विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सावन के सोमवार पर कराएं शिव का सहस्राचन, मिलेगी समस्त आकस्मिक परेशानियों से मुक्ति
SAWAN Special

सावन के सोमवार पर कराएं शिव का सहस्राचन, मिलेगी समस्त आकस्मिक परेशानियों से मुक्ति

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

शादी के आठ दिन बाद मायके में आई नवविवाहिता की गला रेतकर हत्या, इलाके में सनसनी, जांच में जुटी पुलिस

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जनपद में खतौली के गांव कढली में शादी के आठ दिन बाद मायके में आई नवविवाहिता की गला रेतकर हत्या कर दी गई। हत्या की सूचना से क्षेत्र में सनसनी फैल गई। वहीं मामले की सूचना मिलने पर सीओ, कोतवाल भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस ने मौके पर जांच पड़ताल करने के बाद शव का पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया। एक सप्ताह पहले ही युवती की शादी हुई थी।

खतौली थाना क्षेत्र के गांव कढली निवासी राजेंद्र कुमार की 27 वर्षीय पुत्री रूचि की शादी 28 जून 2020 को मवाना थाना क्षेत्र के गांव खेड़की में हुई थी। तीन दिन पहले रूचि अपने पिता के यहां मायके में आई थी। 

बताया गया है कि रविवार रात करीब नौ बजे नवविवाहिता घर से कहीं गई थी, इसके बाद वह पूरी रात वापस नहीं आई। वहीं सोमवार सुबह जब किसान खेतों पर गए तो निर्भय शर्मा के खेत में नवविवाहिता का गला कटा शव पड़ा था। विवाहिता की हत्या की सूचना पर सैकड़ों ग्रामीण घटनास्थल पर पहुंच गए। इस दौरान मौके पर राजेंद्र का परिवार भी पहुंच गया। उन्होंने ने विवाहिता की पहचान रुचि के रूप में की। 

यह भी पढ़ें: 
हरिद्वार से गुजरात जा रहे 266 पहियों के ट्रक को निकलवाने में छूटे टोलकर्मियों के पसीने, तस्वीरें

उधर, हत्या की सूचना पर पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। खतौली सीओ आशीष प्रताप सिंह, कोतवाल संतोष त्यागी पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। उन्होंने महिला के शव के आसपास गहनता से जांच की। मामले की जानकारी पर फॉरेंसिक टीम मौके पर पहुंची। उन्होंने वहां से नमूने लिए। उसके बाद डॉग स्क्वॉड ने भी मौके पर पहुंचकर जांच पड़ताल की। पुलिस ने नवविवाहिता के शव का पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है। नवविवाहिता की हत्या से परिवार में कोहराम मचा हुआ है। पुलिस हत्यारों की तलाश में जुट गई है। सीओ खतौली ने बताया कि पुलिस जांच पड़ताल कर रही है। जल्द घटना का खुलासा किया जाएगा।

नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें


https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
... और पढ़ें

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे की तरह इस कुख्यात पर भी ढाई लाख का इनाम, 15 माह में नहीं पकड़ पाई पुलिस, तलाश जारी

मेरठ में ढाई लाख के इनामी कुख्यात बदन सिंह बद्दो का पुलिस करीब 15 माह बाद भी सुराग नहीं लगा पाई है। गिरफ्तारी के दावे करने वाली मेरठ जोन की पुलिस से लेकर एसटीएफ अभी तक लकीर ही पीट रही है। कानपुर प्रकरण के बाद अब फिर से बद्दो को तलाश करने के दावे किए गए हैं।

कानपुर में सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की शहादत के बाद शासन ने पूरे प्रदेश में ऐसे कुख्यातों की सूची बनाने के निर्देश दिए, जो पुलिस के लिए लंबे समय से चुनौती बने हैं। मेरठ जोन में कुख्यात बदन सिंह बद्दो का नाम इनमें सबसे ऊपर है। टीपीनगर थाना क्षेत्र अंतर्गत बेरीपुरा निवासी बदन सिंह बद्दो को 28 मार्च 2019 को पूर्वांचल की जेल से गाजियाबाद कोर्ट में पेशी पर लाया गया था। वह पेशी के बाद पुलिसकर्मियों से साठगांठ कर वापस जेल जाने के बजाय मेरठ में ब्रह्मपुरी थाना क्षेत्र स्थित मुकुट महल होटल में पार्टी करने पहुंचा था। वहां पुलिसकर्मियों को शराब पिलाने के बाद चकमा देकर फरार हो गया था। इस मामले में छह पुलिसकर्मी समेत 18 लोग जेल जा चुके हैं। हालांकि इनमें से अधिकांश को जमानत मिल चुकी है।

यह भी पढ़ें: 
शादी के आठ दिन बाद मायके में आई नवविवाहिता की गला रेतकर हत्या, इलाके में सनसनी, जांच में जुटी पुलिस

जारी हुआ था लुक आउट नोटिस
मेरठ से फरारी के बाद बद्दो के विदेश भागने की संभावनाओं के चलते बद्दो के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी हुआ था। पुलिस कभी बद्दो की लोकेशन पंजाब, कभी मुंबई तो कभी दक्षिण भारत में बताती रही। जबकि पुलिस के सूत्र यह भी मानते रहे कि बद्दो विदेश भाग चुका है। इस बीच बद्दो के सोशल मीडिया पर कई वीडियो वायरल हुए, जिसमें उसने अपने विरोधियों से बदला लेने की बात कही थी। लेकिन पुलिस उन वीडियो के आधार पर भी उसका सुराग नहीं लगा पाई। फरारी के बाद एक साल बाद नोटिस को अवधि खत्म होने पर इसे 28 मार्च 2020 को फिर से लुक आउट नोटिस की अवधि को आगे बढ़ाया गया।

बढ़ता गया इनाम, सिमटते गए दावे
मेरठ जोन की पुलिस से लेकर सर्विलांस सिस्टम जब बद्दो का कोई पता नहीं लगा पाया तो एसटीएफ को उसे पकड़ने का टास्क दिया गया। बद्दो की गिरफ्तारी पर इनाम बढ़ते-बढ़ते ढाई लाख रुपये हो गया। लेकिन उसे पकड़ने के दावे सिमटते चले गए। अब कानपुर की घटना के बाद शासन एक्शन मोड में आया तो जोन, रेंज और जिला स्तर पर पुलिस अधिकारियों ने कुख्यातों का आपराधिक रिकॉर्ड खंगालना शुरू कर दिया है। लेकिन सवाल यह है कि पुलिस बदन सिंह बद्दो की गिरफ्तारी कैसे करेगी। इसी साल बद्दो ने फेसबुक पर फर्जी तरीके से लोकेशन डालकर पुलिस को गुमराह किया था। पुलिस अभी तक यह तक नहीं पता लगा पाई कि बद्दो देश में है या विदेश में। इस संबंध में एसपी क्राइम रामअर्ज का कहना है कि कुख्यात बद्दो की तलाश में टीमें लगी हुईं हैं। अन्य अपराधियों की भी तलाश तेज कर दी गई है।

नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें


https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
... और पढ़ें

स्टेशन मास्टर और कांस्टेबल सोते रहे, चोरों ने उड़ा दीं श्रमिक ट्रेन से 37 बैटरियां

कासिमपुर खेड़ी रेलवे स्टेशन पर खड़ी श्रमिक स्पेशल ट्रेन के डिब्बों से रविवार तड़के चोरों ने 37 बैटरी चोरी कर लीं और निकट ही एक खेत में डाल दीं। इसी दौरान किसान खेत पर पहुंच गया और थाना रमाला पुलिस को सूचना दे दी। पुलिस पहुंची तो चोर बैटरियां छोड़कर भाग गए।

सूचना पर शामली आरपीएफ इंस्पेक्टर स्टेशन पहुंचे। उन्होंने कार्य में लापरवाही बरतने पर ड्यूटी पर तैनात दो कांस्टेबल को निलंबित कर दिया है। इसके अलावा ड्यूटी से नदारद मिले स्टेशन मास्टर के संबंध में रेलवे के आला अधिकारियों को सूचना दी।

कासिमपुर खेड़ी रेलवे स्टेशन पर शुक्रवार को श्रमिक स्पेशल ट्रेन खड़ी थी। रविवार तड़के लगभग चार बजे चोर डिब्बों से बैटरी चोरी करके पास के ही गन्ने के खेत में रख रहे थे। तभी खेत पर गए गांव के किसान टिंकू ने चोरों को देख लिया और रमाला पुलिस को सूचना दे दी। मौके पर पहुंची पुलिस को देखकर चोर बैटरी छोड़कर फरार हो गए।

थानाध्यक्ष रमेश सिंह सिद्धू ने चोरी की जानकारी आरपीएफ शामली को दी। आरपीएफ शामली इंस्पेक्टर प्रांजल कुमार ने कासिमपुर खेड़ी रेलवे स्टेशन पर पहुंचकर घटनास्थल का मौका मुआयना किया। उन्होंने बताया कि स्टेशन मास्टर सुरेश कुमार की ड्यूटी थी, लेकिन वह ड्यूटी से नदारद थे।

डिब्बों की सुरक्षा के लिए विभागीय कांस्टेबल रजनीकांत शर्मा और योगेश कुमार की ड्यूटी लगा रखी थी, लेकिन दोनों गार्ड के डिब्बे में सोए हुए थे। इस लापरवाही को देखते हुए दोनों कांस्टेबलों को निलंबित कर दिया गया।

इस काम आती हैं बैटरी
ये बैटरी ट्रेन के डिब्बे में पहियों के पास लगी रहती हैं। इनसे ही ट्रेन के अंदर प्रकाश व्यवस्था होती है और पंखे आदि चलाए जाते हैं।
... और पढ़ें

देरी से ठीक होंगे फाल्ट, बिना बिजली के गर्मी में बिलबिलाते रहेंगे उपभोक्ता

पीवीवीएनएल के मेरठ, नोएडा और गाजियाबाद को 24 घंटे बिजली आपूर्ति सुनिश्चित कराने के लिए फाल्ट ठीक करने को दिया गया 24 गुना 7 ब्रेकडाउन मेंटिनेंस ठेका खत्म हो गया है। अब दिन और रात में होने वाले बड़े फाल्ट अटेंड नहीं होंगे। इसके चलते उपभोक्ता बिना बिजली के ही गर्मी में बिलबिलाते रहेंगे।  

शासन ने पश्चिमांचल के मेरठ शहर, गाजियाबाद शहर और नोएडा को 24 घंटे निर्बाध बिजली आपूर्ति करने के निर्देश दिए हुए हैं। इसके लिए बड़े-छोटे फाल्ट ठीक करने के लिए डिस्कॉम ने तीनों शहरों के लिए पिछले दो साल से 24 गुना 7 ब्रेकडाउन मेंटिनेंस ठेका दिया हुआ था। यह ठेका इस साल मार्च में खत्म हो गया था। लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते हुए लॉकडाउन में बिजली आपूर्ति सही रखने के लिए इसे तीन महीने यानी जून तक के लिए आगे बढ़ा दिया था।

लॉकडाउन के बावजूद भी शहर की बिजली व्यवस्था सही बनी रही। समय पर फाल्ट ठीक होते रहे। इसकी तारीफ प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ और ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने भी की थी। लेकिन भीषण गर्मी में जब फाल्ट ठीक करके बिजली आपूर्ति की सबसे ज्यादा जरूरत है तो ऐसे में डिस्कॉम ने तीनों शहरों के टेंडर 30 जून को खत्म कर दिए हैं।

इसके चलते अब फाल्ट ठीक होने में घंटो की देरी हो रही है। रविवार सुबह तड़के चार बजे बारिश में हुए फाल्ट ठीक होने 5 घंटे से ज्यादा समय लगा। शारदा रोड, हापुड़ रोड और अन्य कई बिजलीघर सुबह 9 बजे तक चालू हो पाए।
... और पढ़ें
बिजली का बिल बिजली का बिल

बिजनौर में मिली हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे की लोकेशन, तलाश में जुटे अफसर, चेकिंग अभियान जारी

कानपुर जिले में मुठभेड़ में आठ पुलिसकर्मियों को मौत के घाट उतारने वाले ढाई लाख के इनामी बदमाश विकास दुबे की अपने साथियों के साथ बिजनौर में लोकेशन मिली है। वह अपने छह साथियों के साथ स्कोर्पियो कार में देखा गया है। इसके बाद जिले भर की पुलिस अलर्ट हो गई।

जिले भर में चेकिंग अभियान चलाया गया पर कहीं भी दोनों गाड़ी नहीं मिली। पुलिस को शक है कि कहीं जिले में ही विकास दुबे छिपा है। पुलिस उसका ठिकाना तलाशने में जुटी है। यह भी चर्चा है कि वह अपने साथियों के साथ उत्तराखंड की सीमा में घुस गया है।

जिले भर की पुलिस सड़कों पर उतर आई और चेकिंग अभियान शुरू कर दिया। हर वाहन की तलाश ली पर विकास दुबे पुलिस को नहीं मिला। एसपी संजीव त्यागी, एसपी सिटी लक्ष्मीनिवास मिश्र, एसपी देहात संजय कुमार, सीओ सिटी कुलदीप गुप्ता, सीओ धामपुर महावीर सिंह समेत पांचों सर्किल सीओ पुलिस फोर्स के साथ चेकिंग अभियान में जुट गए। पर विकास दुबे की लोकेशन नहीं मिल पाई।
... और पढ़ें

साइबर अपराधियों के निशाने पर कहीं आप तो नहीं, जरा सी चूक ही खाली करा सकती है आपका बैंक अकाउंट

साइबर ठग इंटरनेट पर जाल बिछाए बैठे हैं। जरा सी चूक होते ही आपके खाते से लाखों रुपये गायब हो सकते हैं। सिर्फ सावधानी ही बचाव है। उत्तर प्रदेश के बागपत जिले में फरवरी महीने से जून तक ही साइबर ठगी के 40 मामले सामने आए हैं। लॉकडाउन के बाद साइबर ठगी तेजी के साथ बढ़ी है।  जिले में पिछले दो साल में 85 साइबर ठगी हुई है। लेकिन लॉकडाउन पीरियड में सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं। 

पिछले साल हुई थी स्थापना
बागपत जिले में फरवरी 2019 में साइबर सेल स्थापित हुई थी। साइबर सेल ने 25 लोगों के खातों में उनकी रकम वापिस कराने में कामयाबी भी हासिल की है।

केस एक : जनवरी 2020 में डीएम के फॉलोअर मदन सिंह के खाते से 50 हजार रुपये की ठगी हुई थी। साइबर सेल ने तत्परता दिखाते हुए उनकी पूरी रकम वापस कराने में कामयाबी हासिल की। सेल ने जिस खाते में रकम गई थी, उसी बैंक खाते को ब्लॉक कराकर खाताधारक की जानकारी जुटाई। इसके बाद रुपये वापस कराए गए। 

केस दो : कोतवाली बागपत में तैनात कांस्टेबल विशाल पूनिया के साथ 36 हजार रुपये की साइबर ठगी हुई थी। साइबर सेल ने कांस्टेबल के 36 हजार में से 33 हजार रुपये वापस कराए।

यह भी पढ़ें: 
Coronavirus: मेरठ की स्थिति भयावह, आज फिर मिले 50 संक्रमित, अन्य जिलों का ये है हाल
... और पढ़ें

कानपुर एनकाउंटर: दो स्कार्पियो व सात साथियों संग पश्चिमी यूपी की इस चौकी पर दिखा विकास दुबे, पुलिस अलर्ट

इमलाख की पांच करोड़ की संपत्ति होगी कुर्क, फर्जी शैक्षणिक डिग्रियां बांटने के  भी लग चुके हैं आरोप

बिजनौर में अलर्ट पर पुलिस
मुजफ्फरनगर शहर कोतवाली क्षेत्र के गांव शेरपुर निवासी इमलाख खान की अवैध धंधों से अर्जित की गई करीब पांच करोड़ की संपत्ति बहुत जल्द पुलिस-प्रशासन द्वारा कुर्क की जाएगी। पुलिस ने इमलाख खान की इस बेशकीमती संपत्ति को चिह्नित कर लिया है। इस संपत्ति में छह से अधिक प्लाट के साथ ही अन्य संपत्तियां भी शामिल हैं। 

गौरतलब है कि इमलाख खान रुड़की रोड स्थित चर्चित बाबा कोचिंग सेंटर के जरिये चर्चा में आया था, जहां उस पर फर्जी शैक्षणिक डिग्रियां बांटने के आरोप लगे थे। इसके बाद उस पर धोखाधड़ी व ठगी के मुकदमे दर्ज होते गए।

इसी दौरान दो जून 2017 को गांव शेरपुर में पुलिस टीम पर हुए हमले में इमलाख खान का नाम आने के बाद पुलिस ने उसकी हिस्ट्रीशीट खोल दी थी। इंस्पेक्टर अनिल कपरवान ने बताया कि इमलाख की करीब पांच करोड़ कीमत की संपत्तियों को चिह्नित कर लिया गया है, जिन्हें जल्द ही कुर्क किया जाएगा।
... और पढ़ें

मुजफ्फरनगर पुलिस भी अलर्ट पर, शहर भर में चस्पा किए गए ढाई लाख के इनामी विकास दुबे के पोस्टर

कानपुर में सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की हत्या करने वाले ढाई लाख का इनामी कुख्यात विकास दुबे को लेकर मुजफ्फरनगर जनपद पुलिस को भी अलर्ट किया गया है। शहर भर में हिस्ट्रीशीटर के पोस्टर चस्पा किए गए हैं। वहीं सूचना देने वाले को उचित इनाम देने की भी बात कही गई है। चप्पे चप्पे पर पुलिस अलर्ट है। वाहनों की सख्त चेकिंग की जा रही है।

एसएसपी अभिषेक यादव ने सभी थानाध्यक्षों को अपने क्षेत्र में संदिग्ध व्यक्तियों की तलाश करने और बॉर्डर पर कड़ाई से चेकिंग करने के निर्देश दिए हैं। वहीं, जनपद के सभी थानों में विकास दुबे के फोटो वाले पोस्टर भी चस्पा कर लोगों से उक्त व्यक्ति के क्षेत्र में दिखाई देने पर तत्काल संबंधित थाना पुलिस को सूचना देने के लिए अपील की जा रही है।

यह भी पढ़ें:  
कानपुर एनकाउंटर: दो स्कार्पियो व सात साथियों संग पश्चिमी यूपी की इस चौकी पर दिखा विकास दुबे, पुलिस अलर्ट

उधर, बुढ़ाना में इंस्पेक्टर कुशलपाल सिंह ने भी फरार अभियुक्त विकास दुबे की तलाश के पोस्टर कस्बे में चस्पा करवाए। फोटो लगे पोस्टर में प्रभारी निरीक्षक का मोबाइल नंबर भी लिखा गया है। हत्यारे के संबंध में किसी भी प्रकार की जानकारी मिलने पर आम नागरिकों से सूचना देने की अपील की गई है।

पोस्टर के संबंध में इंस्पेक्टर कुशलपाल सिंह ने बताया कि सूचना देने वाले का नाम व नंबर गोपनीय रखा जाएगा। शासन द्वारा घोषित धनराशि भी इनाम के रूप में सूचना देने वाले को दिलवाई जाएगी।
... और पढ़ें

मेरठ: सामुदायिक रसोई पर खर्च हो गए पांच करोड़, प्रभारी मंत्री तक पहुंचीं शिकायतें

मेरठ जिले में तीन अप्रैल से शुरू हुईं सामुदायिक रसोइयों पर पांच करोड़ रुपये खर्च हुए हैं। प्रशासन ने बिल तैयार कर शासन को भेज दिया है। अभी तक शासन से धनराशि नही मिल पाई है। ऐसे में ठेकेदार भी मजदूरों का भुगतान नहीं कर पा रहे हैं। 62 दिनों तक चलीं सामुदायिक रसोई में खाने के लाखों पैकेट तैयार हुए।

लॉकडाउन के दौरान घर-घर जाकर सुबह-शाम खाने के पैकेट बांटने की व्यवस्था की गई थी। करीब 23 लाख 55 हजार 560 भोजन के पैकेट 62 दिनों में बांटे गए। जरूरतमंदों तक खाना पहुंचाने के लिए सेक्टर मजिस्ट्रेट की ड्यूटी लगाई गई थी। सुबह 10 बजे तक और शाम 6 बजे तक खाना पहुंचाने का समय तय किया गया था।

सामुदायिक रसोई का विवादों से भी नाता रहा। भाजपा के नेताओं ने सवाल खड़े कर बिना टेंडर के ठेका देने और करोड़ों के भुगतान करने की शिकायत उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य से की थी। इसके बाद प्रशासन ने टेंडर निकालकर सामुदायिक रसोई चलाई। वहीं टेंडर फाइनल होने के करीब 15 दिन रसोई को बंद कर दिया गया। 
... और पढ़ें

राज्यमंत्री के परिवार के दो सदस्य समेत 47 मिले नए कोरोना पॉजिटिव, एक मरीज की मौत, मचा हड़कंप

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जनपद में आज आयुष राज्यमंत्री डॉक्टर धर्म सिंह सैनी के परिवार के दो सदस्य समेत 15 लोगों को कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। सीएमओ डॉ. बीएस सोढ़ी ने पुष्टि की है। इनमें छह साल का एक बच्चा भी शामिल है। बाकी मरीज शारदानगर, नानौता और अन्य क्षेत्रों के हैं।

उधर, मुजफ्फरनगर जिले में सोमवार को कोरोना संक्रमण के 19 केस मिले हैं। वहीं एक मरीज की मौत हो गई। संक्रमित मिले लोगों में से आठ टाउन हॉल में विद्युत विभाग के कर्मचारी व अधिकारी और नौ जिला कारागार के बंदी। इसके अलावा एक मीरापुर निवासी शामिल हैं। वहीं बिजनौर जिले में सोमवार को 13 नए पॉजिटिव केस मिले हैं।

मेरठ में मेडिकल कॉलेज के कोविड-19 अस्पताल में सोमवार को एक व्यक्ति की मौत हो गई। नोडल अधिकारी डॉ. टीवीएस आर्य ने बताया कि मृतक 73 साल के थे। वह सराफा बाजार मुज्जफरनगर के रहने वाले थे। पांच जुलाई को इन्हें मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। इन्हें मुजफ्फरनगर जिला अस्पताल से गंभीर हालत में रेफर किया गया था। मेडिकल कॉलेज के कोविड-19 अस्पताल में अब तक कोरोना से मरने वालों की संख्या 137 हो गई है।

जिले में इससे पहले रविवार को आयुष मंत्री डॉ. धर्म सिंह सैनी की पत्नी और बेटे को कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी। इसके अलावा सात अन्य लोगों की कोरोना की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इनमें पांच देवबंद के रहने वाले हैं, जिनमें एक डॉक्टर भी शामिल है। इनके अलावा एक व्यक्ति नकुड़ और एक सहारनपुर शहर का बताया गया है। 

यह भी पढ़ें: 
मायावती ने फोन पर पूछा सांसद हाजी फजलुर्रहमान का हाल, कोरोना को मात देकर कल लौटे थे घर
  
बता दें कि आयुष राज्यमंत्री डॉ. धर्म सिंह सैनी ने शनिवार को अपनी कोरोना की जांच कराई थी। जिसमें उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इसके बाद चिकित्सा विभाग ने उन्हें कोविड अस्पताल भेजने के साथ ही परिजनों के सैंपल लिए थे। उनकी पत्नी का सैंपल देर शाम लेकर ट्रू-नेट मशीन से जांच की गई थी। 

सीएमओ डॉ. बीएस सोढ़ी ने बताया था कि देर रात उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। मंत्री के बेटे की जांच राजकीय मेडिकल कॉलेज में ट्रू-नेट मशीन से की गई। कॉलेज सीएमएस डॉ. संजीव कुमार ने बताया कि बेटे की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। बेटे को मेडिकल कॉलेज के कोविड अस्पताल में भर्ती कर लिया गया है। 16 और ऐसे परिजनों के सैंपल लिए गए हैं, जो मंत्री के बेहद करीबी रहे हैं।

नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें


https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
... और पढ़ें

मुजफ्फरनगर में दर्दनाक हादसा, तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक में मारी टक्कर, तीन युवकों की मौत

उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर जनपद के बुढ़ाना में सोमवार को एक दर्दनाक हादसा हो गया। इस हादसे में तीन युवकों की मौत हो गई। घटना की जानकारी लगने पर पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की छानबीन की।

बताया गया कि ये तीनों युवक एक ही बाइक पर सवार होकर मेरठ से जेसीबी मशीन का सामान लेकर शामली जा रहे थे। इसी दौरान तेज गति से आ रहे एक ट्रक ने पीछे से बाइक में टक्कर मार दी। टक्कर इतनी भंयकर थी कि मौके पर ही तीनों युवकों की मौत हो गई। 

यह भी पढ़ें: 
मुजफ्फरनगर: पिता की पिस्टल से अचानक चली गोली, 11 साल के बेटे की मौत, जांच में जुटी पुलिस

सुनील (27 वर्ष) पुत्र नरेंद्र, कंचनपुरा परतापुर मेरठ, सुप्रीत (25 वर्ष) पुत्र ब्रजवीर निवासी परतापुर मेरठ व तीसरा अन्य अज्ञात युवक बाइक पर सवार थे। इन तीनों की हादसे में मौत हो गई है। 

उधर, घटना की सूचना मिलते ही फुगाना थाना की पुलिस मौके पर पहुंची। घटना के बाद चालक ट्रक मौके पर ही छोड़कर फरार हो गया। घटना की सूचना पुलिस ने मृतकों के परिजनों को दी है।

नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें


https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
... और पढ़ें

सावन 2020: कोरोना का प्रभाव, एतिहासिक औघड़नाथ सहित शहर के प्रमुख मंदिर रहे बंद, शिव भक्तों ने ऐसे की पूजा-अर्चना, देखें तस्वीरें

Election
  • Downloads

Follow Us