत की घटना से शायद ये लोग भी कुछ सबक लें।
अवैध किट वाले वाहनों के मामले में परिवहन विभाग की दलील है कि यहां कोई गैस प्लांट न होने से गैस किट वाहनों का रजिस्ट्रेशन नहीं होता, जबकि हकीकत यह है कि यहां न सिर्फ निजी बल्कि स्कूली बच्चों के वाहन और एंबुलेंस भी गैस किट से चलाई जा रही हैं।
दिन-ब-दिन डीजल और पेट्रोल के दामों में हुई वृद्धि ने वाहन संचालकों का रुझान गैस किट की तरफ तेजी से बढ़ाया है। कई वाहन कंपनियां भी डीजल-पेट्रोल के साथ वाहन में गैस किट का विकल्प दिए हैं। नियमों के मुताबिक वाहनों में लगने वाली गैस किट अलग होती है। इसके लिए पेट्रोल पंप की तरह गैस पंप होते हैं। गैस डीजल-पेट्रोल से सस्ती पड़ती है।
चित्रकूटधाम मंडल में गैस प्लांट नहीं है। इसके बाद भी चोरी-छिपे तिपहिया और चौपहिया वाहन गैस किट से सड़कों पर दौड़ रहे हैं। इससे साफ जाहिर है कि घरेलू गैस का इस्तेमाल वाहनों में हो रहा है, जो बेहद खतरनाक है।
हैरत की बात यह है कि जिंदगियों के साथ खिलवाड़ कर वाहनों को लेकर परिवहन, शिक्षा और आपूर्ति विभाग चुप्पी हैं।
इनकी जांच पड़ताल या धरपकड़ नहीं की जाती है। मंडल मुख्यालय में कई स्कूलों के वाहन बच्चों को गैस किट लगाकर ढो रहे हैं। कुछ प्राइवेट एंबुलेंस भी चल रही हैं। इनके अलावा भाड़े पर चलने वाले कुछ वाहनों में भी इसका इस्तेमाल हो रहा है।
गैस किट वाहन का कोई रजिस्ट्रेशन नहीं
गैस किट से वाहनों के संचालन पर सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी (एआरटीओ) प्रशासन राजेश वर्मा का कहना है कि सिर्फ गैस किट से चलने वाले किसी भी वाहन का उनके विभाग में रजिस्ट्रेशन नहीं है।
बताया कि कुछ आटो निर्माता कंपनियों ने पेट्रोल-डीजल और गैस किट दोनों ही सिस्टम वाले ऑटो लांच किए हैं, लेकिन परिवहन विभाग में यहां उन्हें सिर्फ पेट्रोल-डीजल के रूप में ही पंजीकृत किया जा रहा है। एआरटीओ ने कहा कि गैस किट वाहनों का रजिस्ट्रेशन वहां किया जाता है, जहां इसका प्लांट लगा हो।
अवैध गैस किट लगवाने पर 4000 जुर्माना
गैर कानूनी ढंग से अपने पेट्रोल या डीजल वाहन में मैकेनिकों से गैस किट लगवा लेते हैं। इस बाबत एआरटीओ (प्रशासन) ने बताया कि ऐसा करने वाले वाहन संचालक पर चार हजार रुपये जुर्माना किया जाएगा। उन्नाव हादसे का हवाला दिए जाने पर एआरटीओ ने कहा कि बुधवार से इसकी चेकिंग शुरू की जाएगी।
1. वायरिंग शार्ट होने पर कार में आग लग सकती है।
2. ओवर हीट होने पर भी वाहन में आग का खतरा रहता है।
3. कई बार किट के पाइप में जंक लग जाने से लीकेज हो जाता है और आग लग जाती है।
4. इंजन पर लोड ज्यादा पड़ता है और उसे जल्दी बोर कराने की नौबत आ जाती है।
5. डीजल-पेट्रोल के मुकाबले गैस किट वाहन 50 फीसदी दूरी कम तय करते हैं।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं
Banda + Chitrakoot Ad
Banda + Chitrakoot Ad
Banda + Chitrakoot Ad
Atarra, Banda Coupon Ad

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us