विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020
Astrology Services

विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

यमुना सूखी नजर ना आए इसलिए ट्रंप के दौरे से पहले छोड़ा गया 950 क्यूसेक पानी

ताजमहल का दीदार करने आ रहे अमेरिकी राष्ट्रपति यमुना किनारे की ओर पहुंचे तो यमुना सूखी नजर न आए, इसलिए सिंचाई विभाग ने यमुना नदी में 950 क्यूसेक पानी छोड़ा है।

19 फरवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

उन्नाव

बुधवार, 19 फरवरी 2020

बनी पुल से जाजमऊ तक हाईवे रहा पांच घंटे जाम

उन्नाव। एआरटीओ कार्यालय के सामने खराब खड़े ट्रक में दूसरा ट्रक भिड़ने से लखनऊ-कानपुर हाईवे पर जाम लग गया। रविवार रात करीब 12 बजे शुरू हुआ जाम रात 3 बजे बनी पुल तक पहुंच गया। दोनों लेनों पर गाड़ियां खड़ी हो गईं। बाइक सवारों को भी निकलने में दिक्कतें आने लगी। भीषण जाम की सूचना पर हाईवे किनारे के थानों की फोर्स सक्रिय हुई और जाम खुलवाने का प्रयास शुरू किया। इसमें लखनऊ की ओर जाने वाले वाहनों को दही चौकी से मंगतखेड़ा मार्ग की ओर डायवर्ट किया गया। पांच घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद जाम खुलवाया जा सका। सोमवार सुबह छह बजे यातायात सामान्य हुआ।
कानपुर से लखनऊ जाने वाली लेन पर एआरटीओ के सामने रविवार दोपहर को एक ट्रक खराब हो गया था। देर रात करीब 11.30 बजे एक और ट्रक पीछे से भिड़ गया। इससे जाम की स्थिति उत्पन्न हो गई। एक घंटे के अंदर हाईवे पर वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लग गईं। रात करीब दो बजे तक लखनऊ और कानपुर दोनों लेनों पर भीषण जाम लग गया। हालात इतने बिगड़े कि जाम कानपुर और लखनऊ की बनी सीमा तक पहुंच गया। लखनऊ से कानपुर जाने वाले वाहनों को उन्नाव शहर के अंदर मोड़ कर शुक्लागंज के रास्ते कानपुर की ओर निकाला गया। वहीं लखनऊ जाने वाले वाहन घंटों कतार में खड़े रहे। बाद में पुलिस ने लखनऊ जाने वाले वाहनों को दही चौकी से मंगतखेड़ा मार्ग पर डायवर्ट किया। हाईवे के दोनों लेनों पर जाम खुलवाने के लिए सदर कोतवाली के साथ अजगैन, सोहरामऊ व अचलगंज थाना पुलिस को लगाया गया। दो घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद जाम खुलवाया जा सका।
रात में हाईवे जाम होेने से पुलिस को कड़ी मशक्कत का सामना करना पड़ा। स्थिति यह रही कि हाईवे के सामने जो रास्ता दिखा चौपहिया वाहनों को उसी में खड़ा कराया गया। भारी वाहनों को आगे बढ़ाने के बाद उन्हें पीछे से जाने दिया गया। कुछ ऐसे भी रास्ते थे जो गांव के अंदर से होते हुए हाईवे पर मिलते थे, उन्हें उसी रास्ते में जाने दिया गया।
... और पढ़ें

दो पहिया वाहनों पर ध्यान, चार पहिया नजरअंदाज

उन्नाव। यातायात माह हो या फिर यातायात सप्ताह सुरक्षित यात्रा को लेकर पुलिस, एआरटीओ और प्रशासन स्कूलों में पाठशाला का आयोजन कराता है तो वहीं लोगों को गोष्ठी और अन्य आयोजनों से जागरूक किया जाता है। इसके बाद भी हादसे होते हैं, कार समेत बड़े वाहनों की फिटनेस को लेकर शासन स्तर पर निर्देश जारी किए गए हैं लेकिन जिले में जिम्मेदारों को केवल बाइक चालकों की चेकिंग याद रहती है, अन्य वाहनों में उन्हें सब फिट नजर आता है।
जनवरी माह के रिकार्ड बता रहे हैं कि किस तरह बड़े वाहनों की चेकिंग में अनदेखी की गई। बताते हैं कि एआरटीओ और पुलिस द्वारा जनवरी में 1681 वाहनों का चालान किया गया, जिसमें 900 से अधिक का चालान हेलमेट न लगाने के लिए किया गया। इस तरह 60 फीसद दोपहिया वाहन पुलिस और एआरटीओ के जांच के दायरे में रहे। साथ ही एक सैकड़ा से अधिक बाइक सवारों का कागजात न होने के लिए चालान किया। वहीं, चार सैकड़ा से अधिक भार वाहनों का चालान किया गया। एलपीजी गैस किट लगे कितने वाहनों की धरपकड़ की गई, इसका कोई रिकार्ड एआरटीओ और पुलिस के पास नहीं है। इससे साफ है कि कार सवारों की चेकिंंग ही नहीं की गई।
एआरटीओ प्रशासन अनिल कुमार त्रिपाठी का कहना है कि जनवरी में वाहनों की जमकर चेकिंग की गई लेकिन इसमें कितने गैस किट लगे वाहनों की चेकिंग हुई, इसका रिकार्ड नहीं है। हालांकि चेकिंग से 53 लाख रुपये का शमन शुल्क वसूल किया गया तो साथ ही 27 डग्गामार वाहनों को थाने में खड़ा कराया गया।
... और पढ़ें

जुगाड़ की गैस किट जान की दुश्मन, जिम्मेदार बेपरवाह

उन्नाव। बांगरमऊ की घटना के बाद चार पहिया वाहनों में लगने वाली गैस किट को लेकर तमाम तरह के सवाल खड़े हो गए हैं। सीएनजी हो या एलपीजी, अलग से लगाई जाने वाली सस्ती किट से जान का खतरा बना रहता है। लेकिन कम खर्च और रुपये बचाने के लिए लोग अपनी व यात्रियों की जान जोखिम में डाल रहे हैं। बाजार में 5 से 8 हजार में एलपीजी और 10 हजार में सीएनजी किट मिस्त्री लगा देते हैं। लेकिन इसमें न सुरक्षा की गारंटी होती और ना ही निर्धारित समय में सर्विस की जिम्मेदारी।
ऑटोमोबाइल इंजीनियर वीके राजपूत ने बताया कि जिन कारों में कंपनी से सीएनजी किट लगी होती वह तो सुरक्षित है लेकिन बाहर से जुगाड़ करके लगवाई गई गैस किट खतरनाक है। साथ ही वाहन के इंजन, उसकी क्षमता और उसके माइलेज को भी प्रभावित करता है।
रविवार को बांगरमऊ में हुए हादसे में वैन आग का गोला बनी और सात लोग जिंंदा जल गए थे। सोमवार को परिवहन विभाग के अधिकारियों, फॉरेंसिक टीम और पुलिस ने घटना की छानबीन की। हादसे की मुख्य वजह घटिया किस्म की गैस किट होने की बात सामने आई।
लखनऊ-कानपुर हाईवे स्थित परिवहन विभाग द्वारा प्रमाणित किट सेंटर में मैकेनिक अरविंद ने बताया कि लोग सस्ते के लालच में प्रमाणित किट नहीं लगवाते। बताया कि दो तरह की किट होती हैं। इसमे इटालियन किट 38 हजार रुपये और मैनुअल किट 24 हजार रुपये में लगती है। किट की हर दूसरे महीने चेकिंग करानी जरूरी होता और जांच का प्रमाणपत्र भी रखना होता है। इटेलियन किट के लिए एक विशेष सॉफ्टवेयर होता है जो जिसे कार में फिट किया जाता है। इसे कंप्यूटर से सेट किया जाता है।
वैन में लगाई जाने वाली एलपीजी किट से 14 किलो गैस से 240 किमी सफर किया जा सकता है। बाजार में यह 5 से 8 हजार में मिल जाती है। जबकि सीएनजी गैस किट में 8 किलो की गैस से 200 किमी की दूरी तय होती है।
... और पढ़ें

उन्नाव: परीक्षा देकर साइकिल से घर लौट रही 7वीं की छात्रा को ट्रक ने रौंदा, दर्दनाक मौत

मौके पर मौजूद पुलिस मौके पर मौजूद पुलिस

लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे को छुट्टा मवेशियों ने बनाया ठिकाना

गंजमुरादाबाद। क्षेत्र के हरदोई उन्नाव मार्ग पर लखनऊ आगरा एक्सप्रेस वे के टोल प्लाजा के निकट धमाचौकड़ी करते छुट्टा जानवर वाहन सवारों के लिए मुसीबत बन रहे हैं। मवेशी पास ही रेलवे ट्रैक के आसपास भी विचरण करते रहते हैं। जिससे इस स्थान पर फिर कोई बड़ी अप्रिय घटना होने की आशंका बनी हुई है।
क्षेत्र में सात गोशालाओं का संचालन होने के बावजूद भी भारी संख्या में छुट्टा जानवर सड़कों और खेतों में दिखाई दे रहे हैं। यही नहीं करीब एक सैकड़ा छुट्टा जानवरों का झुंड लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे के पुल के नीचे और हाइवे के रेलवे ट्रैक के आसपास धमाचौकड़ी करते आसानी से देखा जा सकता है। मवेशियों के झुंड की धमाचौकड़ी से हरदोई उन्नाव राजमार्ग या रेलवे ट्रैक पर कोई बड़ी अप्रिय घटना होने की आशंका बनी हुई है। मंगलवार सुबह 9 बजे यह झुंड हरदोई उन्नाव मार्ग पर लखनऊ आगरा एक्सप्रेस वे के टोल प्लाजा के पास धमाचौकड़ी करते पाया गया। जिससे बड़े वाहनों का आवागमन तो प्रभावित रहा ही साथ ही कई दुपहिया वाहन जानवरों से टकराकर घायल हो गए। करीब एक घंटे तक इन छुट्टा जानवरों की धमाचौकड़ी के बाद राहगीरों ने किसी प्रकार इन्हे हरदोई उन्नाव मार्ग से बाहर निकाला। उपजिलाधिकारी बांगरमऊ अक्षत वर्मा ने बताया कि हरदोई उन्नाव राजमार्ग पर आवारा विचरण करने वाले इन छुट्टा जानवरों को किसी भी गोशाला में भेजने के लिए तत्काल व्यवस्था करेंगे।
... और पढ़ें

52 भेड़ें लोडर पर लादकर ले गए चोर

गंजमुरादाबाद। थाना बेहटामुजाबर के ग्राम मटुकरी में चोर एक मकान से 52 भेड़ें लोडर पर लादकर फरार हो गए। बाजार में भेड़ों की कीमत 4 चार लाख रुपए आंकी जा रही है। मटुकरी निवासी रामलड़ैते पुत्र कामता प्रसाद के पास पास दो मकान हैं। एक में उसका परिवार रहता है और दूसरे में उसने भेड़े पाल रखी हैं। इस समय उसके पास कुल 167 भेड़ें थीं। जिन्हें उसने शाम को चराने के बाद गिनकर बंद की थीं। सुबह जाकर देखा तो उनमें से 52 अच्छी भेड़ें गायब मिली। चोर लोडर लेकर आए और पिछली दीवार के सहारे दरवाजे को खोल दिया और लोडर पर भेड़ें लादकर रफूचक्कर हो गए। पीड़ित ने थाने में तहरीर दी। पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंच कर मामले की जांच की। थाना प्रभारी राघवन कुमार सिंह ने बताया कि भेड़े चोरी होने की घटना की तहरीर मिली है। रिपोर्ट दर्ज करने की कार्रवाई की जा रही है। ग्राम प्रधान अजय बहादुर सिंह ने बताया कि भेड़ और भैंस चोरी की कई घटनाएं हो चुकी हैं। इसमें एक गैंग काम कर रहा है। जो लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे के जरिए दिल्ली ले जाकर बिक्री करता है। पुलिस ईमानदारी से काम करे तो इस गैंग का जल्द खुलासा हो सकता है। ... और पढ़ें

टोलप्लाजा पर दिनभर जाम झेल रहे वाहन सवार

नवाबगंज (उन्नाव)। लखनऊ-कानपुर हाईवे के नवाबगंज टोल प्लाजा पर अव्यवस्थाओं का बोलबाला है। यहां पर जाम से निपटने के लिए टोल प्रबंधन के पास कोई पुख्ता इंतजाम नहीं है। जिससे दोनों लेन पर कई किलोमीटर तक लंबा जाम लगा रहता है। वहीं, जब कोई उपभोक्ता टोल शुल्क देने के बाद भी जाम की अव्यवस्था पर सवाल करता है तो प्रबंधन द्वारा उसके साथ बदसलूकी की जाती है। हाल ही में एक दंपति के साथ टोल मैनेजर व कर्मियों ने अभद्र व्यवहार किया था।
नवाबंगज में पीएनसी कंपनी का टोल प्लाजा है। जिसमें रोजाना 20 से 25 हजार छोटे बड़े वाहनों का लोड है। टोल प्रशासन लगभग 15 से 20 लाख रुपये की रोजाना राजस्व की वसूली करता है। केंद्र सरकार के डिजिटल पेंमेट को बढ़ावा देने के इरादे से जबसे टोल प्लाजा पर फ ास्टैग व्यवस्था लागू की गई है। तब से यहां पर फ ास्टैग के नाम पर जमकर नियमों की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। इस टोल से गुजरने पर आधे से एक घंटे का समय उपभोक्ताओं को लग रहा है। फ ास्टैग लागू होने के बाद से 15 में से 13 लेन में फ ास्टैग लगे वाहनों को ही निकाला जा रहा है। वहीं 2 रिटर्न लेन में कैश लेकर वाहन गुजारे जा रहे हैं। लोगों का कहना है कि टोल प्रबंधन कैश लेन पर जबरन काम की प्रगति धीमा कराता है। जिससे मजबूरन लोग फ ास्टैग लेन में जाकर दोगुना शुल्क कटवाने को मजबूर होते हैं। इसके अलावा स्थानीय स्तर पर फ ास्टैग व कैश लेन में जाने के लिए उचित दूरी के हिसाब से कोई संकेतांक न होने से अक्सर वाहन सवारों को धोखा हो जाता है। जिससे वह फास्टैग लेन में घुस जाते हैं। जिसके बाद टोल कर्मी उनके साथ अभद्रता करते हैं। उपभोक्ताओं की शिकायत मैनेजर स्तर पर सुनी भी नहीं जाती है।
... और पढ़ें

बाल संरक्षण अधिकारी ने रुकवाया एक और बाल विवाह

फतेहपुर चौरासी। किशोरी की शादी की तैयारियां उस समय धरी रह गईं जब मामले की जानकारी होने पर बाल संरक्षण अधिकारी पुलिस बल के साथ पहुंच गए। संरक्षण अधिकारी ने शादी रुकवाकर उम्र संबंधी कागजात तलब किए हैं। वहीं कन्या पक्ष की सूचना पर लड़के वाले बरात नहीं लाए।
थानाक्षेत्र के एक गांव में सोमवार को लड़की की शादी थी। लड़की का पिता कानपुर में काम करके परिवार का पालन पोषण करता है। वह किराए के मकान में परिवार सहित रहता है। कुछ दिन पहले पड़ोस का लड़का उसकी बड़ी नाबालिग बेटी को बहला फुसलाकर ले गया था। रिपोर्ट दर्ज कराने के बाद पुलिस ने अभियुक्त को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। सोमवार को छोटी बेटी की शादी थी। शाम को अभियुक्त की मां ने पुलिस को सूचना दी कि नाबालिग लड़की की शादी की जा रही है। सूचना पर थाना पुलिस ने शाम को ही लड़की को न्यायालय भेज दिया। लड़की पक्ष ने लड़के वालों को सूचना दे दी, जिसपर वर पक्ष द्वारा बरात नहीं लाई गई।
बाल संरक्षण अधिकारी संजय मिश्रा ने बताया कि एक महिला की सूचना पर मौके पर पहुंचकर जांच की गई तो पता चला कि जिस लड़की की शादी की तैयारी है, असलियत में उसकी उम्र 11-12 साल ही है। इस कारण शादी रुकवा दी गई है। दो दिन पूर्व अचलगंज थाने के एक गांव में 15 वर्षीय किशोरी का विवाह रुकवाया था।
... और पढ़ें

पत्नी की हत्या में पति को आजीवन कारावास

उन्नाव। अजगैन कोतवाली क्षेत्र में पांच साल पहले हुई युवती की हत्या के मामले में न्यायालय ने पति को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है।
असोहा थानाक्षेत्र के पाठकपुर गांव निवासी दीपक चौरसिया ने 2007 में बेटी शारदा का विवाह कानपुर शहर के मोहल्ला कलक्टरगंज निवासी कमलेश पुत्र श्रीराम चौरसिया के साथ किया था। शादी के कुछ साल बाद ही पति पत्नी में विवाद शुरू हो गया। इससे पति कमलेश कानपुर छोड़कर अजगैन में किराए का कमरा लेकर रहने लगा। लगातार हो रहे विवाद से 13 फरवरी 2015 को पत्नी शारदा दो बच्चों अभिजीत व गोलू को लेकर मायके चली गई। 17 फरवरी 2015 को पति कमलेश ससुराल आया और रात भर रुका।
अगले दिन कमलेश व शारदा बाहरी कमरे में आपस में बातचीत कर रहे थे तभी अचानक शारदा के चीखने चिल्लाने की आवाज सुनाई पड़ी। आवाज सुनकर पिता दीपक चौरसिया वहां पहुंचा तो देखा दामाद कमलेश ने बेटी शारदा की कुल्हाड़ी से हत्या कर दी थी। पिता ने बेटी के हत्या की रिपोर्ट उसी दिन थाने में दर्ज कराई थी। पुलिस ने विवेचना पूरी कर आरोपी पति कमलेश के खिलाफ न्यायालय में आरोप पत्र दाखिल किया था। इस मामले की सुनवाई अपर सत्र न्यायालय संख्या दस में चल रही थी। मंगलवार को मामले की अंतिम सुनवाई थी। न्यायाधीश आलोक शर्मा ने अभियोजन पक्ष से पैरवी कर रहे सरकारी वकील प्रेमचंद्र की दलीलों को सही ठहराया और आरोपी कमलेश को आजीवन कारावास व 50 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई।
... और पढ़ें

33केवी लाइन में फाल्ट से ठप रही सैकड़ों गांवों की बिजली

उन्नाव। सिकंदरपुर सरोसी ब्लाक के ऐरा भदियार उपकेंद्र में फाल्ट से बिजली आपूर्ति ठप हो गई। मरम्मत में करीब सात घंटे लग गए, जिससे करीब एक सैकड़ा गांवों की बिजली गुल रही।
मंगलवार सुबह तीन बजे ऐरा भदियार उपकेंद्र को आई 33 केवी लाइन में फाल्ट आ गया। इससे जुड़े एक सैकड़ा गांवों की बिजली आपूर्ति ठप हो गई। सुबह सात बजे के करीब पेट्रोलिंग टीम को फाल्ट की खोज में जुटना पड़ा। घंटों की मशक्कत के बाद सुबह करीब 10 बजे बिजली की आपूर्ति बहाल हो सकी। अधिशासी अभियंता द्वितीय उपेंद्र तिवारी ने बताया कि रात करीब 3 बजे फाल्ट हुआ, जिसे ठीक कराया गया। सुबह 10 बजे तक सभी लाइनें चालू कर दी गईं।
... और पढ़ें

पैर फिसलने से ट्रेन के नीचे गई वृद्धा, पैर कटने से मौत

पाटन। बैसवारा रेलवे स्टेशन से ट्रेन पर चढ़ते समय वृद्धा का पैर फिसल गया, जिससे वह ट्रेन के नीचे चली गई और उसके दोनों पैर कट गए। गंभीर रूप से घायल होने से घटनास्थल पर ही दर्दनाक मौत हो गई।
बिहार थानाक्षेत्र के बैसवारा रेलवे स्टेशन से डलमऊ गंगा स्नान करने जा रही सुशीला (64) पत्नी जगन्नाथ मूलत: मध्यप्रदेश प्रदेश के सतना जिले के नकटी गांव की रहने वाली थी। कुछ दिन पूर्व वह अपनी ननद के यहां थाना क्षेत्र बिहार के ग्राम बजौरा आई थी। मंगलवार सुबह पांच बजे डलमऊ जाने के लिए बैसवारा स्टेशन पहुंची। यहां पर ट्रेन में चढ़ते समय पैर फिसल जाने से नीचे चली गई, जिससे उसके दोनों पैर कट गए और मौके पर ही वृद्धा की मौत हो गई।
घटना की सूचना पाकर पहुंचे रिश्तेदारों ने थाना बिहार पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने जीआरपी डलमऊ को मामले की जानकारी दी। जीआरपी डलमऊ ने स्थानीय पुलिस की मदद से शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us