बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
इस गायत्री जयंती फ्री में कराएं गायत्री मंत्र का जाप एवं हवन,  दूर होंगी समस्त विपदाएं - रजिस्टर करें
Myjyotish

इस गायत्री जयंती फ्री में कराएं गायत्री मंत्र का जाप एवं हवन, दूर होंगी समस्त विपदाएं - रजिस्टर करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

प्रतापगढ़ में कोरोना माता मंदिर पर चला प्रशासन का बुलडोजर, एक हिरासत में

शादी का झांसा देकर किशोरी के साथ युवक ने किया दुष्कर्म, आरोपी के खिलाफ केस दर्ज

अंतू थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली एक किशोरी ने पड़ोसी गांव के एक युवक पर शादी का झांसा देकर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है। उसका आरोप है कि पड़ोसी गांव का एक युवक काफी दिनों से उसके घर आता जाता था तथा उसके साथ शादी करने का प्रस्ताव रखा तथा युवती को बहला-फुसलाकर करीब दो महीने पहले उसके साथ दुष्कर्म किया।
 
बाद में जब युवती के परिजनों को मामले की जानकारी हुई तो उन लोगों ने पंचायत बुलाई जिसमें दोनों पक्ष शादी करने को राजी हो गए। बाद में किशोरी द्वारा शादी करने का दबाव बनाने पर करीब एक सप्ताह पूर्व आरोपी युवक के परिजन तथा युवक शादी करने से इंकार कर दिया। मामले में किशोरी के पिता ने पुलिस अधीक्षक को प्राथना पत्र देकर आरोप लगाया कि उनकी पुत्री को शादी का झांसा देकर युवक शिवम पुत्र शिवराम ने उसकी बेटी के साथ दुष्कर्म किया और कुछ महीने पहले गांव में हुई पंचायत में शादी करने की बात कही थी, लेकिन बाद में शादी करने से मना कर दिया।
 
मामले में पीड़िता के पिता की तहरीर पर अंतू पुलिस ने आरोपी युवक के विरुद्ध शनिवार को दुष्कर्म तथा  पास्को  सहित विभिन्न धाराओं मे मुकदमा दर्ज कर लिया है। इस मामले में प्रभारी एसओ प्रवीण कुशवाहा ने बताया कि आरोपी युवक के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर लिया गया है मामले की जांच की जा रही है।
... और पढ़ें

महंगाई के खिलाफ उबाल: सड़क पर उतरे कांग्रेसी, पेट्रोल पंप के सामने विरोध प्रदर्शन कर राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन 

पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव मौत मामले में पूछताछ और बयान तक ही सिमटी पुलिस

टीवी पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत के मामले में अभी तक पुलिस टीम जांच तक ही सिमटी हुई है।  बृहस्पतिवार को मजदूर समेत तीन लोगों का न्यायालय में बयान दर्ज कराया। शहर के दो मीडियाकर्मियों से भी पूछताछ की। सुलभ के संपर्क में रहने वाले लोगों की सूची तैयार करने के बाद अब तक तीस लोगों से पुलिस पूछताछ कर चुकी है। अभी तक किसी नतीजे पर पुलिस नहीं पहुंची है। हालांकि वह घटना को दुर्घटना मानकर ही जांच आगे बढ़ा रही है। 

शहर के स्टेशन रोड पश्चिमी सहोदरपुर निवासी सुलभ श्रीवास्तव की मौत की जांच करने के लिए पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर ने अफसरों के नेतृत्व में टीम गठित की है। टीम अब तक सुलभ के मोबाइल फोन की कॉल डिटेल व चैटिंग की छानबीन करती रही। शराब माफिया के खिलाफ लिखी गई जिस खबर पर हत्या की आशंका जताई जा रही है, उसे देखने के साथ ही उस प्रकरण पर सुलभ के दूसरे लोगों से मोबाइल चैटिंग को भी पुलिस ने खंगाला। सूत्रों के अनुसार चैटिंग में कोई खास बात सामने नहीं आई। पुलिस ने सुलभ के करीबी संग व मीडियाकर्मियों की सूची तैयार की है। जिसमें से तीस लोगों से पुलिस अब तक पूछताछ कर चुकी है।

बृहस्पतिवार को शहर के एक पत्रकार व दो चश्मदीद बताए जा रहे मजदूरों का कोर्ट में पुलिस ने बयान दर्ज कराया। इसके अलावा शहर के ही दो पत्रकारों से पुलिस पूछताछ कर सुलभ के लालगंज आने-जाने की जानकारी ली। इसके पहले लालगंज के सलेम भदारी के रहने वाले एक पत्रकार से पुलिस पूछताछ कर चुकी है। अब तक की जांच में पुलिस केवल दुर्घटना तक ही सिमटी हुई है। सीओ सिटी अभय पांडेय ने बताया कि घटना को लेकर जांच चल रही है। टीम के सदस्यों को अलग-अगल जिम्मेदारी मिली है। चिह्नित लोगों से पूछताछ के बाद ही आगे कुछ कहा जा सकता है।

सुलभ के घर पहुंचे कैबिनेट मंत्री मोती सिंह

टीवी पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव के घर बृहस्पतिवार को कैबिनेट मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह मोती सिंह भी पहुंचे। उनके साथ सांसद संगमलाल गुप्ता भी थे। कैबिनेट मंत्री ने उनकी पत्नी रेणुका को भरोसा दिलाया कि उनकी मांगों को वह मुख्यमंत्री तक पहुंचाएंगे। इसके अलावा वह अपने स्तर से उनकी नौकरी के लिए भी प्रयास करेंगे। प्रकरण की जांच के लिए शासन स्तर से एसआईटी की टीम गठित हुई है। सांसद संगमलाल गुप्ता ने बताया कि जिलाधिकारी से मदद व नौकरी के सिलसिले में बात हुई है। कैबिनेट मंत्री को प्रतापगढ़ प्रेस क्लब की ओर से मुख्यमंत्री को संबोधित एक मांग पत्र भी सौंपा गया। जिसमे घटना की सीबीआई जांच, आश्रितों को एक करोड़ रुपये की मदद संग पत्नी को सरकारी नौकरी दिलाने की मांग शामिल रही। इस मौके पर पूर्व सभासद संतोष दुबे, दिनेश सिंह, सर्वेश शर्मा, विवेक पांडेय, क्लब के अध्यक्ष जेएम खान, ओम सिंह, सुधीर जायसवाल , हैप्पी सिंह समेत अन्य लोग मौजूद रहे। इसके पूर्व सदर विधायक राजकुमार पाल पत्रकार सुलभ के आवास पहुंचकर संवेदना जताई। उन्होंने परिवार को बीस हजार रुपये की आर्थिक मदद भी दी।
... और पढ़ें
prayagraj news : पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव (फाइल फोटो)। prayagraj news : पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव (फाइल फोटो)।

दुल्हन के चचेरे भाई की हत्या में पुलिस ने तीन और को दबोचा

द्वारपूजा के दौरान दूल्हे पर चलाई गोली से दुल्हन के चचेरे भाई की मौत के मामले में पुलिस ने नामजद दो आरोपियों के अलावा तीन अन्य लोगों को भी दबोच लिया है। घटना के सिलसिले में पुलिस अभी तक की पूछताछ से संतुष्ट नहीं है। घटना की तह तक जाने के लिए पुलिस लगातार प्रयास कर रही है। 
रानीगंज थाना क्षेत्र के सराय शेरखां लोहारतारा निवासी कोटेदार निगम सिंह की बेटी की शादी मंगलवार को थी। शादी में शामिल होने के लिए उसके परिवार के सदस्य शामिल हुए थे।

अपनी चचेरी बहन की शादी में शामिल होने के लिए प्रेम सिंह भी दिल्ली से परिवार संग आया था।  द्वारपूजा के दौरान चली गोली से प्रेम की मौत हो गई। निगम सिंह के अनुसार गांव का विवेक सिंह उनकी बेटी की शादी में अड़ंगा डाल रहा था। सगाई के दौरान भी उसे धमकाया था। द्वारपूजा के दौरान विवेक ने अपने साथी फिरोज व एक अज्ञात के साथ पहुंचकर दूल्हे पर फायर कर दिया।

बीच में प्रेम आ गया, जिससे गोली उसे लग गई। विवेक व फिरोज को पुलिस ने पकड़कर पूछताछ की तो शादी रोकने के लिए सगाई में धमकी देने की बात उसने स्वीकार कर ली, मगर गोली चलाने की बात से वह मुकर रहा है। विवेक व फिरोज से पुलिस की टीम लगातार पूछताछ करती रही। इस दौरान पुलिस ने उनकी निशानदेही पर तीन संदिग्धों को दबोच लिया। अब पुलिस उनसे पूछताछ करने के बाद घटना में प्रयुक्त असलहा बरामद करने के लिए प्रयास कर रही है। सीओ रानीगंज अतुल अंजान त्रिपाठी का कहना है कि नामजदगी के अलावा भी कुछ अन्य लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।
... और पढ़ें

पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव मौत मामला : घटना के चश्मदीद दो मजदूरों और एक पत्रकार का बयान दर्ज

टीवी पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत की जांच कर रही टीम ने बुधवार को घटना के चश्मदीद दो मजदूरों और एक पत्रकार का कोर्ट में बयान दर्ज कराया। लालगंज से लेकर सुखपालनगर तक सीसीटीवी फुटेज को कब्जे में लेकर छानबीन शुरू कर दी। सीसीटीवी फुटेज से यह साफ हो जाएगा कि कोई उनका पीछा तो नहीं कर रहा था।

नगर कोतवाली के पश्चिमी सहोदरपुर निवासी पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत की जांच के लिए पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर की आठ सदस्यीय गठित टीम ने बुधवार को घटना के चश्मदीद बताए जा रहे दो मजदूरों को कोतवाली लाकर उनका बयान दर्ज किया। इसके अलावा सुलभ के साथी पत्रकार से भी पूछताछ करने के बाद उनका बयान दर्ज किया। इसके बाद पत्रकार संग दोनों मजदूरों का कोर्ट में बयान दर्ज कराया। जांच टीम ने लालगंज से सुखपालनगर तक हाईवे पर लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाले।

दस स्थानों पर मिले फुटेज को पुलिस ने कब्जे में ले लिया। मोबाइल की सीडीआर को देखने के बाद पुलिस कुछ लोगों को बृहस्पतिवार के दिन बुलाने की तैयारी में है। ताकि घटना का कोई क्लू मिल सके। पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर ने बताया कि उनके द्वारा गठित टीम हर बिंदुओं पर छानबीन कर रही है। अभी तक की जांच में सुलभ की मौत दुर्घटना में होने की बात सामने आ रही है। फिर भी वह अपने स्तर से सभी बिंदुओं पर छानबीन कर रहे हैं।

रात में सुलभ से कई लोगों की होती थी लंबी बातचीत, होगी पूछताछ 
पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत के मामले की जांच में जुटी पुलिस टीम ने सीडीआर मिलने के बाद बातचीत करने वाले लोगों को खंगालना शुरू कर दिया है। सूत्रों के अनुसार सीडीआर देखने पर यह पता चला है कि अक्सर सुलभ रात में काफी देर तक कुछ लोगों से लंबी बातें करते रहते थे। ऐसे लोगों की कुंडली तैयार की जा रही है। ऐसे लोगों को किसी भी दिन पूछताछ के लिए बुलाया जा सकता है।

शराब माफिया से भी हुई है सुलभ की बातचीत
सुलभ के मोबाइल की सीडीआर खंगालने के बाद फरार चल रहे एक शराब माफिया से भी बातचीत करने की बात सामने आ रही है। काफी देर तक सुलभ की उससे बातचीत हुई है। हालांकि अब वह नंबर बंद जा रहा है। यह संभावना जताई जा रही है कि हो सकता है वह अपना पक्ष रखने के लिए सुलभ से फोन पर बातचीत किया हो। हालांकि पुलिस इस मामले को गंभीरता से ले रही है।
... और पढ़ें

प्रतापगढ़: द्वार पूजा के समय दुल्हन के चचेरे भाई की गोली मारकर हत्या

द्वारशादी के दौरान पड़ोसी युवक ने दुल्हन के चचेरे भाई की गोली मार दी। जिससे वैवाहिक समारोह में भगदड़ मच गई। खुशी वाले घर में मातम का माहौल छा गया। आननफानन घायल युवक को परिजन राजकीय मेडिकल कॉलेज ले आए। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। बवाल की आशंका को देखते हुए भारी संख्या में फोर्स अस्पताल में डटी रही।

रानीगंज थाना क्षेत्र के सराय शेरखा लोहंगतारा के कोटेदार निगम सिंह की बेटी कि मंगलवार को शादी थी। द्वार पूजा के दौरान रात लगभग 10:30 बजे बराती फिल्मी गानों पर डांस कर रहे थे। इस दौरान आतिशबाजी भी हो रही थी। आरोप है कि बारातियों के स्वागत में जुटे कोटेदार के भतीजे प्रेम सिंह 38 को पड़ोसी युवक ने पीछे से गोली मार दी। जिससे वह खून से लथपथ होकर नीचे गिर पड़ा। घटना के बाद वैवाहिक कार्यक्रम में भगदड़ मच गई।

चाचा निगम सिंह परिजनों के साथ घायल प्रेम सिंह को लेकर राजकीय मेडिकल कॉलेज पहुंचा। जहां डॉक्टरों ने प्रेम सिंह को मृत घोषित कर दिया। खबर मिलते ही भारी मात्रा में फोर्स अस्पताल पहुंची। उधर आक्रोशित गांव के लोगों ने आरोपी का घर घेर लिया। सीओ रानीगंज अतुल अंजान त्रिपाठी ने बताया कि घटना की तहकीकात करने के बाद ही कुछ बताया जा सकता है। गांव में इस बात की चर्चा है कि हर्ष फायरिंग के दौरान मृतक प्रेम सिंह को गोली लगी है।
... और पढ़ें

पत्रकार सुलभ की हत्या मामले में स्वाट टीम ने साथियों से की पूछताछ

Murder

टीवी पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की हत्या के प्रकरण में स्वाट टीम ने साथी मीडियाकर्मियों के अलावा ईंट-भट्ठे पर मजदूरों से पूछताछ कर साक्ष्य संकलित किया। अब सुलभ से दिनभर बातचीत करने वालों का ब्यौरा खंगाला जा रहा है। काल डिटेल की मदद से पुलिस टीम धमकी देने वाले शराब माफिया की खोजबीन कर रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पत्रकार सुलभ के सिर व पेट में गंभीर चोट से मौत होने की बात सामने आई है।


शहर के पश्चिमी सहोदरपुर स्टेशन रोड निवासी सुलभ श्रीवास्तव (45) एक टीवी चैनल के पत्रकार थे। 13 जून को वह लालगंज कोतवाली के असरही में पकड़ी अवैध असलहा फैक्ट्री की कवरेज करने गए थे। वहां से लौटते समय रात करीब साढ़े दस बजे लखनऊ-वाराणसी राजमार्ग पर नगर कोतवाली के सुखपालनगर के पास ईंट-भट्ठे के करीब संदिग्ध हालत में वह घायल अवस्था में मिले। उनकी बाइक गिरी थी। लोगों ने उनके मोबाइल से पत्रकार साथी को फोन कर घटना की जानकारी दी थी। जिसके बाद उन्हें मेडिकल कॉलेज लाया गया। यहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था।

घटना को पहले हादसा बता रही पुलिस को आखिरकार मीडियाकर्मियों के दबाव में अज्ञात लोगों पर हत्या का मुकदमा दर्ज करना पड़ा। पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर ने घटना से जुड़े तथ्यों की गंभीरता से जांच के लिए फोरेंसिक टीम के साथ स्वाट टीम को लगाया है। स्वॉट टीम प्रभारी ने सोमवार को ही घटनास्थल पहुंचकर मजदूरों से पूछताछ की। मजदूरों से सवाल किया कि पत्रकार सुलभ के कपड़ा कैसे अस्त-व्यस्त हो गए थे। वह किस हालत में पड़े थे। पुलिस के कई सवालों का चश्मदीद मजदूर जवाब नहीं दे सके।
 
पुलिस ने लालगंज पहुंचकर भी छानबीन की। लालगंज में मुकेश तिवारी से पूछताछ के बाद घटनास्थल से सुलभ को अस्पताल लाने वाले साथी मनीष ओझा से पूछताछ कर उनका बयान रिकार्ड किया। सूत्रों के अनुसार सुलभ के सिर व पेट में आई गंभीर चोट उनकी मौत का कारण बनी। बहुत ज्यादा खून भी बह गया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यह स्पष्ट नहीं हो सका कि सुलभ के शरीर की चोटें दुर्घटना की हैं या उन्हें चोटें पहुंचाई गई हैं। पुलिस इसकी जांच कर रही है। लालगंज से सुखपालनगर तक सीसीटीवी के जरिए घटना की जानकारी जुटाने के प्रयास किए जा रहे हैं। पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर ने बताया कि सुलभ के आवास पर पुलिसकर्मी तैनात हैं। प्रकरण की जांच हर बिंदुओं पर कराई जा रही है। 

नहीं मिला सुलभ की पर्स

नगर कोतवाली के सुखपालनगर ईंट-भट्ठे के पास घायल अवस्था में मिले पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव का पर्स गायब था। जिसमें एटीएम कार्ड, आधारकार्ड, आईकार्ड व कुछ कागजात थे। इस बात की जानकारी मंगलवार को पत्नी रेणुका के बताने पर हो सकी। सीओ सिटी अभय पांडेय को इससे अवगत करा दिया गया है। वह घटना पर मौजूद मजदूरों से पूछताछ कर पर्स बरामदगी का प्रयास कर रहे हैं।

पत्रकार संगठनों ने जताया दुख, प्रशासन को दी चेतावनी

पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव के मामले को लेकर पत्रकार संगठनों में उबाल है। पदाधिकारियों ने घटना पर दुख जताते हुए कहा कि सुलभ के परिवार के साथ न्याय होना चाहिए। यदि इंसाफ नहीं होता तो वे लोग आरपार के संघर्ष को बाध्य होंगे। ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन के अध्यक्ष जीतेंद्र प्रताप सिंह, नसीम अंसारी, अख्तर अली, जयंती प्रसाद मिश्रा ने शोक जताते हुए मामले में आर्थिक मदद के साथ घटना की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग की।
 
वहीं दूसरी ओर प्रतापगढ़ प्रेस क्लब केे संरक्षक दिनेश सिंह, हरीश सैनी, राजीव पांडेय, अध्यक्ष जेएम खान, वरिष्ठ उपाध्यक्ष चंदन सिंह, उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप सिंह धीरू, संगठन मंत्री सौरभ शर्मा, पूर्व अध्यक्ष नीरज श्रीवास्तव, गिरीश तिवारी समेत संगठन के सदस्यों ने परिवार की आर्थिक मदद व मृतक पत्रकार की पत्नी को नौकरी दिलाने की मांग की। चेताया कि यदि प्रशासन द्वारा उचित कदम नहीं उठाया गया तो वे लोग संघर्ष को बाध्य होंगे। पत्रकार कल्याण परिषद के अध्यक्ष विश्वनाथ त्रिपाठी की अध्यक्षता में शोक सभा संपन्न हुई। जिसमे पदाधिकारियों ने कहा कि सुलभ की संदिग्ध मौत की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। इस मौके पर डा. अनूप पांडेय, करीम खान समेत अन्य लोग मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री का पोस्टर जलाकर सपाइयों ने जताया विरोध

पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव के मामले में मुलायम सिंह यूथ ब्रिगेड के जिलाध्यक्ष साजिद अली के नेतृत्व में पदाधिकारियों ने अंबेडकर चौराहे पर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को पोस्टर जलाकर विरोध जताया। इसके बाद अपर जिलाधिकारी को मांगों से संबोधित ज्ञापन सौंपा। प्रशासन को चेेताया कि यदि प्रकरण की गहराई से छानबीन नहीं करती तो वे लोग अनशन को बाध्य होंगे। इस मौके पर महेश मौर्य, भाष्कर शुक्ला, संजय यादव, प्रेम यादव, दीपक यादव समेत अन्य लोग मौजूद रहे।

पत्रकार के परिजनों को आर्थिक सहायता की मांग

लालगंज। जिले के एक टीवी चैनल के पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की संदिग्ध मौत पर पत्रकारों ने मंगलवार को शोक सभा का आयोजन कर श्रद्धांजलि अर्पित की। पत्रकारों ने पीड़ित परिवार के लिए आर्थिक सहायता व मृतक के पत्नी को सरकारी नौकरी दिए जाने की मांग उठाई। पत्रकारों ने घटना की उच्चस्तरीय जांच कराए जाने की मांग भी शासन प्रशासन से की है। इस मौके पर देवानंद मिश्र, ज्ञान प्रकाश शुक्ल, चंद्र शेखर तिवारी, मनोज सिंह, सागर तिवारी, विनोद सिंह, उमेश तिवारी, जगत वर्मा, जाकिर अली, प्रेम मिश्र, आशुतोष मिश्र, राजीव तिवारी, साकेत मिश्र आदि मौजूद रहे। संवाद

आप के पदाधिकारियों ने जताई शोक संवेदना 

प्रतापगढ़। आम आदमी पार्टी जिला इकाई के जिलाध्यक्ष दिनेश उपाध्याय कार्यकर्ताओं के साथ मंगलवार को टीवी पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव के आवास पर पहुंचकर संवेदना प्रकट की। जिला प्रशासन से जांच कर दोषियों की जल्द से जल्द गिरफ्तारी एवं पीड़िता को नौकरी एवं पीड़ित परिवार को एक करोड़ मुआवजा दिलाने की मांग की। इस अवसर पर सुशील कुमार तिवारी, पंकज पाल, कृष्ण कुमार शुक्ला, शिव कैलाश पांडेय व वैभव आदि उपस्थित रहे। 
... और पढ़ें

पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव हत्या प्रकरण: प्रियंका के निर्देश पर पत्रकार के घर पहुंचा कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल 

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी के निर्देश पर मंगलवार को कानपुर कैंट विधायक सुहेल अख्तर अंसारी के नेतृत्व में कांग्रेस का छह सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल टीवी पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव के घर पहुंचा और उनकी पत्नी को ढांढस बंधाते हुए न्याय की लड़ाई में साथ रहने का आश्वासन दिया। प्रतिनिधिमंडल ने पार्टी की ओर से पत्रकार की पत्नी को एक लाख रुपये की मदद दी। इस दौरान विधायक सुहेल अख्तर ने कहा कि इस मामले को लेकर जल्द ही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी भी प्रतापगढ़ आ सकती हैं। 

टीवी पत्रकार की हत्या पर गहरा आक्रोश प्रकट करने वाली कांग्रेस  की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी के निर्देश पर मंगलवार को कानपुर कैंट से विधायक सुहेल अख्तर अंसारी, प्रदेश महासचिव सुशील पासी, सचिव देवेंद्र कुमार श्रीवास्तव, सचिव  जयकरन वर्मा,  जिलाध्यक्ष बृजेंद्र मिश्र और  पूर्व अध्यक्ष युवक कांग्रेस  नीरज त्रिपाठी ने पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव के घर पहुंचकर उनकी पत्नी रेणुका श्रीवास्तव से घटनाक्रम की जानकारी ली और उन्हें भरोसा दिलाया कि उन्हें न्याय दिलाने में कांग्रेस हर कदम पर संघर्ष करेगी।
 
... और पढ़ें

पूर्व विधायक ने निभाई दोस्ती, अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की वार्षिक पर कराया हवन-पूजन और भोज

पूर्व विधायक बृजेश मिश्र सौरभ ने दुनिया से विदा होने के बाद भी अपने दोस्त सिने अभिनेता रहे सुशांत सिंह राजपूत से दोस्ती निभाई। सोमवार को सुशांत की पहली वार्षिक पर पूर्व विधायक ने हवन-पूजन और भोज का आयोजन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में लोग जुटे। पूर्व विधायक ने दहिलामऊ स्थित आवास पर हवन-पूजन कर  सुशांत की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। 

सोमवार को  पूर्व विधायक बृजेश मिश्र सौरभ की अगुवाई में दहिलामऊ में एकत्रित हुए सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने हवन -पूजन में शिरकत की।  कार्यक्रम में सुशांत सिंह राजपूत के चित्र पर माल्यार्पण और पुष्प अर्पित कर उन्हें नमन किया।  इस मौके पर पूर्व विधायक बृजेश मिश्र सौरभ ने कहा कि सुशांत हमारे बहुत ही करीबी मित्र थे। उनका असमय जाना मैं आज तक नहीं भूल पाया हूं। उनकी आज ही के दिन 14 जून को संदिग्ध मौत हुई थी।

उन्होंने कहा कि सुशांत सिंह हमारे देश के गौरव थे। वंशवाद का विरोध सुशांत की जान का दुश्मन बन गया। उन्होंने कहा कि आज ही के दिन हर साल सुशांत सिंह फैंस क्लब के तत्वावधान इस कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। इस मौक पर प्रमुख रूप से डॉ. धर्मेंद्र सिंह, मनोज सिंह, ज्वाला प्रसाद सिंह , संतोष सिंह, केके सिंह, पिंटू सिंह, रजनीश सिंह, पुनीत पांडेय, गगन शुक्ला, रवि पांडेय, विजय पाठक, विपुल सिंह, परमेंद्र सिंह आदि मौजूद रहे। 
... और पढ़ें

राज्य विश्वविद्यालय: प्रथम वर्ष में सभी, द्वितीय वर्ष में बीकॉम के छात्र होंगे प्रोन्नत

प्रो. राजेंद्र सिंह (रज्जू भइया) राज्य विश्वविद्यालय में स्नातक द्वितीय वर्ष में सिर्फ बीकॉम के छात्रों को तृतीय वर्ष में प्रोन्नत किया जाएगा, जबकि बीए, बीएससी के छात्रों को परीक्षा देनी होगी। स्नातक तृतीय वर्ष में सभी पाठ्यकमों की परीक्षा होगी, जबकि प्रथम वर्ष के सभी छात्र प्रमोट किए जाएंगे। यह निर्णय मंगलवार को राज्य विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. अखिलेश कुमार सिंह की अध्यक्षता में हुई परीक्षा समिति की बैठक में लिया गया। 

स्नातक द्वितीय वर्ष में केवल बीकॉम के छात्रों को प्रमोट किया जाएगा, क्योंकि उन्होंने पिछली बार प्रथम वर्ष की परीक्षा दी थी और उस परीक्षा में मिले अंकों के आधार पर उनके द्वितीय वर्ष के अंकों का निर्धारण किया जाएगा। बीए, बीएससी द्वितीय वर्ष के छात्रों को पिछले वर्ष प्रमोट किया गया था और उन्होंने प्रथम वर्ष की परीक्षा नहीं दी थी, सो इस बार उनकी परीक्षा होगी। वहीं, स्नातक तृतीय वर्ष में सभी पाठ्यक्रमों की परीक्षा होगी। स्नातक प्रथम वर्ष के सभी छात्रों को प्रमोट किया जाएगा और द्वितीय वर्ष में मिले अंकों के आधार पर उनके प्रथम वर्ष के अंक निर्धारित किए जाएंगे।

सेमेस्टर प्रणाली के तहत स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाएं कराई जाएंगी। विश्वविद्यालय में विषम सेमेस्टर सत्र 2020-21 की लिखित परीक्षाएं, जो 26 मार्च, 2021 तक संपन्न कराई ञा चुकी हैं, उनमें मूल्यांकन के बाद प्राप्त अंकों के आधार पर अवशेष प्रायोगिक परीक्षा के अंकों का निर्धारण होगा। स्नातक द्वितीय एवं चतुर्थ और स्नातकोत्तर द्वितीय सेमेस्टर के छात्रों को उनके प्रथम/तृतीय सेमेस्टर के आधार पर अंक निर्धारित कर प्रोन्नत किया जाएगा। सम सेमेस्टर के अन्य पाठ्यक्रमों के संबंध में भी उनके पूर्व के विषम सेमेस्टर के प्राप्तांकों का संज्ञान लेते हुए परीक्षाफल तैयार किया जाएगा।

परीक्षा प्रणाली का हुआ सरलीकरण

 स्नातक की परीक्षा प्रणाली का भी सरलीकरण किया गया है। स्नातक वार्षिक पद्धति के पुराने पाठ्यक्रम एवं नए पाठ्यक्रम के छात्रों के लिए समान प्रश्न पत्र होगा। पर्यावरण प्रश्न पत्र की परीक्षा पूर्व की भांति ही होगी। परीक्षा की समयावधि तीन के बजाय डेढ़ घंटे की होगी। एक विषय के सभी प्रश्न पत्रों को न्यूनतम दो एवं अधिकतम तीन प्रश्न पत्र की सीमा तक सम्मिलित करते हुए एक ही प्रश्न पत्र तैयार कराया जाएगा। जो लघु उत्तरीय प्रश्न पत्र होगा।

उदाहरण के तौर पर किसी विषय में पूर्व प्रचलन के अनुसार तीन प्रश्न पत्र हैं तो उस विषय में एक ही प्रश्न पत्र को खड-अ, खड-ब और खड-स में विभाजित करते हुए तीनों प्रश्न पत्रों का समावेश होगा। प्रत्येक खंड के चार-चार प्रश्न होंगे और हर खंड से किन्हीं दो प्रश्नों यानी कुल छह प्रश्नों का लघु उत्तरीय उत्तर देना होगा। अधिकतम 250 शब्दों में जवाब देना होगा और प्रश्न पत्र की समयावधि डेढ़ घंटे की होगी। अगर किसी विषय में दो खंडों ‘अ’ एवं ‘ब ’ का समावेश होगा तो प्रत्येक खंड से तीन-तीन प्रश्नों का उत्तर देना होगा।

नहीं होंगी प्रायोगिक परीक्षाएं

प्रायोगिकी परीक्षाएं आयोजित नहीं की जाएंगी। उनके अंकों का निर्धारण लिखित परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर होगा। मौखिक परीक्षाएं आवश्यकतानुसार ऑनलाइन होंगी। साथ ही जिन प्रश्न-पत्रों में पूर्णतया प्रायोगिक परीक्षा होगी, उनमें 60 फीसदी अंक लिखित परीक्षा और 40 फीसी अंक आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर निर्धारित किए जाएंगे। आंतरिक मूल्यांकन का अंक किसी भी दशा में 80 फीसदी से अधिक नहीं होगा। 


स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष की भी डेढ़ घंटे की परीक्षा

स्नातकोत्तर उत्तरार्ध (अंतिम वर्ष) की परीक्षाएं भी आयोजित की जाएंगी, जो अपने पुराने प्रश्न पत्र के पैटर्न के ही अनुसार होंगी, लेकिन परीक्षा की समयावधि तीन के बजाय डेढ़ घंटे की होगी। प्रत्येक खंड में पुराने पद्धति के अनुसार दिए जाने वाले उत्तरों की संख्या आधी हो जाएगी। यानी प्रथम खंड में आठ के बजाय चार प्रश्नों, द्वितीय खंड में दो के बजाय एक प्रश्न और तृतीय खंड से दो के बजाय एक ही प्रश्न का उत्तर देना होगा।

जुलाई-अगस्त होगी कराई जाएगी परीक्षा

वार्षिक एवं सम सेमेस्टर की परीक्षाएंम्जुलाई-अगस्त में कराई जाएंगी। सत्र 2020-21 के वे छात्र जो बैक पेपर की परीक्षा में बैठने के लिए अर्ह हैं और जिन्होंने विश्वविद्यालय के पोर्टल पर बैक पेपर फार्म भर लिए हैं उन्हें परीक्षा में शामिल होने की आवश्यकता नहीं होगी। उन्हेंसमस्त उत्तीर्ण लिखित प्रश्न पत्रों के अंक एवं संदर्भित बैक प्रश्न पत्रों को सम्मिलित करते हुए उनका औसत निकालते हुए उस बैक प्रश्न पत्र का प्राप्तांक प्रदान किया जाएगा। अगर इस तरह प्रदान किए गग प्राप्तांक के आधार पर कोई छात्र-छात्रा उस प्रश्न पत्र में अनुत्तीर्ण हो रहा तो उसे संबंधित प्रश्न पत्र के अनुसार न्यूनतम उत्तीर्णांक प्रदान करते हुए परीक्षाफल पूर्ण किया जाएगा। परीक्षा के दौरान कोई परीक्षार्थी कोविड-19 से संक्रमित पाया जाता है तो उसे परीक्षा केंद्र पर अन्य कमरे में बैठाकर परीक्षा दिलाई जाएगी।
... और पढ़ें

पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत के मामले में हत्या का मुकदमा दर्ज

टीवी पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत के मामले में पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या और धमकी देने का मुकदमा दर्ज किया है। रविवार रात लालगंज से लौटते समय वह सुखपालनगर के पास संदिग्ध दशा में मृत मिले थे। उधर, सोमवार सुबह घटना पर आक्रोश जताते हुए कांग्रेस कार्यकर्ता और मीडियाकर्मी धरने पर बैठ गए। मौके पर पहुंचे डीएम व एडीजी प्रयागराज का घेराव कर मृतक पत्रकार के परिजनों को आर्थिक मदद और घटना की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग उठाई। इसे लेकर काफी देर तक हंगामा होता रहा। डीएम के हरसंभव मदद के आश्वासन के बाद लोग शांत हुए। दोपहर बाद सुलभ का शव अंतिम संस्कार के लिए प्रयागराज के रसूलाबाद घाट ले जाया गया।
... और पढ़ें

जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव के लिए अधिसूचना जारी, संभावित प्रत्याशी हरकत में आए

उत्तर प्रदेश में जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव के लिए अधिसूचना जारी होने के साथ ही जिले में हलचल बढ़ गई है। संभावित प्रत्याशी और उनके समर्थकों ने क्षेत्र में दौरा तेज कर दिया है। शासन ने सोमवार को जिला पंचायत चुनाव के लिए अधिसूचना जारी कर दी है। चुनाव 15 जून से तीन जुलाई के बीच कराए जाएंगे। मंगलवार को चुनाव के लिए विस्तृत कार्यक्रम जारी किया जाएगा। 

जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए समाजवादी पार्टी द्वारा मालती यादव के नाम की घोषणा की जा चुकी है। वह जिला पंचायत सदस्यों को अपने पक्ष में करने के लिए लगातार संपर्क कर रही हैं। भाजपा द्वारा अभी तक प्रत्याशी घोषित नहीं किया जा सका है। सूत्रों की मानें तो इस सीट के लिए निवर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष रेखा सिंह और गंगापार के हंडिया से जिला पंचायत सदस्य चुने गए भाजपा के वरिष्ठ नेता डॉ. देवराज सिंह के पुत्र डॉ. कुंवर वीके सिंह प्रमुख दावेदार माने जा रहे हैं। भाजपा का एक गुट यमुनापार से जिला पंचायत सदस्य निर्वाचित नीलम पटेल के नाम की भी पैरवी कर रहा है।

इस बार जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए भाजपा, सपा समेत किसी भी दल के पास अभी तक 43 प्रत्याशियों का समर्थन नहीं है। पिछले सप्ताह डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य की मोजूदगी में 15 जिला पंचायत सदस्यों ने भाजपा ज्वाइन की, लेकिन इसके बाद भी पार्टी के पास अभी 29 सदस्य ही है। इस बीच समाजवादी पार्टी ने जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए अपने प्रत्याशी का नाम घोषित कर दिया। पिछड़ी जाति की महिला प्रत्याशी का नाम घोषित होने के बाद अब भाजपा में चर्चा इस बात की चल रही है कि पार्टी सामान्य जाति के उम्मीदवार को अपना प्रत्याशी बनाएगी।


 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us