विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

रेड जोन घोषित इलाकों में 60 हजार घरों के लोग चार दिन रहेंगे कैद, अघोषित कर्फ्यू जैसा होगा माहौल

कानपुर में रेड जोन घोषित क्षेत्रों के करीब 60 हजार घरों के लोग चार दिन तक घर से बाहर नहीं निकल पाएंगे। स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम की टीमें जब तक एक-एक घर में पहुंचकर स्वास्थ्य परीक्षण नहीं करा लेतीं इन इलाकों में अघोषित कर्फ्यू जैसा माहौल रहेगा।

6 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रतापगढ़

सोमवार, 6 अप्रैल 2020

मंडी प्रशासन की चूक: सोशल डिस्टेंसिंग का घेरा टूटा

 महुली मंडी की बड़ी चूक ने तीन दिन से सोशल डिस्टेंसिंग के घेरे को तोड़ दिया। सुबह छह बजे दुकानें खुलते ही ग्राहक सब्जी लेने के लिए उमड़ पड़े। दुकानदारों की लापरवाही के चलते सोशल डिस्टेंसिंग को तार-तार कर दिया गया। ग्राहक पहले सब्जी लेने के लिए धक्कामुक्की करते रहे।

सीओ सिटी को जानकारी होते फोर्स के साथ मंडी पहुंचे और डंडा पटककर ग्राहकों और दुकानदारों के बीच तीन-तीन दूरी बनाने के बाद भी विक्री करने की छूट दी।

कोरोना महामारी से बचाव के लिए लॉकडाउन के तीसरे दिन महुली मंडी में मुंडेरा, मऊआइमा, सोरांव से सब्जी लेकर पहुंचे ट्रकों को देखकर बेल्हा के लोगों ने राहत की सांस ली। डीएम के आदेश पर सुबह छह से दस बजे तक महुली मंडी में दुकानें खुली।

महुली मंडी प्रशासन की लापरवाही का आलम यह रहा कि सुबह व्यापारियों को न सावधान किया और न ही भीड़ को दूरी बनाने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग पर जोर दिया गया।

इधर दुकान खुलते ही ग्राहक दुकानों पर सब्जी लेने के लिए टूट पड़े। मंडी में ग्राहकों के बीच धक्का-मुक्की होने की जानकारी होते ही सीओ सिटी अभय कुमार पांडेय फोर्स के साथ पहुंचे और डंडा पटककर ग्राहक और दुकानदारों की बीच में तीन-तीन मीटर की दूरी बनाई। हालांकि पुलिस को सोशल डिस्टेंसिंग का फार्मूला लागू करने में लगभग आधे घंटे लग गए।

मंडी कर्मियों की लापरवाही से टूटा घेरा

महुली मंडी का निरीक्षण करने वाले डीएम ने बुधवार और गुरुवार को सोशल डिस्टेंसिंग पर जोर दिया था, मगर कर्मचारियों की लापरवाही के चलते इस पर कोई ध्यान नहीं दिया गया। आलम यह रहा कि ग्राहक दुकानों पर टूट पड़े।

पर्याप्त जगह फिर भी दूर-दूर नहीं लगाई दुकान

महुली मंडी में थोक विक्रेता अपनी सुविधा के चलते दूरी नहीं बना पा रहे हैं। दरअसल में थोक विक्रताओं के सामने समस्या यह है कि वह गोदाम से दूर सब्जी एक बार ले जाएं और बंद होने केे बाद वापस लाएं। ऐसे में वह अपने गोदाम के  बाहर ही दुकानें लगाकर बैठ गए। इसी वजह से सोशल डिस्टेंसिंग का फार्मूला बिगड़ गया।


महुली मंडी में आज जो अव्यवस्था देखने को मिली है, उससे फैसला किया गया है, कि अब पुलिस की मौजूदगी में ही दुकानें खुलेंगी। सभी दुकानदारों को सोशल डिस्टेंसिंग बनाने को कहा गया है। अब तीन मीटर दूर से ही लोग सब्जी खरीद सकेंगे। अभय कुमार पांडेय, सीओ सिटी
... और पढ़ें

CoronaVirus: कालाबाजारी रोकने के लिए तय हुए खाद्य पदार्थों के दाम

 कोरोना महामारी से बचाव के लिए जिले में 21 दिनों के लिए घोषित लॉकडाउन में कालाबाजारी रोकने के लिए जिला प्रशासन ने थोक और फुटकर विक्रेताओं के लिए बिक्री की दर निश्चित कर दी है।

21 वस्तुओं को निर्धारित दर पर ही दुकानदार बेच सकेंगे। अगर किसी ग्राहक से निर्धारित दर से अधिक धनराशि लेते हैं तो उनके खिलाफ धारा 188 के तहत कार्रवाई होगी।
 

आज से होम डिलेवरी की सुविधा, घर बैठे मंगाइए दवा और सामान

शहर के लोगों को परेशान होने की जरूरत नहीं है। जिला प्रशासन की पहल पर दुकानदारों ने आज से होम डिलेवरी की सुविधा प्रारंभ कर दी है। आप घर बैठे फोन घुमाइए और अपनी जरूरत के सामान और दवाएं लीजिए।

दूध और किराना के सामानों की खरीद के लिए इन नंबरों पर फोन कर सकते हैं

दुकानदार का नाम    मोबाइल नंबर
अनिकेत किराना स्टोर    7800030063
रुपेश किराना स्टोर    9838532784   
बच्चा किराना स्टोर    9554340664
पवन प्रविजन    9598379897
दयाल स्टोर    9839483742
छोटेलाल किराना स्टोर    9918374806
अरविंद कसौंधन    9120902136
अभिनंदन जैन    8765007096
सहनंदन जैन    8115385632
अंकित किराना स्टोर    9005143981
राजीव किराना स्टोर    8299029260
निर्मल जैन    9506758331
बच्चा उमरवैश्य किराना स्टोर    9889182250
रंजीत जायसवाल किराना स्टोर    8960141112


होम डिलेवरी दवा के लिए इन नंबरों पर संपर्क कर सकते हैं

पवन मेडिकल स्टोर    8543980415
संजय मेडिकल स्टोर    9415628405
शारदा मेडिकल स्टोर    9451822228
मीरा मेडिकल स्टोर     8795097892
रतन मेडिकल स्टोर    9919688555
गेएंड मेडिकल स्टोर    9415628003
रमेश मेडिकल स्टोर    9415229016
जमजम मेडिकल स्टोर    9670752990
भारत मेडिकल स्टोर    8896241330
रायल मेडिकल स्टोर    9452222469
... और पढ़ें

प्रतापगढ़: प्रतिबंध के बाद भी मस्जिद में नमाज पढ़ने पर 42 पर मुकदमा

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए शासन ने धार्मिक स्थलों में पूचन-अर्चन के साथ ही नमाज व सामूहिक प्रार्थना पर प्रतिबंध लगा दिया है। रोक के बाद भी कटरागुलाब सिंह बाजार स्थित जामा मस्जिद में मगरिब की नमाज पढ़ने वाले 42 लोगों के खिलाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया। अफसरों ने साफ कहा है कि यदि नियमों का कोई भी उल्लंघन करता है तो उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई होगी।

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए शासन ने भीड़ जुटाने वाले सभी स्थानों पर लोगों का आना जाना प्रतिबंधित कर दिया है। इस दायरे में धार्मिक स्थल भी हैं। जेठवारा थानाध्यक्ष विनोद यादव ने थाने पर मुकदमा दर्ज कराया है कि कटरा गुलाब सिंह बाजार स्थित जामा मस्जिद में बुधवार की शाम मगरिब की अजान के बाद 42 लोगों ने एकत्र होकर नमाज अदा की। जबकि मस्जिदों में भीड़ के साथ नमाज करने पर रोक लगी है।
... और पढ़ें

CoronaVirus: शहर से नरिसंगगढ़ तक सात हजार लोगों की हुई थर्मल स्क्रीनिंग 

 जिले में तीन कोरोना संक्रमित मिलने के बाद उन इलाकों में आंशिक कर्फ्यू लगाने के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम डोर टू डोर लोगों के स्वास्थ्य की जांच कर रही है। अब तक सात हजार लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग जांच हो चुकी है। दूसरे दिन भी दवाओं का छिड़काव होता रहा। नगर पालिका के कर्मचारियों ने जामा मस्जिद को पूरी तरह सैनिटाइज किया। 

रानीगंज थाना क्षेत्र के नरसिंहगढ़ में तब्लीगी जमात के 15 सदस्य रुके मिले थे। सभी दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन स्थित मरकज से आए थे। स्वास्थ्य विभाग ने सभी की जांच कराई। इसमे ंतीन सदस्य कोरोना पाजिटिव निकले। इसके बाद जिले में हड़कंप मच गया।

आननफानन में कोरोना संक्रमित लोगों के घूमने वाले स्थानों को सील कर दिया गया। जमात में शामिल सदस्य सिप्तैन रोड स्थित जामा मस्जिद आकर रुके थे। इसलिए शहर के कई मोहल्लों पर भी संक्रमण का खतरा मंडराता देख पुलिस प्रशासन ने बैरीकेडिंग लगाकर सील कर दिया। वहीं नरसिंहगढ़ के साथ ही पांच गांवों में भी आने-जाने का रास्ता पूरी तरह से बंद है।

रविवार को दूसरे दिन भी स्वास्थ्य विभाग की टीमें लोगों के घरों पर दस्तक देती रहीं। हर किसी से परिवार के बारे में जानकारी लेने के बाद लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाती रही। शहर व नरसिंहगढ़ समेत अन्य गांवों को मिलाकर दूसरे दिन सात हजार लोगों की जांच की गई।

केमिकल व ब्लीचिंग का छिड़काव लगातार हो रहा है। सफाईकर्मचारियों की टीम लगाकर बस्ती व पुरवों को सैनिटाइज किया जा रहा है। दूसरे दिन जामा मस्जिद पूरी तरह से सैनिटाइज कर दी गई। नगर पालिका की टीम शनिवार से ही जामा मस्जिद व आसपास के इलाकों का सैनिटाइज करने में जुटी हुई है। धर्मशाला वार्ड, बेगमवार्ड में भी सफाईकर्मी नालियों व लोगों के घरों पर छिड़काव करते रहे।

पहले सेल्फी, फिर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने शुरू की जांच

मानधाता के भिखनापुर में शनिवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम घरों में जांच करने पहुंची थी। यहां कुछ लोगों से स्वास्थ्यकर्मियों का विवाद हो गया। वे लोग टीम को मारने के लिए दौड़ा लिए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ अभद्रता करने वालों को जमकर लठियाया।

रविवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम पुलिस के साथ जांच करने पहुंची। गांव में पहुंचने के बाद पहले स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने सेल्फी ली। इसके बाद घर-घर जाकर लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग करते रहे। सुरक्षा के लिए पुलिसकर्मी मुस्तैद रहे।


 
... और पढ़ें
रानीगंज के नरसिंहगढ़ में ग्रामीणों की थर्मल स्क्रीनिंग करते स्वास्थ्य विभाग के लोग। रानीगंज के नरसिंहगढ़ में ग्रामीणों की थर्मल स्क्रीनिंग करते स्वास्थ्य विभाग के लोग।

CoronaVirus: रात में सीएमओ आफिस में घुसे कोरोना संदिग्ध, किया हंगामा 


जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में रखे गए कोरोना संदिग्धों ने घर जाने के लिए गुरुवार रात जमकर हंगामा किया। सीएमओ आफिस का गेट पकड़कर शोर मचाते रहे। घर भेजने के लिए कहते रहे। हालांकि स्वास्थ्य विभाग ने उनकी एक भी नहीं सुनी।

वह खाना-पानी न देने का भी आरोप लगा रहे थे। उधर, शुक्रवार दोपहर तीन लोगों में कोरोना की पुष्टि होने के बाद स्वास्थ्य विभाग के अफसरों और कर्मचारियों में खलबली मच गई। आफिस छोड़कर ज्यादातर कर्मचारी और अफसर बाहर निकल लिए। 

जिला अस्पताल पसिर में आई वार्ड के पास सीएमएस डॉक्टर पीपी पांडेय ने आइसोलेशन वार्ड का निर्माण कराया था। कम बेड देखकर उन्होंने सीएमओ आफिस के बगल स्थित बर्न यूनिट वार्ड में कोरोना के संदिग्ध मरीजों को रखवा दिया।

इनमें तीन थरिया रानीगंज के रहने वाले तो दो जिला अस्पताल में थर्मल स्क्रीनिंग कराने वालों को रखा गया था। गुरुवार को रानीगंज के नरसिंगगढ़ मस्जिद में मिले तब्लीगी जमात से जुडे़ 11 लोगों को भी यहीं भर्ती करा दिया गया।

सीएमओ ने सभी का सैंपल लेकर जांच के लिए भेज दिया। जांच में तीन लोगों में कोरोना की पुष्टी हुई। इसके बाद से स्वास्थ्य विभाग में खलबली मच गई। आइसोलेशन वार्ड के बगल स्थित सीएमओ आफिस के कर्मचारी डर गए।

वे अपना चैंबर छोड़कर भागने लगे। दोपहर बाद गिने-चुने अफसर और कर्मचारी ही अपने चैंबर में मिले। बाकी लोग ड्यूटी छोड़कर अस्पताल परिसर में भ्रमण कर रहे थे। सीएमओ आफिस के स्वास्थ्य कर्मचारियों ने बताया कि गुरुवार रात संदिग्ध मरीज हंगामा करते हुए सीएमओ आफिस में प्रवेश कर गए थे। फटकार कर भगाया गया तो वे गेट पर हंगामा करने लगे। 

आइसोलेशन वार्ड में नहीं है पानी की सप्लाई

जिला अस्पताल के बर्न यूनिट को आइसोलेशन वार्ड तो बना दिया गया है, मगर यहां पानी की सप्लाई तक नहीं है। पानी के बहाने संदिग्ध मरीज सीएमओ आफिस और जिला अस्पताल परिसर में भ्रमण कर रहे थे। इतना ही नहीं उनके परिवार या फिर जानने वाले लोग खाना देने के लिए सीधे वार्ड तक जाते थे। खाना खिलाने के बाद लौट जाते थे।

गेट पर नहीं तैनात किए गए चौकीदार और सिपाही 

स्वास्थ्य विभाग की ओर से कोरोना के संदिग्धों को वार्ड से बाहर निकलने से रोकने के लिए न तो चौकीदार की तैनाती की गई है और न ही सिपाही की। जबकि जिला अस्पताल में ही पुलिस चौकी है। तीन मरीजों में कोरोना की पुष्टि होने के बाद एक चौकीदार की तैनाती की गई, लेकिन उसे सैनिटाइजर और ग्लब्स तक नहीं दिया गया था। 

भोजन और पानी की व्यवस्था वार्ड में की गई है। स्वास्थ्य कर्मचारी सुबह नाश्ता और दोपहर व रात में खाना लेकर जाते हैं। आइसोलेशन वार्ड में रखे गए लोगों से मिलने तमाम लोग आते हैं। विरोध करने पर वे हंगामा करने लगते हैं। कोरोना वायरस के मरीजों को ट्रामासेंटर भेजवाने की तैयारी की जा रही है। 
डॉक्टर एके श्रीवास्तव, सीएमओ।
... और पढ़ें

CoronaVirus: मस्जिदों पर पुलिस का पहरा, घरों में हुई नमाज 

आइसोलेशन वार्ड
 लॉकडाउन के बाद भी मस्जिदों में नमाज पढ़ने की तैयारी करने वालों को शुक्रवार को उस समय झटका लगा, जब भारी संख्या में फोर्स पहुंच गई। दिनभर फोर्स मस्जिद की ओर आने-जाने वालों से पूछताछ करती रही।

सोशल डिस्टेंसिंग को मेनटेन करने के लिए शासन ने मस्जिदों में नमाज पर रोक लगा दी है। इधर, रानीगंज स्थित नरसिंहगढ़ में बाहर से आए तीन लोगों के कोरोना पॉजिटिव मिलने पर जिले भर की मस्जिदों में जांच अभियान चलाया गया। 

कोरोना महामारी से बचाव के लिए देश भर में 21 दिन का लॉकडाउन घोषित है। ऐसे में शुक्रवार को मस्जिदों में होने वाली नमाज पर पाबंदी लगा दी गई है। चोरी-छिपे मस्जिदों में एकत्रित होकर नमाज पढ़ने की तैयारी करने वालों को उस समय झटका लगा, जब दोपहर में भारी संख्या में फोर्स पहुंच गई। पुलिसकर्मियों ने मस्जिद के अंदर घुसकर मौजूद लोगों को बाहर निकाला और घरों में नमाज पढ़ने को कहा।

पुलिस की सख्ती देखकर मस्जिद की तरफ आने वाले किनारा काटकर निकल जा रहे थे। इधर पैदल आने वालों से भी पुलिस पूछताछ करती रही। पुलिस दोपहर में उस समय और सक्रिय हो गई, जब जिला अस्पताल में क्वारंटाइन किए गए तीन लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए। यह तीनों लोग रानीगंज स्थित नरसिंहगढ़ की मस्जिद में मिले थे।

पुलिस ने जिलेभर की मस्जिदों में जांच अभियान चलाकर बाहर से आने वालों का डाटा एकत्रित करती रही। सीओ सिटी अभय पांडेय ने बताया कि लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों को दंडित किया जा रहा है। 
... और पढ़ें

प्रतापगढ़: संक्रमण के लक्षण नहीं, लेकिन तीन जमातियों की रिपोर्ट आई पॉजिटिव

दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से प्रतापगढ़ लौटे तीन लोगों में शुक्रवार को कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। केजीएमसी में जांच होने के बाद आज उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। तीनों संक्रमित देहरादून के रहने वाले हैं और प्रतापगढ़ के जिले के रानीगंज तहसील क्षेत्र के नरसिंहगढ़ स्थित मस्जिद में रुके हुए थे।

बताया गया कि दो दिन पहले प्रशासन ने मस्जिदों में छापा मारकर इन्हें पकड़ा था। डीएम डॉ. रुपेश कुमार ने बताया कि निजामुद्दीन मरकज से लौटे कुल 11 लोगों के सैंपल लेकर जांच के लिए केजीएमसी लखनऊ भेजे गए थे।

हैरानी की बात यह है कि उनमें से जिन तीनों लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, उनमें कोरोना वायरस से संक्रमित होने के कोई लक्षण दिखाई नहीं दे रहे थे। तीनों में से किसी को भी सर्दी, जुकाम, बुखार या सांस फूलने जैसी कोई भी समस्या नहीं थी। 

तीनों 18 मार्च को दिल्ली से प्रतापगढ़ आए थे। बिना लक्षण के तीन लोगों को कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के कारण जिले में चिंता बढ़ गई है।
... और पढ़ें

CoronaVirus: निजामुद्दीन मरकज से आए 11 लोगों की जांच के लिए लखनऊ भेजा गया सेंपल

 दिल्ली की निजामुद्दीन मरकज से प्रतापगढ़ आए तब्लीगी जमात से जुड़े 11 लोगों को जांच के लिए जिला अस्पताल के कलेक्शन सेंटर में रखा गया। कोरोना की जांच के लिए सभी का सैंपल लेकर लखनऊ भेजा गया है। इनमें एक बिजनौर तो 10 उत्तराखंड के रहने वाले हैं। उनके चार साथियों को नरसिंहगढ़ में ही रखा गया है।

कलेक्शन सेंटर में 10 दूसरे संदिग्ध मरीजों को भी जांच के लिए लाया गया है। स्वास्थ्य विभाग की टीम लगातार उनकी निगरानी कर रही है। जमात में आए सभी लोग थर्मल स्कैनर की जांच में ठीक मिले। कलेक्शन सेंटर में कुल 24 लोग रखे गए हैं।

तब्लीगी जमात से जुड़े कुछ सदस्य 14 मार्च के बाद प्रतापगढ़ आए थे। येलोग पुलिस व मजिस्ट्रेट की तलाश में नरसिंहगढ़ मस्जिद में मिले थे। नरसिंहगढ़ में मिले जमात के सदस्य थर्मल स्कैनर की जांच में ठीक मिले थे। सभी को गांव में ही बनी बंद पीएचसी में रखा गया था। गुरुवार की सुबह आला अधिकारियों की बैठक के बाद यह तय हुआ कि 14 मार्च के बाद दिल्ली निजामुद्दीन से आए तब्लीगी जमात से जुड़े 11 लोगों को जिला अस्पताल लाया जाए

। स्वास्थ्य विभाग की टीम उत्तराखंड के 10 और बिजनौर के रहने वाले एक सदस्य को जिला अस्पताल के कलेक्शन सेंटर ले आई। जहां से जांच के लिए सभी का सैंपल लिया गया। उसे लखनऊ भेजा गया है। शुक्रवार को रिपोर्ट आने की संभावना है।

रिपोर्ट आने के बाद भी स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में सभी को 14 दिनों तक रखा जाएगा। कलेक्शन सेंटर में पहले से ही थरिया के टैक्सी चालक समेत तीन लोग रखे गए हैं। जिले के अलग-अलग स्थानों से 10 अन्य लोगों को भी संदेह के चलते कलेक्शन सेंटर लाया गया है। यहां से सभी की जांच के लिए सैंपल भेजा गया है।

चार सदस्यों को रखा गया है नरसिंहगढ़ में

तब्लीगी जमात के चार सदस्यों को नरसिंहगढ़ में ही क्वारंटाइन किया गया है। सभी पुलिस व स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में हैं। ग्राम प्रधान को भी उनके खाने-पीने का प्रबंध करने के लिए आदेशित किया गया है। जबकि अन्य जमात के सदस्यों को उन्हीं गांव में ही क्वारंटाइन कर दिया गया है। जरूरत समझने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम आगे कदम उठाएगी।

विदेश जाने वालों की हिस्ट्री खंगाल रही पुलिस 

जिले के रहने वाले कुछ लोग तब्लीगी जमात में शामिल होकर विदेश यात्रा पर गए हैं। पुलिस सूत्रों के अनुसार हजरत निजामुद्दीन से ही सभी को तंजियाना जाने की अनुमति मिली थी। जानकारी जुटाने के बाद दिल्ली क्राइम ब्रांच ने प्रदेश सरकार को मामले से अवगत कराया।

जिसके बाद पुलिस व खुफिया विभाग ऐसे लोगों का ब्यौरा जुटाते रहे। तब्लीगी जमात से जुड़े लोगों से जानकारी ली जाती रही। परिवार के लोगों से बातचीत करने के बाद उनके दिल्ली से लेकर विदेश जाने के बारे में जानकारी करते रहे। शासन द्वारा विदेश जाने वाले जमात के लोगों की खोजबीन के बाद हड़कंप मचा रहा।

महीनों से जिले में रुके थे बाहरी लोग, खुफिया विभाग को नहीं लगी भनक

जिले में तब्लीगी जमात के 57 सदस्य फरवरी माह से ठिकाना बनाए हुए हैं। महीनों से वह शहर से लेकर गांवों में ठहरे हुए हैं। बाहरी आने-जाने वाले लोगों के साथ ही जिले में होने वाली हर गतिविधियाें पर नजर रखने के लिए एलआईयू, एसआईओ, आईबी पर जिम्मेदारी है। खुफिया विभाग की टीम केवल राजनैतिक धरना प्रदर्शन के साथ ही शासन के आदेशों व निर्देशों का पालन कराने में ही व्यस्त रहती है।

बाहरी लोगों के बारे में जानकारी न होना खुफिया विभाग की बड़ी चूक मानी जा सकती है। फिलहाल मजहबी क्रियाकलाप करने वाली संस्थानों पर नजर रखना खुफिया विभाग की जिम्मेदारी है, लेकिन यहां चूक बरती गई। बाहरी जमात के लोगों को जिले व प्रदेशों में भेजने की जिम्मेदारी दिल्ली निजामुद्दीन से होती रही है

। जिले में पहुंचने पर जमात के साथ जुड़े लोगों की मदद से सभी को उन स्थानों पर पहुंचाया जाता है। जहां उन्हें लोगों को धर्म के रास्ते पर चलने के लिए मजहबी जानकारी देने की जरूरत होती है।
... और पढ़ें

राशन वितरण में लागू हुई टोकन व्यवस्था, सोशल डिस्टेंसिंग पर जोर

राशन लेने में सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाने वाले शहर और गांव के लोगों लिए अब टोकन व्यवस्था लागू की गई है। कोटेदार के यहां राशन लेने के लिए उमड़ने वाले ग्राहकों की भीड़ रोकने के लिए यह पहल की गई है।
जिले के उपभोक्ताओं को 15 से 19 अप्रैल के बीच दोबारा राशन का वितरण किया जाएगा। इसके लिए 14 अप्रैल को सभी ई-पॉस मशीन स्वत: अपडेट हो जाएंगी।
जिले के 5,58,561 राशनकार्ड धारकों के लिए राहत भरी खबर है। अप्रैल माह में उन्हें दो बार राशन मिलेगा। जिन उपभोक्ताओं को राशन का वितरण किया जा रहा है, उन्हें दूसरे चक्र में 15 से 19 अप्रैल के बीच फिर राशन दिया जाएगा। कोटेदारों के यहां अधिक भीड़ को रोकने के लिए अब टोकन व्यवस्था लागू कर दी गई है।
कोटेदार अब उपभोक्ताओं को टोकन का वितरण करेंगे। उपभोक्ता टोकन लेकर दुकान पर आएंगे और अपना हिस्से का राशन ले जाएंगे। सोशल डिस्टेंसिंग को बरकरार रखने के लिए अफसरों ने यह व्यवस्था बनाई है।
प्रत्येक यूनिट पर पांच किग्रा की दर से राशन का वितरण करने के लिए प्रतिमाह जिले को मिलने वाला राशन इस माह लगभग तीन गुना आया है। शहर और गांव के लोग राशन तो लें, मगर सामाजिक दूरी बनाना आवश्यक हो गया है।
जिले में कोरोना के तीन मरीज मिलने के बाद शहर से गांव तक के लोगों को सावधान रहने की आवश्यकता है। इसके लिए अफसरों को कड़ाई से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने को कहा जा रहा है।
इन लोगों को मुफ्त में मिलेगा राशन
अंत्योदय, जाबकार्डधारक और श्रम विभाग में पंजीकरण कराने वालों को मुफ्त राशन मिलेगा, जबकि अन्य उपभोक्ताओं को दो रुपये प्रति किग्रा गेहूं और तीन रुपये प्रति किग्रा की दर से राशन वितरित किया जाएगा।
एक-एक किग्रा मिलेगी अरहर की दाल
15 अप्रैल से राशन के साथ ही एक-एक किग्रा दाल सभी राशनकार्ड धारकों को वितरित की जाएगी। दाल के लिए उपभोक्ताओं को कोई धनराशि नहीं देनी होगी।
जिले में राशन की कोई कमी नहीं है, शासन ने अप्रैल और मई का अतिरिक्त राशन मुहैया करा दिया है। कोटेदारों की दुकानों पर भीड़ से बचें, एक-दूसरे के बीच उचित दूरी बनाए रखें। सुनील कुमार, डीएसओ
... और पढ़ें

CoronaVirus: जिले के अलग-अलग इलाकों की मस्जिदों में रुके थे 57 बाहरी लोग 

अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us