विज्ञापन
विज्ञापन
मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020
Astrology Services

मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

गोरखपुर की हर खबर अब अमर उजाला डिजिटल पर, कल सीएम योगी करेंगे लोकार्पण

अमर उजाला गोरखपुर के हाइपर लोकल ‘डिजिटल संस्करण’ की शुरुआत शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लैपटॉप पर एक क्लिक करके करेंगे।

17 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

बुलंदशहर

शुक्रवार, 17 जनवरी 2020

सिकंदराबाद क्षेत्र में लगेगा कूड़ा निस्तारण प्लांट, 3.25 करोड़ मिले

सिकंदराबाद क्षेत्र में लगेगा कूड़ा निस्तारण प्लांट, 3.25 करोड़ मिले
सिकंदराबाद। पालिका के डंपिंग ग्राउंड में बढ़ रहे कूड़े के ढेर की समस्या से जल्द ही पालिका और डंपिंग ग्राउंड के आसपास के लोगों को राहत मिल जाएगी। वहीं नगर की सफाई व्यवस्था में भी सुधार आएगा। शासन ने पालिका को कूड़ा निस्तारण प्लांट के लिए 3.25 करोड़ रुपये की राशि जारी कर दी है। साथ ही कूड़ा निस्तारण प्लांट लगाने के लिए एजेंसी को नामित कर दिया है।
ईओ संजीवनराम ने बताया कि पालिका क्षेत्र से प्रतिदिन करीब 44 मीट्रिक टन गीला और सूखा कूड़ा निकलता है। पालिका क्षेत्र से निकलने वाले कूड़े को सिकंदराबाद ककोड़ मार्ग स्थित डंपिंग ग्राउंड में जमा किया जाता है। बताया कि भारी मात्रा में नगर क्षेत्र से निकलने वाले कूड़े के कारण डंपिंग ग्राउंड में कूड़े के बड़े-बड़े ढेर लग गए हैं। डंपिंग ग्राउंड की भूमि कूड़ा के लिए कम पड़ने लगी थी। बताया कि कूड़ा की समस्या के निदान के लिए उन्होंने शासन को कूड़ा निस्तारण प्लांट लगाने के लिए प्रपोजल बनाकर भेजा था। शासन ने पालिका के प्रपोजल को स्वीकृत करते हुए नगर के कूड़ा निस्तारण के लिए 3.25 करोड़ रुपये जारी किए हैं। कूड़ा निस्तारण प्लांट लगाने के लिए एजेंसी को भी नामित किया है। ईओ ने बताया कि कूड़ा निस्तारण प्लांट के संबंध में उनकी एजेंसी के प्रबंध कमेटी के सदस्यों से बात हो चुकी है। जल्द ही एजेंसी को प्लांट लगाने के लिए भूमि उपलब्ध कराई जाएगी। सफाई निरीक्षक राजेंद्र सिंह ने बताया कि कूड़ा निस्तारण प्लाट में गीले कूड़े से कंपोस्ट खाद बनाई जाएगी। सूखे कूड़े को रिसाइकिलिंग के लिए भेजा जाएगा। केवल पांच प्रतिशत ही वेस्ट बचेगा। जिससे नगर के कूड़े की समस्या समाप्त हो जाएगी। बताया कि एजेंसी के कर्मचारी घर-घर जाकर सूखा व गीला कूड़ा स्वयं एकत्रित करेंगे।
इनसेट -
किसानों को होगा फायदा
कूड़ा निस्तारण प्लांट लगने से क्षेत्र के किसानों को फायदा होगा। क्षेत्र के किसानों के स्थानीय स्तर पर ही कंपोस्ट खाद उपलब्ध हो सकेंगी, जिससे उनकी फसल उत्पादन की लागत में कमी आएगी और किसानों का लाभ बढ़ेगा।
इनसेट =
गुलावठी, ककोड़ पालिका को भी मिल सकता है लाभ
सिकंदराबाद में कूड़ा निस्तारण प्लांट का लाभ ककोड़ और गुलावठी पालिका को भी मिल सकता है। ईओ संजीवनराम ने बताया कि यदि प्लांट की आवश्यकता अनुसार सिकंदराबाद पालिका क्षेत्र से कूड़े की पूर्ति नहीं होने पर ककोड़ पालिका, गुलावठी पालिका से भी कूड़ा लिया जा सकता है।
इनसेट=
सफाई कर्मचारियों को दी जाएगी सेफ्टी किट
सिकंदराबाद। नगर पालिका के सफाई कर्मचारियों को सफाई कार्य करने के दौरान जोखिम नहीं उठाना पड़ेगा। पालिका उन्हें सेफ्टी किट उपलब्ध कराएगी। ईओ ने बताया कि पालिका क्षेत्र में 125 स्थाई, संविदा कर्मचारी हैं। वहीं 150 कर्मचारी ठेके पर कार्य करते हैं। बताया कि पालिका के सफाई कर्मचारियों की सफाई के दौरान सुरक्षा को दृष्टिगत पालिका के 125 स्थाई, संविदा कर्मचारियों को सेफ्टी किट उपलब्ध कराई जाएगी। वही ठेकेदार को निर्देशित किया गया है कि ठेके के अंतर्गत सफाई का कार्य करने वाले सभी 150 सफाई कर्मचारियों को सेफ्टी किट उपलब्ध कराई जाए। बताया कि जल्द ही पालिका के सभी सफाई कर्मचारियों को सेफ्टी किट उपलब्ध करा दी जाएगी।
... और पढ़ें

यूपी के अधिकारी नहीं छोड़ पा रहे नीली बत्ती का मोह

प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के मना करने के बाद भी अफसर नीली बत्ती का मोह छोड़ नहीं पा रहे हैं। कई एसडीएम की गाड़ियों में अभी भी नीली बत्ती लगी हुई है। हालात यह है कि ऐसी गाड़ियां कलक्ट्रेट परिसर में ही खड़ी रहती हैं, लेकिन अफसर इससे अंजान हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली बार पद भार संभालते ही वीआइपी कल्चर खत्म करने का आदेश देशभर में जारी कर दिया था। इसमें कुछ को छोड़कर सभी को अपनी गाड़ियों में लाल और नीली बत्ती लगाने की मनाही थी। यहां तक कि हर मंत्री और विधायक की गाड़ियों में भी बत्ती कल्चर खत्म कर दिया गया। सिर्फ एंबुलेंस और पुलिस की गाड़ियों में ही बत्ती लगाने की अनुमति है। डीएम और वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों की गाड़ियों में इमरजेंसी के दौरान सिर्फ फ्लैश लाइट लगाने की ही अनुमति है। लेकिन इसके बाद भी पीसीएस अधिकारियों की गाड़ियों में नीली बत्ती लगी हुई है। इसका मतलब है कि पीसीएस अधिकारियों को पीएम और सीएम के आदेश की कोई परवाह ही नहीं है।

यहां तक कि पीसीएस अधिकारियों की नीली बत्ती लगी गाड़ियां कलक्ट्रेट परिसर में ही खड़ी रहती है। जिस पर सभी प्रशासनिक अधिकारियों की निगाह जाती है। लेकिन किसी भी अधिकारी ने शासन के आदेश को नहीं माना है। प्रशासनिक सूत्रों की माने तो यह नीली बत्ती लगी गाड़ियां कई सालों से चल रही है। इनका इस्तेमाल अधिकतर गाड़ी को रास्ता दिलाने के लिए किया जाता है। इसका कोई गलत इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है। वहीं, कुछ अधिकारी भी नीली बत्ती गाड़ी में लगाना गलत मानते है।

एडीएम प्रशासन रवींद्र कुमार - शासन का आदेश है कि नीली बत्ती गाड़ियों में नहीं लगनी चाहिए। किसी विशेष परिस्थिति में ही सिर्फ लाइटें लगाई जा सकती हैं। शासन के आदेश का पूर्णतया पालन करना चाहिए। मामले की जांच कराई जाएगी।
... और पढ़ें

यूपी में विवाहिता ने ससुरालियों पर लगाया मारपीट कर बच्चा छीनने का आरोप

यूपी में विवाहिता ने ससुरालियों पर लगाया मारपीट कर बच्चा छीनने का आरोप
ककोड़। विवाहिता ने ससुरालियों पर मारपीट करने और उसके एक वर्ष के बच्चे को छीनकर ले जाने का आरोप लगाया है। पीड़िता ने आरोपी ससुरालियों के खिलाफ तहरीर दी है।
थाना क्षेत्र के गांव दस्तूरा निवासी ज्योति ने बताया कि उसकी दनकौर थाना क्षेत्र निवासी युवक से शादी हुई थी। शादी के कुछ दिन बाद ही ससुरालियों उसे दहेज की मांग को लेकर प्रताड़ित करने लगे और उसे घर से निकाल दिया। बताया कि उसने ससुरालियों के खिलाफ कोर्ट में दहेज उत्पीड़न का वाद दायर कराया। रविवार की शाम करीब पांच बजे उसका पति व परिवार के लोगों के साथ मायके आया और मारपीट कर एक वर्ष के पुत्र को छीनकर अपने साथ ले गए। विरोध करने पर जान से मारने की धमकी दी। निरीक्षक रमाकांत यादव ने बताया कि मामले की शिकायत मिली है। पुलिस मामले की जांच कर रही है जांच के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।
घर लौट रहे युवक से मारपीट
ककोड़। थाना क्षेत्र के गांव चौकी निवासी किशनपाल पुत्र बीघा ने बताया कि सोमवार शाम करीब 7.30 बजे वह अपने घर जा रहा था। रास्ते में रबूपुरा दनकौर स्टैंड पर ग्राम मारहरा निवासी दो युवक अपने एक अज्ञात साथी के साथ उसके साथ गाली गलौच करने लगे। विरोध करने पर उसके साथ मारपीट की। किसी तरह वह अपनी जान बचाकर भागा। पुलिस ने बताया कि मामले की जांच कर कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

भारतीय स्टेट बैंक के युवा अधिकारी की मौत, मेधावी बेटे की मौत से परिवार में मचा कोहराम

दिल्ली में भारतीय स्टेट बैंक में प्रोबेशनरी आफिसर (सहायक प्रबंधक) के पद पर चयन के बाद प्रशिक्षण पर आगरा आए बुलंदशहर के जितेंद्र कुमार की बुधवार को मौत हो गई। परिजनों ने बैंककर्मियों और अधिकारियों पर लापरवाही का आरोप लगाया। 

गांव उमरारा (डिबाई), बुलंदशहर निवासी जितेंद्र कुमार (24) पुत्र भूपेंद्र कुमार आर्य का भारतीय स्टेट बैंक में प्रोबेशनरी आफिसर के पद पर दो जनवरी को दिल्ली में नियुक्ति हुई थी। छह जनवरी को जितेंद्र को आगरा में प्रशिक्षण के लिए भेजा गया।

उनके फूफा नरेश कुमार ने बताया कि जितेंद्र का प्रशिक्षण विभव नगर स्थित होटल सौरभ में चल रहा था। 15 जनवरी को भारतीय स्टेट बैंक के कर्मचारियों ने एसएन मेडिकल कॉलेज के चिकित्सकों के पैनल के माध्यम से रक्तदान शिविर का आयोजन किया। 31 कर्मचारियों ने भाग लिया।
... और पढ़ें
जितेंद्र कुमार का फाइल फोटो जितेंद्र कुमार का फाइल फोटो

यूपी के जिला बुलंदशहर से पांच परीक्षार्थी पीएम से पूछेंगे परीक्षा के सवाल

यूपी के जिला बुलंदशहर से पांच परीक्षार्थी पीएम से पूछेंगे परीक्षा के सवाल
बुलंदशहर। बोर्ड परीक्षा से संबंधित सवाल पूछने के लिए जनपद से चार छात्रा और एक छात्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलेंगे। इन पांचों छात्रों को दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में 20 जनवरी को होने वाली परीक्षा संबंधी परिचर्चा में शामिल होने का मौका मिला है। शासन से आदेश आने के बाद डीआईओएस ने पांचों छात्रों को पत्र जारी कर दिया हैं। चयनित छात्र अभिभावकों व शिक्षकों के साथ प्रधानमंत्री से रूबरू होंगे।
माध्यमिक शिक्षा परिषद द्वारा परीक्षा पर चर्चा के लिए दिसंबर माह में ऑनलाइन आवेदन के बाद परीक्षा का आयोजन किया गया था। इसमें बड़ी संख्या में इंटरमीडिएट के छात्रों ने प्रतिभाग किया था। इसमें जिले के पांच छात्रों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम में शामिल होने का मौका मिला है। अफसरों के अनुसार परीक्षा पर चर्चा के लिए दिसंबर माह में माई जीओवी डाट इन पर आवेदन मांगे गए थे। इन आवेदनों को जिलेभर के विद्यालयों में भरवाया गया था। परीक्षा से पहले आवेदन पूरा करने के बाद छात्र-छात्राओं को कुछ शीर्षक दिए गए। शीर्षक पर सभी को 300 शब्दों में अपनी बात लिखनी थी।
जिले के पांच छात्रों का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संग परीक्षा पर चर्चा के लिए चयन हुआ है। सभी बधाई के पात्र हैं। परियोजना निदेशक के आदेश पर सभी छात्र-छात्राओं के परिजनों को सूचित कर दिया गया है। 20 दिसंबर को दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में सभी अपने शिक्षक और अभिभावक के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से रूबरू होंगे। - आरके तिवारी, जिला विद्यालय निरीक्षक
... और पढ़ें

तीन तलाक बोलकर दबाया पत्नी का गला, हत्या की कोशिश

तीन तलाक बोलकर दबाया पत्नी का गला, हत्या की कोशिश
बुलंदशहर। देहात कोतवाली क्षेत्र के एक गांव निवासी विवाहिता को उसके ससुरालीजनों ने अतिरिक्त दहेज की मांग पूरी न होने पर हत्या की कोशिश की। साथ ही पीड़िता ने अपने पति पर तीन तलाक बोलकर तलाक देने का भी आरोप लगाया है। देहात कोतवाली पुलिस ने मामले में रिपोर्ट दर्ज कर जांच पड़ताल शुरू कर दी है।
देहात कोतवाली क्षेत्र के गांव सुतारी निवासी रजीना परवीन ने तहरीर देकर बताया कि उसका निकाह मथुरा के थाना छाता क्षेत्र के गांव उटावर निवासी युवक बिलाल के साथ हुआ था। निकाह में मायके पक्ष ने हैसियत से अधिक दान दहेज भी दिया था। लेकिन, आरोपी ससुरालीजन निकाह में मिले दहेज से खुश नहीं थे। वह अतिरिक्त दहेज के रूप में एक बाइक व एक लाख रुपये नगदी की मांग कर रहे थे। मांग पूरी न होने पर पीड़िता का उत्पीड़न किया जा रहा था। आरोप है कि गत दिनों आरोपी पति ने पीड़िता का गला दबाकर हत्या करने की कोशिश की। साथ ही अन्य ससुरालीजनों के साथ मिलकर जमकर मारपीट की गई। आरोप है कि इस दौरान पति ने उसे तीन तलाक बोलकर घर से निकाल दिया। तब से पीड़िता अपने मायके में ही रह रही है। देहात कोतवाल अखिलेश कुमार त्रिपाठी ने बताया कि मामले में तहरीर के आधार पर आरोपी ससुरालीजनों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर जांच पड़ताल शुरू कर दी गई है। जल्द ही आरोपियों को दबोच लिया जाएगा, दबिश दी जा रही है।
... और पढ़ें

यूपी : निकाय के उपचुनाव में जमशेद कुरैशी ने बीजेपी के उम्मीदवार को 67 वोटों से हराया

यूपी : निकाय के उपचुनाव में जमशेद कुरैशी ने बीजेपी के उम्मीदवार को 67 वोटों से हराया
बुलंदशहर। जिले की दो नगर निकायों के बृहस्पतिवार को घोषित हुए परिणाम में निर्दलीय प्रत्याशियों ने जीत हासिल की। दोनों स्थानों पर 14 जनवरी को उपचुनाव के लिए मतदान हुआ था। बृहस्पतिवार को दोनों स्थानों पर कड़ी सुरक्षा के बीच मतगणना शांतिपूर्ण संपन्न हुई। विजेता सभासदों का समर्थकों ने फूल-मालाएं पहनाकर स्वागत किया।
शिकारपुर नगर पालिका के वार्ड 19 और गुलावठी नगर पालिका के वार्ड 22 में निकाय चुनाव के दौरान निर्वाचित हुए सभासदों का पद रिक्त होने के चलते 14 जनवरी को मतदान हुआ था। शिकारपुर क्षेत्र में सभासद के लिए दो प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहे थे। जिसमें निर्दलीय प्रत्याशी जमशेद कुरैशी ने 67 मतों से बीजेपी प्रत्याशी रंजीत सैनी को पराजित कर जीत हासिल की। 1269 मतदाताओं में से 1015 मतदाताओं ने मतदान के दिन अपने मत का प्रयोग किया था। जिसमें 18 मत निरस्त हुए और बीजेपी प्रत्याशी रंजीत सैनी 465 मत ही हासिल कर सके। वहीं, दूसरी ओर गुलावठी क्षेत्र में तीन प्रत्याशी चुनाव मैदान में खड़े हुए थे। जिसमें मोहम्मद आरिफ ने 625 मत प्राप्त कर दोनों प्रतिद्वंद्वी को पराजित किया। मतदान के दिन 1510 मतदाताओं में 966 ने अपने मत का प्रयोग किया था। जिसमें 24 मत जहां निरस्त हुए वहीं, आसिफ खान को 217 और शहरोज ने 100 मत ही हासिल कर सके। हारे प्रत्याशी जहां कारणों की समीक्षा में जुट गए। वहीं, विजयी प्रत्याशी चुनाव के दौरान किए गए वादों को लेकर रणनीति बनाने में जुट गए। दोनों विजयी प्रत्याशियों को समर्थकों ने फूल-माला पहनाकर जोरदार स्वागत किया। वहीं, मतगणना के दौरान दोनों स्थानों पर भारी पुलिसबल और प्रशासनिक अफसर मौजूद रहे। उपजिला निर्वाचन अधिकारी/एडीएम प्रशासन रवींद्र कुमार ने बताया कि विजयी प्रत्याशियों को प्रमाणपत्र दे दिया गया है।
... और पढ़ें

यूपी में महज एक महिला चिकित्सक के भरोसे है सैकड़ों जिंदगियां

विजयी सभासद आरिफ को माला पहनाकर खुशी जताते समर्थक।
यूपी में महज एक महिला चिकित्सक के भरोसे है सैकड़ों जिंदगियां
चेतन शर्मा
बुलंदशहर। जिले में बाल रोग विशेषज्ञों की कमी चल रही है। वहीं, जिला महिला अस्पताल में बच्चों के उपचार के लिए बने एसएनसीयू में दो चिकित्सकों के स्थान पर वर्तमान में महज एक महिला चिकित्सक हैं जो बीमार बच्चों का उपचार करती हैं। पूर्व में रात्रि के समय चिकित्सक न होने पर वार्ड में भर्ती दो नवजातों की स्टाफ की लापरवाही के चलते मौत हो चुकी है।
जिला महिला अस्पताल में प्रतिदिन 500 के करीब गर्भवती महिलाएं जांच के लिए आती है और वहीं, प्रसव के लिए करीब 100 से अधिक महिलाएं भर्ती होती है। प्रसव के बाद नवजात की हालत गंभीर होने पर उसकी जांच करने के लिए कोई बाल रोग विशेषज्ञ तैनात नहीं है। आकस्मिक समय पर जिला अस्पताल के बाल रोग विशेषज्ञ को बुलाया जाता है। अफसरों की मानें तो जिले में सीएचसी-पीएचसी समेत अन्य सरकारी चिकित्सालयों में बाल रोग विशेषज्ञ की कमी चल रही है। जिले में मात्र तीन चिकित्सालयों में चार बाल रोग विशेषज्ञ तैनात हैं। स्टाफ की कमी होने से कामकाज काफी हद तक प्रभावित हो रहा है। वहीं, सरकारी चिकित्सालयों में बच्चों के उपचार की कोई खास व्यवस्था न होने पर इसका खामियाजा परिजनों को उठाना पड़ रहा है। सीएचसी-पीएचसी समेत अन्य निजी अस्पतालों में उपचार के बाद बच्चों की हालत में सुधार न होने पर परिवार के लोग बच्चों को लेकर जिला महिला अस्पताल पहुंचते हैं, लेकिन यहां भी स्थिति काफी खराब हैं। जिला महिला अस्पताल में भी चिकित्सकों के साथ स्टाफ की भारी कमी है। वहीं, गंभीर बच्चों के लिए बना एसएनसीयू वार्ड में भी स्टाफ की कमी वर्षों से चल रही है। वार्ड में दो के सापेक्ष वर्तमान में एक महिला चिकित्सक के भरोसे ही संचालित किया जा रहा है।
---------------
आठ बेड की है क्षमता, चार अतिरिक्त
एसएनसीयू वार्ड की चिकित्सका डॉ. शालिनी तिवारी ने बताया कि वार्ड में नवजातों की देखरेख के लिए 10 स्टाफ नर्स, तीन वार्ड आया तैनात है। साथ ही साफ-सफाई और सुरक्षा को लेकर तीन-तीन कर्मी तैनात हैं। उनकी देखरेख में ही नवजात बच्चों का उपचार होता है। बताया कि शासन की ओर से वार्ड आठ बेड का है, जबकि अधिक बच्चे आने पर चार बेड अतिरिक्त लगाए गए हैं।
--------------------------
तीन बेड पर एक चिकित्सक के है आदेश
अफसरों की मानें तो एसएनसीयू वार्ड में बेड के हिसाब से 12 बेड पर तीन चिकित्सक होने चाहिए, लेकिन वर्तमान में एसएनसीयू वार्ड महज एक चिकित्सक के सहारे चल रहा है। इसका नतीजा यह है कि आकस्मिक समय पर चिकित्सक के आने का इंतजार किया जाता है। साथ ही अस्पताल में आने वाले गंभीर नवजातों को चिकित्सक के ना होने पर रेफर कर दिया जाता हैं। इसकी वजह से गत 11 माह में वार्ड में भर्ती नवजातों में से 214 बच्चों को रेफर किया गया, जबकि 11 बच्चों के परिजन उपचार को बीच में छोड़कर ले गए।
----------------------
लापरवाही के चलते दिसंबर 2017 में हो गई थी दो नवजातों की मौत
वर्ष 2017 में 11/12 दिसंबर की रात्रि जिला महिला अस्पताल के एसएनसीयू वार्ड में भर्ती दो नवजातों की मौत हो गई थी। विभागीय अफसरों ने वार्ड में बिजली न होने की शिकायत मिलने पर जनरेटर कर्मी पर कार्रवाई के आदेश दिए थे। इसके बाद मामले में अन्य कर्मचारियों की लापरवाही भी सामने आई थी। मामले को शासन द्वारा संज्ञान लेने पर सीएमओ ने एक जांच कमेटी बनाकर घटना के दिन एसएनसीयू वार्ड में तैनात स्टाफ से स्पष्टीकरण देने के आदेश दिए थे लेकिन अफसरों ने जनरेटर कर्मी पर कार्रवाई कर मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया। जबकि अन्य कर्मियों को चेतावनी देकर छोड़ दिया गया। इसका नतीजा यह है कि अभी भी वार्ड में तैनात स्टाफ द्वारा लापरवाही बरती जा रही हैं। एक कर्मी ने बताया कि चिकित्सक के रहने पर स्टाफ कार्य करता है और उनके जाने के बाद लापरवाही बरती जाती हैं। 24 घंटे में मात्र पांच घंटे ही चिकित्सका वार्ड में मौजूद रहती हैं। शेष समय नवजात स्टाफ के हवाले रहते हैं।
कोट -----------
एसएनसीयू वार्ड में आने वाले नवजातों को भर्ती कर चिकित्सकों की देखरेख में उपचार किया जाता हैं। अगर कोई कर्मी लापरवाही बरत रहा हैं तो इसकी जांच की जाएगी। साथ ही एसएनसीयू वार्ड में एक अन्य चिकित्सक को अटैच किया हुआ हैं, जो इस समय अवकाश पर हैं। अन्य स्टाफ की तैनाती के लिए शासन से मांग की जा चुकी हैं। - डॉ. केएन तिवारी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, बुलंदशहर
... और पढ़ें

यूपी के बुलंदशहर की ऑफीसियल साइड पर नहीं पूरी हैं सामान्य जानकारियां

यूपी के बुलंदशहर की ऑफीसियल साइड पर नहीं पूरी हैं सामान्य जानकारियां
आशीष शुक्ला
बुलंदशहर। एक ओर केंद्र और प्रदेश सरकार सभी सरकारी कार्याें में पारदर्शिता लाने के लिए आंकड़ों को ऑनलाइन लाने की बात करती है। वहीं, दूसरी ओर जनपद की सरकारी साइट अपडेट ही नहीं है। इतना ही नहीं प्रदेश स्तर तक के इमरजेंसी नंबर साइट पर पुराने ही दर्शाए गए हैं। ऐसे में किसी को जनपद में आना हो या कोई आंकड़ा जनपद की साइट से उठाना होे तो आपको किसी से पूछना पड़ेगा। साइट के चक्कर में आपको गच्चा खाना पड़ सकता है।
सरकारी तंत्र आखिरकार सरकारी ही होता है, सरकार के लाख दावों के बाद भी तंत्र में सुधार नहीं देखने को मिलता है। एक ओर प्रदेश सरकार सभी विभागों को ऑनलाइन करने की बात कह रही है। वहीं दूसरी ओर जनपद के सरकारी वेबसाइट बुलंदशहर.एनआईसी.इन देखने पर पता चलता है कि जिलाधिकारी की फोटो और एसएसपी और सीडीओ के नाम व नंबर के अलावा काफी समय से यह साइट अपडेट ही नहीं हुई है। साइट के आंकड़ों की बात करें तो जनपद का गौरवशाली इतिहास सिर्फ पांच लाइनों में ही सीमित है। इसके अलावा नाम और आंकड़े तो बिल्कुल ही चौंकाने वाले हैं। उत्तर प्रदेश साइट में उदार प्रदेश तो द किसान सहकारी शुगर मिल अनूपशहर को सहकारी चीनी मिल जहन्निराबाद (जहांगीराबाद) लिखा हुआ है। अब आंकड़ों की बात करें तो यूपी पुलिस का नंबर जो पूर्व में 100 था। उसको बदले हुए भी एक माह से ऊपर का समय हो गया है। पुलिस विभाग के अफसर कार्यक्रमों में लोगों को लगातार बता रहे हैं कि अब पुलिस का नंबर 100 नहीं 112 है, लेकिन बदलाव के बावजूद जनपद की आधिकारिक साइट पर 100 नंबर का जलवा बरकरार है। बात सिर्फ जनपद की नहीं पड़ोस के जनपदों में भी यही स्थिति है। जनपद हापुड़ और गाजियाबाद की साइट पर भी पुलिस का नंबर अभी 100 प्रदर्शित हो रहा है।
वेबसाइट पर अफसरों के नंबर आदि पूर्व में अपडेट कराए गए थे। वेबसाइट की कमियां और आंकड़ों को चेक कराकर उन्हें अपडेट कराने के निर्देश अफसरों को दिए जा रहे हैं।
- रविंद्र कुमार, जिलाधिकारी बुलंदशहर
... और पढ़ें

यूपी के बुलंदशहर के गांवों में युवाओं की सेहत के लिए बनेंगे ओपन जिम

यूपी के बुलंदशहर के गांवों में युवाओं की सेहत के लिए बनेंगे ओपन जिम
बुलंदशहर। गंगा यात्रा के दौरान गंगा किनारे के 27 गांवों में बनाए जाने वाले ओपन जिम को प्रशासन स्थाई रूप देगा। गांव के युवाओं को सेहत बनाने के लिए कहीं नहीं जाना होगा। इसको लेकर प्रशासन तैयारी कर रहा है।
27 जनवरी को गंगा यात्रा निकाली जाएगी। इसको लेकर जिला प्रशासन ने अपनी ओर से तैयारी को तेज कर दिया है। जिला प्रशासन ने गंगा किनारे बसे 27 गांवों में ओपन जिम लगाने की कवायद भी शुरू कर दी है। इन गांवों के प्राथमिक स्कूलों अथवा पंचायतघर में ओपन जिम लगाने की व्यवस्था की जा रही है। ओपन जिम में ग्रामीण युवा कसरत करके अपने शरीर को मजबूत करेंगे और गंगा की स्वच्छता के लिए जागरूक भी होंगे। अधिकारियों की माने तो 27 जनवरी से पहले भईपुर, बिरौली, करनपुर, अनूपशहर, शेरपुर, फतेहपुर, रूढ़बांगर, भैरिया, हरिद्वारपुर, भौपतपुर, उदयपुर, कर्णवास, बिलौना, नयाबांस, बदरपुर समेत 27 गांवों में जिम का सामान मंगवाकर शुरू करवा दिया जाएगा।
--------
गंगा यात्रा को लेकर गंगा किनारे स्थित 27 गांवों में ओपन जिम सेंटर बनाए जाएंगे। जिम के सामान की खरीदारी की जा रही है।
- रवींद्र कुमार, एडीएम प्रशासन
... और पढ़ें

अमर उजाला में खबर प्रकाशित होने के बाद प्रशासन ने एसडीएम की गाड़ियों से उतरवाई नीली बत्ती

अमर उजाला में खबर प्रकाशित होने के बाद प्रशासन ने एसडीएम की गाड़ियों से उतरवाई नीली बत्ती
बुलंदशहर। एसडीएम की गाड़ियों पर नीली बत्ती की खबर अमर उजाला में प्रमुखता से प्रकाशित की गई। जिसको लेकर जिला प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए बत्ती हटवा दी है।
वीआईपी कल्चर खत्म करने के लिए पीएम मोदी ने एक पहल की थी। जिसमें सभी अधिकारियों और नेताओं की गाड़ियों से नीली और लाल बत्ती उतारने का आदेश दिया था। आदेश को फॉलो भी किया गया, लेकिन हनक के चलते कई अधिकारियों ने अपनी गाड़ियों से नीली बत्ती नही हटाई थी। सारे जनपद में वह नीली बत्ती लगी गाड़ियों से फर्राटा भरते नजर आते थे। यहां तक कि कुछ एसडीएम की गाड़ियां कलक्ट्रेट परिसर में ही खड़ी नजर आती थी। जिनपर खुलेआम नीली बत्ती लगी रहती थी। पता नहीं उस ओर किसी अधिकारी का ध्यान गया या नहीं, लेकिन बत्ती नही हटी। बृहस्पतिवार को अमर उजाला में हनक, नीली बत्ती के नाम से प्रकाशित समाचार के बाद अधिकारियों में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में एसडीएम की गाड़ियों से बत्ती हटवा दी गई।
शासन के आदेश का पूरी तरह से पालन किया जाएगा। बत्ती हटा दी गई है, और निर्देश भी दे दिया है कि आगे से बत्ती न लगाई जाए। - रवींद्र कुमार, एडीएम प्रशासन
... और पढ़ें

यूपी के बुलंदशहर में स्कूल जाने पर ताऊ ने छात्राओं के साथ की मारपीट

यूपी के बुलंदशहर में स्कूल जाने पर ताऊ ने छात्राओं के साथ की मारपीट
सिकंदराबाद। एक ओर जहां समाज में बेटियों को शिक्षित करने और समानता का अधिकार दिलाने के लिए सरकारों द्वारा विभिन्न जागरूकता अभियान चलाए जा रहे हैं। और बेटियां कामयाबी की नई इबारत लिखकर परिवार व देश का नाम रोशन कर रही हैं। आधुनिकता के दौर में समाज में आज भी ऐसे संकुचित मानसिकता के लोग हैं। जिन्हें बेटियों का पढ़ना और स्कूल जाना पसंद नहीं है। ऐसा ही मामला सिकंदराबाद क्षेत्र में प्रकाश में आया। जहां रिश्ते के ताऊ ने अपनी भतीजियों के साथ महज इसलिए मारपीट की कि वह पढ़ना चाहती है। और पढ़ लिखकर जीवन में कुछ बनना चाहती है।
कोतवाली क्षेत्र के गांव भटपुरा निवासी सगी बहन आयशा और सना ने बताया कि वह कक्षा 12 की छात्रा है। एक बहन नगर के व दूसरी धलौना स्थित स्कूल में पढ़ती है। फिलहाल दोनों बहनें एक साथ ही बोर्ड परीक्षा की तैयारी कर रही हैं। परीक्षा की तैयारी के लिए वह ट्यूशन पढ़ने के लिए सिकंदराबाद जाती हैं। बताया कि उनका ताऊ उनके पढ़ने और स्कूल जाने का विरोध करता है। लेकिन वह पढ़ना चाहती हैं। इसी बात को लेकर ताऊ उनसे नाराज रहता है। बताया कि बुधवार को वह दोनों बहने नगर के कायस्थवाड़ा से ट्यूशन पढ़कर घर लौट रही थी। नगर के रामबाड़ा में उन्हें ताऊ मिल गया। वह हाथ में डंडा लिए हुए था। उसने डंडे से उनकी पिटाई की। पुलिस ने बताया कि आरोपी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

न रंजिश, न दुश्मनी पर मारनी पड़ी दोस्त को गोली

न रंजिश, न दुश्मनी पर मारनी पड़ी दोस्त को गोली
बीबीनगर। थानाक्षेत्र के गांव खैरपुर में बीते शनिवार को हुई संदीप जाट की हत्या का पुलिस ने बुधवार को राजफाश कर दिया। हत्यारोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पूछताछ में उसने बताया कि यदि वह संदीप को नहीं मारता तो वह उसे मार देता। इसके अलावा कोई रंजिश या फिर दुश्मनी उसके साथ नहीं थी।
संदीप जाट कुख्यात रहे जतन सिरोही गैंग का सदस्य रहा था। कुछ दिन पहले ही वह तिहाड़ जेल से लौटा था। शनिवार देर रात संदीप जाट अपने दोस्त आदेश के साथ बैठकर शराब का सेवन कर रहा था। आदेश ने पूछताछ के दौरान बताया कि शराब के नशे में संदीप ने उसे गाली दी, जिसपर उसने भी गाली दी। इसके बाद संदीप ने गोली मारने की धमकी देते हुए उसका गला दबाना शुरू कर दिया। उसी समय उसने तमंचा निकाला और संदीप को एक गोली मार दी। इसके बाद वह फरार हो गया। आदेश का कहना है कि उसे नहीं पता था कि उसकी मौत हो गई। उसे अखबार में पढ़कर पता चला कि उसकी मौत हो गई है। मालूम हो कि इस मामले में मृतक संदीप के साले ने बीबीनगर थाने में खैरपुर निवासी आदेश के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us