विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020
Astrology Services

विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

जानें कौन हैं श्री रामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास

राम मंदिर आंदोलन के अहम किरदार रहे अयोध्या के श्री रामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास को राम मंदिर निर्माण के लिए बनाए गए 'श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र' ट्रस्ट का अध्यक्ष बनाया गया है। जानें, उनके बारे में:

19 फरवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

सीतापुर

बुधवार, 19 फरवरी 2020

वेतन तभी मिलेगा जब कक्ष निरीक्षक परीक्षा में करेंगे ड्यूटी : डीआईओएस

सीतापुर। यूपी बोर्ड परीक्षा में लगे कक्ष निरीक्षक को तभी वेतन मिलेगा, जब वह अपने केंद्र व्यवस्थापक से इस बात का प्रमाणपत्र देंगे कि उन्होंने परीक्षा में पूरी ड्यूटी दी है। बिना इसके उनको वेतन नहीं मिलेगा। परीक्षा अवधि में अनुपस्थित मानते हुए कार्रवाई की जाएगी। इसे लेकर डीआईओएस ने प्रधानाचार्यों को निर्देश जारी कर दिए है।
18 फरवरी से शुरू हो रही बोर्ड परीक्षा को लेकर जिले में 133 परीक्षा केंद्र बनाए गए है। इनमें करीब साढ़े चार हजार कक्ष निरीक्षकों की ड्यूटी लगाई गई है। लेकिन अधिकतर शिक्षक ड्यूटी कटवाने के प्रयास में लगे है। इससे बोर्ड परीक्षा बाधित हो सकती है। इस पर डीआईओएस ने परीक्षा को लेकर कड़े निर्देश जारी किए है, जिसके तहत कहा है कि इस परीक्षा में लगे कक्ष निरीक्षकों को 17 फरवरी से छह मार्च के मध्य वेतन तभी मिलेगा, जब वह परीक्षा में ड्यूटी करेंगे।
इसके लिए केंद्र व्यवस्थापकों से इस बात का प्रमाणपत्र लेंगे कि उन्होंने पूरी परीक्षा के दौरान 20 ड्यूटी पूरी की है। ड्यूटी का अनुपालन न करने वाले शिक्षकों के विरुद्ध वेतन रोकते हुए कड़ी कार्रवाई की जाएगी। कक्ष निरीक्षकों की कमी के मद्देनजर डीआईओएस ने प्रधानाचार्यों को निर्देश दिए है कि अगर कॉलेज के किसी शिक्षक की तैनाती नाम से नहीं की गई है तो उन शिक्षकों को संबंधित परीक्षा केंद्र के लिए कार्यमुक्त कर दें।
इसका अनुमोदन व परिचय पत्र डीआईओएस कार्यालय से बनवा लें। केंद्र व्यवस्थापकों को निर्देश दिए कि अगर कक्ष निरीक्षकों की कमी पूरी नहीं होती तो वह अपने बीईओ से संपर्क कर कक्ष निरीक्षकों की कमी पूरी कर लें।
... और पढ़ें

13 ट्रेनों के सफर में सुरक्षा की गारंटी नहीं

सीतापुर। ट्रेन का सफर अब जोखिम भरा हो गया है। ट्रेन में यात्री कब लूट, चोरी और छेड़खानी का शिकार हो जाए, यह कहना मुश्किल है। सीतापुर में प्लेटफॉर्म व यात्रियों की संख्या में इजाफा हुआ है, लेकिन सुरक्षा व्यवस्था ज्यों की त्यों हैं। यही वजह है कि अपराधी इसका फायदा उठाकर घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। बीते चार साल में 58 मुकदमे दर्ज हो चुके है।
15 फरवरी को सीतापुर जीआरपी ने खुद सुरक्षा व्यवस्था का हवाला देते हुए एक रिपोर्ट लखनऊ मुख्यालय को भेजी है। सूत्रों की माने तो रिपोर्ट में जिक्र किया गया है कि सीतापुर जंक्शन पर पूर्व में दो प्लेटफार्म थे, लेकिन अब बढ़कर तीन हो गए हैं। जिले से होकर 28 ट्रेनें गुजरती हैं।
रोजाना 8500 से लेकर 10 हजार यात्रियों का आवागमन होता है, लेकिन यात्रियों की सुरक्षा के लिए सिर्फ 15 ट्रेनों में ही स्कोर्ट चल रहा है, जबकि 13 ट्रेनें बिना स्कोर्ट के ही सैकड़ों यात्रियों को लेकर दौड़ रही हैं।
इन ट्रेनों में सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं है। ऐसे में मुसाफिर भगवान भरोसे ही सफर करने को मजबूर हैं। स्कोर्ट की तैनाती न होने से अपराधी बेखौफ हैं। उनके निशाने पर बिना स्कोर्ट वाली ट्रेनें हैं। रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र किया गया है कि जिन ट्रेनों में चोरी हुई हैं, उसमें स्कोर्ट नहीं लगता है।
बिना स्कोर्ट के चल रही ये ट्रेनें
चंपारण सत्याग्रह एक्सप्रेस, कर्मभूमि एक्सप्रेस, जनसाधारण एक्सप्रेस, आनंदबिहार, गोरखपुर एक्सप्रेस, सीतापुर सिटी से बालामऊ-कानपुर, बालामऊ से सीतापुर आने वाली पैसेंजर, गोंडा पैसेंजर, दरभंगा अमृतसर, मैलानी से लखनऊ को जाने वाली, लखनऊ से सीतापुर आने वाली ट्रेनों में स्कोर्ट नहीं है। सूत्रों की माने तो कुछ सालों में जिन ट्रेनों में चोरी की 40 वारदातें हुईं हैं, उसमें स्कोर्ट की व्यवस्था नहीं है। चोरी की वारदातें होने के बाद भी सुरक्षा के इंतजाम नहीं किए गए हैं।
इनमें है सुरक्षा व्यवस्था
मुख्यालय को भेजी गई रिपोर्ट में बताया गया कि मोरध्वज एक्सप्रेस मुजफ्फपुर से जम्मूतवी, जननायक एक्सप्रेस अमृतसर से सहरसा, जनसाधारण अमृतसर से गोरखपुर, जनसेवा सहरसा से अमृतसर, जनसेवा अमृतसर से सहरसा, गोंडा पैसेंजर, बुढ़वल पैसेंजर, जनसेवा एक्सप्रेस, जनसेवा एक्सप्रेस, सीतापुर-बुढ़वल पैसेंजर, जनसाधारण एक्सप्रेस, गोरखपुर एक्सप्रेस, सीतापुर एक्सप्रेस समेत 15 ट्रेनों में स्कोर्ट लगाया जा रहा है।
जीआरपी थाने दर्ज वारदातें
वर्ष मुकदमे
2016 12
2017 15
2018 16
2019 15
वारदात ने उड़ाए थे जीआरपी के होश
2017 में बिहार के रहने वाले इद्दू ने सीतापुर से ट्रेन के गुजरने के दौरान चलती ट्रेन से एक-एक कर अपनी बेटियों को नीचे फेंक दिया था, उसमें से एक बच्ची की मौत हो गई थी। इस वारदात ने जीआरपी के होश उड़ा दिए थे। इस ट्रेन में भी स्कोर्ट नहीं था। सूत्रों की माने तो पिछले वर्ष बिसवां रेलवे स्टेशन पर युवती के साथ दुष्कर्म की कोशिश हुई थी, लेकिन जीआरपी ने छेड़खानी में केस दर्ज कर लिया था।
मेन पावर की आ रही कमी
सीतापुर जीआरपी में एक इंस्पेक्टर, तीन एसआई, 10 हेड कांस्टेबल, 45 सिपाहियों का मानक है। एसओ की माने तो मानक पूरे हैं, लेकिन विभागीय काम की वजह से मैन पावर की कमी कहीं न कहीं सुरक्षा में आड़े आ रही है। दो सिपाही पुलिस लाइंस, कोई कोर्ट से बाहर और चार लोगों की ड्यूटी गैर जिले में लगी है।
... और पढ़ें

21 वर्षों से लटका खेतिहर जमीन की नापजोख का विवाद

रामपुर मथुरा (सीतापुर)। गांजरी इलाके में घाघरा नदी के कटान से समाहित हो रही जमीन का विवाद पिछले 21 वर्षों से लटका पड़ा है। तीन जिलों की सीमा विवाद के कारण जमीन की नापजोख नहीं हो पा रही है। इससे पांच ग्राम पंचायत के करीब 500 किसानों की पांच हजार बीघा जमीन पर दबंग कब्जा किए हुए है। यह दबंग ही फसल बोते है और उसे काट ले जाते है।
जिन किसानों की जमीन है वह राजस्व परिषद से लेकर जिलाधिकारी व उन्नाव तक की भागदौड़ कर रहे है, लेकिन उनको जमीन का मालिकाना हक नहीं मिल पा रहा है। जब किसान अधिक उग्र होते है तो नाप शुरू होती है, लेकिन सीमा विवाद के कारण यह फिर रुक जाती है। इससे किसान परेशान है। वह जमीन पर कब्जा पाने के लिए अधिकारियों के चक्कर लगा रहे है।
जिले के अधिकारी इसे नापजोख प्रक्रिया उन्नाव जिले से संचालित होने की बात कहकर पल्ला झाड़ लेते है। रामपुर मथुरा विकासखंड में बहने वाली घाघरा नदी के भीषण कटान में अब तक चार ग्राम पंचायतों शुकुलपुरवा, अंगरौरा, कनरखी व अटौरा गांव की हजारों एकड़ भूमि समा चुकी है। प्रत्येक वर्ष नदी अपनी धारा व स्थान बदलती रहती है। कभी सैकड़ों एकड़ भूमि एक तरफ तो कभी दूसरी ओर छूटती रहती है।
यह नदी तीन जनपदों सीतापुर, बाराबंकी व बहराइच की सीमाओं को मिलाते हुए बहती है। इसलिए जो जमीन छूटती है उस पर भू-माफिया द्वारा अवैध कब्जा करने का खेल शुरू हो जाता है। कब्जा करने में कभी कभी खूनी संघर्ष भी हो जाता है। इस विवाद को निपटाने के लिए करीब 21 वर्ष पहले राजस्व परिषद ने रिकार्ड ऑपरेशन शुरू किया था। इसमें तीन जिलों का सीमा विवाद निपटाया जाना था।
इसके लिए एक एआरओ की तैनाती की गई थी। तीन लेखपाल को जमीन की नापजोख करने की जिम्मेदारी दी गई थी। यह एआरओ व लेखपाल उन्नाव जिले में बैठते है। पीड़ित किसानों का कहना है कि कई बार लेखपाल आए, लेकिन वह जमीन की नापजोख नहीं कर सके है। जब क्षेत्रीय लेखपाल जाते है तो वह भी इन लेखपालों से ही मिलते है।
कभी दूसरे जिले से नापजोख होती है तो वह सीतापुर जिले के अंदर तक पहुंच जाते है। इससे इस जमीन का विवाद निपट नहीं पा रहा है। इसी का फायदा उठाकर भू माफिया जमीन पर कब्जा कर लेते है। वह प्रतिवर्ष फसल बोते है और उसे काटकर मुनाफा काम लेते है। इस अवैध कब्जेदारी को लेकर कई बार जानलेवा संघर्ष भी हो चुके है।
करीब तीन वर्ष पूर्व अरहर की फसल काटने को लेकर गोलियां चल चुकी है। वास्तविक भूमिधर किसान कमजोर और गरीब होने के कारण अपनी खतौनी लिए लेखपालों की परिक्रमा करते करते हार थक कर चुप बैठ गए है। सर्वे में तैनात लेखपाल कानूनगो से क्षेत्रीय भूमाफिया की अच्छी पकड़ है। यह भूमाफिया इतने दबंग किस्म के है कि एक बार जमीन पर कब्जा हो जाने के बाद प्रशासन को इस जमीन को मुक्त कराने में हाथ पांव फूल रहे है।
पुलिस और राजस्व प्रशासन की अनदेखी के कारण वास्तविक किसान इन गांवों से पलायन कर मजदूरी करके जीवन यापन करने को विवश है। इससे चार ग्राम पंचायत के करीब 40 गांवों के 500 किसान प्रभावित है। इनकी करीब पांच हजार बीघा जमीन विवाद में फंसी हुई है।
थक चुके किसान
किसान दीपक तिवारी व राजकिशोर का कहना है कि हमारी जमीन कटान में चली गई थी। इस जमीन को वापस लेने के लिए अफसरों को शिकायत करते-करते थक चुके है। लेकिन आज तक समस्या का निराकरण नहीं हो सका है।
दबंग बराबर खेती कर रहे है। उमाशंकर, विजय बहादुर व लालमणि का कहना है कि एआरओ व तीन लेखपाल की मिलीभगत से यह हो रहा है। जिलाधिकारी को इसमें हस्तक्षेप करके किसानों को जमीन दिलानी चाहिए। हर बरस यही विवाद उत्पन्न हो जाता है। जिले की सीमा विवाद का लाभ भू माफिया उठाते है।
... और पढ़ें

बिना पहिये के घिसटती रही स्कूली वैन, बाल-बाल बचे बच्चे

सीतापुर। स्कूली बच्चों से भरी एक जर्जर वैन मंगलवार को हादसे का शिकार हो गई। अचानक पहिया निकलने से वैन काफी दूर तक रिम के सहारे दौड़ती रही। अच्छी बात रही कि हादसे में बच्चे बाल-बाल बच गए। इस लापरवाही की शिकायत अभिभावकों ने कोतवाली पुलिस से की है।
शहर के एक प्रतिष्ठित स्कूल के बच्चे मंगलवार दोपहर वैन पर सवार होकर विद्यालय से घर जा रहे थे। जब वैन हरदोई चुंगी के करीब पहुंची, तभी अचानक जर्जर वैन का पिछला एक पहिया निकल गया। पहिया निकलने से वैन कई मीटर तक रिम पर ही घिसटती रही।
भीड़ की वजह से वैन की गति धीमी थी। वैन चालक ने कुछ दूर बाद वाहन को किनारे रोक दिया। घटना से अफरातफरी मच गई। वैन में सवार करीब 12 बच्चे सहम गए। लोगों के मुताबिक वैन के पिछले पहिये के नेट बोल्ट निकल गए थे। इससे उसका पहिया निकल गया।
सूचना मिलने पर अभिभावक बच्चों को लेकर गए। अभिभावकों ने लापरवाही की शिकायत पुलिस से की है। कोतवाल अंबर सिंह का कहना है कि यह मामला अभी संज्ञान में नहीं है। हो सकता है मंडी पुलिस चौकी पर शिकायत की गई हो, मामले की जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें
हरदोई चुंगी के पास पहिया निकलने के बाद खड़ी वैन। हरदोई चुंगी के पास पहिया निकलने के बाद खड़ी वैन।

बजट : 44 हजार युवाओं को बेहतर भविष्य की उम्मीद

सीतापुर। योगी सरकार के बजट से जिले के करीब 44 हजार बेरोजगार युवाओं को बेहतर भविष्य की उम्मीद जगी है। इससे युवाओं के चेहरे खिल उठे हैं। यह उम्मीद मुख्यमंत्री शिक्षुता प्रोत्साहन योजना और युवा उद्यमिता विकास अभियान संचालित करने के ऐलान ने जगाई है। मंगलवार को योगी आदित्यनाथ सरकार ने अपना चौथा बजट पेश किया। बजट में युवाओं, किसानों, तलाकशुदा महिलाओं के लिए सरकार ने बजट का प्रावधान किया है।
युवाओं के लिए प्रदेश सरकार ने बजट में दो नई योजनाएं मुख्यमंत्री शिक्षुता प्रोत्साहन योजना और युवा उद्यमिता विकास अभियान संचालित करने का ऐलान किया है। युवाओं को उद्योगों व एमएसएमई इकाइयों में ऑन जॉब ट्रेनिंग प्रदान कराते हुए उन्हें निश्चित अवधि के रोजगार से जोड़ने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री शिक्षुता प्रोत्साहन योजना की शुरुआत वित्तीय वर्ष 2020-21 से करने की घोषणा हुई है।
इसमें युवाओं को उद्योगों में प्रशिक्षण के साथ मासिक प्रशिक्षण भत्ता प्रदान किया जाएगा। भत्ते में 1 हजार 500 रुपये केन्द्र व 1 हजार राज्य सरकार तथा शेष धनराशि संबंधित उद्योग द्वारा वहन की जाएगी। इस योजना के लिए 100 करोड़ रुपये की व्यवस्था प्रस्तावित है। जिला सेवायोजन कार्यालय में 44 हजार 400 युवा पंजीकृत है। बजट में घोषणा के बाद इनके स्वावलंबी बनने की उम्मीद जगी है।
युवा उद्यमिता विकास अभियान द्वारा प्रशिक्षित युवाओं को स्वावलंबन की ओर बढ़ाने की कवायद होगी। इसके तहत प्रत्येक जिले में युवा हब स्थापित किया जाएगा। इच्छुक युवाओं को परियोजना, परिकल्पना से लेकर एक वर्ष तक वित्तीय मदद के साथ संचालन में सहायता दी जाएगी। सरकार ने इसके लिए 1 हजार 200 करोड़, जबकि युवा हब स्थापना के लिए 50 करोड़ रुपये की व्यवस्था प्रस्तावित की है।
... और पढ़ें

यूपी बोर्ड परीक्षा : 20 कॉलेजों में बंद रहे सीसीटीवी कैमरे

सीतापुर। यूपी बोर्ड परीक्षा के पहले दिन अव्यवस्था हावी रही। 20 कॉलेजों के कैमरे बंद रहे। इससे यहां ऑनलाइन निगरानी नहीं हो सकी। कई कॉलेजों में सीसीटीवी कैमरे दुरुस्त रहे पर इंटरनेट की स्पीड कम होने से सही से निगरानी नहीं हो सकी। जिन कॉलेजों में कैमरे बंद मिले, वहां कंट्रोल रूम के जरिए ऑफलाइन से ऑनलाइन करने का संदेश भेजा गया। सचल दलों ने 133 परीक्षा केंद्रों का भ्रमण किया।
मंगलवार से 10वीं व 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं 133 परीक्षा केंद्रों पर शुरू हुई। इसके लिए डीआईओएस ऑफिस में मॉनीटरिंग सेल बनाया गया था। इस सेल के जरिए ऑनलाइन मॉनीटरिंग की गई। लेकिन पहले दिन ऑनलाइन मॉनीटरिंग में व्यवधान उत्पन्न हुआ। मॉनीटरिंग सेल के मुताबिक, करीब 20 कॉलेजों के कैमरे ऑफलाइन मिले। इससे यहां की हकीकत देखी नहीं जा सकी।
इनको ऑनलाइन करने के लिए केंद्र व्यवस्थापकों को तत्काल निर्देशित किया गया। अन्य कॉलेजों के कैमरे चलते मिले, लेकिन इंटरनेट की स्पीड बार-बार इनकी मॉनीटरिंग में रोड़ा उत्पन्न करती रही। सात सचल दलों ने परीक्षा केंद्रों का औचक भ्रमण किया। कोई भी विद्यार्थी अनुचित साधनों का प्रयोग करते हुए नहीं मिला। मॉनीटरिंग सेल प्रभारी/अतिरिक्त मजिस्ट्रेट शिशिर कुमार परीक्षा के दौरान मॉनीटरिंग सेल में मौजूद रहे।
कंट्रोल रूम से केंद्रों की निगरानी
मॉनीटरिंग सेल में छह एलसीडी लगाई गई हैं। प्रत्येक एलसीडी पर एक कंप्यूटर ऑपरेटर की तैनाती है। एक कॉलेज में 16 कमरे ऑनलाइन प्रदर्शित हो रहे है। एक कंप्यूटर ऑपरेटर को 30 कॉलेज की ऑनलाइन मॉनीटरिंग का जिम्मा सौंपा गया है। प्रत्येक कंप्यूटर ऑपरेटर हर पांच मिनट पर कॉलेज की हकीकत देखता फिर अपने रजिस्टर पर वहां मिली कर्मियों को दर्ज करता।
आपस में बात करते मिले परीक्षार्थी
जनता उच्चतर माध्यमिक विद्यालय रामपुर कलां का जब ऑनलाइन निरीक्षण किया गया तो वहां पर दो कैमरे की तस्वीर धुंधले दिखी। वहां पर विद्यार्थी दिखाई नहीं दे रहे थे। जनता इंटर कॉलेज किशोरगंज के कैमरे ऑफलाइन मिले। इसके अलावा किसान इंटर कॉलेज बड़ागांव व राजकीय बालिका इंटर कॉलेज नेरी की ऑनलाइन मॉनीटरिंग हुई तो इनके भी कैमरे ऑफलाइन मिले। एक परीक्षा केंद्र पर कक्ष निरीक्षक बाहर टहल रहे थे तो दूसरे केंद्र पर बच्चे आपस में बात कर रहे थे।
... और पढ़ें

जिला अस्पताल में डायलिसिस व वेंटीलेटर की मिल सकती सुविधा

सीतापुर। प्रदेश सरकार के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना द्वारा मंगलवार को सदन में पेश बजट से जिले की स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर होने की उम्मीद जगी है। जिला अस्पताल में सुविधाएं बेहतर होंगी। डायलिसिस और वेंटीलेटर की व्यवस्था होने की उम्मीद बढ़ी है। ग्रामीण अस्पतालों का भी कायाकल्प होगा। सीएचसी-पीएचसी पर मरीजों की सहूलियत के लिए एक्स-रे मशीनें लगवाई जाएंगी। बेड के बढ़ने के साथ ही मरीजों का इलाज भी बेहतर होगा।
जिले के ग्रामीण इलाकों मेें चिकित्सा सुविधाएं बेहतर करने के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों के भवनों का कायाकल्प करने के साथ उपकरण भी बढ़ाए जाएंगे। सीएचसी को उच्चीकृत कर बेडों को बढ़ाया जाएगा, इससे मरीजों को बेडों के अभाव में इलाज कराने के लिए समस्या नहीं होगी। जिला अस्पताल, महिला अस्पताल पर भी फोकस किया गया है। यहां जो भी काम अधूरे पड़े है, उसे पूरा किया जाएगा।
सुविधाएं बढ़ाकर मरीजों को इसका लाभ मिलेगा। मातृत्व वंदना के लिए सरकार ने 291 करोड़ का बजट जारी किया है, इससे उम्मीद है कि जिले की महिलाओं को भी फायदा होगा। असाध्य रोगों के इलाज पर भी फोकस है। ऐसे मरीजों के फ्री इलाज के लिए सरकार ने 40 करोड़ का बजट दिया है, इससे जिले के मरीजों को भी फायदा मिलेगा।
सरकार ने जिला अस्पतालों को उच्चीकृत करने के लिए 73 करोड़ 86 लाख रुपये जारी किए हैं। माना जा रहा है कि करीब एक करोड़ का बजट जिला अस्पताल को मिलेगा, इससे सुविधाएं दुरुस्त की जाएंगी।
किडनी के रोगियों को मिलेगी सहूलियत
जिला अस्पताल में लंबे अर्से से डायलिसिस और वेंटीलेटर की व्यवस्था होने की बात कही जा रही है। इसका प्रस्ताव सरकार को पहले ही भेजा जा चुका है। डायलिसिस मशीन लगने से किडनी के रोगियों को जिले के इकलौते बीसीएम अस्पताल या फिर लखनऊ की दौड़ नहीं लगानी पड़ेगी।
इससे समय के साथ खर्च भी बचेगा। डायलिसिस के लिए अस्पताल के पीछे पानी की टंकी के पास जगह चिन्हित कर ली गई है। इसी तरह वेंटीलेटर की व्यवस्था होने से गंभीर मरीजों की जान बचाई जा सकेगी।
बंद पड़े ट्रॉमा को मिल सकता स्टाफ : सीएमओ
सीएमओ डॉ. आलोक वर्मा ने बताया कि बजट से जिले की स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर करने का प्रयास किया जाएगा। जिला अस्पताल, महिला अस्पताल में जो भी सुविधाएं नहीं है, काम अधूरे पड़े हैं, वे पूरे किए जाएंगे। जिला अस्पताल में डायलिसिस और वेंटीलेटर का प्रस्ताव शासन को भेजा जा चुका है।
बजट में दोनों सुविधाएं जिले को मिल सकती है। ग्रामीण अस्पतालों का भी कायाकल्प होगा। भवन उच्चीकृत होंगे। सीएचसी में एक्स-रे मशीनें लग सकती है, इससे मरीजों को जिला अस्पताल की दौड़ नहीं लगानी पड़ेगी। बंद पड़े ट्रॉमा सेंटर को भी स्टाफ मिल सकता है, इससे ट्रॉमा चालू हो सकता है।
30 तलाकशुदा महिलाओं को मिलेगी पेंशन
बजट में तलाक शुदा महिलाओं को पेंशन का प्रावधान किया गया है। इससे इन महिलाओं के भरण-पोषण की व्यवस्था हो सकेगी। अभी तक ऐसा कोई प्रावधान नहीं था, जिससे इन महिलाओं का पेंशन दी जा सके।
शासन को अल्पसंख्यक कल्याण विभाग ने तीस महिलाओं की सूची भेजी हैं, जो तलाकशुदा हैं। जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी कृष्ण मुरारी ने बताया कि जिले की 30 तलाकशुदा महिलाओं का विवरण निर्देशानुसार भेजा जा चुका है।
... और पढ़ें

बेकाबू बाइक खड्ड में गिरी, दो छात्रों की मौत

इमलिया सुल्तानपुर (सीतापुर)। इंटरमीडिएट की परीक्षा देने जा रहे बाइक सवार तीन छात्र अचानक अनियंत्रित होकर खड्ड में जा गिरे। हादसे में दो छात्रों की मौत हो गई। तीसरा छात्र जख्मी है। उसका जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है।
लखीमपुर खीरी जिले के मितौली थाना क्षेत्र के खंतादेसू गांव निवासी छात्र नीरज (17) पुत्र गुरु प्रसाद, चंद्रपुरवा निवासी पुनीत (16) पुत्र पप्पू व इसी क्षेत्र के पचदेवरा गांव निवासी दीपक (16) पुत्र रामकुमार की इंटरमीडिएट की परीक्षा चल रही है।
तीनों छात्र बाइक से परीक्षा देने के लिए जिले के इमलिया सुल्तानपुर थाना क्षेत्र के काजी कमलापुर स्थित स्कूल जा रहे थे। जब ये इमलिया सुल्तानपुर इलाके में सीतापुर-गोला मार्ग पर नव्वा अंबरपुर के करीब पहुंचे, तभी अचानक बाइक अनियंत्रित हो गई और सड़क किनारे गहरे खड्ड में जा गिरी।
हादसे में छात्र नीरज की मौके पर मौत हो गई, जबकि पुनीत व दीपक गंभीर रूप से जख्मी हो गए। पुलिस ने जख्मी दोनों छात्रों को निजी वाहन से जिला अस्पताल भेजा।
जिला अस्पताल में पुनीत की भी मौत हो गई, जबकि दीपक का इलाज चल रहा है। खबर पाकर पुलिस ने मौके पर पहुंच जांच की। मृतक के परिवारीजन को भी सूचना दी गई। एसओ मनोज कुमार यादव का कहना है कि मामले में केस दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है।
... और पढ़ें

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की तैयारियां शुरू

सीतापुर। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की तैयारियां शुरू हो गई हैं। मतदाता सूचियों के पुनरीक्षण के लिए अभियान चलेगा। इसके जरिए मतदाता सूचियों को अपडेट किया जाएगा। संबंधित कार्मिकों का विवरण वेब पेज पर फीड करने के निर्देश का पालन नहीं किया गया है। इसके लिए संबंधित विभागों से बीएलओ व सुपरवाइजर की सूची भेजने के निर्देश दिए गए हैं। बीएलओ एप को लांच किए जाने संबंधी कार्रवाई की जानी है। इस कार्य में जिम्मेदार लापरवाही बरत रहे हैं।
मतदाता सूचियों के वृहद पुनरीक्षण के कार्य के लिए नियुक्त होने वाले बीएनओ के मोबाइल एप लांच किए जाने के संबंध में राज्य निर्वाचन आयोग ने निर्देश दिए हैं। पुनरीक्षण संबंधी समस्त कार्य समय से कराया जाना है। मोबाइल एप के संचालन के लिए तकनीकी निर्देश भी दिए गए हैं। मतदाता सूचियों के पुनरीक्षण के लिए विभिन्न विभागों में कार्यरत कार्मिकों का विवरण निर्धारित प्रारूप पर आयोग के साफ्टवेयर/वेजपेज फीड कराए जाने के निर्देश एडीएम ने पूर्व मेें दिया था।
बावजूद इसके आयोग की वेबसाइड पर पुनरीक्षण के लिए बीएलओ एवं सुपरवाइजर के रूप में नियुक्त होने वाले कार्मिकों के विवरण फीड किए जाने की कार्रवाई प्रारम्भ नहीं की गई है। आयोग ने इस गंभीरता से लिया है। कार्य तत्काल प्रारम्भ कराकर पूर्ण कराए जाने के निर्देश दिए गए हैं।
एडीएम विनय कुमार पाठक ने सभी एसडीएम एवं बीडीओ को निर्देश दिए हैं कि वह मतदाता सूचियों के वृहद पुनरीक्षण का कार्य कराए जाने के लिए कार्यरत कार्मिकों का विवरण आयोग के साफ्टवेयर/ वेबपेज में फीड कराए जाने संबंधी कार्य तत्काल पूर्ण कराकर नियुक्त किए गए बीएलओ एवं पर्यवेक्षकों की सूची उपलब्ध कराएं।
... और पढ़ें

ऐशबाग-सीतापुर ट्रेन पर जल्द दौड़ेगी इलेक्ट्रिक ट्रेन

सीतापुर। अब वे दिन दूर नहीं, जब जिले के लोग इलेक्ट्रिक ट्रेन पर सवार होकर राजधानी का सफर करने लगेंगे। ऐशबाग से सीतापुर तक इलेक्ट्रिक रेल ट्रैक बनकर तैयार हो चुका है। लोगों को इंतजार ट्रेन चलने का है, लेकिन अब जल्द ही ये इंतजार पूरा होने वाला है। 25 फरवरी को रेलवे संरक्षा आयुक्त का सीआरएस की तारीख फाइनल हो गई है। निरीक्षण के बाद ट्रेन चलाने की तारीख पर भी मुहर लग जाएगी।
लखनऊ-सीतापुर रेल लाइन पर अमान परिवर्तन के बाद इस ट्रैैक पर रेलवे ने ट्रेनों को दौड़ा दिया था, फिर इस रूट पर विद्युतीकरण कराने का फैसला लिया गया। करीब दस माह में आरबीएनएल ने तेजी से काम कर ऐशबाग से सीतापुर तक इलेक्ट्रिक ट्रैक बनाकर तैयार कर दिया है। 14 जनवरी को 90 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से इस रूट पर इलेक्ट्रिक इंजन दौैड़ाया जा चुका है, जिसका ट्रॉयल भी सफल रहा।
पहले 10 फरवरी को सीआरएस होने की मौखिक बात कही जा रही थी, लेकिन किन्हीं कारणों से निरीक्षण नहीं हो सका था, लेकिन अब सीआरएस होने की तारीख तय हो गई है। आरवीएनएल के अभियंता अभय झा के मुताबिक 25 फरवरी को रेलवे संरक्षा आयुक्त ट्रैक का सीआरएस करेंगे। निरीक्षण के लिए ये तारीख तय कर दी गई है। सरंक्षा आयुक्त के निरीक्षण के बाद रेलवे इस रूट पर इलेक्ट्रिक ट्रेन चलाने की तारीख की भी घोषणा जल्द ही कर सकता है।
प्रबंधक, रेल विकास निगम लिमिटेड, लखनऊ, जेएन मिश्र ने बताया कि ऐशबाग से सीतापुर तक इलेक्ट्रिक ट्रैक बनकर तैयार हो चुका है। ट्रॉयल भी सफल रहा है। सीआरएस की तारीख फाइनल हो गई है। 25 फरवरी को रेलवे संरक्षा आयुक्त निरीक्षण करेंगे। इसके बाद ही ट्रेन दौड़ाने की तारीख तय हो सकेगी।
... और पढ़ें

सात साल की मासूम संग फूफा ने किया दुष्कर्म, केस दर्ज

मानपुर (सीतापुर)। थाना क्षेत्र के एक गांव में घर के अहाते में शौच करने गई मासूम बच्ची संग उसके रिश्तेदार ने ही दुष्कर्म किया। बालिका के चीखने पर जब लोग दौड़े तो आरोपी भाग निकला। घटना के बाद पीड़िता की मां ने मानपुर थाने पहुंच कर सूचना दी। पुलिस ने जांच पड़ताल कर संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है।
मानपुर थाना क्षेत्र के एक गांव की सात साल की मासूम बच्ची सोमवार को अपने घर के पड़ोस में ही स्थित अहाते में शौच करने गई थी। वहां उसका एक रिश्तेदार पहुंच गया। उसने मासूम संग दुष्कर्म किया। बालिका की चीखने-चिल्लाने पर लोग दौड़े तो आरोपी भाग निकला। जिसके बाद पीड़िता की मां बच्ची को लेकर थाने गई।
आरोप है कि बालिका संग उसी के रिश्ते के फूफा राजेंद्र प्रसाद ने घटना अंजाम दी है। बालिका की मां ने आरोपी राजेंद्र के खिलाफ तहरीर दी है। पुलिस ने तहरीर के आधार पर केस दर्ज कर लिया है। इंस्पेक्टर पुष्पराज कुशवाहा का कहना है कि सात साल की बच्ची संग उसी के रिश्ते के फूफा राजेंद्र ने दुष्कर्म किया है। बालिका की मां की तहरीर पर आरोपी के खिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। आरोपी की तलाश की जा रही है। जल्द ही उसे पकड़ा जाएगा।
... और पढ़ें

बीडीओ कसमंडा ने याचिका समिति को प्रस्तुत की झूठी आख्या

सीतापुर विधान सभा की याचिका समिति में दर्ज कराए गए संदर्भ के निस्तारण के लिए बीडीओ कसमंडा ने झूठी आख्या भेजी है। यह आरोप शिकायतकर्ता ने लगाते हुए साक्ष्य सहित प्रकरण ग्राम्य विकास मंत्री को प्रस्तुत किया। उन्होंने शासन को जांच कराने के आदेश दिए। जिसके आधार पर डीएम को मामले की किसी उच्च अफसर से जांच कराकर रिपोर्ट भेजने के लिए पत्र भेजा गया है। यदि आरोप सही पाए गए तो बीडीओ के विरुद्ध कार्रवाई हो सकती है।
प्रकरण विकास खंड कसमंडा की ग्राम पंचायत बम्हेरा से संबंधित है। बीते माह यहां के निवासी गिरजा शंकर पांडेय ने ग्राम्य विकास मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह को शिकायती पत्र दिया। इसके आधार पर ग्राम्य विकास मंत्री ने प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास को पत्र भेजा। जिसमें पत्र का उल्लेख करते हुए कहा गया है कि विधान सभा की याचिका समिति के समक्ष याचिका के विचारण पर स्थलीय आख्या के अपेक्षा की गई थी।
बीडीओ कसमंडा शोभनाथ चौरसिया द्वारा तथ्य के विपरीत आख्या भेजकर जहां सदन की समिति को गुमराह किया गया है। वहीं जनहित कार्य को भी कराए जाने में रुचि नहीं ली गई है। लगाए गए आरोप अत्यंत गंभीर है। किसी उच्च अधिकारी से स्थल/आख्या का सत्यापन करा लें। यदि आरोप सत्य हैं तो उनके विरुद्ध कार्यवाही के लिए पत्रावली प्रस्तुत करें।
इस संबंध में अपर आयुक्त प्रशासन अशोक कुमार ने शासन के निर्देश पर डीएम को शिकायती पत्र सहित सभी निर्देशों को भेजते हुए कहा है कि स्थलीय जांच/सत्यापन किसी उच्च अधिकारी से कराकर नियमानुसार आवश्यक कार्यवाही की आख्या शासन एवं आयुक्त दफ्तर को तत्काल उपलब्ध कराएं।
... और पढ़ें

प्रमुख के दो पदों के लिए दाखिल हुए चार नामांकन

सीतापुर। जिले के दो ब्लॉक में रिक्त प्रमुख पद के उप चुनाव के लिए सोमवार को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के मध्य पर्चे दाखिल हुए। प्रमुख लहरपुर के लिए मात्र एक पर्चा भरा गया। जबकि हरगांव के प्रमुख पद के लिए तीन नामांकन पत्र दाखिल हुए। सभी पर्चे जांच में सही पाए गए। 18 फरवरी को पर्चे वापस लिए जा सकते हैं। 19 फरवरी को मतदान होगा व इसके बाद मतगणना कर परिणाम की घोषणा होनी है।
विकास खंड लहरपुर एवं हरगांव के रिक्त प्रमुख पद के लिए सोमवार को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के मध्य काफी गहमा गहमी माहौल में नामांकन प्रक्रिया सम्पन्न हुई। लहरपुर ब्लॉक के प्रमुख पद के लिए मात्र एक पर्चा परमेश्वर भार्गव पुत्र चेतराम ने दाखिल किया।
हरगांव ब्लॉक के प्रमुख पद के उप चुनाव के लिए पप्पी गुप्ता पत्नी कृष्ण बिहारी गुप्ता, माला वर्मा पत्नी दिलीप कुमार एवं सीता पत्नी कमलेश कुमार ने पर्चा भरा। एआरओ की जांच में सभी चार पर्चे सही पाए गए। इस प्रकार लहरपुर में प्रमुख का उप चुनाव निर्विरोध हुआ। मात्र इसकी घोषणा की जानी है। जबकि हरगांव में तीन प्रत्याशी हैं। 18 फरवरी को नामांकन वापस लिए जा सकते हैं। हरगांव प्रमुख के लिए इसी दिन स्थिति स्पष्ट होगी। 19 फरवरी को मतदान व मतगणना होनी है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us