विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

तीर्थनगरी के वार्षिक अमृत कुंभ का पहला स्नानपर्व आज, गंगा घाटों पर उमड़ा आस्था का सैलाब

कासगंज के सोरों में मार्गशीर्ष मेला शुरू हो चुका है। तीर्थनगरी के वार्षिक अमृत कुंभ का पहला स्नानपर्व आज है।

8 दिसंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

झांसी

रविवार, 8 दिसंबर 2019

ट्रेन से गायब हुई मां बेटी, परिजन परेशान

झांसी। झेलम एक्सप्रेस में सवार होकर जम्मूतवी जा रहीं मां बेटी ट्रेन से गायब हो गईं। परेशान परिजन अब उनकी तलाश में इधर- उधर भटक रहे हैं।
मध्य प्रदेश के छतरपुर में सिविल लाइंस थाना क्षेत्र के बृजपुरा निवासी बंधी रायकवार जम्मू में मजदूरी करते हैं। जम्मू में वह अपने 11 साल के लड़के अजय को साथ रखे हैं। पत्नी रती और नौ साल की बेटी टीना गांव में रहती हैं। विगत नौ नवंबर को उनके छोटे भाई उमाशंकर ने झांसी रेलवे स्टेशन से रती व बेटी टीना को झेलम एक्सप्रेस में जम्मू जाने के लिए बैठाया था। लेकिन, वह जम्मू नहीं पहुंचे। बंधी अपने परिजनों के साथ झांसी से जम्मू के बीच पड़ने वाले सभी ट्रेन के ठहराव वाले स्टेशन पर तलाश कर चुके हैं, लेकिन दोनों का कोई पता नहीं चल सका। शुक्रवार को परिजनों ने मामले की जानकारी जीआरपी को दी।
... और पढ़ें

नौ माह बाद बरामद हुई बालिका, दो आरोपी गिरफ्तार

झांसी। थाना सीपरी बाजार से नौ माह पहले लापता हुई बालिका को पुलिस ने बरामद कर दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। दोनाें बालिका का अपहरण कर पुणे ले गए थे। पुणे से वापस लौटकर घर जाते समय शुक्रवार को पुलिस ने दबोच लिया। दोनों को अदालत में पेश किया, जहां से जेल भेज दिया गया। पुलिस ने बालिका का मेडिकल भी कराया है।
30 मार्च को थाना सीपरी बाजार स्थित एक इलाके से दो युवक एक बालिका का अपहरण कर ले गए थे। पुलिस ने अपहरण का मामला दर्ज कर दोनों की तलाश शुरू कर दी थी, लेकिन पता नहीं चल सका था। पुलिस को पड़ताल दौरान उनके पुणे में होने की सूचना मिली थी। पुलिस के दबिश देने के बाद भी बालिका बरामद नहीं हो सकी थी। पुणे से वापस लौटकर शुक्रवार को आरोपी बालिका को घर दबोचने आ रहे थे। सूचना मिलने के बाद पुलिस ने दोनों को बालिका को समेत पकड़ लिया। बालिका ने बताया कि दोनों युवक उसका अपहरण कर पुणे ले गए थे। जहां उसके साथ दुष्कर्म भी किया गया। पुलिस ने दोेनों को अदालत में पेश किया, जहां से जेल भेज दिया गया।
... और पढ़ें

योगी जी, योजना तो बना डालीं, बुंदेलखंड में किसान के हाथ फिर भी खाली

योगी जी, योजना तो बना डालीं, बुंदेलखंड में किसान के हाथ फिर भी खाली
झांसी। शासन की योजनाओं का सही तरीके से क्रियान्वयन न होने से बुंदेलखंड का किसान अब भी बदहाल है। खेतों में हाड़तोड़ मेहनत के बाद भी किसानों को फल नहीं मिल पा रहा है। अन्ना जानवर, सिंचाई की सुविधाओं का अभाव, खाद-बीज की किल्लत के अलावा दैवी आपदाओं से परेशान किसानों को अफसरों के मनमाने रवैये का शिकार होना पड़ रहा है। यही कारण है कि कई किसान खेती छोड़कर कामधंधे की तलाश में बड़े शहरों की ओर पलायन कर रहे हैं। कर्ज के बोझ से दबे कई किसान अपनी जान भी गंवा रहे हैं। अब पराली ने किसानों को कानूनी जंजीरों में भी जकड़ना शुरू कर दिया है। उन पर धड़ाधड़ मुकदमे हो रहे हैं।
आधे रास्ते बंद कर दी ऋण मोचन योजना
योगी आदित्यनाथ सरकार ने किसानों को राहत दिलाने के लिए बहुप्रचारित ऋण मोचन योजना आंरभ की थी लेकिन बुंदेलखंड में आधे किसान इसके लाभ से अभी तक वंचित हैं। बीच रास्ते में यह योजना अचानक से बंद कर दी गई। कृषि महकमे के आंकड़ों के मुताबिक झांसी में महज 60,787 किसानों को फायदा मिल सका जबकि 1,42,378 किसानों ने कर्ज माफी का दावा किया था। योजना लागू होने से पहले ऋण माफी का लाभ सभी किसानों को दिए जाने की बात हुई थी लेकिन, बाद में कई शर्तें जोड़ दी गईं। इसके जरिए सीमांत किसान (जिनके पास एक हेक्टेयर से कम कृषि भूमि हो) एवं लघु किसानों (जिसके पास एक हेक्टेयर से अधिक एवं दो हेक्टेयर से कम कृषि भूमि) को फायदा दिया जाना था। इस तरह देखा जाए तब 2.19 लाख केसीसी कार्ड धारकों को भी इस योजना का लाभ मिलना चाहिए था लेकिन, महज 60,787 किसानोें को ही फायदा दिया गया।
पूरी खरीफ फसल नष्ट, अब तक नहीं मिला बीमा
बुंदेलखंड में इस बार बिन मौसम बारिश हो जाने की वजह से खरीफ की खड़ी फसल पूरी तरह नष्ट हो गई। सरकारी अनुमान के मुताबिक भी झांसी के ही बबीना, चिरगांव, मोंठ, बामौर, गुरसराय, मऊरानीपुर एवं बंगरा ब्लॉक के गांवों में अस्सी से सौ फीसदी तक फसल पूरी तरह खराब हो गई। खरीफ की फसल खराब हो जाने से किसानों की कमर पूरी तरह टूट गई। ऐसी दशा में उनको राहत दिलाने के लिए ही प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना शुरू की गई थी। इसमें बीस फीसद मुआवजा फसल खराब होने के एक माह के भीतर दिया जाना था लेकिन करीब तीन माह बीत जाने के बाद भी मुआवजे के तौर पर एक भी रुपया किसानों के खाते में नहीं पहुंचा। इस वजह से किसान बेहद मायूस हैं।
सिर्फ चौथाई किसानों तक पहुंची सम्मान निधि
किसानों की आय दोगुनी करने के लिए सरकार ने प्रधानमंत्री सम्मान निधि की शुरुआत की। इसके जरिए किसानों को छह हजार रुपये सालाना दिया जाना है लेकिन अभी तक सिर्फ एक चौथाई किसानों को ही तीसरी किस्त हासिल हुई है। करीब एक लाख किसान ऐसे हैं जिन्हें एक अथवा दो किस्तें मिली हैं। वहीं, किसानों के डेटा की गड़बड़ियों को दूर करने में कृषि महकमे के अधिकारी एवं कर्मचारियों का भी दम फूल गया है। सरकार अब सिर्फ उन्हीं किसानों को तीसरी किस्त देने की बात कह रही, जिनके बैंक खाते एवं आधार में नाम एक तरीके का हो। इसकी पुष्टि करने में ही विभाग एवं किसान चकरघिन्नी बने हुए हैं। कृषि विभाग के आंकड़ों के मुताबिक पहली किस्त जहां 1,77,096 किसानों के खाते में भेजी गई वहीं, तीसरी किस्त सिर्फ एक लाख से कम किसानों तक ही पहुंची है।
फसल खरीदने के बाद भी सरकार ने नहीं चुकाया पैसा
प्रकृति की मार झेलने वाले किसानों को चूना लगाने में सरकार भी कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रही। उड़द एवं मूंगफली उगाने वाले सवा चार सौ किसानों का सवा दो करोड़ रुपया सरकारी महकमा एक साल से दबाए बैठा है। सरकारी खरीद केंद्र में अनाज बेचने के बाद भी किसानों को उनका भुगतान नहीं किया गया। अधिकारियों के तमाम चक्कर काटने के बावजूद उनके हाथ खाली हैं। मऊरानीपुर स्थित खरीफ क्रय केंद्र से पिछले वर्ष उड़द एवं मूंगफली की खरीद हुई थी। खरीद के बाद इन किसानों के नाम तकनीकी वजहों से केंद्रीय पोर्टल पर अपलोड नहीं हो सके। इस वजह से किसानों का पैसा फंस गया। जांच-पड़ताल के बाद स्थानीय स्तर पर भुगतान के लिए रजामंदी जता दी गई लेकिन अभी तक इन किसानों का भुगतान नहीं किया गया। पास में पैसा न होने की वजह से कई किसान रबी की फसल की बुवाई नहीं कर पा रहे हैं।
बढ़ रहे अन्ना जानवर, रात भर करनी पड़ रही खेतों की रखवाली
अन्ना जानवरों की रोकथाम की कवायद भी फेल होती नजर आ रही है। अन्ना जानवरों की संख्या में लगातार इजाफा होता जा रहा। इस समय चना, मटर, गेहूं, जौ, अलसी आदि रबी की फसल खेतों में तैयार हो रही है लेकिन अन्ना जानवरों का आतंक इस कदर है कि किसानों को सर्द रात में जागकर अपने खेतों की रखवाली करनी पड़ रही है। झांसी में ही अन्ना जानवरों की संख्या 25258 थी जो इस साल तक बढ़कर करीब 46709 तक पहुंच चुकी है।
पराली का आतंक, अलाव तक पर पाबंदी
पराली जलाने को लेकर प्रशासनिक अमले की सख्ती ने किसानों के भीतर खौफ पैदा कर दिया है। अब रात में भी गांवों के भीतर पुलिस टीम गश्त कर रही है। हालत यह है सर्दियों में गांव में जलने वाले अलाव तक पर पाबंदी लगा दी गई है। झांसी में ही अभी तक पराली जलाने के आरोप में 177 किसानों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जा चुकी है। दो लाख रुपये जुर्माना भी किसानों से वसूल किया गया है। वहीं, लापरवाही के आरोप में किसी भी अधिकारी के खिलाफ अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई।
-----------------------------
... और पढ़ें

महिला सुरक्षा में लापरवाही तो बख्शे नहीं जाएंगे अफसर

झांसी। एनकाउंटर के आंकड़ों में दूसरे राज्यों से काफी आगे चल रहे यूपी में पुलिस मुठभेड़ की संख्या और बढ़ सकती है। अब यूपी पुलिस भी दुष्कर्मियों में खौफ पैदा करने के लिए कड़ा एक्शन लेने की तैयारी में है। शासन ने भी पुलिस अधिकारियों से साफ कह दिया है कि अपराधियों के साथ सख्ती के साथ निपटा जाए। शनिवार को झांसी पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिस अधिकारियों से दो टूक कहा है कि अगर महिला सुरक्षा में किसी प्रकार की लापरवाही हुई तो अफसर बख्शे नहीं जाएंगे। इस तरह का माहौल बनाएं जिससे अपराधियों में खौफ पैदा हो।
उत्तर प्रदेश में बढ़ते क्राइम और महिलाओं के साथ होने वाले अपराधों से सरकार पर उंगली उठने लगी है। उन्नाव की घटना के बाद विपक्षियों ने सरकार को घेरना शुरू कर दिया है। पिछले एक सप्ताह में महिला अपराध की कुछ ऐसी वारदातें हुईं हैं जिससे भय का माहौल पैदा हो गया। सरकार की किरकिरी हो रही है। इन हालातों में सरकार के करीबी माने जाने वाले कुछ रिटायर पुलिस अधिकारियों ने एक रिपोर्ट बनाई है जिनमें वह केस रखे गए हैं जहां एनकाउंटर के बाद अपराधियों में दहशत पैदा हुई थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि सामान्य गिरफ्तारी की तुलना में जहां भी दुष्कर्मी को पुलिस ने मुठभेड़ में गिरफ्तार किया है वहां अपराधियों में खौफ पैदा हुआ है। एक मैसेज गया है। शनिवार को झांसी में कानून व्यवस्था की समीक्षा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिस अफसरों को निर्देश दिए कि अपराधियों से सख्ती के साथ निपटा जाए। बुंदेलखंड में बढ़ते महिला अपराधों पर चिंता जताते हुए सीएम ने कहा कि लापरवाह अफसरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। दुष्कर्म पीड़िताओं को सुरक्षा देने के भी निर्देश दिए गए।
झांसी। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की रिपोर्ट के मुताबिक उत्तर प्रदेश में महिलाओं के प्रति अपराध के मामले सबसे ज्यादा दर्ज हुए हैं। 2015 में दर्ज अपराधों की संख्या 35908 थी लेकिन अब 57 हजार से भी ऊपर पहुंच गई है। तेजी के साथ बढ़ते अपराधों ने सरकार को भी बेचैन कर दिया है।
... और पढ़ें

जालौन के डीएसओ निलंबित कई अफसरों को चेतावनी

झांसी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को समीक्षा बैठक में तल्ख तेवर दिखाए। उन्होंने लचर कार्यशैली की शिकायत मिलने पर जालौन के जिला पूर्ति अधिकारी को निलंबित करने के आदेश दिए। संयुक्त निदेशक कृषि ओपी पांडेय समेत अन्य अफसरों को कार्यशैली में सुधार लाने की चेतावनी दी।
सर्किट हाउस में हुई समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने मंडल में चल रहे विकास कार्यों की जांच कराए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इन कार्यों की जवाबदेही तय हो। जो भी दोषी पाए जाएं उन पर कार्रवाई की जाए। भूमि संरक्षण विभाग के पांच वर्षों के कार्यों की भी सूची बनाकर सत्यापन कराया जाए। 15 दिसंबर तक सभी नहरों की सफाई करा दी जाए। बिजली की ओवर बिलिंग रोकने के लिए शिविर लगाए जाएं। सीएम योगी ने बुंदेलखंड में रोजगार एवं पर्यटन की अपार संभावनाओं को देखते हुए विकास योजनाएं तैयार करने के निर्देश दिए।
... और पढ़ें

जाम से जूझ लोग, 30 मिनट पहले रोक दिया था ट्राफिक

झांसी। मुख्यमंत्री के आगमन पर शहर जाम से जूझता रहा। सीएम का काफिला बार-बार निकलने के कारण लोगों की रफ्तार थमी रही। जाम में फंसे लोग एक दूसरे से उलझते हुए आगे बढ़ने की जद्दोजहद करते रहे। यातायात सुचारू बनाने में पुलिसकर्मियों का भी पसीना छूट गया। दिन भर जाम की स्थिति बनी रही।
सीएम का उड़नखटोला एक घंटा दस मिनट की देरी से पुलिस लाइन के हेलीपेड पर उतरा। लेकिन, सड़कों पर बंदोबस्त सुबह से ही पुलिस ने कर रखे थे। यहां से मेडिकल कॉलेज में पहुंचने में सीएम का काफिला जाम में न फंसेे, इसके लिए इलाइट चौराहा से जेल चौराहा, बस स्टैंड व मेडिकल जाने वाले यातायात को 1.40 बजे ही बंद कर दिया था। इसके लिए वैकल्पिक मार्ग से लोगों को गुजारा गया। एक साथ लोगों के गुजरने के कारण जगह-जगह जाम लगा। कई लोग बेरीकेडिंग के पास खड़े हो गए, जिससे दोतरफा जाम की स्थिति रही। यही हालात हाइवे के भी रहे। अंदर वाहन न आने के कारण झांसी से ललितपुर, कानपुर, मऊरानीपुर व शिवपुरी जाने वाले हाइवे पर भी जाम की स्थिति रही।
बसों को नहीं जाने दिया बस स्टैंड
मुख्यमंत्री का काफिला मेडिकल कॉलेज जाने के कारण बसोें को बस स्टैंड जाने नहीं दिया गया। ललितपुर की तरफ से आने वाली बसों को जेल चौराहा से पहले रोका गया। वहीं, ग्वालियर की तरफ आने वाली बसेें जीआईसी ग्राउंड पर ही रोकी गईं। जिस कारण यात्रियों को भारी परेशानी हुई। ऑटो न मिलने के कारण लोगा पैदल ही चलने को मजबूर हुए।
पड़ताल के बाद अंदर गए नेता
पुलिस लाइन में जाने की अनुमति 26 नेताओं को मिली थी। जिनके साथ उनके साथी भी कार में सवार होकर अंदर तक पहुंचे। इस दौरान पुलिस लाइन के गेट पर तैनात पुलिसकर्मियों ने पड़ताल के बाद ही सभी को अंदरी जाने दिया। जिन नेताओं के नाम लिस्ट में नहीं थे, उनसे बहस भी होती रही।
गाय ने डाला खलल
काफिला गुजरने से पहले अचानक पुलिस लाइन के अंदर से कुछ गाय निकलकर सड़क पर आईं। यह देखकर पुलिसकर्मी घबरा गए। आनन-फानन में सभी ने बेरीकेडिंग हटाकर पुलिस कार्यालय की तरफ खदेड़ा।
... और पढ़ें

योगी जी, जरा शहर के अंदर भी झांक लीजिए

झांसी। शनिवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दौरे के दौरान नगर की दो तस्वीरें सामने आईं। जिन सड़कों से सीएम के काफिले को गुजरना था, वहां सभी व्यवस्थाएं चौकस रहीं। जिन स्थानों पर मुख्यमंत्री के जाने की संभावना थी, वहां भी सब दुरुस्त मिला। जबकि, शहर के अंदरूनी हिस्सों में लोग रोजाना की तरह समस्याओं से जूझते रहे। मुख्यमंत्री रात्रि विश्राम के बाद रविवार को भी नगर में समय बिताएंगे। ऐसे में लोगों का उनसे अनुरोध है कि एक बार वे नगर के अंदरूनी हिस्सों का भी जायजा ले लें, ताकि वे भी हकीकत से रूबरू हो सकें।
इलाइट से मेडिकल कॉलेज रोड रोजाना की तरह शनिवार को न तो अतिक्रमण था और न वाहनों की रेलमपेल, इस सड़क का अतिक्रमण तो एक दिन पहले ही साफ कर दिया गया था और शनिवार को सुबह से ही जगह - जगह पुलिस कर्मचारी मुस्तैदी से तैनात नजर आए, जो यातायात व्यवस्था संभाले हुए थे। सड़क पर छुट्टा पशु न पहुंच पाएं, इसका भी पूरा ख्याल रखा जा रहा था। वहीं, दूसरी ओर शहर का बड़ा बाजार हो या सुभाष गंज, यहां हालात रोजाना की तरह ही थे। वाहन सवार जाम से जूझते हुए आगे बढ़ रहे थे। पैदल निकलने वालों को भी रास्ता तलाश करना पड़ रहा था। छुट्टा पशु भी विचरण कर रहे थे। हालांकि, आम दिनों में तो यदा - कदा पुलिस नजर ही जाती थी, परंतु शनिवार को वीआईपी ड्यूटी होने की वजह से पुलिस भी दिखाई नहीं दी।
महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज में शनिवार को व्यवस्थाएं किसी बड़े निजी अस्पताल से कम नहीं नजर आ रहीं थीं। डाक्टर हों या नर्स सभी यूनिफार्म में थे। अस्पताल का फर्श चमक रहा था, तो बिस्तरों पर बिछे चादर भी साफ-सुथरे थे। स्टाफ हर मरीज का दौड़-दौड़ कर ख्याल रख रहा था। बात-बात पर मरीजों और तीमारदारों पर तमतमा जाने वाले जूनियर डाक्टर भी शालीनता के साथ पेश आ रहे थे। वहीं, दूसरी ओर कोतवाली के पास स्थित बेसिक शिक्षा परिषद के जीर्णशीर्ण रानी लक्ष्मीबाई जूनियर हाईस्कूल में बदहाली छाई हुई थी। छत के लगातार दरकते प्लास्टर की वजह से बच्चे खुले मैदान में थे। वे डरे हुए थे कि कहीं छत उन पर न गिर पड़े। कमोबेश शिक्षिकाओं का भी यही हाल था।
ऐसे तो बढ़ने से रहा पर्यटन
झांसी दौरे के दौरान मुख्यमंत्री का बुंदेलखंड के पर्यटन विकास पर जोर रहा। लेकिन, धरातल पर हालात एकदम इतर हैं। इसका अंदाजा इतिहास की अनूठी विरासत किले के परकोटे को देखकर लगाया जा सकता है। तीन शताब्दी पुरानी ये दीवार पुराने शहर को चारों ओर से घेरे हुए है। बावजूद, इसका संरक्षण नहीं किया जा रहा है। लगातार इसे क्षतिग्रस्त किया जा रहा है, इसमें सरकारी तंत्र भी पीछे नहीं है। पिछले साल नाला निकासी के लिए नगर निगम ने भांडेरी के गेट के पास इसके एक हिस्से को ढहा दिया था। फिर दुबारा इसे नहीं बनाया गया। अनदेखी के चलते महत्वपूर्ण पुरा धरोहर रानी महल की सूरत भी बिगड़ती जा रही है। जबकि, रघुनाथ राव महल अपना अस्तित्व बचाने के लिए संघर्ष कर रहा है।
... और पढ़ें

पीजीआई की दरों पर होगा सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक में इलाज

झांसी। महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज में बने सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक में पीजीआई की दरों पर इलाज होगा। शनिवार को ब्लॉक के निरीक्षण के दौरान प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा रजनीश दुबे ने कॉलेज अधिकारियों को यह जानकारी दी।
प्राचार्य कार्यालय में सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक के डॉक्टरों के साथ बैठक करने के बाद प्रमुख सचिव शाम पांच बजे सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक का निरीक्षण करने पहुंचे। उन्होंने प्रथम तल से लेकर पांचवीं मंजिल तक बिल्डिंग का निरीक्षण किया। प्रमुख सचिव ने निर्देश दिए कि लोकार्पण पट को फार्मेसी काउंटर के पास ही लगवाएं। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री रविवार को सुबह 10 बजे सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक आएंगे। यहां वो बीस मिनट रहेंगे। पांच मिनट में पूजन, बटन दबाने का कार्यक्रम हो जाएगा। प्रमुख सचिव ने ऑपरेशन थिएटर आईसीयू और कैथ लैब का जायजा लिया।
मशीनों के संबंध में भी जानकारी ली। इसके बाद प्रमुख सचिव ने कहा कि मरीजों की एंजियोग्राफी, एंजियोप्लास्टी समेत अन्य यूजर चार्ज पीजीआई की तर्ज पर ही लिए जाएं। मरीजों को रियायती दरों पर बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराना प्राथमिकता है। इस दौरान प्राचार्य डॉ. साधना कौशिक, पैरामेडिकल निदेशक डॉ. एनएस सेंगर, सीएमएस डॉ. हरीशचंद्र आर्या, डॉ. सुधीर कुमार, डॉ. मनीष जैन, डॉ. अंशुल गोयल, डॉ. नीरज बनोरिया, डॉ. ज्ञानेंद्र कुमार मौजूद रहे।
... और पढ़ें

भारत से सर्जिकल स्ट्राइक का गुरुमंत्र लेगी रूस की सेना

झांसी। भारत और रूस की सेनाएं भारत में संयुक्त सैन्य अभ्यास ‘इंद्र 2019’ करेंगी। दस से 19 दिसंबर तक चलने वाले इस युद्ध अभ्यास में रूस की सेना खास तौर पर भारतीय सेना से सर्जिकल स्ट्राइक का ‘गुरुमंत्र’ लेगी। दो बार पाकिस्तान की सीमा में घुस कर सर्जिकल स्ट्राइक कर आतंकियों के कैंपों का सफाया करने वाली भारतीय सेना का लोहा विश्व की सभी सेनाएं मान रही हैं। रूस की सेना भी इसमें खुद को दक्ष बनाना चाहती है।
दोनाें देशों की थल सेना, वायु सेना और नौ सेना की टुकड़ियां झांसी के बबीना, महाराष्ट्र के पुणे और गोवा में अपने-अपने कौशल का प्रदर्शन करेंगी। इस दौरान आधुनिक अस्त्र-शस्त्रों का प्रदर्शन, उनकी मारक क्षमता, युद्ध रणनीति और सामंजस्य को परखा और बढ़ाया जाएगा। संयुक्त राष्ट्र की पहल पर यह दस दिवसीय युद्धाभ्यास भारत में किया जा रहा है। भारत-रूस के बीच ‘इंद्र’ की शुरुआत 2003 में हुई थी। पहला संयुक्त युद्धाभ्यास 2017 में हुआ था। दस दिन के इस अभ्यास में मैकेनाइज्ड कनटिंजेंट, फाइटर-ट्रांस्पोर्ट एयरक्राफ्ट और पानी के जहाज अपनी कुशलता दिखाएंगे। इस दौरान पांच दिनों का विशेष प्रशिक्षण सत्र रहेगा।
रणनीति के तहत आतंकियों को खोजने, उन पर सर्जिकल स्ट्राइक करने, आईईडी (इम्प्रूवाइज एक्सप्लोसिव डिवाइस) को निष्क्रिय करने, समुद्र के रास्ते होने वाली हथियारों की तस्करी रोकने पर दोनों देशों की सेनाएं साझा तैयारी करेंगी। बबीना में थल सेना के युद्धाभ्यास की औपचारिक शुरुआत 11 दिसंबर को होगी। अंतिम दिन दोनों देशों के तोप और टैंक की मारक क्षमताओं का भी प्रदर्शन होगा।
... और पढ़ें

कला जीवन का आधार

झांसी। राजकीय संग्रहालय एवं ग्रामीण नागरिक स्वावलंबन के साझा तत्वावधान में शनिवार को इंडो-रशियन कला प्रदर्शनी आरंभ हुई।
मुख्य अतिथि जवाहर कला केंद्र, जयपुर की महानिदेशक किरण सोनी गुप्ता एवं उद्योग मंत्रालय के अवर सचिव डॉ. मधुकर गुप्ता ने उद्घाटन किया। इस दौरान महानिदेशक ने कला को जीवन का आधार बताते हुए कहा कि चित्र जीवन में रंग भरने का काम करते हैं। जीवन में ऊर्जा भरने में इनका उपस्थिति अहम है। विशिष्ट अतिथि डॉ. मधुकर गुप्ता ने कला को जीवन को उपलब्धि बताया। अतिथि कलाकार आदर्श कुमार सिन्हा ने भी चित्रों के महत्व को बताया। उन्होंने कहा ग्रामीण महिला एक बड़ी चित्रकार होती है। अपने घरों में दीवारों पर बेलबूटे, रंग भरकर कला का अच्छे तरीके से सुंदरीकरण करती हैं। सही मायने में वह हमारी संस्कृति को प्रदर्शित करती है। इस दौरान भेल के इकाई प्रमुख टीके बागची, राजकीय संग्रहालय की निदेशक आशा पांडेय, सुनील गौतम, स्पर्श धाहरवाल, अजय नारायण, किशन सोनी, उलिया ओवेडनोव, अशोक कुमार, पद्मनी मेहता, आशीष मेहता, रवि राजन, कुलप्रीत राणा व राजेश चंद्रा समेत अन्य उपस्थित रहे।
... और पढ़ें

बुंदेलखंड में बहेगी दूध की गंगा, खत्म हो जाएगी कुप्रथा: योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि महिलाओं को स्वावलंबी बनाया जा सके, इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांच साल प्रधानमंत्री दीनदयाल उपाध्याय राष्ट्रीय आजीविका मिशन कार्यक्रम की शुरुआत की थी। उन्होंने कहा कि यदि डेयरी वैल्यू चैन परियोजना में स्वयं सेवी समूह थोड़ी सी मेहनत कर लें तो बुंदेलखंड की अन्ना प्रथा की कुप्रथा खत्म हो जाएगी। यहां दूध की नदियां बहेंगी। इससे रोजगार, नौकरी, अच्छा पशुधन मिलेगा फिर पैसे की कोई कमी नहीं होगी। उन्होंने यह बात पैरामेडिकल कॉलेज में बालिनी मिल्क प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड द्वारा संचालित डेयरी वैल्यू चैन परियोजना के शुभारंभ के दौरान कही।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आजीविका मिशन से महिलाओं को आर्थिक मजबूती, आत्मनिर्भता व शोषण से मुक्ति दिलाने में सफलता मिली है। अच्छी बात है कि डेयरी वैल्यू चेन परियोजना की शुरुआत झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की धरती से हो रही है। रानी ने ही कहा था कि मैं अपनी झांसी नहीं दूंगी। यह स्वावलंबन सम्मान का प्रतीक शब्द है।

योगी ने कहा कि आजीविका मिशन से महिला स्वयं समूह गठित करके बहुत बड़ा कार्य हो सकता है। सीएम ने कहा कि पैरामेडिकल कॉलेज में लगी प्रदर्शनी में स्वयं सेवी समूह की महिलाओं से बातचीत करने पर उन्होंने बताया कि 61 रुपये प्रति लीटर गाय का दूध बिका है। मुख्यमंत्री ने कहा कि डेयरी वैल्यू चेन परियोजना में दूध की शुद्धता और फैट की मात्रा के अनुरूप राशि उपलब्ध कराने की व्यवस्था। दूध की गुणवत्ता के आधार पर 30 से 65 रुपये प्रति लीटर प्राप्त कर सकते हैं।

यदि समूह मेहनत कर लें तो बुंदेलखंड में दूध की नदियां बहेंगी। समारोह में ग्राम्य विकास मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री के मन में महिलाओं को जोड़कर गांव के विकास का संकल्प है। विभाग इस दिशा में तेजी से काम कर रहा है। इस दौरान जालौन सांसद भानू वर्मा, ग्राम्य विकास राज्यमंत्री आनंद शुक्ला, श्रम एवं सेवायोजन राज्यमंत्री मनोहर लाल पंथ, विधायक जवाहर लाल राजपूत, रवि शर्मा, राजीव सिंह पारीछा, बिहारी लाल आर्य, रामरतन कुशवाहा, मूलचंद्र निरंजन, नरेंद्र सिंह जादौन, आशीष अग्निहोत्री, जयदेव पुरोहित, विनोद नायक, मनमोहन गेड़ा, बालमुकुंद अग्रवाल मौजूद रहे।

गाय के गोबर से बन रही अगरबत्ती
प्रदर्शनी में स्वयं सेवा समूह की महिलाएं गाय के गोबर से बनी अगरबत्ती का स्टॉल भी लगाए थीं। मुख्यमंत्री ने स्टॉल का अवलोकन करने के बाद कहा कि गाय से ही हमारी पहचान है, इसके बिना जीवन की कल्पना नहीं कर सकते। गाय के गोबर से बनी अगरबत्ती को मंदिर में जला सकते हैं। इससे मच्छर व कीटाणु भी भगा सकते हैं। कोई केमिकल का इस्तेमाल नहीं होता है। इसके लाभ ही लाभ हैं।

नस्ल सुधार के लिए बनाई विशेष योजना
योगी ने कहा कि बुंदेलखंड को मद्देनजर रखते हुए गायों की नस्ल सुधार के लिए विशेष योजनाएं बनाई हैं। यहां 100, 200 ग्राम दूध देने वाली गाय नस्ल सुधरने के लिए चार से पांच लीटर दूध देने लगेंगी। बुंदेलखंड में इसकी व्यापक संभावनाएं हैं।

अगले महीने से घरों में पहुंचेगा शुद्ध पानी
नौ हजार करोड़ की पेयजल योजना का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इसी महीने से घर-घर में शुद्ध पेयजल पहुंचाने का काम शुरू कर दिया जाएगा। शुद्ध पेयजल से बीमारियां आधी हो जाएंगी। भले ही प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना के तहत लाभार्थी व उसके परिवार को पांच लाख रुपये तक का निशुल्क इलाज दिया जा रहा हो लेकिन हमारा प्रयास है कि लोगों को बीमारियां ही न हों।

समाज साथ खड़ा हो जाए तो रुके महिला उत्पीड़न
हैदराबाद और उन्नाव में बेटियों के साथ हुए अत्याचार, दरिंदगी का दर्द मुख्यमंत्री के भाषण में भी झलका। उन्होंने किसी भी घटना का जिक्र किए बगैर कहा कि महिला के खिलाफ अत्याचार और शोषण की घटनाएं रोकने के लिए यदि समाज खड़ा हो जाएगा तो ऐसी घटनाएं रुक जाएंगी। उन्होंने कहा कि गलत करने वाले के साथ कोई भी खड़ा नहीं होता है और न ही खड़ा होना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने सरकार की उपलब्धियां गिनाईं
- उज्ज्वला गैस सिलेंडर योजना उन माताओं को समर्पित है जिनके पास शुद्ध ईंधन नहीं था। वो खाना पकाने के लिए गोबर, लकड़ी केरोसिन पर निर्भर थीं।
- प्रधानमंत्री स्वच्छता योजना के तहत बने शौचालय न सिर्फ स्वच्छ वातावरण में मददगार हैं, बल्कि नारी गरिमा को सम्मान देने की भी पहल है।
- बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान शुरू होने से पूर्व कई क्षेत्रों में बालक-बालिकाओं का अनुपात विषम था, योजना के बाद से देश ने अच्छी प्रगति की है।
- मुख्यमंत्री कन्या सुमंगल योजना में जन्म से लेकर डिप्लोमा या डिग्री कोर्स शुरू होने तक सरकार 15000 रुपये का पैकेज बालिका के नाम पर जमा कर रही।
- मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत शादी के समय युवती को 51,000 रुपये दे रहे हैं। साल भर में अब तक 98,000 युवतियों के विवाह करा चुके हैं।
- खेल में अच्छा प्रदर्शन करने वाली महिला खिलाड़ियों को रानी लक्ष्मीबाई अवार्ड से सम्मानित कर रहे हैं। इसके तहत 3.11 लाख रुपये प्रोत्साहन राशि दी जा रही।
... और पढ़ें

कानपुर के सचिन ने वाराणसी के शशांक को दी मात

झांसी। ध्यानचंद स्टेडियम में पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी राज्य स्तरीय सीनियर पुरुष प्राइजमनी बॉक्सिंग प्रतियोगिता के तीसरे दिन भी कई मुकाबले हुए। इसमें 81 किलोग्राम में कानपुर के सचिन सिंह ने वाराणसी के शशांक सिंह को हराया।
49 किलोग्राम भार वर्ग में सहारनपुर के आशीष कुमार ने बरेली के सागर सिंह को, मेरठ के विवेक ढाका ने कानपुर के सौरभ सिंह को हराया। 52 किलोग्राम वर्ग में मुरादाबाद के हरकिशोर सैनी ने गोरखपुर के अनस खान को, कानपुर के श्याम सिंह ने आगरा के सौरभ राजपूत को शिकस्त दी। 56 किलोग्राम में लखनऊ के सौरभ वर्मा ने मेरठ के देवेंद्र को, आगरा के मोहित ठाकुर ने प्रशांत को हराया, 60 किलोग्राम भार वर्ग में मेरठ के मोंटी ने प्रयागराज के जितेंद्र कुमार पटेल को, आगरा के सनी गौतम ने लखनऊ के प्रशांत कुमार को, 64 किलोग्राम में मेरठ के दीपक भाटी ने लखनऊ के प्रहलाद कुमार पांडे को, आगरा के मनोज कुमार राजपूत ने कानपुर के हिमांशु कुरील को, 69 किलोग्राम में आगरा के हरवीर ढाकरे ने अयोध्या के सूर्य प्रताप सिंह को, मेरठ के अभिषेक कुमार ने गोरखपुर के राहुल गुप्ता को मात दी। 75 किलोग्राम भार वर्ग में प्रयागराज के साजिद खान ने कानपुर के सूर्यप्रताप सिंह को, आगरा के सूर्य प्रताप सिंह ने वाराणसी के शिवम साही को हराया।
... और पढ़ें

दो दिवसीय दौरे पर झांसी पहुंचे मुख्यमंत्री योगी, बोले- पशुपालन करने वाले किसानों को देंगे चार गायें

झांसी में किसान तमाम परेशानियों से बदहाल हैं। उन्हें सरकार ही योजनाओं और उनके क्रियान्वयन को लेकर तरह-तरह की शिकायतें हैं। ऐसे में मुख्यमंत्री योगी शनिवार को झांसी पहुंचे। सीएम योगी दो दिनों के लिए झांसी दौरे पर आए हैं। यहां पहुंच कर सबसे पहले मुख्यमंत्री पैरामेडिकल कॉलेज के ऑडिटोरियम हॉल गए।

इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अगर कोई किसान पशुपालन करता है तो हम उसे चार गाय उपलब्ध करा देंगे। गोबर से धूपबत्ती बनाई जा सकती है। इससे किसानों की आय बढ़ेगी। सीएम योगी ने कहा कि बुंदेलखंड में बड़े उद्योग स्थापित होंगे, जिससे रोजगार बढ़ेगा।

इसके बाद सीएम योगी भाजपा कार्यकर्ताओं से मुलाकात भी करेंगे, साथ ही मंडलीय समीक्षा भी करेंगे। साथ ही मुख्यमंत्री योगी सुपरस्पेशलिटी ब्लॉक का उद्घाटन भी करेंगे। बता दें कि उनके आते ही शहर के कई रास्तों को ब्लॉक कर दिया गया है। इससे लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं
dhanterash & diwali coupan
dhanterash & diwali coupan
dhanterash & diwali coupan
dhanterash & diwali coupan

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election