विज्ञापन
विज्ञापन
प्रतिष्ठित ज्योतिषाचार्यों द्वारा वीडियो कॉल पर पाएं सभी समस्या का समाधान
Astrology

प्रतिष्ठित ज्योतिषाचार्यों द्वारा वीडियो कॉल पर पाएं सभी समस्या का समाधान

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

खनन माफिया ने कमाई के लिए खोद डाली सई नदी, अफसर अंजान

जिले के कुछ लोग अपनी कमाई के लिए सई नदी के अस्तित्व के साथ खिलवाड़ करने से बाज नहीं आ रहे हैं। प्रतिबंधों के बावजूद नदी का जलस्तर घटते ही शहर के इर्द गिर्द सई नदी में कई स्थानों पर खनन हो रहा है। बालू ट्रकों पर जेसीबी से लादकर अन्य जिलों में बिकने के लिए भेजी जाती है। प्रशासन की अनदेखी से सई नदी के बहाव पर ही खतरा मंडरा रहा है।

जनपद के लालगंज तहसील की सीमा में सई नदी प्रवेश करती हैै। इस नदी के तट पर अभी तक लोग खेती किसानी करते थे लेकिन अब मोटी कमाई के फेर में खनन माफिया मनमानी कर सई नदी के अस्तित्व को मिटाने पर उतर आए हैं।

गांवों की बात छोड़िए यहां तो शहर के करीब ही अवैध खनन का कार्य तेजी के साथ चल रहा है। जिलाधिकारी समेत अन्य अधिकारियों के कार्यालय से दो किमी की दूरी पर बेल्हाघाट, कादीपुर, जिरियामऊ, खीरीबीर घाट में सई नदी बालू दिन रात निकाली जा रही है। बेखौफ लोग दिन में भी बालू निकालने का काम कर रहे हैं। जबकि सई नदी पर बने पुलों से होकर अफसर व कर्मचारी गुजरते रहते हैं।

कोई अवैध खनन करने वालों पर डंडा चलाना तो दूर मौके पर जाना भी मुनासिब नहीं समझता। सोमवार को भी बेल्हाघाट, जिरियामऊ के करीब सई नदी के भीतर ट्रैक्टर ट्राली पर मजदूर बालू लाद रहे थे। नदी में बालू लादने वाले मजदूर कैमरे में फोटो कैद होते देख भागने लगे। सई नदी से बालू निकालने के बाद उसे सरपतों के झुरमुटों के बीच डंप करके रखा गया था। आसपास के लोगों के अनुसार अवैध खनन का यह खेल काफी दिनों से चल रहा है।

डंपिंग प्वाइंटों से जेसीबी लगाकर ट्रकों पर होती है बालू लोड

सई नदी की सफेद बालू बाहर घनफिट के हिसाब से बिकती है। दिन में कार्रवाई के डर से सूनसान स्थानों पर डंप की गई सफेद बालू रात के अंधेरे में ट्रकों पर जेसीबी से लोड की जाती है ताकि किसी को भनक न लग सके। आसपास के लोग दुश्मनी के डर से शिकायत भी नहीं करते।

शहर के निर्माणाधीन मकानों में भी पहुंचाते हैं बालू

शहर में निर्माणाधीन मकानों में मिट्टी व बालू पहुंचाई जाती है। एक ट्रैक्टर मिट्टी व सफेद बालू की कीमत पांच से लेकर सात सौ रुपये तक होती है। मिट्टी व बालू के जरिए कमाई करने वाले लोग किसानों को संकट में डाल रहे हैं। रास्ता तो खराब करते ही हैं। उपजाऊ मिट्टी के कटान से बगल के खेतों में को नुकसान पहुंचाते हैं।
नगर कोतवाली के रेलवे पुल के समीप सई नदी से ट्रैक्टर पर रेत रखते मजदूर।
नगर कोतवाली के रेलवे पुल के समीप सई नदी से ट्रैक्टर पर रेत रखते मजदूर।- फोटो : PRATAPGARH
 
... और पढ़ें

तमंचे के बल पर फल विक्रेता से रुपये व मोबाइल लूटे

तमदुकान बंद कर घर जा रहे फल विक्रेता को तमंचा सटाकर नकाबपोश बदमाशों ने मोबाइल व रुपये लूट लिए। घटना को अंजाम देने के बाद बदमाश भाग निकले। मौके पर पहुंची पुलिस केवल बदमाशों के भागने की दिशा में खोजबीन करती रही।

नगर कोतवाली के भंगवा निवासी बलराज वर्मा पुत्र उदयराज वर्मा भंगवा चुंगी चौराहे पर फल की दुकान लगाता है। रविवार की रात वह दुकान बंद कर पैदल ही अपने घर जा रहा था। सुर्खी साइडिंग से आगे बढ़ने पर बाइक सवार दो नकाबपोश बदमाश पहुंचे।

बदमाशों ने उसे रोकने के बाद तमंचा सटा दिया। उसका मोबाइल छीनने के बाद जेब से पांच हजार रुपये छीनकर बदमाश खजुरनी की ओर भाग निकले। सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस खोजबीन करती रही लेकिन बदमाश हाथ नहीं लगे। पीड़ित ने पुलिस को तहरीर दी है। रविवार की देर शाम भुपियामऊ पुलिस चौकी क्षेत्र में भी राहगीर से दो बदमाशों ने मोबाइल छीन लिया। इसे लेकर लोगों में दहशत का माहौल कायम है।
... और पढ़ें

पुलिस मुठभेड़ में फरार प्रधानपति गिरफ्तार

पट्टी कोतवाली के मुजाही बाजार में हुए बवाल के बाद पुलिस से हुई मुठभेड़ में फरार चल रहे प्रधानपति को पुलिस ने दबोच लिया। पूछताछ में प्रधानपति से सपा नेता व ब्लाकप्रमुख पति सभापति यादव के बारे में जानकारी ली जाती रही। देवसरा थाना क्षेत्र के दलापुर निवासी शोभनाथ यादव की पत्नी उर्मिला देवी तीबीपुर से प्रधान है। सोमवार को शोभनाथ अपने ईंट भट्ठे पर बैठा हुआ था। खबर मिलने पर देवसरा पुलिस मौके पर पहुंची और शोभनाथ को हिरासत में लेकर थाने चली गई। बाद में उसे पूछताछ के लिए पुलिस लाइन लाया गया। यहां स्वॉट टीम के लोग भी उससे फरारी काट रहे सपा नेता व ब्लाक प्रमुख देवसरा माधुरी देवी के पति सभापति के ठिकानों की जानकारी करते रहे।

 

परिजनों ने नहीं दी तहरीर, युवती के शव का हुआ अंतिम संस्कार

संदिग्ध दशा में मृत युवती के परिजनों ने पुलिस को कोई तहरीर नहीं दी। सोमवार को शव का अंतिम संस्कार कर दिया। कंधई थाना क्षेत्र के मंगरौरा गांव के रहने वाले जय प्रकाश चौरसिया की बेटी रिया की रविवार की सुबह मकान के ऊपर कमरे में फांसी लगाकर अपनी जान दे दी। यह देख परिजन रोने बिलखने लगे। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। देर शाम शव घर पहुंचा। परिजन रोते बिलखते रहे। सोमवार को परिजनों ने शव का गांव में ही अंतिम संस्कार कर दिया। कंधई के प्रभारी थानाध्यक्ष ने बताया कि मृतका के परिजनों ने कोई तहरीर नहीं दी। उसकी मौत का कारण प्रेम प्रसंग बताया जा रहा है। गांव के युवक से वह बातचीत करती थी।

अज्ञात वाहन की टक्कर से ट्रैक्टर चालक की मौत

अज्ञात वाहन की टक्कर लगने से ट्रैक्टर चालक की दर्दनाक मौत हो गई। रानीगंज थाना क्षेत्र के दसियाभानपुर निवासी रंजीत (30) पुत्र भल्लू ट्रैक्टर चलाकर परिवार का गुजर-बसर करता था। सोमवार की देर शाम वह गनेशगंज की ओर जा रहा था। रास्ते में उसे अज्ञात वाहन ने टक्कर मार दी। जिससे गंभीर रूप से घायल हो गया। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने उसे अस्पताल भेजा, लेकिन रास्ते में उसकी मौत हो गई। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। घटना की जानकारी मिलते ही घर में कोहराम मच गया।
... और पढ़ें

सीरम इंस्टीट्यूट में लगी आग में पट्टी के दो मजदूरों की भी गई जान

कोरोना रोधी टीका बनाने वाले संस्थान सीरम इंस्टीट्यूट में बृहस्पतिवार को लगी आग से मरने वालों में दो मजदूर पट्टी इलाके के भी शामिल हैं। एक युवक कोतवाली क्षेत्र के बरहुपुर, जबकि दूसरा आसपुर देवसरा के दलापुर गांव का रहने वाला था। 

बरहुपुर गांव निवासी विपिन कुमार सरोज (22) तथा विनय कुमार (20) पुत्र लालबहादुर को महदहा गांव का एक ठेकेदार मजदूरी करने के लिए पुणे ले गया था। दोनों भाई पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट में मजदूरी करते थे। बृहस्पतिवार को परिसर में लगी आग में दोनों भाई फंस गए थे। इसमें किसी तरह विनय को बाहर निकाल लिया गया।

जबकि विपिन को बचाने के चक्कर में आसपुर देवसरा के दलापुर गांव निवासी रमाशंकर पुत्र छोटेलाल खुद भी आग में फंस गया और दोनों की मौत हो गई। दलापुर गांव निवासी रमाशंकर (21) पुत्र छोटेलाल परिवार की रोजी-रोटी चलाने के लिए पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट में लेबर के तौर पर काम करता था। रमाशंकर की मौत की सूचना से परिजनों में कोहराम मचा है। वह पिछले वर्ष मार्च के महीने में पुणे गया था। उधर, घटना की जानकारी रात में मिलने के बाद शुक्रवार सुबह विपिन के पिता लालबहादुर पुणे के लिए रवाना हो गए।
... और पढ़ें
सीरम इंस्टीट्यूट के प्लांट में लगी आग सीरम इंस्टीट्यूट के प्लांट में लगी आग

प्रतापगढ़ में नब्बे लाख की डकैती का मुखबिर दिल्ली से गिरफ्तार 

शहर की श्याम बिहारी गली में 90 लाख के जेवरात की डकैती में शामिल बदमाशों के लिए मुखबिरी करने के आरोपी को पुलिस ने दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया। उसके एक दोस्त को भी पकड़ा गया है। पुलिस दोनों को लेकर प्रतापगढ़ लौट रही है। पुलिस ने सराफ सुरेश सोनी का लूटा हुआ मोबाइल भी बरामद कर लिया है। पुलिस लूटे गए जेवरात बरामद करने का प्रयास कर रही है। 

नगर कोतवाली के श्याम बिहारी गली सराफा मार्केट में सात जनवरी की सुबह बेखौफ बदमाशों ने सराफ सुरेश सोनी को तमंचा सटाकर करीब 90 लाख के जेवरात, मोबाइल व 10 हजार रुपये लूटकर भाग निकले थे। सुरेश की तहरीर पर अज्ञात बदमाशों के खिलाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया था। बदमाशों की धरपकड़ के लिए कई दिनों से प्रयागराज एसटीएफ व स्वॉट टीम लगी थी।

पुलिस लुटेरों के सरगना और घटना के मास्टरमाइंड रुस्तम निवासी गोकुला थाना जेठवारा तक पहुंच गई। बाद में पता चला कि उसने किसी पुराने आपराधिक मामले में प्रयागराज कोर्ट में सरेंडर कर दिया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार उससे पूछताछ के बाद पुलिस ने प्रयागराज में ही उसके करीबी के घर से लूटा गया आधा किलो सोना बरामद कर लिया। हालांकि इसके पहले रुस्तम के एक साथी को देल्हूपुर से पुलिस ने उठा लिया था। रुस्तम से पूछताछ के बाद एसटीएफ व स्वॉट टीम ने सराफा मार्केट में सुरेश सोनी की मुखबिरी करने वाले दो लोगों की खोजबीन शुरू कर दी।

परिवार के लोगों पर दबाव बनाने के बाद दोनों की लोकेशन दिल्ली में मिली। इस जानकारी के बाद एक निरीक्षक को पुलिस बल के साथ दिल्ली भेजा गया। टीम ने दिल्ली से मुखबिरी करने वाले बदमाश और उसके साथी को दबोच लिया। पूछताछ के बाद दोनों को लेकर पुलिस प्रतापगढ़ लौट रही है। सुरेश सोनी का लूटा गया मोबाइल भी पुलिस के हाथ लग चुका है। हालांकि पुलिस अधिकारी अभी कुछ बोलने को तैयार नहीं हैं। उनका कहना है कि जल्द ही खुलासा होने की संभावना है।

एसपी ने बदमाशों की धरपकड़ में लगे इंस्पेक्टर की लगाई क्लास

सराफा मार्केट में 90 लाख की डकैती समेत पट्टी व कंधई में लूट को अंजाम देने वाले बदमाशों की धरपकड़ के लिए भागदौड़ करने वाले एक इंस्पेक्टर की रविवार को एसपी ने क्लास लगा दी। बदमाशों की शिनाख्त करने के तरीके पर एसपी ने इंस्पेक्टर को फटकार लगाते हुए चेतावनी दी कि तह तक जाने के बाद ही कोई जानकारी आगे दी जाए। ताकि खुलासे में लगी टीमों का समय बर्बाद न हो। एसपी की फटकार की पुलिस विभाग में खासी चर्चा है।

प्रयागराज एसओजी को मिले सराफ हत्याकांड में शामिल बदमाशों की फुटेज

पट्टी कोतवाली के रायपुर में सराफ की गोली मारकर हत्या कर लाखों रुपये के जेवरात व नकदी लूटने वाले बदमाशों की सीसीटीवी फुटेज प्रयागराज एसओजी खोजने में कामयाब हो गई है। जिसके बाद नए सिरे से घटना को अंजाम देने वाले बदमाशों की खोजबीन शुरू हो गई है। वारदात के लिए बदमाशों ने पल्सर बाइक का प्रयोग किया था, जबकि पहले की जांच में पुलिस स्प्लेंडर बाइक से बदमाशों के वारदात को अंजाम देने की बात मानकर चल रही थी। पट्टी सराफ कांड व गल्ला व्यापारी के साथ हुई लूट की घटना में चिह्नित बदमाशों की तलाश की जा रही है।

पट्टी कोतवाली के रायपुर निवासी मोहम्मद अहमद की नौ जनवरी को भाई मुस्तकीम के साथ घर जाते समय बाइक सवार तीन बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी। बदमाश 10 लाख के जेवरात व दो लाख रुपये नकद लूटकर भाग निकले थे। तीन दिन बाद पट्टी पुलिस के हाथ कस्बे सेे एक सीसीटीवी फुटेज लगी थी। इसमें कुछ संदिग्ध स्प्लेंडर बाइक से जाते दिखे। पुलिस इलाके के एक प्रधान की बाइक भी उठा लाई, मगर किसी नतीजे पर नहीं पहुंची। पुलिस सूत्रों के अनुसार घटना को अंजाम देेने वाले बदमाशों की खोबजीन में प्रयागराज गंगापार एसओजी के साथ ही एसटीएफ को लगाया गया है।

शनिवार को गंगापार एसओजी की टीम ने सराफ मोहम्मद अहमद की गोली मारकर हत्या कर लूटपाट करने वाले बदमाशों की फुटेज खोज निकाली। जिसमें पल्सर बाइक से बदमाश सराफ के पीछे जाते हुए दिख रहे हैं। यही हाल कंधई के मंगरौरा बाजार में गल्ला कारोबारी अमरजीत चौरसिया से 16 लाख रुपये लूटने वाले बदमाशों की फुटेज खोजने में भी देखने को मिला था। यहां भी दो बदमाश घटना को अंजाम देने के बाद पल्सर बाइक से भागे थे। बाजार से कुछ आगे जाने के बाद उन्होंने अपने चेहरे से नकाब हटा लिया था। सराफ हत्याकांड व गल्ला व्यापारी से लाखों रुपये लूटने वाले बदमाशों की तलाश में प्रयागराज के गंगापार एसओजी डेरा डाले हुए है। गल्ला व्यापारी के साथ हुई वारदात में शामिल एक बदमाश पुलिस के हाथ भी लग चुका है, लेकिन अभी रुपये बरामद नहीं हो सके हैं।
... और पढ़ें

जादुई बल्ब व पत्थर का झांसा देकर ठगी करने वालों से आठ लाख बरामद

जादू वाला बल्ब और पत्थर का झांसा देकर लोगों से ठगी करने वाले सगे भाइयों के पास से पुलिस ने आठ लाख रुपये बरामद किए हैं। चेकिंग के दौरान पकड़े गए दोनों सगे भाइयों से बरामद रुपये की सूचना आयकर विभाग को देने के बाद पुलिस ने उन्हें मुचलके पर छोड़ दिया। 

पुलिस अधीक्षक शिवहरी मीणा के आदेश पर शुक्रवार की रात पुलिस भंगवाचुंगी चौराहे पर चेकिंग कर रही थी। इस बीच आसपुर देवसरा थाना क्षेत्र के गहबरा निवासी अशोक कुमार निषाद व संतोष कुमार निषाद पुत्र फूलचंद्र को पुलिस ने रोक लिया। उनके पास से बरामद बैग में आठ लाख रुपये मिले। यह देख पुलिस को शंका हुई। पुलिस ने दोनों से पूछताछ करने के साथ ही उनका मोबाइल खंगाला। दो दिनों तक पूछताछ के बाद सोमवार को उनके पास से मिले रुपये पुलिस ने जब्त कर लिए। पकड़े गए दोनों भाई रुपये की बाबत सही जानकारी नहीं दे पा रहे थे। प्रभारी कोतवाल ने बताया कि अशोक निषाद अपना नाम बदलकर सुनील और जौनपुर का रहने वाला बता रहा था।

पूछताछ में यह पता चला कि उन्होंने टेलीवीजन के कुछ पार्ट्स से बल्ब तैयार किया था। इसके अलावा वे लोगों का झांसा देकर जादुई पत्थर भी बेचते थे, जिस पर खड़े होने के बाद वह अपनी दिशा पलट देता था। आरोपियों ने बताया कि दोनों वस्तुओं को उन्होंने बंगाल से आए एक युवक के हाथ प्रयागराज में बीस लाख में बेचा था। हालांकि उन्हें केवल आठ लाख रुपये ही मिले थे। कोई शिकायत न होने के कारण दोनों भाइयों को छोड़ दिया गया। आयकर विभाग को आठ लाख रुपये बरामद होने की जानकारी दी गई है।
... और पढ़ें

प्रतापगढ़ में महिला अफसर से दुष्कर्म, बनाई अश्लील वीडियो, आरोपी के खिलाफ एफआईआर दर्ज

जिले में तैनात एक महिला अफसर ने शाहजहांपुर निवासी युवक के खिलाफ दुष्कर्म और शारीरिक शोषण का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज कराई है। महिला अफसर का आरोप है कि दुष्कर्म के दौरान आरोपी ने उसकी अश्लील फोटो और वीडियो बना ली और वायरल करने की धमकी देकर उसे ब्लैकमेल कर रहा है। आरोपी आठ वर्ष से उसका शारीरिक शोषण कर रहा है। बात नहीं मानने पर उसने सरकारी दफ्तर और आवास में घुसकर गालीगलौज करते हुए जाने से मारने की धमकी दी है। पुलिस आरोपी को हिरासत लेकर पूछताछ कर रही है।  

फतेहपुर निवासी महिला अफसर ने पुलिस को दी तहरीर में बताया है कि वर्ष 2012 में दिल्ली में कोचिंग के दौरान शाहजहांपुर के बसंतपुर निवासी गुरुविंदर सिंह पुत्र साधू सिंह उसके साथ छेड़छाड़ करता था। जिससे वह बीमार व अक्सर बेहोश रहने लगी। इसी दौरान दिल्ली स्थित अपने कमरे में एक दिन वह अचेत पड़ी थी। तभी गुरुविंदर वहां पहुंचा और उसके साथ दुष्कर्म किया।

आरोपी ने घटना की अश्लील वीडियो व फोटो बना ली। घटना के पंद्रह दिन बाद कोचिंग में उसने वीडियो दिखाया और वायरल करने की धमकी देते हुए उसे ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया। वह उसके साथ घूमने जाने की बात करने लगा। इससे वह डिप्रेशन में रहने लगी। दो साल बाद वर्ष 2015 में बरेली में बैंक में नौकरी लगने पर वह किराए का कमरा लेकर वहां रहने लगी, लेकिन आरोपी ने उसका पीछा नहीं छोड़ा। एक दिन गुरुविंदर बरेली स्थित उसके कमरे में पहुंचा और मारपीट कर उसे कुर्सी से बांधने के बाद शारीरिक शोषण करते हुए वीडियो व फोटो बना ली।

महिला अफसर का आरोप है कि गुरुविंदर सिंह ने अपने नाम से सिम खरीदकर उसे दिया और परिजनों से दूर रहने पर मजबूर किया। उसने उसके बैंक खाते से अवैध तरीके से रुपये का लेनदेन किया। बात नहीं मानने पर गुरुविंदर ने उसकी बहन के व्हाट्सएप नंबर पर अश्लील फोटो व वीडियो भेज दी। इस बीच उसकी वर्ष 2017 में प्रतापगढ़ जिले में तैनाती हो गई।

यहां तैनाती के बाद से आरोपी उसको फोन व व्हाट्सएप पर धमकी व ब्लैकमेल करने के लिए संदेश भेजता रहा। आरोपी ने वीडियो वायरल करते हुए उसकी अश्लील फोटो दीवारों पर चस्पा करने की धमकी देकर उसका मानसिक व सामाजिक शोषण किया। इसके बाद भी उसकी बात नहीं मानी तो बीते 18 दिसंबर को अपने दो अज्ञात साथियों के साथ मेरे सरकारी आवास पर पहुंचा और साथ चलने का दबाव बनाने लगा। यह देख मैं अपने ड्राइवर के साथ कार से सरकारी आवास पर चली गई।

इसके बाद वह वहां भी आ धमका और साथ ले जाने पर अड़ गया। महिला अफसर के ड्राइवर ने जब शोर मचाया तो आरोपी भाग निकले। जिसके बाद पीड़ित महिला अफसर ने लालगंज कोतवाली में आरोपी गुरुविंदर समेत दो अज्ञात लोगों के खिलाफ दुष्कर्म, शारीरिक शोषण, जान से मारने की धमकी देने समेत कई गंभीर धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कराया। चर्चा है कि पुलिस आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। प्रभारी कोतवाल रामअधार ने बताया कि केस दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है। 

पखवारे भर मामला दबाए रही पुलिस

महिला अफसर की तहरीर पर दो जनवरी को ही मुकदमा दर्ज कर लिया गया था, लेकिन पुलिस मामले को दबाए रही। दो दिन पहले मीडियाकर्मियों को किसी तरह जानकारी मिली तो घटना के बारे में खंगालना शुरू किया। प्रभारी कोतवाल रामअधार जानकारी से इनकार करते रहे। सीओ ने भी पूरी तरह अनभिज्ञता जाहिर की। प्रभारी कोतवाल तो घटना के बारे में बयान भी देने से कतराते रहे। काफी कुरेदने पर उन्होंने केस दर्ज करने की बात स्वीकार की।
... और पढ़ें

डाल्फिन को मारने के चार आरोपी गए जेल, आठ का पता नहीं

demo pic
पंद्रह दिन पहले प्रयागराज जल शाखा की शारदा सहायक नहर में मिली डाल्फिन मछली को ग्रामीणों ने आहार बनाने के लिए लाठी-डंडे के साथ ही धारदार हथियार से प्रहार कर मौत के घाट उतार दिया था। इस मामले में बृहस्पतिवार को पुलिस ने एक और आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। अब तक पुलिस कुल चार लोगों को इस मामले में जेल भेज चुकी है, जबकि आठ लोगों को चिह्नित करने का दावा किया जा रहा है। इन आठ लोगों के नामों का पुलिस खुलासा नहीं कर रही है। तर्क है कि नाम सामने आने के बाद आरोपी फरार हो सकते हैं। 

 नवाबगंज थाना क्षेत्र के कोथरिया गांव के पास प्रयागराज जलशाखा की शारदा सहायक नहर में 31 दिसंबर 2020 को डॉल्फिन मछली को ग्रामीणों ने आहार बनाने के लिए लाठी-डंडे के साथ ही धारदार हथियार से प्रहार कर मार डाला था। दूसरे दिन घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। जिसके बाद पुलिस व वन विभाग की टीम हरकत में आई। डाल्फिन का पोस्टमार्टम कराने के बाद अज्ञात ग्रामीणों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। वीडियो क्लिप के सहारे पुलिस ने राहुल कुमार निवासी आजाद नगर, थाना ऊंचाहार, राहुल कुमार, अनुज कुमार निवासी हरिहरपुर, कोतवाली ऊंचाहार को जेल भेज दिया।

बृहस्पतिवार को पुलिस ने एक और आरोपी आशीष निवासी गंगसरी, थाना ऊंचाहार, जनपद रायबरेली को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। नवाबगंज थानाध्यक्ष अखिलेश सिंह का कहना है कि डाल्फिन को मारने में कुल 12 लोगों को चिह्नित किया गया है। वीडियो क्लिप से सभी की पहचान की गई है। चार आरोपियों को जेल भेजा गया है। अभी आठ आरोपी फरार हैं। यदि चिह्नित आरोपियों के नाम उजागर कर दिए गए तो वे हाथ नहीं आएंगे। अधिकांश आरोपी रायबरेली जनपद के रहने वाले हैं।

वीडियो बनाने वाला मछली को बचाने में रहा नाकाम

शारदा सहायक नहर में डाल्फिन मछली को कुछ लोगों ने बचाने की भी कोशिश की। पुलिस की छानबीन में यह बात सामने आई है कि वीडियो बनाने वाला युवक लगातार लोगों को रोकता रहा, लेकिन उसकी बात लोगों ने अनसुनी कर दी। वीडियो बनाने वाला भी अभी घर से फरार चल रहा है।

एसपी की अगुवाई में समोगरा में पुलिस ने दी दबिश

आपराधिक घटनाओं की रोकथाम के लिए पुलिस अधीक्षक शिवहरि मीना बृहस्पतिवार की शाम पट्टी कोतवाली पहुंचे। सराफ अहमद की हत्या में अब तक हुई कार्रवाई की जानकारी ली। इलाके के एक शातिर बदमाश के करीबी की तलाश में एसपी भारी फोर्स लेकर समोगरा जा धमके। पुलिस की कार्रवाई से गांव के लोग सहम गए। सूत्रों के अनुसार पुलिस की दबिश से पहले ही संदिग्ध बदमाश गांव से भाग निकला।
... और पढ़ें

pratapgarh news: कौवों की मौत के बाद अब दो बगुले मरे मिले

कौवों की मौत के बाद अब सोमवार को गंगा किनारे दो बगुले मृत मिलने से हड़कंप मच गया। बर्डफ्लू की आशंका से लोग परेशान हो गए। सूचना पर मानिकपुर के अतौलिया पशु अस्पताल के चिकित्सक ने उनका सैंपल लिया।  

मानिकपुर के राजघाट पर कुछ दिन पहले कुछ कौवे मरे पाए गए थे। इसकी जानकारी होने पर अतौलिया पशु अस्पताल के पशु चिकित्साधिकारी राकेश तिवारी ने कौवों का पोस्टमार्टम किया। किसी भी बीमारी के लक्षण नहीं पाए जाने पर मामला ठंडा हो गया।

इसके बाद कालाकांकर के जाजूपुर में भी कौवे मृत पाए गए। सोमवार को मानिकपुर के राजघाट पर दो बगुलों के शव मिले। इस पर ग्रामीणों में इसकी चर्चा फैल गई। लोगों ने इसकी सूचना पशु चिकित्साधिकारी राकेश तिवारी को दी। इस पर चिकित्साधिकारी ने मौके पर पहुंचकर बगुलों के शवों की जांच की।

चिकित्साधिकारी राकेश तिवारी ने बताया कि कौवों की मौत नार्मल पाई गई थी। कौवों के शरीर पर चोटों के निशान थे। यह करंट या फिर पतंगबाजी के हो सकते हैं। बगुलों को भी देखा गया। ऐसे में यहां किसी तरह की बीमारी होने की आशंका नहीं दिख रही है।
... और पढ़ें

पहले डॉल्फिन को पकड़ने की कोशिश, सफल नहीं हुए तो पीट-पीटकर मार डाला, तीन गिरफ्तार

प्रतापगढ़ पुलिस ने डाल्फिन मछली को मारने वाले आरोपियों का खुलासा कर दिया। उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। नवाबगंज थाना क्षेत्र के कोथरिया गांव के पास इलाहाबाद जल शाखा की शारदा सहायक नहर में बीते 31 दिसंबर 2020 को डाल्फिन मछली आ गई थी।

नहर बंद होने के चलते पानी कम हो गया और वह बाहर से दिखने लगी। इसका फायदा उठाते हुए कुछ लोगों ने उसे पकड़ने का प्रयास किया। पकड़ने में सफलता नहीं मिलने पर उसे मार दिया।

करीब एक क्विंटल वजन होने के कारण उसे ले नहीं जा पाए। तब तक इसकी सूचना वन विभाग और पुलिस को मिल गई। वन विभाग ने अज्ञात लोगों पर डाल्फिन को मारने का मुकदमा दर्ज कराया। पुलिस ने जांच शुरू की तो पता चला कि कुछ लोगों ने उसे खाने के लिए पकड़ने का प्रयास किया था। सफलता नहीं मिलने पर धारदार हथियार से मार दिया।

जांच के दौरान ऊंचाहार थाना क्षेत्र के आजाद नगर निवासी राहुल कुमार पुत्र अयोध्या प्रसाद सरोज, ऊंचाहार के हरिहरपुर गांव निवासी राहुल कुमार पुत्र छोटेलाल व अनुज कुमार पुत्र रामपाल के नाम सामने आए। नवाबगंज पुलिस और वनविभाग की टीम ने तीनों को गिरफ्त में ले लिया। लिखापढ़ी कर तीनों को जेल भेज दिया गया।
... और पढ़ें

कई दिनों से सराफा व्यवसायी सुरेश के दुकान की रेकी कर रहे थे बदमाश 

श्याम बिहारी गली में सराफ की दुकान से 90 लाख रुपये के आभूषण समेत दस हजार रुपये और मोबाइल लूट वाले बदमाश कई दिनों से रेकी कर रहे थे। पुलिस को आशंका है कि सराफा बाजार से ही किसी ने बदमाशों को सारी जानकारी मुहैया कराई थी। बिना सटीक जानकारी के बदमाश इतनी बड़ी घटना को अंजाम देने का साहस नहीं कर सकते। सुरेश का कहना था कि केवल उसके ग्राहक ही दुकान में आते-जाते थे। संदिग्ध लोगों को वह बाहर कर देता था।

श्याम बिहारी गली में हर दिन करोड़ों का कारोबार होता है। शहर के साथ ही ग्रामीण इलाकों के सराफ जेवरात बनवाने व थोक सोना और चांदी खरीदने आते हैं। बृहस्पतिवार को भी हर दिन की तरह लोग अपने काम में मशगूल थे। साफ-सफाई के साथ ही मार्केट में चाय नाश्ते की दुकानों पर लोग खा-पी रहे थे। इस बीच ढाई मिनट के भीतर बदमाश सुरेश की दुकान से 90 लाख रुपये के जेवरात समेत मोबाइल व दस हजार रुपये लूटकर भाग निकले। जानकारी मिलने के बाद पुलिस पहुंचकर छानबीन करने लगी। पुलिस को यह पता चला कि इस मार्केट में कभी इस तरह की वारदात नहीं हुई।

इस मार्केट में आने-जाने के कई रास्ते भी हैं। सनसनीखेज वारदात से हर कोई दंग था। पुलिस भी खोजबीन में जुट गई। चर्चाओं के अनुसार डकैती के पीछे मार्केट में आने-जाने वाले किसी करीबी ने ही विभीषण का किरदार निभाया है। तभी बदमाशों को दुकान के भीतर कमरे में तिजोरी होने की जानकारी थी। यह भी पता था कि सुरेश घर से जेवरात लेकर आता है और बेचने के लिए तिजोरी में ही रखता है। जिस समय सुरेश दुकान खोलता है उस समय आसपास की दुकानें नहीं खुलतीं। इतने बड़े कारोबार के बाद भी सुरक्षा का कोई ध्यान नहीं रखा जाता।

श्याम बिहारी गली में कारोबारी की पत्नी को उतारा जा चुका है मौत के घाट

मकंद्रूगंज पुलिस चौकी से चंद कदम की दूरी पर स्थित श्याम बिहारी गली में वर्ष 2008 में रात के समय घर में घुसे बदमाशों ने इंद्रा केसरवानी व उनकी बहू साधना पर चापड़ से हमला कर दिया था। लूटपाट की कोशिश भी हुई थी। हमले में घायल इंद्रा की मौत हो गई थी जबकि साधना घायल हो गई थी। बाद में पुलिस ने हत्या जैसे मामले में साक्ष्य के अभाव में अंतिम रिपोर्ट लगा दी थी। बृहस्पतिवार को हुई घटना के बाद इस वारदात की याद फिर ताजा हो गई।

नए एसपी के आते ही बड़ा दुस्साहस

नवागत पुलिस अधीक्षक शिवहरि मीना को बदमाशों ने कमान संभालते ही बड़ी चुुनौती दे दी है। 36 घंटे के भीतर तीन सनसनीखेज वारदातों से जिला थर्रा उठा है। बदमाश ताबड़तोड़ वारदातों को अंजाम देकर भाग निकलने में कामयाब हो रहे हैं। पुलिस केवल लकीर पीट रही है। सीसीटीवी फुटेज में कैद बदमाश चिह्नित करने में पुलिस हांफ रही है।

शहर की श्याम बिहारी गली में शिवा ज्वेलर्स के स्वामी सुरेश कुमार सोनी उर्फ ननका भइया बृहस्पतिवार की सुबह करीब सवा नौ बजे अपनी दुकान पर पहुंचकर सफाई करने के बाद हिसाब बना रहे थे। तभी बेखौफ बदमाश दुकान से 90 लाख के आभूषण लूटकर भाग निकले। अभी बुधवार की शाम को ही पुलिस कप्तान शिवहरि मीना ने कार्यभार ग्रहण किया था और दूसरे दिन सुबह शहर की श्याम बिहारी गली में लूट की वारदात हो गई। हालांकि उस समय शहर की पुलिस के साथ नवागत पुलिस अधीक्षक शिवहरि मीना प्रदेश के मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि के तौर पर हेलीकाप्टर से आए जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह की आवाभगत में लगे थे।

घटना के बाद पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। पुलिसकर्मी सोनावा से भागकर घटनास्थल पर पहुंचे। जिस दिन नवागत पुलिस अधीक्षक शिवहरि मीना को जिले की कमान मिली थी, उसी रात कोहड़ौर थाना क्षेत्र में बेखौफ बदमाशों ने पट्टी खास के रहने वाले अब्दुल्ला को मकूनपुर के पास गोली मार दी थी। कुछ दूरी पर पेट्रोल पंप पर सेल्समैन विवेक से 30 हजार रुपये लूटकर भाग निकले। पुलिस अभी इन दोनों घटनाओं का खुलासा करने के लिए परेशान थी कि बृहस्पतिवार को बदमाशों ने इतनी बड़ी वारदात कर डाली। 
 

अधिवक्ता के घर डकैती का नहीं हो सका खुलासा

शहर के गायत्री नगर में अधिवक्ता अंजनी सिंह बाबा के घर में कुछ दिनों पहले डकैती पड़ी थी। बदमाश उनकी पत्नी सुनीता को पीट कर जेवरात लूटकर भाग निकले। घटना के पांच दिन बाद भी पुलिस के हाथ बदमाश नहीं लगे। इसके पहले बदमाशों ने कपड़े के शोरूम, चौक घंटाघर के करीब मेडिकल स्टोर समेत अन्य दुकानों से लाखों रुपये की चोरी की वारदात को अंजाम दिया था। जिसका आज तक खुलासा नहीं हो सका।

श्यामबिहारी गली पहुंचे आईजी ने खुलासे के लिए गठित की टीम 

श्यामबिहारी गली में दिनदहाड़े 90 लाख रुपये लूटने की जानकारी मिलने पर आईजी  केपी सिंह घटना के 10 घंटे बाद बेल्हा पहुंचे। मातहतों से घटना की जानकारी लेकर वह बदमाशों की धरपकड़ के लिए स्वाट टीम, क्राइम ब्रांच, कोतवाली पुलिस के अलावा तेज तर्रार इंस्पेक्टर को घटना का खुलासा करने के लिए जिम्मेदारी सौंपी। रात करीब 8 बजे श्यामबिहारी गली पहुंचकर पीड़ित और व्यापारियों से मुलाकात की। उन्होंने भरोसा दिलाया कि घटना का खुलासा जल्द से जल्द करेंगे। इसके लिए टीम गठित कर दी गई है। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X