विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

उत्तर प्रदेश के 15 जिले आज रात 12 बजे से पूरी तरह से होंगे सील

उत्तर प्रदेश में तब्लीगी जमात के लोगों के चलते कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 350 हो गई है।

8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

कानपुर

बुधवार, 8 अप्रैल 2020

कानपुर देहात: शॉर्ट सर्किट से खेत में लगी भीषण आग, 10 बीघा गेहूं की फसल जलकर राख

केंद्र के बाद अब यूपी सरकार भी लेने जा रही फैसला, विधायकों की दो साल की निधि खत्म करने की तैयारी

पूर्ण लॉकडाउन:  कानपुर में बेवजह घर से निकलने पर पुलिस ने सिखाया सबक, बीच चौराहे पर बनाया मुर्गा

हरदोई: मां की दवा लेने गए बेटे को ट्रक ने मारी टक्कर, दर्दनाक मौत, दोस्त की हालत गंभीर

हरदोई जिले के मल्लावां संडीला रोड पर ट्रक ने बाइक में टक्कर मार दी। हादसे में बाइक सवार एक युवक की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि उसका साथी गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल को जिला अस्पताल रेफर किया गया है। 

कछौना थाना के गांव बालामऊ निवासी सलमान (40) पुत्र नाजिम की मां जमीएलु बीमार रहती है। उनकी दवा होम्योपैथिक की चलती है। वह दवा कस्बे के होम्योपैथिक चिकित्सक से लेती है। बुधवार को सलमान गांव के ही साथी इसराइल (27) पुत्र यासीन के साथ दवा लेने बाइक से निकले थे।

सुबह करीब 11 बजे मल्लावां संडीला रोड पर रेलवे स्टेशन के निकट निर्मला देवी धाम के सामने से आ रहे गैस सिलिंडर लदे ट्रक ने टक्कर मार दी। जिसमे सलमान की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि चालक ट्रक को गौसगंज की ओर लेकर भाग गया। उसका साथी इसराइल गंभीर रूप से घायल हो गया।

घटना की सूचना पर वरिष्ठ उपनिरीक्षक वीरेन्द्र सिंह तोमर फोर्स के साथ मौके पर पहुंचकर घायल को सीएचसी में भर्ती कराया। जहां पर उसकी हालत गंभीर होने पर चिकित्सक ने उसको जिला अस्पताल रेफर कर दिया।

मृतक के भाई यासीन ने बताया कि सलमान अपना निजी वाहन चलाने का काम करता था।  उसके दो बच्चों में एनुलहक (7) व जुहैब (5) है। पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मौत की खबर मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार बाइक सवार दोनों हेलमेट नहीं लगाए थे। कोतवाल कमलेश कुमार ने बताया कि ट्रक की तलाश की जा रही है।
... और पढ़ें
मृतक की फाइल फोटो, घटना स्थल पर मौजूद पुलिस मृतक की फाइल फोटो, घटना स्थल पर मौजूद पुलिस

हैलट में डॉक्टर के बेटे की मौत पर अखिलेश का ट्वीट, लिखा- मरीज की उपेक्षा न करे मेडिकल स्टाफ

कानपुर के हैलट अस्पताल में कोरोना के डर से आम मरीजों के इलाज में लापरवाही हो रही है। स्टाफ मरीजों को छूने से भी डर रहा है। इसी के चलते एक युवक की जान चली गई। इसी संबंध में बुधवार को पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने ट्वीट कर लिखा कि- ये दुखद है कि कानपुर के एक डॉक्टर को एंबुलेंस की अनुपलब्धता और हैलेट हॉस्पिटल में स्ट्रेचर व अन्य चिकित्सीय सहायता के अभाव में अपना बेटा खोना पड़ा। 

सरकार व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण देकर ये सुनिश्चित करे कि कोरोना की आशंका के डर से मेडिकल स्टाफ किसी भी मरीज की उपेक्षा न करे।

 


बताते चलें कि इंदिरा नगर निवासी आनंद को ढंग से इलाज नहीं मिल पाया। हालत बिगड़ने पर आईसीयू में शिफ्ट किया गया लेकिन जान नहीं बच सकी। रविवार को इंदिरा नगर के डॉ. राकेश पांडेय अपने पुत्र आनंद को लेकर हैलट आए थे। आनंद को तेज खांसी व सीने में दर्द था। फ्लू ओपीडी में दिखाने के बाद एक्सरे के लिए भेजा गया। यहां कर्मचारी दूर भाग खड़े हुए।

हो-हल्ला मचने पर कर्मचारियों ने स्ट्रेचर लाकर दे दिया। पिता खुद बेटे को स्ट्रेचर पर लेकर इमरजेंसी गए। फिर उसे आईसीयू में शिफ्ट कर दिया गया। जहां इलाज के दौरान मौत हो गई।

पिता का आरोप है कि कर्मचारी मरीज को छूने से कतराते रहे। वक्त से इलाज मिल जाता तो बेटा बच सकता था। परिवार में पत्नी और तीन माह की बच्ची है। प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डॉ. आरके मौर्या ने कहा कि इलाज में देर करने वाले दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।


... और पढ़ें

पूर्ण लॉकडाउन: आदेशों की उड़ रही धज्जियां, तस्वीरों में देखें कानपुर का हाल

अखिलेश यादव

देश, विदेश से कानपुर आने वालों की तलाश शुरू, डीआईजी कार्यालय से भेजी गई लिस्ट में हैं सैकड़ों नाम

कानपुर में डीआईजी कार्यालय से भेजी गई लिस्ट के आधार पर मंगलवार को पुलिस ने देश, विदेश से शहर आने वालों की तलाश शुरू कर दी है। किदवईनगर थाना पुलिस ने ऐसे ही तीन लोगों को तलाश करने के बाद उनकी स्वास्थ्य विभाग की टीम से जांच कराई है।

बाबूपुरवा सीओ आलोक सिंह ने बताया कि डीआईजी कार्यालय से भेजी गई लिस्ट में सैकड़ों नाम हैं। सभी थाना क्षेत्रों को लिस्ट भेज दी गई है। पुलिस दिए गए पते पर जाकर बाहर से आए लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण कराएगी और लोकेशन भी चेक की जाएगी।

जूही लाल कालोनी चौकी के इंचार्ज आलोक तिवारी ने बताया कि उनके क्षेत्र में करीब 20 लोगों के विदेश से आने की लिस्ट है। मंगलवार को दुबई से आए तीन लोगों की स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जांच की, जिनमें फिलहाल कोरोना वायरस के कोई लक्षण नहीं मिले हैं। वे यहां 14 फरवरी से हैं।
... और पढ़ें

न्यूयॉर्क में बाघिन को हुआ कोरोना तो कानपुर चिड़ियाघर में बढ़ी सतर्कता, बाड़ों में सैनिटाइजेशन

न्यूयॉर्क के चिड़ियाघर में एक बाघिन को कोरोना होने से स्थानीय चिड़ियाघर में भी मंगलवार को सतर्कता बढ़ा दी गई। सभी दुर्लभ वन्य प्राणियों की निगरानी के साथ जू कीपरों व अन्य कर्मचारियों पर नजर रखी जा रही है। इनमें से किसी में कोरोना जैसे लक्षण दिखने पर तत्काल चिड़ियाघर प्रशासन को सूचित करने को कहा गया है, ताकि शुरुआत में ही समुचित इलाज हो सके।  

न्यूयॉर्क के ब्रोंक्स चिड़ियाघर में बाघिन में कोरोना की पुष्टि को दुनिया का ऐसा पहला मामला बताया जा रहा है।  स्थानीय चिड़ियाघर के डॉ. यूसी श्रीवास्तव ने बताया कि सभी दुर्लभ वन्य प्राणियों पर नजर रखी जा रही है। सभी स्वस्थ हैं। इनकी देखरेख करने वाले कर्मचारी भी स्वस्थ हैं। देश में लॉकडाउन लागू होने से पहले ही चिड़ियाघर प्रशासन ने यहां दर्शकों के प्रवेश पर रोक लगा दी थी। जो अभी भी जारी है। कर्मचारियों को एहतियातन दवा खिलाई गई है।

बाड़ों में कराया सैनिटाइजेशन
कोरोना से बचाव के लिए चिड़ियाघर प्रशासन ने मंगलवार को बाड़ोें में सैनिटाइजेशन कराया। साथ ही चिड़ियाघर के प्रवेश द्वार पर सभी अधिकारियों के वाहन भी सैनिटाइज हुए। टायर धोने के बाद इन वाहनाें को प्रवेश मिला। प्राणी उद्यान के निदेशक सुनील चौधरी ने बताया कि कर्मचारियों, वन्य प्राणियों को संक्रमण से बचाने के लिए हर संभव प्रयास हो रहे हैं।

पीपीई किट भी खरीदी जा रही है। बिल्लियों के घरों में सीसीटीवी नेटवर्क को और मजबूत किया जा रहा है। क्वारंटीन और आइसोलेशन के लिए जगह चिह्नित और साफ कर ली गई है। प्रभारी पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ. आरके सिंह मुख्य चिकित्सा अधिकारी के संपर्क में हैं। कहा कि सभी पशुओं को इम्यूनोमॉड्यूलेटर के साथ मीट दिया जा रहा है।

चिड़ियाघर में दुर्लभ सहित अन्य पशु, पक्षियों की कुल संख्या- 1487
दुर्लभ व मांसाहारी वन्य प्राणी - 101, इनमें 5 शेर, 8 बाघ, 24 तेंदुआ और 64 सियार, लकड़बग्घा, लोमड़ी, भेड़िया आदि शामिल।
 
... और पढ़ें

लॉकडाउन में कानपुर का प्रदूषण धड़ाम, जिन चौराहों पर 500 एक्यूआई रहता था वहां अब 50 के नीचे

कानपुर में लॉकडाउन की वजह से प्रदूषण की मात्रा में भारी कमी आई है। मंगलवार को विभिन्न क्षेत्रों में रिकॉर्ड की गई प्रदूषण की मात्रा निर्धारित मानक से भी कम रही। जिन चौराहों पर वाहनों की भीड़ के चलते एक्यूआई 400 से 500 रहता था, वहां 50 से भी नीचे आ गया है।

वाहनों के न चलने से चिलचिलाती धूप में भी प्रदूषण धड़ाम है। स्मार्ट सिटी योजना के तहत शहर में कई जगहों पर लगाए गए प्रदूषण मापक मीटर में सबसे अधिक एक्यूआई नौबस्ता चौराहा के आसपास 42.27 रहा। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार सामान्य एक्यूआई 0 से 50 होता है। जबकि 0 से 100 एक्यूआई में स्वस्थ व्यक्ति कोई विशेष परेशानी नहीं होती।

शहर के प्रमुख क्षेत्रों का एक्यूआई : विजयनगर 41.35, आईआईटी गेट 39.24, फूलबाग 38.5, किदवई नगर चौराहा 37.11, भैरोघाट 36.69, मोतीझील 37.10, सिंहपुर 40.63, गोल चौराहा 36.97, नौबस्ता चौराहा 42.27, रामादेवी चौराहा 39.92, जाजमऊ 36.43, टाटमिल चौराहा 39.44, जरीब चौकी 36.47।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us