विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

पिथौरागढ़ में कार खाई में गिरी, हादसे में दो की मौत और छह घायल

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में मंगलवार की शाम एक दर्दनाक हादसा हो गया। यहां एक कार गहरी खाई में जा गिरी।

10 दिसंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

चमोली

मंगलवार, 10 दिसंबर 2019

21 को जिला मुख्यालय में धरना-प्रदर्शन करेंगे शिक्षक

राजकीय प्राथमिक शिक्षक संघ चमोली की संयुक्त कार्यसमिति की बैठक में शिक्षकों की पांच सूत्री मांगों के निराकरण पर चर्चा की गई। इस दौरान मांगों के संबंध में 21 दिसंबर को जिला मुख्यालय में प्रस्तावित धरना-प्रदर्शन कार्यक्रम में जिले के सभी शिक्षकों से उपस्थिति होने का आह्वान किया।
बीआरसी सभागार कर्णप्रयाग में जिला अध्यक्ष दिगंबर सिंह नेगी की अध्यक्षता में हुई बैठक में वक्ताओं ने पुरानी पेंशन योजना बहाल करने, छठवें और सातवें वेतनमान की केंद्रीय आयोग की अनुशंसाओं की विसंगतियों को दूर कर देश में प्राथमिक शिक्षकों के लिए एक समान वेतनमान लागू करने, राष्ट्रीय शिक्षा नीति से शिक्षक विरोधी प्रावधानों को हटाते हुए प्रारंभिक शिक्षा के सुदृढ़ीकरण को सुनिश्चित करने आदि की मांग की। बैठक में संघ के जिला संरक्षक यदुवीर बिष्ट, कोषाध्यक्ष महिपाल चौहान, उपाध्यक्ष डा. बृजेंद्र कठैत, सुरेश चंद्र, दर्शन रावत, मोहन सिंह, श्वेता राणा, बबली सेंजवाल, चंद्रप्रभा नौटियाल, दिनेश बिष्ट, डीएस बिष्ट और करण सिंह आदि ने विचार व्यक्त किए।
... और पढ़ें

औली में जमने लगे झरने और नाले

हेमा करासी के नाम रही सांस्कृतिक संध्या

हिमवंत कवि चंद्रकुंवर बर्तवाल खादी ग्रामोद्योग एवं पर्यटन शरदोत्सव की आखिरी संध्या प्रसिद्ध लोक गायिका हेमा करासी के नाम रही। उनकी हर गीत की प्रस्तुति ने दर्शकों की तालियां बटोरीं। वहीं, शनिवार को मेले के समापन पर विभिन्न प्रतियोगिताओं में अव्वल रही टीमों को पुरस्कृत भी किया गया।
सात दिवसीय मेले की अंतिम सांस्कृतिक संध्या की शुरुआत हेमा करासी ने लोकगीतों नरसिंह जागर से की। उसके बाद उन्होंने मेरी बमणी बामणी, गिरी गेरुआ... सहित अन्य गीत प्रस्तुत किए। उनकी गीतों की प्रस्तुतियों पर दर्शक देर रात तक पंडाल में नाचते रहे। हेमा करासी का साथ सुनील कोटियाल, संगीता थलवाल, हिमानी रावत और सागर कुंवर आदि कलाकारों ने दिया। मुख्य अतिथि बदरी केदार मंदिर समिति के अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल, विशिष्ट अतिथि जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष गजेंद्र रावत ने कहा कि हमें लोक कलाकारों को भरपूर सम्मान देना चाहिए। इससे पूर्व मेला अध्यक्ष लक्ष्मी पंत ने अतिथियों का शॉल ओढ़ाकर स्वागत किया। मुख्य अतिथि ने मेला समिति को 51 हजार रुपये भी दान दिए। इस अवसर पर नगर पंचायत के अधिशासी अधिकारी नंदराम तिवारी, भाजपा मंडल अध्यक्ष वीरेंद्र पाल भंडारी, नगर अध्यक्ष जितेंद्र सती, विजयपाल रावत, रमेश चौधरी, मयंक पंत, अवधेश रावत, राम प्रसाद सती, वत्सला सती आदि मौजूद थे। मंच का संचालन टीपी सती, हरेंद्र नेगी और महेश किमोठी ने किया।
माता अनसूया मेले के लिए अवकाश 12 को
गोपेश्वर। मंडल में होने वाला माता अनसूया मेले के लिए अवकाश 12 दिसंबर को होगा। पहले यह अवकाश 11 दिसंबर को रखा गया था, लेकिन अनसूया देवी मंदिर ट्रस्ट समिति के अनुरोध और जनभावनाओं के चलते जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने अब यह अवकाश 12 दिसंबर को तय किया है।
महामृत्युंजय महादेव मंदिर देवीधूरा में धार्मिक अनुष्ठान नौ को
नारायणबगड़। ब्लॉक के पौराणिक मृत्युंज्जय महादेव मंदिर देवीधूरा में नौ दिसंबर को धार्मिक अनुष्ठान का आयोजन होगा। क्षेत्र के 33 गांवों की ओर से क्षेत्र की सुख-समृद्धि के लिए भगवान शिव शंकर की पूजा की जाएगी। मंदिर समिति के अध्यक्ष बृजमोहन सिंह बुटोला ने बताया कि पौराणिक महादेव मंदिर में नगर निगम दिल्ली के पार्षद देवेंद्र कुमार और उनके परिजनों की ओर से विशाल भंडारे का आयोजन किया गया है।
... और पढ़ें

खनन अधिकारी को प्रतिकूल प्रविष्टि

राजस्व विभाग की समीक्षा बैठक में न पहुंचने और बिना सूचना के कार्यालय से गायब रहने पर जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने खनन अधिकारी दिनेश कुमार को प्रतिकूल प्रविष्टि जारी की। साथ ही उन्हें आठ घंटे में जिले में उपस्थिति दर्ज कराने के सख्त निर्देश दिए।
कलक्ट्रेट सभागार में डीएम स्वाति एस भदौरिया ने राजस्व विभाग की समीक्षा बैठक ली। इस दौरान खनन अधिकारी के मौजूद न होने पर डीएम ने उनके प्रतिनिधि के रूप में बैठक में पहुंचे कर्मचारी से इस संबंध में जानकारी मांगी, तो कर्मचारी ने कहा कि वह इसके लिए अधिकृत नहीं हैं। इस पर जिलाधिकारी भड़क गईं और सीधे खनन कार्यालय पहुंच गईं। खनन अधिकारी वहां भी नहीं मिले। इस पर डीएम ने उन्हें फोन किया तो वह कभी देहरादून तो कभी हल्द्वानी में होने की बात कहने लगे। डीएम ने खनन अधिकारी को प्रतिकूल प्रविष्टि जारी कर आठ घंटे में जिले में उपस्थित होने के निर्देश दिए। इसके बाद बैठक में डीएम ने शत प्रतिशत राजस्व वसूली और लंबित वादों के निस्तारण के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बकायादारों के खिलाफ बंदी, कुड़की और नीलामी की कार्रवाई की जाए। उन्होंने वाणिज्य कर, स्टांप और निबंधन, आबकारी, परिवहन कर, वन, खनन, भू-राजस्व, रेवेन्यू पुलिस, फौजदारी, शमन आदि मामलों की समीक्षा भी की। इस मौके पर एडीएम एमएस बर्निया, एसडीएम बुशरा अंसारी और एसडीएम वैभव गुप्ता आदि मौजूद थे।
... और पढ़ें

दो दिवसीय अनसूया मेला आज से

संतानदायिनी शक्ति शिरोमणि माता अनसूया का दो दिवसीय मेला आज (बुधवार) से शुरू होगा। माता अनसूया के मंदिर को फूल मालाओं से सजाया गया है। वहीं, संतान कामना के लिए 150 बरोहियों (निसंतान दंपति) ने मंदिर में रात्रि जागरण के लिए पंजीकरण कराया है।
मां अनसूया से आशीर्वाद लेने के लिए क्षेत्र की ध्याणियां अपने-अपने मायके पहुंचने लगी हैं। संतान प्राप्ति के लिए कई निसंतान दंपति मंगलवार को गोपेश्वर और मंडल गांव में पहुंच गए हैं। बुधवार को अपराह्न तीन बजे अनसूया गेट से ग्राम पंचायत खल्ला, बणद्वारा, कठूड़, देवलधार और सगर गांवों की आराध्य ज्वाला देवी की उत्सव डोलियां अपनी बहिन अनसूया से मिलने के लिए अनसूया मंदिर के लिए प्रस्थान करेंगी। बृहस्पतिवार को पूजा-अर्चना के बाद सभी देव डोलियां भक्तों को आशीर्वाद देने के बाद अपने-अपने मंदिरों के लिए रवाना होंगी। अनसूया मंदिर समिति के अध्यक्ष बीएस झिंक्वाण ने बताया कि मेले का शुभारंभ बदरीनाथ विधायक महेंद्र भट्ट करेंगे।
यह है मान्यता
माता अनसूया मंदिर में बरोहियों को मंदिर प्रांगण में बने एक कक्ष में बैठाया जाता है। मान्यता है कि उन्हें यहां सपने में माता अलग-अलग रूपों में दर्शन देती हैं, जिस बरोही को माता दर्शन दे देती हैं, वह चुपके से उठकर मुख्य मंदिर में पूजा के लिए पहुंच जाती है। मान्यता है कि जिस भी बरोही के स्वप्न में कन्या आएगी, तो उसे शुभ माना जाता है।
... और पढ़ें

जिला विकास प्राधिकरण के विरोध में निकाला मशाल जुलूस

व्यापार संघ गैरसैंण के नेतृत्व में नगरवासियों ने जिला विकास प्राधिकरण के विरोध में नारेबाजी कर मशाल जुलूस निकाला। गैरसैंण में 30 दिनों से जिला विकास प्राधिकरण के विरोध और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गैरसैंण में विशेषज्ञों की नियुक्ति, डिग्री कॉलेज में रिक्त प्रवक्ताओं की नियुक्ति की मांग को लेकर ग्रामीणों की ओर से रामलीला मैदान में क्रमिक धरना-प्रदर्शन किया जा रहा है। देर शाम को व्यापार संघ अध्यक्ष सुरेंद्र बिष्ट व महामंत्री मुकेश ढौंडियाल की अगुवाई में नगरवासियों ने मुख्य चौराहे से डाक बंगला, तहसील रोड होते हुए रामलीला मैदान तक मशाल जुलूस निकालकर सरकार के विरोध में नारेबाजी की। इस मौके वर पूरन नेगी, रणजीत शाह, कृष्णा नेगी, जगदीश ढौंडियाल, मोहन पंत, मोहन टम्टा, सरोज शाह, संजय कुमार, धनीराम और जगदीश आदि मौजूद रहे। ... और पढ़ें

गैरसैंण राजधानी को लेकर महापंचायत 12 को

राजस्व निरीक्षक की चौकी में चलेगी देवाल तहसील

श्राइन बोर्ड के विरोध में डिमरी पुजारियों का प्रदर्शन

सोमवार को बदरीनाथ डिमरी धार्मिक केंद्रीय एवं डिम्मर उमट्टा पंचायत के सदस्यों ने श्राइन बोर्ड के गठन का विरोध कर अपर बाजार से तहसील परिसर तक जुलूस निकालकर सरकार के विरोध में प्रदर्शन किया। नाराज लोगों ने कहा कि आदि गुरु शंकराचार्य द्वारा स्थापित परंपराओं के साथ अगर छेड़छाड़ की गई, तो सरकार को इसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे।
श्राइन बोर्ड के विरोध में नारेबाजी करते हुए गुस्साये लोगों ने तहसील परिसर में धरना दिया। धरने पर बैठे डिमरी पुजारियों ने कहा कि सरकार ने चारधाम के पुजारियों, हक हकूकधारियों व तीर्थ पुरोहितों से राय मशविरा एवं सुझाव लिए बिना ही अनादिकाल से चली आ रही परंपराओं को तोड़कर श्राइन बोर्ड का गठन कर रही है, जो गलत है। जब तक श्राइन बोर्ड खत्म नहीं किया जाएगा, उनका आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने चारधाम के पुजारियों, हक हकूकधारियों व तीर्थ पुरोहितों के हितों को ध्यान में रखते हुए चारधाम श्राइन बोर्ड के गठन का प्रस्ताव वापस लेकर चारधाम की व्यवस्थाओं का प्रबंधन व संचालन पूर्व की भांति रखने की मांग की।
प्रदर्शनकारियों में राजेंद्र डिमरी, अनुज डिमरी, मुकेश डिमरी, गोपी डिमरी, विमल डिमरी, प्रकाश डिमरी, तारेंद्र डिमरी, संदीप डिमरी, अशोक डिमरी, जगदंबा डिमरी, संतोष डिमरी, मनोज डिमरी, संदीप डिमरी, समीर मिश्रा, गिरीश नौटियाल, रमेश सती, संजय डिमरी, बद्री डिमरी, अरविंद डिमरी आदि शामिल थे।
... और पढ़ें

कोटेश्वर गांव में माता अनसूया का हुआ फूल-मालाओं से स्वागत

संतानदायिनी माता अनसूया की दिवारा यात्रा सोमवार को मंडल घाटी के कोटेश्वर गांव पहुंची। माता की डोली का ग्रामीणों ने स्वागत किया। 11 दिसंबर को माता की डोली अपने मंदिर में निसंतान दंपतियों को दर्शन देगी। सोमवार को मंडल गांव में भ्रमण के दौरान माता की डोली ने अप्रैल में होने वाले महायज्ञ के लिए स्थान का चयन किया। वहीं, मंडल घाटी में 11 व 12 दिसंबर को होने वाले अनसूया मेले को लेकर उत्साह बना हुआ है। मंगलवार को भी अनसूया माता की डोली कोटेश्वर और मंडल गांव में भ्रमण कर भक्तों को दर्शन देगी। इस मौके पर यात्रा के महाप्रबंधक भगत सिंह बिष्ट, कुंवर सिंह, धीरेंद्र सिंह, महावीर राणा, विक्रम सिंह, शिवम बिष्ट, तीर्थ पुरोहित बलराम तिवारी, पुजारी प्रवीण सेमवाल, रविंद्र बर्त्वाल, महेंद्र सिंह, विकास, कुंवर सिंह, शिशुपाल सिंह, नीरज, विजय सती, अनुज, मुकेश, प्रभात, विनोद, सुनील, दर्शन, पंकज, अंकुश, विक्की, आशीष, अजय, विजय, ताजवर आदि मौजूद थे। ... और पढ़ें

संदीप बने विश्वस्तरीय एथलेटिक्स कोच

इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ एथलेटिक्स फेडरेशन की पहल पर 30 नवंबर से 7 दिसंबर तक राष्ट्रीय खेल संस्थान पटियाला में आयोजित लेवल दो के कोच कोर्स (विश्व स्तरीय एथलेटिक्स कोच) में चमोली के संदीप मोहन चौधरी ने सफलता अर्जित कर उत्तराखंड राज्य का नाम रोशन किया है। भारत में पहली बार आयोजित कोर्स में देशभर के 16 प्रतिभागियों ने प्रतिभाग किया था, जिसमें उत्तराखंड से एकमात्र संदीप मोहन चौधरी ने आवेदन किया था। कोर्स के प्रवक्ता जर्मनी के बोलकर हरनम, गुंटेर लेंज, संदीप गड़नायक और पदमश्री बहादुर सिंह ने संदीप मोहन को विश्वस्तरीय एथलेटिक्स कोच का प्रमाणपत्र सौंपा। संदीप मोहन जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम नई दिल्ली में प्रोजेक्ट ऑफिसर (एथलेटिक्स) के पद पर कार्यरत हैं। संदीप मोहन मूल रूप से रुद्रप्रयाग जिले के कोट बिचला निवासी हैं। उनके पिता बीएस चौधरी जिला खेल विभाग चमोली में मुख्य प्रशासनिक अधिकारी के पद पर कार्यरत हैं। ... और पढ़ें

उत्तराखंड: चमोली में भूकंप के झटकों से डोली धरती, घरों से बाहर भागे लोग

उत्तराखंड के चमोली में अलसुबह भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 3.2 मापी गई है। इसकी गहराई दस किलोमीटर रही। 

राज्य आपदा प्रबंधन केंद्र के अनुसार चमोली जिले में रविवार तड़के करीब 4 बजकर 26 मिनट पर भूकंप का झटका महसूस किया गया। फिलहाल कहीं से किसी तरह के नुकसान की सूचना नहीं है।

झटके महसूस होते ही हड़बड़ाए लोग घरों से बाहर निकल आए। भूकंप का केंद्र चमोली था, जो दस किलोमीटर की गहराई में था। एक माह में तीसरी बार प्रदेश में भूंकप आया है। गौरतलब है कि 24 नवंबर को चमोली में, 6 दिसंबर को नाचनी में और19 नवंबर को कुमाऊं के पिथौरागढ़ में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election