विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
एक माह तक वृंदावन बिहारी जी मंदिर में कराएं चन्दन तुलसी इत्र सेवा , मिलेगा नौकरी व व्यापार से जुड़े समस्याओं का समाधान
Puja

एक माह तक वृंदावन बिहारी जी मंदिर में कराएं चन्दन तुलसी इत्र सेवा , मिलेगा नौकरी व व्यापार से जुड़े समस्याओं का समाधान

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

चारों कोरोना संक्रमितों को एसटीएच हल्द्वानी भेजा

बागेश्वर। बृहस्पतिवार को कोरोना संक्रमित पाए गए चारों लोगों को शुक्रवार सुबह सुशीला तिवारी अस्पताल हल्द्वानी भेज दिया गया। पहले संक्रमित पाए गए दो लोग 20 मई को हल्द्वानी भेजे गए थे। शुक्रवार को तीन और लोगों को जिला अस्पताल परिसर में बनाए गए कोविड-19 अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है।
सीएमओ डॉ. बीएस रावत ने बताया कि चारों संक्रमितों को शुक्रवार सुबह हल्द्वानी भेजा गया। चारों हल्द्वानी पहुंच गए हैं। एसीएमओ डॉ. वीके सक्सेना ने बताया कि शुक्रवार को तीन और लोगों को अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है। बृहस्पतिवार को आइसोलेशन वार्ड में 16 लोग भर्ती थे। इनमें से पांच की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई है। कोविड अस्पताल में 11 और निजी होटल में बनाए गए आइसोलेशन वार्ड में चार लोग भर्ती हैं। इनमें बुखार, खांसी, जुकाम के लक्षण पाए गए हैं। कोरोना जांच के लिए सैंपल भेजे गए हैं। तीन दिन में कोरोना संक्रमण के मामलों में तिगुनी वृद्धि होने से लोगों में दहशत है। चार मई से बाहरी प्रदेशों से करीब सात हजार प्रवासी जिले में लौटे हैं। इनमें से अधिकतर लोगों को गांवों में सुविधायुक्त क्वारंटीन या होम क्वारंटीन किया गया है।
बिलौना क्षेत्र को सैनिटाइज किया जाए
बागेश्वर। जिला मुख्यालय में बिलौना के लोगों ने बिलौना क्षेत्र का सैनिटाइजेशन करने की मांग की है। डीएम रंजना राजगुरु को सौंपे ज्ञापन में इन लोगों ने कहा है कि बाहरी क्षेत्र से आ रहे प्रवासियों को बिलौना स्थित एक निजी स्कूल में ठहराया जा रहा है। बिलौना बस अड्डे में उनकी जांच हो रही है। यह लोग स्कूल के पास बहने वाले नाले में मल-मूत्र त्यागने जा रहे हैं। नदी में हाथ-मुंह धो रहे हैं। दुकानों से खरीदारी कर रहे हैं। इससे संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। कहा कि बिलौना क्षेत्र को सैनिटाइज नहीं किया जा रहा है और न ही सफाई की जा रही है। इस कारण क्षेत्र के किसानों को खेतों में जाने में भी परेशानी हो रही है। इन लोगों ने समस्या सुलझाने की मांग की है। ज्ञापन में लक्ष्मण सिंह, हिमांशु दफौटी, गोविंद सुयाल, रॉबिन ऐठानी, हरीश सिंह आदि के हस्ताक्षर हैं।
... और पढ़ें

बाहरी प्रदेशों से 208 लोग बागेश्वर पहुंचे

बागेश्वर। रोडवेज की आठ बसों से शुक्रवार को 208 प्रवासी स्टेजिंग एरिया बिलौना पहुंचे। निजी वाहन और टैक्सियों से भी तमाम लोग बाहरी क्षेत्रों से बागेश्वर पहुंचे हैं। शुक्रवार को लखनऊ, दिल्ली, महाराष्ट्र, मुरादाबाद, गाजियाबाद, चंडीगढ़ से बसों के जरिये तमाम प्रवासी बागेश्वर पहुंचे। स्टेजिंग एरिया बिलौना पहुंचने पर उनका स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। सबका डाटा जुटाने के बाद उन्हें होम क्वारंटीन/फैसिलिटी क्वारंटीन सेंटर के लिए रवाना किया गया।
अल्मोड़ा जिले में बाहरी राज्यों से 21 हजार से अधिक प्रवासी लौटे
अल्मोड़ा। जिले में बाहरी राज्यों और अन्य जिलों से फंसे प्रवासियों के लौटने का सिलसिला जारी है। शुक्रवार तक विभिन्न राज्यों और उत्तराखंड के ही अन्य जिलों से कुल 21 हजार से अधिक प्रवासी लौट चुके हैं।
नोडल अधिकारी एसके उपाध्याय ने बताया कि देश के तमाम राज्यों से प्रवासी लगातार घर वापसी कर रहे हैं। कई लोग अनुमति लेकर निजी संसाधनों से लौट रहे हैं तो कई प्रवासी रोडवेज की वाहनों से लौट रहे हैं। लॉकडाउन-1 से अल्मोड़ा जिले में उत्तराखंड के अन्य जिलों और विभिन्न बाहरी राज्यों से कुल 21138 प्रवासी पहुंच चुके हैं। शुक्रवार को 13 बसों में कर्नाटक, हरियाणा, राजस्थान, यूपी, हिमाचल प्रदेश, गुजरात, दिल्ली, जम्मू-कश्मीर, ऊधमसिंह नगर, नैनीताल, चमोली, देहरादून से कुल 440 प्रवासी लौटे। डॉक्टरों की टीम ने इन सभी की थर्मल स्क्रीनिंग कर होम क्वारंटीन के लिए भेजा।
बिहारी श्रमिक लौट रहे, नेपाली ताक रहे राह
अल्मोड़ा। जिले में अन्य राज्यों के फंसे श्रमिक भी अपने घर वापसी का प्रयास कर रहे हैं। जिले में करीब दो हजार बिहारी श्रमिकों ने घर लौटने के लिए पंजीकरण करवाया है। इसमें से करीब 900 से अधिक बिहारी श्रमिक घर लौट चुके हैं। एक हजार श्रमिकों को घर वापसी का इंतजार है। बताया गया है कि पिछले दिनों काफी संख्या में बिहारी मजदूर अपने खर्च पर भी घर लौट चुके हैं। इसमें बेतिया के लिए गई बसें 3500 रुपये प्रति सवारी के हिसाब से गई। एक ही बस में करीब एक लाख रुपये खर्च हुआ। अल्मोड़ा तहसील क्षेत्र में कुल 590 नेपाली श्रमिक वतन वापसी की राह ताक रहे हैं। बाहरी श्रमिक रोज कलक्ट्रेट में पंजीकरण समेत विभिन्न कार्यों के लिए चक्कर लगा रहे हैं। संवाद
... और पढ़ें

घरों में सादगी से मनाया वट-सावित्री पर्व

अल्मोड़ा/बागेश्वर। लॉकडाउन के बीच वट-सावित्री का व्रत लेकर महिलाओं ने घरों में ही पूजा अर्चना कर पति की दीर्घजीवन की कामना की। कई महिलाओं ने अपने गांव, मोहल्लों में स्थित पीपल और वट के वृक्ष के पास जाकर भी वट-सावित्री की पूजा की।
पहले वट-सावित्री पर्व पर मंदिरों और अन्य स्थानों पर सामूहिक रूप से महिलाएं पूजा करतीं थीं, लेकिन इस बार लॉकडाउन के कारण मंदिरों आदि सार्वजनिक स्थानों पर आयोजन नहीं हो सके। पारंपरिक परिधान में सजकर महिलाओं ने घरों में ही विधिविधान के साथ ही वट-सावित्री की पूजा कर पति की दीर्घायु की कामना की। महिलाओं ने पीपल और वट वृक्ष पर अक्षत और कुमकुम चढ़ाया। बाद में सूत के धागे को पीपल और वट वृक्ष पर बांधा। पेड़ के सात चक्कर लगाकर पति की दीर्घायु की। थपलिया में एक घर में हुई वट सावित्री की पूजा में राधा बिष्ट, लता पांडे, तारा तिवारी, हीरा तिवारी, पुष्पा पांडे, दीपा कांडपाल, सोनी तिवारी, सोनी जोशी, हंसा बोरा आदि थे।
बागेश्वर में भी महिलाओं ने वट-सावित्री पर्व घरों में ही मनाया। अन्य वर्षों में मंदिरों में धूमधाम से यह पर्व मनाया जाता था। वट-सावित्री पर्व पर हिंदु महिलाओं ने शुक्रवार को व्रत रखा। घरों में पूजा-अर्चना की। कई घरों में पंडित को बुलाकर पूजा करवाई। अन्य वर्षों बागेश्वर के बागनाथ धाम समेत रामघाट, उल्का आदि मंदिरों में वट वृक्ष की पूजा की जाती थी। इस बार यह आयोजन भी कोरोना संक्रमण की भेंट चढ़ गया। जिलेभर में महिलाओं ने सादगी के साथ वट-सावित्री पर्व मनाया।
... और पढ़ें

विद्युत लाइन निर्माण के लिए लाए गए पोल चुरा ले गए चोर

बागेश्ववर। बागेश्वर में चोरों के हौसले इतने बुलंद हो गए हैं कि अब बिजली के पोल भी चुरा ले जा रहे हैं। शाह करुली में बिजली की लाइन निर्माण के लिए यूपीसीएल द्वारा ले जाए गए 5 पोल चोरी हो गए। यूपीसीएल के अधिशासी अभियंता भाष्कर पांडेय ने अवगत कराया है कि विभाग ने विभाग ने विद्युत लाइन निर्माण के लिए शाह करुली में 6 पोल सड़क किनारे रखे थे जो चोरी हो गए हैं। ईई ने बताया कि तुपेड़ पटवारी चौकी में रिपोर्ट दर्ज करा दी गई है। राजस्व पुलिस चोरी का खुलासा करने में जुट गई है। बिजली के भारीभरकम पोलों को कौन चुरा ले गया यह गंभीर सवाल है। पोल क्यों और किस उद्देश्य से किसने चुराए हैं, इसका पता मामले के खुलासे के बाद ही चलेगा। ... और पढ़ें

Uttarakhand Weather : अगले दो दिन पहाड़ी इलाकों में ओलावृष्टि और बिजली गिरने की चेतावनी

भारत मौसम विज्ञान विभाग ने 28 और 29 मई को उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में ओलावृष्टि और बिजली गिरने की चेतावनी जारी की है।

जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी सिखा सुयाल ने बताया है कि मौसम विज्ञान विभाग ने दो दिन उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में कहीं-कहीं ओलावृष्टि और बिजली गिरने की संभावना जताई है। बताया गया है कि 30 और 31 मई को मौसम सामान्य रहेगा।

वहीं आज देहरादून में चटख धूप खिली रही। लोग उमस और गर्मी से खासे परेशान रहे। हालांकि कुछ पहाड़ी इलाकों में दोपहर बाद मौसम बदल गया। उत्तरकाशी के पुरोला मोरी में गडग़ड़ाहट के बाद अंधेरा छा गया और बारिश शुरू हो गई। बड़कोट में भी तेज गडग़ड़ाहट के साथ आंधी तूफान शुरू हो गया। यमुनाघाटी में हवा और तेज गर्जना के साथ बारिश शुरू हो गई।

धोलास के जंगल में लगी आग

देहरादून में प्रेमनगर के धोलास जंगल में मंगलवार रात आग लगने से अफरातफरी मच गई। सूचना पर पहुंचे फायर कर्मियों ने कई घंटे के प्रयासों के बाद आग पर काबू पाया। आग लगने के कारणों का फिलहाल पता नहीं चल पाया है।
... और पढ़ें

फैसिलिटी क्वारंटीन में दो की तबीयत बिगड़ी, महाराष्ट्र से लौटे थे

बागेश्वर। महाराष्ट्र से बागेश्वर पहुंचे दो प्रवासियों का स्वास्थ्य खराब हो गया है। दोनों को स्वास्थ्य विभाग ने फैसिलिटी क्वारंटीन से होटल स्थित संस्थागत क्वारंटीन में भर्ती कर दिया है। मंगलवार को 39 के सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। बागेश्वर के भनार निवासी लक्ष्मण सिंह और चुचेर निवासी रमेश सिंह सोमवार को मुंबई से लौटे थे। दोनों को अन्य प्रवासियों के साथ बागेश्वर के विवेकानंद स्कूल स्थित फैसिलिटी क्वारंटीन में रखा गया था। दोनों बुखार और बदन दर्द से पीड़ित थे। स्वास्थ्य विभाग ने दोनों का परीक्षण किया। दोनों को एक निजी होटल में क्वारंटीन कर दिया गया है। उधर, डिप्टी सीएमओ डॉ. वीके सक्सेना ने बताया कि जिले से मंगलवार को 39 सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। जिनकी रिपोर्ट बुधवार को आएगी। उन्होंने बताया कि कोविड अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में 5 और निजी होटल के आइसोलेशन में 3 लोगों को भर्ती किया गया है। गौरतलब है कि अब तक 8 लोगों में कोरोना के लक्षण सामने आ चुके हैं। संवाद ... और पढ़ें

कोरोना संक्रमण के मामले मिलने के बाद भी लोग सजग नहीं

बागेश्वर। कोरोना पॉजिटिव के मामले मिलने के बाद बागेश्वर जिला ग्रीन जोन से ऑरेंज जोन में आ चुका है। संक्रमण का खतरा मंडरा रहा है, लेकिन लोग सामाजिक दूरी बनाने के प्रति लापरवाह हैं। बाजार हो, अस्पताल या कोई अन्य स्थान, सोशल डिस्टेंस का पालन करने के प्रति लोग गंभीर नहीं हैं। यहां तक कि सेना की कैंटीन में भी इसका उल्लंघन देखा जा रहा है। जिले में कोरोना संक्रमण के 8 मामले सामने आ चुके हैं। सामाजिक दूरी बनाने के लिए पुलिस व प्रशासन अभियान चला रहा है। पालन न करने वालों के खिलाफ कार्रवाई भी अमल में लाई जा रही है, लेकिन लोग सजग नहीं हो रहे हैं। मंगलवार को अमर उजाला ने बाजार, अस्पताल के साथ ही सेना कैंटीन का जायजा लिया। कहीं पर भी सामाजिक दूरी का पालन होता नहीं दिखा। बैंकों के बाहर भी झुंड के रूप में लोग खड़े दिए। कुछ दुकानदार अवश्य लोगों को सामाजिक दूरी बनाने के लिए प्रेरित कर रहे थे, लेकिन सुनने को तैयार नहीं हैं। कोरोना संक्रमण की बातें अवश्य कर रहे हैं लेकिन सावधानियां बरतने के नाम पर स्वयं कुछ करने को तैयार नहीं हैं। ... और पढ़ें

कीमू गांव में होम क्वारंटीन किए गए बुजुर्ग की तबियत बिगड़ी

बागेश्वर सेना कैंटीन के बाहर सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाते लोग। संवाद न्यूज एजेंसी
बागेश्वर/कपकोट। कपकोट तहसील के दूरस्थ गांव कीमू में होम क्वारंटीन एक बुजुर्ग की रविवार को अचानक तबियत खराब हो गई। बुजुर्ग हाल में दिल्ली से ब्रेन का इलाज कर लौटा है। भय के मारे गांव के लोग उसे अस्पताल लाने के लिए तैयार नहीं हुए। सूचना पर एसडीएम ने राजस्व टीम के साथ एंबुलेंस गांव भेजी। बुजुर्ग को जिला अस्पताल लाया जा रहा है।
जिला मुख्यालय से 80 किमी दूर कीमू गांव निवासी नेत्र सिंह (64) पुत्र गाबू सिंह की तबियत रविवार को बिगड़ गई। बाहर से लौटे होने के कारण गांव के लोग बुजुर्ग को अस्पताल लाने के लिए तैयार नहीं हुए। बताया जा रहा है कि कीमू की प्रधान ममता देवी ने टेलीफोन से आपदा कंट्रोल रूम को दी। कीमू गांव जाने के लिए 80 किमी दूर गोगिना से पांच किमी पैदल चलना पड़ता है। कपकोट के एसडीएम प्रमोद कुमार ने बताया कि नेत्र हाल में दिल्ली से ब्रेन का इलाज कर गांव लौटा था। उसे ऐहतियातन होम क्वारंटीन किया गया था। एसडीएम ने बताया कि दिल्ली से लौटा होने के कारण गांव के लोग बुजुर्ग को अस्पताल लाने के लिए तैयार नहीं हुए। सूचना मिलने पर राजस्व टीम और एंबुलेंस गोगिना के लिए रवाना की गई है। बुजुर्ग को जिला अस्पताल भेजा जाएगा। बुजुर्ग की तबियत काफी खराब है।
... और पढ़ें

बागेश्वर में दो और कोरोना संक्रमित मिले, आंकड़ा पहुंचा 8

बागेश्वर। इस माह 18 मई तक कोरोना संक्रमण से अछूते बागेश्वर जिले में दो और लोगों में कोरोना का संक्रमण पाया गया है। जिले में अब कोरोना संक्रमितों की संख्या आठ पहुंच गई है। छह दिन में आठ कोरोना संक्रमित पाए जाने से जिले के लोगों में हड़कंप है।
रविवार को जिले के दो लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। इनमें से एक युवक 18 मई को गुजरात के अहमदाबाद से तो दूसरा व्यक्ति 20 मई को दिल्ली से लौटा था। डीएम रंजना राजगुरु ने बताया कि अहमदाबाद से आए 32 वर्षीय युवक और दिल्ली से आए 52 वर्षीय व्यक्ति में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। इनमें से एक व्यक्ति होटल में बनाए गए आइसोलेशन वार्ड में तो दूसरा निजी होटल के संस्थागत क्वारंटीन में रखा गया था। जिले से शनिवार को 29 सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे। इनमें से 27 की रिपोर्ट निगेटिव आई है। प्रशासन संक्रमित लोगों के संपर्क में आए लोगों की डिटेल खंगाल रहा है। संक्रमित पाए गए दोनों लोगों को सुशीला तिवारी अस्पताल हल्द्वानी भेजा जा रहा है। बागेश्वर में कोरोना संक्रमण के दो मामले 19 मई को और चार मामले 21 मई को सामने आए थे। रविवार को दो और मामले मिलने से संक्रमितों की संख्या आठ पहुंच गई है। लगातार बढ़ रहे मामलों ने प्रशासन के साथ ही लोगों की चिंता बढ़ा दी है। प्रवासियों में संक्रमण पाए जाने के बाद लोग एक स्वर से बाहर से लौट रहे प्रवासियों को संस्थागत क्वारंटीन में रखने की मांग करने लगे हैं। रविवार को बाहर से लौटे सभी 705 लोगों को प्रशासन ने संस्थागत और फैसिलिटी क्वारंटीन में रखा।
... और पढ़ें

मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना प्रवासियों के लिए महत्वाकांक्षी सिद्ध होगी: डीएम

बागेश्वर। डीएम रंजना राजगुरु ने कहा कि बाहरी प्रदेशों से लौटे प्रवासियों, बेरोजगार युवाओं के लिए मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना महत्वाकांक्षी सिद्ध होगी। डीएम ने जिला स्वरोजगार प्रोत्साहन एवं अनुश्रवण समिति की बैठक में संचालित योजनाओं की जानकारी ली। जीएम डीआईसी विमल चौधरी ने बताया कि उद्यमशील युवा, प्रवासियों को स्वयं के व्यवसाय के लिए बैंकों के माध्यम से सुविधा दिलाने के लिए मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना संचालित की जा रही है। डीएम ने सूक्ष्म लघु, मध्यम उद्योगों के माध्यम से विकास की कार्ययोजना बनाने, जिला स्तर पर विभिन्न विभागों के स्वरोजगार कार्यक्रमों की मैपिंग, वार्षिक लक्ष्य निर्धारण करने के निर्देश दिए। उन्होंने अत्यधिक पैदावार वाली फसल, पशुपालन, बागवानी, सब्जी उत्पादन, होटल व्यवसाय के लिए बेहतर कार्ययोजना तैयार करते के निर्देश दिए। महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए सभी स्वरोजगार योजनाओं में महिलाओं के लिए निर्धारित लक्ष्य पूरा करने के निर्देश दिए। बैठक में सीडीओ डीडी पंत, सीवीओ डॉ. उदय शंकर, सीएओ वीपी मौर्य, डीएचओ आरके सिंह, समाज कल्याण अधिकारी एनएस गस्याल आदि थे। ... और पढ़ें

705 प्रवासियों के किया संस्थागत/फैसेलिटी क्वारंटीन

बागेश्वर। रविवार को रोडवेज की 29 बसों से 705 प्रवासी बागेश्वर पहुंचे। प्रशासन ने स्वास्थ्य जांच के बाद ऐहतियातन सभी प्रवासियों को 14 दिन के लिए संस्थागत और फैसिलिटी क्वारंटीन में भेज दिया है। यह लोग मुंबई, बंगलुरु, राजस्थान, पंजाब, गाजियाबाद, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश से पहुंचे थे। चिंताजनक बात यह है कि स्वास्थ्य जांच और डाटा जुटाने के दौरान दो गज दूरी का कतई पालन नहीं किया गया। प्रवासी लाइन में चिपक के खड़े थे। झुंड के रूप में बैठकर स्वास्थ्य जांच का इंतजार करते देखे गए।
हल्द्वानी तक ट्रेन से पहुंचे इन लोगों का शनिवार रात 11 बजे के बाद बागेश्वर के स्टेजिंग ऐरिया बिलौना पहुंचने का सिलसिला शुरू हुआ। इन सभी लोगों का रविवार की सुबह से स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। डीडीओ केएन तिवारी ने बताया कि बाहरी प्रदेशों से पहुंचे सभी लोगों को तहसील और जिला स्तर पर बनाए गए संस्थागत क्वारंटीन के साथ ही स्कूलों में बनाए गए फैसिलिटी क्वारंटीन के लिए भेजा गया किसी को भी गांवों के लिए रवाना नहीं नहीं किया। इन लोगों को जिला मुख्यालय के साथ ही कांडा, बैजनाथ, कौसानी में क्वारंटीन किया गया है। टीमें क्वारंटीन किए गए लोगों पर लगातार निगरानी रखेगी।
इंतजाम पर उठे सवाल
बागेश्वर। स्टेजिंग ऐरिया बिलौना पहुंचे प्रवासियों ने इंतजामों पर तमाम तरह के सवाल खड़े किए। इन लोगों को कहना था कि रात को बागेश्वर पहुंचने के बाद कच्चे चावल दिए गए। पानी की व्यवस्था तक नहीं थी। वाहनों को सैनिटाइज नहीं किया गया। स्टेजिंग एरिया में खाने के पैकेट बेतरतीब ढंग से फेंके मिले। डीएसओ अरुण कुमार वर्मा का कहना था कि कुछ प्रवासी रात को स्वयं भोजन के पैकेट निकालने लगे। इस वजह से बस चालकों ने भोजन नहीं किया। उन्होंने कहा कि बागेश्वर आ रहे प्रवासियों के लिए भोजन, पानी की समुचित व्यवस्था की जा रही है। मीडिया में वाहवाही लूटने के लिए कुछ यात्री इस तरह के बयान दे रहे हैं।
27 मजदूरों को बस से भेजा यूपी
बागेश्वर। रविवार को बागेश्वर के डिग्री कॉलेज परिसर एक बस के जरिये 27 मजदूरों को लखीमपुर खीरी, एटा, बुलंदशहर यूपी के लिए रवाना किया गया। रवाना करने से पूर्व इन लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। इनको नाश्ता कराया गया। मजदूरों को रवाना करते समय एसडीएम राकेश चंद्र तिवारी, इंसिडेंट कमांडर एके जॉन, नोडल अधिकारी अनिल चौधरी आदि थे।
क्वारंटीन लोग नहीं कर रहे नियमों का पालन : व्यापारी
कौसानी (बागेश्वर)। कौसानी के व्यापारियों और महिला संगठनों ने डीएम रंजना राजगुरु को ज्ञापन भेजा। बताया कि कौसानी के होटल, रिजॉर्ट में क्वारंटीन किए गए लोग नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। इसलिए संपूर्ण कौसानी को सैनिटाइज किया जाना चाहिए। क्वारंटीन किए गए व्यक्ति परिसर और बाजार में न घूमें। भोजन सामग्री आसपास न डालें, इसके इंतजाम किए जाने चाहिए। व्यापारियों ने पर्याप्त पुलिस तैनात करने की भी मांग की है। ज्ञापन में ललिता आर्या, हेमा मेहरा, चंद्रा मेहरा, ममता मेहरा, ममता थापा, पूजा मेहरा, पूजा भट्ट, निर्मला नेगी, कमला नेगी, शेखर भट्ट, विपिन पंत, खीमानंद पंत, राजा वर्मा, दीपक आर्या आदि के हस्ताक्षर हैं।
... और पढ़ें

बागेश्वर में 32 डिग्री सेल्सियस पहुंचा तापमान

बागेश्वर। नगर में पिछले कुछ दिनों से गर्मी बढ़ने लगी है। गर्मी बढ़ने से सरयू नदी में नहाने के लिए लोगों का तांता लगा है। इस बार मई पहले सप्ताह तक बारिश और ओलावृष्टि होने से घाटी वाले इलाकों में भी तापमान में बढ़ोतरी नहीं हुई। यानि गर्मी ने दस्तक नहीं दी। पिछले एक सप्ताह से मौसम साफ रहने के कारण गर्मी बढ़ने लगी है। लोग गर्मी से बचाव के लिए बिजली उपकरणों समेत नदी, नौलों के शीतल जल का लाभ भी उठा रहे हैं। सरयू नदी में सुबह से डुबकी लगाने के लिए लोग पहुंचने लगे हैं। सरयू नदी में नहाने का सिलसिला शाम चार बजे तक चलता रहता है। शाम को हवा चलने से गर्मी से कुछ हद तक निजात मिल रही है। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी शिखा सुयाल ने बताया कि रविवार को न्यूनतम तापमान 19 डिग्री और अधिकतम तापमान 32 डिग्री सेल्सियस था। उन्होंने बताया कि 25 और 26 को भी तापमान यही रहेगा। अगले कुछ दिनों तक यही तापमान रहने की संभावना जताई गई है। 27 मई को न्यूनतम तापमान में एक डिग्री सेल्सियस की कमी आने की उम्मीद है। ... और पढ़ें

Corona: दिल्ली से लौटे बुजुर्ग की तबीयत बिगड़ी, डर के कारण अस्पताल तक ले जाने को तैयार नहीं हुए ग्रामीण

उत्तराखंड में बागेश्वर के कपकोट तहसील के दूरस्थ गांव कीमू में होम क्वारंटीन किए गए एक बुजुर्ग की रविवार को अचानक तबीयत खराब हो गई। बुजुर्ग हाल ही में दिल्ली से ब्रेन का इलाज कर लौटा है। भय के मारे गांव के लोग उसे अस्पताल लाने के लिए तैयार नहीं हुए। सूचना पर एसडीएम ने राजस्व टीम के साथ एंबुलेंस गांव भेजी। बुजुर्ग को जिला अस्पताल लाया जा रहा है।

मिली जानकारी के अनुसार रविवार को जिला मुख्यालय से 80 किमी दूर कीमू गांव में नेत्र सिंह (64) पुत्र गाबू सिंह की तबीयत बिगड़ गई। बाहर से लौटे होने के कारण गांव के लोग बुजुर्ग को अस्पताल लाने के लिए तैयार नहीं हुए। बताया जा रहा है कि कीमू की प्रधान ममता देवी ने टेलीफोन से कंट्रोल रुम को दी। कीमू गांव जाने के लिए 80 किमी दूर गोगिना से पांच किमी पैदल चलना पड़ता है।

कपकोट के उपजिलाधिकारी प्रमोद कुमार ने बताया कि उक्त व्यक्ति हाल में दिल्ली से ब्रेन का इलाज कर गांव लौटा था। उसे एहतियातन होम क्वारंटीन किया गया था। सूचना मिलने पर राजस्व टीम और एंबुलेंस गोगिना के लिए रवाना की गई है। बुजुर्ग को जिला अस्पताल भेजा जाएगा। बताया जा रहा है कि बुजुर्ग की तबीयत काफी खराब है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us