विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

IPS बनी गोरखपुर की बेटी एमन, सीएम योगी ने मुस्लिम लड़कियों के लिए बताया रोल मॉडल

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहर की ऐमन जमाल का भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) में चयन होने पर शुभकामनाएं दीं।

10 दिसंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

फैजाबाद

मंगलवार, 10 दिसंबर 2019

सीज बोलेरो से लखनऊ जाना महंगा पड़ा, निलंबित

अयोध्या। कोतवाली नगर में तैनात एक मुख्य आरक्षी को एमवी एक्ट में सीज बोलेरो वाहन का व्यक्तिगत रूप से इस्तेमाल करना महंगा पड़ गया। एसएसपी आशीष तिवारी ने आरोपी मुख्य आरक्षी को पद का दुरुपयोग करने, अनुशासनहीनता के आरोप में निलंबित कर दिया है। साथ ही उसके खिलाफ विभागीय जांच भी बैठा दी गई है।
कोतवाली नगर में मुख्य आरक्षी के पद पर तैनात अमर सिंह पटेल ने 6 दिसंबर से अवकाश लिया था। थाने में रवानगी कराने से पूर्व सुबह ही वह थाने में एमवी एक्ट में सीज एक बोलेरो वाहन को लेकर अपने एक रिश्तेदार का इलाज कराने लखनऊ के लिए निकल गया। इसके लिए उसने किसी अधिकारी की अनुमति भी नहीं ली थी।
हालांकि वह शाम को वापस लौट आया था, लेकिन कोतवाली पुलिस ने इसकी शिकायत सीओ सिटी व एसएसपी से कर दी। शिकायत के आधार पर हुई जांच के बाद 7 दिसंबर की रात एसएसपी ने पद का दुरुपयोग करने व अनुशासनहीनता के आरोप में मुख्य आरक्षी अमर सिंह पटेल को निलंबित कर उसके खिलाफ विभागीय जांच बैठा दी। सीओ सिटी अरविंद चौरसिया ने बताया कि आरक्षी के खिलाफ जांच शुरू कर दी गई है।
... और पढ़ें

उन्नाव कांड पर सपाइयों ने सरकार को घेरा

अयोध्या। उन्नाव में बलात्कार के बाद पीड़िता की हत्या के मामले को लेकर शीर्ष नेतृत्व के आह्वान पर सपाइयों ने सरकार को आड़े हाथों लिया। पूर्व मंत्री पवन पांडेय ने शनिवार को प्रेसवार्ता में महिला अपराधों के खिलाफ आंदोलन की चेतावनी दी।
सिविल लाइन स्थित एक होटल में उन्होंने कहा कि देश व प्रदेश की स्थिति भयावह है। बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का नारा देने वाली इस सरकार में बेटियां ही सर्वाधिक असुरक्षित हैं। कहा कि पहले तो बलात्कार का मामला ही पुलिस नहीं दर्ज कर रही थी, किसी तरह केस दर्ज हुआ भी तो आरोपियों ने इस तरह की जघन्य वारदात को अंजाम दिया है।
इससे साफ जाहिर है कि अपराधियों को पुलिस का भय नहीं है। कहा कि भाजपा सांसद जेल में बंद बलात्कारी को जन्मदिन की बधाई देते हैं, यह शर्म की बात है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रदेश को संभाल नहीं पा रहे हैं, इसलिए नैतिकता के आधार पर उनसे इस्तीफा लेकर राष्ट्रपति शासन लागू किया जाय।
कहा कि बढ़ते अपराधों के मामले पर सपा आंदोलन करेगी। शीघ्र ही प्रदेश नेतृत्व के आह्वान पर सड़क पर उतरकर प्रदर्शन किया जाएगा। इस मौके पर चौधरी बलराम यादव, रक्षाराम यादव, शमशेर यादव, शिवांशू तिवारी आदि मौजूद रहे।
वहीं, एमएलसी लीलावती कुशवाहा ने सिविल लाइन स्थित गांधी पार्क में धरना-प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि आज बहन-बेटियों का घर से निकलना दूभर हो गया है। देश की आधी आबादी खतरे में है। तेलंगाना मामले में डॉक्टर के चिता की राख अभी ठंडी भी नहीं हुई थी कि बेखौफ लोगों ने दूसरी क्रूरतापूर्ण घटना को अंजाम दिया है।
कहा कि प्रदेश के हालात बद्तर हैं, मुख्यमंत्री कानून व्यवस्था संभाल नहीं पा रहे हैं। धरने के उपरांत राज्यपाल को संबोधित प्रेषित ज्ञापन में एमएलसी ने मांग किया कि शीघ्रातिशीघ्र फास्ट ट्रैक कानून के तहत अपराधियों को फांसी की सजा दी जाय, पीड़ित परिवार को कम से कम 50 लाख रुपये मुआवजा दिलाया जाय, परिवार के सदस्यों की सुरक्षा मुहैया करायी जाय, उनके भरण-पोषण के लिए परिवार के एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी दी जाय, प्रदेश में हो रहे हत्या एवं बलात्कार पर रोक लगाने के लिए कठोर कानून बनाये जायं। इस मौके पर इंद्रपाल यादव, सतीश यादव, विजय निषाद, अमृत राजपाल, मोहित यादव, अल्का कुशवाहा आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

वाहन की टक्कर से बाइक सवार युवक की मौत

कुचेरा बाजार। इनायतनगर थाना क्षेत्र के गढ़ा गांव के पास अज्ञात वाहन की टक्कर से बाइक सवार एक युवक की मौत हो गई। मौके पर पहुंचे क्षेत्राधिकारी मिल्कीपुर व इनायत नगर थाना प्रभारी निरीक्षक ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पुलिस ने हादसे में मारे गए युवक के पत्नी की तहरीर पर अज्ञात के विरुद्ध मुकदमा कायम कर लिया है।
अस्थना पूरे गोरवा निवासी गंगाराम चौरसिया (38) बीते शुक्रवार शाम करीब 7 बजे अपनी बाइक से इनायत नगर बाजार गया था। बाजार से वह देर शाम अपने घर लौट रहा था। वह इनायत नगर गदुरही मार्ग पर स्थित गढ़ा गांव मोड़ के पास पहुंचा ही था कि किसी अज्ञात वाहन ने बाइक में टक्कर मार दी, जिससे युवक बाइक समेत सड़क के किनारे लगभग 10 फीट गड्ढे में जा गिरा और मौके पर ही उसकी मौत हो गई।
रात का समय होने के चलते किसी को घटना की जानकारी तक नहीं हो सकी। उधर, परिवारजन भी युवक के देर रात तक घर वापस न लौटने पर खोजबीन कर रहे थे। शनिवार सुबह नित्यक्रिया के लिए निकले ग्रामीणों ने सड़क के किनारे गड्ढे में शव पड़ा देख इनायत नगर पुलिस को सूचना दी।
पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मामले में प्राथमिकी दर्ज किए जाने के लिए मृतक की पत्नी आशा देवी ने थाने में तहरीर दी जिसके आधार पर प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार सिंह ने अज्ञात वाहन एवं वाहन चालक के विरुद्ध मुकदमा कायम कर छानबीन शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

अयोध्या नगर निगम में शामिल होंगे 31 ग्राम पंचायतों के 41 राजस्व गांव

अयोध्या नगर निगम की सीमा में 31 ग्राम पंचायतों के 41 राजस्व गांवों को शामिल किया जाएगा। अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से ही लोगों की निगाहें अयोध्या नगर निगम के सीमा विस्तार पर टिकी थीं। अयोध्या की सीमा में मस्जिद के लिए पांच एकड़ जमीन दी जानी है। इसके मद्देनजर भी अयोध्या नगर निगम का सीमा विस्तार अपरिहार्य माना जा रहा था। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में सोमवार को हुई प्रदेश कैबिनेट की बैठक में बहुप्रतीक्षित अयोध्या, गोरखपुर व फिरोजाबाद नगर निगमों समेत कुशीनगर के पड़रौना नगर पालिका परिषद और चार नगर पंचायतों के सीमा विस्तार करने के प्रस्ताव पर मुहर लगा दी गई। जिन नगर पंचायतों का सीमा विस्तार होना है, उनमें बंकी (बाराबंकी), बभनान (बस्ती), अजमतगढ़ (आजमगढ़) व महरौनी (ललितपुर) शामिल हैं।

वहीं, गोरखपुर नगर निगम की सीमा में 17 ग्राम पंचायतों से संबंधित 31 राजस्व गांवों को नगर निगम सीमा में शामिल करने का फैसला किया गया है। फिरोजाबाद नगर निगम सीमा क्षेत्र में सिर्फ अराजी रूंध (श्रीराम कॉलोनी) को शामिल किए जाने का प्रस्ताव है। इसके अलावा विभिन्न जिलों में 16 नई नगर पंचायतों के गठन का भी फैसला किया गया है।

इन फैसलों की जानकारी देते हुए सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह ने बताया कि तेजी से बढ़ रहे शहरीकरण की प्रवृत्ति की वजह से शहरी क्षेत्र का तेजी से विस्तार हो रहा था। इसकी वजह से शहर से सटे इलाकों में अनियोजित कॉलोनियों की बसावट में भी इजाफा हो रहा था, लेकिन वहां रहने वाले लोगों को सड़क, सीवर, पेयजल व बिजली समेत अन्य शहरी सुविधाएं नहीं मिल रही थीं।
... और पढ़ें
कैबिनेट की बैठक के बाद फैसलों की जानकारी देते मंत्री बृजेश पाठक, सिद्धार्थनाथ सिंह और नंदगोपाल नंदी। कैबिनेट की बैठक के बाद फैसलों की जानकारी देते मंत्री बृजेश पाठक, सिद्धार्थनाथ सिंह और नंदगोपाल नंदी।

पंचायत में मारपीट, कई घायल

अयोध्या। मवई थाना क्षेत्र के कुशहरी गांव में रविवार शाम ग्रामीणों से भरी पंचायत में अचानक लाठियां चटकनेे लगी। इस हमले में लगभग पांच लोग लहूलुहान हो गए, गंभीर रूप से घायल तीन लोग जिला अस्पताल भी रेफर किए गए। मामले में पुलिस ने तीन हमलावरों को हिरासत में लेकर उनका चालान किया है।
कुशहरी गांव में सार्वजनिक खड़ंजा मार्ग से लिंक एक कोलिया थी। जिससे रमेशचंद्र, केशवराम पुत्रगण शत्रोहन लाल व एहबरन लाल पुत्र तुलसीराम पासी आदि लोग आते जाते थे। कोलिया के मुख्य मार्ग पर गांव के ही जगमोहन, त्रिमोहन आदि लोगों ने अपनी दबंगई के बल पर बांस लगाकर रास्ता बंद कर दिया। जिसको लेकर रविवार की शाम ग्राम प्रधान प्रतिनिधि सुरेश की मौजूदगी में ग्रामीणों की पंचायत बुलाई गई।
पंचायत शुरू ही हुई थी कि अचानक भरी पंचायत में एक पक्ष के करीब दर्जन भर लोग लाठी डंडे से लैस होकर हमला कर दिया। प्रत्यक्षदर्शियों की माने तो लगभग पंद्रह मिनट चटकी लाठी में दर्जन भर लोग घायल हुए। जिसमें पांच लोग लहूलुहान होकर जमीन पर गिर गए। सूचना पर डायल 112 के जवान मौके पर पहुंचे और घायल लोगों को सीएचसी मवई पहुंचाया।
जहां उपचार के दौरान डॉक्टरों ने तीन लोगों की हालत गंभीर बताते हुए उन्हें जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। हमले में एक पक्ष रमेशचंद्र, केशवराम, एहबरन लाल के सिर व हाथ पैर में चोट आई है, जिन्हें जिला अस्पताल रेफर किया गया है। वहीं दूसरे पक्ष से राहुल, त्रिमोहन व धनीराम को भी चोट आई है।
जिले में धारा 144 लागू है, बावजूद मवई थाने के कुशहरी गांव में सौ से अधिक लोगों ने एकत्र होकर पंचायत शुरू की। जिसकी भनक शायद मवई पुलिस को भी नहीं हुई। पंचायत में बात न बनने पर एक पक्ष ने हमला कर कइयों को घायल कर दिया।
मामले में घायल रमेश व अवधेश ने बताया कि रात में पुलिस को जब घटना की तहरीर दी तो पुलिस ने तब तक कोई कार्रवाई नही की, जब तक तहरीर नहीं बदलवा ली। आरोप है कि मामूली तहरीर लेकर पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया। मवई थाना प्रभारी चंद्रभान यादव ने बताया कि मामले में वादी की तहरीर पर 12 लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर तीन लोगों का चालान किया गया है।
... और पढ़ें

हत्या में दो को उम्रकैद

अयोध्या। खेत सींचने के विवाद में हुई युवक की हत्या में दो लोगों को आजीवन कठोर कारावास की सजा सुनाई गई है। प्रत्येक पर 13 हजार रुपये जुर्माना भी हुआ है। दूसरे पक्ष के तीन लोगों को जानलेवा हमले में पांच-पांच साल की सजा व प्रत्येक को नौ हजार रुपये जुर्माना का आदेश हुआ है। ये आदेश विशेष न्यायाधीश एससी/एसटी एक्ट की अदालत से हुआ।
वरिष्ठ अभियोजन अधिकारी पारसनाथ व एडीजीसी रोहित पांडेय ने बताया की घटना 10 जून 1998 की है। रौनाही थाना क्षेत्र के अगेथुवा गांव के रहने वाले श्रीचंद अपने पिता पारसनाथ, भाई प्रेमचंद के साथ पड़ोसी गांव में अपना खेत सींचने राम उजागिर के ट्यूबवेल पर गए थे।
वहां जानकी प्रसाद मौर्य व रामकरन ने अपने खेत की सिंचाई पहले करने को कहा। इस पर दोनों पक्षों में कहासुनी के बाद मारपीट हो गई। घटना में घायल प्रेमचंद की इलाज के दौरान मौत हो गई। जबकि कुछ लोग घायल हो गए।
इस मामले में श्रीचंद ने जानकी प्रसाद, रामकरण व कपिलदेव के खिलाफ हत्या समेत अन्य धाराओं में रिपोर्ट लिखाई थी। सुनवाई के बाद कोर्ट ने दोषी पाते हुए जानकी प्रसाद व रामकरन को सजा दी जबकि कपिल को दोषमुक्त कर दिया।
कोर्ट ने दूसरे पक्ष के पिंटू उर्फ रामअवतार, श्रीचंद व राम धीरज को जानलेवा हमला के मामले में दोषी पाते हुए पांच-पांच साल के कारावास व प्रत्येक को नौ हजार रुपये अर्थदंड से दंडित किया।
... और पढ़ें

अवध विवि : कर्मचारियों हड़ताल से आवश्यक सेवाएं ठप

अयोध्या। डॉ. राममनोहर लोहिया अवध विवि में कुलपति पर लगे धन के बंदरबांट के आरोपों की सीबीआई जांच को लेकर कर्मचारियों की हड़ताल से सोमवार को आवश्यक सेवाएं ठप हो गईं। आवश्यक सेवाओं में तैनात कर्मचारी भी कार्य बहिष्कार में शामिल हो गए हैं।
कर्मचारियों ने कुलपति के इस्तीफे से लेकर प्रति कुलपति को हटाए जाने की मांग की है। दूसरी ओर सोमवार को कार्य बहिष्कार के चलते प्रशासनिक कार्य पूरी तरह बंद रहे। परीक्षा फीस को लेकर आए महाविद्यालयों के लोगों को बैरंग वापस लौटना पड़ा। प्री-पीएचडी में वेबसाइट की दिक्कत को लेकर दिनभर विद्यार्थी कार्यालय का चक्कर काटते रहे लेकिन, समाधान नहीं हो सका।
अवध विवि में कर्मचारी अपनी 28 सूत्रीय मांग को लेकर पिछले सात दिनों से आंदोलनरत हैं। शनिवार को कर्मचारियों ने राजभवन व मुख्यमंत्री कार्यालय को पत्र भेजकर 23 बिंदुओं पर जांच कराए जाने की मांग की है। हालांकि मामले में स्वंय पर लगे आरोपों की सीबीआई से जांच की संस्तुति कुलपति प्रो. मनोज दीक्षित की ओर से भी कर दी गई है। जिलाधिकारी ने इसे शासन को संदर्भित भी कर दिया है।
इसके बावजूद जांच व कार्रवाई होने तक कर्मचारियों ने आंदोलन और तेज करने का सोमवार को निर्णय लिया। आवश्यक सेवाओं पर तैनात कर्मचारी भी कार्य बहिष्कार में शामिल हो गए है। साथ ही संविदा व तदर्थ कर्मचारी अपना कार्य छोड़ धरना स्थल पर पहुंचे। पूरे दिन विवि का काम प्रभावित रहा। प्रशासनिक कार्यालय पर दिन भर ताला लटका रहा। वहीं, हास्टल से लेकर लाइब्रेरी के कामकाज प्रभावित रहे।
इसके अलावा परीक्षा फार्मों के भर जाने के बाद फीस लेकर आए महाविद्यालयों के कर्मचारियों को बैरंग वापस लौटना पड़ा। सर्वाधिक दिक्कत प्री-पीएचडी का परीक्षा फार्म भरने वाले विद्यार्थियों को हुई। वेबसाइट में कुछ दिक्कत आ जाने से इनके परीक्षा फार्म भरने के कार्य नहीं हो सके।
कई प्री-पीएचडी के विद्यार्थी दिनभर विवि कैंपस में घूमते रहे। इसके साथ विभागों के कार्य भी पूरी तरह प्रभावित रहे। सभी कर्मचारी आंदोलन व कार्य बहिष्कार में शामिल रहे। कर्मचारी संघ के अध्यक्ष राजेश पांडेय ने बताया है कि विवि प्रशासन व जिला प्रशासन का कोई भी प्रतिनिधि मिलने नहीं आया, जिससे कार्य बहिष्कार व आंदोलन मंगलवार को भी जारी रहेगा।
विवि में कर्मचारी व अधिकारियों की उठापटक के बीच विश्वविद्यालय कार्य परिषद सदस्य ओमप्रकाश सिंह कुलपति के बचाव में उतर आए हैं। उन्होंने बताया है कि कर्मचारियों के हित में कुलपति की ओर से अनेकों निर्णय लिए हैं। अधिकांश निर्णय उनके द्वारा कार्य परिषद में प्रस्तुत किए थे।
उन्होंने बताया है कि तृतीय एवं चतुर्थ श्रेणी संविदाकर्मियों के वेतन पुनरीक्षण एवं वेतन वृद्धि, शासनादेश के अनुरूप विगत एक दशक से अधिक लंबित समायोजन, उच्च न्यायालय से स्थगन प्राप्त तीन कर्मियों तथा दिलीप पाल (कर्मचारी संघ पदाधिकारी), राममिलन पाल एवं सुनीता देवी का विनियमितिकरण, मृतक आश्रित कर्मियों का वर्षों से लंबित टाइप टेस्ट संपादित कराया जाना, संविदा कर्मियों का संविदा विस्तरण 5 वर्ष का प्रावधान व आवास आवंटन समिति में कर्मचारी परिषद के अध्यक्ष का प्रतिनिधि सहित अन्य कई बड़े कार्य शामिल हैं।
... और पढ़ें

दोगुना से अधिक बढ़ा नगर निगम का दायरा

अयोध्या। नगर निगम अयोध्या का दायरा दो गुना से अधिक बढ़ गया है। सीमा विस्तार में जनसंख्या के साथ ही क्षेत्रफल में भी नगर निगम में खासी वृद्धि हो गई है। शामिल किए गए 41 राजस्व गांवों का पहचान अब ग्राम पंचायतों के बजाए वार्ड के रूप में होगी।
श्रीराम मंदिर पर फैसला आने के बाद सरकारों का अयोध्या पर फोकस बढ़ने के बाद अयोध्या नगर विकास के लिए ज्यादा बजट आवंटित होने की उम्मीद है। नगरीय इलाके के विस्तार से इन क्षेत्रों में जनसुविधाएं बढ़ने के साथ ही निगम की आय में भी बढ़ोत्तरी होगी।
नगर निगम के प्रस्ताव पर प्रदेश शासन ने सीमा विस्तार पर मुहर लगा दी है। बताया गया है कि 31 ग्राम पंचायतों के 41 राजस्व गांव को नगर निगम में शामिल किए जाने का प्रस्ताव भेजा था। इसकी संस्तुति होने के बाद अब नगर निगम का दायरा डेढ़ गुना तक बढ़ गया है।
यह विस्तार जनसंख्या के साथ ही क्षेत्रफल में भी बताया गया है। सीमा विस्तार के बाद इन क्षेत्रों में भी नगर निगम के नियम प्रभावी हो जाएंगे। यहां सड़क बिजली पानी के साथ ही नागरिक सुविधाओं में इजाफा किए जाने का श्रीगणेश होगा।
सीमा विस्तार को लेकर कवायद नगर निगम के सृजन से पहले से चल रही है। अतीत की नगर पालिका फैजाबाद और नगर पालिका अयोध्या का विस्तार किए जाने के लिए पहले 37 गांवों का प्रस्ताव भेजा गया था।
इसके बाद एक बार फिर 25 गांवों को इसमें शामिल किए जाने का प्रस्ताव भेजा गया था लेकिन सीमा विस्तार को रोक प्रदेश शासन ने पांच मई 2017 को नगर निगम बनाए जाने का प्रस्ताव प्रदेश शासन ने मांग लिया। मई में ही बगैर सीमा विस्तार के नगर निगम का सृजन कर दिया गया। अब लगभग ढाई साल बाद नगर निगम का सीमा विस्तार कर दिया गया।
सीमा विस्तार के बाद नगर निगम अयोध्या का क्षेत्रफल बढक़र 8958.57 हेक्टेयर हो गया है। नगर निगम के सृजन के समय इसका क्षेत्रफल 3556.08 हेक्टेयर था। सीमा विस्तार में 5402.49 हेक्टेयर नए क्षेत्रफल को शामिल किया गया।
नगर निगम के सीमा विस्तार के बाद यहां की कुल जनसंख्या 319730 हो गई है। निगम के सृजन के समय इसकी जनसंख्या 221118 थी। विस्तार में 98612 नई जनसंख्या इसमें बढ़ गई है।
अयोध्या के केंद्र और प्रदेश सरकार की शीर्ष प्राथमिकता में शामिल होने और निगम क्षेत्र बड़ा होने से विकास के लिए ज्यादा बजट मिलने की उम्मीद जताई जा रही है। जानकारों कहना है कि अयोध्या को हेरिटेज सिटी के रूप में विकसित किए जाने का दौर है। शहर के लिए तमाम परियोजनाएं प्रस्तावित हैं ऐसे में अयोध्या नगर के विकास के लिए भी ऐसी उम्मीद की जा सकती है।
नगर आयुक्त नीरज शुक्ल ने बताया कि प्रदेश शासन ने नगर निगम के विस्तार को मंजूरी दे दी है। निगम में नए 41 राजस्व गांव शामिल किए गए हैं। इससे निगम का क्षेत्र बढ़ गया है। गजट के बाद इन क्षेत्रों में नागरिक सुविधाओं में विस्तार के साथ ही अन्य कार्रवाई की जाएगी।
नगर निगम अयोध्या के सीमा विस्तार से कई ग्राम पंचायतों का वजूद संकट में आ गया है। प्रदेश शासन ने सीमा विस्तार को मंजूरी दे दी है। इसमें कुल 41 राजस्व गांव शामिल किए गए हैं। प्रथम दृष्टया इस सीमा विस्तार में शामिल किए गए 41 राजस्व कुल 31 ग्राम पंचायतों के बताए गए हैं। खासतौर से शहर से सटी छोटी, बड़ी कई ग्राम पंचायतें तो इसमें पूरी तरह से समाहित हो जाएंगी। कुछ का आकार काफी छोटा हो जाएगा। हलांकि इसकी स्थिति पूरी तरह से तो गजट के बाद ही साफ हो पाएगी। ऐसा जानकारों का कहना है।
... और पढ़ें

खरमास 16 से, नहीं होंगे शुभ कार्य

अयोध्या। इस वर्ष मांगलिक कार्यक्रम 15 दिसंबर तक ही होंगे। खरमास लगने के कारण 16 दिसंबर से 14 जनवरी 2020 तक किसी भी तरह के शुुभ कार्य नहीं होंगे। हिंदू धर्म में खरमास में किसी भी तरह के शुभ काम नहीं किये जाते हैं। पंचांग की मानें तो जब से सूर्य बृहस्पति राशि में प्रवेश करते हैं तभी से खरमास प्रारंभ हो जाता है। हिंदू धर्म में इस महीने को शुभ नहीं माना जाता है। ऐसे में इस महीने में किसी भी तरह के नए काम या शुभ काम नहीं किये जाते हैं।
ज्योतिषाचार्य आचार्य शिवेंद्र ने बताया कि देव गुरु बृहस्पति 16 दिसंबर की शाम 05.50 बजे अस्त हो जाएंगे। इसके बाद 11 जनवरी 2020 को फिर उदय होंगे। देव गुरु बृहस्पति सूर्य भगवान से 11 डिग्री या उससे कम की दूरी पर होते हैं तो उन्हें अस्त कहा जाता है। सभी ग्रह राहु व केतु का छोड़कर समय-समय पर अस्त होते रहते हैं।
देव गुरु बृहस्पति का पूजन मांगलिक कार्यक्रमों में जरूरी है। ऐसे में उनके अस्त होने के समय सभी मांगलिक कार्यक्रम वर्जित हो जाते हैं। इस बार 15 दिसंबर को देव गुरु बृहस्पति की राशि धनु में सूर्य भगवान के प्रवेश करने के साथ ही खरमास शुरू हो जाएगा। ये स्थिति 14 जनवरी 2020 तक रहेगी।
ऐसे में 14 जनवरी तक मांगलिक कार्यक्रम वर्जित रहेंगे। नवंबर से शुरू होने वाले सभी शुभ काम 12 दिसंबर तक ही किये जाएंगे। शादी के मुहूर्त की बात करें तो वह 12 दिंसबर तक ही होंगी। इसके बाद सभी शुभ काम 15 जनवरी 2020 से शुरू होंगे।
आचार्य शिवेंद्र बताते हैं कि मलमास या खरमास में किसी भी तरह के मांगलिक कार्य व यज्ञ करना निषेध होता है। जैसे शादी, सगाई, वधू प्रवेश, द्विरागमन, गृहप्रवेश, गृह निर्माण, नए व्यापार का आरंभ आदि न करें। मांगलिक कार्यों के सिद्ध होने के लिए गुरु का प्रबल होना बहुत जरूरी है। बृहस्पति जीवन में वैवाहिक सुख और संतान देने वाले होते हैं।
... और पढ़ें

अनियंत्रित ट्रक घर में घुसा, दो घरों को नुकसान

मिल्कीपुर। थाना इनायतनगर के सेवरामोड़ हाईवे पर रविवार सुबह रायबरेली से अयोध्या की ओर सीमेंट लादकर आ रहा ट्रक अनियंत्रित होकर मकान में घुस गया, जिससे दो मकान क्षतिग्रस्त हो गए।
ट्रक की जोरदार टक्कर से आसपास के लोग दौड़े और किसी तरह ट्रक चालक व क्लीनर को गाड़ी से बाहर निकाला। ट्रक चालक को भी काफी चोटें आईं हैं। इनायत नगर पुलिस ने ट्रक चालक को सीएचसी मिल्कीपुर पहुंचाया।
ट्रक की टक्कर से क्षतिग्रस्त हुए मकान के मालिक डॉ. कमलनाथ त्रिपाठी निवासी सेवरा मोड़ ने इनायत नगर थाने में तहरीर देते हुए बताया कि मेरे मकान का करीब 1,20,000 का नुकसान हुआ है। जिसमें मकान का छज्जा और दीवार क्षतिग्रस्त हो गई। साथ ही मकान में दरार आ गई है।
वहीं दूसरे मकान मालिक राम अवतार चौहान ने भी क्षतिग्रस्त हुए मकान का नुकसान का ब्योरा सहित तहरीर थाने में दी है। प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार सिंह ने बताया कि तहरीर मिली है।
ट्रक ड्राइवर की लापरवाही साफ दिखाई दे रही है। ट्रक मालिक को बुलाया गया है। उचित मुआवजा गृह स्वामियों को दिलाया जाएगा। मौका मुआयना क्षेत्राधिकारी मिल्कीपुर राजेश राय ने भी करते हुए मकान मालिकों को उचित मुआवजा दिलाने का भरोसा दिलाया। ट्रक चालक पुलिस के कब्जे में है।
... और पढ़ें

राममंदिर निर्माण को तीन हजार वैदिक विद्वानों के साथ हुआ गीता पाठ

अयोध्या। विश्व हिंदू परिषद ने छह दिसंबर को शौर्य दिवस न मनाने की घोषणा पर अमल के बाद अब गीता जयंती को बाबरी विध्वंस की नई तिथि से जोड़ दिया है।
श्रीरामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास की अध्यक्षता में उनकी मणिराम दास छावनी के वाल्मीकि भवन में रविवार को हजारों साधु-संतों की अगुवाई में गीता जयंती के पारंपरिक कार्यक्रम को नए स्वरूप में मनाया गया।
विहिप नेताओं व उससे जुड़े संत-धर्माचार्यों ने कहा कि छह दिसंबर 1992 को जब बाबरी ढांचे का कलंक लाखों कारसेवकों ने मिटाया तो उस दिन हिंदी तिथि अनुसार गीता जयंती थी। इस वर्ष अयोध्या मामले में राममंदिर के हक में फैसला आने के बाद इस तिथि को लेकर खास उत्साह है।
राममंदिर निर्माण में अब किसी प्रकार की बाधा न आए इसको लेकर करीब तीन हजार की संख्या में वैदिक विद्वानों, संत-धर्माचार्यों द्वारा गीता का सस्वर पाठ किया गया।
श्रीरामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष व मणिरामदास छावनी के महंत नृत्यगोपाल दास ने वाल्मीकि रामायण भवन में आयोजित गीता जयंती के अवसर पर कहा कि गीता जयंती का यहां खास महत्व है।
राम मंदिर निर्माण में बाधा बनने वालों को भगवान सद्बुद्धि दें। गीता सिर्फ हिंदू धर्म का मार्गदर्शन ही नहीं करती है, बल्कि संपूर्ण मानव जाति को ज्ञान देती है। गीता भारतीय संस्कृति की आधारशिला है। गीता का आरंभ धर्म से तथा अंत कर्म से होता है।
अयोध्या संत समिति के अध्यक्ष महंत कन्हैया दास ने कहा कि आज एकादशी पर्व पर बाल्मीकि भवन में महंत नृत्य गोपाल दास की अध्यक्षता में गीता जयंती का आयोजन किया गया है। जिस प्रकार से द्वापरयुग में अर्जुन के द्वारा धर्म की स्थापना किया गया उसी तरह आज सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर के पक्ष में फैसला देकर धर्म की स्थापना की है।
इसी कारण इस वर्ष यह गीता जयंती बड़ा ही उत्साह से अयोध्या के संत मना रहे हैं, अब भगवान श्री राम का भव्य मंदिर निर्माण होने जा रहा है। वही संत आनंद शास्त्री ने बताया कि इस गीता पाठ के माध्यम से राम मंदिर निर्माण में बाधा बनने वाले लोगों को सद्बुद्धि मिले ऐसी कामना भी भगवान से की गई हैं।
विश्व हिंदू परिषद के प्रवक्ता शरद शर्मा ने कहा कि श्रीकृष्ण की वाणी से प्रकट हुई श्रीमद्भागवत गीता का हम पठन पाठन करें तो हमारा जीवन लोकहितकारी राष्ट्र को गौरवशाली बनाने में सहयोगी बन जाएगा। छह दिसंबर 1992 को हिंदी तिथिनुसार गीता जयंती थी जिस दिन गुलामी का प्रतीक ढांचा समाप्त हुआ। बताया कि गीता जंयती पर शौर्य दिवस मनाने जैसी बात नहीं है।
संचालन पंडित राधेश्याम मिश्र ने किया। इससे पूर्व बाल्मीकि रामायण भवन में हजारों की संख्या में उपस्थित वैदिक विद्वान, वटुकों और संत-धर्माचार्यों ने श्रीमद्भगवदगीता का सस्वर पाठ किया। इस अवसर पर मणिरामदास छावनी ट्रस्ट के सचिव कृपालु रामदास पंजाबी बाबा, रामनाम बैंक के मैनेजर पुनीतरामदास,संत जानकी दास, रामरक्षा दास, नरोत्तम दास, बलरामदास, डॉ.रामतेज पांडेय, प्रधानाचार्य नागेंद्र मिश्र, पंडित अनिरूद्ध शुक्ल, महंत रामकृष्ण दास सहित अन्य मौजूद रहे।
... और पढ़ें

सरजू नदी में नाव पलटने से 3 लापता, 5 लोग तैरकर निकले

पूरा बाजार। महाराजगंज थाना क्षेत्र में रविवार रात आठ लोगों से भरी नाव सरयू नदी में पलट गई। इस दौरान पांच लोग किसी तरह तैरकर किनारे आ गए। जबकि तीन लोग नदी की धारा में लापता हो गए। ये लोग नदी के उस पार से खेती कर लौट रहे थे।
मडना के ग्रामीण प्रतिदिन नाव पर बैठकर नदी के उस पार अपने खेतों में काम करने जाते हैं। रविवार को भी एक नाव पर सवार होकर 8 लोग नदी के उस पार खेती करने गए हुए थे। शाम करीब 6:30 बजे ये लोग वापस लौट रहे थे। तभी सरयू की बीच धारा में नाव पलट गई।
इस दौरान नाव पर सवार 5 लोग किसी तरह तैरकर किनारे पर आ गए लेकिन दो किशोरी समेत एक पुरुष नदी की धारा में लापता हो गए। लापता हुए किशोरियों की पहचान संगीता पुत्री बलराम (16 ), सुमन पुत्री राम सांवले (16) व रामकुमार पुत्र बीपत (30) निवासी मडना के रूप में हुई।
नाव पलटने की सूचना गांव में पहुंचते ही हड़कंप मच गया। आननफानन में ग्रामीण, स्थानीय नाविक व अन्य लोग नदी की ओर भागे। नाव की सहायता से नदी में लापता हुए लोगों की तलाश शुरू की लेकिन सफलता नहीं मिली। थोड़ी ही देर में पुलिस भी पहुंच गई। पुलिस टीम ने गोताखोरों को बुलाकर नदी में तलाश शुरू की लेकिन अंधेरा होने के कारण उन्हें सफलता नहीं मिल सकी।
मडना निवासी संतोष कुमार सिंह ने बताया कि ग्रामीण प्रतिदिन खेती के काम व चारे की तलाश में नदी उस पार जाते हैं। रविवार को भी नाव पर सवार आठ लोग चारे के साथ वापस आ रहे थे, तभी यह हादसा हुआ।
थाना प्रभारी महाराजगंज श्रीनिवास पांडे ने बताया कि डूबे हुए तीन लोगों की तलाश की जा रही है, लेकिन अंधेरा होने के कारण दिक्कतें आ रही थीं। इस कारण रात में बचाव कार्य बंद कर दिया गया। सोमवार सुबह दोबारा गोताखोरों की सहायता से नदी में जाल डालकर लापता लोगों की तलाश की जाएगी।
... और पढ़ें

4735 ने छोड़ी केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा

अयोध्या। जिले के 91 केंद्रों पर रविवार को दो पालियों में केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (सीटीईटी) कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच संपन्न हुई। दोनों पालियों में जिले में 4735 अभ्यर्थियों ने परीक्षा छोड़ दी। 67 हजार 257 उपस्थित रहे।
सुबह 9:30 बजे से 12 बजे तक एवं द्वितीय पाली में दोपहर दो बजे से शाम 4:30 बजे तक परीक्षा हुई। जिले में कुल 71,992 परीक्षार्थी आवंटित थे।
प्रथम पाली में 91 परीक्षा केंद्रों पर 50,217 अभ्यर्थियों के बैठने का इंतजाम किया गया था। जिसके सापेक्ष 46,741 उपस्थित रहे एवं 3,476 ने परीक्षा छोड़ दी।
इसी तरह द्वितीय पाली में 21,775 के सापेक्ष 20,516 अभ्यर्थी उपस्थित हुए, जबकि 1,259 अनुपस्थित रहे। जिले भर में तीन नकलची भी धरे गए, जिन्हें पुलिस ने हिरासत में लिया है। प्रभारी प्रमेंद्र सिंह एवं अजीत द्विवेदी ने बताया कि परीक्षा कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच कराई गई है।
सभी केंद्रों पर प्रश्नपत्र सीसीटीवी की निगरानी में खोले एवं वितरित किए गए और सीसीटीवी की निगरानी में जमा भी कराए गए हैं। निरीक्षण के लिए छह सचल दल बनाए गए थे। केंद्रों पर प्रवेश से पूर्व अभ्यर्थियों की सघन तलाशी लेकर ही अंदर प्रवेश की अनुमति दी गई।
सचल दलों द्वारा भी बीच-बीच में केंद्रों का औचक निरीक्षण किया गया। बताया कि तीन नकलचियों के पकड़ने के अलावा किसी भी केंद्र से कोई अनियमितता नहीं पाई गई है। अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व ने बताया कि शांतिपूर्ण ढंग से परीक्षा संपन्न हुई।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election