विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Coronavirus in UP Live Updates: निजामुद्दीन मरकज में शामिल तीन लोग लखनऊ में मिले, अन्य की हो रही तलाश

देश भर में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच उत्तर प्रदेश के कुछ क्षेत्रों से अच्छी और कहीं से बुरी खबरें आ रही हैं। मंगलवार सुबह बरेली में पांच नए मरीज मिले हैं जिनके बाद सूबे में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 102 हो गई है।

31 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

कौशांबी

मंगलवार, 31 मार्च 2020

कोरोना वायरस: आठ हफ्ते की पैरोल पर छोड़े गए 43 कैदी

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सोमवार की रात जिला जेल में निरूद्घ 43 विचाराधीन कैदियों को रिहा कर दिया गया। सात साल तक की सजा वाले इन कैदियों को आठ हफ्ते की पैरोल पर छोड़ा गया है। पैरोल मिलने से इनके परिजनों में खुशी है।

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव को लेकर जेलों में कैदियों का दबाव कम करने के लिए सर्वोच्च अदालत ने सात साल तक की सजा वाले कैदियों को पैरोल देने का निर्देश दिया है। इसी के तहत प्रदेश सरकार ऐसे बंदियों को तत्काल मुक्त करने की कार्यवाही कर रही है।

सोमवार की देर शाम शासन का आदेश प्राप्त होते ही जिला जेल में निरुद्घ 43 विचाराधीन बंदियों को रिहा कर दिया गया। जेल अधीक्षक बीएस मुकुंद ने बताया कि इन सभी बंदियों को अंतरिम जमानत पर आठ सप्ताह के लिए निजी मुचलके पर पैरोल पर रिहा किया गया है।
... और पढ़ें

CoronaVirus: कालाबाजारी रोकने के लिए तय हुए खाद्य पदार्थों के दाम

 कोरोना महामारी से बचाव के लिए जिले में 21 दिनों के लिए घोषित लॉकडाउन में कालाबाजारी रोकने के लिए जिला प्रशासन ने थोक और फुटकर विक्रेताओं के लिए बिक्री की दर निश्चित कर दी है।

21 वस्तुओं को निर्धारित दर पर ही दुकानदार बेच सकेंगे। अगर किसी ग्राहक से निर्धारित दर से अधिक धनराशि लेते हैं तो उनके खिलाफ धारा 188 के तहत कार्रवाई होगी।
 

आज से होम डिलेवरी की सुविधा, घर बैठे मंगाइए दवा और सामान

शहर के लोगों को परेशान होने की जरूरत नहीं है। जिला प्रशासन की पहल पर दुकानदारों ने आज से होम डिलेवरी की सुविधा प्रारंभ कर दी है। आप घर बैठे फोन घुमाइए और अपनी जरूरत के सामान और दवाएं लीजिए।

दूध और किराना के सामानों की खरीद के लिए इन नंबरों पर फोन कर सकते हैं

दुकानदार का नाम    मोबाइल नंबर
अनिकेत किराना स्टोर    7800030063
रुपेश किराना स्टोर    9838532784   
बच्चा किराना स्टोर    9554340664
पवन प्रविजन    9598379897
दयाल स्टोर    9839483742
छोटेलाल किराना स्टोर    9918374806
अरविंद कसौंधन    9120902136
अभिनंदन जैन    8765007096
सहनंदन जैन    8115385632
अंकित किराना स्टोर    9005143981
राजीव किराना स्टोर    8299029260
निर्मल जैन    9506758331
बच्चा उमरवैश्य किराना स्टोर    9889182250
रंजीत जायसवाल किराना स्टोर    8960141112


होम डिलेवरी दवा के लिए इन नंबरों पर संपर्क कर सकते हैं

पवन मेडिकल स्टोर    8543980415
संजय मेडिकल स्टोर    9415628405
शारदा मेडिकल स्टोर    9451822228
मीरा मेडिकल स्टोर     8795097892
रतन मेडिकल स्टोर    9919688555
गेएंड मेडिकल स्टोर    9415628003
रमेश मेडिकल स्टोर    9415229016
जमजम मेडिकल स्टोर    9670752990
भारत मेडिकल स्टोर    8896241330
रायल मेडिकल स्टोर    9452222469
... और पढ़ें

CoronaVirus: 70 घंटे रात-दिन साइकिल चलाकर नागपुर से घर पहुंचा बबलू

 कोरोना के चलते देश में लाकडाउन लागू होने पर नागपुर में ईंट भट्ठे परमजदूरी करने गया युवक सत्तर घंटे साइकिल चलाकर घर पहुंचा। रास्ते में खाना नहीं मिला तो सिर्फ पानी पीकर रात-दिन साइकिल चलाता रहा।

भूखा प्यासा घर पहुंचा तो रात उसे बाहर सोकर गुजारनी पड़ी। उसकी आपबीती सुनकर परिजनाें की आंखाें से आंसू छलक उठे। दूसरे दिन चेकअप के बाद वह घर में परिजनाें से मिल सका।

लालगंज कोतवाली के हंडौर पूरे बल्दियान निवासी बबलू सरोज (20) पुत्र लल्लू सरोज महाराष्ट्र के नागपुर में ईंट भठ्ठे पर मजदूरी करने गया था। तभी कोरोना का संक्रमण फैलने लगा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को लाकडाउन करने की घोषणा कर दी।

महाराष्ट्र के कई शहरों में पहले से कर्फ्यू लगा दिया गया था। कोरोना के खौफ से बबलू घर आना चाहता था, लेकिन ट्रेन व बस बंद होने से फंस गया। कोरोना से भयभीत होकर वह हर हाल में अपने परिजनाें के पास आना चाहता था। जिसके चलते गाढ़ी कमाई का जो पैसा बचा था, उससे युवक ने किसी से पुरानी साइकिल खरीदकर घर आने का फैसला कर लिया।

मंगलवार को भोर दो बजे वह साइकिल से अपने घर के लिए निकल पड़ा। रास्ते में सारी दुकानें बंद होने के चलते उसे कहीं पर चाय नाश्ता व खाना भी नसीब नही है। वह घर पहुंचने के जुनून में लगातार साइकिल चलाता रहा। भूख लगने उसे जहां कहीं पानी मिलता उसे पीने के बाद थोड़ा आराम करने के बाद फिर साइकिल चलाने लगता।

बबलू लगभग 70 घंटे साइकिल चलाकर गुरुवार की देर रात घर पहुंचा तो परिजन सन्न रह गए। रात दिन लगातार सैकड़ों किलोमीटर साइकिल चलाने के चलते उसके पैर में छाले पड़ गए थे। लेकिन यहां पहुंचने पर उसे घर के बाहर ही रात गुजारनी पड़ी। कोरोना से खौफजदा परिजन उसके पास भी नहीं गए। दूर से कुछ खाना पानी देकर उसे घर के बाहर ही सुला दिया।

शुक्रवार को वह परिजनों के साथ लालगंज सीएचसी पहुंचा और कोरोना की जांच कराई। जांच में कोरोना वायरस का कोई लक्षण नहीं मिलने पर बबलू व उसके परिजनों ने राहत की सांस ली। चिकित्सकाें ने उसे कुछ दिनाें तक घर में रहकर स्वास्थ्य की देखभाल कर निर्देश दिया है।

कोरोना निगेटिव निकलने के बाद बबलू घर पहुंचा और परिजनाें से मिलकर  आपबीती सुनाई। उसकी आपबीती सुनकर परिजनों के आंखाें से आंसू छलक उठे। नागपुर से घर पहुंचने पर ग्रामीणाें ने युवक के हौसले की सराहना की है।
... और पढ़ें

 हेलो...सर! बाहर से आया पड़ोसी खांस रहा है, टीम भेज दीजिए 

हेलो...सर! पड़ोस के दो लड़के परदेश से आए हैं। इनमें से एक खांस रहा है। जल्दी टीम भेज दीजिए सर। जी हां, कंट्रोल रूम के फोन पर कुछ  इस तरह की फोन कॉल्स लगातार आ रही हैं। कोरोना को लेकर दहशत और डर का माहौल बना हुआ है। पड़ोस में किसी भी बाहरी व्यक्ति के आने की सूचना अधिकारियों तक पहुंच रही है।

दरअसल, तीन दिनों के भीतर दोआबा में परदेश से घर आने वालों की तादाद तेजी से बढ़ी है। इस वक्त जिले के तकरीबन हर गांव में 15 से 20 लोग दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद, मुंबई, महाराष्ट्र, पुणे, लुधियाना, पंजाब आदि शहरों से आ चुके हैं। उनकी सूचना खुद उनके पड़ोसी लोग कंट्रोल रूम को दे रहे हैं। गांव और गली में घुसने से पहले ही उन्हें जिला अस्पताल, अथवा सीएचसी-पीचसी पर जाकर जांच कराने के लिए कहा जा रहा है।

इस वजह से बाहरी शहरों से आ रहे लोग घर में घुसने से पहले ही सरकारी अस्पतालों में जांच कराने पहुंच रहे हैं। सोमवार को भी जिले भर के अस्पतालों एवं स्वास्थ्य विभाग की टीमों द्वारा करीब 400 लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग की गई। अच्छी बात से रही कि इनमें से किसी में भी कोरोना वारस के लक्षण नहीं मिले।  डिप्टी सीएमओ डॉ हिंद प्रकाश मणि का कहना है कि बाहर से आने वाले सभी लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग कराई जा रही है। ऐसे लोगों को गांवों के प्राइमरी स्कूल व सामुदायिक भवनों में 14 दिन के लिए रखकर क्वारंटीन किया जा रहा है। उनसे कहा जा रहा है कि क्वारंटीन के दौरान यदि बीमारी का कोई लक्षण दिखे तो तुरंत सूचित करें।
... और पढ़ें
मोबाइल फोन मोबाइल फोन

 बेबसी: दूध की खातिर बच्चे को बिलखता देख रही मां, कच्चा अनाज उबालकर खाने की स्थित में पहुंच गए दोआबा के गरीब

‘लॉक डाउन’ की वजह से दोआबा में अब गरीबों की हालत खस्ता होती जा रही है। कहीं मजबूर बाप बच्चों को खिलाकर खुद भूखा सो रहा है, तो कहीं कोई मां इतनी बेबश है कि अपनी आंखों के सामने जिगर के मासूम टुकड़े को दूध की खातिर बिलखता देख रही है।

किसी के पास इलाज कराने को पैसे नहीं हैं तो कोई कच्चा अनाज उबालकर खाने की स्थिति में आ पहुंचा है। कई ऐसे भी परिवार हैं, जिनके पास अब सिर्फ इतना ही राशन बचा है कि बामुश्किल चार से पांच दिन ही पेट की आग बुझ सकेगी। फिर दो जून की रोटी के लाले पड़ जाएंगे। सोमवार को ‘अमर उजाला’ ने जिले के विभिन्न हिस्सों में पड़ताल की तो बेहद भावुक कर देने वाले हालात देखने को मिले। 
... और पढ़ें

 14 दिन तक क्वारंटाइन सेंटरों पर ही रहें परदेशी, बाहर मिले तो जाएंगे जेल: डीएम

कौशाम्बी में एक करोड़ की मिठाई, पेस्टी और केक निगल गया कोरोना

कोरोना वायरस

 कोरोना से बचाव के लिए कौशाम्बी में ग्राम प्रधान ने गांव में लगा दिया कर्फ्यू

डेढ़ हजार श्रमिकों के खाते में पहुंचा एक-एक हजार

मंझनपुर। श्रम विभाग में पंजीकृत 10859 श्रमिकों में डेढ़ हजार के खाते में आपदा राहत पैकेज का एक-एक हजार रुपया पहुंच गया है। बाकी कामगारों का खाता नंबर व जरूरी दस्तावेज श्रम विभाग जुटा रहा है। कामगारों के बैंक खाते पोर्टल पर ऑनलाइन होते ही राहत पैकेज की धनराशि पहुंच जाएगी।
कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए जिले को लॉकडाउन कर दिया गया है। ऐसे में मेहनत-मजदूरी करने वाले श्रमिकों के समक्ष रोटी का संकट खड़ा हो सकता है। इसे देखते हुए प्रदेश सरकार ने भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण के तहत पंजीकृत कामगारों को एक-एक हजार रुपए राहत पैकेज देने की घोषणा किया है। इस योजना का लाभ लाभ श्रम विभाग में नवीनीकरण कराने वाले कामगारों को ही मिल सकेगा।
जिले श्रम विभाग के पंजीकृत 33465 कामगारों में 10859 का ही नवीनीकरण है। इसमें से डेढ़ हजार कामगारों के ही बैंक खाता और आधार नंबर अपडेट हैं। इस वजह से बुधवार को शासन की ओर से इन्हीं 1500 श्रमिकों के खाते में एक-एक हजार रुपये भेजा जा सका है। श्रम प्रवर्तन अधिकारी शिक्त् राय ने बताया कि बाकी के कामगारों बैंक खातों का विवरण जुटाया जा रहा है। इनके खातों का विवरण पोर्टल पर ऑनलाइन होते ही पैकेज की रकम भेज दी जाएगी। श्रम प्रवर्तन अधिकारी ने बताया कि जिनके खाता नंबर व आईएफसी कोड नहीं हैं वह तत्काल श्रम विभाग मंझनपुर में उपलब्ध करा दें। ताकि, उन्हें भी राहत राशि मुहैया कराई जा सके।
... और पढ़ें

दोआबा ‘लॉक डाउन’, बेपरवाहों पर चटकी लाठी

मंझनपुर। वैश्विक महामारी यानी कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए पीएम मोदी की अपील पर कौशाम्बी जिला भी लॉक डाउन कर दिया गया। 21 दिनी लॉक डाउन के पहले दिन सुबह कई जगहों पर लोगों ने बेपरवाही की। लिहाजा सख्ती दिखाते हुए पुलिस को मामूली तौर पर लाठी भांजनी पड़ी। हल्के बल का प्रयोग किए जाने के बाद ही नियमों का पालन कराया जा सका।
‘लॉक डाउन’ को देखते डीएम-एसपी के निर्देश पर सुबह छह बजे ही पुलिस ने सभी प्रमुख नगरों व गांवों में एनाउंस करके लोगों से बेवजह बाहर नहीं निकलने की अपील की। अनावश्यक वस्तुओं की दुकानें नहीं खोलने के लिए भी कह दिया गया। लिहाजा कई जगहों पर मेडिकल स्टोर तक बंद रहे। तमाम अपीलों के बावजूद करारी, सरायअकिल, भरवारी, सिराथू, अजुहा, चायल, मनौरी, पश्चिमशरीरा, मंझनपुर आदि जगहों पर अनावश्यक लोग घरों के बाहर निकले। मनमानी बढ़ती देख लॉक डाउन के नियमों का पालन कराने के लिए पुलिस को लाठी चटकानी पड़ी।
हालांकि किसी को बर्बरता के साथ नहीं पीटा गया। इतनी ही कड़ाई की गई कि जनता दहशत में आ जाए और नियमों का पालन करे। पुलिस ने रोक-रोककर लोगों को समझाया भी। बाहर निकलने का वास्तविक कारण बताने पर जाने दिया। लाठी उन्हीं के लिए उठानी पड़ी, जिनपर बातों का असर नहीं हो रहा था या सीनाजोरी कर रहे थे। पुलिस की सख्ती का नतीजा रहा कि दोपहर बाद जिले भर में पूरी तरह से सन्नाटा पसर गया। सड़क पर लोग जरुरी कामों के लिए ही निकले। डीएम मनीष कुमार वर्मा व एसपी अभिनंदन ने खुद जिले भर में मोबाइल रहकर स्थितियों का जायजा लिया। अफसरों ने इस दौरान मातहतों को लॉक डाउन का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया।
... और पढ़ें

Coronavirus कौशाम्बी में दो अप्रैल तक के लिए लगा ‘कोरोना कर्फ्यू’

कोरोना वायरस के खौफ से जिले में दो अप्रैल तक सार्वजनिक स्थानों को बंद कर दिया गया है। चिकित्सा संस्थानों को छोड़कर सभी प्रकार के शैक्षणिक संस्थान,पर्यटन स्थल व सार्वजनिक कार्यक्रमों पर रोक लगा दी गई है। एक तरह से इस अवधि तक जिले में कोरोना कर्फ्यू लगा रहेगा। आदेशों की अवहेलना करने वालों पर दंडात्मक कार्रवाई की चेतावनी दी गई है।

डीएम मनीष कुमार वर्मा के मुताबिक चिकित्सा को छोड़कर सभी प्रकार के शैक्षणिक संस्थान, जिम, म्यूजियम, पर्यटन स्थल, सामाजिक केंद्र व सार्वजनिक कार्यक्रम दो अप्रैल तक बंद रहेंगे। मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश सरकार के निर्देशों पर कोरोना वायरस के बचाव और सावधानी के दृष्टिगत लोगों की सुरक्षा को देखते हुए यह इंतजाम किए गए हैं। डीएम के मुताबिक राज्य सरकार के अधीन विश्वविद्यालय, बोर्ड व संस्थानों की सभी परीक्षाएं दो अप्रैल तक स्थगित की गई हैं। तहसील व समाधान दिवस भी स्थगित रहेंगे।

आवश्यक बैठकें सीमित लोगों के साथ ही की जाएं तथा जहां तक संभव हो तो वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से की जाएं। खेल आयोजन भी स्थगित किए गए हैं। साथ ही बताया कि कोरोना से पीड़ित सभी मरीजों के इलाज का खर्च सरकार द्वारा वहन किया जाएगा। डीएम ने इन आदेशों का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की चेतावनी दी है।

कोरोना पीड़ित का पुलिस के पहरे में होगा इलाज

कोरोना वायरस से निपटने की लड़ाई में अब चिकित्सकों के साथ पुलिस विभाग भी शामिल हुआ है। अगर कोई मरीज कोरोना वायरस का मिलता है तो उसका पुलिस की निगरानी में उपचार चलेगा। पुलिस की यह टीमें जन जागरुकता अभियान भी चलाएंगी। पुलिस अधिकारियों के साथ चिकित्सकों ने पुलिस लाइन में थानास्तर पर गठित की गई रैपिड एक्शन टीमों के साथ अन्य पुलिस कर्मियों को प्रशिक्षण दिया।

एएसपी अशोक कुमार ने बताया कि डीजीपी के निर्देश पर सभी थानों में कोरोना वायरस से निपटने के लिए रैपिड एक्शन टीमों का गठन किया गया है। एएसपी ने बताया कि कई शहरों में कोरोना पीड़ित और इसके लक्षण वाले मरीज इलाज के दौरान आइसोलेशन वार्ड से भाग गए हैं। अगर किसी भी क्षेत्र में मरीज मिलता है तो थाने की रैपिड एक्शन टीम मरीज की निगरानी करेगी। चिकित्सकों के साथ सहयोग के लिए पुलिस टीम भी मुस्तैद रहेगी। गुरुवार को जिला कारागार में तैयार किए गए मास्क भी पुलिस कर्मियों को उपलब्ध कराया गया।
... और पढ़ें

दोआबा में बिछा सड़क और पुलों का जाल, मिला मेडिकल कॉलेज

मंझनपुर। प्रदेश की भाजपा सरकार के तीन वर्ष पूरे होने पर सूबे के लोक निर्माण राज्य मंत्री एवं जनपद के प्रभारी मंत्री ने गुरुवार को कलक्ट्रेट सभागार में प्रेस वार्ता कर उपलब्धियां गिनाई। कहा कि भाजपा सरकार ने तीन वर्ष के कार्यकाल जिले में बड़े पैमाने पर सड़क, पुल व सरकारी भवनों का निर्माण कराया गया। 558.13 करोड़ की लागत से विभिन्न सड़कों का चौड़ीकरण व सृदृढ़ीकरण कराया गया। जिले में मेडिकल कॉलेज निर्माण को स्वीकृति दी गई।
57.96 करोड़ की लागत से विभिन्न मार्गों का नवनिर्माण कार्य कराया। अवस्थापना के क्षेत्र मं 3.83 करोड़ की लागत से मंझनपुर में अधिकारियों व कर्मचारियों के लिए आवासीय भवन, 50 लाख की लागत से अधिवक्ता चैंबर, 4.15 करोड़ की लागत से निरीक्षण भवन, जिले में सर्किट हाउस का निर्माण, 638.75 लाख की लागत से जनपद न्यायालय के प्रथम तल का निर्माण, सिराथू में शमशान घाट का जीर्णोद्धार, मनौरी, रोही, सयारा, सिराथू में ओवरब्रिज का निर्माण, पेयजल योजना के तहत 25.02 करोड़ की लागत से कोखराज उपरहार, अफजलपुरवारी, सौरई बुजुर्ग, अंधावा, दानपुर बरलहा में पानी टंकी का निर्माण कराया गया। इसके अलावा सीएमओ कार्यालय, एडीआर सेंटर, ट्रामा सेंटर, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र शमसाबाद, टीबी क्लीनिक भवन समेत अन्य निर्माण कार्य शामिल हैं।
प्रभारी मंत्री ने बताया कि गरीबों को बेहतर स्वास्थ्य लाभ देने के लिए आयुष्मान योजना, मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना, मुख्यमंत्री आरोग्य योजना, जेई एवं एईएस के प्रभावी रोकथाम, मिशन इंद्रधनुष, मुख्यमंत्री सुरक्षा कोष समेत कई स्वास्थ्य योजना संचालित की जा रही हैं। इस मौके पर विधायक मंझनपुर लाल बहादुर, विधायक सिराथू शीतला प्रसाद, विधायक चायल संजय गुप्ता, डीएम मनीष कुमार वर्मा, सीडीओ इंद्रसेन सिंह आदि विभागीय अधिकारी एवं भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष प्रेमचंद्र चौधरी और विकास द्विवेदी भी मौजूद रहे।
प्रति व्यक्ति आय व रोजगार में हुआ इजाफा
मंझनपुर। प्रभारी मंत्री चंद्रिका प्रसाद ने बताया कि वर्ष 2014-15 में प्रदेश में प्रति व्यक्ति आय 42287 रुपए थी। तीन साल मौजूदा सरकार ने इसमें इजाफा दर्ज कराते हुए 70419 रुपए तक पहुंचा दिया है। इतना ही नहीं प्रथम एवं द्वितीय ग्राउंड सेरेमनी में 25 लाख करोड़ रुपए का निवेश कराते हुए 35 लाख लोगों को रोजगार से जोडने का काम प्रदेश सरकार ने किया, जो कि बड़ी उपलब्धि है।
कृषि व किसानों के लिए खोला खजाना
मंझनपुर। तीन साल में प्रदेश सरकार ने कृषि कार्य व किसानों पर दिल खोलकर धनराशि खर्च की है। प्रभारी मंत्री के मुताबिक सरकार ने जिले के 80 लाख की लागत से किसान कल्याण केंद्र का निर्माण कराया गया। 1,28,213 कृषकों को पारदर्शी किसान सेवा का लाभ दिया गया। 2293 किसानों का ऋण माफ किया गया। 166799 किसानो को प्रधानमंत्री किसान सम्मा निधि से लाभान्वित किया गया।
64011 गरीबों के रोशन हुए घर
प्रदेश सरकार ने ऊर्जा के क्षेत्र में भी सराहनीय कदम उठाया है। इसके अंतर्गत सौभाग्य योजना से जिले के 64011 लोगों को विद्युत कनेक्शन, उजाला योजना के तहत 126716 एलईडी बल्ब का वितरण व 5590 ट्रांसफार्मरों का प्रत्यास्थापन किया गया।
पिता की डांट से क्षुब्ध किशोर ने घर छोड़ा
सिराथू। सैनी कोतवाली के कमासिन निवासी राधेश्याम का कहना है कि सोमवार को उन्होंने अपने बेटे सुनील(14) को डांट दिया था। इसके बाद वह बिना बताए घर छोड़कर कहीं चला गया है। किशोर के इस कदम से परिजन परेशान हो रहे हैं। पीड़ित पिता ने कोतवाली में गुमशुदगी की तहरीर दिया है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं
Ishwardin
Ishwardin

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us