विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि  व्  सर्वांगीण कल्याण  की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि व् सर्वांगीण कल्याण की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

उत्तराखंड

सोमवार, 21 अक्टूबर 2019

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय में शुरू हुई प्रक्रिया, भरसार विवि बनेगा केंद्रीय विश्वविद्यालय

वीर चंद्र सिंह गढ़वाली उत्तराखंड औद्यानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय (भरसार विवि) जल्द केंद्रीय विश्वविद्यालय बन सकता है। इस पर केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने कसरत शुरू कर दी है। राज्य सरकार से शुरुआत चरण की बातचीत भी हो गई है। जल्द इसकी आधिकारिक घोषणा हो सकती है।

दरअसल, भरसार विवि से केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक का खास जुड़ाव रहा है। जानकारी के मुताबिक, जिस जगह आज भरसार विवि है, वहां कभी एक बगीचा हुआ करता था। डॉ. निशंक के पिता स्व. परमानंद पोखरियाल वहां माली हुआ करते थे। डॉ. निशंक अपने पिता के साथ अक्सर वहां जाते थे।

उत्तर प्रदेश सरकार में जब डॉ. निशंक को जिम्मेदारी मिली तो उन्होंने इस जगह पर माली प्रशिक्षण केंद्र शुरू किया। उसके बाद जब वह पर्वतीय विकास मंत्री बने तो उन्होंने इसे महाविद्यालय बनाया। उत्तराखंड के सीएम बनने के उन्होंने इस महाविद्यालय को भरसार विवि बनाया।

अब वह केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री हैं। सूत्रों के मुताबिक, मंत्रालय में इस विवि को केंद्रीय दर्जा देने की शुरुआत हो गई है। इसके लिए सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत और उच्च शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. धन सिंह रावत से शुरुआती बातचीत पूरी हो चुकी है। 

गढ़वाल विवि के बाद दूसरा केंद्रीय विवि

अभी तक उत्तराखंड में हेमवती नंदन बहुगुणा केंद्रीय विश्वविद्यालय चल रहा है। इसे वर्ष 2009 में केंद्रीय विवि का दर्जा मिला था। अगर भरसार विवि को भी केंद्रीय दर्जा मिलता है तो प्रदेश में केंद्रीय विवि की संख्या दो हो जाएगी।
... और पढ़ें

दर्दनाक हादसा: पलक झपकते ही काल के मुंह में समा गई आठ जिंदगियां, ऐसे हुआ रेस्क्यू, तस्वीरें...

कमलेश तिवारी हत्याकांड के बाद साध्वी प्राची ने जताई हत्या की आशंका, बोलीं-आईएसआई से मिल रही धमकियां

विश्व हिंदू परिषद की फायर ब्रांड नेता साध्वी प्राची ने लखनऊ में हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की हत्या को जिहादियों द्वारा उठाया गया कदम बताया है। कमलेश तिवारी हत्याकांड के बाद अब उन्होंने अपनी जान को भी खतरा बताया है। उन्होंने गृह मंत्री, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश सरकार से अपने लिए सुरक्षा उपलब्ध कराने की मांग की है। 

हरिद्वार में प्रेसवार्ता कर उन्होंने कहा कि मुझे आईएसआई से कई बार धमकी मिली है। मैं परमात्मा पर विश्वास करती हूं। इसलिए मैंने आज तक इन बातों का जिक्र नहीं किया। लेकिन कमलेश तिवारी की हत्या दिल दहला देने वाली घटना है। कुछ दिन पहले मेरे आश्रम में भी कुछ अज्ञात लोग आए थे। उन्होंने मेरे बारे में जानकारी भी जुटाई। वे काफी देर वहां घूमते भी रहे। ऐसी अनहोनी मेरे साथ न हो इसलिए मुझे सुरक्षा मिलनी चाहिए। 

 
उन्होंने कहा कि जेहादी नेहरू परिवार के संरक्षण में भारत में सक्रिय हैं। इस बारे में जांच कराई जानी चाहिए कि किस तरह से नेहरू गांधी परिवार ने जिहादियों को संरक्षण दिया। उन्होंने कहा कि योगी सरकार को इस बात की भी जांच करानी चाहिए कि कमलेश तिवारी की सुरक्षा क्यों हटाई गई थी और जिन अधिकारियों ने उनकी सुरक्षा हटाई थी उनके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड पंचायत चुनाव मतगणना: जिपं सदस्य पद पर बीजेपी विधायक चुफाल की बेटी भारी मतों से हारीं

राज्य निर्वाचन आयोग के मुताबिक एक साथ सुबह आठ बजे से 89 विकास खंडों में मतगणना शुरू हो गई है। अब देखना ये होगा कि जनता ने किसका साथ दिया और किसे नकारा।

उत्तराखंड में पंचायत चुनाव तीन चरणों में कराए गए। जिसमें कुल 3006378 वोट पड़े हैं। करीब 35600 प्रत्याशियों ने चुनाव में हिस्सा लिया। सबसे पहले जिला पंचायत सदस्यों के चुनाव परिणाम सामने आने की संभावना है।

जिसमें कुल 356 सीटों पर मतदान हुआ है। ग्राम प्रधानों के 7485 में 124 पद रिक्त रहे थे और क्षेत्र पंचायत सदस्याें के 2984 पदों में से 10 पद रिक्त रहे हैं। राज्य निर्वाचन आयुक्त चंद्रशेखर भट्ट ने बताया कि हर मतदान केंद्र पर सीसीटीवी लगाए गए हैं और पर्यवेक्षकों की तैनाती की गई है।
... और पढ़ें
धनपाल नेगी धनपाल नेगी

पतंजलि और निम मिलकर हिमालय में ढूंढेंगे दुर्लभ जड़ी-बूटी, मई-जून में शुरू होगा अभियान

उत्तराखंड पंचायत चुनाव परिणामः कइयों को हराकर, बेहद कम उम्र में बनीं ग्राम प्रधान

उत्तराखंड पंचायत चुनाव में बेहद कम्र उम्र की महिला और युवतियों ने कइयों को हराकर जीत दर्ज की है।

हल्द्वानी पनियाली ग्राम सभा से 21 साल एक माह की रागिनी आर्य ग्राम प्रधान के पद पर विजयी रही हैं। उन्होंने लोगों की अपेक्षाओं पर खरा उतरने की बात कही है। इसी तरह देहरादून में रायपुर के लड़वाकोट की नवनिर्वाचित ग्राम प्रधान शिवानी कंडारी की उम्र 23 साल है।

शिवानी का कहना है कि अब गांव की महिलाओं का सशक्त बनाना, स्वास्थ्य, शिक्षा और सड़क की सुविधाएं बेहतर करना है। वह गांव से छह उम्मीदवार को हराकर जीती हैं। चंपावत के भंडार बोरा में मीना कुंवर प्रधान पद पर निर्वाचित हुई हैं। मीना की उम्र भी 23 साल है और वह 27 वोट से विजयी हुई हैं। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड पंचायत चुनाव परिणामः यहां केवल एक या दो वोटों ने तय की जीत और हार

बेहद कम उम्र में लिखी इबारत

उत्तराखंड पंचायत चुनाव परिणाम 2019: आंगनबाड़ी कार्यकर्ती बनीं ग्राम प्रधान, उत्साह से भरी दिखीं

उत्तराखंड पंचायत चुनाव तीन चरणों में संपन्न हुए और आज फैसले की घड़ी आ गई। आज राज्य के 12 जिलों में (हरिद्वार को छोड़कर) मतगणना जारी है। और सुबह 10 बजे के बाद से परिणाम आने भी शुरू हो गए।

रुद्रपुर ब्लॉक के ग्राम गडरियाबाग से गीता रूपसिंह ने ग्राम प्रधान पद पर जीत दर्ज की है। गीता ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ती पद से इस्तीफा देकर चुनाव लड़ा था और आज जीत दर्ज कर ली। वह अपनी जीत से बेहद खुश हैं। उन्होंने जनता को धन्यवाद कहा। 

अपनी जीत से उत्साहित गीता ने गांव के विकास के लिए बेहतर योजना बनाने और लागू करने की बात कही। कहा कि वह जनता के आशीर्वाद से जीती हैं। अब वह गांव के बेहतर विकास के लिए कार्य करेंगी।
... और पढ़ें

झांसी : नहर के अंदर खड़ी कार में मिली युवक की लाश

उत्तराखंडः खाली गांव में भरी है लाचारी, बचे हैं बस सुविधाओं को मोहताज बुजुर्ग

अंदर-अंदर खोखला हो रहा है पहाड़। उसकी खूबसूरती तो सबको दिखाई देती है लेकिन दर्द नहीं। जिसके जवां परिंदे दाना पानी की तलाश में दूर दिशा में उड़ गए। बिन लाठी के लड़खड़ाता बुढ़ापा रह गया। खाली गांवों में लाचारी भरी है। हारी-बीमारी में हांफते, जाड़े में थर- थर कांपते, बेबस, निढाल अपने नीड़ में बिखरे तिनकों से पड़े हैं। न नाती-पोतों का शोर है और न कहानी-किस्से।

उम्र के आखिरी पड़ाव पर अपनी जड़ों से उखड़ने की न तो उनमें कुव्वत है और न ही चाहत। ये बुजुर्ग अपने खेत-खलिहानों को बंजर होने से नहीं बचा पाए लेकिन घरों में पसरे सन्नाटे से लड़ रहे हैं। इनके पैरों में मजबूरी की बेड़ी है तो गांव-घर का अटूट बंधन भी। यहां का हवा-पानी इन्हें बहुत प्यारा है, इसलिए तमाम दुश्वारियों के बावजूद यहां बसे हैं।

पुराने दौर का हाथ थामे पुराने लोग अपने गांव में दिन काट रहे हैं। चिंता बस आज की है। आज का दिन निकल जाए, कल का कल देखेंगे। यहां आज भी रामायण और महाभारत का युग जीवित है। बोडा-बोडी (बुजुर्ग) रात को यही देखते हैं। यह कहानी कोटी गांव की है।
... और पढ़ें

UTET 2019: शिक्षक पात्रता परीक्षा के एडमिट कार्ड जारी, यहां है सीधी लिंक और परीक्षा पैटर्न

उत्तराखंड सरकार के स्कूली शिक्षा बोर्ड (UBSE) नैनीताल ने शिक्षक पात्रता परीक्षा 2019 के लिए एडमिट कार्ड जारी कर दिया है। अगर आपने उत्तराखंड शिक्षक पात्रता परीक्षा (UTET 2019) के लिए आवेदन किया है, तो बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट से अपना एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं। एडमिट कार्ड डाउनलोड करने की सीधी लिंक हम इस खबर में आगे भी दे रहे हैं। आगे परीक्षा के पैटर्न की भी जानकारी दी जा रही है। 

बोर्ड ने साफ किया है कि अभ्यर्थियों को अलग से डाक या अन्य माध्यमों से एडमिट कार्ड नहीं भेजे जाएंगे। आपको बोर्ड की वेबसाइट से जरिए ही एडमिट कार्ड डाउनलोड करने होंगे। साथ ही इसका प्रिंट लेकर रखना होगा। इसी के आधार पर आपको परीक्षा केंद्र में प्रवेश दिया जाएगा।

कब होगी परीक्षा

उत्तराखंड शिक्षक पात्रता परीक्षा (UTET 2019) का आयोजन रविवार, 6 नवंबर 2019 को किया जा रहा है। दो पेपर की परीक्षा होगी। कक्षा पहली से पांचवीं के लिए पेपर-1 और कक्षा छठी से आठवीं के लिए पेपर-2 होगा। परीक्षा में सफल उम्मीदवारों को टीईटी पात्रता प्रमाणपत्र दिया जाएगा। इसके आधार पर आप उत्तराखंड सरकार के स्कूलों में शिक्षक की नौकरी पा सकते हैं।

पेपर-1 परीक्षा पैटर्न

विषय                    सवाल/अंक
बाल विकास                30/30
भाषा-1 (हिंदी/अंग्रेजी)   30/30
भाषा-2                      30/30
गणित                        30/30
पर्यावरण विज्ञान           30/30
कुल सवाल व अंक      150/150

पेपर-2 परीक्षा पैटर्न

विषय                          सवाल/अंक
बाल विकास                     30/30
भाषा-1 (हिंदी/अंग्रेजी)        30/30
भाषा-2                           30/30
ए- गणित, विज्ञान              60/60
बी- सामाजिक विज्ञान        
कुल सवाल व अंक        150/150

सीधी लिंक से एडमिट कार्ड डाउनलोड करने के लिए
यहां क्लिक करें।
  ... और पढ़ें

मुनस्यारी घूमने आए रुद्रप्रयाग के युवक और युवती ने जहरीला पदार्थ गटका

विगत 18 तारीख को मुनस्यारी घूमने आए रुद्रप्रयाग के एक युवक और युवती ने रविवार रात को जहरीला पदार्थ गटक लिया। आज सुबह करीब सात बजे खलिया भुजानी स्थित अल्पाइन रिसोर्ट में दोनों डॉक्टर-डॉक्टर चिल्लाते हुए मदद मांगने पहुंचे। जहां रिसोर्ट में कार्यरत कर्मी मनोज कुमार ने पूछताछ कि जिसमें दोनों ने खुद को रुद्रप्रयाग निवासी बताया।

मनोज कुमार और चंचल बसेड़ा ने दोनों को पीठ पर लाद कर अस्पताल पहुंचाया। जहां पर दोनों का उपचार चल रहा है। मामला प्रथम दृष्टया प्रेम प्रसंग का प्रतीत हो रहा है। अलबत्ता होटल कर्मियों से हुई बातचीत में युवती ने बताया कि युवक ने रुद्रप्रयाग में कंप्यूटर की दुकान खोली है। जिसके लिए पांच लाख का लोन लिया था। इस कारण से वह परेशान है। 

अभी दोनों के परिजनों से संपर्क नहीं हो सका है। डॉ. दिनेश चंदोला और रितेश इनके उपचार में लगे हैं। डॉ. चंदोला ने बताया कि दोनों खतरे से बाहर हैं। दोनो के पॉइजन को डायल्यूट कर बाहर निकाल लिया गया है। दोनों ने बातचीत में हल्की मात्रा में नुवान पिना बताया है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
विज्ञापन