विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

IPS बनी गोरखपुर की बेटी एमन, सीएम योगी ने मुस्लिम लड़कियों के लिए बताया रोल मॉडल

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहर की ऐमन जमाल का भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) में चयन होने पर शुभकामनाएं दीं।

10 दिसंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

सिद्धार्थनगर

मंगलवार, 10 दिसंबर 2019

रक्तदान कर महादानी बने 27 लोग

फोटो-53, 54
रक्तदान कर 27 बने महादानी
अमर उजाला फाउंडेशन व अटेवा पेंशन बचाओ मंच की ओर से लगाया गया शिविर
40 से अधिक लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन
अमर उजाला ब्यूरो
सिद्धार्थनगर। अमर उजाला फाउंडेशन व अटेवा पेंशन बचाओ मंच के संयुक्त तत्वाधान में शनिवार को ब्लॅड बैंक पर रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में रक्तदान कर 27 लोग महादानी बने। यह आयोजन शहीद डॉ. रामआशीष सिंह की तृतीय पुण्यतिथि पर किया गया था। जिला अटेवा शिक्षकों तथा कर्मचारियों ने अर्धसैनिक बलों के लिए यह रक्तदान किया था।
इसके बाद एक श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। इसमें शहीद डॉ. रामआशीष को श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए पुरानी पेंशन बहाली के लिए संकल्प लिया गया। अटेवा के वरिष्ठ जिला उपाध्यक्ष बृजेश द्विवेदी ने कहा कि डॉ. रामआशीष के शहादत को व्यर्थ नहीं जाने दिया जाएगा। अटेवा की ओर से रक्तदान शिविर का यह आयोजन पुरानी पेंशन बहाली हेतु मील का पत्थर साबित होगा। जिलाध्यक्ष जनार्दन शुक्ला ने कहा कि पुरानी पेंशन बहाली ही सरकार के पास अंतिम विकल्प हैं। देश का 60 लाख युवा शिक्षक कर्मचारी अपने जीवन के प्रति सशंकित हैं। पुरानी पेंशन बुढ़ापे की लाठी है। शिविर में मनोज कुमार त्रिपाठी, विनोद कुमार शुक्ला, उमेश कुमार पांडेय, राजीव कर पाठक, लक्ष्मी कांत पांडेय, विजयलक्ष्मी चौधरी, अनीता, पंकज पांडेय, रहीम आदि का विशेष योगदान रहा। सभा को मंडलीय मंत्री वकील अहमद खान, जिला कोषाध्यक्ष बलवंत चौधरी, सुरेंद्र कुमार गुप्ता, प्रधानाचार्य आलोक त्रिपाठी, श्रीकृष्ण आदि ने संबोधित किया। इस दौरान अमित कुमार सिंह, योगेंद्र सिंह, अनूप कुमार पाठक, श्रेया तिवारी, अभिमन्यु गुप्ता, बलवंत कुमार चौधरी, रामप्रकाश त्रिपाठी, विवेक कुमार, जनार्दन कुमार शुक्ला, राकेश चंद्र, रमेश कुमार यादव, बीनू शर्मा रामसेवक, सुरेंद्र कुमार गुप्ता, फूलचंद गौड़, धीरज त्रिपाठी, राकेश वर्मा, रामनाथ, अरुण कुमार आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

अस्पताल में मरीजों को नहीं मिल रही 75 प्रतिशत दवाएं

फोटो-51, 52
स्वास्थ्य मंत्री के जिले में अस्पताल में जरूरी दवाएं नहीं
अस्पताल में दवाओं की कमी, बाहर से दवा खरीद रहे मरीज
अमर उजाला ब्यूरो
सिद्धार्थनगर। स्वास्थ्य मंत्री का जिला और सात बार दवा के लिए की गई लिखा-पढ़ी, मरीजों को दवा नहीं दिला पा रही हैं। यह हाल जिला अस्पताल का है, जहां रोजाना हजारों मरीज इलाज के लिए आ रहे हैं, लेकिन दवा के नाम पर उन्हें बाहर की ओर रुख करना पड़ रहा है। हालात ऐसे हैं कि खासी और खुजली तक की दवाएं नहीं उपलब्ध हैं। ऐसे में आसानी से समझा जा सकता है कि गंभीर बीमारी के लिए उपयोग होने वाली दवाओं का हाल क्या होगा। जबकि स्वास्थ्य मंत्री कई बार समीक्षा कर दवा उपलब्ध कराने की बात कह चुके हैं।
168 बेड वाले जिला अस्पताल में स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति अच्छी नहीं है। अस्पताल के आंकड़ों पर गौर करें तो ठंड में सर्दी-जुकाम, निमोनिया जैसी संक्रामक बीमारियां बढ़ी हैं। लेकिन इन मर्ज की दवाएं जिला अस्पताल में नहीं हैं। मौसमी बीमारियों की दवाओं का टोटा है। इलाज के लिए आने वाले मरीज डॉक्टर को तो दिखा ले रहे हैं, लेकिन उन्हें जरूरी दवाएं मिल नहीं पा रही हैं। इसके लिए गरीब मरीजों को रुपये खर्च करने पड़ रहे है। इलाज के लिए परसा से आई शांति देवी ने बताया कि बेटे को कोल्ड डायरिया है। दवा लिखी गई थी, लेकिन जब काउंटर पर गई तो बताया गया कि दवा नहीं है। मजबूरन बाहर से लेना पड़ा। चिल्हिया से आई नसीबा ने बताया कि बेटा कई दिनों से बीमार है। डॉक्टर ने कुछ दवाएं लिखीं, लेकिन अस्पताल में नहीं मिलीं। मजबूरी में बाहर से दवा लेनी पड़ रही। यह कहानी केवल दो मरीजों की नहीं है। सैकड़ों मरीज इस दर्द से पीड़ित हैं। लेकिन वह मजबूर है करें तो क्या करें। सीएमएस डॉ. रोचिष्मति पांडेय ने बताया कि दवाओं के लिए पत्राचार किया गया है। डिमांड की जा रही है, जो दवाएं मौजूद हैं, उन्हें मरीजों में वितरण किया जा रहा है।
ये दवाएं नहीं है उपलब्ध
जिला अस्पताल के आंकड़ों पर गौर करें तो यहां प्रतिदिन 1500 नए मरीजों का पंजीकरण होता है, जो अस्पताल में अपनी बीमारी दिखाने और दवा लेने के लिए पहुंच रहे हैं। वहीं, 1000 हजार पर्चा पुराना भी पहुंचता है। मगर अस्पताल में दवा वितरण कक्ष में हर पांच मरीज में से केवल दो-तीन मरीजों को ही दवाएं मिल पा रही हैं। जरूरी दवाओं में एंटीबायोटिक दावा में मोक्सी, इंथ्रोमेडीसिन सहित अन्य दवाएं उपलब्ध नहीं हैं। इसके अलावा खासी की सिरप एक्सपोक्टेरेंट, कैल्शियम व डॉक्सी, डाइक्लो, नाम की दवाएं नहीं है।
मंत्री के सामने उठ चुका है मुद्दा
स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह के सामने कई बार दवाओं की कमी का मुद्दा उठ चुका है। खुद समीक्षा बैठक में जिम्मेदार इसे लेकर पत्राचार की बात भी कह मंत्री से कह चुके हैं। इसके बाद भी दवाएं जिला अस्पताल में उपलब्ध नहीं हो पा रही है। यह हाल जिला अस्पताल का है। जबकि सीएचसी और पीएचसी की स्थिति और गंभीर है। लेकिन इस पर जिम्मेदारों की नजर नहीं पड़ रही है।
... और पढ़ें

एसएनसीयू वार्ड से नवजात को किया डिस्चार्ज, एक घंटे बाद मौत

जिला अस्पताल में नवजात की मौत पर बृहस्पतिवार की देर रात परिजनों ने जमकर हंगामा किया। इस बीच नवजात की मां की हालत भी खराब हो गई। लिहाजा उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। परिजनों का आरोप है कि एक चिकित्सक ने जबरन एसएनसीयू से छुट्टी कर दी। जबकि एक अन्य डॉक्टर ने पांच दिन बाद डिस्चार्ज करने की बात कही थी।

जानकारी के अनुसार विनीत कुमार दुबे की पत्नी पूजा दुबे (22) को मंगलवार की रात 10.50 जिला अस्पताल में एक किलो 200 ग्राम का प्री मैच्योर डिलीवरी हुई। डॉक्टर संजय चौधरी ने नवजात को एसएनसीयू में भर्ती कराया। परिजनों का आरोप है कि बृहस्पतिवार को दिन में तीन बजे एक डॉक्टर ने एसएनसीयू से जबरन छुट्टी दे दी। इस पर विरोध किया गया लेकिन कोई बात नहीं सुनी गई। इसके बाद मजूबरी में परिजन उसे अस्पताल के संक्रामक वार्ड में ले गए।

बृहस्पतिवार की देर शाम करीब 5 बजे के करीब नवजात की मौत हो गई। इसके बाद अस्पताल प्रशासन मामले को मैनेज करने में जुट गया। परिजनों ने जब चिकित्सक से वापस एसएनसीयू में रखने को कहा तो उन्हें वापस कर दिया गया। मरीज के साथ मौजूद श्रद्धा दुबे, प्रमिला दुबे, हरिश्चंद्र दुबे आदि लोगों का कहना है चिकित्सकों की लापरवाही से बच्चे की मौत हुई है।

बताया कि देर शाम से ही अस्तपाल से डॉक्टर नहीं आए। कई बार मिलने की कोशिश भी की गई, लेकिन किसी भी जिम्मेदार ने मुलाकात करना जरूरी नहीं समझा। इसी बीच पूूजा की हालत बिगड़ भी गई थी। उसे अस्पताल में भर्ती करानी पड़ी।

हालांकि शुक्रवार को परिजन नवजात का शव और पूजा को डिस्चार्ज कराकर घर लेकर चले गए थे। सीएमएस डॉ. रोचष्मति पांडेय का कहना है कि मामले की जानकारी हुई है। अब तक कोई लिखित शिकायत नहीं मिली है। इसके बाद भी मामले की जांच कराई जाएगी।
... और पढ़ें

20 लाख रुपये से सुधरेगी वन विभाग पार्क की दशा

20 लाख रुपये से सुधरेगी वन विभाग पार्क की दशा
अशोक मार्ग स्थित पार्क की भूमि का उच्चीकरण कर लगेंगे फूल-पौधे
विभाग की ओर से डीएम को भेजे प्रस्ताव पर जल्द शुरू होगा कार्य
संवाद न्यूज एजेंसी
सिद्धार्थनगर। शहर के अशोक मार्ग स्थित वन विभाग के पार्क की दशा सुधारने के लिए विभाग की ओर से डीएम को प्रस्ताव भेजा गया है। विभाग की ओर से 20 लाख रुपये की लागत के प्रस्ताव में पार्क की भूमि के उच्चीकरण समेत फूल-पौधे लगाने आदि कार्य शामिल किए गए हैं, जिस पर जल्द ही कार्य शुरू होगा।
शहर के मुख्य मार्ग पर स्थित वन विभाग पार्क में शुरूआती दौर में काफी रौनक रहती थी, लेकिन धीरे-धीरे इस पार्क की स्थिति खराब होने लगी। पार्क में सुविधाओं की कमी तो है, चारदीवारी न होने के कारण इसमें पशुओं के साथ अराजक तत्वों का भी आवागमन होता है। पार्क में टहलने के लिए बना फूटपाथ टूटने के साथ ही फूल आदि पौधे भी नहीं लगे हैं। पार्क की दशा सुधारने के लिए वन विभाग की ओर से भेजे गए प्रस्ताव में पार्क के अंदर बने फूटपाथ की मरम्मत कराने के साथ ही पार्क के अंदर की भूमि का उच्चीकरण कार्य भी शामिल है। डीएफओ आकाश दीप बधावन का कहना है कि भेजे गए प्रस्ताव के सापेक्ष मिले धन से फूटपाथ मरम्मत व भूमि उच्चीकरण के बाद फूटपाथ के किनारे फूल व पौधे लगाए जाएंगे। पार्क का सुंदरीकरण करने के लिए अन्य प्रस्ताव शासन को भेजा जाएगा।
तालाब के जीर्णोद्धार से बढ़ेगा आकर्षण
शहर के अमरेश श्रीवास्तव, नसीम खान व राकेश का कहना है कि पार्क में स्थित तालाब का जीर्णोद्धार कर दिया जाए तो पार्क में रौनक आ जाएगी। इस तालाब में महिलाएं छठ पूजा भी करती हैं। इसके साथ ही अगर पूर्व में संचालित कैंटीन को फिर से शुरू कर दिया गया तो यहां आनेवाले लोगों की तादाद बढ़ जाएगी व विभाग को पार्क के संरक्षण के लिए आय की सुविधा उपलब्ध हो जाएगी।
... और पढ़ें

तीसरे मंजिलें की छत से गिरा तीन वर्षीय मासूम, मौत

तीसरी मंजिल की छत से गिरा मासूम, मौत
शोहरतगढ़ थाना क्षेत्र के गड़ाकुल गांव का मामला
अमर उजाला ब्यूरो
शोहरतगढ़। थाना क्षेत्र के गड़ाकुल गांव में सोमवार दोपहर एक तीन वर्षीय बच्चा तीसरे मंजिल से गिर गया। इस घटना में उसकी मौत हो गई। बताया जा रहा है कि खेलते समय पैर फिसल जाने से वह नीचे गिरा था। मासूम की मौत के बाद से परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।
क्षेत्र के गड़ाकुल गांव निवासी फकरे आलम का तीन वर्षीय पुत्र फजल में सोमवार दोपहर 12 बजे तीसरी मंजिल की छत पर खेल रहा था। खेलते-खेलते वह अचानक बगल के एक मंजिल मकान की छत पर गिर गया। इस दौरान परिजनों ने चीख-पुकार करते हुए नीचे आकर बगल के घर से घायल मासूम बच्चे को लेकर सरकारी अस्पताल पहुंचाया जहां चिकित्सक ने घायल बच्चे की हालत गंभीर देख प्राथमिक उपचार के बाद जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। वहीं, जिला अस्पताल में पहुंचने के बाद चिकित्सक ने हालत गंभीर बताकर गोरखपुर मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया। गोरखपुर ले जाते समय रास्ते में उसकी मौत हो गई। घटना से परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। पूरे मोहल्ले में शोक व्याप्त है। बताते चलें कि पीड़ित पिता फकरे आलम के दो लड़का व एक लड़की है जिसमें तीन वर्षीय मासूम फजल सबसे छोटा लड़का था।
सड़क हादसों में पांच लोग घायल
जिले के अलग-अलग थाना क्षेत्रों में हुईं विभिन्न दुर्घटनाएं
घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया
अमर उजाला ब्यूरो
सिद्धार्थनगर। जिले के अलग-अलग स्थानों पर रविवार की देर शाम व सोमवार को हुए सड़क हादसों में पांच लोग जख्मी हो गए। आसपास के लोगों की मदद से उन्हें जिला अस्पताल पहुंचाया गया जहां उनका इलाज जारी है।
जानकारी के अनुसार सदर थाना क्षेत्र मधुबेनिया गांव निवासी रहीम (30) रविवार को घर से कहीं निकले थे। इसी दौरान उन्हें किसी वाहन की चपेट में वे आ गए जिससे वे गंभीर रूप से जख्मी हो गए। आसपास के लोगों की मदद से जिला अस्पताल पहुंचाया गया, जहां इलाज चल रहा है। इसी तरह जोगिया कोतवाली क्षेत्र के सूरजिया गांव के टोला नवड़िहवा निवासी 14 वर्षीय राकेश सड़क हादसे में जख्मी हो गया। उसे भी जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। सोमवार को हुए सड़क हादसों में कपिलवस्तु कोतवाली क्षेत्र के पकड़ी गांव निवासी रामसूरत (28) जख्मी हो गया। परिजनों ने उन्हें जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां उनका इलाज चल रहा है। उधर, पश्चिम बंगाल के सुंदरनगर निवासी घनश्याम (44) भी सड़क हादसे में जख्मी हो गए। लोगों ने एंबुलेंस की मदद से उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। एक अन्य हादसे में जोगिया कोतवाली क्षेत्र के पारानानकार गांव निवासी रामकुमार (20) सड़क हादसे में घायल हो गए जिन्हें जिला अस्पताल पहुंचाया गया है। डॉक्टरों के मुताबिक हालत में सुधार है।
... और पढ़ें

पाक्सो आरोपित को 10 साल का सश्रम कारावास

पॉक्सो के दोषी को 10 साल का सश्रम कारावास
अपर सत्र न्यायाधीश पॉक्सो एक्ट कोर्ट ने सुनाई सजा
ढेबरूआ थानाक्षेत्र के एक गांव की तीन वर्ष पूर्व की घटना
संवाद न्यूज एजेंसी
सिद्धार्थनगर। अपर सत्र न्यायाधीश पॉक्सो एक्ट कोर्ट ने सोमवार को ढेबरुआ थानाक्षेत्र के एक गांव निवासी नाबालिग को बहला-फुसलाकर भगाने के दोषी को 10 वर्ष के सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। अपर सत्र न्यायाधीश राम चंद्र यादव-एक ने दोषी पर 40 हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया है।
ढेबरुआ थानाक्षेत्र के एक गांव निवासी एक नाबालिग को वर्ष 2016 में गांव का ही एक युवक शादी का झांसा देकर बहला-फुसलाकर भगा ले गया। नाबालिग के पिता की तहरीर पर पुलिस ने मामले में केस दर्जकर छानबीन के बाद कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी। कोर्ट में सुनवाई के दौरान आरोपों की पुष्टि होने पर अपर सत्र न्यायाधीश व विशेष न्यायाधीश (पॉक्सो एक्ट) राम चंद्र यादव-1 ने दोषी को 10 वर्ष का सश्रम कारावास, 40 हजार रुपये अर्थदंड की सजा सुनाई है। अर्थदंड न जमा करने पर 10 माह का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा। अर्थदंड से मिली धनराशि में 50 प्रतिशत पीड़िता को प्रतिकर के रूप में दिया जाएगा।
... और पढ़ें

उत्तरप्रदेश में खुलेंगे तीन विवि, सिद्धार्थनगर में शुरू होगा मेडिकल कॉलेज: सीएम योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अगले सत्र से सिद्धार्थ नगर जिले के मेडिकल में पढ़ाई और ओपीडी शुरू कर दी जाएगी। ज़िले में पांच नगर पंचायत बनना अच्छा जनप्रतिनिधि चुने जाने का परिणाम है। कोई सोचता भी नहीं था कि यहां कोई मेडिकल कालेज बनेगा। यहां मेरा आना जाना बहुत था। भगवान बुद्ध के कारण इस जनपद की पहचान पूरी दुनिया में है। एक महान व्यक्तित्व और कृतित्व से लाखों लोगों में परिवर्तन हुआ।

मुख्यमंत्री योगी आज बिस्कोहर के छेदी लाल इंटर कॉलेज के प्रांगण में राजकीय महाविद्यालय का शिलान्यास करने के बाद जनसभा को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री योगी ने आगे कहा कि आपने सांसद और पांच विधायक दिए तो हमने पांच टाउन एरिया भी दिए। इससे रोजगार की संभावना है। प्रति व्यक्ति की आय में भी इजाफा होगा। अच्छा और योग्य जनप्रतिनिधि चुनने पर जनता की समस्याओं का समाधान होता है। जो आपको दिख भी रहा है। पर्यटन की दृष्टिकोण से भी यह जिला मजबूत हुआ है। इसके साथ देवीपाटन का भी विकास होगा।

1947 से 2016 तक यहां एक भी मेडिकल कालेज नहीं था। आजमगढ़, अलीगढ़ और सहारनपुर में  तीन विश्वविद्यालय बनाने जा रहे हैं। 1 करोड़ 80 लाख के बच्चों को स्वेटर एक फर्म नहीं दे पा रही है, लेकिन कोशिश हो रही है कि समय से सबको स्वेटर, जूता-मोजा मिल जाय। यह व्यवस्था बेसिक शिक्षा व्यवस्था में सुधार का नतीजा है।

दिव्यागों और विधवा पेंशन समय से दी जा रही है। छात्रों को मिलने वाली छात्रवृत्ति वितरण में भी पारदर्शिता आईं है। पीएम मोदी जी ने पूरी दुनिया में भारत का नाम रोशन किया है। भारत एक मजबूत राष्ट्र के रूप में उभरा है। हम विकास को जीवन का हिस्सा बनाएंगे। मुख्यमंत्री ने आवास योजना और उज्जवला योजना के लाभार्थियों को मकान की चाबी और गैस सिलेंडर के कागजात दिए।

इसके पहले बेसिक शिक्षा मंत्री स्वतंत्र प्रभार डॉ सतीश द्विवेदी ने कहा कि पिछले 30 साल के जनता अपेक्षाओं को पिछले ढाई वर्ष में योगी सरकार ने पूरा किया है। हम पति-पत्नी दोनों प्रोफेसर हैं। राजनीति करने नहीं आया था, लेकिन यहां की उपेक्षा देखी नहीं गई। आज बिस्कोहर को नगर पंचायत बनाया गया। इसी मैदान में चुनावी सभा मे योगी जी नगर पंचायत का दर्जा देने के लिए आए थे। सौभाग्य है कि एक बेटे को उपहार स्वरूप बिस्कोहर के साथ इटवा को नगर पंचायत का दर्जा दिया गया है। कार्यकाल के आधा अधूरा लेकिन चुनाव में किया हर वादा पूरा हो गया।

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जय प्रताप सिंह ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री ने 1988 के दिसम्बर में जिला बना, लेकिन पिछली सरकार में कोई काम नहीं हुआ। योगी सरकार में मेडिकल कालेज बनने लगा। राजकीय विद्यालय बना। हर क्षेत्र में प्रदेश का विकास हो रहा है। कानून व्यवस्था पर नियंत्रण हो रहा है। 365 मंदिर हैं। इतने ही कुएं हैं। आज यह नगर पंचायत बन गया। यह सौभाग्य है। ढाई साल में अभी बहुत कुछ बदल जाएगा।
... और पढ़ें

दुष्कर्म के बाद दरिंदगी: गोरखपुर में भी हुए थे उन्नाव जैसे 5 कांड, एक ने बेटी का सिर धड़ काटा

राजकीय महाविद्यालय का शिलान्यास करने के बाद जनसभा को संबोधित करते मुख्यमंत्री योगी।
वो मरना नहीं चाहती थी। भाई से आखिरी बार कहा था कि जिन्होंने मेरी ऐसी हालत की है उन्हें छोड़ना मत। 90 फीसदी जल चुकी उन्नाव सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता की मौत पर पूरे देश में शोक की लहर है। हर कोई हैदराबाद की तरह उन्नाव कांड की पीड़िता को भी न्याय दिलाने के लिए सड़कों पर उतर आया है। उन्नाव केस की तरह दुष्कर्म पीड़िताओं के साथ दरिंदगी के मामले पहले गोरखपुर मंडल में भी सामने आ चुके हैं।
ताजा मामला गोरखपुर के गोला इलाके में इसी साल अगस्त में सामने आया था, जब हैवान बने पिता ने मर्यादा की सारी हदें पार कर दीं। बेटी के साथ दुष्कर्म किया, फिर गला दबाकर हत्या की और बेटी के सिर और धड़ को अलग कर दिया। इसके बाद भी हैवानियत नहीं छोड़ी और बेटी की लाश से दुष्कर्म किया। ये अकेला केस नहीं, मंडल में और भी सामने आए हैं ऐसे मामले...
... और पढ़ें

एनएच 730 को फोरलेन करने की प्रक्रिया शुरू: सांसद

एनएच 730 को फोरलेन करने की प्रक्रिया शुरू: सांसद
सांसद जगदंबिका पाल के प्रस्ताव पर सीएम ने दिए कार्रवाई के निर्देश
दीनदयाल योजना से जिले के गांवों के विद्युतीकरण को मिले 71 करोड़
संवाद न्यूज एजेंसी
सिद्धार्थनगर। एनएच 730 को फोरलेन बनाने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। साथ ही जिले के गांवों का पं. दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के तहत विद्युतीकरण करने को 71 करोड़ आवंटित हो चुका है। यह जानकारी सांसद जगदंबिका पाल ने रविवार को कैंप कार्यालय पर प्रेसवार्ता के दौरान दी।
सांसद जगदंबिका पाल की तरफ से कुशीनगर से गोरखपुर, फरेंदा, सिद्धार्थनगर, बलरामपुर, बहराइच, पीलीभीत तक जाने वाले एनएच 730 को फोरलेन किए जाने संबंधी भेजे गए प्रस्ताव को सीएम योगी आदित्यनाथ ने संबंधित विभाग को आवश्यक कार्रवाई के लिए अग्रसारित किया है। यह जानकारी सीएम ने सांसद को पत्र भेजकर दी है। सांसद ने बताया कि पं. दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के तहत जिले के गांवों के विद्युतीकरण के लिए अब तक 71.54 करोड़ रुपये आवंटित हो चुके हैं। यह जानकारी रूरल इलेक्ट्रीफिकेशन कॉरपोरेशन लिमिटेड के डायरेक्टर ने सांसद को भेजे पत्र में दी है।
सभी बैंक शाखाओं में लिए जाएंगे प्रत्येक मूल्य वर्ग के सिक्के
आपके अपने समाचार पत्र अमर उजाला द्वारा बैंकों में सिक्का न लेने को लेकर चलाए गए अभियान के समर्थन में सांसद जगदंबिका पाल ने लोकसभा में शून्य काल के दौरान मामला उठाया था। जिसका जवाब देते हुए केंद्रीय वित्त एवं कारपोरेट कार्य राज्य मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने सांसद को भेजे पत्र में कहा कि आरबीआई ने सभी बैंकों की शाखाओं को निर्देशित किया है कि नोटों तथा सिक्कों को बदलने की सुविधा के तहत लेन-देन अथवा विनिमय में सभी मूल्य वर्ग के सिक्के स्वीकार करने होंगे। साथ ही सभी तरह के लेन-देन में सिक्कों को वैध मुद्रा के रूप में बिना किसी संकोच के स्वीकार किया जाए।
फोटो कैप्सन.08 डीयू 80पी. पोखराकाजी गांव में जनसभा को संबोधित करते कांग्रेस जिलाध्यक्ष काजी सुहेल अहमद
भाजपा सरकार पर बरसे कांग्रेस कार्यकर्ता
पोखरा काजी गांव में नुक्कड़ सभा का आयोजन किया गया
अमर उजाला ब्यूरो
डुमरियागंज। तहसील क्षेत्र पोखरा काजी गांव में कांग्रेस पार्टी सेवादल अध्यक्ष डॉ. मोहम्मद वासिफ की अगुवाई में नुक्कड़ सभा का आयोजन किया गया। इसमें 14 दिसंबर को दिल्ली के रामलीला मैदान में भारत बचाओ देशव्यापी रैली के आयोजन में सम्मिलित होने की कार्यकर्ताओं एवं क्षेत्र के लोगों से अपील की।
स्थानीय तहसील में कांग्रेस पार्टी कार्यकर्ताओं एवं पदाधिकारी द्वारा जगह-जगह भारत बचाओ रैली को सफल बनाने के लिए नुक्कड़ सभाओं का आयोजन किया जा रहा है। इसीक्रम में ग्राम पोखरा काजी में एक जनसभा का आयोजन किया गया। इसमें कांग्रेस पार्टी के जिलाध्यक्ष काजी सुहेल ने कहा कि हमारा देश आर्थिक मंदी और भ्रष्टाचार में पूरी तरीके से लिप्त है, जिसकी जिम्मेदार मौजूदा सरकार है। कांग्रेस पार्टी के लोगों ने देश को अंग्रेजों से इन्हीं बातों को लेकर आजादी दिलाई थी। आज पूरा भारत फिर से गुलामी की तरफ बढ़ रहा है। आज अल्पसंख्यक व किसानों के साथ हो रहे अत्याचार जग जाहिर है। इसी क्रम में डॉक्टर बख्तियार उस्मानी ने कहा कि एक बार फिर देश के लुटेरे भारत को लूट कर गुलामी की जंजीरों में जकड़ना चाहते हैं। इन्हीं मुद्दों को लेकर कांग्रेस पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में रैली का आयोजन किया गया। जिसमें सभी वर्ग के लोगों के सम्मिलित होना चाहिए। ताकि देश में हो रहे भ्रष्टाचार और अत्याचार को रोका जा सके। इस दौरान काजी अनवारुल अली, आसिफ रिजवी, अर्जुन कनौजिया, इमरान, रियाज, अच्छन, कमाल खान, अफजाल मलिक, तिलकराम, सोमनाथ, अमरजीत पासवान, सरताज फारुकी आदि मौजूद रहे।
फोटो-71
भाजपा सरकार में हो रहा है हर वर्ग का शोषण
नुक्कड़ सभा के जरिए लोगों को बताई सरकार की नाकामी
अमर उजाला ब्यूरो
सिद्धार्थनगर। कपिलवस्तु विधानसभा क्षेत्र के कोड़राग्रांट गांव में रविवार को कांग्रेस पार्टी अनुसूचित जाति विभाग के जिलाध्यक्ष की अगुवाई में नुक्कड़ सभा का आयोजन किया गया। इसमें 14 दिसंबर को दिल्ली के रामलीला मैदान में भारत बचाओ देशव्यापी रैली को सफल बनाने की अपील की गई। साथ ही मौजूदा सरकार की नाकामियों को गिनाया गया। अनुसूचित जाति विभाग के जिलाध्यक्ष देवेंद्र कुमार गुड्डू ने कहा कि जबसे भाजपा की सरकार केंद्र व प्रदेश में बनी है, आम जनता परेशान है। सरकार पूंजीपतियों के हाथ में है। आम जनता महंगाई की मार से परेशान है। प्रदेश में अराजकता का राज है। महिलाएं घर से बाहर निकलने से कतरा रही हैं। मगर सरकार कानून व्यवस्था को काबू करने में विफल है। इन्हीं मुद्दों को लेकर 14 दिसंबर को कांग्रेस पार्टी की ओर से भारत बचाओ रैली का आयोजन किया गया। इसमें अधिक से अधिक लोगों को पहुंचने की जरूरत है। इस दौरान सौरभ सिंह, अतहर बाबा, जसवंत सिंह, राज पासवान, दीपक सिद्धार्थ, रामचंद्र पासवान, रामसमुझ आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

संदिग्ध हाल में मजदूरी करने वाले युवक की मौत

संदिग्ध हाल में मजदूरी करने वाले युवक की मौत
खेसरहा थाना क्षेत्र के दलदला पुलिया के पास मिली लाश
मजदूरी करने के लिए बेलौहा निकला था युवक
अमर उजाला ब्यूरो
खेसरहा। थाना क्षेत्र के दलदला पुलिया के पास संदिग्ध हाल में एक युवक की लाश मिली। बताया जा रहा है कि श्रमिक युवक सुबह बेलौहा मजदूरी करने के लिए निकला था। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।
क्षेत्र के बनकटा गांव निवासी महेंद्र (21) पुत्र भगेलू मजदूरी करता था। बताया जा रहा है कि रविवार सुबह क्षेत्र के बेलौहा में मजदूरी की तलाश में गया था। देर शाम क्षेत्र के ही दलदला गांव के पुलिया के पास उसकी लाश देखी। लाश देखने के बाद मौके पर भीड़ एकत्र हो गई। इसी बीच किसी ने मामले की जानकारी पुलिस को दी। सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव की शिनाख्त महेंद्र के रूप में करते हुए परिजनों को सूचना दी। मौके पर पहुंचे परिजनों ने अभी तक कोई तहरीर नहीं दी है। बहरहाल शव पर कोई चोट के निशान नहीं मिले हैं। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।
इस संबंध में एसओ यशवंत सिंह ने बताया कि शव मिलने की सूचना पर मौके पर गए थे। परिजन शव का पोस्टमार्टम नहीं करवाने की बात कह रहे हैं। तहरीर मिलने के बाद मामले की जांच करके कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

आग लगी तो खुद को बुझाने को रहें तैयार

आग लगी तो खुद को बुझाने को रहें तैयार
जिले मेें जरूरत के अनुरूप नहीं हैं फायर टेंडर व वाहन चालक
तहसील पांच, दो जगह है फायर ब्रिगेड कार्यालय
अमर उजाला ब्यूरो
सिद्धार्थनगर। दिल्ली के फिल्मिस्तान इलाके में रविवार की भोर लगी भीषण आग ने 42 से अधिक लोगों की जान ले ली। इस प्रकार की भयावह घटना यहां न हो, जिसका विभाग की ओर से समुचित प्रबंध न होने के कारण बचाव प्रक्रिया की पूरी कमी देखी जा रही है। लिहाजा ऐसी घटना से यहां पर भी इनकार नहीं किया जा सकता।
जानकारी के मुताबिक जिले में आग से बचाव के लिए संसाधन की घोर कमी है। पांच तहसीलों में महज दो जगह फायर स्टेशन हैं। यहां भी प्रर्याप्त संसाधन नहीं है। जिले की आबादी 27 लाख से अधिक है। यहां दो नगर पालिका और चार नगर पंचायतेें हैं। इन स्थानों पर घनी आबादी है और सकरे रास्ते भी हैं। यहां आगलगी जैसी आपदाएं होने से इनकार नहीं किया जा सकता है। 27 लाख की आबादी वाले इस जिले में आग से बचाव के इंतजाम नाकाफी है। जरूरत के अनुरूप संसाधन और चालक नहीं हैं। जबकि यहां हर वर्ष आग लगने से हजारों बीघा फसल जलकर नष्ट हो जाता है।
घटनाओं पर गौर करें तो 10 अप्रैल - 2017 को जिले के उसका थाना क्षेत्र के उसका में पटाखे की फैक्ट्री में भीषण आग लगी थी। इस घटना में तीन लोगों की जलकर मौत हो गई थी। इसके अलावा भी आगजनी की कई घटनाएं हुई, जिसमें सबकुछ जलकर नष्ट हो गया। बावजूद इसके आग से बचाव के संसाधन नहीं हैं। अगर आग लगती है तो स्वयं बुझाने के लिए तैयार रहें।
पांच तहसील दो फायर स्टेशन
जिले में पांच तहसीलें हैं। नौगढ़, बांसी, शोहरतगढ़, इटवा व डुमरियागंज। मौजूदा समय में जिले की आबादी 27 लाख को पार कर चुकी है। मगर जनपद के सृजन के दौरान जो सुविधाएं थीं वही आज भी मौजूद है। आबादी बढ़ी, घटनाएं बढ़ीं, लेकिन संसाधान नहीं बढ़ा। नौगढ़ और डुमरियागंज तहसील के अलावा तीन अन्य तहसील फायर स्टेशन से अछूता है। आग लगती है तो यहीं से आग बुझाया जाता है। अगर तहसील स्तर पर फायर स्टेशन होता तो आग बुझाने में सहूलियत मिलती।
संसाधन का हाल
जिले में मौजूद समय में फायर के स्टेशन को पांच फायर टेंडर की जरूरत है, लेकिन मौजूदा समय में विभाग के पास महज दो बड़े वाहन हैं। इसके अलावा पांच छोटे वाहन हैं। इसमें एक पानी स्टोर करके चलता है, जबकि चार बिना पानी के चलते हैं। वहीं, चालकों की भी कमी है। यह घटना स्थल पर पहुंचकर तालाब, कुंआ व बोर से पानी भरते हैं। इसके बाद आग को बुझाते हैं।
आग लगे तो तत्काल दें सूचना
सीओ फायर एके सिंह ने बताया कि संसाधान की कमी है। मगर सूचना मिलने पर तत्काल मौके पर टीम जाती है। आग को बुझाया जाता है। कम संसाधन में बेहतर काम करने का प्रयास किया जा रहा है। बशर्ते सूचना समय पर मिले। उन्होंने कहा कि आग लगने पर डायल-100 के बजाय हमारे नंबर सीयूजी नंबर नौगढ़ फायर स्टेशन 9454418810 और डुमरियागंज कार्यालय स्टेशन के 9454418812 पर सूचना दें। आग लगते ही सूचना दें जिससे विकराल होने से पहले बुझाया जा सके। इसमें लापरवाही भारी पड़ जाती है।
... और पढ़ें

जल संरक्षण का सपना दूर, तालाब व पोखरों पर कब्जा 17-03-00

तेजी से पाटे जा रहे ताल और पोखरे
घटता जा रहा रकबा, आबादी से सटे 70 प्रतिशत पोखरे विलुप्त होने के कगार पर
शासन की ओर से एंटी भू-माफिया के तहत नहीं हो पा रही है कार्रवाई
कागज में जिले में हैं 3368 तालाब और पोखरे
अमर उजाला ब्यूरो
सिद्धार्थनगर। जल संकट से निपटने और जल संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए सरकार लोगों को जागरूक कर रही है। साथ ही तालाब और पोखरों को सुरक्षित करने की बात कर रही है। मगर जिले में जमीनी हकीकत इससे परे है। जिले में सरकारी अभिलेखों में 3368 तालाब व पोखरे दर्ज हैं। मगर यहां आबादी से सटे 70 प्रतिशत से अधिक तालाब और पोखरे कब्जे की गिरफ्त में हैं। आएदिन लोग तालाब और पोखरों को पाट रहे हैं, जिससे उनका अस्तित्व मिटता जा रहा है और रकबा सिमटा जा रहा है। मगर प्रशासनिक अमले की नजर नहीं कब्जेदारों तक नहीं पहुंच रही और न ही कब्जा करने वालों पर कार्रवाई हो रही है।
जल संरक्षण को बढ़ावा देने और जल संकट से निपटने के लिए दशकों पूर्व ग्रामीण व नगरीय क्षेत्रों में तालाब व पोखरे को खोदे गए थे, जिससे किसानों को खेत की सिंचाई करने के साथ-साथ भू-जलस्तर बना रहे। प्रशासन की ओर से तालाब व पोखरों को सरकारी दस्तावेज में भी दर्ज किया गया। साथ ही जल संरक्षण के लिए उनकी सिल्ट सफाई करने के साथ ही तालाबों के सुंदरीकरण करके उसे जल संचय योग्य बनाने के लिए हर वर्ष लाखों रुपये उनपर खर्च किए जा रहे हैं। कब्जे का हाल है यह जिले में आबादी से सटे 70 प्रतिशत से अधिक तालाब व पोखरे कब्जे की गिरफ्त में हैं। तालाबों पर भवन खड़े हो रहे हैं तो बाउंड्री की गिरफ्त में भी लिया जा रहा है। मगर जिम्मेदारों की नजर इन कब्जेदारों तक नहीं पहुंच रही है। अगर जल्द प्रशासन की ओर से इस पर कठोर कदम नहीं उठाया गया तो वह दिन दूर नहीं जब, खोजे तालाब और गड्ढे नजर नहीं आएंगे। इस संबंध में एडीएम सीताराम गुप्ता ने कहा कि सरकारी भूमि पर कब्जा करने वालों पर प्रशासन की ओर से लगातार कार्रवाई की जा रही है। जहां से भी शिकायत प्राप्त होती है। राजस्व की टीम मौके पर जाकर नाप करने के बाद खाली करवाती है। कब्जेदारों पर कार्रवाई तेज की जाएगी।
हर गांव में तेजी से हो रहा कब्जा
इन दिनों जिले के लगभग अधिकांश गांवों में आबादी से सटे तालाब और पोखरों में पराली और मिट्टी गिराकर पाटी जा रही है। भू-माफिया उन्हें अपने कब्जे में करने के लिए विवाद करने से भी नहीं चूक रहे हैं।
तहसील समाधान व थाना समाधान दिवस में राजस्व के मामले बढ़े
थाना व तहसील में आयोजित होने वाले समाधान दिवसों में अधिकांश मामले राजस्व के पहुंच रहे हैं। इसमें तालाब और पोखरों को पाटकर कब्जा करने की शिकायतें अधिक रहती हैं। इन दिवसों में भूमि से जुड़े मामलों की बाढ़ सी आ गई है।
एंटी भू-माफिया कार्रवाई की रफ्तार थमी
सूबे में योगी सरकार सत्ता में आने के भू-माफिया पर प्रभावी कार्रवाई करने के लिए एंटी भू-माफिया अभियान के तहत सरकारी भूमि, तालाब, ग्राम समाज और खाद गड्ढा, नवीन परती की जमीन पर हुए कब्जे को हटवाने की कवायद शुरू हुई। मगर समय के साथ रफ्तार थम गई। शुरू में जिले में भी कुछ बड़े चेहरों पर कार्रवाई की गई, लेकिन इसके बाद कार्रवाई की रफ्तार ठप हो गई।
सरकारी आंकड़े
सरकारी आंकड़ों पर नजर डालें तो जिले में 1199 ग्राम पंचायतें हैं। इन ग्राम पंचायतों में 3368 तालाब और पोखरे सरकारी अभिलेख में दर्ज हैं। मगर इनमें अधिकांश कब्जे हैं। वहीं, कुछ केवल सरकारी अभिलेख तक रह गए हैं। उनको पाटकर मकान बना लिया गया है।
लेखपालों की है रोकने की जिम्मेदारी
ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में बने तालाब और पोखरों की निगरानी की जिम्मेदारी हलके के लेखपाल के जिम्मे होती है। अगर कोई व्यक्ति कब्जा करता है तो उसे रोकने की जिम्मेदारी लेखपाल की है। मगर रोकने की बात तो दूर वह अपनी जान बचाने के लिए प्रशासन को सूचना तक नहीं दे रहे हैं।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election