विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020
Astrology Services

विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

जानें कौन हैं श्री रामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास

राम मंदिर आंदोलन के अहम किरदार रहे अयोध्या के श्री रामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास को राम मंदिर निर्माण के लिए बनाए गए 'श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र' ट्रस्ट का अध्यक्ष बनाया गया है। जानें, उनके बारे में:

19 फरवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

झांसी

बुधवार, 19 फरवरी 2020

मकान गिरवी रखवाने के नाम पर लाखों हड़पे

झांसी। मकान गिरवी रखवाने के नाम पर एक एनजीओ संचालक ने एक व्यक्ति से लाखों रुपये हड़प लिए। कुछ रकम बैंक ले जाकर खाते में भी ट्रांसफर कराए। रकम वापस मांगने पर धमकाया गया। पीड़ित ने एसएसपी से मिलकर कार्रवाई की मंाग की है।
थाना सदर बाजार के तोपखाना निवासी शंकर लाल अहिरवार ने एसएसपी को शिकायती पत्र देते हुए बताया कि एक व्यक्ति से मकान बेचने के लिए दो साल के लिए एग्रीमेंट हुआ था। इसी बीच दोनों के बीच विवाद हो गया। जिसके चलते एक एनओजी संचालक ने मदद के नाम पर उसे गुमराह कर दिया। उससे कहा कि वह कोर्ट से एग्रीमेंट करा देगा, इसके लिए प्रतिमाह उसे रुपये देते रहो। शंकर लाल हर माह पंद्रह हजार रुपये एनजीओ संचालक को देता रहा। इसी बीच विश्वविद्यालय के पास बने एक बैंक ले जाकर भी रकम जमा करा दी। इसके बाद उसे ठगी का पता चला। उसने एसएसपी से मिलकर मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की मांग की है।
... और पढ़ें

बोर्ड के ‘महाकुंभ’ में 49 हजार से अधिक विद्यार्थी देंगे परीक्षाएं

झांसी। प्रयागराज बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की वार्षिक परीक्षाओं का ‘महाकुंभ’ मंगलवार से शुरू हो जाएगा। जिले के सभी 69 परीक्षा केंद्रों में सीसीटीवी कैमरों की निगहबानी व कड़ी सुरक्षा के बीच हाईस्कूल में 26940 और इंटर में 22179 विद्यार्थी परीक्षाएं देंगे। सोमवार को शिक्षा भवन में परीक्षाओं को लेकर तैयारियाें को अंतिम रूप दिया गया। मॉनीटरिंग सेल के जरिये बोर्ड के अधिकारियों ने व्यवस्थाओं को भी परखा। साथ ही, कलक्ट्रेट स्थित एनआईसी में भी एक कंट्रोल रूम बनाया गया है। यहां से भी परीक्षाओं की गतिविधियों पर नजर रहेगी।
वर्ष 2020 की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की वार्षिक परीक्षाओं के लिए इस बार कई बडे़ कदम उत्तर प्रदेश शासन और प्रयागराज बोर्ड ने उठाए हैं। इनमें सबसे महत्वपूर्ण मॉनीटरिंग सेल का गठन है, जिससे सभी 69 परीक्षा केंद्रों के 1250 कक्षों में लगे करीब 2500 सीसीटीवी कैमरे इंटरनेट के माध्यम से लिंक है। इससे इन सभी प्रत्येक कक्षों की हर हरकत को शासन व बोर्ड के उच्चाधिकारी अधिकारी लखनऊ तथा प्रयागराज में बैठकर भी देख सकते हैं। वहीं, सभी परीक्षा केंद्रों में फर्नीचर, पेयजल, बिजली आदि की व्यवस्था चौकस करा दिए गए है, जिन्हें सोमवार को शिक्षा भवन में अधिकारियों ने परखा। अपर नगर मजिस्ट्रेट वान्या सिंह ने भी मॉनीटरिंग सेल का निरीक्षण किया। इधर, जिला विद्यालय निरीक्षक कोमल यादव ने बताया कि परीक्षाओं के लिए समस्त तैयारियां पूरी हो चुकी है।
पांच केंद्र हैं अति संवेदनशील
जनपद में 13 संवेदनशील और पांच अति संवेदनशील परीक्षा केंद्र चिह्नित है। जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय के अनुसार अति संवेदनशील में जिला परिषद इंटर कालेेज भेल, राम मनोहर लोहिया इंटर कालेज, आदर्श कन्या इंटर कालेज, स्वामी देवानंद इंटर कालेज, आलोक उच्चतर माध्यमिक विद्यालय हैं।
छह जोनल मजिस्ट्रेट हैं तैनात
परीक्षा के लिए जनपद को आठ सेक्टरों में बांटा गया है। छह जोनल मजिस्ट्रेट, आठ सेक्टर तथा 20 स्टेटिक मजिस्ट्रेट तैनात है। यह सभी जिला स्तरीय अधिकारी व एसडीएम रैंक व राजपत्रित अधिकारी है। वहीं नकल विहीन परीक्षा के लिए पांच सचल दस्ते तैयार किए गए है।
परीक्षा के दौरान नहीं निकलेेंगे जुलूस
परीक्षा के दौरान डीजे जुलूस, जनसभा की अनुमति नहीं दी जाएगी। परीक्षा कक्ष में मोबाइल फोन व इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस नहीं जाएगा। यदि नकल होती पायी जाती है, तो नकल अधिनियम तीन के अंतर्गत कार्रवाई होगी। सौ मीटर की परिधि में कोई भी मोबाइल व फोटो स्टेट की दुकान नहीं खुलेगी।
कक्ष निरीक्षक व कर्मचारी हुए तैनात
परीक्षा में बेसिक के 660 और माध्यमिक के 1974 शिक्षक - शिक्षिकाएं डयूटी करेगी। वहीं मॉनीटरिंग सेल में दो शिफ्टों में कर्मचारी लगाए हैं। जो कंप्यूटरों से प्रत्येक परीक्षा केंद्र में निगाह रखेंगे।
कंट्रोल रूम में दर्ज करा सकते हैं शिकायत
परीक्षाएं 18 फरवरी से 6 मार्च तक चलेगी। मंगलवार को बोर्ड की हाईस्कूल की पहली परीक्षा सुबह 8 बजे से हिंदी व प्रारंभिक हिंदी की होगी। इसके बाद दोपहर दो बजे से इंटर की हिंदी व सामान्य हिंदी की परीक्षा होगी। प्रश्न पत्र 15 मिनट पहले खोला जाएगा। अगर किसी भी परीक्षा केंद्र में कोई गड़बड़ी नजर आती है, तो वह शिक्षा विभाग के कंट्रोल रूम नंबर 0510 - 2472636 और 0510 - 2980390 पर दर्ज करा सकता है। वहीं, उत्तर पुस्तिकाओं के संकलन के लिए चार केंद्र बनाए गए हैं। ये राजकीय इंटर कॉलेज, आदर्श इंटर कॉलेज, खैर इंटर कॉलेज, दमेले इंटर कॉलेज हैं।
जालौन व ललितपुर में बने हैं 104 परीक्षा केंद्र
झांसी मंडल के जालौन में हाईस्कूल में 22262 और इंटर में 20120 पंजीकृत विद्यार्थी 57 परीक्षा केंद्रों में परीक्षाएं देंगे। जबकि ललितपुर में हाईस्कूल में 21281 और इंटर में 15249 परीक्षार्थी 47 परीक्षा केंद्रों में परीक्षाएं देंगे। चार सचल दल इन सभी परीक्षा केंद्रों में लगातार भ्रमण करेंगे।
... और पढ़ें

फास्ट फूड की दुकान में आग लगने से मचा हड़कंप

झांसी। सोमवार सुबह थाना सीपरी बाजार क्षेत्र स्थित एक फास्ट फूड की दुकान में शॉर्ट सर्किट से किचन में आग लग गई। इससे दुकान पर मौजूद ग्राहकों व कर्मचारियों में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में सभी दुकान से बाहर भाग निकले। मौके पर पहुंची दमकल की गाड़ी ने पहुंचकर आग पर काबू पाया।
थाना कोतवाली के बड़ागांव गेट बाहर निवासी अशोक कुमार की थाना सीपरी बाजार क्षेत्र के संगम बिहार में फास्ट फूड के नाम से दुकान है। सोमवार दोपहर दुकान के किचन पर ग्राहकों के लिए फास्ट फूड बनाया जा रहा था। इसी बीच शॉर्ट सर्किट से किचन में आग लग गई। घबराकर कर्मचारी व ग्राहक बाहर निकल आए। सूचना पाते ही दमकल की गाड़ी ने पहुंचकर आग बुझाई। सिलेंडर में आग लगने से पहले उसे भी बाहर निकाल लिया गया। गनीमत रही कि कोई बड़ा हादसा नहीं हो पाया है।
... और पढ़ें

होमवर्क न करने पर 40 डंडों की सजा देने वाला शिक्षक निलंबित

होमवर्क पूरा न करने पर सजा बतौर कक्षा तीन से पांच तक की छात्राओं को 40 डंडे की सजा देने वाले शिक्षक को निलंबित कर दिया गया है। 15 फरवरी को ब्लॉक मड़ावरा के प्राथमिक विद्यालय धौलपुरा में हुई इस घटना को अमर उजाला ने प्रमुखता से प्रकाशित किया था। इसके बाद हरकत में आए शिक्षा विभाग ने खंड शिक्षा अधिकारी को जांच के लिए विद्यालय भेजा था। उन्हें छात्राओं ने आप बीती बताई और चोट के निशान दिखाए थे। उनकी रिपोर्ट पर बेसिक शिक्षा अधिकारी ने मंगलवार को आरोपी शिक्षक को निलिंबित कर दिया। हालांकि आरोपी शिक्षक पुष्पेंद्र सोनी का कहना है कि मामले में उन्हें बेवजह फंसाया गया है।
 
जांच अधिकारी के रूप में खंड शिक्षा अधिकारी महरौनी राजकुमार पुरोहित ने 17 फरवरी को प्राथमिक विद्यालय धौलपुरा ब्लॉक मड़ावरा का स्थलीय निरीक्षण किया। अपनी आख्या में उन्होंने अवगत कराया है कि विद्यालय में पढ़ने वाले बच्चों ने लिखित एवं मौखिक रूप से अवगत कराया है कि सहायक अध्यापक पुष्पेंद्र सोनी द्वारा दिए गए सवालों को हल नहीं करने पर पंद्रह फरवरी को कक्षा में बच्चों को डंडे से पीटा गया।

कक्षा चार के छात्र राज, कक्षा पांच की छात्रा रूपाली एवं कक्षा पांच की छात्रा नैनसी ने लिखित रूप से बयान दिए हैं। आख्या के अनुसार पैरों में चोटों के निशान की पुष्टि हुई है। जांच अधिकारी ने जांच में अध्यापक को प्रथम दृष्टया दोषी माना है। उसके कृत्य की निंदा करते हुए निलंबन की संस्तुति की गई है। बीएसए महाराज स्वामी ने इस आख्या पर शिक्षक को निलंबित कर दिया है।

पुलिस को क्यों नहीं दिखा सच

शिक्षा विभाग की जांच में तो शिक्षक द्वारा छात्राओं को डंडे मारने की बात की पुष्टि हो गई लेकिन पुलिस को सच नहीं दिखा। शनिवार को ही घटना की सूचना पुलिस को मिल गई थी। रविवार को आरोपी शिक्षक के खिलाफ गांव के ही एक युवक द्वारा तहरीर दे दी गई थी। लेकिन सोमवार तक मुकदमा दर्ज नहीं हुआ। किन्हीं कारणों से सोमवार शाम तक थाने में ही संबंधित पक्षों के बीच राजीनामा करा दिया गया। कुछ ऐसा हुआ कि पीड़ित बच्चियों के परिजनों ने लिखकर दे दिया कि खेल-खेल में उनके चोट लग गई है। शिक्षक के निलंबन के बाद पुलिस की भूमिका प्रश्नों के घेरे में आ गई है। गांव में लोग पूछते रहे कि शिक्षा विभाग को हकीकत पता चल गई और पुलिस ने राजीनामा करा दिया।
... और पढ़ें
teacher teacher

साल भर में 1000 से अधिक लोग जारी करा रहे फोटोयुक्त डाक टिकट

पहले डाक टिकटों पर महापुरुषों का ही फोटो होता था। अब शहर के आम लोग भी अपने फोटो से टिकट जारी करा रहे हैं। भारतीय डाक विभाग की ओर से संचालित की जाने वाली माई टिकट योजना के तहत जिले में प्रतिवर्ष एक हजार से अधिक लोग योजना का लाभ ले रहे हैं। योजना के तहत डाक टिकट के साथ ही लोग अपनी व परिजनों की फोटो को प्रकाशित करा सकते हैं। इसके लिए निर्धारित शुल्क तय किया गया है। पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष लगभग बीस फीसदी का इजाफा हुआ है।

जिले के प्रधान डाकघर में योजना की शुरुआत वर्ष 2014 में की गई थी। योजना के तहत ऐतिहासिक बैक ग्राउंड के साथ ही जारी करने वाले की तस्वीर होती है। इसके लिए विभाग की ओर से लगभग सौ से अधिक विकल्प दिये गये हैं। जिसको डाक टिकट संग्रह करने या डाक भेजने में लिफाफा पर चिपकाकर उपयोग किया जा सकता है। इसके लिए तीन सौ रुपये शुल्क को तय किया गया है। तीन सौ रुपये में फोटो युक्त बारह डाक टिकटों की एक शीट दी जाती है।

शीट में टिकट के साथ ही जारी करवाने वाले का फोटो भी होता है। इस वर्ष एक हजार से अधिक लोगों ने फोटो युक्त डाक टिकट को बनवाया है। जो पिछले वर्ष की तुलना में बीस फीसदी अधिक है। इस संबंध में प्रवर डाक अधीक्षक उग्रसेन ने बताया कि माई टिकट योजना लोगों द्वारा काफी पसंद की जा रही है। हर साल एक हजार से अधिक लोग योजना का लाभ ले रहे हैं।

ऐसे जारी करा सकते हैं

इसके लिए डाकघर में फार्म की व्यवस्था की गई है। जिस पर आवेदक अपना नाम, मोबाइल नंबर, पहचान पत्र, पते के प्रमाण का डिटेल देना होता है। जिस व्यक्ति का फोटो डाक टिकट पर लगना होता है उसकी दो तस्वीर व नाम भी देना होता है। केबल आधा घंटे में ही टिकट जारी कर दिया जाता है।
... और पढ़ें

मेडिकल कॉलेज में शुरू हुई कैथ लैब

मेडिकल कॉलेज में शुरू हुई कैथ लैब
झांसी। महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज में बने सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक में कैथ लैब शुरू हो गई है। मंगलवार को दो मरीजों की एंजियोग्राफी की गई। अब झांसी समेत बुंदेलखंड के मरीज रियायती दरों पर मेडिकल कॉलेज में एंजियोग्राफी करा सकेंगे।
मेडिकल कॉलेज में दिसंबर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तहत बने सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक का शुभारंभ किया था। इसके साथ ही ब्लॉक में ओपीडी शुरू हो गई थी। मंगलवार से कैथ लैब शुरू कर झांसी प्रदेश का पहला सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक बन गया। पहले दिन डॉ. निर्देश जैन व उनकी टीम सीनियर कैथ लैब टेक्नीशियन विशाल सिंह, विकास राजपूत, जूनियर टेक्नीशियन अविनाश ने दो मरीजों की एंजियोग्राफी की। इस दौरान प्राचार्य डॉ. साधना कौशिक ने कहा कि बुंदेलखंड के लोगों के लिए यह बड़ी उपलब्धि है। जल्द ही यहां पर एंजियोप्लास्टी और पेसमेकर की सुविधा भी मिलने लगेगी। एंजियोग्राफी करने वाली मशीन भी देश के गिने चुने बड़े अस्पतालों में ही है। इस दौरान एसआईसी डॉ. रविंद्र मिश्रा, सीएमएस डॉ. हरीशचंद्र आर्या, डॉ. एनएस सेंगर, डॉ. सुधीर कुमार मौजूद रहे।
... और पढ़ें

बजटः योगी के बजट से बुंदेलखंड में जगी विकास की बड़ी उम्मीदें

झांसी। मंगलवार को विधानसभा में पेश किए गए प्रदेश के आम बजट से बुंदेलखंड में विकास की बड़ी उम्मीदें जगी हैं। बात परिवहन की हो या स्वास्थ्य, रोजगार, सिंचाई, कृषि, उद्योग सभी क्षेत्रों के विकास के लिए बजट में प्रावधान किया गया है। लोगों का कहना है कि बजट की ये बातें कागजी बनकर न रह जाएं, विकास की योजनाएं धरातल पर साकार हों, तभी क्षेत्र का विकास होगा।
दिल्ली विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को मिली करारी शिकस्त के बाद से अंदाजा लगाया जाने लगा था कि उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार जन आकांक्षाओं के अनुरूप बजट पेश करेगी। लोगों की ये उम्मीदें योगी सरकार के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना द्वारा विधानसभा में पेश किए गए बजट में देखने को मिली हैं। बजट के जरिये सरकार ने हर वर्ग को साधने की कोशिश की है। शिक्षित युवाओं के लिए मुख्यमंत्री एप्रेंटिसशिप योजना शुरू की गई है। इसमें युवाओं को 2500 रुपये प्रतिमाह मिलेंगे। युवा उद्यमिता विकास अभियान के तहत प्रदेश के हर जिले में ‘युवा हब’ बनाने के लिए 50 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है। रोजगार के मामले में पिछड़े बुंदेलखंड के लिए ये योजना बेहद उपयोगी मानी जा रही है। मुख्यमंत्री ने बताया है कि डिफेंस कॉरिडोर में 50 हजार करोड़ रुपये के निवेश प्राप्त हुए हैं। इसके लिए पर्याप्त इंफ्रास्ट्रक्चर सरकार प्राथमिकता से उपलब्ध कराएगी। पानी की समस्या को खत्म करने का प्रावधान जोड़ते हुए बजट में किसानों को लाभ पहुंचाने की कोशिश की गई है, वहीं पहली बार बटाईदार किसानों के लिए बीमा की व्यवस्था की गई है। बुंदेलखंड की बड़ी समस्या अन्ना पशुओं से निपटने के लिए निराश्रित गोवंश भरण - पोषण व गो आश्रय स्थल बनाने का प्रावधान भी बजट में जोड़ा गया है।
यातायात के मामले में भी सरकार ने बुंदेलखंड को खुश करने की कोशिश की है। बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का इसी माह शिलान्यास करने की घोषणा की गई है, तो वहीं प्रदेश के पांच शहरों समेत झांसी में मेट्रो ट्रेन चलाने की घोषणा की है। इसके लिए दो सौ करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है। प्रदेश के अन्य जनपदों समेत ललितपुर में मेडिकल कॉलेज खोले जाने की बजट में व्यवस्था की गई है।
कुल मिलाकर बजट में सभी वर्गों के लिए कुछ न कुछ किया गया है। अब जरूरत तो बस इसके प्रभावी ढंग से क्रियान्वयन की है। लोगों का कहना है कि सरकार इसे प्राथमिकता से ले।
... और पढ़ें

बूंदबूंद पानी के लिए तरसते महानगर वासियों मेट्रो के सफर का सपना देखिए

झांसी। योगी सरकार ने बजट में 200 करोड़ रुपये का प्रावधान कर शहर वासियों को मेट्रो का सपना तो दिखा दिया लेकिन बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रहे लोगों के लिए यह किसी सब्जबाग किसी से अधिक नहीं है। सीपरी समेत आधा शहर देर रात जागकर कुछ मिनट पानी आने का इंतजार करता है। प्रेशर इतना कम आता है कि एक बाल्टी भरने में आधा घंटा लगता है। कई इलाकों में गंदा, बदबूदार पानी आता है। गर्मियां आने को हैं पानी का संकट गहराना तय है। सरकार ने बजट में ग्रामीण पेयजल व्यवस्था सुधारने की तो पहल की है पर झांसी की समस्या जस की तस है। शहरवासी इस विकराल समस्या के कारगर समाधान के लिए बजट पर टकटकी लगाए थे।
झांसी में मेट्रो ट्रेन के एलान के साथ ही बजट का इंतजाम करके झांसीवासियों के सपनों में उड़ान भर दी। इस बार खास बात यह है कि सरकार ने मेट्रो अथवा लाइट मेट्रो के लिए शुरूआत में 200 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है। इससे काम कुछ आगे बढ़ने की उम्मीद है हालांकि बजट में यह साफ नहीं है कि यह पैसा किस महकमे के मार्फत खर्च किया जाएगा।
झांसी में मेट्रो का एलान पहले भी किया जा चुका लेकिन, अबकी बार बजट के प्रावधान करने से यह बात एक कदम आगे बढ़ी है। यूपी सरकार अभी सिर्फ लखनऊ में ही मेट्रो चलवा सकी है जबकि प्रयागराज, कानपुर, मेरठ जैसे शहरों में डीपीआर बनाने का काम पिछले करीब पांच साल से चल रहा है। तकनीकी जानकारों का कहना है कि मेट्रो प्रोजेक्ट में काफी खर्च आने के साथ ही काफी समय भी लगता है। डीपीआर (डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट) तैयार करने में ही करोड़ों रुपये खर्च हो जाते हैं। भूमि परीक्षण समेत तमाम सारी तकनीकी जांच करनी होती है। लंबी प्रक्रिया के बाद ही रुट तय होने का काम शुरू होता है। अगर समय पर बजट मिलता रहे तब भी इस काम के पूरा होने में पांच साल से अधिक लगना तय है। बजट में शहर के पानी की समस्या का समाधान न होने से लोगों में निराशा दिखी।
एक किलोमीटर पर 960 करोड़ से अधिक लागत
काफी खर्चीला है मेट्रो का सफर
मेट्रो का सफर अरामदायक तो होता है लेकिन, यह प्रोजेक्ट काफी खर्चीला भी होता है। भारी-भरकम बजट होने से ही तमाम दूसरे शहरों में इसके प्रोजेक्ट रफ्तार नहीं पकड़ पा रहे। प्रयागराज, कानपुर, मेरठ जैसे शहरों में इसका काम प्राथमिक दौर से आगे ही नहीं बढ़ सका। तकनीकी जानकारों के मुताबिक मेट्रो लाइन बिछाने में प्रति किलोमीटर करीब 960 करोड़ रुपये खर्च आता है। अगर मेट्रो लाइन अंडर ग्राउंड बिछाई गई तब इसकी लागत दोगुनी हो जाती है। मेट्रो लाइन बिछाने के साथ ही इसका रखरखाव भी काफी महंगा होता है। इसी वजह से तमाम बड़े शहर इसकी जगह सार्वजनिक परिवहन के लिए इलेक्ट्रिक बसों को तरजीह देते दिखते हैं। झांसी में स्मार्ट सिटी मिशन के तहत इलेक्ट्रिक बसें स्वीकृत हो चुकी हैं। 25 करोड़ की लागत से इन बसों को खरीदा जाना है। इन बसों के संचालन के जल्द शुरू होने की उम्मीद है।
झांसी को मेट्रो की सौगात देकर सरकार ने प्रशंसनीय काम किया है। पहली बार बजट का इंतजाम किया गया है। विस्तृत जानकारी आने के बाद नगर निगम इस दिशा में काम शुरू करेगा।
रामतीर्थ सिंघल
महापौर
... और पढ़ें

दिल्ली के युवक ने फांसी लगाई

झांसी। सोमवार की रात नवाबाद थाना क्षेत्र के स्टेशन मार्ग पर फ्लावर कंपाउंड स्थित आनंद लॉज के कमरा नंबर 12 में सोमवार की रात उत्तर पश्चिम दिल्ली में रहने वाले एक युवक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। युवक दिल्ली की एक नल फैक्ट्री में काम करता था और सामान का ऑर्डर लेने झांसी आया था। फोरेंसिक टीम ने नमूने लिए। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।
उत्तर पश्चिम दिल्ली के लिवासपुर समयपुर बादली की गली नंबर 20 निवासी मयंक अग्रवाल (35) नल फैक्ट्री में सुपरवाइजर के पद पर कार्यरत थे। विगत 13 फरवरी को वह व्यापारियों से कंपनी का ऑर्डर लेने झांसी आए थे। यहां उन्होंने स्टेशन मार्ग पर फ्लावर कंपाउंड स्थित आनंद लॉज में चार सौ रुपये दिन के हिसाब से कमरा नंबर 12 ले रखा था। सोमवार की रात उन्होंने कमरे में लगी सीमेंट की जाली में कपड़े का फंदा बनाया। पलंग के ऊपर स्टूल रखा और इसके बाद फंदे पर झूल गए। मंगलवार की सुबह सफाई कर्मचारी ने दरवाजा खटखटाया, लेकिन काफी देर तक न खुलने पर वह चला गया। जब 11 बजे तक कमरे का दरवाजा नहीं खुला तो मैनेजर दीपचंद्र्र ने जानकारी पुलिस को दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने कुंडी को तोड़ा। कमरे में मयंक का शव फंदे पर लटक रहा था। घटनास्थल का निरीक्षण करने के बाद पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल कॉलेज भेज दिया। देर रात तक पुलिस परिजनों के आने का इंतजार कर रही थी।
इस मामले में नवाबाद प्रभारी निरीक्षक विनोद कुमार मिश्र ने बताया कि मयंक आठ फरवरी को भी झांसी आया था और दो दिन इसी लॉज में आकर ठहरा था। उसका मोबाइल कहां गया? इसका पता किया जा रहा है।
नहीं मिला मोबाइल, पर्ची पर लिखे मिले नंबर
पुलिस को कमरे में मयंक का मोबाइल नहीं मिला। वह पलंग पर एक पर्ची जरूर लिखकर छोड़ गए, जिसमें पत्नी मोनिका, बहन प्रियंका, मां ममता, साली शिवानी का मोबाइल नंबर लिखा था।
परिवार में हैं ये लोग
मयंक के पिता माया प्रकाश अग्रवाल की तीन साल पहले मृत्यु हो चुकी है। वे मां, पत्नी, तीन साल की बेटी व बहन के साथ दिल्ली में रह रहे थे। दूरभाष पर ससुर प्रेम कुमार शाह ने बताया कि उनकी बेटी के साथ साढ़े चार साल पहले मयंक की शादी हुई थी। हादसे का पता लगने के बाद से वे सदमे में हैं। धीरे- धीरे पता लग रहा है कि गौरव ने कई जगह से पैसा ले रखा था। मगर उसने जिक्र कभी नहीं किया।
... और पढ़ें

इस बार औषधीय पौधों को लगाएगा वन विभाग

झांसी। मंडल के झांसी व उरई में पहली बार वन विभाग द्वारा औषधीय पौधे लेमन ग्रास, पाम रोजा, आंवला व बेल को पौधों को लगायेगा। इसके लिए झांसी की वनगुआ व उरई की संकट मोचन नर्सरी का चयन किया गया है। विभाग द्वारा तैयारियों को शुरू कर दिया गया है।
पर्यावरण संतुलन के लिए वन विभाग द्वारा प्रत्येक वर्ष पौधों को लगाया जाता है। इसके अलावा अन्य विभागाें को भी वन विभाग द्वारा पौधों को दिया जाता है। हर बार विभाग छायादार व फलदार पौधों को तैयार किया जाता है। लेकिन इस बार वन विभाग ने औषधीय पौधों को लगाने का निर्णय लिया है। इसके लिए पांच हेक्टेयर जमीन पर एक हजार पौधों को लगाने की योजना को तैयार किया है। योजना के तहत उरई व झांसी की नर्सरियों में पौधों को तैयार किया जाएगा।
इस संबंध में वन संरक्षक एके सिंह ने बताया कि विभाग द्वारा इस बार औषधीय पौधों को लगाने की योजना को तैयार किया गया है। मंडल की दो नर्सरियों में तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। इसके लिए सीमप व कैफ्टी संस्थानों से तकनीकी जानकारी हासिल जाएगी।
... और पढ़ें

ऋणमाफी की उम्मीद में बैठे किसान मायूस

झांसी। यूपी सरकार के बजट से खास कर बुंदेलखंड के कर्जधारक किसान खासे मायूस हुए हैं। सत्ता संभालने के बाद पिछले तीन साल से लगातार योगी सरकार ऋण माफी के बजट का एलान करती रही। झांसी में इसके जरिए 60 हजार किसानों के कर्ज माफ हुए लेकिन करीब डेढ़ लाख कर्जदार किसान इसके बोझ तले अब भी दबे हैं। इन कर्जधारक किसानों को बजट से काफी उम्मीदें थीं, लेकिन सरकार ने अबकी कर्जमाफी से हाथ खींचकर किसानों को मायूस कर दिया।
योगी सरकार ने अपने पहले बजट से किसान ऋणमोचन योजना आरंभ की थी। लगातार तीन बजट से योगी सरकार किसानों की कर्जमाफी के लिए बजट दे रही लेकिन, अबकी बार उसने इस मद के बजट को शून्य कर दिया हालांकि सितंबर माह से ही किसानों का ऋण माफ नहीं हो रहा है। कृषि विभाग के आकड़ों के मुताबिक योजना के लिए 1,42,378 किसान चिन्हित हुए लेकिन, सिर्फ 60,787 को ही फायदा मिला। इनकी कर्जमाफी के लिए 323.05 करोड़ रुपए खर्च हुए लेकिन, बड़ी संख्या में कर्जधारक किसान अभी भी लाभ से वंचित हैं। वंचित किसान अफसरों के चक्कर काट रहे थे। उनको नए बजट का इंतजार करने को कहा गया लेकिन, आज पेश हुए बजट से इन सभी किसानों को झटका लगा है।
मिट्टी की वजह से खेती खर्चीली
बुंदेलखंड में किसानी दूसरी जगहों के मुकाबले अधिक खर्चीली एवं खतरे से भरी होती है। झांसी में कुल 342.099 हेक्टेयर क्षेत्रफल में खेती होती है। इसमें पड़वा मिट्टी 161.64 हेक्टेयर एवं राकड़ मिट्टी 56.68 हेक्टेयर है। यहां फसल के लिए सामान्य से दो गुनी सिंचाई की आवश्यकता होती है। आम तौर पर रबी के लिए चार बार सिंचाई होती है लेकिन यहां सात बार तक सींचना पड़ता है जबकि उपज प्रति हेक्टेयर 20 कुंतल से अधिक नहीं होती। सिंचाई अधिक होने से लागत काफी बढ़ जाती है। ऐसे में यहां खेती-किसानी करना काफी चुनौती पूर्ण है। लागत के मुकाबले उपज का मूल्य न मिलने से यहां किसान हमेशा कर्ज के चंगुल में फंसा रहता है। बुंदेलखंड में अन्ना जानवरों किसानों के दूसरी बड़ी समस्या हैं। खेतों में फेसिंग बनाने के लिए मदद की दरकार थी लेकिन, बजट में ऐसी योजना का एलान न होने से किसान मायूस हुए हैं हालांकि निराश्रित गौवंश के भरण पोषण एवं गौ आश्रय स्थल बनाए जाने के संबंध में बजट में प्रावधान किया गया है।
पचास हजार बंटाईदार किसानों को फायदा
मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना के जरिए बंटाईदार किसानों के लिए भी बीमा का प्रावधान किया गया। इससे यहां करीब पचास हजार किसानों को इसका फायदा मिल सकेगा। इसके जरिए बंटाईदार किसानों को दुर्घटना होने की दशा में प्रतिफल देने की व्यवस्था की गई है। इन बंटाईदार किसानों को आप्रकृतिक मौत, अपंगता आदि दशा में वित्तीय मदद की जाएगी।
किसानों को सिखाया जाएगा पराली प्रबंधन
पराली से निपटने के लिए बजट में प्रावधान किया गया है। इस बार पराली जलाने के आरोप में झांसी में दो सौ से अधिक किसानों के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई की। पुलिसिया कार्रवाई ने किसानों में डर भर दिया। सरकार की मंशा है कि पराली प्रबंधन केजरिए किसानों, अधिकारियों व कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया जाएगा।
लघु सिंचाई योजना से मजूबत होगी व्यवस्था
बजट में मुख्यमंत्री लघु सिंचाई योजना के एलान से बुंदेलखंड में फायदा होने की उम्मीद है। बमौर, गुरसराय, गरौठा के तमाम इलाके अभी तक असिंचित हैं। इसके जरिए यहां के किसानों को खेती किसानी के लिए पानी मिल सकता है। इसी तरह सरकार ने 3000 करोड़ रुपये जल जीवन मिशन के लिए देने की व्यवस्था की है। इसके जरिए प्यास से जूझ रहे ग्रामीण इलाकों तक पानी पहुंचाया जा सकेगा। इसी तरह बजट में तालाबों को विकसित करने का भी प्रावधान किया गया है। सरकार ने भूमि संरक्षण, खेत तालाब योजना को भी बढ़ाने के लिए बजट में प्रावधान किया है।
... और पढ़ें

आरपीएफ ने पकड़ा डीजल चोर

झांसी। आरपीएफ की डिटेक्टिव विंग ने करारी रेलवे स्टेशन से डीजल चोरी के मामले में वांछित चल रहे आखिरी आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। इसके पूर्व 10 आरोपी पकड़े जा चुके हैं।
विगत 20 नवंबर 2019 को करारी रेलवे स्टेशन की लूप लाइन में खड़ी मालगाड़ी से बदमाश डीजल चोरी कर ले गए थे। आरपीएफ ने इस मामले में 10 आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। इनमें अरविंद परिहार, शिवम परिहार, अमित सेन, राजाराम अहिरवार, दिनेश कुशवाहा, रिंकू कुशवाहा, नीरज कुशवाहा, छोटू कुशवाहा व धीरेंद्र परिहार पहले ही पकड़े जा चुके हैं। जबकि, मंगलवार को आरपीएफ की डिटेक्टिव विंग की टीम ने प्रभारी एसएन पाटीदार के नेतृत्व मेें आखिरी आरोपी दतिया के सिविल लाइन थाना क्षेत्र के महाराजपुरा निवासी मानवेंद्र सिंह गुर्जर को गिरफ्तार कर लिया।
... और पढ़ें

जिला अस्पताल में युवक की मौत पर हंगामा

झांसी। जिला अस्पताल में उपचार के दौरान एक युवक की मौत पर परिजनों ने हंगामा किया। पुलिस ने समझाबुझाकर परिजनों को शांत कराया। पुलिस ने पंचनामा भरकर शव को पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल कॉलेज भेज दिया।
प्रेमनगर थाना क्षेत्र के पुलिया नंबर नौ निवासी रामस्वरूप का पुत्र संजय भदौरिया (27) ग्वालियर मार्ग पर एक चार्टर्ड एकाउंटेंट के यहां काम करते थे। सीए के कहने पर मंगलवार की दोपहर वह इलाइट चौराहा के नजदीक स्थित 48 चैंबर में किसी ग्राहक के पास गए थे। वहां उन्होंने अपने साथी सोनू वर्मा को बताया कि उनको सांस लेने में तकलीफ हो रही है। इस पर सोनू उनको जिला अस्पताल ले गया। यहां चिकित्सक ने इंजेक्शन देने के बाद ईसीसी कराने के लिए कहा। मगर दोपहर दो बजे ईसीसी केंद्र बंद हो गया था। दोबारा वह आकस्मिक विभाग पहुंचे, जहां कुछ देर में ही संजय की मौत हो गई। इधर, घटना की खबर मिलते ही परिजन व बड़ी संख्या में शुभचिंतक मौके पर पहुंच गए। परिजन मौत के लिए अलग- अलग आरोप लगाने लगे। इससे हंगामे की स्थिति बन गई। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने परिजनों को समझाया कि पोस्टमार्टम में हकीकत सामने आ जाएगी। इसके बाद परिजन शांत हो गए।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं
dhanterash & diwali coupan
dhanterash & diwali coupan
dhanterash & diwali coupan
dhanterash & diwali coupan

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us