विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Coronavirus in UP Live Updates: संक्रमितों की संख्या 100 से ज्यादा, दौरे स्थगित कर लखनऊ रवाना हुए मुख्यमंत्री योगी

देश भर में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच उत्तर प्रदेश के कुछ क्षेत्रों से अच्छी और कहीं से बुरी खबरें आ रही हैं। मंगलवार सुबह बरेली में पांच नए मरीज मिले हैं जिनके बाद सूबे में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 102 हो गई है।

31 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

रायबरेली

मंगलवार, 31 मार्च 2020

आधुनिक रेल डिब्बा कारखाने का भी लॉक डाउन अब 14 अप्रैल तक

लालगंज (रायबरेली)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 21 दिनों की देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा के बाद जीएम वीएम श्रीवास्तव ने आरेडिका के लॉकडाउन को बढ़ाकर 25 मार्च से बढ़ाकर 14 अप्रैल तक कर दिया है। आरेडिका के प्रबंधन की ओर से इस अवधि तक कार्यालय एवं कारखाने को बंद करने के निर्देश दिये गए हैं। इस दौरान वर्क फ्रॉम होम एवं आवश्यक सेवाओं से संबंधित कार्य जारी रहेंगे।
जीएम ने बताया कि आरेडिका में इस समस्या से निपटने के लिए कारगर प्रबंध किये गये है। विशेषकर संविदा एवं रेल कर्मियों को संबंधित विभागों द्वारा निगरानी एवं संरक्षण में रखा जा रहा है। कॉलोनी एवं कारखाना परिसर में आवाजाही पर कड़ा प्रतिबंध लगाया गया है। किसी भी व्यक्ति द्वारा अकारण पर भ्रमण एवं आवाजाही पर कार्रवाई की जा सकती है।
स्थानिय प्रशासन की तर्ज पर आरेडिका स्थित शॉपिंग कॉम्पलेक्स में भी होम डीलवरी की व्यवस्था की गई है ताकि भीड़ एकत्रित होने से बचा जा सके। आरेडिका में 24 घंटे मेडिकल इमरजेंसी कन्ट्रोल रूम तथा उप महाप्रबंधक/सामान्य की निगरानी में कोविड समन्वय कन्ट्रोल कि स्थापना की गई है।
समन्वय कन्ट्रोल द्वारा कोविड संबंधी दैनिक गतिविधियों की समीक्षा एवं अनुवर्ती कार्रवाई निर्देशित की जा रही है। महाप्रबंधक ने सभी कर्मचारी एवं उनके परिवारों परिवारों से अपील की है कि वे अपने घर से अनावश्यक बाहर नहीं निकलें।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस से निपटने को विधायकों ने मदद का किया ऐलान

रायबरेली। कोरोना वायरस से निपटने के लिए जनप्रतिनिधि मदद के लिए आगे आ रहे हैं। सदर, ऊंचाहार, बछरावां और हरचंदपुर विधायक ने अपनी निधि से लोगों की सुरक्षा के लिए मदद का ऐलान किया है। सदर विधायक अदिति सिंह ने सबसे अधिक तीन करोड़ रुपये की धनराशि कोरोना वायरस से निपटने के लिए दिया है।
उन्होंने बाकायदा इसके लिए डीएम को पत्र लिखा है। हरचंदपुर विधायक राकेश सिंह ने भी अपनी निधि से डेढ़ करोड़ कोरोना वायरस से लोगों की मदद करने के लिए दिए हैं। इस धनराशि के उपयोग के लिए सीडीओ को पत्र लिखा है। पूर्व मंत्री एवं ऊंचाहार विधायक डॉ. मनोज कुमार पांडेय ने अपनी निधि से एक करोड़ रुपये देने को कहा है।
उनका कहना है कि कोरोना वायरस से देश के लोग परेशान हैं। इस समय हम सबकी जिम्मेदारी बनती है कि उनकी मदद के लिए आगे हाथ बढ़ाए। इसी तरह बछरावां विधायक रामनरेश रावत ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए अपनी निधि से एक करोड़ रुपये तथा एक माह का वेतन देने की बात कही है। इन सब ने अधिकारियों को पत्र लिखे हैं।
... और पढ़ें

टीमें पहुंचीं, घरों में क्वारंटीन किए गए विदेश आए 169 लोग

रायबरेली। जिले में विदेश व अन्य प्रांतों से आए 169 लोगों को उनके घरों में क्वारंटीन किया गया है। उन्हें 14-14 दिनों तक घरों में रहकर एहतियात बरतने और लोगों से न मिलने की सलाह दी गई है।
घर के सदस्यों से भी दूरी बनाए जाने की सलाह दी गई है। साथ ही स्वास्थ्य विभाग की टीमें इन लोगों की सेहत पर रोजाना नजर रखे हुए हैं। हालांकि घरों में रखे गए बाहर से आए लोग स्वस्थ्य बताए जा रहे हैं।
जिले में अब तक विदेश व देश के अन्य प्रांतों से आए 292 लोगों की सूची शासन से उपलब्ध कराई गई। 197 लोगों को ट्रेस करके उनके घरों में स्वास्थ्य विभाग की टीमों को भेजकर सेहत की जांच करने के साथ ही उनका पर्यवेक्षण किया जा रहा है।
28 लोगों के पर्यवेक्षण का काम पूरा हो चुका है। सभी लोग स्वस्थ हैं। 169 लोगों का पर्यवेक्षण स्वास्थ्य टीमें कर रही हैं। इन लोगों को घर में क्वारंटीन रहने के आदेश दिए गए हैं। किसी भी प्रकार की समस्या होने पर तुरंत सीएचसी को अवगत कराने के लिए भी कहा गया है।
सीएमओ डॉ. संजय कुमार शर्मा ने बताया कि जो भी लोग बाहर से आए हैं, उन्हें एहतियातत घरों में क्वारंटीन कराया गया है। एहतियात बरतने से ही कोरोना वायरस के खतरे से बचा जा सकता है।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस को हराने को शहर का होगा सेनिटाइजेशन

रायबरेली। कोरोना वायरस के खात्मे के लिए नगर पालिका की ओर से पूरी तैयारी कर ली गई है। इसके लिए शहर के सभी वार्डों को सैनिटाइजेशन कराया जाएगा। इसके लिए दो हजार लीटर सोडियम हाइपो मंगाया गया है।
ईओ की अगुवाई में पालिका कर्मचारियों की ओर से जल्द सैनिटाइजेशन का कार्य शुरू कराया जाएगा। शहर क्षेत्र के अंतर्गत 34 वार्र्ड आते हैं। इन वार्डों में करीब ढाई लाख आबादी रहती है। कोरोना वायरस से लोगों में अफरातफरी है। कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के लिए नगर पालिका पूरे इंतजाम कर रहा है।
पालिकाध्यक्ष पूर्णिमा श्रीवास्तव ने बताया कि शहर के सैनिटाइजेशन कराने की तैयारी कर ली गई है। इसके लिए दो हजार लीटर सोडियम हाइपो मंगाया गया है। साथ ही 100 बोरी चूना, मच्छर मारने की दवा मंगा ली गई है।
सभी मोहल्लों में साफ-सफाई का कार्य पहले से ही कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि नगर पालिका ईओ बालमुकुंद मिश्रा की अगुवाई में प्रधान लिपिक आशुतोष सिंह, मुमताज आदि कर्मियों को सैनिटाइजेशन कराने की जिम्मेदारी सौैंपी गई है।
... और पढ़ें

दिल्ली व अन्य शहरों से पहुंचे 5200 लोग, सभी को क्वारंटाइन के आदेश

रायबरेली। दिल्ली व अन्य शहरों से आए करीब 5200 लोगों की सेहत पर नजर रखने के साथ ही उन्हें घर से अलग रखने के लिए बंदोबस्त किए गए हैं। डीएम शुभ्रा सक्सेना के आदेश पर सभी को क्वारंटाइन में रखने के लिए जिला स्तर पर 500, तहसीलों मे 200-200 लोगों की व्यवस्था कराई गई है।
इसके अलावा सभी 989 ग्राम पंचायतों के स्कूलों और पंचायत भवनों को भी खाली कराकर घर पहुंचे लोगों को 14-14 दिन तक रखने के आदेश दिए गए हैं। रोजाना स्वास्थ्य विभाग की टीमों को जांच करने के आदेश भी दिए गए हैं।
जिले में अब तक 5200 लोग परदेश आ चुके हैं। हालांकि अब तक जिले में पॉजिटिव केस नहीं मिला है, लेकिन भारी संख्या में बाहर से लोगों के आने से खतरा बढ़ गया है। इस समस्या को गंभीरता से लेते हुए डीएम ने बाहर से आने वाले लोगों को घर से बाहर रखने के आदेश दिए हैं।
जो जहां भी मिले उसे वहीं रोककर जांच कराने के साथ ही क्वारंटाइन कराने के आदेश दिए गए हैं। जिला मुख्यालय के साथ ही तहसीलों व ब्लॉकों में यह व्यवस्था की गई है। आदेश का शत प्रतिशत पालन कराने के आदेश दिए गए हैं। आदेशों की अवहेलना करने वालों पर मुकदमा दर्ज कराने के आदेश दिए गए हैं।
जिला अस्पताल में बुखार की जांच के लिए खोली गई ओपीडी में सोमवार को लंबी लाइन लगी रही। बाहर से आए लोगों को अस्पताल लाकर उनके सेहत की जांच कराई गई। हालांकि प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें 14 दिनों तक परिवार व गांव के लोगों से दूर रहने की सलाह दी गई। सभी को एहतियात बरतने के निर्देश दिए गए। ओपीडी में 700 से अधिक लोगों के बुखार की जांच की गई। शाम को भी लाइन लगी हुई है।
अमेठी जिले के तिलोई तहसील की जायस कोतवाली के बेरारा गांव में रविवार को आए 36 प्रवासी लोगों को प्राथमिक विद्यालय में रखा गया। सोमवार को सुबह लेखपाल शिवम तिवारी की रिपोर्ट पर एसडीएम सुनील कुमार त्रिवेदी के निर्देश पर स्वास्थ्य टीम मौके पर पहुंची।
सभी के स्वास्थ्य की जांच की। ये लोग बेरारा, बाबू का पुरवा, पूरे तिवारी, पूरे कुंहारन के रहने वाले हैं। जांच के दौरान मौके पर जायस प्रभारी भरत उपाध्याय के साथ उपनिरीक्षक विधान चंद्र आदि मौजूद रहे।
दूसरे प्रदेशों से वापस लौटने के बाद तमाम लोग सीधे घरों में घुस रहे हैं, ऐसे में कोरोना का संक्रमण बढने का खतरा बढ़ गया है। सीएचसी डीह में अब तक 490 लोग ही पुलिस की सख्ती के कारण अपना चेकअप कराने पहुंचे हैं।
डलमऊ क्षेत्र में परदेश में काम करने वाले करीब एक हजार मजदूर घरों को लौट आए हैं। सीएचसी डलमऊ में जांच के लिए शरीर का तापमान चेक करने के लिए स्कैनिंग मशीन न होने से थर्मामीटर से ही जांच की जाती है। जगतपुर क्षेत्र में 200 से अधिक लोग घर पहुंच चुके हैं। जिगना गांव में नोएडा से आठ लोग, रामगढ़ गांव में 24 लोग, रोझइया गांव में 8 लोग, उड़वा में 5 लोग, सिद्धौर में तीन लोग घर पहुंचे हैं।
... और पढ़ें

आवश्यक सेवाएं कतई बाधित न होने दें-डीएम

रायबरेली। जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना एवं पुलिस अधीक्षक स्वप्निल ममगाई ने कोरोना की रोकथाम के लिए रविवार को बचत भवन सभागार में मातहतों की बैठक ली। उन्होंने कहा कि किसी भी स्थिति में आवश्यक सेवाएं बाधित नहीं होनी चाहिए। खाद्यान्न, दूध, सब्जी, फल, रसोई गैस आदि जरूरतों को मांग के अनुरूप उपलब्ध कराया जाए।
उन्होंने कहा कि ड्यूटी पर लगे अधिकारी अपने-अपने क्षेत्रों में आम जनमानस से सामंजस्य बनाकर काम करें, उन्हें समझाएं कि घर में ही रहें, अनावश्यक बाहर न निकलें। आवश्यक सेवाओं एवं वस्तुओं के संबंध में सूची जारी की गई है, जिससे किसी को कोई असुविधा न हो। जिलाधिकारी ने आम जनता को लॉकडाउन की अवधि में सड़कों पर अनावश्यक रूप से न निकलने की हिदायत दी है। कहा है कि लोगों को मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, चर्च आदि धार्मिक स्थलों पर नहीं जाना है।
उधर, डीएम ने कहा है कि पुलिस प्रशासन शालीनता के साथ लोगों को घरों में रहने के लिए कहें। किसी भी व्यक्ति से अभद्रता न करें। पहले समझाएं, फिर चेतावनी दें कि अगर घर के बाहर अनावश्यक दिखाई पड़ें तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी। गांवों में ग्राम प्रधान लोगों को लॉकडाउन की स्थिति में घरों के अंदर रहने को कहें। पुलिस अपने-अपने क्षेत्रों में भ्रमणशील रहे और कहीं भीड़ जुटने न दें। उन्होंने कंट्रोल रूम के प्रभावी तरीके से संचालन के निर्देश भी दिए।
डीएम और एसपी ने सुपर माकेट, सिविल लाइन, कहारों का अड्डा, बस स्टाप सभमेत दूरदराज के स्थानों पर लॉकडाउन का निरीक्षण किया। आवश्यक सुविधाओं के बारे में भी जानकारी ली। उन्होंने कहा कि गरीबों, कमजोरों एवं जरूरतमंदों को भोजन मुहैया कराने को कम्युनिटी किचन संचालित है। ग्राम पंचायत स्तर सामाजिक संस्थाएं भोजन वितरण कर रही हैं। खाद्य सामग्री की कोई कमी न रहे, इसका ध्यान रखा जा रहा है। आपातकालीन सेवाएं पूरी तरह से सक्रिय हैं।
... और पढ़ें

विदेश से आए लोगों की हुई स्क्रीनिंग

रायबरेली। परदेसियों के घर लौटने से ग्रामीणों में कोरोना संक्रमण की दहशत बढ़ रही है। दरअसल कई जगह से शिकायतें मिल रहीं हैं कि क्वारंटीन किए जाने के बाद भी लोग गांव में मस्ती से घूम रहे हैं।
कस्बे के आसपास के गांवों में विदेशों से आने वाले लोगों की लिस्ट मिलने के बाद कोरोना संक्रमण रोकने के लिए स्वास्थ्य कर्मियों के माध्यम से स्क्रीनिंग कराई गई। स्क्रीनिंग के दौरान वे सभी विदेशी व गैर प्रांतों से आए लोग स्वस्थ पाए गए। कोरोना के संक्रमण को लेकर सीएचसी स्तर पर एक नोडल अधिकारी दो सब नोडल अधिकारी और कुल तीन कोरोना रैपिड एक्शन टीम गठित की गई। सभी टीमों में एक-एक चिकित्सक सहित कुल पांच सदस्य हैं।
ये सभी टीमें प्रशासन द्वारा उपलब्ध लिस्ट के आधार पर विदेशों और गैर प्रांतों से आए लोगों का पता लगाकर उनका शपथ पत्र भरवाते हुए उन्हें होम क्वारंटीन कर रहे हैं। जिन लोगों को होम क्वारंटीन किया जा चुका है उनकी समय-समय पर जांच की जिम्मेदारी भी इन्हीं टीमों को है। अभी तक होम क्वारंटीन किए गए लोगों को किसी प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी दिक्कत नहीं हुई है। चिलौला गांव के निवासी अब्दुल तवाफ़ 11 मार्च को खाड़ी देश से लौटे हैं।
पूछने पर बताया कि वे पूरी तरह स्वस्थ हैं। इन्होंने डॉक्टर की सलाह पर घर में ही खुद को सेल्फ क्वारंटीन रखा है। ऐसे ही कस्बे के शीतलदीन व रामबाबू निर्मल जो विदेश से लौटकर आये थे, उनकी भी स्क्रीनिंग के बाद चिकित्सकों ने लगातार स्वास्थ्य का हाल जाना। सीएचसी अधीक्षक डॉ. राजीव गौतम ने बताया की कोरोना को लेकर सीएचसी स्तर पर तीन टीमें गठित की गई हैं। तीनों टीमें तीन शिफ्टों में काम करते हुए 24 घंटे सेवाएं दे रही हैं। टीमें जिन लोगों की स्क्रीनिंग करती हैं उनका डाटा प्रतिदिन सीएमओ को भेज दिया जाता है।
लालगंज सीएचसी में एक गौरारुपई गांव का आदमी डॉक्टर से शिकायत कर रहा था कि उसके गांव में क्वारंटीन किए गए लोग स्वच्छंदता से घूम रहे हैं। ऐसे लोगों के विरुद्घ सख्त कार्रवाई की जाए वरना यही लोग संक्रमण फैलने का कारण बनेंगे।
विभिन्न शहरों से वाहनों से लौट रहे लोगों की सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में जांचकर होम क्वारंटीन के निर्देश दिए जा रहे हैं। कस्बे के आसपास के गांवों को जाने वाले लोगों को पुलिस ने रोककर सीएचसी भेजा ताकि उनकी स्क्रीनिंग हो सके। शहरों में रोजी रोटी कमाने गए युवक कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए घोषित लॉकडाउन के बाद अपने घरों को लौट पड़े। गांव पहुंचने से पहले उन्हें ये भी चिंता सताने लगी है कि पहुंचने पर गांव के लोग उनके साथ कैसा व्यवहार करेंगे।
इसी चिंता में ये लोग कस्बे में गाड़ियों से उतरने के बाद सीएचसी जाकर अपनी स्क्रीनिंग करा रहे हैं। ताकि गांव जाकर परिवारीजनों के साथ लोगों को सांत्वना दे सकें। दिल्ली से लौटे सुआखेड़ा गांव निवासी राहुल, मुकेश, दुर्गेश व शाहपुर निवासी उमेश जैसे ही ट्रक से गांधी चौराहा पर उतरे तो सबसे पहले सीएचसी जाना मुनासिब समझा। इन लोगों ने बताया कि ऐहतियातन हमने अपनी स्क्रीनिंग करा ली, साथ ही होम क्वारंटीन का स्व घोषणा पत्र भी भरा है ताकि गांव जाने पर लोग बुरा बर्ताव न करें।
... और पढ़ें

विद्यालय संचालक बच्चों, अभिभावकों को समझाएं

रायबरेली। अभिभावक अपने बच्चों को साथ लेकर बिना मॉस्क लगाए सामान लाने के बहाने अपने घरों से बाहर निकल रहे हैं। मोहल्ले के बच्चे एक साथ गलियों में खेलते रहते हैं। आम लोग भी आसपास के लोगों के साथ घर के बाहर बैठे नजर आते हैं। ऐसे लोगों को नसीहत देने के लिए सभी विद्यालयों के प्रबंधकों, प्रधानाचार्यों एवं शिक्षकों को अपील जारी करने के निर्देश दिए गए हैं।
जिला विद्यालय निरीक्षक डा. चंद्रशेखर मालवीय का कहना है कि जिन विद्यालयों में कक्षावार वाट्सएप ग्रुप बने हैं, उन पर लगातार अपील जारी करते रहें। किसी भी स्थिति में बच्चों को घर से बाहर न निकलने दें। अभिभावक भी घरों में रहें।
कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने का सबसे बेहतर तरीका लाकडाउन का पालन करते हुए अपने घरों में रहना है। जिला अभिभावक संघ के अध्यक्ष डा. शशिकांत शर्मा एवं महामंत्री दीपप्रकाश शुक्ला ने छात्र-छात्राओं और अभिभावकों को सलाह दी है कि बाहरी लोगों के संपर्क में कतई न रहें।
घर पर ही अभिभावक अपने बच्चों को पोस्टर, निबंध या अन्य प्रतियोगिता की तैयारी कराते रहें, जिससे बच्चों का मनोरंजन होने के साथ ज्ञान भी बढ़ता रहे। डिस्ट्रिक्ट ओलंपिक संघ के जिला सचिव लक्ष्मीकांत शुक्ला ने भी बच्चों को नसीहत दी कि घर में रहें।
अभिभावक अपने बच्चों के साथ कैरम, लूडो, शतरंज जैसे अन्य गेम्स के जरिए समय बिताने की कोशिश करें। उत्तर प्रदेश भारत स्काउट और गाइड संस्था के जिला सचिव अरविंद कुमार शुक्ला ने अभिभावकों और छात्र-छात्राओं से लाकडाउन का पालन करते हुए घर से बाहर न निकलने की अपील जारी की है।
इंदिरा गांधी राजकीय महिला महाविद्यालय के पुरान छात्र परिषद ने भी सभी छात्राओं से अपील की है कि अपने घरों में रहें। प्राचार्य डा. सुषमा देवी ने बताया कि सभी लोग एक-दूसरे को मैसेज देकर घर में रहने की नसीहत दे रहे हैं।
... और पढ़ें

कोरोना से बचने और बचाने के लिए डॉक्टरों को प्रशिक्षण

रायबरेली। कोरोना वायरस से जिले के लोगों को बचाने और इलाज के टिप्स देने के लिए शनिवार को जिला अस्पताल में चिकित्सकों की क्लास ली। शासन स्तर पर प्रशिक्षण लेने के बाद जिला अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. बीरबल ने डॉक्टरों को प्रशिक्षण दिया।
इलाज करने के दौरान एहतियात बरतने के तरीकों के बारे में बताया। डॉ. बीरबल ने कहा कि इलाज के दौरान चिकित्सकों व स्टाफ को विशेष सतर्कता बरतने की जरूरत है। मास्क, सैनिटाइजर का प्रयोग जरूर किया जाए। बचाव के अन्य संसाधनों का प्रयोग किया जाएगा। मरीज को पूरी तरह से आइसोलेट रखा जाए।
मिल एरिया क्षेत्र स्थित सेल्टर हाउस में शनिवार को स्वास्थ्य विभाग की रिस्पांस टीम लोगों की सेहत जांचने के लिए पहुंची। टीम प्रभारी डॉ. ऋषी बागची ने बताया कि सेल्टरहोम में करीब 50 लोग है। सभी के स्वास्थ्य का परीक्षण किया गया है। सभी लोग स्वस्थ पाए गए हैं।
... और पढ़ें

रेल कोच कारखाना अपने यहां ही कर्मचारियों के लिए तैयार करा रहा सेनेटाइजर और मास्क

रायबरेली। कोरोना वायरस से बचाव के लिए इस समय बाजार में सैनिटाइजर और मास्क पूरी तरह से गायब हो गया है। आधुनिक रेल डिब्बा कारखाना हालांकि 14 अप्रैल तक लॉकडाउन है।
फिर भी अपने कर्मचारियों और अधिकारियों के उपयोग के लिए कारखाना प्रबंधन ने एक निजी कंपनी के सहयोग से कारखाने में ही सैनिटाइजर और कर्मचारियों के परिवारों के सहयोग से मास्क तैयार कराने का काम कर रहा है। आरेडिका की लैब में 200 एमएल की बोतलों में सैनिटाइजर बनाया जा रहा है।
जीएम वीएम श्रीवास्तव ने बताया कि आरेडिका में रह रहे सभी कर्मचारी परिवारों को प्रति परिवार 200 एमएल का डिस्पेंसर दिया जाएगा। यही नहीं सभी फ्रंट लाइन स्टाफ जैसे सुरक्षा, वितरण प्रणाली और आवश्यक सेवाओं में तैनात कर्मचारियों को भी यह सैनिटाइजर और मास्क मुहैया कराया जायेगा।
इसके अलावा कारखाने के तकनीकी प्रशिक्षण केंद्र में मास्क बनाने का भी कार्य किया जा रहा है। मास्क बनाने के लिए मलमल और खादी कपड़े को तीन परतों में प्रयोग कर तैयार किया जा रहा है। मास्क की सिलाई के लिए कर्मचारी और उनके परिवार स्वेच्छिक रुप से सामने आ कर संकट की इस घड़ी में अपनी सेवाएं प्रदान कर रहे है।
जीएम ने कर्मचारी परिवारों की इस पहल की सराहना की और कहा की मुश्किल वक्त में सभी के साथ और पारस्परिक समन्वय बहुत महत्वपूर्ण होता है। जिसका परिचय आरेडिका परिवार समय-समय पर देता रहा है।
... और पढ़ें

मुंबई, दिल्ली से 2000 लोग पहुंचे घर, कोरोना वायरस का खतरा बढ़ा

रायबरेली। कोरोना के खतरे को लेकर लॉकडाउन की घोषणा के बाद दिल्ली, मुंबई व अन्य शहरों में मजदूरी करने वाले करीब 2000 लोग जिले में वापस लौटे हैं। कई और लोग जल्द ही घर पहुंचने वाले हैं। शहरों में कोरोना के तमाम केस पॉजिटिव होने के बाद वहां रह रहे लोगों के घर पहुंचने से जिले में भी खतरा बढ़ गया है।
स्वास्थ्य विभाग ने ब्लॉकों की टीमों के माध्यम से बाहर से आए लोगों को चिन्हित कराकर उनकी सेहत को जांचने के साथ ही क्वारंटीन करने के आदेश दिए गए हैं। ग्रामीणों को बाहर से आए लोगों में जुकाम, बुखार, सूखी खांसी, गले में खरास आदि की समस्या होने पर अस्पतालों को सूचना देने की सलाह दी गई है।
जिले में विदेश से आए करीब 300 लोगों की सेहत पर नजर रखी जा रही है। विदेश से आए लोगों में अब तक कोरोना वायरस के लक्षण नहीं मिले हैं, लेकिन देश में लॉकडाउन शुरू होने के बाद दिल्ली, मुंबई व अन्य शहरों में मजदूरी करने वाले लोग अब घरों को वापस लौटने लगे हैं।
जिले में अब तक करीब 2000 लोग घर वापस आ गए हैं। एक साथ ही मुंबई, दिल्ली व अन्य शहरों से लोगों के घर पहुंचने से जिले में भी कोरोना वायरस का खतरा बढ़ गया है। इस खतरे से लोगों को बचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने सतर्कता शुरू कर दी है।
बाहर से आने वाले लोगों की सूची तैयार कराने के साथ ही लोगों की सेहत जांचने का काम शुरू कराया गया है। सभी को घरों में ही क्वारंटीन करने के निर्देश दिए गए हैं। परिवार के लोगों के संपर्क में आने से भी रोका जा रहा है।
अमेठी जिले की फुरसतगंज पुलिस ने शुक्रवार की रात ट्रकों से गुजरात से बलरामपुर व अन्य जिलों को जा रहे लोगों को अमेठी सीमा पर दौड़ा कर पकड़ लिया। बताते हैं कि ट्रक को रोकने का प्रयास किया गया, लेकिन ट्रक ने पुलिस के बैरियर को ही तोड़ दिया।
पुलिस ने निगोहा गांव के पास ट्रक को पकड़ लिया। ट्रक पर 73 लोग सवार थे। पुलिस ने तेंदुआ स्थित कस्तूरबा गांधी विद्यालय में रुकवाया और मेडिकल परीक्षण के बाद चाय नाश्ता कराया। पूड़ी सब्जी की व्यवस्था भी की गई है। इस मौके पर फुरसतगंज प्रभारी प्रेमचंद सिंह, सीएचसी प्रभारी डॉ. एचपी यादव, पूर्व प्रधान बाबू लाल आदि मौजूद रहे।
हरियाणा में दिहाडी मजदूरी करने गए लोग पैदल चलकर डीह पहुंचे। पुलिस कर्मियों ने खाने पीने की व्यवस्था की और बाइक से उनके गांव भेजा। खेतौधन गांव चंद्रेश, शिवकुमार, राहुल सहित 32 लोग पैदल चलकर शनिवार को डीह पहुंचे। थानेदार जेपी यादव ने खाने का सामान व पानी की व्यवस्था की। बाद में सभी को घर भेजवाया। सभी को किसी भी प्रकार की समस्या होने पर अस्पताल को सूचना देने के निर्देश दिए गए।
... और पढ़ें

सड़कों पर सन्नाटा, एडीजी ने कंट्रोल रूम का किया निरीक्षण

रायबरेली। एडीजी (कानून व्यवस्था) एसएन सावत ने शनिवार को कोरोना वायरस के खतरे से लोगों को बचाने के लिए यहां व्यवस्था का जायजा लेने के लिए पहुंचे। उन्होंने डीएम शुभ्रा सक्सेना व एसपी स्वप्निल ममगाई के साथ कलेक्ट्रेट स्थित कंट्रोल रूम का निरीक्षण किया।
पूरी व्यवस्था को देखने के बाद उन्होंने निर्देश दिए कि कहीं भी किसी भी स्तर से सूचना मिलते ही उसे गंभीरता से लिया और सकारात्मक कार्रवाई की जाए। अधिक से अधिक लोगों को कोरोना से बचाने के लिए जागरूक किया जाए। लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग के लिए प्रेरित किया जाए। शनिवार को भी लॉकडाउन के कारण सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा।
एडीसी ने निरीक्षण के दौरान डीएम-एसपी व अन्य अधिकारियों को निर्देश दिए कि लॉकडाउन का कड़ाई से पालन कराया जाए। आमजन मानस को बताया जाए कि घरों में रहे तथा कोरोना वायरस की चेन को तोड़ने में अपना सहयोग करें।
पुलिस व प्रशासन मानवीय व्यवहार अपनाते हुए लॉकडाउन को निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन कराए। अनावश्यक लोगों को परेशान की शिकायतों को गंभीरता से लिया जाए। आपातकालीन सेवाएं एंबुलेंस, डॉयल-112 पूरी तरह से सक्रिय रहे। मास्क व सैनिटाइजर की कमी न होने पाए। शनिवार को चौथे दिन भी लॉकडाउन का असर देखने को मिला। सड़कों पर लोग नजर नहीं आए। जरूरी कार्यों के लिए भी लोग घरों से बाहर निकले।
बाहर से आने वाले लोगों को घर तक पहुंचाने के लिए रोडवेज की बस की व्यवस्था की गई है। एक बस रोडवेज बस स्टेशन पर खड़ी कराई गई है। प्रशासन की सूचना पर बस को बाहर से आने वाले लोगों को घर तक पहुंचाने के लिए भेजी जाएगी। प्रभारी एआरएम अशोक तिवारी ने बताया कि बस की व्यवस्था इमरजेंसी के लिए करवायी गई है। प्रशासन से निर्देश मिलने के बाद बस भेजी जाएगी।
... और पढ़ें

145 बेड के आइसोलेशन वार्ड व 16 बेड का क्वारंटीन वार्ड तैयार

रायबरेली। कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने कठोर कदम उठाया है। यूं तो जिले में अब तक एक भी रोगी नहीं पाया गया है, लेकिन एहतियातन 145 बेड के आइसोलेशन वार्ड व 16 बेड का क्वारंटीन वार्ड तैयार कराया गया है। जिला अस्पताल और रोहनियां में मरीजों और पैरामेडिकल स्टॉफ के लिए अलग-अलग आइसोलेशन वार्ड बनाए गए हैं। सभी स्थानों पर आपदा से निपटने के लिए पर्याप्त बंदोबस्त भी किए गए हैं।
जिला अस्पताल में अब तक 10 बेड का आइसोलेशन वार्ड बनाया गया था। अब जिला महिला अस्पताल में भी 15 बेड का आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है। ऊंचाहार तहसील के रोहनियां सीएचसी में मरीजों के लिए 30 बेड का आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है।
यहां मरीजों का इलाज करने में लगे स्टाफ के लिए भी 12 बेड का अगल से आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है। राजकीय आश्रम पद्धति स्कूल सलोन में 40 बेड के आइसोलेशन वार्ड बनाने का प्रयास शुरू किया गया है। जिले की सभी सीएचसी में दो-दो बेड का आइसोलेशन वार्ड बना है।
मुंशीगंज स्थित कृपालु इंस्टीट्यूट में 16 बेड का क्वारंटीन वार्ड बनाया गया है। खजूरगांव में भी 30 बेड का आइसोलेशन वार्ड बनाने का निर्णय लिया गया है। सीएमओ डॉ. संजय कुमार शर्मा ने बताया कि विभाग की ओर से किसी भी बड़ी आपदा से निपटने के लिए पूरे बंदोबस्त किए जा रहे हैं। आइसोलेशन वार्ड और क्वारंटीन वार्ड तैयार कराए गए हैं। कुछ प्रस्तावित स्थलों पर भी जल्द ही आइसोलेशन वार्ड बनवाए जाएंगे।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं
RAEBARELI (27.10.19)
RAEBARELI (27.10.19)
RAEBARELI (27.10.19)
RAEBARELI (27.10.19)

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us