विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सावन के सोमवार पर कराएं शिव का सहस्राचन, मिलेगी समस्त आकस्मिक परेशानियों से मुक्ति
SAWAN Special

सावन के सोमवार पर कराएं शिव का सहस्राचन, मिलेगी समस्त आकस्मिक परेशानियों से मुक्ति

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

कौशाम्बी में कोरोना के दो नए पॉजिटिव मिले

कौशाम्बी में दो नए कोरोना मरीज मिले हैं। इनकी जांच रिपोर्ट लैब में भेजी गई थी, जिसमें कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। इसके बाद जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग हरकत में आ गया है।

मेडिकल कालेज के कोरोना लैब में बुधवार सुबह की शिफ्ट में कुल 43 सैंपल्स की जांच की गई, जिसमें प्रयागराज केा 3, चित्रकूट के 23, सोनभद्र के 9, मिर्जापुर के 5 और कौशाम्बी के तीन नमूने शामिल थे। सभी नमूने निगेटिव पाए गए, लेकिन कौशाम्बी के तीन सैंपल में से दो में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है।  जिले में अब संक्रमितों की संख्या तीन हो गई है।

सिराथू तहसील क्षेत्र के अलग-अलग गांवों में रहने वाले ये दोनों युवक मुंबई में रहकर प्राइवेट नौकरी करते थे। नौ मई को दोनों खाद्यान्न लदे वाहनों पर लिफ्ट लेते हुए घर पहुंचे। इनको गांव के क्वारंटीन सेंटर पर शिफ्ट कर दिया गया। साथ ही खून का नमूना जांच के लिए प्रयागराज लैब भेज दिया गया। बुधवार को दोनों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा ने बताया कि संक्रमितों के गांव के प्रत्येक ग्रामीण की थर्मल स्क्रीनिंग कराई जाएगी। संक्रमितों के संपर्क में आने वालों को क्वारंटीन कर दिया गया है। इनके स्वाब का सैंपल भी जांच के लिए भेजा गया है।
दोनो को प्रयागराज लाया जा रहा है। इनके परिवार को होम क्वारंटीन किया गया है। संपर्क में आने वालों का पता लगाया जा रहा है।

n the Morning shift we have tested 43 samples ( Chitrakoot 23,Sonbhadra 9, Mirzapur 5, prayagraj 3,kaushambi 3 ) All are negative except 2 (Md. Javed and Bacchalal from kaushambi) are positive.
... और पढ़ें

कौशाम्बीः संक्रमितों के गांव के आसपास सात किमी की परिधि में आने वाले सभी गांव होंगे सील

मंझनपुर। जिले में मिले तीनों कोरोना संक्रमितों के गांवों को फिलहाल प्रशासन ने सील कर दिया है। हालांकि इतना काफी नहीं है। नियमानुसार 24 घंटे के भीतर संक्रमितों के गांवों के आसपास सात किलोमीटर की परिधि में बसे पूरे इलाके को सील किया जाएगा। डीएम मनीष कुमार वर्मा ने इसके लिए मातहतों को जरूरी दिशा-निर्देश दे दिया है।

एसपी अभिनंदन ने बताया कि तीनों संक्रमित कोखराज कोतवाली क्षेत्र के ही अलग-अलग गांवों के रहने वाले हैं। इनमें दो का गांव तो बिल्कुल सटा हुआ है। तीनों गांवों को रिपोर्ट आते ही एसपी के निर्देश पर कोखराज कोतवाल ने बैरिकेडिंग करके सील कर दिया। एसपी ने बताया कि अब इन गांवों में किसी को भी आने-जाने नहीं दिया जाएगा। जरूरी सामानों की आपूर्ति डोर-टू-डोर कराई जाएगी। किसानी के कार्य की शारीरिक दूरी के साथ ही छूट मिलेगी।

किसी ने बेपरवाही करने की कोशिश भी की तो सीधे एफआईआर दर्ज करा दी जाएगी। एसपी ने ये भी बताया कि 24 घंटे के भीतर संक्रमितों के गांवों के आसपास वाले सात किलोमीटर के इलाके को सील कर दिया जाएगा। सभी ग्रामीणों के स्वास्थ्य का चिकित्सकीय टीम ने घर-घर जाकर परीक्षण शुरू कर दिया है। गुरुवार से सीएमओ डॉ. पीएन चतुर्वेदी और डिप्टी सीएमओ खुद गांवों में डेरा डालकर चिकित्सकीय कार्य की मॉनीटरिंग करेंगे। डीएम ने सीएमओ को इस बाबत जरुरी दिशा-निर्देश दे दिया गया है।
 
... और पढ़ें

किसी में नहीं दिखे रहे थे कोरोना के लक्षण, फिर भी पॉजिटिव आई रिपोर्ट

 जिले में 24 घंटे के भीतर मिले तीनों संक्रमितों में कोरोना के शुरूआती लक्षण नहीं दिख रहे थे। परदेश से लौटने के कारण प्रशासन ने एहतियातन इनका ब्लड सैंपल जांच के लिए भेजा था। अब रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद पूरा स्वास्थ्य महकमा सन्न है। किसी को भी कुछ समझ नहीं आ रहा है। जिलाधिकारी ने चिकित्सा विभाग के साथ पुलिस को भी और अधिक चौकन्ना कर दिया है।

उद्योग विहीन कौशाम्बी जिले के हजारों लोग दूसरे बड़े शहरों में रहकर प्राइवेट नौकरी करते हैं। लॉकडाउन के बाद अब यह सभी कोई न कोई जुगाड़ कर घर लौट रहे हैं। प्रशासन इन्हें या तो क्वारंटीन सेंटर पर शिफ्ट करा रहा है या फिर घर पर ही एकांतवास बिताने की हिदायत दे रहा है। संक्रमण के लक्षण सर्दी, खांसी, बुखार और सांस लेने में तकलीफ पहले तो यहां किसी को हुई ही नहीं। अफसरों का कहना था कि किसी में लक्षण मिलते तो तत्काल उसे अस्पताल में भर्ती कराया जाता। खैर, एहतियातन खून का नमूना जांच के लिए सभी एकांतवासियों का भेजा जा रहा था।

जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा ने बताया कि जिन तीन युवकों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है, उनमें संक्रमण के लक्षण नहीं थे। अचानक से रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए। डीएम-एसपी ने सभी कोतवालों को अलर्ट कर दिया है। कहा है कि अब कोई भी एकांतवासी बेपरवाही नहीं करे। ऐसा करने वालों को सीधे गांव से दूर किसी क्वारंटीन सेंटर पर भेज दिया जाए। डीएम ने सीएमओ से भी कहा है कि बाहर से आने वालों का गंभीरता के साथ स्वास्थ्य परीक्षण किया जाए और सभी का खून जांच के लिए भेजा जाए।
... और पढ़ें

कौशाम्बी में रास्ते के विवाद में युवक को चापड़ से काट डाला

पूरामुफ्ती कोतवाली क्षेत्र के इस्माइलपुर कोटवा गांव में सोमवार सुबह रास्ते के विवाद को लेकर पड़ोसी दबंगों ने एक युवक को चापड़ से काट डाला। कातिलाना हमले में उसके तीन चचेरे भाई घायल हो गए। इनमें एक की हालत चिंताजनक बताई जा रही है। घटना से पीड़ित परिवार में कोहराम मच गया है। मृतक के चचेरे भाई ने आठ नामजद व छह अज्ञात के खिलाफ पुलिस को तहरीर दे दी है। 

इस्माइलपुर कोटवा निवासी राजेन्द्र उर्फ मिर्रा (35) पुत्र मंगल प्रसाद का पड़ोसी रामनरेश से रास्ते को लेकर विवाद चल रहा था। इसे लेकर इनके बीच आए दिन कहासुनी होती रहती थी। बताया जाता है कि सोमवार सुबह रामनरेश रास्ते की इसी विवादित भूमि पर निर्माण करा रहा था। राजेन्द्र ने इसका विरोध किया तो आरोपी रामनरेश नरेश ने फोन करके मनौरी से अपने करीबियों व रिश्तेदारों को बुला लिया। लाठी-डंडे व कुल्हाड़ी-चापड़ आदि हथियारों से लैश होकर आए इन लोगों ने राजेन्द्र की पिटाई शुरु कर दी।

इल्जाम है कि इसी बीच रामनरेश ने राजेन्द्र के ऊपर चापड़ से हमला कर दिया। सिर व गर्दन पर वार होने से राजेन्द्र गंभीर रूप से घायल हो गया। हमलावरों की पिटाई से बीच-बचाव करने पहुंचे राजेन्द्र के चचेरे भाई उमेश, लक्ष्मी प्रसाद तथा मुकेश भी जख्मी हो गए।

चीख-पुकार पर जुटे ग्रामीणों ने दखल देकर किसी तरह मामला शांत कराया। इसके बाद परिजन आननफानन गंभीर रूप से घायल राजेन्द्र और मुकेश को लेकर एसआरएन अस्पताल प्रयागराज के लिए रवाना हुए। जबकि उमेश व लक्ष्मी को पास के निजी अस्पताल में भर्ती कराया।

उधर, एसआरएन ले जाते वक्त रास्ते में राजेन्द्र की मौत हो गई। एसआरएन चौकी पुलिस ने मृतक का शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। घटना के बाद से गांव में दोनों पक्षों के बीच तनातनी की स्थिति बनी हुई है। एहतियात के तौर पर यहां दो दरोगा और चार सिपाहियों की तैनाती कर दी गई है। मामले में पूरामुफ्ती कोतवाल रमेेश पटेल का कहना है कि मृतक के चचेरे भाई लक्ष्मी ने रामनरेश समेत आठ नामजद तथा छह अज्ञात के खिलाफ तहरीर दी है।

तहरीर के आधार पर रिपोर्ट दर्ज की जाएगी। आरोपियों की तलाश में संभावित ठिकानों पर दबिश दी जा रही है। वहीं, घटना के बाद से पीड़ित परिवारीजों की रो-रोकर हालत खराब है।
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

प्रेमिका फंदे पर झूली तो मुंबई में प्रेमी ने भी कर ली खुदकुशी

करारी कोतवाली इलाके में रहने वाली एक युवती ने सोमवार रात फांसी लगाकर जान दे दी। उधर, मुंबई में रह रहे उसके प्रेमी ने भी खुदकुशी कर ली। दोनों के आत्मघाती कदम उठाने के पीछे परिजनों की फटकार की बात सामने आ रही है। घटना से पीड़ित परिवारों में कोहराम मच गया है। परिवारीजनों ने बिना पोस्टमार्टम कराए मृतका के शव का अंतिम संस्कार कर दिया है। 

करारी क्षेत्र की एक युवती का पड़ोसी युवक से प्रेम संबंध चल रहा था। फिलहाल उसका प्रेमी लॉकडाउन के कारण मुंबई में फंसा हुआ है। प्रेम संबंधों की जानकारी परिजनों को हुई तो उन्होंने बंदिशें लगानी शुरू कर दीं। बताया जाता है कि तमाम पाबंदियों के बाद भी सोमवार रात दोनों फोन पर बातें कर रहे थे। घर वालों ने रंगेहाथों पकड़कर युवती को फटकार दिया।

इसी के बाद अपने कमरे में फांसी लगाकर उसने जान दे दी। उधर, प्रेमिका की मौत की खबर मिलने पर युवक भी फंदे पर लटक गया। युवक के घर वाले लाश लाने के लिए मुंबई रवाना हो गए हैं। लड़की के परिवारीजनों ने पुलिस को खबर किए बिना शव का अंतिम संस्कार कर दिया है। युवक के परिवार की ओर से भी फिलहाल पुलिस को किसी तरह की कोई तहरीर नहीं दी गई है।

मामले में सीओ सिटी एसएन पाठक का कहना है कि घटना की जानकारी नहीं है। किसी पक्ष ने कोई तहरीर दी तो रिपोर्ट लिखकर कार्रवाई की जाएगी। वहीं, घटना को लेकर और भी कई तरह की चर्चाएं हैं। कुछ ग्रामीणों का कहना है कि युवती को मौत के घाट उतारा गया है।
... और पढ़ें

कौशाम्बी में नशे के लती युवक को घरवालों ने जंजीर डाल पेड़ से बांधा

सैनी कोतवाली के सुभाष नगर में नशे के लती बेटे की हरकतों से आजिज घरवालों ने उसे जंजीर से जकड़ कर पेड़ से बांध दिया। मंगलवार को हुई इस घटना की सूचना सोशल साइट पर वायरल होने के बाद पुलिस हरकत में आ गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने परिजनों को फटकार लगाने के साथ ही युवक को मुक्त करा दिया।

सैनी के सुभाष नगर निवासी विकास (22) पुत्र कंधई के बारे में बताया जाता है कि वह नशे का आदी है। वह आए दिन नशे में धुत होकर घर में उपद्रव किया करता है। उसकी हरकतों से पूरा परिवार त्रस्त है। परिजनों ने उसे बहुत समझाने का प्रयास किया। पर, उसकी आदतों में कोई सुधार नहीं हुआ। इससे तंग परिजनों ने विकास के लोहे की जंजीर से हाथ पैर बांधने के बाद एक पेड़ से उसे बांध दिया। युवक को सरेआम जंजीर लगाकर पेड़ से बांधने की घटना सोशल साइट पर वायरल हो गई।

सूचना पर मंगलवार को सैनी कोतवाली के एसआई कमलेश यादव मौके पर पहुंचे। पुलिस ने युवक के परिजनों को कड़ी फटकार लगाने के बाद बंधक बनाए गए विकास को मुक्त करा दिया। युवक ने भी पुलिस को भरोसा दिया है कि अब वह भी नशे में धुत होकर परिजानों को परेशान नहीं करेगा। एसआई का कहना है कि विकास की नशे की लत से परेशान होकर परिजनों ने उसे बांध दिया था।
... और पढ़ें

बेकाबू ट्रक ने बाइक सवार पिता-पुत्र को रौंदा, मौत

अजुहा (कौशाम्बी)। फतेहपुर जिले के खागा-कौशाम्बी बार्डर पर गुरुवार सुबह बेकाबू ट्रक ने बाइक सवार पिता-पुत्र को रौंद दिया। हादसे में बेटे की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि पिता ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। दोनों प्रयागराज से पेंटिंग का काम करके घर लौट रहे थे। घटना से पीड़ित परिवार में कोहराम मच गया।

सैनी कोतवाली क्षेत्र के टेंढ़ीमोड़ गांव का लालचंद्र (50) पुत्र स्व. भोंदूलाल मकान की पेंटिंग का काम करता था। इस काम में उसका बेटा पवन (20) हाथ बंटाता था। बताया जाता है कि लालचंद्र इन दिनों फतेहपुर जिले के खागा थाना स्थित टेनी गांव में मकान बनवाकर परिवार सहित रह रहा था। चार रोज पहले वह बेटे पवन के साथ किसी के घर की पुताई करने प्रयागराज गया था। गुरुवार सुबह पिता-पुत्र वापस लौट रहे थे।

खागा-फतेहपुर बार्डर पर पहुंचते ही पीछे से आए ट्रक ने बाइक में टक्कर मार दी। टक्कर लगते ही बाइक सवार पिता-पुत्र गिर गए। इस दौरान ट्रक पवन को रौंदते हुए गुजर गया। जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई। हादसे में गंभीर रूप से घायल लालचंद्र को खागा पुलिस ने एंबुलेंस की मदद से फतेहपुर सदर अस्पताल में भर्ती कराया। जहां कुछ ही देर बाद उसकी भी सांसें थम गईं। खागा पुलिस ने पिता-पुत्र के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

बेकाबू ट्रैक्टर ने मासूम बालक को रौंदा, मौत

नेवादा। स्थानीय गांव में गुरुवार शाम घर के बाहर खेल से एक मासूम बच्चे को तेज रफ्तार बालू लदे ट्रैक्टर ने रौंद दिया। हादसे में मौके पर ही उसकी मौत हो गई। घटना से पीड़ित परिवार में कोहराम मच गया है।

     पिपरी कोतवाली क्षेत्र के सेउढ़ा गांव का बिट्टू (2) पुत्र दुग्गड़ महीने भर पहले अपनी मां कौशल्या देवी के साथ ननिहाल नेवादा आया था। गुरुवार शाम वह नानी के घर के सामने खेल रहा था। तभी पीछे से आए बालू लदे बेकाबू ट्रैक्टर ने उसको कुचल दिया। जिससे मौके पर ही बच्चे की दर्दनाक मौत हो गई। दुर्घटना देख आसपास रहे परिजन चीख पड़े। घटनास्थल पर ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई। परिवार वाले इतमिनान के लिए बच्चे को लेकर नजदीकी निजी अस्पताल गए। जहां चेकअप के बाद डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने मृतक का शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। उधर, दुर्घटना के बाद चालक ट्रैक्टर छोड़कर मौके से फरार हो गया। उसकी तलाश की जा रही है। परिवार वालों की रो-रोकर हालत खराब है। खबर पाकर पिता सहित अन्य परिजन सेउढ़ा से नेवादा पहुंच गए थे।
... और पढ़ें

पड़ोसी की छत पर मिली लापता मासूम की लाश

भरवारी (कौशाम्बी)। कोखराज कोतवाली क्षेत्र के इचौली गांव में बुधवार शाम लापता हुई एक मासूम बच्ची की लाश गुरुवार को पड़ोसी की छत पर मिली। माना जा रहा है कि गला घोटकर उसकी हत्या की गई है। हत्या की वजह फिलहाल स्पष्ट नहीं है। घटना के बाद बवाल की आशंका में पुलिस के हाथ-पांव फूल गए। एहतियातन कई कोतवाली की फोर्स और क्यूआरटी लेकर एसपी मौके पर पहुंचे। कोतवाल तहरीर के आधार पर रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई करने की बात कह रहे हैं। पड़ोसी युवक को हिरासत में ले लिया गया है।

     इचौली गांव का अमर सिंह किसानी करके परिवार का खर्च चलाता है। उसकी चार वर्षीय बेटी पायल बुधवार शाम घर के बाहर से खेलते वक्त गायब हो गई थी। परिजनों ने रात भर उसकी खोजबीन की। सुबह पिता ने कोखराज कोतवाली पहुंचकर गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई। जिसके बाद हरकत में आई पुलिस तलाश में जुट गई। शक के आधार पर शाम करीब पांच बजे पुलिस पड़ोसी दिनेश कुमार की छत पर पहुंची तो वहां बच्ची की लाश पड़ी थी। कोतवाल राकेश तिवारी ने बताया कि मृतका के गले व मुंह में ऐसे निशान मिले हैं, जिससे अनुमान लगाया जा रहा है कि गला घोटकर उसकी हत्या की गई है। उधर, शव मिलने के बाद बवाल की आशंका से जिले भर की पुलिस सहम गई।

एसपी अभिनंदन करारी, मंझनपुर, चरवा कोतवाली की फोर्स और क्यूआरटी लेकर मौके पर पहुंचे। एसपी की मौजूदगी में पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। परिवार वाले फिलहाल पड़ोसी दिनेश से कोई ऐसी दुश्मनी होने से इनकार कर रहे हैं, जो वह हत्या जैसी घटना को अंजाम दे। पुलिस दिनेश को हिरासत में लेकर उससे पूछताछ कर रही है। खबर लिखे जाने तक प्राथमिकी नहीं दर्ज की जा सकी थी।

रेप की आशंका, छत पर कैसे मिली लाश
मंझनपुर। हत्या से पहले रेप की भी आशंका है। दुराचार की आशंका को इसलिए भी बल मिल रहा है कि लाश पड़ोसी की छत पर मिली है। लाश छत पर कैसे पहुंची ? इस बाबत पड़ोसी से पूछताछ की जा रही है। पुलिस का दावा है कि शुक्रवार की सुबह तक स्थिति पूरी तरह साफ कर दी जाएगी।


पीड़ित परिवार की ओर से फिलहाल तहरीर नहीं मिली है। तहरीर के आधार पर रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी। गमजदा परिवारीजन फिलहाल कुछ भी बता पाने की स्थिति में नहीं हैं। पड़ोसी युवक को हिरासत में लेकर उससे पूछताछ की जा रही है।
राकेश तिवारी-इंस्पेक्टर, कोखराज
... और पढ़ें

घरेलू कलह से तंग विवाहिता ने फांसी लगाकर दी जान

करारी। इलाके के भटवरिया गांव में रहने वाली एक विवाहिता ने गुरुवार सुबह फांसी लगाकर जान दे दी। खुदकुशी के पीछे घरेलू कलह की बात सामने आ रही है। घटना से पीड़ित परिवार में कोहराम मच गया है।

भटवरिया गांव की उर्मिला (35) पत्नी छोटेलाल गृहणी थी। बताया जाता है कि किसी बात को लेकर आए दिन परिजनों से उसका झगड़ा होता था। इसी कलह से ऊबकर गुरुवार सुबह घर के भीतर ही उर्मिला ने फांसी लगा ली। कुछ देर बाद उर्मिला को फंदे पर लटकता देख परिवारीजन चीख पड़े। शोर-शराबा सुन मौके पर ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई।

सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने जांच के बाद मृतका का शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मृतका अपने पीछे चार बच्चों को छोड़ गई है। करीब 13 साल पहले उसका विवाह हुआ था। घटना के बाद से पीड़ित परिवारीजनों की रो-रोकर बुरा हाल है। मामले में करारी कोतवाल कृष्ण प्रताप सिंह का कहना है कि किसी पक्ष ने तहरीर नहीं दी है। तहरीर मिली तो रिपोर्ट लिखकर कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

कोरोना: पांच और मरीज हुए स्वस्थ्य, 60 संदिग्धों की रिपोर्ट आई निगेटिव

मंझनपुर। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्त्रस्मण की रफ्तार दोआबा में फिलहाल थमा है। पिछले तीन दिनों से जिले में कोई संक्त्रस्मित नहीं मिला है। अलबत्ता संक्त्रस्मित मरीजों के ठीक होकर घर जाने वालों की संख्या बढ़ी है। गुरुवार को भी पांच संक्त्रस्मित स्वस्थ्य होकर 14 दिन के लिए होम क्वारंटीन पर भेजे गए। जिले में अब तक स्वस्थ्य होने वाले मरीजों की संख्या 19 हो गई है। जबकि अस्पताल में भर्ती 28 मरीजों के भी स्वास्थ्य में सुधार बताया जा रहा है।
मई के दूसरे हफ्ते में प्रवासियों की फौज आने के साथ ही दोआबा में कोरोना वायरस का संक्त्रस्मण तेजी से फैल गया था। तीसरा हफ्ते के अंत तक देखते ही देखते संक्त्रस्मितों की संख्या 47 हो गई थी। पखवाड़े भर के भीतर देश के विभिन्न प्रांतों से आए 28 हजार प्रवासियों के जरिए समुदाय के बीच संक्त्रस्मण का फैलाव रोकने के लिए डीएम मनीष कुमार वर्मा ने गांवों में निगरानी समितियों का गठन करा दिया। मई के आखिरी हफ्ते में इसके सार्थक नतीजे आने लगे। इस हफ्ते में अभी तक एक भी संक्त्रस्मित नहीं मिला। अलबत्ता रोजाना दो.चार संक्त्रस्मित स्वस्थ्य होकर अस्पताल से डिस्चार्ज किए जा रहे हैं। सीएमओ डॉ पीएन चतुर्वेदी ने बताया कि गुरुवार को भी पांच मरीज स्वस्थ्य हुए हैं।
इन्हें 14 दिन तक एकांतवास में रहने की हिदायत देकर अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। बताया कि अब तक 19 मरीज स्वस्थ्य हो चुके हैं। जिले में संक्त्रस्मितों की संख्या घटकर 28 रह गई है। मंझनपुर स्थित एल.1 अस्पताल में भर्ती इन मरीजों का भी स्वास्थ्य लगातार सुधार की ओर है। संभव है कि मई के अंत तक रिपोर्ट निगेटिव आने पर एक.कर सभी को डिस्चार्ज कर दिया जाए।
सीएमओ ने बताया कि गुरुवार को 68 लोगों के स्वाब सैंपल जांच के लिए प्रयोगशाला भेजा गया है।वहींए प्रयोगशाला से आई 60 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव निकली है। डीएम का कहना है कि अस्पताल से डिस्चार्ज हुए अथवा होम क्वारंटीन कर रहे प्रवासियों को अभी पखवाड़े भर तक पूरी तरह से सतर्क रहने की जरूरत है। जरा सी लापरवाही भारी पड़ सकती है। लिहाजा एक.दूसरे से दो मीटर की दूरी बनाकर रहने के साथ ही मुंह में गमछा या मास्क लगाकर रहें। बार.बार साबुन से हाथ धुलें और सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें।
... और पढ़ें

प्रवासियों के सहारे खुल सकता है दोआबा की किस्मत का ताला

मंझनपुर। कोविड-19 की वजह से घर लौटे हुनरमंद श्रमिकों के सहारे दोआबा की किस्मत का ताला खुल सकता है। जिला प्रशासन प्रवासी श्रमिकों की स्किल मैपिंग करा रहा है। जरुरत पड़ी तो श्रमिकों को राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई) में ट्रेनिंग भी दिलाई जाएगी। अगर सरकार की मंशा सफल रही तो प्रवासियों के सहारे ही जिले के अन्य लोगों को भी रोजगार का अवसर मिलेगा।
कोरोना वायरस को लेकर 25 मार्च से लॉकडाउन चल रहा है। इस बीच दिल्ली, मुंबई, हरियाणा, राजस्थान, गुजरात आदि राज्यों में गए जिले के कामगार बड़ी संख्या में वापस लौटे हैं। खासतौर पर देखा जाए तो गुजरात में जिले के कामगार साड़ी की छपाई, रंग-रोगन आदि का काम करते थे। दिल्ली और महाराष्ट्र की फैक्ट्री में उनके हुनर का जादू चलता था। अब इस तरह के करीब 28 हजार लोग घर वापसी के बाद बेरोजार हो गए हैं। इसे लेकर शासन के निर्देश पर उनका डाटा बेस तैयार किया जा रहा है। राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान के प्रिंसपल सुजीत श्रीवास्तव का कहना है 29 बिंदु के फार्म पर डाटा तैयार किया जा रहा है।
प्रवासी का नाम, पता, शैक्षिक योग्यता, हुनर का सारा ब्योरा भरा जाएगा। हाईस्कूल या इंटर पास प्रवासी को जरुरत पड़ी तो उसे आईटीआई में प्रशिक्षित कर प्रमाण पत्र भी प्रदान किया जाएगा। अशिक्षित लोगों को मनरेगा के तहत रोजगार उपलब्ध कराए जाने की योजना है। सुजीत श्रीवास्तव की मानें तो कौशल विकास के तहत भी प्रशिक्षण देकर रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा। इसके अलावा सिक्योरिटी गार्ड, सुपरवाइजर आदि कार्यों में निपुण लोगों को रोजगार दिलाने का प्रयास किया जाएगा। फिलहाल जिला स्तर पर इसकी सूची तैयारी कराई जा रही है। डाटा बेस बनने के बाद अगली दिशा में शासन के निर्देश पर काम होगा।
... और पढ़ें

दो पक्षों में जमकर चले लाठी-डंडे, पथराव, चार घायल

कड़ा। इलाके के शादीपुर गांव में गुरुवार सुबह मामूली बात को लेकर दो पक्षों में जमकर लाठी-डंडे चले। इस दौरान पथराव भी किया गया। मारपीट में चार लोगों को चोटें आई हैं। पुलिस ने क्रॉस केस दर्ज कर घायलों को मेडिकल के लिए भेज दिया है।
शादीपुर निवासी राजेश की गुरुवार सुबह पड़ोसी टीपू से किसी बात को लेकर कहासुनी होने लगी। तभी दोनों के परिजन लाठी-डंडे से लैश होकर मौके पर आ गए और एक-दूसरे पर हमला कर दिया। एक-दूसरे पर पथराव भी किया गया। मारपीट में एक पक्ष से सिर्फ राजेश को चोटें आई हैं।
जबकि दूसरी तरफ से टीपू, शमीम व अनवार घायल हैं। झगड़े के दरम्यानी चीख-पुकार पर जुटे ग्रामीणों ने दखल देकर किसी तरह मामला शांत कराया। सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने आननफानन एंबुलेंस की मदद से घायलों को मेडिकल के लिए भेज दिया। कड़ा कोतवाल राधेश्याम वर्मा ने बताया कि दोनों पक्षों की तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर धाराएं तरमीम की जा सकती हैं।
... और पढ़ें

जिला अस्पताल के इमरजेंसी गेट पर तीन घंटे तक तमाशा बना रहा शव

मंझनपुर। जिला अस्पताल में एक बुजुर्ग का शव तीन घंटे तक तमाशा बना रहा। सांस लेने की दिक्कत में भर्ती कराए गए मरीज की मौत के बाद परिजन व स्वास्थ्य कर्मी मौके से खिसक गए। सूचना के बाद भी अस्पताल परिसर में ही खड़ा रहने वाला शव वाहन देरी से पहुंचा। इसे लेकर इमरजेंसी कक्ष में मौजूद स्टाफ व मरीज लाश से निकलने वाली दुर्गंध से परेशान रहे।
सिराथू तहसील के सैनी निवासी राजकुमार (65) पुत्र स्वर्गीय कैलाश को सांस लेने में दिक्कत थी। 25 मई को उसे इलाज के लिए जिला अस्पताल लाया गया। यहां मरीज को टीबी रोगी बताकर चिकित्सकों ने भर्ती कर लिया। गुरुवार सुबह इलाज के दौरान राजकुमार की मौत हो गई। इसके बाद परिवार के लोग शव ले जाने के लिए वाहन की व्यवस्था करने लगे। प्राइवेट वाहन नहीं चलने से उन्हें परेशान होना पड़ा। इस बीच स्वास्थ्यकर्मियों ने शव स्ट्रेचर में लादकर इमरजेंसी गेट के समीप छोड़ दिया। गर्मी की वजह से शव से दुर्गंध उठने लगा
। दुर्गंध से इमरजेंसी में ड्यूटी करने वाला स्टाफ परेशान हो गया। स्वास्थ्यकर्मियों ने अस्पताल के शव वाहन के लिए फोन किया। फोन करने के बाद भी शव वाहन का चालक गाड़ी लेकर नहीं आया। जबकि शव वाहन अस्पताल परिसर में ही खड़ा रहता है। इस बीच मामले की जानकारी किसी ने सीएमएस डॉ. दीपक सेठ को दी। सीएमएस के हस्तक्षेप पर तीन घंटे बाद शव वाहन लाश लेकर सैनी रवाना हुआ।
... और पढ़ें
Ishwardin
Ishwardin
Election
  • Downloads

Follow Us