विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

लखनऊः भाजपा का स्थापना दिवस कल, लेकिन इस बार छाया है कोरोना का संकट

भाजपा के स्थापना दिवस पर भी कोरोना संकट के बादल छा गए हैं।

5 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

जौनपुर

रविवार, 5 अप्रैल 2020

बेवजह घूमते बाइक सवार का चालान, एक बाइक सीज

जौनपुर। कोरोना के दो नए मरीज मिलने के बाद जिला प्रशासन सतर्क हो गया है। शुक्रवार को डीएम-एसपी खुद लॉक डाउन का पालन कराने शहर की सड़कों पर उतरे। इस दौरान बेवजह घूमते मिलने वालों को कड़ी फटकार लगाई। एक बाइक सीज को कराया जबकि एक अन्य बाइक का चालान किया गया।
निरीक्षण के दौरान डीएम सद्भावना पुल पहुंचे। यहां एक व्यक्ति बाइक पर जा रहा था। रोककर पूछताछ की गई तो वह बाहर आने का समुचित उत्तर नहीं दे सका। वह किसी अन्य व्यक्ति की बाइक लिए हुए था, जिस पर प्रेस लिखा था। अनधिकृत रुप से प्रेस लिखकर बाइक दौड़ाने के आरोप में डीएम के निर्देश पर उसकी बाइक सीज कर दी गई। इसी तरह कृष्णा हार्ट केयर में काम करने वाले विनय को गलत तरीके से नंबर प्लेट लगाने पर बाइक का चालान किया गया। डीएम ने सभी से लॉक डाउन के दौरान घरों से बाहर न निकलने की अपील की। कहा कि अगर कोई नियमों को उल्लंघन करते बेवजह घूमते पकड़ा जाता है तो उस पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

लाल दरवाजा, बड़ी मस्जिद सैनिटाइज, बढ़ाई गई सतर्कता

जौनपुर। कोरोना के दो मरीजों के मिलने के बाद लाल दरवाजा, बड़ी मस्जिद आदि क्षेत्रों में चौकसी बढ़ा दी गई है। आसपास के क्षेत्र को शुक्रवार को सैनिटाइज किया गया। इलाके में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है और हर किसी को घर में ही रहने की हिदायत दी गई है। पॉजीटिव पाए गए दोनों मरीज करीब एक पखवाड़े तक इसी क्षेत्र में रहे हैं। दोनों को जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर उपचार शुरू किया गया है, उनके 14 अन्य साथियों पर निगरानी बढ़ा दी गई है। इन्हें अभी शिया कॉलेज के क्वारंटीन सेंटर में रखा गया है।
शहर के लाल दरवाजा मस्जिद के समीप एक मकान से मंगलवार को पुलिस ने दिल्ली की निजामुद्दीन की तबलीगी जमात से लौटे 14 बांग्लादेशी समेत 16 लोगों को पकड़ा था। ये गोपनीय ढंग से यहां रहकर धर्म प्रचार कर रहे थे। स्वास्थ्य विभाग ने सभी को क्वारंटीन करते हुए सैंपल लेकर जांच को बीएचयू भेजा था। गुरुवार की देर शाम आई रिपोर्ट में दो की रिपोर्ट पॉजीटिव आई है। इसमें एक बांग्लादेशी नागरिक और दूसरा उसका गाइड झारखंड के रांची का निवासी है। रिपोर्ट आने के बाद से ही दोनों को क्वारंटीन सेंटर से निकालकर जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया। उसके बाद उसके अन्य साथियों के सेहत पर निगरानी बढ़ा दी गई। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के मुताबिक सैंपल लेते समय किसी को सर्दी-खांसी जैसे सामान्य लक्षण भी प्रकट नहीं हो रहे थे। अब उनमें से दो की रिपोर्ट पॉजीटिव होने के बाद लोग सहम गए हैं। आशंका जताई जा रही है कि करीब पंद्रह दिनों तक साथ रहने वाले अन्य जमातियों में भी कोरोना का संक्रमण हो सकता है, जो बाद में स्पष्ट हो। उधर, शुक्रवार को नगर पालिका की टीम ने लाल दरवाजा, बड़ी मस्जिद, शिया कॉलेज व आसपास के क्षेत्र को सैनिटाइज किया। चौदह मार्च को दिल्ली से आने के बाद जमाती पहले कुछ दिनों तक बड़ी मस्जिद में रहे। लॉक डाउन होने के बाद वह लाल दरवाजा मस्जिद के सामने स्थित मकान में चले गए थे।
बगल में रहने वाले आठ लोग किए गए क्वारंटीन
लाल दरवाजा के जिस मकान में बांग्लादेशी नागरिक समेत सभी 16 जमाती शरण लिए हुए थे, उसी के बगल में रहने वाले आठ लोगों को प्रशासन ने शुक्रवार को क्वारंटीन में रख दिया है। आजमगढ़ जिले के देवगांव क्षेत्र का परिवार भी यहां किराए के मकान में रहता है। इनमें तीन महिलाएं और पांच पुरुष हैं। इनकी थर्मल स्क्रीनिंग की गई, जिसमें इनकी तबीयत सामान्य मिली है। इन्हें भी 14 दिनों तक क्वारंटीन में रखकर निगरानी की जाएगी।
दिल्ली से महामना एक्सप्रेस से आए थे जमाती
चौदह बांग्लादेशी नागरिक अपने दोनों गाइड के साथ निजामुद्दीन की तब्लीगी जमात में शामिल होने के बाद 14 मार्च को महामना एक्सप्रेस से जौनपुर पहुंचे थे। सूत्रों के मुताबिक यहां सभी ने पहले बड़ी मस्जिद में शरण ली। कुछ दिन तक वह यहीं रहे। इसी बीच लॉक डाउन में मस्जिद खाली होने पर सभी लाल दरवाजा स्थित मकान में गए थे। संकरी गली में मौजूद मकान के आसपास के लोग भी सहमे हुए हैं। हालांकि राहत की बात है कि यहां रहने के दौरान सभी के कहीं बाहर आने-जाने की बात अब तक सामने नहीं आई है।
08- लालदरवाजा स्थित मदरसे के गेट चेक करने के लिए पंहुचे पुलिस के जवान।
08- लालदरवाजा स्थित मदरसे के गेट चेक करने के लिए पंहुचे पुलिस के जवान।- फोटो : JAUNPUR
... और पढ़ें

शाहगंज में मिले चार जमाती, क्वारंटीन में भेजे गए

शाहपुर। दिल्ली के निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात से लौटे चार युवक फिर सामने आए हैं। यह शाहगंज व आसपास के क्षेत्रों के निवासी हैं। सभी को स्वास्थ्य परीक्षण के बाद सर सैयद इंटर कॉलेज में बने आश्रय स्थल में क्वारंटीन के लिए रखा गया है। यह युवक गुरुवार को मिले 11 अन्य युवकों के साथ ही जमात में शामिल हुए थे।
तब्लीगी जमात में शामिल लोगों में कोरोना के संक्रमण मिलने के बाद उनकी तलाश हो रही है। गुरुवार को शाहगंज में 11 युवकों को चिह्नित करते हुए क्वारंटीन में भेज दिया गया था। उनसे पूछताछ से मिली जानकारी के आधार पर जमात में शामिल उनके चार अन्य साथियों को भी घरों से बुलाया गया। सर सैयद इंटर कॉलेज परिसर में बने आश्रय स्थल में सभी की स्वास्थ्य जांच हुई। इसके बाद उन्हें 14 दिन के क्वारंटीन में रहने का निर्देश दिया गया। इन चार युवकों में दो शाहगंज, एक सुल्तानपुर और एक आजमगढ़ के सीमावर्ती क्षेत्र का है। यह सभी 15 मार्च को जमात में थे। वहां से मेरठ के सरधना होते हुए एक सप्ताह पूर्व घर आए थे। बता दें कि जिले में अब तक विभिन्न क्षेत्रों से 14 बांग्लादेशी समेत 105 लोगों की पहचान हुई है, जो जमात में शामिल हुए थे। इनमें दो की रिपोर्ट पॉजीटिव होने के कारण उन्हें आइसोलेशन में रखा गया है। अन्य सभी को क्वारंटीन में रखकर निगरानी की जा रही है।
... और पढ़ें

पुलिस ने अस्पताल जाने से रोका, शिक्षक की मौत

जौनपुर। दवा-उपचार के लिए लॉकडाउन में भी किसी को न रोने जाने के निर्देश के बावजूद पुलिस मनमानी कर रही है। पुलिस की इस मनमानी से ही प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक की समय से उपचार के अभाव में मौत हो गई। घरवालों का आरोप है कि प्रयागराज सीमा पर तैनात पुलिसकर्मियों ने मरीज को लेकर जिले से बाहर जाने नहीं दिया। नतीजा समय से उपचार के अभाव में मरीज ने दम तोड़ दिया। मामला बक्शा थाना क्षेत्र के धनियामऊ गांव का है। हालांकि पुलिस के अफसर इससे साफ तौर पर इंकार कर रहे हैं।
बक्शा थाना क्षेत्र के धनियामऊ गांव निवासी अमरनाथ यादव (55) प्राथमिक विद्यालय बेलहटा में प्रधानाध्यापक के पद पर तैनात थे। उन्हें हार्ट की बीमारी थी। उनका उपचार प्रयागराज मेडिकल चौराहे के निकट स्थित सरस्वती हार्ट केयर सेंटर से चल रहा था। गुरुवार को अचानक उनके सीने में दर्द शुरू हुआ तो परिवार के लोग निजी वाहन से लेकर प्रयागराज जाने लगे। जौनपुर के मुंगराबादशाहपुर और प्रयागराज के फूलपुर थाने की सीमा पर पहुंचे थे तभी पुलिस ने उन्हें रोक लिया। परिवार के लोगों का आरोप है कि उन्होंने अस्पताल का पर्चा और गाड़ी में गंभीर अवस्था में मरीज को दिखाया फिर भी वहां की पुलिस पर कोई असर नहीं पड़ा। सारी कोशिश नाकाम हो गई तो घर वाले मायूस होकर मरीज को लेकर जौनपुर लौट आए। शहर के एक निजी अस्पताल ले गए, जहां उपचार शुरू होने के कुछ देर बाद ही उनकी मौत हो गई। मृतक के भतीजे दीनानाथ यादव का कहना है कि जिस स्थान पर पुलिस ने आगे जाने से रोक दिया वहां से अस्पताल की दूरी महज 40 किलोमीटर थी। करीब आधे घंटे का समय पुलिस चेक पोस्ट पर ही बीत गया। बाद में वहां से 60 किलोमीटर दूर जिला मुख्यालय के अस्पताल पहुंचे तो काफी देर हो चुकी थी। जहां उपचार शुरू होने के कुछ देर बाद ही उनकी मौत हो गई। अमरनाथ अपने परिवार में अकेले कमाने वाले थे। उनकी पत्नी प्रभावती देवी, बेटा राहुल, दीपक समेत अन्य सदस्यों का रो-रोकर बुरा हाल है।
लॉकडाउन में किसी मरीज को या फिर दवा लेने के लिए कोई मेडिकल पर जा रहा है तो उसे पुलिस नहीं रोक सकती। यह निर्देश सरकार की ओर से भी जारी किया गया है। जिले के सभी थानेदारों को इसका पालन करने के निर्देश दिए गए हैं। प्रयागराज जिले की पुलिस ने ऐसा किया है तो गलत है।
-डॉ. अनिल पांडेय, एएसपी सिटी, जौनपुर।
... और पढ़ें

मारपीट में सास की मौत, बहू समेत चार पर केस

खुटहन। थाना क्षेत्र के बनहरा गांव में शनिवार को सास-बहू के बीच विवाद के दौरान चोट लगने से वृद्ध सास की मौत हो गई। पुलिस ने बहू, उसके पिता, भाई समेत चार लोगों पर गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज कर शव को पोस्टमार्टम को भेज दिया है। घटना के बाद से सभी आरोपी फरार हैं।
बनहरा गांव निवासी रामबहाल प्रजापति का पुत्र प्रदीप दिल्ली में रहकर रोजगार करता है। रामबहाल की पत्नी जड़ावती देवी (66) और बहू कनकलता में शनिवार को पारिवारिक विवाद में कहासुनी होने लगी। विवाद इस कदर बढ़ा कि बहू ने फोन कर मायके से अपने पिता और भाइयों को बुला लिया। कहासुनी के बाद हाथापाई और मारपीट शुरू हो गई। आरोप है कि इसी दौरान जड़ावती को गंभीर चोट आ गई। उसे चिकित्सालय ले जाया जा रहा था, मगर रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव कब्जे में ले लिया। एसओ जगदीश कुशवाहा ने बताया कि मृतका के पति रामबहाल की तहरीर पर पुलिस ने बहू कनकलता और सुल्तानपुर जिले के दोस्तपुर थाना क्षेत्र के बढ़ौली गांव निवासी उसके पिता संतराम, भाई शैलेश और चंद्रप्रकाश के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

गैरों को बनाया मुर्गा, अपने मिले तो कन्नी काट गए अफसर

जौनपुर। लॉकडाउन में शहर का हाल जानने के लिए निकले पु लकिस अफसरों का भेदभाव वाला चेहरा उजागर हुआ। भंडारी रेलवे स्टेशन से लेकर कोतवाली तक पुलिस के कई अफसर पुलिस बल के साथ भ्रमण किए। इस दौरान सड़क पर बे वजह घूमते मिले क इयों को कान पकड़कर उठक बैठक कराई गई और मुर्गा भी बनाया गया। लेकिन इसी दौरान पुलिस महकमें के लोग ही कानून तोड़ते दिखे तो अफसर भी कन्नी काट गए।
शनिवार को दोपहर पुलिस अफसर भंडारी रेलवे स्टेशन से पैदल निकलकर कोतवाली की तरफ आ रहे थे। जिला अस्पताल के निकट पहुंचे थे तभी सामने आ रही बिना नंबर प्लेट लगी काले रंग की काली फिल्म लगी स्कार्पियो को सीओ सिटी ने रोक लिया। काली फिल्म लगी होने के कारण बाहर से कुछ भी नहीं दिखाई दे रहा था कि गाड़ी के अंदर कौन लोग बैठे हैं। नंबर प्लेट की जगह सिर्फ पुलिस का लोगो और पुलिस लिखा था। गाड़ी रुकी तो चालक के बायीं तरफ आगे की सीट पर बैठा सख्स जब दरवाजा खोलकर बाहर निकला तो वह कोई और नहीं जलालपुर थानाध्यक्ष पन्नेलाल थे। बाहर निकलते ही उन्होंने जय हिंद बोलते हुए सीओ को सैल्यूट किया।
सीओ ने गाड़ी में काली फिल्म क्यों लगी है पूछा तो उन्होंने बस इतना कहा कि सर काली फिल्म उतर जाएगी। इतने में पुलिस का काफिला आगे निकल गया और एसओ पन्नेे लाल उसी रुतबे के साथ गाड़ी में बैठे और आगे के लिए रवाना हो गए। काली फिल्म लगी बिना नंबर प्लेट की स्कार्पियो को रोकने और उसमें से एसओ के निकलकर सीओ से बातचीत का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिससे पुलिस के इस भेदभाव वाले रवैये पर लोग खूब चर्चा कर रहे हैं। इस संबंध में सीओ सिटी सुशील कुमार सिंह का कहना है कि गाड़ी में जलालपुर के एसओ पन्नेलाल थे। उन्होंने अपनी गलती मानी है। काली फिल्म उतारकर नंबर प्लेट लगवाने को कहा है।
... और पढ़ें

लॉक डाउन ने सुधारी शहर की आबोहवा

जौनपुर। करीब 12 दिनों से जारी लॉक डाउन से सिर्फ लोगों की ही नहीं, शहर की हवा की सेहत सुधरी है। वायु गुणवत्ता सूचकांक लगातार अच्छे स्तर पर बना हुआ है। वातावरण में कार्बनडाई आक्साइड सहित अन्य हानिकारक गैसों की सघनता में भी कमी आई है। सेहत के लिए यह सूचकांक काफी अच्छा माना जा रहा है।
वाहनों के शोर, फैक्ट्री, कारखानों से निकलने वाला धुंआ, धूल-मिट्टी के गुबार से आम दिनों में शहर के अंदर लोग परेशान रहते हैं। शुद्ध हवा के लिए तरसते हैं। सुबह की सैर पर निकलने वालों को भी ताजी हवा की बजाए प्रदूषण का झोंका ही मिलता है। बीमारियां बढ़ने की भी यह एक अहम वजह है। 23 मार्च के बाद से लगातार लॉक डाउन के कारण न वाहनों का शोर हो रहा है और न ही धुंआ, धूल-मिट्टी प्रदूषण फैला रहा है। इसके चलते वायु गुणवत्ता सूचकांक अच्छे स्तर पर पहुंचा है। कृषि विज्ञान केंद्र बक्शा के मौसम वैज्ञानिक डॉ.पंकज जायसवाल के मुताबिक सामान्य दिनों में वाहनों से निकलने वाले धुएं व अन्य कारणों के कारण शहर का वायु गुणवत्ता सूचकांक 125 से 130 तक रहता है। कई बार यह 150 का स्तर भी पार कर जाता है। लॉक डाउन के चलते वायु गुणवत्ता सूचकांक में काफी सुधार हुआ है। यह घटकर 50 के आसपास पहुंच गया है। स्वास्थ्य के लिहाज से यह आंकड़ा काफी अच्छा है।
... और पढ़ें

ड्रोन कैमरे से होगी लॉकडाउन का उलंघन करने वालों की निगरानी

मुंगराबादशाहपुर। बार-बार हिदायतों के बावजूद लॉकडाउन का पालन न करने वालों पर निगरानी के लिए पुलिस ने ड्रोन कैमरा उतार दिया है। कैमरे में बेवजह घूमने वालों की तस्वीर दर्ज होने के बाद पुलिस उसके खिलाफ कार्रवाई करेगी।
लॉकडाउन के कारण लोगों को घरों से बाहर न निकलने का निर्देश दिया गया है। सिर्फ सब्जी, किराना, दवा सहित अन्य जरुरी सामान लेने की लोग घर के बाहर आ सकते हैं। बावजूद तमाम लोग बेवजह घूमने से बाज नहीं आ रहे। समझाने के बाद भी उन पर कोई फर्क नहीं पड़ रहा। पुलिस पहुंच रही है तो वह अंदर घुस जा रहे हैं और उसके वापस जाते ही बाहर घूमने लग रहे हैं। इस पर अंकुश लगाने और लॉक डाउन का कड़ाई से पालन कराने के लिए पुलिस अब ड्रोन कैमरे की मदद ले रही है।
थानाध्यक्ष अरविंद यादव ने बताया कि गलियों में बेवजह घूमने वाले पुलिस को देखते ही घरों में घुस जाते हैं। कई जगह क्रिकेट भी खेलने की खबर मिलती है, मगर पुलिस के पहुंचते ही भाग जाते हैं। ऐसे लोगों की निगरानी के लिए कस्बे में दो ड्रोन कमरों से पुलिस नजर रखेगी। जो भी कैमरे की नजर में लॉक डाउन तोड़ता दिखेगा, उस पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

सामानों के दाम नियंत्रित रखें, ओवररेटिंग करने वालों कार्रवाई तय

जौनपुर। डीएम दिनेश कुमार सिंह ने शनिवार को कोतवाली परिसर में जिले के गल्ला, किराना और सब्जी-फल के व्यापारियों के साथ बैठक में दो टूक शब्दों में कहा कि सभी सामान को निर्धारित दर पर भी भेजा जाए। यदि कोई कालाबाजारी करता पकड़ा गया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
बैठक में डीएम ने व्यापारियों से लॉक डाउन के पहले और बाद के सामानों के दाम की जानकारी ली। डीएम ने कहा कि संकट की इस घड़ी में किसी को भी परेशानी न उठानी पड़े, यह सुनिश्चित करना व्यापारियों की भी सामाजिक जिम्मेदारी है। सभी को उचित दर पर राशन, सब्जी, फल आदि ही बेचें। किसी भी हालत में सामानों में बिक्री ओवर रेटिंग नहीं होनी चाहिए। व्यापारी नेताओं से कहा कि वह अपने-अपने व्यापार क्षेत्र में संपर्क कर सामानों के मूल्य पर नियंत्रण रखें। अगर ओवर रेटिंग करते कोई मिलता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। बैठक में सब्जी व्यापारी मो.शाहिद, मो.जाहिद, रत्ती लाल, मो. आरिफ, ज्ञानचंद, मो.राशिद आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

# Lock down जरूरी सेवा के वाहनों को रोकने पर हेड कांस्टेबल निलंबित

कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए लागू किए लॉक डाउन में जीवनोपयोगी वस्तुओं की आपूर्ति में लगे वाहनों को बेवजह रोकने और उच्चाधिकारियों के आदेशों की अवहेलना पर एसपी ने हेड कांस्टेबल को निलंबित कर दिया है। जानकारी के अनुसार आज़मगढ़ जिले की सीमा पर थाना चंदवक स्थित कनौरा बॉर्डर के पास बैरियर पर हेड कांस्टेबल मनोज उपाध्याय की शनिवार को ड्यूटी थी।

आरोप है कि ड्यूटी के दौरान जरूरी सेवा की आपूर्ति में लगे वाहनों को मनमाने ढंग से रोके रखा गया। उच्चाधिकारियों के आदेश की भी अनदेखी की गई। शिकायत के आधार पर एसपी अशोक कुमार ने शनिवार की शाम हेड कांस्टेबल को निलंबित कर दिया।

सुबह 11 बजे तक ही खुलेंगी दुकानें

लॉक डाउन के दौरान सब्जी, किराना, फल सहित अन्य जरूरी सामान की दुकानें अब सुबह 11 बजे तक ही खुलेंगी। पहले दुकान खोलने का समय दोपहर 12 बजे तक था। डीएम दिनेश कुमार सिंह ने बताया कि यह दुकानें सुबह 16 बजे से 11 बजे तक पूरे जिले में खुलेंगी। दवा की दुकान 24 घण्टे खुली रहेंगी।
... और पढ़ें

हर घर फैलेगा प्रकाश, कोरोना का होगा नाश

जौनपुर। महामारी का रूप ले चुकी कोरोना बीमारी को जड़ से मिटाने के लिए प्रधानमंत्री ने पांच अप्रैल की रात नौ बजे घर के सभी लाइट बंद कर नौ मिनट तक दीया, मोमबत्ती, टॉर्च और मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाने का आह्वान किया है। कोरोना के खिलाफ इस जंग का सहयोगी बनने के लिए हर कोई उत्साहित है। प्रधानमंत्री की अपील पर लोग दीपक और मोमबत्ती जलाने की तैयारियों में जुट गए हैं। लोगों का मानना है कि यह समय पूरी दुनिया के लिए संकट का है। ऐसे में स्वयं, परिवार और समाज को सुरक्षित रखने के लिए हर किसी को जिम्मेदारी निभाने से पीछे नहीं रहना चाहिए। देश को सुरक्षित रखने के लिए सरकार पूरी मुस्तैदी से लगी हुई है। हमें उनका सहयोग करते हुए इस जंग को जीतना होगा। पांच अप्रैल को न सिर्फ खुद दीया जलाएंगे, बल्कि अपने पास-पड़ोस समेत अन्य लोगों को भी इसके लिए प्रेरित करेंगे। जिस तरह हम बुराई के अंधकार को हराने के लिए दीपावली मनाते हैं, उसी तरह कोरोना रूपी अंधकार को मिटाने के लिए भी दीए जलाए जाएंगे।
राजा श्रीकृष्ण दत्त पीजी कॉलेज के प्राचार्य डॉ विष्णु चंद त्रिपाठी ने कहा कि कोरोना को दूर करने के लिए सामाजिक दूरी बनाएं ना कि मन की दूरी। टीडी क़ालेज के डा. अरविंद सिंह ने कह कि कोरोना के खिलाफ पूरी जंग समाज के स्तर पर ही लड़ी जानी है। प्रधानमंत्री बार-बार इसकी याद दिला रहे हैं। पांच अप्रैल की रात नौ बजे नौ मिनट तक दीया जलाने के पीछे का संदेश भी यही है। यह एकजुटता देश को ऊर्जा देगी और मनोबल भी बढ़ाएगी।
... और पढ़ें

अबूझ हालत में विवाहिता की मौत, फांसी के फंदे पर मिला शव

जलालपुर। स्थानीय थाना क्षेत्र के कुशाव गांव में एक विवाहिता की अबूझ हालत में मौत हो गई। उसका शव शुक्रवार को सुबह उसके कमरे में छत के चुल्ले के सहारे फांसी के फंदे पर लटकता पाया गया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।
कुशाव गांव निवासी धर्मेश कन्नौजिया की पत्नी गुंजा देवी(27) रात में खाना खाने के बाद अपने कमरे में सोने के लिए चली गई थी। सुबह उसे बाहर निकलने में देर हुई तो परिजन उसे जगाने के लिए कमरे में गए। कमरे का दृश्य देख लोग चीख पड़े। शोर सुनकर आसपास के लोगों की भीड़ जमा हो गई। परिजनों ने पुलिस और मायके के लोगों को सूचना दी। सूचना पर थानाध्यक्ष जलालपुर पन्नेलाल पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मायके वालों की ओर से पुलिस को कोई तहरीर नहीं मिली है। थानाध्यक्ष ने बताया कि विवाहिता के शव का पंचनामा कराकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। मायके वालों की ओर से कोई तहरीर मिलेगी तो आगे की कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

परिजनों पर फायरिंग कर भाग रहा युवक लाइसेंसी पिस्टल के साथ गिरफ्तार

जौनपुर। लाइनबाजार थाना क्षेत्र के बिरहदपुर गांव में परिजनों पर फायरिंग कर भाग रहे युवक को पुलिस ने घेराबंदी कर लाइसेंसी पिस्टल के साथ गिरफ्तार कर लिया। भाई की तहरीर पर पुलिस ने जानलेवा हमले के आरोप में केस दर्ज कर जेल भेज दिया।
बिरहदपुर गांव निवासी त्रिभुवन सिंह के पुत्र विकास सिंह पर आरोप है कि वह गुरुवार की रात में कहीं से आया और कमरा बंद कर पत्नी को पीटने लगा। महिला के चीखने चिल्लाने पर परिवार के लोग दौड़कर पहुंचे तो दरवाजा बंद था। लोग दरवाजा पीटने लगे तो उसने अंदर से अपनी लाइसेंसी पिस्टल से गोली चला दी, जिससे लोग सहम गए। वह दरवाजा खोल कर बाहर निकला तो फायरिंग करते हुए अपनी क्रियेटा कार में सवार हुआ और भागने लगा। परिवार वालों ने पुलिस को सूचना दी। लाइनबाजार थाने के प्रभारी निरीक्षक दिनेश प्रकाश पाण्डेय, उप निरीक्षक राजेन्द्र प्रसाद मय फोर्स युवक का पीछा कर लिए। वह जलालपुर की ओर भाग रहा था। सूचना पर जलालपुर थाने की पुलिस ने भी सामने से घेराबंदी कर ली। जलालपुर चौराहे के पास वह पुलिस ने पकड़ लिया। उसके पास से पुलिस ने 32 बोर की लाइसेंसी पिस्टल, दो कारतूस और पांच खोखा बरामद किया। सीओ सिटी सुशील कुमार सिंह ने बताया कि पिस्टल के साथ गिरफ्तार युवक के भाई ध्रुव सिंह की तहरीर पर पुलिस जानलेवा हमले के आरोप में केस दर्ज कर उसे जेल भेज दिया।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us