विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

बिजली गिरने और ओला-बारिश से उत्तर प्रदेश में आठ लोगों की मौत, फसलों को नुकसान

प्रदेश में बृहस्पतिवार रात से ही अचानक मौसम बदल गया। कई जिलों में आंधी और बारिश हुई। शुक्रवार को भी दिनभर ऐसा ही दौर रहा।

22 फरवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

वाराणसी

शनिवार, 22 फरवरी 2020

जौनपुर-प्रयागराज मार्ग पर रोडवेज बस और ट्रक की भिड़ंत में दो की मौत, 15 घायल

जौनपुर-प्रयागराज मार्ग पर उचौरा गांव के पास शुक्रवार को रोडवेज बस और तेज रफ्तार ट्रक में हुई आमने-सामने की भिड़ंत में दो यात्रियों की मौत हो गई। ट्रक की टक्कर के बाद सवारियों से भरी बस सड़क किनारे छह फीट नीचे खाई में चली गई। हादसे में 15 यात्री जख्मी हुए हैं। सभी को नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां प्रारंभिक उपचार के बाद हालत गंभीर देख दो घायलों को जिला अस्पताल रेफर कर दिया दिया। घटना के बाद ट्रक चालक फरार है।

प्रयागराज के सिविल लाइंस डिपो की बस सवारी लेकर शुक्रवार की दोपहर बाद गोरखपुर जा रही थी। बस मुंगराबादशाहपुर से आगे मछलीशहर की ओर बढ़ी, तभी उचौरा गांव के पास विपरीत दिशा से तेज रफ्तार में आ रही ट्रक से टक्कर हो गई। जोरदार टक्कर से अनियंत्रित हुई बस सड़क किनारे खाई में चली गई। हादसे के बाद चीख-पुकार मच गई। शोर सुनकर आसपास के लोग घटनास्थल की ओर दौड़े।

आनन-फानन में सभी यात्रियों को बस से बाहर निकाला गया। गंभीर रुप से जख्मी आजमगढ़ के रानी की सराय निवासी रविकांत यादव (25) और प्रयागराज के म्योराबाद निवासी सच्चिदानंद तिवारी (55) की मौके पर ही मौत हो गई। बस में 40 यात्री सवार थे। इसमें 15 घायलों को मुंगराबादशाहपुर पीएचसी में भर्ती कराया गया, जहां से दो को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। अन्य यात्रियों को उनके रिश्तेदार निजी अस्पतालों में ले गए।

हादसे में यह हुए घायल

जौनपुर के नईगंज निवासी गौरव गुप्ता 30, आजमगढ़ के ठेकमा निवासी वीरेंद्र कुमार 55, नौपेड़वा जौनपुर की इसराजी देवी 60, राजकिशोर यादव 30, हनुमानगंज प्रयागराज के राकेश कुमार 35, गोसाईगंज आजमगढ़ की गीता देवी 45, आकांक्षा 19, मुंगराबादहशाहपुर के इटहरा गांव निवासी धर्मेंद्र पटेल 32, अंंबेडकरनगर के श्रीकांत रावत 35, नारायणपुर जौनपुर के संदीप तिवारी 16, आशा तिवारी 40, प्रयागराज की शबाना 40, मुबारकपुर आजमगढ़ के जाहिद 60, प्रयागराज की शिल्पा 22, बस चालक राकेश कुमार 40 को चोट आई। आनन-फानन में सभी को मुंगराबादशाहपुर पीएचसी पहुंचाया गया। इसमें से जाहिद और शिल्पा को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया।
... और पढ़ें

कॉरपोरेट ट्रेन महाकाल एक्सप्रेस ने खोली रेलवे की पोल, पहली बारिश में टपकने लगी छत

महाकाल के दर्शन कराने के लिए यात्रियों को लेकर गुरुवार को इंदौर के लिए रवाना हुई कॉरपोरेट ट्रेन काशी महाकाल एक्सप्रेस की मजबूती की पोल खुल चुकी है। गुरुवार की देर रात यह कॉरपोरेट ट्रेन रिमझिम बारिश भी नहीं झेल पाई और पहली बारिश में ही ट्रेन के एक कोच की छत टपकने लगी जिससे बिस्तर सहित अन्य समान गीले हो गए।

काशी महाकाल एक्सप्रेस गुरुवार को दोपहर में लगभग पौने तीन बजे इंदौर के लिए रवाना हो गई। ट्रेन में बैठे यात्रियों की सुविधाओं आदि पर विशेष ध्यान रखा जा रहा है, लेकिन जैसे ही ट्रेन देर रात जब कानपुर से रवाना हुई और लगभग साढ़े दस बजे झांसी और कानपुर के बीच में पोखरायन स्टेशन के पास पहुंची, तभी बारिश ने स्वागत तो किया, लेकिन इस कारपोरेट ट्रेन की मजबूती की भी पोल खोल दी। हुआ यूं कि रिमझिम बारिश से ट्रेन के कोच-बी 2 की छत टपकने लगी और बिस्तर सहित अन्य समान गीला हो गया।


 

... और पढ़ें

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के स्वागत समारोह में चार-चांद लगाएंगे पूर्वांचल के लोक कलाकार

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप दो दिवसीय भारत यात्रा पर सोमवार 24 फरवरी को अहमदाबाद पहुंचेंगे। ट्रंप के दौरे को लेकर अहमदाबाद और आगरा सहित दिल्ली में भी तैयारियां जोर शोर से चल रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृह प्रदेश गुजरात में ट्रंप का भव्य स्वागत किया जाएगा, लेकिन प्रदेश सरकार की ओर से ट्रंप के आगरा के दौरे को यादगार बनाने में कोई कोर-कसर नहीं रखी जा रही है।

तभी तो राष्ट्रपति ट्रंप के स्वागत समारोह में चार-चांद लगाने के लिए काशी समेत पूर्वांचल के एक हजार लोक कलाकारों को भी बुलाया गया है। ट्रंप के काफिले के रास्ते में जगह-जगह खास कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा।
... और पढ़ें

भारत को मिला स्वर्ण भंडार, सोनभद्र की हरदी पहाड़ी में 3000 टन सोना होने की पुष्टि

भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण को उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में लगभग 3,000 टन सोना मिला है, जो भारत के पास मौजूदा स्वर्ण भंडार का करीब पांच गुणा है।सोनभद्र के कोन थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत पड़रक्ष के हरदी पहाड़ी में वर्षों पहले सोना मिलने की पुष्टि संबंधित अधिकारियों ने अब की है।

जिला खनन अधिकारी के के राय ने बताया कि यहां सोन पहाड़ी और हरदी इलाकों में सोने के भंडार मिले है। उन्होंने बताया कि सोने के भंडार का पता लगाने का काम पिछले दो दशक से चल रहा था। इन ब्लॉक की ई-निविदा के जरिए नीलामी की प्रक्रिया जल्द ही आरंभ होगी।

सोन पहाड़ी में करीब 2943.26 टन और हरदी ब्लॉक में 646.16 टन सोना मिला है। राय ने बताया कि सोने के अलावा इलाके में अन्य खनिज पदार्थ भी मिले हैं। विश्व स्वर्ण परिषद के अनुसार भारत के पास इस समय 626 टन स्वर्ण भंडार है। सोने का नया भंडार इसका करीब पांच गुणा है। इसकी अनुमानित कीमत करीब 12 लाख करोड़ रुपए है।


लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि इनका संबंध रामायण काल से है। जिले में दो जगहों पर पाए गए सोने के भंडार को लेकर सालों से चर्चाएं जारी हैं।

जियोलॉजिकल सर्वे आफ इंडिया की तरफ से दोनों जगहों का चिह्नांकन सीता-राम पत्थर के रूप में किए जाने की बात जब-तब लोगों की जुबां से सुनने को मिलती रहती थी। पिछले चार सालों से हरदी में सोना पाए जाने की खबर राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियां बटोरे हुए थी लेकिन अब जब आस्था के केंद्र सोन पहाड़ी में उम्मीद से बड़ा भंडार मिलने की बात सामने आई है तो लोगों की उम्मीद इस पहाड़ी के प्रति और बढ़ गई है।

बता दें, इस पहाड़ी को शिव पहाड़ी के नाम से भी पहचाना जाता है और लोगों के बीच यहां सैकड़ों टन खजाना छिपा होने की बात वर्षों से किस्सा-कहानी बनी हुई है। खनिज स्थलों की जियो टैगिंग के लिए सात सदस्यीय टीम गठित कर दी गई है, जिसकी रिपोर्ट 22 फरवरी तक लखनऊ को सौंपी जाएगी। बता दें कि भारत सरकार के पास 618 टन सोना रिजर्व है।
... और पढ़ें

महाशिवरात्रिः आज देर रात काशीपुराधिपति बन जाएगें गृहस्थ, रजत प्रतिमा विराजेगी गर्भगृह में

सात वार नौ त्योहार वाली काशी में महाशिवरात्रि का मौका सबसे खास होता है। अड़भंगी शिव भी भक्तों के प्रेम में रातभर जागते हैं। बाबा विश्वनाथ मंदिर में मंगला आरती के बाद से शुरू हुआ दर्शन पूजन का सिलसिला अनवरत चलता रहा। हालांकि कुछ सालों के मुकाबले इस बार मंदिर में भक्तों की संख्या कम नजर आई। महाशिवरात्रि पर पहली बार झांकी दर्शन की व्यवस्था से श्रद्धालुओं में निराशा रही।

मंदिर प्रशासन का दावा है कि दोपहर 12 बजे तक एक लाख और शाम छह बजे तक दो लाख भक्तों ने दर्शन किए। वहीं मारकंडेय महादेव में तीन लाख से अधिक भक्तों ने जलाभिषेक किया। दोपहर से ही शहर से लेकर गांव तक में शिव बारात निकलने का सिलसिला शुरू हुआ जो देर रात तक चलता रहा। वाराणसी के सोनारपुरा, जंगमबाड़ी, सारनाथ, हरिशचंद्र, तिलभांडेश्वर, मैदागिन, गोदौलिया, चौक आदि क्षेत्रों में शिव की अड़भंगी बारात निकाली गई। काशीपुराधिपति के विवाह की रस्में देर रात मंदिर परिसर में निभाई जाएगीं। महंत आवास पर बाबा की रजत प्रतिमा के साथ सारी परंपराओं को निभाया जाएगा। इसके बाद बाबा की प्रतिमा गर्भगृह में स्थापित होगी।

महाशिवरात्रि पर शुक्रवार की सुबह 45 मिनट पूर्व बाबा की मंगला आरती 2:15 बजे शुरू हुई। मंदिर परिसर टिकट धारियों से भरा हुआ था। आरती समाप्त होने के 25 मिनट बाद 3:55 बजे मंदिर के कपाट आम श्रद्धालुओं के लिए खोले गए। बाबा के भक्त दर्शन के लिए रात से ही कतार में लगे हुए थे। भीड़ को देखते अधिक से अधिक भक्तों को दर्शन कराने के लिए तीन तरफ से प्रवेश और दो तरफ से निकासी की व्यवस्था की गई थी।
 
... और पढ़ें

सोनभद्र की पहाड़ियों में मिली सोने की खान, अधिकारियों ने बताया मिलेगा सैकड़ों टन सोना

सोनभद्र के कोन थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत पडरक्ष के हर्दी पहाड़ी में वर्षों पहले सोना मिलने की पुष्टि संबंधित अधिकारियों ने अब की है। जिस पहाड़ी में सोना पत्थर मिलने की पुष्टि हुई है, उसके सीमांकन के लिए गुरुवार को विजय कुमार मौर्य खनिकर्म प्रभारी अधिकारी सोनभद्र की अगुवाई में नौ सदस्यीय टीम जंगल में पहुंची और सीमांकन की प्रक्रिया शुरू किए जाने को लेकर वन विभाग के अधिकारियों से बात की।

टीम में शामिल एक अधिकारी ने बताया कि अभी यह सीमांकन किया जाएगा कि जमीन वन विभाग की है या राजस्व व भूमिधरी है। इसके बाद सोने के खनन के लिए संबंधित भूमि का सीमांकन कर ई टेंडरिंग की प्रक्रिया पूरी की जाएगी। इसके बाद खनन शुरू होने की संभावना है।

उधर मौके पर मौजूद प्रभारी अधिकारी ने बताया कि पहाड़ी में 646 किलो सोना मिलने का अनुमान डीजीएम लखनऊ द्वारा बताया गया है। जिसकी ई टेंडरिंग के लिए वन विभाग व राजस्व विभाग के संयुक्त सहयोग से सीमाकंन का कार्य किया जा रहा है।
... और पढ़ें

सोनभद्र की खान से मिल सकता है भारतीय स्वर्ण भंडार से पांच गुना ज्यादा सोना, क्या हैं इसके मायने

दुनिया का लगभग हर देश पीली धातु यानी सोने का भंडारण करना चाहता है। विश्व स्वर्ण काउंसिल ने हाल ही में रिपोर्ट जारी कर दुनिया में सबसे अधिक सोने के भंडार वाले टॉप-10 देशों की सूची जारी की थी। साथ ही उसकी एक रिपोर्ट के मुताबिक 14 देशों में स्थित केंद्रीय बैंकों ने साल 2019 में एक टन से अधिक सोना अपने यहां रिजर्व में बढ़ाया है। ऐसे में भारत में सोने की खान का मिलना भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए शुभ संकेत से कम नहीं है।

बता दें कि भूवैज्ञानिकों ने भारत की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश के नक्सल प्रभावित इलाके सोनभद्र जिले में करीब 3,350 टन (अनुमानित मात्रा) सोने की खान खोज निकाली है। हालांकि यह खोज करीब दो दशक पहले हो चुकी थी, परंतु बीते गुरुवार को ही इस खान की सीमांकन प्रक्रिया पूरी की है। प्रदेश के खनन विभाग ने गोल्डमाइन क्षेत्र का नक्शा तैयार करने के लिए सात सदस्यीय टीम भी बनाई है।

सोनभद्र में कितना सोना
खनन विभाग के अधिकारी केके राय ने बताया कि सरकार इस खान को पट्टे पर देने को लेकर विचार कर रही है। इसके लिए ही सर्वे किया जा रहा है। यहां दो जगह सोना निकलने का अनुमान है, जिनमें पहला है सोनपहाड़ी और दूसरा है हर्दी क्षेत्र। भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण के मुताबिक सोनपहाड़ी में करीब 2700 टन और हर्दी क्षेत्र में 650 टन के आसपास सोना निकलने का अनुमान है।

क्या होता है गोल्ड रिजर्व या स्वर्ण भंडार
स्वर्ण भंडार या गोल्ड रिजर्व किसी भी देश के केंद्रीय बैंक के पास रखा गया वह सोना होता है, जो आर्थिक संकट के समय काम आता है। यह देश की मुद्रा की रक्षा और जरूरत पड़ने पर लोगों के धन की वापसी के लिहाज से केंद्रीय बैंक खरीदकर रखता है। भारत में रिजर्व बैंक यह काम करता है। इस भंडार की सुरक्षा व्यवस्था बेहद सख्त होती है।
... और पढ़ें

महाशिवरात्रि पर मंदिर जा रहे तीन दर्शनार्थियों की बाइक सहित खाईं में गिरने से मौत

सोना (फाइल फोटो)

सोनभद्र जिले के मोरवा थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम बिरकुनिया गांव में पुल से 30 फिट नीचे गहरी खाई में गिरने से बाइक सवार एक किशोर सहित तीन की दर्दनाक मौत हो गई। बताया गया कि तीनों युवक एक बाइक पर सवार होकर झिंगुरदा से दुधमनिया जा रहे रहे थे। रास्ते में बिरकुनिया पुल के नीचे असंतुलित होकर नीचे गिर गए और काल के गाल में समा गए। सूचना मिलने के बाद एसडीओपी नीरज नामदेव व टी आई नागेंद्र प्रताप सिंह दल बल के साथ घटना स्थल पर पहुंच शव को खाई से निकलवाया।


मोरवा टीआई नागेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि थाना क्षेत्र के झिंगुरदा निवासी मृतक विवेक सिंह पुत्र लक्षमण सिंह (22), राजकुमार सिंह पुत्र सोनशाह सिंह (19) वर्ष व रवि सिंह पुत्र हरिचरण सिंह (17) शुक्रवार को अपाचे बाइक पर सवार होकर ग्राम दुधमनिया जा रहे थे। जैसे ही ग्राम बिरकुनिया स्थित पुलिया के पास पहुंचे तभी बाइक के अनियंत्रित होने से तीनों लगभग 30 फिट गहरी खाईं में जा गिरे।

बाइक के अत्यधिक रफ्तार की वजह से अनियंत्रित होने से हुए हादसे में तीनों के सिर में गंभीर चोट आई जिससे घटनास्थल पर मौत हो गई। संभवतः तीनो मृतक दुधमनिया स्थित मंदिर में दर्शन के लिए जा रहे थे। पुलिस ने शव को कब्जे में ले पोस्टमार्टम हेतु चिकित्सालय भेज दिया और मर्ग कायम कर विवेचना में जुट गई।

... और पढ़ें

महाशिवरात्रि पर मेघों ने भी किया जलाभिषेक, रिमझिम बारिश रबी की प्रमुख फसल गेहूं के लिए वरदान

पूर्वांचल में आखिरकार मौसम का रूख एक बार फिर से बदल ही गया। गुरुवार सुबह से ही आसमान में बादल छाने लगे जो शुक्रवार की शाम होते-होते रिमझिम बारिश की फुहारों में बदल गई और देर शाम तक रुक-रुककर बारिश होती रही। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार, पूर्वांचल के सभी जिलों में बारिश हुई। यह मौसम गेहूं की फसल से वरदान साबित होगा।

कारण कि कुछ दिन पहले ही तेज पछुआ हवा के चलने से मुसीबत बढ़ गई थी। हालांकि अब पुरुवा हवा, नमी एवं बादल के कारण स्थिति में सुधार हुआ है। इससे गेहूं की फसल सूखेगी नहीं और इसके दाने भी बढ़ेंगे। वैसे दलहन और तिलहन की फसल के लिए यह मौसम अच्छा नहीं कहा जाएगा। सब्जी एवं गेहूं के लिए इस तरह का मौसम फायदेमंद है।
 
बताते चलें कि शुक्रवार की सुबह से ही आसमान में बादलों की सक्रियता बनी रही और दिन चढ़ने के साथ ही आसमान में बादलों का सघन डेरा होता चला गया। महाशिवरात्रि पर अक्सर ही मौसम में बदलाव हुआ है।  बादलों और बारिश की वजह से एक बार फिर से ठंड की वापसी हुई और लोग सुबह से ही गर्म कपड़ों में लिपटे नजर आए।

सुबह गलन का स्तर बढ़ने से लोग ठंड से बचने की जुगत भी करते रहे। दिन चढ़ने के साथ ही पूर्वांचल बादलों की जद में आ गया और जौनपुर, मीरजापुर और वाराणसी सहित कई जिलों के कुछ इलाकों में हल्के से तेज बारिश भी दर्ज की गई।  बीते चौबीस घंटों में अधिकतम तापमान 29 डिग्री दर्ज किया गया जबकि न्यूनतम पारा 10.02 डिग्री दर्ज किया गया। अधिकतम और न्यूनतम पारा एक दिन पूर्व के दर्ज तापमान के जैसा ही रहा।
... और पढ़ें

महाशिवरात्रिः बाबा भोले-भंडारी की बारात में जमकर झूमे अड़भंगी बाराती

हवाओं में हलकी ठंड, मन में भोले की भक्ति और शिव बारात की मस्ती.... हर कोई झूमता-नाचता और संगीत की धुन पर थिरकते हुए चल रहा था। मौका था मैदागिन से निकले वाली एतिहासिक प्राचीन शिव बारात का। हरिश्चंद्र इंटर कॉलेज से निकली शिव बारात दशाश्वमेध के डेढ़सी पुल पर समाप्त हुई। इससे पहले बाबा भोलेशंकर और माता पार्वती का विधि-विधान से पूजन अर्चन किया गया।

शिव बारात में बाबा भोले के गण के रूप में देवी-देवता, ऋषि मनि, भूत-पिशाच के साथ ही लाग विमान, हाथी, घोड़ा, ऊंट, डीजे और बैंड-बाजा चल रहा था। बारात में शामिल लोग ढोल-नगाड़े की थाप के साथ डीजे की धुन पर थिरकते हुए चल रहे थे। शिव बारात में शामिल लोगों के मिजाज में फागुनी हवाओं की मस्ती के साथ ही काशीपुराधिपति के बारात का जश्न भी था।
 
... और पढ़ें

नूर फातिमा शिव मंदिर का निर्माण कराकर पेश कर रहीं गंगा-जमुनी तहजीब की मिसाल

न नमाज आती है मुझको न वजू आता है, सजदा कर लेता हूं जब सामने तू आता है...। शिव की नगरी काशी को यूं ही नहीं गंगा-जमुनी तहजीब का शहर कहा जाता है। कबीर, रैदास और तुलसी की नगरी में अल्लाह और शिव की साथ-साथ आराधना की जाती है। हम बात कर रहे हैं डीरेका के गणेशपुर की रहने वाली नूर फातिमा की।




सुबह की नमाज के साथ ही भोलेनाथ का जलाभिषेक करना नूर फातिमा के जीवन का हिस्सा बन चुका है। जहां हर दिन वह शिव के धाम में शीश नवाती हैं वहीं हर दिन अल्लाह को याद करना नहीं भूलती हैं।
महाशिवरात्रि पर महादेव की पूजा का अवसर भी उनके लिए बेहद खास होता है। काशी में शिव हैं तो कण-कण में ईश्वर की मान्यता को नूर फातिमा ने कुबूल कर लिया है। उनकी हर सुबह की शुरुआत नमाज के साथ हर-हर महादेव के साथ होती है।

गणेशपुर कालोनी में एक मुस्लिम के घर में मंदिर बाहर के लोगों के लिए अनोखा होगा, लेकिन कालोनी के लोगों के लिए आस्था का केंद्र है। पेशे से वकील नूर फातिमा का कहना है कि 2004 में संयोग से भगवान शिव के पूजा की शुरुआत हुई जो आज जीवन का हिस्सा बन चुकी है। लखनऊ की रहने वाली नूर फातिमा के पति रेलवे में पोस्टेड थे और वह शादी के बाद वाराणसी आ गईं।
... और पढ़ें

जिये भी साथ में और दुनिया को अलविदा भी कहा साथ में, कुछ ऐसी है इस रिश्ते की हकीकत

कहते हैं फिल्में भी हकीकत और कुछ अफसाना होती हैं, तभी तो दशकों पहले आया बॉलीवुड का ये सदाबहार गीत छोड़ेगें न हम तेरा साथ ओ साथी मरते दम तक आज भी लोगों के लबों पर मुस्कान ला ही देता है। और गाहे-बगाहे सामने आने वाली रिश्ते की मिसाल की हकीकत ऐसे गानों की प्रासंगिकता को बनाए रखती है।

ऐसा ही कुछ मऊ जिले में हुआ, जहां साथ जिएंगे साथ मरेंगे की तर्ज पर वृद्ध पति-पत्नी का निधन हो गया। मधुबन नगर पंचायत के वार्ड नं 9 खीरीकोठा में 20 फरवरी की रात करीब दस बजे 80 वर्षीय वृद्ध महिला सरस्वती देवी का निधन हो गया। पत्नी की मौत की जानकारी होने पर एक घण्टे बाद पति की भी मौत हो गई। एक साथ दंपति के मौत की चर्चा पूरे क्षेत्र में होती रही। वही परिजनों ने पूरे गाजे-बाजे के साथ दोनों का अंतिम संस्कार दोहरीघाट स्थित मुक्तिधाम में किया।

गुरूवार की रात दस बजे सुशील कुमार पांडेय की 80 वर्षीय पत्नी सरस्वती देवी के निधन हो गया। जिसके एक घंटे बाद 82 वर्षीय सुशील पांडेय भी शोक सहन नहीं कर पाएं और उनका निधन हो गया। अंतिम संस्कार में एमएलसी लीलावती कुशवाहा, चेयरमैन प्रतिनिधि शंकर मद्धेशिया सहित आस-पास गांव के प्रबुद्ध लोगों के अलावा सैकड़ों ग्रामीण उपस्थित थे।

मृत दंपत्ति के पुत्र अवधेश कुमार पांडेय ने बताया कि माता पिताजी के आपस के संबंध बड़े ही मधुर थे। दोनों एक दूसरे के बिना नहीं रह पाते थे, इसकी का परिणाम रहा कि पहले मां, बाद में पिता जी ने दुनिया छोड़ दिया। बोले इस उम्र में भी मां पिता जी के लिए खाना आदि बनाने का काम करती थी।

वहीं पिताजी मां की तबियत खराब होने पर खुद अपने हाथों से उसे दवा खिलाने के साथ उसका ख्याल रखते थे। दोनों ने एक साथ जीने के साथ एक साथ दुनिया से कूच भी किया। पड़ोसी डॉ. प्रेमभूषण पांडेय ने बताया कि दिवंगत सुशील पांडेय और सरस्वती से हम लोग जीवन जीना सिखते थे। सुशील जी अपनी पत्नी को फूल भी देते थे, उम्र होने के बाद भी दोनों जिंदादिल का जीवन जीते थे।

... और पढ़ें

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण में कारसेवक के रूप में जाने को तैयारः डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य

दो दिवसीय दौरे पर शुक्रवार को वाराणसी पहुंचे उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन-पूजन किया। सर्किट हाउस में भाजपा पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं की बैठक से पहले मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि राम मंदिर ट्रस्ट के गठन के बाद पहली बैठक हो गई है। जिस दिन कार सेवा के लिए बुलाया जाएगा, मैं भी कार्य सेवक के रूप में जाने के लिए तैयार हूं। उन्होंने कहा कि भगवान भोलेनाथ की प्रसन्नता का सबसे अच्छा कारण वही होगा कि भगवान श्रीराम का मंदिर भव्य रूप से बनने लगे।
 
डिप्टी सीएम ने वारिस पठान के बयान को निंदनीय बताया। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। वारिस पठान की भाषा देश को गृह युद्ध की आग में झोंकने वाली है। ऐसे लोगों के खिलाफ कठोर कार्रवाई होनी चाहिए। ओवैसी की जनसभा में पाकिस्तान के समर्थन में हुई नारेबाजी को भी गलत बताते हुए इसे देशद्रोह बताया है।

डिप्टी सीएम ने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को भी आड़े हाथ लिया। उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव 2022 का सपना देख रहे हैं लेकिन उनका सपना चूर-चूर हो जाएगा। सोनभद्र में स्वर्ण भंडार मिलने पर उन्होंने कहा महाशिवरात्रि से पहले बाबा का आशीर्वाद है। निश्चित तौर पर भारत आर्थिक दृष्टि से भी मजबूत होगा।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us