विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विनायक चतुर्थी पर कराएं मुंबई के सिद्धि विनायक में पूजा विघ्नहर्ता हरेंगे सारे विघ्न : 27-फरवरी-2020
Astrology Services

विनायक चतुर्थी पर कराएं मुंबई के सिद्धि विनायक में पूजा विघ्नहर्ता हरेंगे सारे विघ्न : 27-फरवरी-2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

सीएए विरोधः अलीगढ़ में लगे पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे, शहर में तनाव

नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में हुए उपद्रव के चौथे दिन बुधवार को भी शहर में जबरदस्त तनाव और अफवाहों का दौर कायम रहा।

27 फरवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

चित्रकूट

गुरूवार, 27 फरवरी 2020

नागरिकता संशोधन कानून की आड़ में कुछ लोग अपनी राजनीतिक रोटियां सेंक रहे हैं- साध्वी निरंजन ज्योति

जब तक लोग नागरिकता कानून को नहीं समझेंगे तब तक नासमझी का बर्ताव करते रहेंगे- अनूप जलोटा

चित्रकूटः ग्राम प्रधान को फर्जी मामले फंसाया जा रहा 18-04-04

मऊ। थाना अंतर्गत बरिया गांव के ग्रामीणों ने कलक्ट्रेट परिसर में धरना प्रदर्शन कर विरोध जताया। आरोप लगाया कि गांव की एक महिला ने गांव के प्रधान व अपने परिवार के कुछ सदस्यों के खिलाफ फर्जी मामले में रिपोर्ट दर्ज करा दिया है। इस मामले की जांचकर ही कार्रवाई की जाए।
सोमवार को बरिया गांव के सैकड़ों ग्रामीण जिसमें महिलाएं भी शामिल रही। कलक्ट्रेट परिसर में धरना-प्रदर्शन कर विरोध जताया। जिलाधिकारी को दिए गए पत्र में आरोप लगाया कि गांव की एक महिला ने गांव प्रधान राजाराम पांडेय व गांव चंद्रभान, सूरज भान के खिलाफ थाने में फर्जी मामले में रिपोर्ट दर्ज कराई है। महिला जमीन मेें कब्जा करने के लिए यह षड्यंत्र कर रही हैं। इस मामले की निष्पक्ष जांचकर कार्रवाई की जाए। इस मौके पर प्रधान राजाराम, चंद्रभान, सूरजभान, राजरानी, चुन्नीदेवी, फूलकई, उर्मिला, गोदिंया, पुष्पा आदि मौजूद रही।
... और पढ़ें

चित्रकूट: प्रधानमंत्री की जनसभा की तैयारियों में जुटा प्रशासन, आज से ही नो इंट्री

चित्रकूट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनसभा को लेकर यातायात विभाग ने व्यवस्था बनाए रखने के लिए नो इंट्री के साथ ही सड़कों के रूट में परिवर्तन किया है। इसमें 27 से 29 फरवरी तक 9 स्थानों पर सुबह 8 बजे से रात 8 बजे नो इंट्री रहेेगी। वहीं, भरतकूप क्षेत्र मेें भी राष्ट्रीय राजमार्ग 29 फरवरी को बंद रहेगा। उसके लिए रूट परिवर्तन किया गया है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भरतकूप क्षेत्र में 29 फरवरी को सभा होगी। प्रशासन इसकी तैयारी के लिए जुटा हुुआ है। सुरक्षा व यातायात व्यवस्था को सुचारू बनाए रखने के लिए यातायात विभाग ने नो इंट्री के साथ रूट परिवर्तन किया है। इसमें 27 से 29 फरवरी तक जिले के 9 स्थानों में नो इंट्री सुबह 8 बजे से रात 8 बजे तक रहेगी।
... और पढ़ें
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

चित्रकूटः होली खेले रघुवीरा अवध में...के साथ रामायण मेला संपन्न

चित्रकूट। रामायण मेले के समापन में अंतर्राष्ट्रीय स्तर की ख्याति प्राप्त लोक गायिका पद्मश्री मालिनी अवस्थी ने टीम के साथ गीतों और भजनों का प्रस्तुतिकरण किया। देर रात तक रामायण मेला भवन में दर्शक रोमांचित होते रहे। इसके बाद वृदांवन की मशहूर रासलीला में भगवान श्रीकृष्ण राधा की फूलों की होली आकर्षण का केंद्र रही।
धर्मनगरी चित्रकूट में चल रहे पांच दिवसीय प्रांतीय कृत राष्ट्रीय रामायण मेला के समापन पर लोक गायिका मालिनी अवस्थी चित्रकूट पहुंची। जहां उन्होंने अपने गीतों से लोगों को झूमने के लिए मजबूर कर दिया। उन्होंने अपने दो घंटे के शानदार कार्यक्रम में राम के जीवन काल पर आधारित गीत सुनाए। साथ ही होली का गीत होली खेले रघुवीरा गाना गाकर सुरों का जलावा बिखेरा।
रात में कार्यक्रम की अगली कड़ी मेें वृंदावन की ख्याति लब्ध रास एवं रामलीला मंडली के पं. देवकी नंदन शर्मा के नेतृत्व में वृंदावन रासलीला संस्थान के कलाकारों ने होली लीला की मनोहारी प्रस्तुति देकर रामायण मेला के इस सत्र का समापन किया। मेले के कार्यकारी अध्यक्ष राजेश कुमार करवरिया ने आगंतुकों का धन्यवाद किया। समारोह को व्यवस्थित रुप से संचालित करने के लिये मेले के पांचों दिन पूजा-अर्चना समिति, शोभायात्रा समिति, कार्यालय, स्वागत, आवास व्यवस्था, परिवहन व्यवस्था, भोजन व्यवस्था, साउंड एंड लाइट, मंच व्यवस्था जैसी अनेक समितियों के प्रद्युम्न कुमार दुबे (लालू भैया), राजाबाबू पांडेय, शिवमंगल प्रसाद शास्त्री, मो यूसुफ, मो इम्तियाज, ज्ञानचंद्र गुप्ता, राजेन्द्र मोहन त्रिपाठी, माधव बंसल, पंकज अग्रवाल, आशीष पांडेय, बिहारी बाबू, नत्थू प्रसाद सोनकर, दद्दू महाराज, मुन्ने खां, बबली कुशवाहा, भोलाराम, मनोज गर्ग, कलीमुद्दीन बेग, घनश्याम अवस्थी, प्रिंस करवरिया आदि ने मेले की संपूर्ण व्यवस्थाओं को व्यवस्थित ढंग से संचालित किया। राष्ट्रीय रामायण मेला के महामंत्री करुणा शंकर द्विवेदी ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों का संचालन किया।
अपनी लोक संस्कृति पर करें फर्क तो होगी उन्नित
चित्रकूट। रामायण मेला परिसर में मालिनी अवस्थी ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा है कि चित्रकूट के श्रोताओं में जो सरलता देखने को मिली वह दूसरी जगह नहीं मिलती। यहां सब लोग साथ में गा रहे थे, नाच रहे थे, बाकी जगह ऐसा नहीं होता है। यह नगरी पूरी तरह राममय है फाल्गुन का महीना ही गीत-संगीत का होता है और होली का मौसम है आनंद हो। हर पर्व के पीछे यही संदेश है भाईचारा हो, आनंद हो, खुशहाली हो। बुंदेली लोकगीत और बुंदेली भाषा के पराभाव के लिए स्थानीय लोगों को ही दोषी बताते हुए कहा कि जिस दिन हम अपनी लोक संस्कृति पर फर्क करना सीख जाएंगे, उस दिन से हमारी लोक संस्कृति उन्नति करने लगेगी। उन्होंने कहा कि वह धर्मनगरी में कई बार कार्यक्रम प्रस्तुत करने आ चुकी हैं। यहां के प्राकृतिक वातावरण को बरकरार रखना चाहिए। इस क्षेत्र का कई मायनों में विकास हो रहा है।
... और पढ़ें

चित्रकूटः बुजुर्गों का हर स्थान पर करें सम्मान

चित्रकूट। नगर की सामाजिक संस्था आयुष्मान वानप्रस्थ विश्वविद्यालय के वरिष्ठ नागरिक सम्मान समारोह का भव्य आयोजन स्थानीय दृष्टि संस्थान में किया गया। संस्था के जिला संयोजक विजयचंद्र गुप्त ने कहा कि बुजुर्ग हमारी थाती है, और हमें इसे संभाल कर रखना होगा। 75 वर्ष की आयु प्राप्त इन बुजुर्गों के पास ज्ञान का भंडार भरा पड़ा है, जरूरत है केवल हमें उसका उपयोग करने की। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहें संस्था के अध्यक्ष भालेंदु कुमार सिंह ने कहा कि बुजुर्गों को एकाकी जीवन जीने से अच्छा है कि वे अपना खाली समय परिवार के साथ-साथ सामाजिक कार्यों में दें ताकि उनको किसी प्रकार का खालीपन महसूस न हो और वो पूर्व की भांति व्यस्त रहे। वरिष्ठ चिकित्सक डा. एस पी त्रिपाठी ने कहा कि इस आयु में कुछ बिमारियां स्वभावत: मनुष्य को घेरती है। जिनका हम परहेज, नियम संयम से से निदान किया जा सकता है। 75 वर्षीय समाजसेविका जयश्री जोग के साथ गिरिजा श्रीवास्तव, पुष्पा श्रीवास्तव, प्रेमा खरे, रशीदा बेगम व शुक्लादास को नगर की सर्वश्रेष्ठ वरिष्ठ महिलाओं के रूप में सम्मानित किया। पुरूष वर्ग में ओंकार नाथ अग्रवाल, प्रेम नारायण पाण्डेय, गया प्रसाद, गजाधर प्रसाद, डॉ एस एन पाण्डेय व इसहाक सिद्दीकी को सम्मानित किया गया। सभी को संस्था द्वारा स्मृतिचिन्ह्, शाल, श्रीफल आदि देंते हुए समाजसेवी पंकज अग्रवाल, कुणाल प्रताप सिंह, बलराम बैज्ञानिक, पंकज कुमार दुबे, गीता अग्रवाल, प्रज्ञा सिंह, अनीता सिंह अमृता चतुर्वेदी, रमादास एवं रमा शुक्ला ने सम्मानित करते उनका आशीर्वाद प्राप्त किया। कार्यक्त्रस्म का संचालन निदेशक बलबीर सिंह ने किया तथा कार्यक्त्रस्म संयोजक हीरालाल सोनी ने आभार व्यक्त किया। ... और पढ़ें

चित्रकूटः रास्थान से कमाकर लौट रहे युवकों को नशीला बिस्किट खिलाकर दो को लूटा

चित्रकूट। राजस्थान से वापस घर लौटते समय युवकों को जहरखुरानों ने नशीला बिस्कुट खिला दिया। रास्ते में रुपये, कपड़े, मोबाइल लेकर चलती बाइक से सड़क किनारे फेंक कर फ रार हो गये। ग्रामीणों ने बेहोशी की दशा में देखा तो एंबुलेंस से जिला अस्पताल में भर्ती कराया है।
राजापुर थाना क्षेत्र के अर्जुनपुर गांव निवासी बृजभान (28) पुत्र रामलाल व पहाड़ी थाना क्षेत्र के इटौरा गांव का धीरेंद्र (18) पुत्र अनुसुईया सोमवार की शाम राजस्थान से ट्रेन में बैठ कर वापस घर आ रहे थे। झांसी पैसेंजर ट्रेन से चित्रकूटधाम कर्वी रेलवे स्टेशन उतरे। तभी बाइक सवार जहरखुरान गिरोह के चंगुल में फं स गए। नशीला बिस्कुट खिला दिया। चकौंध गांव के समीप नकदी, मोबाइल, कपडे़ आदि सामग्री लेकर चलती बाइक से सड़क किनारे फेंक कर चले गए। बुधवार की सुबह ग्रामीणों ने बेहोशी दशा में युवकों को देखा तो एंबुलेंस बुलाकर जिला अस्पताल भेजा। जानकारी होने पर परिजन भी पहुंच गए। जहरखुरानी का शिकार हुए धीरेंद्र ने बताया कि दो हजार रुपये, मोबाइल, कपडे़ व बृजभान के नौ हजार रुपये आदि सामग्री खींच लिया है। पीड़ितों ने कोतवाली में तहरीर दी है।
... और पढ़ें

चित्रकूटः परंपरा व आधुनिक ज्ञान का समन्वय पर चिंतन जरूरी

फोटो- 3- जि ला अस्पताल में भर्ती जहरखुरान के शिकार युवक
चित्रकूट/खोही। भारतरत्न नानाजी देशमुख की पुण्यतिथि पर बुधवार को उद्यमिता विद्यापीठ परिसर में पोषण एवं जल संस्कृति की राष्ट्रीय संगोष्ठी शुरू हुई। जिसमें राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी ने कहा कि आधुनिक ज्ञान विज्ञान के साथ परंपरा का समन्वय जरूरी है। देश को ऊंचाई के रास्ते तक ले जाने के लिए सबको सहयोग करना होगा। आज पानी संरक्षण व पर्यावरण संतुलन बेहद अहम है। इस दिशा मेें अनदेखी से आगे वाली पीढ़ियां बेहद परेशान होंगी। संपूर्ण जीवन का आधार जल है। जल से जीवन है। इसके लिए जल की शुद्धता और संरक्षण जरूरी है। वैसे ही पोषण संस्कृति की जो बात है उसके लिए भूमि की शुद्धता और भूमि का संरक्षण होना चाहिए।
दीनदयाल शोध संस्थान के तत्वावधान में दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का शुभारंभ संघ के सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी, वरिष्ठ प्रचारक एवं दीनदयाल शोध संस्थान के संरक्षक मदन दास, अध्यक्ष वीरेंद्रजीत सिंह, प्रधान सचिव अतुल जैन, राज्य सभा सदस्य प्रभात झा, देवास सांसद महेंद्र सोलंकी, विधायक उज्जैन डा. मोहन यादव, ट्राईफेड के महानिदेशक प्रवीण कृष्ण ने भारतरत्न नानाजी देशमुख के चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवलित कर किया। संघ के सह सरकार्यवाह ने कहा कि देश परंपरा एवं आधुनिक ज्ञान का समन्वय कैसे हो यह परिणाम इस सेमिनार के चिंतन में आना चाहिए। कहा कि पोषण का जो विविध आहार है उसकी शुद्धता पर विचार करने की जरूरत है। प्रधान सचिव ने कहा कि यहां तीन वर्षों से भारतीय संस्कृति में पोषण एवं जल की संस्कृति को संजोने का काम हो रहा है। जिसके आधार पर देश में परंपरागत तरीकों से मिलने वाले पोषण आहार की तरफ लोगों को ले जाने की जरूरत को महसूस किया गया और संस्थान द्वारा इसकी देशव्यापी पहल की गई है।
इस मौके पर दस विश्व विद्यालयों के कुलपति एवं दस सामाजिक संस्थाओं के प्रमुख व्यक्तियों की भागीदारी रही। इस राष्ट्रीय संगोष्ठी में दो दिन तक जल प्रबंधन की भारतीय परंपराएं, जल प्रबंधन की आवश्यकता, स्वस्थ जीवन के लिए पोषकीय आहार, स्थानीय उपलब्ध अनाजों का पोषण में महत्व, आजीविका संवर्धन आदि विषयों पर विभिन्न विशेषज्ञ चिंतन करेंगें
... और पढ़ें

चित्रकूट के मझगवां टिकरियां के पास ट्रेन से टकराया तेंदुआ, दर्दनाक मौत

चित्रकूट। मुंबई हावड़ा रेलमार्ग के मझगवंा-टिकरिया के बीच पटरी पार करते समय मंगलवार की देर रात ट्रेन की चपेट में आने से तेंदुए की मौत हो गई। तेंदुए के टकराने की जानकारी ट्रेन चालक ने मझगवा स्टेशन मास्टर को दी। इधर, पेट्रोलिंगमैनों ने तेंदुए देख वन विभाग के अधिकारियों को सूचना दी। काफीजद्दोजहद के बाद बिना पोस्टमार्टम के उसके शव को मुख्य वन्य संरक्षक की देखरेख में आईबीआरआई रायबरेली भेजा गया है।
घटना की सूचना मिलते ही देर रात ही वाइल्ड लाइफ सेंचुरी के वार्डन जीडी मिश्रा, डीएफओ कैलाश प्र्रकाश,रानीपुर वन्य जीव विहार के वनाधिकारी त्रिवेणी प्रसाद, वनक्षेत्राधिकारी रमेश यादव व मझगवंा वन रेंज के रेंजर दीपक राज अपने कर्मचारियों के साथ मौके पर पहुंचे। बुधवार की सुुबह मुख्य वन संरक्षक सुनील चौधरी भी घटनास्थल पहुंचे। इस दौरान यह पता चला कि घटना रानीपुर वन्य जीव विहार क्षेत्र मानिकपुर उप्र में है। तब मप्र के अधिकारियों से बातचीत कर तेंदूुए का शव मारकुंडी उप्र लाया गया। मुख्य वन संरक्षक ने बताया कि इसका पोस्टमार्टम आईबीआरआई रायबरेली में कराया जाएगा। इसके लिए शाम छह बजे यहां से तेंदुए के शव को विशेष वाहन से भेज दिया गया है। उन्होंने इस घटना पर चिंता जताई और कहा कि अक्सर इस रूट पर इस तरह की घटनाएं हो रही हैं। इसके उपाय तलाशने होंगे।
----------------------------
नहीं था कॉशन, न बजाया हार्न
मानिकपुर(चित्रकूट)। जबलपुर रेल विभाग के कॉशन लगाकर हार्न बजाते हुए निकालने के आदेश पर अभी इसका पालन नहीं हो रहा है। मंगलवार की रात को तेंदुए की मौत इसका प्रमाण है। मुख्य वन संरक्षक सुनील चौधरी ने बताया कि तेंदुए के सिर पर टक्कर लगी है। ट्रेन की गति तेज होने से यह हादसा हुआ। वन क्षेत्र की रेल पटरी किनारे चेन व जाली लगवाने के प्रस्ताव पर भी अभी तक कोई अमल नहीं हुआ है। गौरतलब है कि अभी तक इस क्षेत्र में चार से अधिक तेंदुए मार गए है। इस मामले में वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि पूरी संभावना है कि ट्रेन तेज गति में बिना हार्न बजाए ही गुजर रही होगी तभी इसी बीच तेंदुए के आने पर यह घटना हुई।
---------
मादा तेंदुए की उम्र छह साल
मानिकपुर। ट्रेन की चपेट में आने से मृत तेंदुआ मादा था। इसकी उम्र लगभग छह साल की थी। यह जानकारी डीएफओ कैलाश प्रकाश ने दी है। संवाद
रेल लाइन बनी वन्यप्राणियों के लिए काल
चित्रकूट। ट्रेन से टकराकर तेंदुआ के मौत की घटना फि र सामने आई है। वन्यजीवों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। एक के बाद एक विलुप्त प्राय वन्यप्राणी मौत का शिकार होते जा रहे है। लेकिन विभाग के पास एसी कोई व्यवस्था नहीं है इससे वन्यजीवों को ट्रेन से कटने से बचाया जा सके। कुल मिलाकर जिस तरह से वन्यजीवों के मौत का क्रम जारी है तराई जंगल के बीच से गुजरी रेलवे लाइन वन्यप्राणियों के लिए काल साबित हो रही है। इस क्षेत्र में ट्रेन से कटकर अक्सर जंगली जानवरों की मौत होती रहती है। लेकिन सरकार के पास ऐसा कोई प्लान नहीं है की वन्यजीवों के मौत को ट्रेन से रोका जा सके। वर्षों पूर्व चितहरा रेलवे स्टेशन के पास बाघ की ट्रेन से कटने से मौत हो गई थी। इसी तरह इंटवा-टिकरिया के बीच भालू ट्रेन से कट गया था। पिछले महीनें टिकरिया-मारकुंडी स्टेशन के बीच तेंदुआ की ट्रेन से कटकर मौत हो गई थी। ऐसे ही प्रत्येक वर्ष दर्जनों वन्यप्राणी काल के गाल मे समा जाते हैं। वन विभाग इनकी सुरक्षा में नाकाम साबित हो रहा है।
... और पढ़ें

यमुना नदी में स्नान करने गया किशोर डूबा, तीन दिन बाद भी नहीं मिला शव, एसडीआरएफ टीम तलाश में जुटी

प्रेम की स्थापना कर राम के आदर्शों पर चले समाज

चित्रकूट। राष्ट्रीय रामायण मेले के 47वें समारोह के पांचवे और अंतिम दिन मंगलवार को प्रथम सत्र में रामकथा के प्रख्यात विद्वानों ने रामायण व रामकथा के विभिन्न प्रसंगों पर चर्चा करते हुए कहा कि विश्व शांति के लिए राम के आदर्शों को अपनाना होगा। अध्यक्षता करते हुए कामदगिरि प्रमुख द्वार के संत मदन गोपाल दास महाराज ने कहा कि भगवान श्रीराम ने चित्रकूट में 11 वर्ष 6 माह 6 दिन रहने के उपरांत यहां से रामराज्य की परिकल्पना प्रारंभ होती है। साथ ही माता सीता को शांति का प्रतीक बताया। रामराज्य में शांति की स्थापना हो।
मंगलवार को प्रद्युम्न कुमार दुबे ‘लालू’ ने कहा कि राष्ट्रीय रामायण मेला की समाप्ति नहीं बल्कि स्वर्ण जयंती मनाने की तैयारियों की शुरुआत है। राज्य सरकार से पुरस्कृत शिवशंकर गुप्त ने कहा कि रामकथा मंदाकिनी सतत रुप से राष्ट्रीय रामायण मेला चित्रकूट से प्रवाहित होती रहेगी। साहित्यकार डॉ. सीताराम सिंह ‘विश्वबंधु’ ने कहा कि विश्व शांति एवं समृद्धि में बहुत घातक है। झांसी चिरगांव की मानस मंदाकिनी पाण्डेय व संत तीरथदीन पटेल ने राम नाम की महिमा का बखान करते हुए कहा कि बिना अनुराग के राम नाम की प्राप्ति सुलभ नहीं है। महाराष्ट्र मुंबई के पं वीरेंद्र प्रसाद शास्त्री ने जीवन में शांति कैसे प्राप्ति की जाए के संबंध में बताया कि हम सभी का जीवन उत्तरोतर मृत्यु की ओर जा रहा है लेकिन संपूर्ण जीवन अशांति से भरा रहा और जीवन में शांति की अनुभूति नहीं कर पाए।
द्वितीय सत्र के विद्वत गोष्ठी में हिन्दी साहित्य के प्रख्यात साहित्यकार डॉ चंद्रिका प्रसाद दीक्षित ‘ललित’ ने कहा कि चित्रकूट सृष्टि का आदिम केंद्र है। बताया कि चित्रकूट विश्व का एक ऐसा विलक्षण तीर्थ है जो सभ्यता, संस्कृति की दृष्टि से सबसे प्राचीनतम सिद्ध हेाता है। बिहार रांची के डॉ. जंगबहादुर पांडेय ने बताया कि मानस का सर्वाधिक महत्वपूर्ण कांड अयोध्या है। इसकी सर्वाधिक महत्वपूर्ण घटना चित्रकूट की सभा है।
इसके पूर्व रामायण मेले में दिल्ली, आसाम, प्रयागराज व मणिपुर के कलाकारों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं
Banda + Chitrakoot Ad
Banda + Chitrakoot Ad
Banda + Chitrakoot Ad

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us