विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Coronavirus in Uttarakhand: बुखार से किशोरी की मौत, परिजन समेत अंत्येष्टि में शामिल लोगों को किया क्वारंटीन

कोरोना वायरस के खौफ के बीच हरिद्वार में बुखार से एक किशोरी की मौत का मामला सामने आया है। पुलिस ने किशोरी के परिजनों समेत अंत्येष्टि में शामिल लोगों को होम क्वारंटीन में रहने के लिए कहा है।

30 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

अल्मोड़ा

मंगलवार, 31 मार्च 2020

घर लौटना चाहते हैं बिहार, नेपाल और यूपी के सैकड़ों मजदूर

अल्मोड़ा। अल्मोड़ा में रहकर मजदूरी और राज मिस्त्री, कारपेंटर आदि का काम करने वाले बिहार, यूपी और नेपाल क्षेत्र के सैकड़ों मजदूर अपने घर लौटना चाहते हैं। रविवार को करीब 250 से अधिक मजदूर आदि कलक्ट्रेट पहुंचे और उन्होंने घर जाने की अनुमति देने की मांग की। इधर प्रशासन ने इन मजदूरों का डाटा तैयार कर लिया है और फिलहाल इन मजदूरों के भोजन आदि की व्यवस्था की जा रही है। शासन स्तर से आदेश मिलने के बाद ही उन्हें घर भेजने के बारे में विचार किया जाएगा। अन्यथा इन मजदूरों को अल्मोड़ा में ही रखा जाएगा।
कोरोना वायरस के कारण पिछले एक सप्ताह से सभी तरह के निर्माण कार्य ठप पड़े हैं और मजदूर घरों से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं। हालांकि प्रशासन ने मजदूरों के भोजन की व्यवस्था करवा दी है और उन्हें दोनों समय भोजन के पैकेट सप्लाई किए जा रहे हैं लेकिन इसके बावजूद अब यह मजदूर अपने घर लौटना चाहते हैं।
रविवार को लॉकडाउन में छूट के दौरान काफी संख्या में बिहार, यूपी और नेपाल के मजदूर कलक्ट्रेट पहुंच गए और उन्होंने अधिकारियों से उनके अपने राज्यों में भिजवाने की व्यवस्था करने की मांग की। इधर सहायक श्रम आयुक्त उमेश चंद्र राय ने बताया कि नेपाल और बाहरी राज्यों के मजदूरों की सूची तैयार की जा रही है। उन्होंने बताया कि अल्मोड़ा और आसपास के 776 मजदूरों की सूची तैयार हो चुकी है। जबकि रानीखेत सहित कुछ अन्य तहसीलों में रह रहे मजदूरों के नाम जल्द ही प्राप्त हो जाएंगे। जिन मजदूरों के पास रहने के ठिकाने नहीं हैं उनके रहने की व्यवस्था भी की जा रही है। सहायक श्रम आयुक्त ने बताया कि मजदूरों को उनके राज्यों में भेजे जाने के संबंध में फैसला शासन स्तर से ही लिया जाएगा।
... और पढ़ें

खाना बांटा, लोगों को किया जागरूक

खाना बांटा, लोगों को किया जागरूक देहरादून। विभिन्न सामाजिक संगठनों की ओर से सामूहिक रूप से कई स्थानों में खाना बांटा गया। लोगों को कोरोना महामारी के बारे में जागरूक भी किया। करीब 500 लोगों को भोजन खिलाया। एनएपीएसआर के अध्यक्ष आरिफ खान ने कहा कि चंद्रबनी, सहस्रधारा रोड़, वसंत विहार में खाना बांटा। मदर्स एंजिल चिल्ड्रेन्स सोसायटी, जगतबन्धु सेवा ट्रस्ट, अमूल्य जीवन संस्था, दार ए-अरक़म एजुकेशनल सोसायटी, आसरा स्वयं सहायता समूह संस्थाओं से बीना शर्मा, धर्मेन्द्र ठाकुर, जहाँगीर आलम, मोहम्मद शाहनज़र, अब्दुल सत्तार, शमीना सिद्दीकी, इसरार अहमद, सुमित कुमार, गणेश चन्द्र,अंकित प्रजापति, आनन्द गुप्ता शामिल रहे । ... और पढ़ें

आवश्यक कार्य के लिए ही सफर करने की मिलेगी अनुमति

अल्मोड़ा। लॉकडाउन के दौरान जरूरी कार्य के लिए यात्रा करने की अनुमति मांगने को लोगों की लाइन लग रही है। प्रशासन के अधिकारियों ने बताया कि उन्हीं लोगों को सफर करने की अनुमति दी जा रही है जिनके लिए बहुत ही जरूरी है। कलक्ट्रेट के तहसील सभागार में बने यातायात डेस्क द्वारा बहुत जरूरी होने पर गंतव्य तक जाने के लिए पास दिए जा रहे हैं। शनिवार को गंतव्य तक जाने के लिए यातायात डेस्क में आवेदन पत्र जमा करने वालों की भीड़ रही। इधर कुछ लोगों ने आरोप लगाया कि वास्तविक दिक्कत होने के बावजूद उन्हें पास प्राप्त करना मुश्किल हुआ। पूर्व पालिका सभासद अशोक पांडे ने बताया कि उनकी ताई जी का देहांत होने के कारण नैनीताल जाने के लिए अनुमति मांगी लेकिन काफी मुश्किलों के बाद उन्हें पास मिल सका।
अनुमति पत्र के लिए एसडीएम कार्यालय उमड़े लोग
रानीखेत (अल्मोड़ा)। कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते पूरे देश में लॉकडाउन चल रहा है। पूरे देश के कई हिस्सों में लोग जहां-तहां फंसे हुए हैं। इधर एसडीएम कार्यालय में भी अब जरूरी कार्यों और फंसे लोगों को वापस लाने के लिए अनुमति पत्र बनाने वालों की भीड़ एकत्रित होने लगी है। शनिवार को ही काफी संख्या में लोग एसडीएम कार्यालय पहुंच गए। शहर में आने और जाने के लिए अनुमति पत्र बनाए जा रहे हैं। एसडीएम अभय प्रताप सिंह का कहना है कि ठोस कारणों का प्रमाण पत्र देने वालों को ही अनुमति दी जा रही है। उन्होंने बताया कि लॉक डाउन के नियमों का भी सख्ती से पालन कराया जा रहा है। उन्होंने बाजार क्षेत्र का भी नियमित रूप से निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया।
... और पढ़ें

अल्मोड़ा जनपद में 43 लोग होम क्वारंटाइन

अल्मोड़ा। अल्मोड़ा जिले में 45 लोग क्वारंटीन में हैं, जिनमें से करीब 43 लोगों को होम क्वारंटीन में रखा गया है। जबकि दो बेस अस्पताल में भर्ती हैं। सबसे ज्यादा होम क्वारंटीन हवालबाग में हैं। इन सभी को 14 दिन तक हर हाल में घर के भीतर अलग रहने के निर्देश दिए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा हर रोज इन लोगों के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली जा रही है। बीते दिन 48 लोग क्वारंटीन पर थे जिनमें से तीन लोग पूरी तरह स्वस्थ हैं।
जिला प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार अल्मोड़ा जनपद के ताकुला में तीन ताड़ीखेत में आठ, हवालबाग में सबसे ज्यादा 13, भिकियासैंण में दो, द्वाराहाट में छह, देघाट में तीन, लमगड़ा में दो, चौखुटिया में छह लोग होम क्वारंटीन में रखे गए हैं। जबकि दो लोगों को बेस अस्पताल में रखा गया है। डीएम नितिन सिंह भदौरिया ने बताया कि होम क्वारंटीन पर रखे सभी लोगों के स्वास्थ्य की नियमित रिपोर्ट ली जा रही है।
दो लोगों के सैंपल हल्द्वानी भेजे
अल्मोड़ा। बाहरी जिलों से पहुंचे दो लोगों में सर्दी, जुकाम के लक्षण होने पर संदेह के आधार पर जिला प्रशासन ने दोनों के सैंपल जांच के लिए हल्द्वानी भेज दिए हैं। तीन दिन पूर्व सल्ट निवासी एक व्यक्ति विदेश से आया था और भैंसियाछाना निवासी एक युवक दिल्ली से आया था। जिला प्रशासन ने बताया कि रिपोर्ट आने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

छह घंटे जमकर की खरीदारी, इसके बाद बाजार में पसरा सन्नाटा

अल्मोड़ा। लॉकडाउन में ढील के दौरान सोमवार को बाजार में खरीदारी के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। लोगों ने सब्जी, दूध, राशन समेत अन्य जरूरी वस्तुओं की खरीदारी की। दुकानों के बाहर लोगों की लाइन लगी रही। इस दौरान लोगों ने सामाजिक दूरी (सोशल डिस्टेंसिंग) बनाए रखी।
लॉकडाउन में ढील के दौरान खरीदारी के लिए सोमवार को भी अल्मोड़ा बाजार सुबह सात से एक बजे तक खुली रही। नगर के मुख्य बाजारों में खरीदारी के चलते काफी चहल-पहल रही। लोगों ने दुकानों से दूध, सब्जी, गेहूं, चावल, तेल, चीनी आदि की खरीदारी की।
सब्जी की दुकानों में भी भारी भीड़ रही। सब्जी खरीदने के लिए लोगों में होड़ मची रही। दुकानदारों ने भी रेट लिस्ट के आधार पर ग्राहकों को सब्जी बेची। हालांकि कुछ स्थानों पर ओवररेट सब्जी बेचने की शिकायत भी मिली है। मेडिकल स्टोरों में भी दवा खरीदने के लिए लोगों की लाइन लगी रही। एटीएम में पैसे निकालने के लिए लोग अपनी बारी का इंतजार करते हुए दिखे। छह घंटे की चहल-पहल के बाद बाजार में एक बजे बाद सन्नाटा पसर गया।
... और पढ़ें

मालरोड समेत विभिन्न मोहल्लों में किया सैनिटाइजेशन

अल्मोड़ा। पालिका परिषद का शहर में सैनिटाइजेशन का कार्य जारी है। सोमवार को पालिका परिषद ने फायर ब्रिगेड वाहन के सहयोग से शहर की मालरोड में सैनिटाइजेशन का कार्य किया।
पालिका कर्मियों ने फायर ब्रिगेड वाहन से शिखर तिराहे से ब्राइटन कार्नर तक सोडियम हाईड्रो क्लोराइड का छिड़काव किया। इसके अलावा पालिका कर्मियों द्वारा नगर के विभिन्न मोहल्लों में सफाई कार्य करने के साथ ही ब्लीचिंग पाउडर, चूने का छिड़काव किया।
इस दौरान पालिका परिषद के सफाई निरीक्षक लक्ष्मण भंडारी, राजपाल पवार, लक्ष्मण सिंह, आनंद सिंह, प्रदीप पांडे, गोपाल सिंह, दीप चंद्र, फायर कर्मी हरीश राम टम्टा, उमेश और देवेंद्र गिरि आदि शामिल थे।
... और पढ़ें

आवागमन छूट निरस्त होने से बाहरी मजदूरों और फंसे लोगों में मायूसी

अल्मोड़ा के माल रोड को सैनिटाइज करता फायर ब्रिगेड का वाहन।
रानीखेत (अल्मोड़ा)। मुख्यमंत्री द्वारा मंगलवार को अंतरराज्जीय आवागमन की छूट को निरस्त किए जाने से बाहरी मजदूरों और दूसरे स्थानों पर फंसे लोगों में निराशा का माहौल है। यहां एसडीएम परिसर में कई लोग आवागमन पास बनवाने पहुंचे। हालांकि इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखा गया। लोग बारी-बारी से एसडीएम अभय प्रताप से मिले और अपनी परेशानी बताई। हालांकि प्रशासन खास कारण बताने पर ही परमिशन देने के मूड में है।
बता दें कि तराई क्षेत्र के कई मजदूर रानीखेत में कार्य करते हैं, लेकिन लॉक डाउन के बाद अब काम धंधे बंद हो गए हैं। मंगलवार को आवागमन की छूट के बाद लोगों को उम्मीद थी कि वह लोग भी अपने घर जा पाएंगे, लेकिन रविवार की शाम छूट निरस्त होने की सूचना के बाद उनमें फिर मायूसी छा गई। उनका कहना था कि क्या करें, काम धंधा है नहीं, ऐसे में क्या खाएंगे। किराए के कमरों में रहते हैं, किराया भी कैसे दिया जाए। एसडीएम साहब के पास आए हैं, यदि परमिशन मिल जाती है तो अच्छा था, अपने घर में जाकर रूखी सूखी खा लेते।
... और पढ़ें

अपनी जान की करो परवाह, लॉक डाउन में घर में ही रहो श्रीमान

भूख से बेहाल बंदर, कूड़े में खोज रहे भोजन

अल्मोड़ा। लोकडाउन के चलते लोग जहां घरों में कैद हैं वहीं आवारा जानवर भूख से बेहाल हैं। हालत ये हो गई है कि बंदर कूड़े में भोजन तलाशते नजर आएं। गलियों में घूमने वाले कुत्ते भी भूख से बेहाल हैं। हालांकि आवारा पशुओं के लिए प्रशासन की ओर से भी व्यवस्था की जा रही है लेकिन इस समय बंदर सबसे ज्यादा संकट में हैं। घरों में उत्पात मचाने वाले बंदर इन दिनों भूख मिटाने के लिए सड़क किनारे कूड़े के ढेर के पास एकत्र हो जाते हैं और उसमें भोजन तलाशते हैं। कई उत्पाती बंदर लोगों के सब्जी फलों के थैलों पर भी झपट पड़ते हैं। बंदरों के झुंड के एक साथ बैठने से लोग भी इन मार्गों से गुजरने से डर रहे हैं। कूड़े के ढेर में पड़ी सड़ी गली चीजों के खाने से बंदरों और कुत्तों में संक्रमण होने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है। ... और पढ़ें

भूख से बेहाल बंदर, कूड़े में खोज रहे भोजन

अल्मोड़ा। लोकडाउन के चलते लोग जहां घरों में कैद हैं वहीं आवारा जानवर भूख से बेहाल हैं। हालत ये हो गई है कि बंदर कूड़े में भोजन तलाशते नजर आएं। गलियों में घूमने वाले कुत्ते भी भूख से बेहाल हैं। हालांकि आवारा पशुओं के लिए प्रशासन की ओर से भी व्यवस्था की जा रही है लेकिन इस समय बंदर सबसे ज्यादा संकट में हैं। घरों में उत्पात मचाने वाले बंदर इन दिनों भूख मिटाने के लिए सड़क किनारे कूड़े के ढेर के पास एकत्र हो जाते हैं और उसमें भोजन तलाशते हैं। कई उत्पाती बंदर लोगों के सब्जी फलों के थैलों पर भी झपट पड़ते हैं। बंदरों के झुंड के एक साथ बैठने से लोग भी इन मार्गों से गुजरने से डर रहे हैं। कूड़े के ढेर में पड़ी सड़ी गली चीजों के खाने से बंदरों और कुत्तों में संक्रमण होने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है। ... और पढ़ें

Uttarakhand Lockdown: मुश्किल हालात में ऐसे बने खेवनहार, कोई बांट रहा राशन तो किसी ने चलाया रोटी बैंक

कोरोना वायरस के संक्रमण की आशंका के चलते घोषित हुए लॉकडाउन से कई जगह स्थितियां खराब होने लगी हैं। ऐसे में कुछ लोग मुसीबत में फंसे लोगों की मदद को आगे आए हैं। इनमें से कुछ लोगों ने रोटी बैंक तो किसी ने जरूरतमंदों तक राशन पहुंचाने का जिम्मा उठाया है। इन सबके बीच स्वास्थ्य कर्मियों के अलावा अलग-अलग फील्ड से जुड़े कोरोना सैनानी अपनी भूमिका निभाने में जुटे हैं। अल्मोड़ा जिला प्रशासन ने गरीब, मजदूर असहाय लोगों को निशुल्क भोजन की व्यवस्था के लिए

रोटी बैंक को रविवार से हुक्का क्लब से संचालित किया जा रहा है। रोटी बैंक खुलने से नगर के जरूरतमंद लोगों को काफी फायदा भी पहुंच रहा है। रविवार को ही रोटी बैंक की ओर से करीब एक हजार जरूरतमंद लोगों को भोजन के पैकेट बांटे गए।

जबकि 600 लोगों की डिमांड और आ चुकी है और इनके लिए भी भोजन की व्यवस्था की जा रही है। डीएम नितिन सिंह भदौरिया ने बताया कि ऐसे जरूरतमंद जिन्हें भोजन की आवश्यकता है नोडल अधिकारी डॉ. अजीत तिवारी से संपर्क कर सकते हैं। वहीं सर्वदलीय महिला संस्था अल्मोड़ा ने नगर के विभिन्न वार्डों में गरीब और बेसहारा लोगों को धारानौला में राशन किट वितरित किए।
... और पढ़ें

जानिए, कहां और कैसे मिल सकती है सहायता और जानकारी

जानिए, कहां और कैसे मिल सकती है सहायता और जानकारी
1. मैं सामान्य बीमार हूं, तो कहां जांच करा सकता हूं? किस नंबर पर फोन करना होगा? मेडिकल इमरजेंसी में कहां संपर्क करें?
- बीमार होने पर जिला, महिला और बेस अस्पताल में व्यक्ति उपचार कराया जा सकता है। इसके लिए जिला अस्पताल के दूरभाष नंबर 05962-230064, महिला अस्ताल के दूरभाष नंबर 05962-230426, बेस अस्पताल के दूरभाष नंबर 05962-230012 पर जानकरी ले सकते हैं। इसके अलावा इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) से संबद्ध शहर के निजी क्लीनिकों में उपचार की सुविधा भी उपलब्ध है। किसी व्यक्ति का अचानक स्वास्थ्य बिगड़ जाए और अस्पताल ले जाना जरूरी हो तो एंबुलेंस के लिए भी आपदा कंट्रोल रूम के नंबर- 05962-237874 और 05962-237875 पर करें संपर्क कर सकते हैं।
2. मुझे कोरोना के लक्षण महसूस हो रहे हैं, कहां जांच करवानी चाहिए, लैब कहां है। उनकी दरें क्या हैं, क्या ये टेस्ट विश्वसनीय हैं।
अल्मोड़ा में कोई भी प्राइवेट लैब कोरोना वायरस संक्रमण की जांच के लिए अब तक अधिकृत नहीं है। कोरोना के लक्षण की आशंका पर संबंधित व्यक्ति कलक्ट्रेट स्थित कंट्रोल रूम के नंबर 05962-237874 पर संपर्क कर सकते हैं। संबंधित व्यक्ति को तुरंत उपचार मिलेगा।
3. जरूरत पड़ने पर मैं किस इलाके में किस डॉक्टर से संपर्क करूं।
- स्वास्थ्य खराब होने पर स्थानीय डॉक्टर और फेमिली डॉक्टर से परामर्श लिया जा सकता है। आपातकालीन चिकित्सा नं. 108 के अलावा निजी क्लीनिकों के डॉ. एनएस चौहान 9412037069, जीवन ज्योति अस्पताल 941070784198, अंजलि अस्पताल 9412100200, हिमालयन डेंटल सेंटर 9412506286, सरस्वती डे केयर सेंटर 9410316794, लाइफ केयर हास्पिटल एंड कार्डियक केयर सेंटर 7249992323 पर संपर्क करें। निजी क्लीनिकों में ओपीडी प्रात: दस बजे से एक बजे तक चल रही है।
4. किस क्षेत्र में, दूध, फल सब्जियां कब और कहां उपलब्ध होंगी?
- लॉकडाउन के दौरान अल्मोड़ा जिले में सरकार ने फिलहाल सुबह सात बजे से अपराह्न एक बजे तक राशन, सब्जी, दूध समेत अन्य जरूरी वस्तुओं की दुकानें खोलने की व्यवस्था की है। इस अवधि में लोग अपनी जरूरत की चीजें निकट की बाजार और कस्बों से खरीद सकते हैं।
5. ऑनलाइन सेवाएं उपलब्ध हैं क्या।
- सोशल डिस्टेंसिंग को बनाए रखने को जिला प्रशासन ने होम डिलीवरी के लिए हिलांस आउटलेट, विशाल मेगा मार्ट, इजी-डे और कुमाऊं मार्ट के माध्यम से जरूरत की चीजें ऑनलाइन मंगाने की व्यवस्था की है। जरूरतमंद व्यक्ति कंट्रोल रूम के व्हाट्स एप नंबर 9458115596 पर निर्धारित प्रारूप पर जरूरत की चीजें चावल, दाल, आटा, तेल और मसाला, नमक, चीनी, चायपत्ती, साबुन, निरमा इत्यादि की सूची भेजी जा सकती है। जिसे प्रशासन संबंधित नजदीकी स्टोर को प्रेषित करेगा। इसके बाद जरूरतमंद के घर सूची के आधार पर सामग्री की होमडिलिवरी की जाएगी। दवाओं के लिए केमिस्ट एसोसिएशन के दूरभाष नं. 9472093636, 9412045197, 941113289 पर संपर्क करें।
6. सामुदायिक मदद के लिए कौन सी संस्था या संगठन, सक्रिय हैं। मुझे मदद चहिए, किससे मिलूं।
- यदि किसी व्यक्ति को कोरोना वायरस संक्रमण के लॉकडाउन के कारण मदद की जरूरत है तो वह कलक्ट्रेट में नोडल समन्वयक के मोबाइल नं. 9412418962 पर संपर्क कर सकता है। यहां से इस संबंध में पूर्ण जानकारी मिलेगी।
7. मैं भी सेवा या मदद करना चाहता हूं, क्या करना होगा? मुझे विश्वसनीय संगठन के पदाधिकारी का संपर्क सूत्र दे दीजिए।
- लॉकडाउन के दौरान यदि जरुरतमंद की मदद करने के लिए कोई आगे आए तो वह विश्वसनीय संगठन की जानकारी लेने के लिए 9412418962 पर संपर्क करे।
8. मेरा घर से निकलना बेहद जरूरी है, गाड़ी के पास के लिए किससे संपर्क करना होगा ?
सरकार ने राज्य में यातायात के लिए 31 मार्च को सुबह सात बजे से सायं आठ बजे तक खुला रखा है। राज्य के जो निवासी कहीं फंसे हों और अल्मोड़ा आना चाहते हैं अथवा किसी मुसीबत के कारण हर हाल में यात्रा करने की मजबूरी है तो कलक्ट्रेट में बनाए गए यातायात डेस्क में संपर्क करें। तुरंत जानकारी हासिल करने के लिए 05962-237874, 237875 पर संपर्क करना होगा। 31 मार्च को यात्रा के लिए इच्छुक व्यक्ति व्हाट्सएप नंबर 9458115589 पर अपना नाम, पता, पिता/पति का नाम, वर्तमान स्टेशन और जिला, अल्मोड़ा जिले से जिस जहां जाना है वहां का नाम और मो. नंबर देना होगा।
9. पुलिस या एंबुलेंस की मदद के लिए कहां संपर्क करें।
- पुलिस और एंबुलेंस से यदि मदद चाहिए तो कलक्ट्रेट स्थित कंट्रोल रूम के नंबर 05962-237874 पर संपर्क करना होगा।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us