विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

उन्नाव कांड: दुष्कर्म पीड़िता को जलाने के आरोपी हाईसिक्योरिटी बैरक में, 34 सीसीटीवी कर रहे निगरानी

कुलदीप सिंह प्रकरण में किरकिरी करा चुका जेल प्रशासन बिहार थाना क्षेत्र में जलाकर मारी गई दुष्कर्म पीड़िता के मामले में पूरी तरह सतर्क है। डीजी जेल से लेकर निचले स्तर तक के सभी अधिकारी जेल में लगे सीसीटीवी कैमरों से हर गतिविधि पर नजर रख रहे हैं।

8 दिसंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

फतेहपुर

सोमवार, 9 दिसंबर 2019

पत्नी का शव लेकर पुलिस के पास पहुंचा पति

फतेहपुर। करीब बीस माह पहले प्रेम विवाह करने वाली महिला की इलाज के दौरान संदिग्ध हालात में मौत हो गई। एंबुलेंस से पति शव लेकर सीधे पुलिस के पास पहुंच गया। मायके पक्ष ने हत्या कर देने का आरोप लगाया है। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा।
गाजीपुर थाना क्षेत्र के शाह कस्बा अंतर्गत सुल्तानपुर निवासी साबिर अली की बेटी अफसाना(20) फरवरी 2018 में गांव के मुकीम पुत्र मुमताज से प्रेम प्रसंग के चलते घर छोड़कर चली गई थी। मुमताज ने बताया कि दोनों मुंबई चले गए थे। साबिर ने बेटी के अपहरण की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। कोर्ट में अफसाना पेश हुई थी। बालिग होने के कारण उसे कोर्ट ने मुकीम के साथ रहने की अनुमति दी थी। मुंबई में मुकीम प्राइवेट नौकरी करता था। किसी रोग
से अफसाना पीड़ित हो गई थी। उसका नया गांव छावनी(मध्य प्रदेश) में इलाज हो रहा था। इलाज के दौरान उसकी शुक्रवार को सांसें थम गईं। पति एंबुलेंस में शनिवार को शव लेकर शाह पुलिस चौकी पहुंचा। उसने पत्नी की मौत के बारे में जानकारी दी। पुलिस एंबुलेंस को लेकर सुल्तानपुर गांव पहुंची। मायके पक्ष ने हत्या की आशंका जताई। पुलिस ने भाई रिजवान की तहरीर पर शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा। एसओ डीडी सिंह ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जाएगी। उसके अपहरण की रिपोर्ट दर्ज हुई थी।
... और पढ़ें

हकारी घोटालेबाजों को एडीएम ने जारी की आरसी

फतेहपुर। सहकारिता घोटाले में शामिल रहे घोटालेबाजों से बैंक की रकम वसूल करने के लिए अपर जिलाधिकारी ने आरसी जारी कर दी है। आरसी छह लोगों के विरुद्ध जारी की गई है। एडीएम पप्पू गुप्ता ने बैंक की रकम वसूलने के लिए एसडीएम खागा और तहसीलदार को निर्देशित किया है।
सहकारी बैंक की खागा, खखरेरू और किशनपुर बैंक शाखाओं में तत्कालीन जिलाधिकारी पी. गुरुप्रसाद ने 88 करोड़ का घोटाला उजागर किया था। उस समय एआर सहाकारिता रहे संजीव कुमार राय की जांच रिपोर्ट ने पूरे प्रदेश में सुर्खियां बटोरी थीं। मामले की संवदेनशीलता को देखते हुए डीएम रहे पी.गुरुप्रसाद ने सदर कोतवाली में
एफआईआर दर्ज कराई थी। जिसमें एक महाप्रबंधक, चार शाखा प्रबंधक, तीन कैशियर समेत 11 कर्मी नामित हुए थे। तकरीबन एक दशक पुराने मामले में अभी तक बैंक महज 50 से 55 करोड़ रुपयों की ही रिकवरी कर पाया है। शेष रकम अभी भी घोटालेबाजों के चंगुल में फंसी हुई है। रकम अदा न करनी पड़े इसके लिए आरोपी भी अदालतों की शरण में रहे। अब जब वहां से आरोपियों की बात नहीं बनी तो मौका देख जिला प्रशासन ने छह घोटालेबाजों से 21 करोड़ 52 लाख रुपये की रिकवरी के लिए आरसी जारी कर दी है। अपर जिलाधिकारी पप्पू गुप्ता ने एसडीएम खागा विजयशंकर तिवारी और तहसीलदार खागा शशिभूषण मिश्र को पाई-पाई वसूली करने के लिए निर्देश जारी किया है।
इनसेट-
इन लोगों से होनी है वसूली
फतेहपुर। पैगंबरपुर रिकौहा के विजय शंकर तिवारी(बैंक मैनेजर) से 7,61,02825 और 45,32,360 रुपये की वसूली करने के आदेश दिए गए हैं। इसी क्रम में रारी के भोला सिंह(कैशियर) से 1,75,47,060 रुपये, रायचंदपुर सिठौरा के छत्रपाल(बैंककर्मी) से 1,15,78,328 रुपये, कुटीपर खागा के जगदेव प्रसाद मौर्य(बैंक कर्मी) से 10,39,45,330 रुपये, संवत के निवासी संतोष कुमार सिंह(चतुर्थ श्रेणी कर्मी, कैशियर का भी चार्ज) से 8,62,219 रुपये, नई बाजार खागा के धीरेंद्र सिंह(बैंककर्मी) से 6,57,269 रुपये की वसूली किए जाने के आदेश दिए गए हैं। इस तरह से छह लोगों से कुल 21,52,25,391 रुपयों की वसूली के लिए आरसी जारी की गई है।
... और पढ़ें

रेलवे ट्रैक पर मरे मिले युवक-युवती, गर्दन थी अलग

थरियांव (फतेहपुर)। कस्बे के टेक्सारी रेलवे लाइन क्रासिंग से करीब एक किमी दूर प्रयागराज की ओर शुक्रवार की देर रात रेलवे ट्रैक पर युवक-युवती के शव मिले। शव आसपास पड़े थे। दोनों की गर्दन धड़ से अलग थी। शवों की शिनाख्त नहीं हो सकी। पुलिस प्रथम दृष्टया इसे खुदकुशी मान रही है। हालांकि हत्या से भी वह इंकार करने की स्थिति में नहीं है।
थरियांव थाना क्षेत्र में यह टेक्सारी रेलवे लाइन क्रासिंग है। स्टेशन मास्टर की सूचना पर पुलिस शुक्रवार रात लगभग 11 बजे पहुंची। थानेदार उपेंद्र नाथ राय भी जांच को पहुंचे। दोनों शव आसपास थे। कटी गर्दन ट्रैक के बीच में थी। बाएं साइड रेलवे लाइन किनारे बाकी शरीर का हिस्सा था। महिला की उम्र करीब 40 साल होने का
अंदाजा लगाया गया। वह लाल रंग की कढ़ाईदार साड़ी पहने थी। पैरों में रंग लगा था। चांदी की चेन पड़ी मिली। पैरों में बिछिया पहने थी। माथे पर बिंदी का निशान था। इससे महिला के शादीशुदा होने का पता लगा। वहीं पुरुष की उम्र करीब 45 साल आंकी गई। वह आसमानी रंग की शर्ट और काले रंग का पैंट पहने था। पुलिस पति-पत्नी या फिर प्रेमी युगल होने का अंदाजा लगा रही है। पुलिस ने वालिंयटर्स ग्रुपों, प्रधानों, समाजसेवियों और ग्रामीणों के
नंबर पर पहचान के लिए फोटो वायरल किया है। मौके पर पुलिस दोबारा शनिवार दोपहर को भी जांच करने पहुंची। घटनास्थल पर केवल पैदल ही जाने का रास्ता है। यह दूरी करीब एक किमी है। थानेदार उपेंद्र नाथ राय का कहना है कि वास्तविक स्थिति पोस्टमार्टम रिपोर्ट व शिनाख्त के बाद पता चलेगी। प्रथम दृष्टया खुदकुशी ही माना जा रहा है।
... और पढ़ें

निशक्त बेटे की शादी की चिंता में मां बाप ने ट्रेन से कटकर दी थी जान

थरियांव(फतेहपुर)। थरियांव थाना क्षेत्र के टेक्सारी गांव की रेलवे पटरी पर आत्महत्या करने वाले महिला और पुरुष की पहचान दंपति के रूप में हुई है। दंपति बेटे के लिए रिश्ता देखने शुक्रवार दोपहर को घर से निकले थे। बेटे के निशक्त होने के कारण अक्सर रिश्ते की बात बिगड़ जाती थी। परिजनों ने बताया कि हताशा की वजह से दोनों ने आत्महत्या की है। पुलिस ने रविवार का शवों का पोस्टमार्टम कराया।
बता दें कि टेक्सारी क्रासिंग से प्रयागराज की ओर डाउन लाइन में रेलवे पटरी पर शुक्रवार रात करीब 11 बजे महिला और पुुरुष के शव बरामद हुए थे। पटरी गर्दन पर रखकर लेट गए थे। दोनों की गर्दन ट्रैक के बीच और बाकी शरीर का हिस्सा पटरी किनारे से बरामद हुआ था। फोटो सोशल मीडिया में वायरल हुई। जिसके आधार पर टेक्सारी गांव के करन रैदास ने पिता और मां के रूप में पहचान की। करन ने बताया कि ट्रेन से कटने वाले पिता महेश रैदास
(45) और मां गायत्री देवी (43) हैं। बड़ा भाई धनकेश दिल्ली में प्राइवेट नौकरी करता है। वह पैरों से निशक्त है। भाई की शादी के लिए रिश्ता देखने शुक्रवार दोपहर दो बजे बलरामदासपुर गांव साइकिल से निकले थे। बलराम दासपुर से रिश्तेदार के साथ जाना था। मां पिता शुक्रवार देर शाम तक घर नहीं आए तभी रिश्तेदार से पूछा गया। उनके घर भी नहीं पहुंचे थे। दूसरी रिश्तेदारियों में पता किया गया कोई जानकारी नहीं मिली थी। घरेलू बातों को
लेकर हर परिवार की तरह कहासुनी मां पिता के बीच होती रहती थी। उन बातों पर आत्महत्या का कदम उठा लेना वजह नहीं है। महेश रैदास के पास दस बिस्वा जमीन है। वह और उसके बेटे मजदूरी कर परिवार चलाते हैं। परिवार में दो बेटियों की शादी हो चुकी है। अब बड़ा बेटा धनकेश, संदीप और करन शादी के लायक हैं। परिजनों ने बताया कि धनकेश की शादी को लेकर चिंता में रहते थे। उपनिरीक्षक हेमेंद्र सिंह ने बताया कि परिवार से पूछताछ में कोई ठोस वजह आत्महत्या की नहीं आई है। बेटे की शादी को लेकर परेशान रहते थे।
... और पढ़ें
टेक्सारी गांव में रोते विलखते परिजन टेक्सारी गांव में रोते विलखते परिजन

मामी से भांजे ने किया दुष्कर्म, जेठ ने बनाया वीडीयो

थरियांव(फतेहपुर)। थरियांव थाना क्षेत्र में एक महिला के साथ रिश्ते में भांजे ने दुष्कर्म किया और जेठ ने वीडियो बना डाला। वीडियो वायरल करने की धमकी देकर महिला से तीन लाख के जेवरात और चालीस हजार रुपये वसूल लिए। घटना के बारे में किसी को कुछ बताने पर भाई और पति की हत्या करने की धमकी दी। पुलिस रिपोर्ट दर्ज कर जांच में जुटी है।
थाना क्षेत्र के एक गांव की महिला का पति गुजरात में प्राइवेट नौकरी करता है। महिला का आरोप है कि वह 24 नवंबर की रात करीब 11 बजे घर के बाहर बने शौचालय गई थी। लौटने पर रिश्ते में भांजा आशीष उर्फ मोनू निवासी बिजौली थाना बकेवर व गांव के अश्वनी दुबे (पारिवारिक जेठ) घर के बाहर खड़े थे। उसने दोनों से आने
की वजह पूछी। तभी अश्वनी ने कनपटी पर तमंचा सटा दिया। मोनू उसे कमरे में घसीट ले गया और दुष्कर्म किया। इसी दौरान अश्वनी ने उसका वीडियो बना लिया। आरोपी कई महिलाओं के साथ ऐसी घटनाएं कर चुके हैं। थानेदार उपेंद्र नाथ राय ने बताया कि महिला की ओर से रविवार को शिकायत की गई है। आरोपियों के खिलाफ दुष्कर्म, लूट, धमकी की रिपोर्ट दर्ज की गई है। मामले की जांच के बाद कार्रवाई होगी।
... और पढ़ें

अराजक तत्वों ने स्कूल में बंद किए अन्ना मवेशी

खागा। विजयीपुर ब्लाक के त्रिलोचनपुर में ग्रामीणों ने अन्ना मवेशियों को परिषदीय विद्यालय में बंद कर दिया। ग्रामीणों की सूचना पर पहुंचे तहसीलदार ने अन्ना मवेशियों को स्कूल से बाहर निकलवाया और लोगों को चिह्नित कर एफआईआर कराने के निर्देश दिए हैं।
विजयीपुर ब्लाक के त्रिलोचनपुर गांव स्थित इंग्लिश मीडियम स्कूल में शनिवार की शाम से अन्ना मवेशियों का झुंड आकर जमा हो गया। यह सिलसिला रविवार को भी जारी रहा। मवेशियों की भीड़ से स्कूल परिसर में गंदगी फैल गई। कुछ लोगों इसकी सूचना फोन से एसडीएम खागा को दी। तब तहसीलदार शशिभूषण कोतवाली पुलिस
को लेकर वहां पहुंचे। तहसीलदार ने पुलिस टीम ने ग्रामीणों की मदद से अन्ना मवेशियों को स्कूल से ले जाकर गोशाला में पहुंचाया। किसानों ने बताया कि जानवर उनकी फसलों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। इसलिए उन्हें हांक कर स्कूल में किसी ने बंद कर दिया है। एसडीएम विजयशंकर तिवारी ने बताया कि गांव के दो व्यक्तियों को चिह्नित
किया गया है। इन लोगों ने जानबूझकर स्कूल की ओर मवेशियों को हांका और परिसर में उन्हें रोक दिया। पुलिस को कार्रवाई करने के लिए कहा गया है। विद्यालय के चारों ओर बाउंड्रीवाल है, जिसे मवेशी फांद नहीं सकते। लिहाजा बाकायदा दरवाजे का ताला खोलकर जानवरों को स्कूल में बंद करवाया गया। ग्रामीणों का कहना था कि
जिन लोगों ने ताला खोला, उन्हें स्कूल की चाभी प्रधानाचार्य ने ही उपलब्ध कराई। जिससे इस काम में प्रधानाचार्य की भी भूमिका साबित होती है। एसडीएम खागा विजय शंकर तिवारी ने बताया कि इस मामले में विद्यालय की प्रधानाचार्य पर कार्रवाई के लिए खंड शिक्षा अधिकारी और चिह्नित लोगों पर कार्रवाई करने के लिए पुलिस को निर्देश दिए गए हैं। एसडीएम ने कहा कि ऐसे कार्यों की पुनरावृत्ति करने वालों पर कठोर कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

मुख्यमंत्री का पुतला फूंक, प्रदेश सरकार के विरोध में की नारेबाजी

फतेहपुर। उन्नाव प्रकरण पर जिलेभर में पार्टी व संगठन के लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया। हैदराबाद के आरोपियों की तरह सजा दिलाने की आवाज उठाई। दो मिनट का मौन रख कर आत्मा शांति के लिए भगवान से प्रार्थना की। वहीं प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।
जिला कांग्रेस कमेटी ने पार्टी कार्यालय बुलेट चौराहा में मुख्यमंत्री का पुतला फूंका। कांग्रेसियों ने सीएम के खिलाफ नारेबाजी की। उन्नाव की बेटी को तुरंत न्याय दिलाने की आवाज उठाई। कांग्रेस नेता शिवाकांत तिवारी ने कहा कि सरकार अपराधियों को संरक्षण दे रही है। पुलिस के जिन अधिकारियों ने कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष पर लाठी
चार्ज किया है। उसको तुरंत गसिरफ्तार किया जाए। इस मौके पर संतोष कुमारी शुक्ला, विनय तिवारी, वीरेंद्र सिंह, उदित अवस्थी, राजन तिवारी, आशीष गौड़, गगन प्रताप सिंह, वीरेंद्र गुप्ता, अशोक दुबे, बबलू कालिया मौजूद रहे। बहुआ प्रतिनिधि के अनुसार कांग्रेस की महिला जिलाध्यक्ष व गुलाबी गैंग लोकतांत्रिक की मुखिया हेमलता पटेल ने कस्बा के गाजीपुर रोड में सुजानपुर के पास मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पुतला फूंका। इस मौके पर रेख, सुधा,
प्रीति, संयोगिता, रंजना, सरला सिंह, कैलाशा देवी, सत्यवती, सुमन, रामा मौजूद रहीं। थरियांव प्रतिनिधि के अनुसार सातो बाजार में ग्रामीणों ने दुष्कर्म पीड़िता की आत्मा शांति के लिए दो मिनट का मौन रखा और आत्माशांति की भगवान से प्रार्थना की। इस मौके पर कामता प्रसाद शुक्ला, महेंद्र सिंह, शिवपूजन सिंह, दिनेश सोनी, शशिकरन
सिंह, तुराब अली, संतोष सिंह, अशोक मिश्रा, इंद्रसेन सोनी, भारत सिंह, मुन्ना गुप्ता, सूरजभान मौर्य, रंजेश यादव मौजूद रहे हैं। धाता प्रतिनिधि के अनुसार हैदराबाद की मृतका व उन्नावकांड की मृतका का दीपनारायण चौराहा से कैंडल मार्च निकाला। पुलिस व अदालत से दोषियों को सजा दिलाने की आवाज उठाई। साथ ही हैदराबाद पुलिस के जैसे कठोर कदम उठाने का मुद्दा उठाया। इस मौके पर मुकेश सिंह, संदीप सिंह, चंदन सिंह, मार्कंडेय, बाबूलाल गुप्ता, भानुप्रताप केशरवानी, अनुपम सिंह मौजूद रहे।
... और पढ़ें

अवैध खनन मिटा रहा ऐतिहासिक टीले का वजूद

बिंग्रेस कार्यालय के बाहर मुख्यमंत्री का पुतला फूंकते कांग्रेसी
हसवा। थरियांव थाना क्षेत्र के बिलंदा कस्बे में 22.5 एकड क्षेत्रफल में बने ऐतिहासिक टीले का अस्तित्व समाप्त होने के कगार पर है। यहां पखवारे भर से रात में चोरी छिपे खनन हो रहा है। पुलिस और राजस्व की मिलीभगत से खनन माफिया ऐतिहासिक टीले का तीस प्रतिशत हिस्सा गायब कर चुके हैं। टीले के नीचे प्राचीन काल की मूर्तियां निकल रहीं है।
जीटी रोड से महज दो सौ मीटर की दूरी पर राजा बरार सिंह का किला था, जिसे मौजूदा समय में बरारी भीट कहते हैं। लोग बताते है कि यह टीला करीब पांच सौ साल पहले का है। हाइवे चौड़ीकरण का काम करा रहे ठेकेदार इस टीले का अस्तित्व समाप्त करने ंमे लगे हैं। रात में डंपर में मिट्टी लादकर विभिन्न स्थानों पर डाल रहें हैं। बिलंदा निवासी ओमप्रकाश गुप्ता, सुधीर तिवारी, राहुल आदि ने बताया कि इस टीले का अधिकतर भाग ग्राम समाज का है।
खनन माफिया स्थानीय पुलिस व राजस्व को मिलाकर ग्रामीणों की आंखों मे धूल झोंक रहा है। खुदाई में प्राचीन काल की भगवान राम, लक्ष्मण व सीता की मूर्तियां निकलने से लोगों की आस्था इस टीले के प्रति और बढ़ गई है। लोगों ने बताया कि खुदाई में भगवान बुद्ध व अन्य बहुत देवताओं की खंडित मूर्तियां निकली है। भीट के बगल के रहने वाले भोले उर्फ शंकर ने इन मूर्तियों को एक पीपल के पेड़ के नीचे रख दिया है। जिन्हें सब लोग जल चढ़ाकर पूजा कर रहें हैं।
प्रभारी थानाध्यक्ष उपेंद्र नाथ राय का कहना है कि मामले की जानकारी नही है। सिपाहियों को भेजकर मामला दिखाया जाएगा। यदि मौके पर कुछ मिलता है तो वाहनों को सीज किया जायेग।
सदर एसडीएम प्रमोद झा का कहना है कि मामला संज्ञान में है। ठेकेदार को टीले की खुदाई न करने के संबंध में निर्देशित किया जा चुका है। टीले के अतिरिक्त अन्य कहीं जमीन लेकर विधिक तरीके से खुदाई करा सकते हैं। फिर भी यदि टीले से खनन किया गया है तो इसकी जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

्रक की टक्कर से बाइक सवार घायल महिला की मौत

बहुआ/शाह। गाजीपुर थाना क्षेत्र के बांदा-टांडा हाईवे पर शाह कस्बे में ठाकुर शिवप्रताप मेमोरियल स्कूल के पास तेज रफ्तार मौरंग लदे ट्रक ने बाइक सवार किसान दंपति को पीछे से टक्कर मार दी। टक्कर लगने से महिला गंभीर रूप से घायल हो गई। कानपुर ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई।
गाजीपुर थाना क्षेत्र के रसूलपुर निवासी मुकेश कुमार सिंह पत्नी संगीता देवी (36) को बाइक से फतेहपुर इलाज कराने जा रहा था। बाइक सवार जैसे ही शाह में शिवप्रताप सिंह मेमोरियल स्कूल के सामने पहुंचे, पीछे आ रहे मौरंग लदे ट्रक ने जोरदार टक्कर मार दिया। टक्कर लगने से पति उछलकर दूर जा गिरा, जबकि सड़क पर गिरी पत्नी के दोनों पैर ट्रक के पहिए से कुचल गए। पुलिस ने घायल को जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां से कानपुर
हैलट के लिए रेफर किया गया। महिला की कानपुर ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई। हेलमेट लगा होने से पति बाल-बाल बच गया। महिला की तीन बेटियां रंजना देवी (12), ननकी (7), काजल (3) और एक बेटा शिवपूजन (10) हैं। महिला की मौत से परिवार में कोहराम मचा है। बेटे और बेटियों का रो-रोकर हालबेहाल है। महिला का मायका गाजीपुर थाने के सिमौर गांव है। उसकी शादी 2003 में हुई थी।
... और पढ़ें

किशोरी की मौत में पिता समेत चार पर हत्या की एफआईआर

फतेहपुर। थरियांव थाना क्षेत्र के खोजवा रसूलपुर गांव में रविवार को किशोरी का शव कमरे में फंदे पर लटकता मिला। मां ने पति व भतीजों पर छह बीघा जमीन के लिए बेटी को मार डालने का आरोप लगाया। करीब एक घंटे तक शव नहीं उठाने दिया गया। मां की तहरीर पर पिता और किशोरी के तीन चचेरे भाइयों पर हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस ने पति को हिरासत में लिया है।
गांव निवासी रामऔतार लोधी लोधी किसान है। पिता का कहना है कि शनिवार की रात वह बरामदे में लेटा था। बेटी रेशमा देवी (17) कमरे में थी। सुबह करीब साढ़े छह बजे कमरे का दरवाजा न खुलने पर वह छत के रास्ते धन्नी हटाकर देखा तो बेटी फांसी के फंदे पर लटकी थी। रामऔतार की पत्नी लीलावती कई साल से पति से अलग हथगाम थाना क्षेत्र के हरदासपुर गांव निवासी भिक्खू के साथ रहती है। गांव पहुंची लीलावती ने बताया कि पति मारपीट कर बेटी को प्रताड़ित करते थे। करीब दस साल से वह बेटी को लेकर भिक्खू के साथ रह रही है। पति अक्सर बेटी से मिलने हरदासपुर आता-जाता रहता था। करीब पांच साल पहले रेशमा को गांव लेकर आ गया था। लीलावती ने आरोप लगाया कि रेशमा इकलौती बेटी थी। उसे पैतृक गांव में छह बीघे जमीन मिलनी थी। पति शराब की लत के चलते जमीन बड़े भाइयों के बेटों को देना चाहते हैं। अब बेटी पिता के साथ रहती थी। जिससे जमीन बेटी को मिलती। इसी वजह से पति और जेठ के बेटों ने बेटी की हत्या कर दी। आत्महत्या दर्शाने को शव फंदे पर लटका दिया। घटना के बाद जेठ के बेटे भाग निकले। ग्रामीणों ने रिपोर्ट दर्ज कराने की मांग को लेकर पुलिस को शव उठाने से रोक दिया। हंगामा बढ़ने पर सीओ सिटी केडी मिश्र, सीओ थरियांव राम प्रकाश, हथगाम थानेदार एके मिश्रा, खागा कोतवाल परशुराम पहुंचे। लीलावती की तहरीर पर पुलिस ने पति रामऔतार, पड़ोसी सुधवां गांव निवासी जेठ बोधन के बेटे सर्वेश, संदीप और शिवाकांत के बेटे रमेश पर हत्या की रिपोर्ट दर्ज की है। करीब दस बजे पुलिस शव कब्जे में ले सकी। सीओ थरियांव ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही आत्महत्या या हत्या स्पष्ट होगी। पिता को हिरासत में ले लिया गया है।
... और पढ़ें

्रक की टक्कर से बाइक सवार घायल महिला की मौत

फोटो-20- पोस्टमार्टम हाउस में मौजूद पति और परिजन
26- संगीता का फाइल फोटो
ट्रक की टक्कर से महिला की मौत
हेलमेट ने पति की बचाई जान, बांदा-टांडा हाईवे पर शाह कस्बे के पास हुआ हादसा
संवाद न्यूज एजेंसी
बहुआ/शाह। गाजीपुर थाना क्षेत्र के बांदा-टांडा हाईवे पर शाह कस्बे में ठाकुर शिवप्रताप मेमोरियल स्कूल के पास तेज रफ्तार मौरंग लदे ट्रक ने बाइक सवार किसान दंपति को पीछे से टक्कर मार दी। टक्कर लगने से महिला गंभीर रूप से घायल हो गई। कानपुर ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई।
गाजीपुर थाना क्षेत्र के रसूलपुर निवासी मुकेश कुमार सिंह पत्नी संगीता देवी (36) को बाइक से फतेहपुर इलाज कराने जा रहा था। बाइक सवार जैसे ही शाह में शिवप्रताप सिंह मेमोरियल स्कूल के सामने पहुंचे, पीछे आ रहे मौरंग लदे ट्रक ने जोरदार टक्कर मार दिया। टक्कर लगने से पति उछलकर दूर जा गिरा, जबकि सड़क पर गिरी पत्नी के दोनों पैर ट्रक के पहिए से कुचल गए। पुलिस ने घायल को जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां से कानपुर हैलट के लिए रेफर किया गया। महिला की कानपुर ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई। हेलमेट लगा होने से पति बाल-बाल बच गया। महिला की तीन बेटियां रंजना देवी (12), ननकी (7), काजल (3) और एक बेटा शिवपूजन (10) हैं। महिला की मौत से परिवार में कोहराम मचा है। बेटे और बेटियों का रो-रोकर हालबेहाल है। महिला का मायका गाजीपुर थाने के सिमौर गांव है। उसकी शादी 2003 में हुई थी।
... और पढ़ें

अनदेखी: एक भी दिन नहीं चले ब्लड स्टोरेज सेंटर

फतेहपुर। रक्त की जरूरत को मौके पर पूरी करने की मंशा से खोले गए तीन ब्लड स्टोरेज सेंटर एक कदम भी नहीं चल सके हैं। तीन साल का वक्त गुजरने के बावजूद अभी तक एक भी सेंटर वजूद में नहीं आ सका है। इन सेंटर के काम न करने से स्थानीय लोगों को खून के लिए पहले की तरह जिला मुख्यालय या फिर कानपुर अथवा प्रयागराज का रुख करना पड़ रहा है। यह स्थिति तब है, जब बाकायदा हरेक साल 25-25 हजार रुपये का बजट जारी हो रहा है।
फरवरी 2016 में बिंदकी, हरदो (खागा) और हथगाम में एनएचएम के सहयोग से उत्तर प्रदेश एड्स राज्य नियंत्रण सोसाइटी के ब्लड स्टोरेज सेंटर खोले गए थे। चूंकि यह तीनों प्वाइंट बड़े हैं। लिहाजा इन क्षेत्रों की आबादी को लाभ देने का यह एक अहम जरिया हो सकते थे। मगर ऐसा हुआ नहीं। इतना वक्त बीतने के बावजूद एक भी
ब्लड स्टोरेज सेंटर चलता नहीं नजर आ सका है। जबकि इनकी 50-50 यूनिट ब्लड स्टोर की क्षमता है। बकायदा इसके लिए डीप फ्रीजर और माइक्रोस्कोप जैसी व्यवस्थाएं दे रखी गईं हैं। ब्लड बैंक के लैब टेक्नीशियन अशोक शुक्ल की मानें तो ब्लड स्टोरेज सेंटर के जरिए कलेक्ट होने वाले ब्लड को जांच के लिए ब्लड बैंक भेजना जरूरी होता है। ऐसे में इन सेंटर की जनता पहले की तरह खून की जरूरत लेकर आ रही है।
प्रत्येक सेंटर में दो लैब टेक्नीशियन और एक-एक लैब अटेंडेंट की नियुक्ति भी है। चूंकि सेंटर काम नहीं कर रहे हैं। लिहाजा यह नियुक्ति फिलहाल बेमकसद हैं। बिंदकी के लैब टेक्नीशियन को सदर अस्पताल के ब्लड बैंक में लगाया गया है। खागा के भी लैब टेक्रीशियन से सदर अस्पताल में सेवाएं ली जा रही हैं। हथगाम का भी सेंटर कर्मी, दूसरे काम को फिलहाल अंजाम दे रहा है।
... और पढ़ें

खुशखबरी: अब तिरहार के बच्चों की भी ठीक से होगी खैरख्वाही

फतेहुपर। पोषण पुनर्वास केंद्र की तर्ज पर मुख्यमंत्री सुपोषण गृह का आगाज होने की तैयारी है। बाल एवं पुष्टाहार विभाग का यह प्रोजेक्ट भी कुपोषित बच्चों को पोषित करने का काम करेगा।इसके लिए जगह का चयन कर लिया गया है। आईपीडी यानी की अंत: रोगी विभाग की सुविधाएं भी मुहैया हो चुकी है। अब केवल स्टॉफ की दरकार है। इस प्रोजेक्ट के काम करने से दोआबा के अति पिछड़े इलाके में शुमार यमुना पट्टी का कुपोषण दूर करने में मदद मिलेगी।
फिलवक्त चार साल से सदर अस्पताल में पोषण पुनर्वास केंद्र संचालित है। इस केंद्र में अक्टूबर महीने तक 186 बच्चों को पोषित करने का काम हुआ है। जाहिर सी बात है कि इस केंद्र की तरफ बिंदकी तहसील खासकर तिरहार इलाके के बच्चों को लाने में कामयाबी नहीं मिल रही है। इसी के मद्देनजर प्रदेश सरकार ने मुख्यमंत्री सुपोषण गृह
के रूप में इस जिले को दूसरी उपलब्धि देने को न केवल हरी झंडी दे रखी है बल्कि बेड समेत आईपीडी में प्रयुक्त होने वाले जरूरी उपकरण और साज सज्जा का समान मुहैया कराया जा चुका है। सुपोषण बनाने का यह नया ठिकाना अमौली सीएचसी में खुलना है। दस बेड के मुख्यमंत्री सुपोषण गृह में भी वही सेवाएं मिलेगी जो पोषण
पुनर्वास केंद्र के जरिए दी जा रही हैं। मसलन, पांच लोगों के स्टाफ में चाइल्ड स्पेशलिस्ट संग न्यूट्रीशियन की भी नियुक्ति शामिल है। बाल एवं पुष्टाहार विभाग के उदय मिश्र मानते हैं कि जिला मुख्यालय से अमौली की दूरी साठ किलोमीटर के आसपास होने की वजह से वहां के एक भी कुपोषित बच्चे का अभिभावक नहीं चाहता कि वह 14 दिन के लिए आकर रुके। अब जबकि अमौली सीएचसी में मुख्यमंत्री सुपोषण गृह की व्यवस्था होने जा रही है,ऐसे में तिरहार की इस सुविधा से वंचित हो रही आबादी का भी आच्छादित होना तय है।
यह प्रोजेक्ट बाल एवं पुष्टाहार विभाग का है। लिहाजा इस बारे में वही विस्तार से बता सकते हैं। इस केंद्र के खुलने से तिरहार में जारी कुपोषण की लड़ाई को आसानी से लडने में अच्छी खासी मदद मिल सकेगी।
- डॉ. उमाकांत, सीएमओ
मुख्यमंत्री सुपोषण गृह के संचालन की काफी प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। महज स्टाफ की नियुक्ति भर बाकी रह गई है। शासन को लिखा गया है। स्टॉफ का इंतजार किया जा रहा है। जो शीघ्र ही मिलने की संभावना है।
- जया त्रिपाठी, डीपीओ
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election