विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

यूपी में मंगलवार को मिले 24 नए मरीज, अब तक हो चुके हैं 332 संक्रमित

कोरोना वायरस का कहर देशभर में लगातार बढ़ता ही जा रहा है। वहीं, यूपी भी इसकी चपेट में आने वाले लोगों की संख्या में लगातार इजाफा होता जा रहा है।

8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

सोनभद्र

बुधवार, 8 अप्रैल 2020

एक वेंटिलेटर से पांच रोगी होंगे वेंटिलेट

शक्तिनगर। आवश्यकता ही आविष्कार की जननी होती है। आज जब देश वैश्विक महामारी कोविड-19 के चपेट में है, तब चिकित्सा से जुड़े उपकरणों की उपलब्धता पूरे राष्ट्र के लिए एक प्रमुख चुनौती बन चुकी है। इस आपदा की परिस्थिति में नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड, सिंगरौली के प्रमुख अस्पताल नेहरू शताब्दी चिकित्सालय (एनएससी) के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. पंकज कुमार का एक वेंटीलेटर के अधिकतम उपयोग को लेकर आया चिकित्सकीय नवाचार क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है। डॉ. पंकज कुमार ने एक वेंटिलेटर से एक साथ पांच रोगियों को वेंटिलेट करने की प्रक्रिया का प्रदर्शन किया।
एनएससी द्वारा जारी विडिओ क्लिप में इस सेशोधित वेंटिलेटर की कार्य-प्रणाली दिख रही है जिसके तहत इनहेलेशन और एक्सहेलेशन पोर्ट दो अलग-अलग तांबे की नलियों से जुड़ा है जिसमें पांच निकास बिंदु हैं। प्रत्येक रोगी का इनहेलेशन पोर्ट, कॉपर इनहेलेशन असेंबली से जुड़ा है जो वेंटिलेटर के इनहेलेशन पोर्ट से जुड़ता है। इसी प्रकार प्रत्येक रोगी की एक्सहेलेशन ट्यूब वेंटिलेटर के एक्सहेलेशन पोर्ट से जुड़ी है। यहीं पर वायरल / बैक्टीरियल फ़िल्टर भी जुड़ा हुआ है।
वेंटिलेटर को बैरोट्रामा और वॉल्यूमट्रामा से बचाने के उद्देश्य से दबाव नियंत्रण मोड में सेट किया गया है जो रोगी की व्यक्तिगत आवश्यकता के अनुसार कार्य करेगा। वेंटिलेटर प्रणाली के इस संशोधित स्वरूप से आपदा की स्थिति में कई कीमती जीवन बचाया जा सकते हैं। साथ ही कोरोना वायरस जनित महामारी के आलोक में किसी भी आपात कालीन व्यवस्था से निपटने में व वेंटिलेटर की अत्यधिक कमी को देखते हुए यह आपातकालीन व्यवस्था बेहद कारगर साबित हो सकती है।
... और पढ़ें

2500 जरूरतमंदों तक घर राशन पहुंचाएगी एनसीएल

शक्तिनगर। कोरोना वायरस जनित विश्व व्यापी समस्या और लाकडाउन जैसी अप्रत्याशित परिस्थिति में भारत सरकार की मिनी रत्न कंपनी नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (एनसीएल) जिला प्रशासन को हर मुमकिन सहयोग कर रही है, जिससे की समाज के अंतिम आदमी तक जरूरी सामानों की उपलब्धता सुनिश्चित किया जा सके द्य इसी कड़ी में एक अभिनव प्रयास के तहत एनसीएल ने सीएसआर के तहत रविवार से सोनभद्र जिले के 2500 परिवारों को उनके घरों पर राशन पहुँचाने की प्रक्रिया चालू की है।
जिला प्रशासन सोनभद्र द्वारा चिन्हित 2500 परिवारों को एनसीएल राशन किट दे रही है जिसमें पांच किलो चावल, पांच किलो आटा, एक किलो दाल, एक किलो नमक , आधा लीटर तेल , दो किलो आलू ,एक किलो प्याज ,50 ग्राम हल्दी और 50 ग्राम मसाला इत्यादि शामिल हैंद्य लगभग 19 लाख की लागत के राशन किट को सोनभद्र के चोपन, बभनी, रॉबर्ट्सगंज, नगवा, घोरावल व चतरा ब्लॉकों के जरूरतमन्द परिवारों के चौखट तक पहुँचाने का बीड़ा एनसीएल ने उठाया है।
एनसीएल ने 200 आइसोलेसन बेड की व्यवस्था, आस-पास के क्षेत्रों में व्यापक सेनीटाइजेसन, 62000 से अधिक फ़ेस कवर व मास्क की व्यवस्था की है। गौरतलब है कि एनसीएल प्रबंधन ने अपने आसपास के गांवों एवं अन्य को कोरोना से बचाव एवं इससे जुड़े अन्य समस्यों से फौरी राहत देने के लिए 3 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है।
... और पढ़ें

ड्रोन कैमरे में कैद हुई घूमने वालों की तस्वीर

सोनभद्र। राबट्र्सगंज समेत कई इलाकों में ड्रोन कैमरे से लाक डाउन तोडने वालों पर पैनी नजर रखी जा रही है। रविवार को ड्रोन कैमरे ने सड़कों पर घूम रहे कइयों की तस्वीर कैद कर लिया। पुलिस ने कैमरे से टहल रहे लोगों के फोटो की शिनाख्त करने में जुट गई है। एसपी आशीष श्रीवास्तव ने मातहतों को बगैर काम के घरों से बाहर निकलने वालों के खिलाफ केस दर्ज करने का निर्देश दिया है।
कोरोना वायरस के चलते जिले को लॉकडाउन कर दिया गया है। लोगों को घरों से न निकलने की अपील की जा रही है। क्योंकि छूआछूत से कोरोना पांव पसारने का खतरा बना हुआ है। लेकिन रोक के बावजूद कुछ लोग घरों के बाहर घूमने से बाज नहीं आ रहे। हालांकि पुलिस प्रशासन ने ड्रोन कैमरे से लॉकडाउन का पालन न करने वालों को चिन्हित कर उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है। पिछले 24 घंटे के दौरान ड्रोन कैमरे ने राबर्ट्र्सगंज नगर और आसपास के गांवों में घरों के बाहर सड़कों पर आ जा रहे कइयों की फोटो ली है।
रविवार को भी ड्रोन कैमरे से निगरानी की जा रही थी। राबर्ट्र्सगंज में एडीएम योगेंद्र बहादुर सिंह, एएसपी ओपी सिंह, सीओ राजकुमार तिवारी और कोतवाल मिथिलेश मिश्रा अलग-अलग भ्रमण कर लॉकडाउन का जायज लिया। पुलिस प्रशासन ने कैमरे में कैद तस्वीरों की जांच पड़ताल शुरू कर दी है। पुलिस यह पता लगा रही है कि सड़कों पर घूमने वाले व्यक्ति किसी काम से घरों के बाहर निकले थे या घूम रहे थे। एएसपी ओपी सिंह ने कहा कि ड्रोन कैमरे में जिनकी तस्वीर कैद हुई उनके बारे में जांच कर कार्रवाई की जाएगी। लॉकडाउन का उलंघन करने वाले किसी सूरत में बख्शे जाएंगे।
... और पढ़ें

लॉक डाउन के बीच जीवन और मौत से जूझ रहा श्यामबिहारी

म्योरपुर। स्थानीय विकास खंड की खैराही ग्राम पंचायत में लॉक डाउन के बीच गंभीर बीमार से पीड़ित श्यामबिहारी जीवन और मौत से जूझ रहा है। बीएचयू की जांच के बाद उसे पीजीआई रेफर किया गया था। पीजीआई में भी जिस डेट पर उसे बुलाया गया, तब तक लॉक डाउन हो गया और वह जा नहीं पाया।
म्योरपुर विकास खंड की खैराही ग्राम पंचायत में लॉक डाउन के बीच गंभीर बीमारी से पीड़ित श्यामबिहारी घर पर ही कराह रहा है। श्यामबिहारी के बड़े पुत्र रामप्रकाश की मानें तो इसके पूर्व वह लोग 12 फरवरी को बीएचयू में एडमिट कराया था। इस दौरान वहां से 19 फरवरी को पीजीआई के लिए रेफर कर दिया गया। परिजन 25 फरवरी को पीजीआई पहुंच गए। वहां जांच के बाद उन्हें डाक्टरों ने 19 मार्च को छ: लाख रुपयों का स्टीमेट बनाकर बुलाया। परिजन पैसा जुटाने में लग गए और 25 मार्च के लॉक डाउन हो गया। अब इसके बाद से श्यामबिहारी घर पर ही जीवन और मौत से जूझ रहा है। श्यामबिहारी का पूरा शरीर बुखार से तप रहा है, न तो उससे खाना-खाया जा रहा है और न ठीक से रह पा रहा है। उसकी परेशानी देख परिजन भी काफी परेशानी में हैं। परिजनों का भी रो-रोकर बुरा हाल है उनके गले से भी निवाला नही उतर रहा है। परिजनों ने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री से मदद की गुहार लगाई है।
... और पढ़ें

गैस एजेंसी पर उपभोक्तओं ने किया नोकझोंक

सोनभद्र। जिले के कईं गैस एजेंसियों पर मंगलवार को प्रधानमंत्री उज्ज्वला गैस योजना के लाभार्थी मोबाइल नंबर अपडेट कराने पहुंचे। राबर्ट्सगंज नगर में स्थित एक गैस एजेंसी पर कर्मियों ने लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग बनाने की अपील किया तो नोकझोंक करने लगे। मामला गंभीर होता देख कर्मी शांत हो गए। एजेंसियों, बैंकों समेत अन्य जगहों पर भीड़ एकत्र होने के कारण लॉक डाउन का पालन नहीं हो पा रहा है।
सरकार ने प्रधानमंत्री उज्ज्वला गैस योजना के सभी लाभार्थियों को अप्रैल, मई और जून में फ्री घरेलू सिलिंडर देने का निर्णय लिया है। जिले में उज्ज्वला के 175000 लाभार्थी है, लेकिन हजारों लाभार्थियों ने फार्म पर मोबाइल नंबर नहीं अंकित किया है। जबकि ग्राहकों को मोबाइल से ही सिलिंडर बुक कराने का निर्देश दिया है। प्रशासन ने गैस एजेंसी संचालकों को जिन लाभार्थियों का मोबाइल नंबर नहीं है उनका अपडेट करने का निर्देश दिया है, ताकि उन्हें सिलिंडर मिल सकें। मंगलवार को राबर्ट्सगंज में एक गैस एजेंसी पर सैकड़ों की संख्या में लोग मोबाइल नंबर अपडेट कराने के लिए पहुंच गए। इनके अलावा पूर्व जिनको प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना का फार्म भरने के बाद अपात्र मान कर योजना से वंचित कर दिया गया था वे लोग भी काफी संख्या में फार्म भरने पहुंच गए। बेबसाइट धीमी गति से चलने के कारण विलंब से नंबर अपडेट हो रहा था। एजेंसी के कर्मियों ने लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए कहां तो कुछ लोगों ने नोकझोंक शुरू कर दी। इसके बाद कर्मी शांत होकर काम करने लगे। भीड़ एकत्र होने से लॉक डाउन का पालन नहीं हो पा रहा है। कोतवाल मिथिलेश मिश्रा ने कहा कि जिन एजेंसियों पर लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कर रहे हो संचालक सूचित करें। चेतावनी देते हुए कहा कि लॉक डाउन का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

125 किलोमीटर पैदल चलकर घोरावल पहुंचे युवक-

घोरावल। कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते सरकार द्वारा घोषित लॉक डाउन के बाद देश प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में फंसे कामगारों व मजदूरों के आने का क्रम अभी जारी है। मंगलवार की भोर में सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलकर और रास्ते में मिले वाहनों के सहारे तीन मजदूर घोरावल नगर पहुंचे। ये सभी बभनी इलाके के रहने वाले है। भोर में घोरावल नगर में तीन युवक झोला बैग लेकर आते हुए दिखाई पडे़। जब उनसे कुछ स्थानीय लोगों ने पूछा तो उन्होंने बताया कि वे रायबरेली से आ रहे हैं और वे लोग बभनी थाना क्षेत्र के जिगनहवा गांव के रहने वाले है। क्रमश: सीताराम, रामसुंदर व देवकुमार ने बताया कि वे सभी रायबरेली में रोजगार के लिए गए थे। वहां पर एक ठेकेदार के अंतर्गत रेलवे में श्रमिक के रूप में काम कर रहे थे। सरकार द्वारा लॉक डाउन की घोषणा के बाद सभी रायबरेली में फंस गए। पास में पर्याप्त रुपये न होने और भोजन पानी में दिक्कतों के चलते तीनों लोग शनिवार को भोर में रायबरेली से करीब 70 किलोमीटर पैदल चलकर प्रयागराज पहुंचे। प्रयागराज में जब उन लोगों को पुलिस ने देखा तो भूखे प्यासे थके हारे होने की वजह से भोजन का प्रबंध कराया गया। इसके बाद तीनों युवक मध्य-प्रदेश की ओर जा रही ट्रक के सहारे मिर्जापुर जनपद के लालगंज तक पहुंचे। लालगंज से लगभग 55 किलोमीटर पैदल चल कर घोरावल पहुंचे है। इसके बाद तीनों युवक अपने घर बभनी थाना क्षेत्र के जिगनहवा की तरफ आगे बढ़ गए। ... और पढ़ें

शार्ट सर्किट से गेहूं की फसल राख

घोरावल। कोतवाली क्षेत्र के केवली मयदेवली गांव में सोमवार की देर शाम शार्ट-सर्किट से ढाई बीघा गेहूं की फसल जलकर राख हो गई। जानकारी के अनुसार केवली मयदेवली निवासी राजकिशोर मौर्या ने बताया कि उसके परिवार के लोग वाराणसी के लंका थाना क्षेत्र के डाकी गांव में भी रहते हैं। बीते 17 मार्च को वह डाकी गांव चला गया। इसके बाद लॉक डाउन के चलते वह वहीं फंस गया। सोमवार शाम एक व्यक्ति ने मोबाइल फोन पर बताया कि शार्ट सर्किट से उनके खेत में आग लग गई। ग्रामीणों ने बाल्टी डिब्बे की मदद से पानी डालकर आग को बुझाया। किसान का कहना है कि अगलगी से करीब 30 हजार रुपए का नुकसान पहुंचा है। घटना की सूचना पीड़ित किसान ने स्थानीय लेखपाल को दे दी है। ... और पढ़ें

28 क्वारंटीन केंद्रों में रोके गए हैं 1738 लोग

सोनभद्र। जनपद के समस्त ग्राम पंचायतों व शहरी क्षेत्रों में कुल मिलाकर 715 कम्युनिटी किचन संचालित हैं, जिनके माध्यम से प्रतिदिन लगभग 59 हजार से अधिक व्यक्तियों को उनके घर पर भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। ग्राम पंचायतों को कम्युनिटी किचन के संचालन के लिए उन्हें आपदा धनराशि एवं राशन सामग्री उपलब्ध करायी गयी है। इसके अतिरिक्त प्रत्येक ग्राम पंचायत में अनाज बैंक में अन्नदान लिया जा रहा है। अनाज बैंक से प्राप्त राशन सामग्री का इस्तेमाल भी कम्युनिटी किचन के संचालन हेतु किया जाएगा। शहरी क्षेत्रों में सरकारी व गैर सरकारी पर्याप्त कम्युनिटी किचन संचालित किये जा रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूलों में 680 कम्युनिटी किचन, ब्लाक स्तरों पर कम्युनिटी किचन व स्वैच्छिक संस्थों द्वारा जरूरतमंदों में खाना उपलब्ध कराया जा रहा है। इसकेे अतिरिक्त जनपद में संचालित 28 क्वारंटीन केन्द्रों में 1738 व्यक्तियों के खान-पान एवं ठहरने की व्यवस्था की गई है। जिले में स्वैच्छिक संगठनों द्वारा तीन हजार से ज्यादा नागरिकों को भोजन मुहैया कराया जा रहा है। इस प्रकार जनपद में कुल 715 कम्युनिटी किचन एवं 28 क्वारंटीन केन्द्रों के माध्यम से लगभग 59 हजार व्यक्तियों को प्रतिदिन भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। अब तक जरूरतमंदों में 14 हजार 200 राशन किट जिला प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराया गया। ... और पढ़ें

सभी ग्राम पंचायतों को सैनिटाइज करने का अभियान शुरू

सोनभद्र। लोगों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए सोमवार को सलखन ग्राम पंचायत से डीएम और एसपी ने जनपद के सभी गांवों को सैनिटाइज करने के महा अभियान की शुरुआत की। जिलाधिकारी ने जिला पंचायत राज अधिकारी को जिले के सभी 637 ग्राम पंचायतों को सैनिटाइज कराने के लिए ब्लिचिंग पाउडर सहित अन्य कीटनाशकों का छिड़काव कराने की हिदायत भी दी है।
इसके साथ ही इस कार्य में उन्होंने सभी ग्राम प्रधानों का भी सहयोग लेने को कहा है। ग्राम पंचायतों की गलियों, सड़कों एवं अन्य स्थानों को सैनिटाइज करने के लिए 10 टन ब्लीचिंग पाउडर ग्राम पंचायतों में पहुंचाए गए हैं। जिला पंचायत राज अधिकारी ने बताया कि गांवों को सैनिटाइज कराने के लिए सभी विकास खंडों में सहायक विकास अधिकारी पंचायत को सफाई कर्मियों की रोस्टरवार ड्यूटी लगाने को कहा गया है। निर्देश है कि प्रत्येक दशा में सभी ग्राम पंचायतों को सैनिटाइज कराने की जिम्मेदारी का निर्वहन करें।
उन्होंने बताया कि अधिकारियों व अन्य कर्मियों को लोगों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए जरूरी उपायों को करने के लिए जागरूक भी करें। मसलन, लोगों को घर में रहने, हाथों को साबुन से धोने, हाथों को सैनिटाइजर से साफ करना, सोशल डिस्टेंस बनाए रखने के लिए प्रेरित करना शामिल है। डीपीआरओ ने बताया कि आसपास के जिलों व प्रांतों में कोरोना के पॉजिटिव केस मिलेने की वजह से जिलाधिकारी एस राजलिंगम ने सभी ग्राम पंचायतों को सैनिटाइज कराने का निर्णय लिया। उन्होंने बताया कि ड्यूटी पर लगाए गए कर्मियों को ब्लीचिंग पाउडर के छिड़काव के तरीके के बारे में भी बताया गया है। इसके तहत 10 लीटर पानी में 5 माचिस की डिब्बी के बराबर ब्लीचिंग पाउडर का घोल बनाकर पानी में मिलाकर छिड़काव किया जाना है। उन्होंने नोडल बनाए गए लोगों से गांवों को सैनिटाइज कराने संबंधी रिपोर्ट अविलंब कंट्रोल रूम को उपलब्ध कराने के लिए भी कहा गया है।
... और पढ़ें

डीएम एसपी पहुंचे अब्बू हबीब मस्जिद, की छानबीन

सोनभद्र। पिछले दिनों ओबरा मस्जिद में मिले 17 मुस्लिमों सहित 19 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद शिक्षा निकेतन इंटर कॉलेज ओबरा में अब भी सभी क्वारंटीन हैं। इस बीच मंगलवार को डीएम एस. राजलिंगम और एसपी आशीष श्रीवास्तव शिक्षा निकेतन पहुंचे और क्वारंटीन किए गए लोगों के बारे में जानकारी ली। इसके बाद दोनों अधिकारी अचानक ओबरा स्थित अब्बू हबीब मस्जिद पहुंचे और पूरे मस्जिद में छानबीन की। मातहतों को लॉक डाउन का पालन न करने वालों से सख्ती से निपटने के निर्देश दिए। उधर, जिले के 28 क्वारंटीन सेंटरों में ठहराए गए 1738 लोगों के स्वास्थ्य की चिकित्सकों की टीम जांच करने में जुटी रही। कोरोना वायरस संक्रमण ने लोगों की नींद हराम कर दी है। जिले को लॉक डाउन कर दिया गया है, ताकि लोग घरों में ही रहें और वायरस की चपेट में न आ सकें। गैर प्रांतों व जनपदों से जिले में आए लोगों को ठहराने के लिए 28 क्वारंटीन सेंटर बनाए गए हैं। सोमवार तक 27 क्वारंटीन सेंटरों में 1704 लोगों को रखा गया था। लेकिन यह संख्या मंगलवार को बढ़कर 1738 हो गई। क्वारंटीन सेंटरों में रहने वालों को भोजन आदि की कोई परेशानी न होने पाए, इसके लिए अधिकारी लगातार निरीक्षण कर जायजा ले रहे हैं। मंगलवार को डीएम और एसपी ने क्वारंटीन सेंटर कोलुहा आश्रम चुर्क, संत कीनाराम स्नातकोत्तर महाविद्यालय लोढ़ी एवं शिक्षा निकेतन इंटर मीडिएट कॉलेज ओबरा का निरीक्षण किया। दोनों अधिकारियों ने ओबरा स्थित अब्बू हबीब मस्जिद पहुंचकर भी छानबीन की। डीएम ने कहा कि कोरोना वायरस बचने का सबसे अच्छा तरीका सोशल डिस्टेंस बनाए रखना है। सभी लोग लॉक डाउन का पालन करते हुए अपने-अपने घरों में रहें। अति आवश्यक पड़ने पर ही घरों के बाहर निकलें। प्रशासन ने किराना, सब्जी, दवा आदि की होम डिलवेरी करने के लिए दुकानदारों को पास जारी कर दिया है। घर में बैठ कर लोग सामानों को मंगा सकते हैं। सामानों की होम डिलेवरी न करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी। ... और पढ़ें

ड्यूटी से गायब रहने पर लेखपाल निलंबित

दुद्धी(सोनभद्र)। अनाज वितरण के दौरान लेखपालों की ड्यूटी सार्वजनिक वितरण प्रणाली के दुकानों पर लगाई गई है। ड्यूटी में लापरवाही बरतने पर उपजिलाधिकारी सुशील कुमार यादव ने एक लेखपाल को निलंबित कर दिया। तीन लेखपाल को नोटिस जारी की गई है।
उपजिलाधिकारी ने बताया कि बभनी ब्लॉक के बचरा गांव के लेखपाल गोपाल राम की ड्यूटी खाद्यान्न वितरण के लिए सार्वजनिक वितरण प्रणाली के दुकान पर लगाई गई थी, लेकिन वह अपने ड्यूटी से नदारद रहे, इसलिए उन्हें निलंबित कर दिया गया है। मुरता गांव की लेखपाल सुमन को भी इस मामले में नोटिस जारी किया गया है और कुलडुमरी गांव की लेखपाल रीता को कारण बताओ नोटिस जारी की गई है। कोरगी गांव के लेखपाल विनोद कुमार से स्पष्टीकरण मांगा गया है।
... और पढ़ें

मालवाहनों के आवागमन में रोक नहीं

सोनभद्र। जिलाधिकारी एस राजलिंगम व पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव ने संयुक्त रूप से बताया कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण के दृष्टिगत पूर्व में जारी संपूर्ण लॉकडाउन निषेधाज्ञा के क्रम में घरेलू उपयोग की सामग्री गेहूं, चावल, आटा, बेसन, मैदा, दाल, तेल, घी, डालडा, रिफाइंड, साबुन, टूथपेस्ट समस्त प्रकार के मेवा, आलू, समस्त प्रकार की सब्जी, फल, दूध तथा पेट्रोलियम पदार्थ, एलपीजी सोडियम हाइपोक्लोराइड, क्लोरीन, ब्लीचिंग पाउडर तथा अन्य प्रकार के केमिकल्स जो फर्स क्लिनर, सैनिटाइजर में प्रयोग किये जाने वाले हैं, इनकी गाड़ियों को जनपद के बार्डर या जनपद के अंदर आने व ले जाने के लिए प्रतिबंध से पूर्णतया मुक्त किया गया है। इसके साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाय कि राष्ट्रीय राजमार्गो पर इस प्रकार के मालवाहक वाहनों के परिचालन में लॉकडाउन के दृष्टिगत कोई कठिनाई न होने पाये। उक्त सामानों का परिवहन करने वाले किसी भी वाहन को जनपद के अंदर आने से या जनपद के अंदर से ले जाने से न रोका जाये। ... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं
sonebhadra Badhai Sandesh
DIWALI COOPAN
DIWALI COOPAN
DIWALI COOPAN

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us